Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बोध कथा सत्य की ताकत

एक दिन एक बहू ने गलती से यज्ञवेदी में थूक दिया !!
सफाई कर रही थी, मुंह में सुपारी थी… पीक आया तो वेदी में थूक दिया पर उसे यह देखकरआश्चर्य हुआ कि उतना थूक तत्काल स्वर्ण में बदल गया है। अब तो वह प्रतिदिन जान बूझकर वेदी में थूकने लगी और उसके पास धीरे धीरे स्वर्ण बढ़ने लगा। महिलाओं में बात तेजी से फैलती है। कई और महिलाएं भी अपने अपने घर में बनी यज्ञवेदी में थूक-थूक कर सोना उत्पादन करने लगी।

धीरे धीरे पूरे गांव में यह सामान्य चलन हो गया,
सिवाय एक महिला के
उस महिला को भी अनेक दूसरी महिलाओं ने उकसाया….. समझाया…..
“अरी…..तू क्यों नहीँ थूकती ?”

“महिला बोली…..जी बात यह है कि मैं अपने पति की अनुमति बिना यह कार्य हरगिज नहीँ करूंगी और जहाँ तक मुझे ज्ञात है वे इसकी अनुमति कभी भी नहीँ देंगे।”

किन्तु ग्रामीण महिलाओं ने ऐसा वातावरण बनाया….. कि आखिर उसने एक रात डरते डरते अपने ‎पति‬ से पूछ ही लिया। “खबरदार जो ऐसा किया तो….. !! यज्ञवेदी क्या थूकने की चीज है ?पति की गरजदार चेतावनी के आगे बेबस वह महिला चुप हो गई….पर जैसा वातावरण था और जो चर्चाएं होती थी, उनसे वह साध्वी स्त्री बहुत व्यथित रहने लगी। खास कर उसके सूने गले को लक्ष्य कर अन्य स्त्रियां अपने नए नए कण्ठ-हार दिखाती तो वह अन्तर्द्वन्द में घुलने लगी। पति की व्यस्तता और स्त्रियों के उलाहने उसे धर्मसंकट में डाल देते। वह सोचती थी कि यह शायद “मेरा दुर्भाग्य है….. अथवा कोई पूर्वजन्म का पाप…..कि एक सती स्त्री होते हुए भी मुझे एक रत्ती सोने के लिए भी तरसना पड़ता है।”

“शायद यह मेरे पति का कोई गलत निर्णय है।”
“ओह !!! इस धर्माचरण ने मुझे दिया ही क्या है ?”
“जिस नियम के पालन से ‎दिल‬ कष्ट पाता रहे। उसका पालन क्यों करूं ?”… और हुआ यह कि वह बीमार रहने लगी। ‎पतिदेव‬ इस रोग को ताड़ गए। उन्होंने एक दिन ब्रह्म मुहूर्त में ही सपरिवार ग्राम त्यागने का निश्चय किया। गाड़ी में सारा सामान डालकर वे रवाना हो गए। सूर्योदय से पहले पहले ही वे बहुत दूर निकल जाना चाहते थे।

किन्तु…..अरे !!! यह क्या…?? ज्यों ही वे गांव की कांकड़ (सीमा) से बाहर निकले तो पीछे भयानक विस्फोट हुआ और पूरा गांव धू धू कर जल रहा था। सज्जन दम्पत्ति अवाक् रह गए और उस स्त्री को अपने पति का महत्त्व समझ आ गया। वास्तव में… इतने दिन गांव बचा रहा, तो केवल इस कारण….. कि धर्माचरण करने वाला उसका परिवार, गांव की परिधि में था।

धर्माचरण करते रहें…..
कुछ पाने के लालच में इंसान बहुत कुछ खो बैठता है……इसलिए लालच से बचें…..न जाने किसके भाग्य से आपका जीवन सुखमय व सुरक्षित है

परहित धर्म का भी पालन करते रहिए क्योंकि….. व्यक्तिगत स्वार्थ पतन का कारण बनता है
हे नाथ!हे मेरे नाथ!!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

