Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

[09/06, 5:34 pm] +91 81713 93886: जीभ का रस

अगर इंसान अपनी जीभ पर नियंत्रण न रखे तो जीभ का रस न सिर्फ उसका तिरस्कार करवाता है बल्कि हंसी भी उड़वाता है।

☝एक बूढ़ा राहगीर थक कर कहीं टिकने का स्थान खोजने लगा। एक महिला ने उसे अपने बाड़े में ठहरने का स्थान बता दिया। बूढ़ा वहीं चैन से सो गया। सुबह उठने पर उसने आगे चलने से पूर्व सोचा कि यह अच्छी जगह है, यहीं पर खिचड़ी पका ली जाए और फिर उसे खाकर आगे का सफर किया जाए। बूढ़े ने वहीं पड़ी सूखी लकड़ियां इकठ्ठा कीं और ईंटों का चूल्हा बनाकर खिचड़ी पकाने लगा। बटलोई उसने उसी महिला से मांग ली।

बूढ़े राहगीर ने महिला का ध्यान बंटाते हुए कहा, ‘एक बात कहूं.? बाड़े का दरवाजा कम चौड़ा है। अगर सामने वाली मोटी भैंस मर जाए तो फिर उसे उठाकर बाहर कैसे ले जाया जाएगा.?’ महिला को इस व्यर्थ की कड़वी बात का बुरा तो लगा, पर वह यह सोचकर चुप रह गई कि बुजुर्ग है और फिर कुछ देर बाद जाने ही वाला है, इसके मुंह क्यों लगा जाए।

उधर चूल्हे पर चढ़ी खिचड़ी आधी ही पक पाई थी कि वह महिला किसी काम से बाड़े से होकर गुजरी। इस बार बूढ़ा फिर उससे बोला: ‘तुम्हारे हाथों का चूड़ा बहुत कीमती लगता है। यदि तुम विधवा हो गईं तो इसे तोड़ना पड़ेगा। ऐसे तो बहुत नुकसान हो जाएगा.?’

इस बार महिला से सहा न गया। वह भागती हुई आई और उसने बुड्ढे के गमछे में अधपकी खिचड़ी उलट दी। चूल्हे की आग पर पानी डाल दिया। अपनी बटलोई छीन ली और बुड्ढे को धक्के देकर निकाल दिया।

तब बुड्ढे को अपनी भूल का एहसास हुआ। उसने माफी मांगी और आगे बढ़ गया। उसके गमछे से अधपकी खिचड़ी का पानी टपकता रहा और सारे कपड़े उससे खराब होते रहे। रास्ते में लोगों ने पूछा, ‘यह सब क्या है.?’ बूढ़े ने कहा, ‘यह मेरी जीभ का रस टपका है, जिसने पहले तिरस्कार कराया और अब हंसी उड़वा रहा है।’

तात्पर्य यह है के पहले तोलें फिर बोलें

चाहे कम बोलें मगर जितना भी बोलेन मधुर बोलें और सोच समझ कर बोलें।
[09/06, 5:34 pm] +91 81713 93886: —– स्वावलम्बन —–

“मॉम मेरे नए लेपटॉप का क्या हुआ?” आदित्य ने विभा से पूछा।

“पैसे आते ही खरीद देंगे बेटा।” विभा ने धीरे से जवाब दिया।

“क्या मतलब है पैसे आते ही? आपको पता भी है मेरी पढ़ाई, मेरे प्रोजेक्ट्स का कितना नुकसान हो रहा है। रिजल्ट खराब आया तो मुझे कुछ मत कहना” आदित्य गुस्से से भुनभुनाया।

“पर बेटा तुझे जो मॉडल चाहिए वो बहुत महंगा है। पापा अभी इतने पैसे कहाँ से लाएँगे। अभी तो तेरे ट्यूशन वाले सर को भी पूरे साल भर की फीस….” विभा कहते हुए चुप हो गई।

“तो ये सब मुझे इंजीनियरिंग में दाखिल करवाने से पहले ही सोचना चाहिए था। पैसा नहीं था तो…”

बेटे की बात विभा को अंदर तक चुभ गयी। हर साल कॉलेज की फीस, हर विषय की ट्यूशन फीस अलग से, आने-जाने के लिए मोटरसाइकिल भी ले दी कि बस में समय खराब न हो। फिर भी जैसे -तैसे ही पास होता है। और अब ये इतने महंगे लेपटॉप का खर्च, एक मध्यमवर्गीय पिता कितना करे। उस पर अभी भी दो साल बचे हैं, फिर बेटे का एहसान भी सर पर की आपके सपने पूरे करने के लिए ही तो पढ़ रहा हूँ।

विभा बाहर आँगन में आकर खड़ी हो गई। मन बुझा सा हो रहा था बेटे के व्यवहार से। एक लड़का पडौसी की गाड़ी धो रहा था। आदित्य का ही हमउम्र था। विभा के मन में सहज करुणा हो आयी। पढ़ाई करने की जगह बेचारा मेहनत करके परिवार के लिए पैसे जोड़ता है।

“कहाँ तक पढ़े हो बेटा।” अचानक ही विभा के मुँह से सवाल निकल गया।

लड़के ने ऊपर देखा और मुस्कुरा कर कहा “इंजीनियरिंग के तीसरे साल में हूँ आँटी।”

“क्या?” विभा चौंक गयी। “तुम तो काम करते हो। फिर पढ़ते कब हो?”