लष्मीकांत

मान_सम्मान

एक मॉं अपने बच्चे को ढूँढ रही थी। बहुत देर तक जब वह नहीं मिला, तो वह रोने लगी और ज़ोर-जो़र से बच्चे का नाम लेकर पुकारने लगी। कुछ समय पश्चात् बच्चा दौड़ता हुआ उसके पास आ गया। मॉं ने पहले तो उसे गले लगाया, मन भर कर प्यार किया और फिर उसे डॉंटने लगी। उससे पूछा कि इतनी देर तक वह कहॉं छुपा हुआ था। बच्चे ने बताया, “मॉं, मैं छुपा हुआ नहीं था, मैं तो बाहर की दुकान से गोंद लेने गया था।” मॉं ने पूछा कि गोंद से क्या करना है? इस पर बच्चे ने बड़े भोलेपन से बोला, “मैं उससे चाय के प्याले को जोड़ूँगा जो टूट गया है।”
मॉं ने फिर पूछा, “टूटा प्याला जोड़ कर क्या करोगे? जुड़ने के बाद तो वह बहुत ख़राब दिखेगा।” तब बच्चे ने भोलेपन से कहा, “जब तुम बूढ़ी हो जाओगी तो उस प्याले में तुम्हें चाय पिलाया करूँगा।” यह सुन कर मॉं पसीने-पसीने हो गई। कुछ पल तक तो उसे समझ नहीं आया कि वह क्या करे? फिर होश संभालते ही उसने बच्चे को गोद में बिठाया और प्यार से कहा, “बेटा, ऐसी बातें नहीं करते। बड़ों का सम्मान करते हैं। उनसे ऐसा व्यवहार नहीं करते। देखो, तुम्हारे पापा कितनी महनत करते हैं ताकि तुम अच्छे विद्यालय में जा सको। मम्मी तुम्हारे लिए भॉंति-भॉंति के भोजन बनाती है। सब लोग तुम्हारा ध्यान रखते हैं ताकि जब वे बूढ़े हो जॉंए तब तुम उनका सहारा बनो।”
बच्चे ने मॉं की बात बीच में काटते हुए कहा, “लेकिन मॉं, क्या दादा-दादी ने भी यही नहीं सोचा होगा, जब वे पापा को पढ़ाते होंगे? आज जब दादी से ग़लती से चाय का प्याला टूट गया तब तुम कितनी ज़ोर से चिल्लाईं थीं। इतना ग़ुस्सा किया था आपने कि दादाजी को दादी के लिए आपसे माफ़ी मॉंगनी पड़ी। पता है मॉं, आप तो कमरे में जाकर सो गईं, लेकिन दादी बहुत देर तक रोती रहीं। मैंने वह प्याला संभाल कर रख लिया है और अब मैं उसे जोड़ दूँगा। माँ को अब कुछ समझ नहीं आ रहा था कि अब वह क्या कहे? बच्चे को पुचकारते हुए बोली, “मैं भी तब से अशांत ही हूँ।”
यह स्थिति आजकल प्रायः घर-घर में पाई जाती है। हमारे संत भविष्यदर्शी थे। तभी संत कबीरदास जी ने कहा है, “ऐसी बानी बोलिए, मन का आपा खोए, औरों को शीतल करे, आपहुँ शीतल होए।” धारदार अस्त्र का घाव भर जाता है, किंतु वाणी द्वारा दिया हुआ घाव नहीं भरता। लेकिन हम सब का कैसा विचित्र व्यवहार होता जा रहा कि हम दूसरों का सम्मान करना ही भूल गए हैं। रुपया-पैसा आवश्यक है परंतु इसका यह अर्थ नहीं है कि आप धन के लिए आप दूसरों का आदर करना ही छोड़ दें। हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि इन्हीं माता-पिता के कारण आज हम समाज में सम्मान से रह रहे हैं। यह वही पिता हैं जो हमारे द्वार किए गए कई तरह के नुक़सान को हँस कर टाल देते थे। यही वे माता हैं जो हमारे आँसू रोकने के लिए औरों से भिड़ जाती थीं। आज जब वे वृद्ध हो गए हैं तो हमारा कर्तव्य बनता है कि उनके साथ नम्रता से व्यवहार करें, उनका आदर करें। बड़ों के आशीर्वाद से हमारे बल, धन, आयु और यश में वृद्धि होती है। यदि बड़े हमारे से अप्रसन्न हो गए तो न जाने हम किस-किस से वंचित रह जाएँगे।
एक साधारण सिद्धांत है कि बच्चे बड़ों से ही सीखते हैं, बड़े जैसा करेंगे बच्चे भी वैसा ही करेंगे। कहने का तात्पर्य यह है कि हमें बच्चों के साथ वैसा ही व्यवहार करना चाहिए जैसा कि हम उनसे अपेक्षा करते हैं।

हिन्दू_संस्कृति

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

પુસ્તકોની દુનિયા મા થી સાભાર

માનવામાં ન આવે તેવી અને શોકિંગ માહિતી વાંચવી આવશ્યક છે.