“सुबह काम करता हूँ, दस बजे कॉलेज जाता हूँ, पढ़ाई बस में आते जाते और रात में कर लेता हूँ। शाम को सेकंड, और फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट्स को ट्यूशन पढ़ाता हूँ। पिताजी कपड़ों पर प्रेस करने का काम करते हैं न, मेरी फीस नहीं दे सकते तो मैं खुद अपनी फीस कमाता हूँ।” सहज से उसने बताया। वो आदित्य के कॉलेज का ही छात्र था और हर साल क्लास में टॉप करता था।

“मॉम पापा को बोलो मुझे आज ही लेपटॉप चाहिए नहीं तो कल से मैं कॉलेज नहीं जाऊँगा।” विभा के कानों में थोड़ी देर पहले बोले गए आदित्य के शब्द गूँज गए और अचानक उसने एक सवाल कर दिया-

“तुम्हे गुस्सा नही आता कि तुम्हे खुद ही कमाकर पढ़ना पड़ रहा है। तुम्हारे पिताजी…कभी मन नहीं करता कि पढ़ना छोड़ दूँ?”

“कभी नहीं मैडम। मैं पढ़ रहा हूँ तो मेरा ही भविष्य सुधरेगा न। मैं कोई अपने माता-पिता पर थोड़े ही अहसान कर रहा हूँ। अपना ही जीवन बना रहा हूँ।” लड़के ने सहज भाव से उत्तर दिया।

लेपटॉप के लिए माँ के पास तकाजा करने के लिए आते हुए आदित्य के पाँव लड़के की बात सुनकर दरवाजे पर ही ठिठक गए।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बार की बात है की किसी राजा ने यह फैसला लिया


निन्दा का फल

एक बार की बात है की किसी राजा ने यह फैसला लिया के वह प्रतिदिन 100 अंधे लोगों को खीर खिलाया करेगा। एक दिन खीर वाले दूध में सांप ने मुंह डाला और दूध में विष डाल दीऔर ज़हरीली खीर को खाकर 100 के 100 अंधे व्यक्ति मर गए ।राजा बहुत परेशान हुआ कि मुझे 100 आदमियों की हत्या का पाप लगेगा। राजा परेशानी की हालत में अपने राज्य को छोड़कर जंगलों में भक्ति करने के लिए चल पड़ा,ताकि इस पाप की माफी मिल सके। रास्ते में एक गांव आया। राजा ने चौपाल में बैठे लोगों से पूछा की क्या इस गांव में कोई भक्ति भाव वाला परिवार है ?ताकि उसके घर रात काटी जा सके। चौपाल में बैठे लोगों ने बताया कि इस गांव में दो बहन भाई रहते हैं जो खूब बंदगी करते हैं। राजा उनके घर रात ठहर गया ।सुबह जब राजा उठा तो लड़की सिमरन पर बैठी हुई थी ।इससे पहले लड़की का रूटीन था की वह दिन निकलने से पहले ही सिमरन से उठ जाती थी और नाश्ता तैयार करती थी ।लेकिन उस दिन वह लड़की बहुत देर तक सिमरन पर बैठी रही। जब लड़की सिमरन से उठी तो उसके भाई ने कहा की बहन तू इतना लेट उठी है ,अपने घर मुसाफिर आया हुआ है ।इसने नाश्ता करके दूर जाना है। तुझे सिमरन से जल्दी उठना चाहिए था ।तो लड़की ने जवाब दिया कि भैया ऊपर एक ऐसा मामला उलझा हुआ था ।धर्मराज को किसी उलझन भरी स्थिति पर कोई फैसला लेना था और मैं वो फैसला सुनने के लिए रुक गयी थी,इस लिए late तक बैठी रही सिमरन पर ।तो उसके भाई ने पूछा ऐसी क्या बात थी ।तो लड़की ने बताया कि फलां राज्य का राजा अंधे व्यक्तियों को खीर खिलाया करता था ।लेकिन सांप के दूध में विष डालने से 100 अंधे व्यक्ति मर गए ।अब धर्मराज को समझ नहीं आ रही कि अंधे व्यक्तियों की मौत का पाप राजा को लगे ,सांप को लगे या दूध नंगा छोड़ने वाले रसोईए को लगे ।राजा भी सुन रहा था। राजे को अपने से संबंधित बात सुनकर दिलचस्पी हो गई और उसने लड़की से पूछा कि फिर क्या फैसला हुआ? तो लड़की ने बताया कि अभी तक कोई फैसला नहीं हो पाया था ।तो राजा ने पूछा कि क्या मैं आपके घर एक रात के लिए और रुक सकता हूं? दोनों बहन भाइयों ने खुशी से उसको हां कर दी। राजा अगले दिन के लिए रुक गया, लेकिन चौपाल में बैठे लोग दिन भर यही चर्चा करते रहे कि कल जो व्यक्ति हमारे गांव में एक रात रुकने के लिए आया था और कोई भक्ति भाव वाला घर पूछ रहा था।उस की भक्ति का नाटक तो सामने आ गया है। रात काटने के बाद वो इस लिए नही गया क्योंकि जवान लड़की को देखकर उस व्यक्ति की नियत खोटी हो गई ।इसलिए वह उस सुन्दर और जवान लड़की के घर पक्के तौर पर ही ठहरेगा या फिर लड़की को लेकर भागेगा। दिनभर चौपाल में उस राजा की निंदा होती रही।अगली सुबह लड़की फिर सिमरन पर बैठी और रूटीन के टाइम अनुसार सिमरन से उठ गई ।तो राजा ने पूछा -बेटी अंधे व्यक्तियों की हत्या का पाप किसको लगा? तो लड़की ने बताया कि वह पाप तो हमारे चौपाल में बैठने वाले लोग बांट के ले गए।
कापी पेस्ट्