ડી.ડી.પોડિગાઇએ શ્રી પી એમ નાયર, (નિવૃત્ત આઈ.એ.એસ. અધિકારી, જે Dr. અબ્દુલ કલામ સરના સચિવ હતા તે પ્રમુખ હતા ત્યારે એક મુલાકાતમાં ટેલિકાસ્ટ કરે છે.)

હું ભાવનાથી ગૂંગળાયેલા અવાજમાં જે મુદ્દાઓ બોલ્યો હતાં તેનો સારાંશ આપું છું.

શ્રી નાયરે “કલામ અસર” નામના પુસ્તકની રચના કરી.

Dr. કલામ જ્યારે પણ વિદેશ જતા ત્યારે મોંઘીદાટ ભેટો મેળવતો હતો, કેમ કે ઘણા દેશોની મુલાકાત લેતી રાજ્યોના વડાઓને ભેટો આપવાની પ્રથા છે.

ભેટનો ઇનકાર કરવો એ રાષ્ટ્રનું અપમાન અને ભારત માટે શરમજનક બની રહેશે.

તેથી, તેમણે તેમને પ્રાપ્ત કર્યા અને પાછા ફરતા, ડૉ.કલામે ભેટોને ફોટોગ્રાફ કરવા કહ્યું અને પછી કેટલોગ કરી આર્કાઇવ્સને આપી દીધા.

પછીથી, તેણે ક્યારેય તેમની તરફ જોયું પણ નહીં. રાષ્ટ્રપતિ ભવન છોડતાની સાથે મળેલી ભેટોમાંથી તેણે પેન્સિલ પણ લીધી નહોતી.

૨. વર્ષ 2002 માં, ડૉ.કલામે કાર્યભાર સંભાળ્યો, રમઝાન મહિનો જુલાઈ-Augustગસ્ટમાં આવ્યો.

રાષ્ટ્રપતિએ ઇફ્તાર પાર્ટીનું આયોજન કરવું એ નિયમિત પ્રથા હતી.

ડૉ. કલામે શ્રી નૈયરને પૂછ્યું કે શા માટે તેઓ પહેલાથી જ સારી રીતે ખવડાવેલા લોકોને પાર્ટીની હોસ્ટ કરે છે અને તેની કિંમત પૂછવા માટે પૂછવામાં આવે છે.

શ્રી નાયરે જણાવ્યું હતું કે તેની કિંમત આશરે રૂ. 22 લાખ.

ડૉ. કલામે તેમને તે રકમ અમુક પસંદ કરેલા અનાથાલયોમાં ખોરાક, કપડાં અને ધાબળાના રૂપમાં દાન કરવા કહ્યું.

અનાથાલયોની પસંદગી રાષ્ટ્રપતિ ભવનની એક ટીમમાં છોડી દેવામાં આવી હતી અને ડૉ. કલામની તેમાં કોઈ ભૂમિકા નહોતી.

પસંદગી થઈ ગયા પછી ડૉ.કલામે શ્રી નૈયરને તેના રૂમમાં અંદર આવવા કહ્યું અને તેમને 1 લાખનો ચેક આપ્યો.

તેણે કહ્યું કે તે પોતાની અંગત બચતમાંથી થોડી રકમ આપી રહ્યો છે અને આ વાત કોઈને જાણ ન થવી જોઈએ.

શ્રી નાયર એટલા માટે આઘાત પામ્યા કે તેણે કહ્યું, “સર, હું બહાર જઈશ અને બધાને કહીશ. લોકોને ખબર હોવી જોઇએ કે અહીં એક માણસ છે જેણે ફક્ત જે ખર્ચ કરવો જોઇએ તે દાન આપ્યું ન હતું, પરંતુ તે પોતાનો પૈસા પણ આપી રહ્યો છે.”

ડૉ. કલામ તેઓ ધર્મપ્રેમી મુસ્લિમ હોવા છતાં વર્ષોથી તેઓ રાષ્ટ્રપતિ હતા ત્યાં ઇફ્તાર પાર્ટીઓ નહોતી.