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक भिखारी किसी किसान के घर भीख माँगने गया।


एक भिखारी किसी किसान के घर भीख माँगने गया। किसान की स्त्री घर में थी, उसने चने की रोटी बना रखी थी।किसान जब घर आया,उसने अपने बच्चों का मुख चूमा,स्त्री ने उनके हाथ पैर धुलाये,उसके बाद वह रोटी खाने बैठ गया।स्त्री ने एक मुट्ठी चना भिखारी को डाल दिया,भिखारी चना लेकर चल दिया।

रास्ते में भिखारी सोचने लगा:- “हमारा भी कोई जीवन है? दिन भर कुत्ते की तरह माँगते फिरते हैं। फिर स्वयं बनाना पड़ता है। इस किसान को देखो कैसा सुन्दर घर है। घर में स्त्री हैं, बच्चे हैं, अपने आप अन्न पैदा करता है। बच्चों के साथ प्रेम से भोजन करता है। वास्तव में सुखी तो यह किसान है।

    इधर वह किसान रोटी खाते-खाते अपनी स्त्री से कहने लगा:-“नीला बैल बहुत बुड्ढा हो गया है,अब वह किसी तरह काम नहीं देता, यदि कही से कुछ रुपयों का इन्तजाम हो जाये,तो इस साल का काम चले। साधोराम महाजन के पास जाऊँगा,वह ब्याज पर दे देगा।”भोजन करके वह साधोराम महाजन के पास गया।बहुत देर चिरौरी बिनती करने पर 1रु.सैकड़ा सूद पर साधों ने रुपये देना स्वीकार किया। एक लोहे की तिजोरी में से साधोराम ने एक थैली निकाली।और गिनकर रुपये किसान को दे दिये।

     रुपये लेकर किसान अपने घर को चला,वह रास्ते में सोचने लगा-”हम भी कोई आदमी हैं, घर में 5 रु.भी नकद नहीं।कितनी चिरौरी विनती करने पर उसने रुपये दिये है।साधो कितना धनी है,उस पर सैकड़ों रुपये है“वास्तव में सुखी तो यह साधो राम ही है।साधोराम छोटी सी दुकान करता था,वह एक बड़ी दुकान से कपड़े ले आता था।और उसे बेचता था।

    दूसरे दिन साधोराम कपड़े लेने गया,वहाँ सेठ पृथ्वीचन्द की दुकान से कपड़ा लिया।वह वहाँ बैठा ही था,कि इतनी देर में कई तार आए कोई बम्बई का था।कोई कलकत्ते का, किसी में लिखा था 5 लाख मुनाफा हुआ,किसी में एक लाख का।साधो महाजन यह सब देखता रहा,कपड़ा लेकर वह चला आया।रास्ते में सोचने लगा“हम भी कोई आदमी हैं,सौ दो सौ जुड़ गये महाजन कहलाने लगे। पृथ्वीचन्द कैसे हैं,एक दिन में लाखों का फायदा “वास्तव में सुखी तो यह है,उधर पृथ्वीचन्द बैठा ही था, कि इतने ही में तार आया कि 5 लाख का घाटा हुआ। वह बड़ी चिन्ता में था,कि नौकर ने कहा:-आज लाट साहब की रायबहादुर सेठ के यहाँ दावत है। आपको जाना है,मोटर तैयार है।” पृथ्वीचन्द मोटर पर चढ़ कर रायबहादुर की कोठी पर चला गया।वहाँ सोने चाँदी की कुर्सियाँ पड़ी थी, रायबहादुर जी से कलक्टर-कमिश्नर हाथ मिला रहे थे। बड़े-बड़े सेठ खड़े थे।वहाँ पृथ्वी चन्द सेठ को कौन पूछता,वे भी एक कुर्सी पर जाकर बैठ गया।लाट साहब आये,राय बहादुर से हाथ मिलाया,उनके साथ चाय पी और चले गये।

   पृथ्वी चन्द अपनी मोटर में लौट रहें थे,रास्ते में सोचते आते है, हम भी कोई सेठ है 5 लाख के घाटे से ही घबड़ा गये।राय बहादुर का कैसा ठाठ है, लाट साहब उनसे हाथ मिलाते हैं।“वास्तव में सुखी तो ये ही है।”

अब इधर लाट साहब के चले जाने पर रायबहदुर के सिर में दर्द हो गया,बड़े-बड़े डॉक्टर आये एक कमरे वे पड़े थे।कई तार घाटे के एक साथ आ गये थे।उनकी भी चिन्ता थी,कारोबार की भी बात याद आ गई। वे चिन्ता में पड़े थे,तभी खिड़की से उन्होंने झाँक कर नीचे देखा,एक भिखारी हाथ में एक डंडा लिये अपनी मस्ती में जा रहा था। राय बहदुर ने उसे देखा और बोले:-”वास्तव में तो सुखी यही है,इसे न तो घाटे की चिन्ता न मुनाफे की फिक्र, इसे लाट साहब को पार्टी भी नहीं देनी पड़ती सुखी तो यही है।”

    शिक्षा

इस कहानी से हमें यह पता चलता है, कि हम एक दूसरे को सुखी समझते हैं।पर वास्तव में सुखी कौन है, इसे तो वही जानता है।जिसे आन्तरिक शान्ति है।जिसे आन्तरिक सुकून है, आप चाहे भिखारी हो चाहे करोड़पति हो। लेकिन आप के मन में जब तक शांति नहीं है तब तक आपको सुकून नहीं मिल सकता।।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

लोकमान्य तिलक की पुत्री के विवाह की आमंत्रण पत्रिका


लोकमान्य तिलक की पुत्री के विवाह की आमंत्रण पत्रिका .

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बोध कथा सत्य की ताकत

एक दिन एक बहू ने गलती से यज्ञवेदी में थूक दिया !!
सफाई कर रही थी, मुंह में सुपारी थी… पीक आया तो वेदी में थूक दिया पर उसे यह देखकरआश्चर्य हुआ कि उतना थूक तत्काल स्वर्ण में बदल गया है। अब तो वह प्रतिदिन जान बूझकर वेदी में थूकने लगी और उसके पास धीरे धीरे स्वर्ण बढ़ने लगा। महिलाओं में बात तेजी से फैलती है। कई और महिलाएं भी अपने अपने घर में बनी यज्ञवेदी में थूक-थूक कर सोना उत्पादन करने लगी।

धीरे धीरे पूरे गांव में यह सामान्य चलन हो गया,
सिवाय एक महिला के
उस महिला को भी अनेक दूसरी महिलाओं ने उकसाया….. समझाया…..
“अरी…..तू क्यों नहीँ थूकती ?”

“महिला बोली…..जी बात यह है कि मैं अपने पति की अनुमति बिना यह कार्य हरगिज नहीँ करूंगी और जहाँ तक मुझे ज्ञात है वे इसकी अनुमति कभी भी नहीँ देंगे।”

किन्तु ग्रामीण महिलाओं ने ऐसा वातावरण बनाया….. कि आखिर उसने एक रात डरते डरते अपने ‎पति‬ से पूछ ही लिया। “खबरदार जो ऐसा किया तो….. !! यज्ञवेदी क्या थूकने की चीज है ?पति की गरजदार चेतावनी के आगे बेबस वह महिला चुप हो गई….पर जैसा वातावरण था और जो चर्चाएं होती थी, उनसे वह साध्वी स्त्री बहुत व्यथित रहने लगी। खास कर उसके सूने गले को लक्ष्य कर अन्य स्त्रियां अपने नए नए कण्ठ-हार दिखाती तो वह अन्तर्द्वन्द में घुलने लगी। पति की व्यस्तता और स्त्रियों के उलाहने उसे धर्मसंकट में डाल देते। वह सोचती थी कि यह शायद “मेरा दुर्भाग्य है….. अथवा कोई पूर्वजन्म का पाप…..कि एक सती स्त्री होते हुए भी मुझे एक रत्ती सोने के लिए भी तरसना पड़ता है।”

“शायद यह मेरे पति का कोई गलत निर्णय है।”
“ओह !!! इस धर्माचरण ने मुझे दिया ही क्या है ?”
“जिस नियम के पालन से ‎दिल‬ कष्ट पाता रहे। उसका पालन क्यों करूं ?”… और हुआ यह कि वह बीमार रहने लगी। ‎पतिदेव‬ इस रोग को ताड़ गए। उन्होंने एक दिन ब्रह्म मुहूर्त में ही सपरिवार ग्राम त्यागने का निश्चय किया। गाड़ी में सारा सामान डालकर वे रवाना हो गए। सूर्योदय से पहले पहले ही वे बहुत दूर निकल जाना चाहते थे।

किन्तु…..अरे !!! यह क्या…?? ज्यों ही वे गांव की कांकड़ (सीमा) से बाहर निकले तो पीछे भयानक विस्फोट हुआ और पूरा गांव धू धू कर जल रहा था। सज्जन दम्पत्ति अवाक् रह गए और उस स्त्री को अपने पति का महत्त्व समझ आ गया। वास्तव में… इतने दिन गांव बचा रहा, तो केवल इस कारण….. कि धर्माचरण करने वाला उसका परिवार, गांव की परिधि में था।