ડૉ. કલામને “હા સર” પ્રકારના લોકો પસંદ ન હતા.

એકવાર જ્યારે ભારતના મુખ્ય ન્યાયાધીશ આવ્યા હતા અને અમુક તબક્કે ડો.કલામે પોતાનો મત વ્યક્ત કર્યો

Posted in रामायण - Ramayan

मृत्यु के चौदह प्रकार 🌷

राम और रावण का युद्ध चल रहा था, तब अंगद रावण को बोले- तू तो मरा हुआ है, तुझे मारने से क्या फायदा!?!?!?

रावण बोला– मैं जीवित हूँ, मरा हुआ कैसे?

अंगद बोले सिर्फ साँस लेने वालों को जीवित नहीं कहते- साँस तो लुहार का भाता भी लेता है ..

तब अंगद ने 14 प्रकार की मृत्यु बतलाई ..

अंगद द्वारा रावण को बतलाई गई, ये बातें आज के दौर में भी लागू होती हैं …..

यदि किसी व्यक्ति में इन 14 दुर्गुणों में से एक दुर्गुण भी आ जाता है तो वह मृतक समान हो जाता है !!

विचार करें कहीं यह दुर्गुण हमारे पास तो नहीं हैं, कि हमें मृतक समान माना जाये …..

1) कामवश:- जो व्यक्ति अत्यन्त भोगी हो, कामवासना में लिप्त रहता हो, जो संसार के भोगों में उलझा हुआ हो, वह मृत समान है; जिसके मन की इच्छाएं कभी खत्म नहीं होती और जो प्राणी सिर्फ अपनी इच्छाओं के अधीन होकर ही जीता है, वह मृत समान है; वह अध्यात्म का सेवन नहीं करता है, सदैव वासना में लीन रहता है !!

2) वाम मार्गी:- जो व्यक्ति पूरी दुनिया से उल्टा चले, जो संसार की हर बात के पीछे नकारात्मकता खोजता हो; नियमों, परंपराओं और लोक व्यवहार के खिलाफ चलता हो, वह वाम मार्गी कहलाता है; ऐसे काम करने वाले लोग मृत समान माने गए हैं !!

3) कंजूस:- अति कंजूस व्यक्ति भी मरा हुआ होता है; जो व्यक्ति धर्म के कार्य करने में, आर्थिक रूप से किसी कल्याण कार्य में हिस्सा लेने में हिचकता हो, दान करने से बचता हो, ऐसा आदमी भी मृत समान ही है !!

4) अति दरिद्र:- गरीबी सबसे बड़ा श्राप है; जो व्यक्ति धन, आत्म-विश्वास, सम्मान और साहस से हीन हो, वो भी मृत ही है; अत्यन्त दरिद्र भी मरा हुआ है, दरिद्र व्यक्ति को दुत्कारना नहीं चाहिए, क्योंकि वह पहले ही मरा हुआ होता है, गरीब लोगों की मदद करनी चाहिए !!

5) विमूढ़:- अत्यन्त मूढ़ यानी मूर्ख व्यक्ति भी मरा हुआ होता
है; जिसके पास विवेक, बुद्धि नहीं हो, जो खुद निर्णय ना ले सके यानि हर काम को समझने या निर्णय को लेने में किसी अन्य पर आश्रित हो, ऐसा व्यक्ति भी जीवित होते हुए मृत के समान ही है, मूढ़ अध्यात्म को समझता नहीं है !!

6) अजसि:- जिस व्यक्ति को संसार में बदनामी मिली हुई है, वह भी मरा हुआ है; जो घर, परिवार, कुटुंब, समाज, नगर या राष्ट्र, किसी भी ईकाई में सम्मान नहीं पाता है, वह व्यक्ति मृत समान ही होता है !!

7) सदा रोगवश:- जो व्यक्ति निरंतर रोगी रहता है, वह भी मरा हुआ है; स्वस्थ शरीर के अभाव में मन विचलित रहता है, नकारात्मकता हावी हो जाती है, व्यक्ति मृत्यु की कामना में लग जाता है, जीवित होते हुए भी रोगी व्यक्ति जीवन के आनंद से वंचित रह जाता है !!