धर्माचरण करते रहें…..
कुछ पाने के लालच में इंसान बहुत कुछ खो बैठता है……इसलिए लालच से बचें…..न जाने किसके भाग्य से आपका जीवन सुखमय व सुरक्षित है

परहित धर्म का भी पालन करते रहिए क्योंकि….. व्यक्तिगत स्वार्थ पतन का कारण बनता है
हे नाथ!हे मेरे नाथ!!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

लष्मीकांत

मान_सम्मान

एक मॉं अपने बच्चे को ढूँढ रही थी। बहुत देर तक जब वह नहीं मिला, तो वह रोने लगी और ज़ोर-जो़र से बच्चे का नाम लेकर पुकारने लगी। कुछ समय पश्चात् बच्चा दौड़ता हुआ उसके पास आ गया। मॉं ने पहले तो उसे गले लगाया, मन भर कर प्यार किया और फिर उसे डॉंटने लगी। उससे पूछा कि इतनी देर तक वह कहॉं छुपा हुआ था। बच्चे ने बताया, “मॉं, मैं छुपा हुआ नहीं था, मैं तो बाहर की दुकान से गोंद लेने गया था।” मॉं ने पूछा कि गोंद से क्या करना है? इस पर बच्चे ने बड़े भोलेपन से बोला, “मैं उससे चाय के प्याले को जोड़ूँगा जो टूट गया है।”
मॉं ने फिर पूछा, “टूटा प्याला जोड़ कर क्या करोगे? जुड़ने के बाद तो वह बहुत ख़राब दिखेगा।” तब बच्चे ने भोलेपन से कहा, “जब तुम बूढ़ी हो जाओगी तो उस प्याले में तुम्हें चाय पिलाया करूँगा।” यह सुन कर मॉं पसीने-पसीने हो गई। कुछ पल तक तो उसे समझ नहीं आया कि वह क्या करे? फिर होश संभालते ही उसने बच्चे को गोद में बिठाया और प्यार से कहा, “बेटा, ऐसी बातें नहीं करते। बड़ों का सम्मान करते हैं। उनसे ऐसा व्यवहार नहीं करते। देखो, तुम्हारे पापा कितनी महनत करते हैं ताकि तुम अच्छे विद्यालय में जा सको। मम्मी तुम्हारे लिए भॉंति-भॉंति के भोजन बनाती है। सब लोग तुम्हारा ध्यान रखते हैं ताकि जब वे बूढ़े हो जॉंए तब तुम उनका सहारा बनो।”
बच्चे ने मॉं की बात बीच में काटते हुए कहा, “लेकिन मॉं, क्या दादा-दादी ने भी यही नहीं सोचा होगा, जब वे पापा को पढ़ाते होंगे? आज जब दादी से ग़लती से चाय का प्याला टूट गया तब तुम कितनी ज़ोर से चिल्लाईं थीं। इतना ग़ुस्सा किया था आपने कि दादाजी को दादी के लिए आपसे माफ़ी मॉंगनी पड़ी। पता है मॉं, आप तो कमरे में जाकर सो गईं, लेकिन दादी बहुत देर तक रोती रहीं। मैंने वह प्याला संभाल कर रख लिया है और अब मैं उसे जोड़ दूँगा। माँ को अब कुछ समझ नहीं आ रहा था कि अब वह क्या कहे? बच्चे को पुचकारते हुए बोली, “मैं भी तब से अशांत ही हूँ।”
यह स्थिति आजकल प्रायः घर-घर में पाई जाती है। हमारे संत भविष्यदर्शी थे। तभी संत कबीरदास जी ने कहा है, “ऐसी बानी बोलिए, मन का आपा खोए, औरों को शीतल करे, आपहुँ शीतल होए।” धारदार अस्त्र का घाव भर जाता है, किंतु वाणी द्वारा दिया हुआ घाव नहीं भरता। लेकिन हम सब का कैसा विचित्र व्यवहार होता जा रहा कि हम दूसरों का सम्मान करना ही भूल गए हैं। रुपया-पैसा आवश्यक है परंतु इसका यह अर्थ नहीं है कि आप धन के लिए आप दूसरों का आदर करना ही छोड़ दें। हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि इन्हीं माता-पिता के कारण आज हम समाज में सम्मान से रह रहे हैं। यह वही पिता हैं जो हमारे द्वार किए गए कई तरह के नुक़सान को हँस कर टाल देते थे। यही वे माता हैं जो हमारे आँसू रोकने के लिए औरों से भिड़ जाती थीं। आज जब वे वृद्ध हो गए हैं तो हमारा कर्तव्य बनता है कि उनके साथ नम्रता से व्यवहार करें, उनका आदर करें। बड़ों के आशीर्वाद से हमारे बल, धन, आयु और यश में वृद्धि होती है। यदि बड़े हमारे से अप्रसन्न हो गए तो न जाने हम किस-किस से वंचित रह जाएँगे।
एक साधारण सिद्धांत है कि बच्चे बड़ों से ही सीखते हैं, बड़े जैसा करेंगे बच्चे भी वैसा ही करेंगे। कहने का तात्पर्य यह है कि हमें बच्चों के साथ वैसा ही व्यवहार करना चाहिए जैसा कि हम उनसे अपेक्षा करते हैं।

हिन्दू_संस्कृति

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

પુસ્તકોની દુનિયા મા થી સાભાર

માનવામાં ન આવે તેવી અને શોકિંગ માહિતી વાંચવી આવશ્યક છે.

ડી.ડી.પોડિગાઇએ શ્રી પી એમ નાયર, (નિવૃત્ત આઈ.એ.એસ. અધિકારી, જે Dr. અબ્દુલ કલામ સરના સચિવ હતા તે પ્રમુખ હતા ત્યારે એક મુલાકાતમાં ટેલિકાસ્ટ કરે છે.)

હું ભાવનાથી ગૂંગળાયેલા અવાજમાં જે મુદ્દાઓ બોલ્યો હતાં તેનો સારાંશ આપું છું.

શ્રી નાયરે “કલામ અસર” નામના પુસ્તકની રચના કરી.

Dr. કલામ જ્યારે પણ વિદેશ જતા ત્યારે મોંઘીદાટ ભેટો મેળવતો હતો, કેમ કે ઘણા દેશોની મુલાકાત લેતી રાજ્યોના વડાઓને ભેટો આપવાની પ્રથા છે.

ભેટનો ઇનકાર કરવો એ રાષ્ટ્રનું અપમાન અને ભારત માટે શરમજનક બની રહેશે.

તેથી, તેમણે તેમને પ્રાપ્ત કર્યા અને પાછા ફરતા, ડૉ.કલામે ભેટોને ફોટોગ્રાફ કરવા કહ્યું અને પછી કેટલોગ કરી આર્કાઇવ્સને આપી દીધા.

પછીથી, તેણે ક્યારેય તેમની તરફ જોયું પણ નહીં. રાષ્ટ્રપતિ ભવન છોડતાની સાથે મળેલી ભેટોમાંથી તેણે પેન્સિલ પણ લીધી નહોતી.

૨. વર્ષ 2002 માં, ડૉ.કલામે કાર્યભાર સંભાળ્યો, રમઝાન મહિનો જુલાઈ-Augustગસ્ટમાં આવ્યો.

રાષ્ટ્રપતિએ ઇફ્તાર પાર્ટીનું આયોજન કરવું એ નિયમિત પ્રથા હતી.

ડૉ. કલામે શ્રી નૈયરને પૂછ્યું કે શા માટે તેઓ પહેલાથી જ સારી રીતે ખવડાવેલા લોકોને પાર્ટીની હોસ્ટ કરે છે અને તેની કિંમત પૂછવા માટે પૂછવામાં આવે છે.

શ્રી નાયરે જણાવ્યું હતું કે તેની કિંમત આશરે રૂ. 22 લાખ.

ડૉ. કલામે તેમને તે રકમ અમુક પસંદ કરેલા અનાથાલયોમાં ખોરાક, કપડાં અને ધાબળાના રૂપમાં દાન કરવા કહ્યું.

અનાથાલયોની પસંદગી રાષ્ટ્રપતિ ભવનની એક ટીમમાં છોડી દેવામાં આવી હતી અને ડૉ. કલામની તેમાં કોઈ ભૂમિકા નહોતી.

પસંદગી થઈ ગયા પછી ડૉ.કલામે શ્રી નૈયરને તેના રૂમમાં અંદર આવવા કહ્યું અને તેમને 1 લાખનો ચેક આપ્યો.

તેણે કહ્યું કે તે પોતાની અંગત બચતમાંથી થોડી રકમ આપી રહ્યો છે અને આ વાત કોઈને જાણ ન થવી જોઈએ.

શ્રી નાયર એટલા માટે આઘાત પામ્યા કે તેણે કહ્યું, “સર, હું બહાર જઈશ અને બધાને કહીશ. લોકોને ખબર હોવી જોઇએ કે અહીં એક માણસ છે જેણે ફક્ત જે ખર્ચ કરવો જોઇએ તે દાન આપ્યું ન હતું, પરંતુ તે પોતાનો પૈસા પણ આપી રહ્યો છે.”

ડૉ. કલામ તેઓ ધર્મપ્રેમી મુસ્લિમ હોવા છતાં વર્ષોથી તેઓ રાષ્ટ્રપતિ હતા ત્યાં ઇફ્તાર પાર્ટીઓ નહોતી.

ડૉ. કલામને “હા સર” પ્રકારના લોકો પસંદ ન હતા.

એકવાર જ્યારે ભારતના મુખ્ય ન્યાયાધીશ આવ્યા હતા અને અમુક તબક્કે ડો.કલામે પોતાનો મત વ્યક્ત કર્યો

Posted in रामायण - Ramayan

मृत्यु के चौदह प्रकार 🌷

राम और रावण का युद्ध चल रहा था, तब अंगद रावण को बोले- तू तो मरा हुआ है, तुझे मारने से क्या फायदा!?!?!?

रावण बोला– मैं जीवित हूँ, मरा हुआ कैसे?

अंगद बोले सिर्फ साँस लेने वालों को जीवित नहीं कहते- साँस तो लुहार का भाता भी लेता है ..

तब अंगद ने 14 प्रकार की मृत्यु बतलाई ..