8) अति बूढ़ा:- अत्यन्त वृद्ध व्यक्ति भी मृत समान होता है, क्योंकि वह अन्य लोगों पर आश्रित हो जाता है; शरीर और बुद्धि, दोनों असक्षम हो जाते हैं, ऐसे में कई बार स्वयं वह और उसके परिजन ही उसकी मृत्यु की कामना करने लगते हैं, ताकि उसे इन कष्टों से मुक्ति मिल सके !!

9) सतत क्रोधी:- 24 घंटे क्रोध में रहने वाला व्यक्ति भी मृत समान ही है; हर छोटी-बड़ी बात पर क्रोध करना, ऐसे लोगों का काम होता है, क्रोध के कारण मन और बुद्धि दोनों ही उसके नियंत्रण से बाहर होते हैं, जिस व्यक्ति का अपने मन और बुद्धि पर नियंत्रण न हो, वह जीवित होकर भी जीवित नहीं माना जाता है; पूर्व जन्म के संस्कार लेकर यह जीव क्रोधी होता है, क्रोधी अनेक जीवों का घात करता है और नरक गामी होता है !!

10) अघ खानी:- जो व्यक्ति पाप कर्मों से अर्जित धन से अपना और परिवार का पालन-पोषण करता है, वह व्यक्ति भी मृत समान ही है; उसके साथ रहने वाले लोग भी उसी के समान हो जाते हैं, हमेशा मेहनत और ईमानदारी से कमाई करके ही धन प्राप्त करना चाहिए, पाप की कमाई पाप में ही जाती है और पाप की कमाई से नीच गोत्र, निगोद की प्राप्ति होती है !!

11) तनु पोषक:- ऐसा व्यक्ति जो पूरी तरह से आत्म संतुष्टि और खुद के स्वार्थों के लिए ही जीता है, संसार के किसी अन्य प्राणी के लिए उसके मन में कोई संवेदना ना हो, तो ऐसा व्यक्ति भी मृतक समान ही है; जो लोग खाने-पीने में, वाहनों में स्थान के लिए, हर बात में सिर्फ यही सोचते हैं कि सारी चीजें पहले हमें ही मिल जाएं, बाकि किसी अन्य को मिले ना मिले, वे मृत समान होते हैं, ऐसे लोग समाज और राष्ट्र के लिए अनुपयोगी होते हैं; शरीर को अपना मानकर उसमें रत रहना मूर्खता है क्योंकि यह शरीर विनाशी है, नष्ट होने वाला है !!

12) निंदक:- अकारण निंदा करने वाला व्यक्ति भी मरा हुआ होता है; जिसे दूसरों में सिर्फ कमियाँ ही नज़र आती हैं, जो व्यक्ति किसी के अच्छे काम की भी आलोचना करने से नहीं चूकता है, ऐसा व्यक्ति जो किसी के पास भी बैठे, तो सिर्फ किसी ना किसी की बुराई ही करें, वह इंसान मृत समान होता है, परनिंदा करने से नीच गोत्र का बन्ध होता है !!

13) परमात्म विमुख:- जो व्यक्ति परमात्मा का विरोधी है, वह भी मृत समान है; जो व्यक्ति ये सोच लेता है कि कोई परमतत्व है ही नहीं; हम जो करते हैं, वही होता है, संसार हम ही चला रहे हैं, जो परमशक्ति में आस्था नहीं रखता है, ऐसा व्यक्ति भी मृत माना जाता है !!

14) श्रुति, संत विरोधी:- जो संत, ग्रंथ, पुराण का विरोधी है, वह भी मृत समान होता है; श्रुत और सन्त ब्रेक का काम करते हैं, अगर गाड़ी में ब्रेक ना हो तो वह कहीं भी गिरकर एक्सीडेंट हो सकता है; वैसे ही समाज को सन्त के जैसे ब्रेक की जरूरत है नहीं तो समाज में अनाचार फैलेगा !!

: लंका काण्ड :

कौल कामबस कृपिन विमूढ़ा !
अतिदरिद्र अजसि अतिबूढ़ा !!
सदारोगबस संतत क्रोधी !
विष्णु विमूख श्रुति संत विरोधी !!
तनुपोषक निंदक अघखानी !
जिवत सव सम चौदह प्रानी !!

कुछ बातें जो कि हमारे वेद रामायण और गीता में ऐसी है कि ग्रहण कर जीवन में उसके अनुसार चला जाए तो जीवन सार्थक हो जाता है !!!!!!!!!!!

🏹जय श्री राम🏹

🌹🙏 ~~~