अंगद द्वारा रावण को बतलाई गई, ये बातें आज के दौर में भी लागू होती हैं …..

यदि किसी व्यक्ति में इन 14 दुर्गुणों में से एक दुर्गुण भी आ जाता है तो वह मृतक समान हो जाता है !!

विचार करें कहीं यह दुर्गुण हमारे पास तो नहीं हैं, कि हमें मृतक समान माना जाये …..

1) कामवश:- जो व्यक्ति अत्यन्त भोगी हो, कामवासना में लिप्त रहता हो, जो संसार के भोगों में उलझा हुआ हो, वह मृत समान है; जिसके मन की इच्छाएं कभी खत्म नहीं होती और जो प्राणी सिर्फ अपनी इच्छाओं के अधीन होकर ही जीता है, वह मृत समान है; वह अध्यात्म का सेवन नहीं करता है, सदैव वासना में लीन रहता है !!

2) वाम मार्गी:- जो व्यक्ति पूरी दुनिया से उल्टा चले, जो संसार की हर बात के पीछे नकारात्मकता खोजता हो; नियमों, परंपराओं और लोक व्यवहार के खिलाफ चलता हो, वह वाम मार्गी कहलाता है; ऐसे काम करने वाले लोग मृत समान माने गए हैं !!

3) कंजूस:- अति कंजूस व्यक्ति भी मरा हुआ होता है; जो व्यक्ति धर्म के कार्य करने में, आर्थिक रूप से किसी कल्याण कार्य में हिस्सा लेने में हिचकता हो, दान करने से बचता हो, ऐसा आदमी भी मृत समान ही है !!

4) अति दरिद्र:- गरीबी सबसे बड़ा श्राप है; जो व्यक्ति धन, आत्म-विश्वास, सम्मान और साहस से हीन हो, वो भी मृत ही है; अत्यन्त दरिद्र भी मरा हुआ है, दरिद्र व्यक्ति को दुत्कारना नहीं चाहिए, क्योंकि वह पहले ही मरा हुआ होता है, गरीब लोगों की मदद करनी चाहिए !!

5) विमूढ़:- अत्यन्त मूढ़ यानी मूर्ख व्यक्ति भी मरा हुआ होता
है; जिसके पास विवेक, बुद्धि नहीं हो, जो खुद निर्णय ना ले सके यानि हर काम को समझने या निर्णय को लेने में किसी अन्य पर आश्रित हो, ऐसा व्यक्ति भी जीवित होते हुए मृत के समान ही है, मूढ़ अध्यात्म को समझता नहीं है !!

6) अजसि:- जिस व्यक्ति को संसार में बदनामी मिली हुई है, वह भी मरा हुआ है; जो घर, परिवार, कुटुंब, समाज, नगर या राष्ट्र, किसी भी ईकाई में सम्मान नहीं पाता है, वह व्यक्ति मृत समान ही होता है !!

7) सदा रोगवश:- जो व्यक्ति निरंतर रोगी रहता है, वह भी मरा हुआ है; स्वस्थ शरीर के अभाव में मन विचलित रहता है, नकारात्मकता हावी हो जाती है, व्यक्ति मृत्यु की कामना में लग जाता है, जीवित होते हुए भी रोगी व्यक्ति जीवन के आनंद से वंचित रह जाता है !!

8) अति बूढ़ा:- अत्यन्त वृद्ध व्यक्ति भी मृत समान होता है, क्योंकि वह अन्य लोगों पर आश्रित हो जाता है; शरीर और बुद्धि, दोनों असक्षम हो जाते हैं, ऐसे में कई बार स्वयं वह और उसके परिजन ही उसकी मृत्यु की कामना करने लगते हैं, ताकि उसे इन कष्टों से मुक्ति मिल सके !!

9) सतत क्रोधी:- 24 घंटे क्रोध में रहने वाला व्यक्ति भी मृत समान ही है; हर छोटी-बड़ी बात पर क्रोध करना, ऐसे लोगों का काम होता है, क्रोध के कारण मन और बुद्धि दोनों ही उसके नियंत्रण से बाहर होते हैं, जिस व्यक्ति का अपने मन और बुद्धि पर नियंत्रण न हो, वह जीवित होकर भी जीवित नहीं माना जाता है; पूर्व जन्म के संस्कार लेकर यह जीव क्रोधी होता है, क्रोधी अनेक जीवों का घात करता है और नरक गामी होता है !!

10) अघ खानी:- जो व्यक्ति पाप कर्मों से अर्जित धन से अपना और परिवार का पालन-पोषण करता है, वह व्यक्ति भी मृत समान ही है; उसके साथ रहने वाले लोग भी उसी के समान हो जाते हैं, हमेशा मेहनत और ईमानदारी से कमाई करके ही धन प्राप्त करना चाहिए, पाप की कमाई पाप में ही जाती है और पाप की कमाई से नीच गोत्र, निगोद की प्राप्ति होती है !!

11) तनु पोषक:- ऐसा व्यक्ति जो पूरी तरह से आत्म संतुष्टि और खुद के स्वार्थों के लिए ही जीता है, संसार के किसी अन्य प्राणी के लिए उसके मन में कोई संवेदना ना हो, तो ऐसा व्यक्ति भी मृतक समान ही है; जो लोग खाने-पीने में, वाहनों में स्थान के लिए, हर बात में सिर्फ यही सोचते हैं कि सारी चीजें पहले हमें ही मिल जाएं, बाकि किसी अन्य को मिले ना मिले, वे मृत समान होते हैं, ऐसे लोग समाज और राष्ट्र के लिए अनुपयोगी होते हैं; शरीर को अपना मानकर उसमें रत रहना मूर्खता है क्योंकि यह शरीर विनाशी है, नष्ट होने वाला है !!

12) निंदक:- अकारण निंदा करने वाला व्यक्ति भी मरा हुआ होता है; जिसे दूसरों में सिर्फ कमियाँ ही नज़र आती हैं, जो व्यक्ति किसी के अच्छे काम की भी आलोचना करने से नहीं चूकता है, ऐसा व्यक्ति जो किसी के पास भी बैठे, तो सिर्फ किसी ना किसी की बुराई ही करें, वह इंसान मृत समान होता है, परनिंदा करने से नीच गोत्र का बन्ध होता है !!

13) परमात्म विमुख:- जो व्यक्ति परमात्मा का विरोधी है, वह भी मृत समान है; जो व्यक्ति ये सोच लेता है कि कोई परमतत्व है ही नहीं; हम जो करते हैं, वही होता है, संसार हम ही चला रहे हैं, जो परमशक्ति में आस्था नहीं रखता है, ऐसा व्यक्ति भी मृत माना जाता है !!

14) श्रुति, संत विरोधी:- जो संत, ग्रंथ, पुराण का विरोधी है, वह भी मृत समान होता है; श्रुत और सन्त ब्रेक का काम करते हैं, अगर गाड़ी में ब्रेक ना हो तो वह कहीं भी गिरकर एक्सीडेंट हो सकता है; वैसे ही समाज को सन्त के जैसे ब्रेक की जरूरत है नहीं तो समाज में अनाचार फैलेगा !!

: लंका काण्ड :

कौल कामबस कृपिन विमूढ़ा !
अतिदरिद्र अजसि अतिबूढ़ा !!
सदारोगबस संतत क्रोधी !
विष्णु विमूख श्रुति संत विरोधी !!
तनुपोषक निंदक अघखानी !
जिवत सव सम चौदह प्रानी !!

कुछ बातें जो कि हमारे वेद रामायण और गीता में ऐसी है कि ग्रहण कर जीवन में उसके अनुसार चला जाए तो जीवन सार्थक हो जाता है !!!!!!!!!!!

🏹जय श्री राम🏹

🌹🙏 ~~~

Posted in गौ माता - Gau maata

भगवान कृष्ण के काल में ,

लगभग 5000 वर्ष पहले जो व्यक्ति

10 हजार गाये रखता था वह गोकुल कहलाता था ।
5 लाख गाये रखता था वह उपनन्द कहलाता था ।

9 लाख गाये रखता था वह नन्द कहलाता था ।
10 लाख गाये रखता था वह वृषभानु कहलाता था ।

50 लाख गाये रखता था वह वृषभानुवर कहलाता था ।

और 1करोड़ गाये रखने वाला नन्दराजा कहलाता था ।

—-गर्ग संहिता ,गोलोक खंड ,अध्याय 4

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

‘गूंदपाक’ सियाळे में,
‘दही-छाछ’ उँधाळे में,
‘चीलड़ो’ बरसात में,
‘डॉयफ्रूट’ बारात में….

☺जीसोरो करा देवे

गलरको ‘खीर’ को,
‘कोफ़्तो’ पनीर को,
रंग ‘केसर फीणी’ को,
‘चूरमो’ देसी चीणी को….

☺जीसोरो करा देवे

रोटी ‘बाजरी’ की,
चटणी ‘काचरी’ की,
‘बाटो’ भोभर को,
बड़ो ‘मोठ-मोगर’ को…

☺जीसोरो करा देवे

सबड़को ‘राबड़ी’ को,
स्वाद ‘गुलाबड़ी’ को,
साग ‘काचर फळी’ को,
मिठास ‘गुड़ की डळी को’…..

☺जीसोरो करा देवे

खुपरी ‘मतीरा’ की,
खुशबु ‘सीरा’ की,
अचार ‘सांगरी केर’ को,
‘भुजियो’ बीकानेर को …..

☺जीसोरो करा देवे

‘कचौरी’ दाळ की,
”जळेबी’ घाळ की,
‘खीचड़ो’ बाजरी मोठ को,
मजो सावण की ‘गोठ’ को …..

☺जीसोरो करा देवे

‘दूध’ घर की गाय को,
सुरडको ‘गर्म चाय’ को,
‘राजभोग’ छेना को,
शर्बत ‘केरी पोदीना को …..

☺जीसोरो करा देवे

गप्पा “गुवाड़” की,
शान “मारवाड़” की,
मीठो पत्तो ‘पान’ को,
खाणो ‘राजस्थान’ को…

☺जीसोरो करा देवे

🌹🙏🏻 जय-जय राजस्थान🙏🌹