Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

सुरेंद्र सिंह सूंदर

रानी लक्ष्मीबाई को बस एक अंग्रेज ने देखा…दंग रह गया था

भारतीय परंपराएं थीं या इत्तेफाक कि रानी लक्ष्मीबाई को रूबरू देखने का सौभाग्य बस एक गोरे आदमी को मिला। अंग्रेजों के खिलाफ जिंदगी भर जंग लड़ने वालीं और जंग के मैदान में ही लड़ते-लड़ते जान देने वालीं झांसी की रानी लक्ष्मीबाई को बस एक अंग्रेज ने देखा था। ये अंग्रेज था जॉन लैंग, जो मूल रूप से ऑस्ट्रेलिया का रहने वाला था और ब्रिटेन में रहकर वहीं की सरकार के खिलाफ कोर्ट में मुकदमे लड़ता था। उसे एक बार रानी झांसी को करीब से देखने, बात करने का मौका मिला। रानी की खूबसूरती और उनकी आवाज का जिक्र जॉन ने अपनी किताब ‘वांडरिंग्स इन इंडिया’ में किया था।

जॉन लैंग पेशे से वकील था, और झांसी की रानी लक्ष्मीबाई ने उसे लंदन में अपना केस लड़ने के लिए नियुक्त किया था। लेकिन केस को समझने के लिए ये मुमकिन नहीं था कि रानी लंदन ना जाएं और वकील भी बिना यहां आए या उनसे मिले केस पूरा समझ सके। उस वक्त फोन, इंटरनेट जैसी सुविधा भी नहीं थी। सो रानी ने उसे मिलने के लिए झांसी बुलाया। चूंकि रानी जैसे अकेले क्लाइंट से ही लैंग का साल भर का खर्चा निकल जाना था। उन दिनों वो भारत की यात्रा पर ही था, सो वो तुरंत झांसी के लिए निकल पड़ा। इसी तरह की भारत यात्राओं के दौरान लैंग को तमाम तरह के अनुभव हुए और उन्हीं अनुभवों को उसने अपनी किताब ‘वांडरिंग्स इन इंडिया’ में सहेजा है।

उसकी यही किताब भारतीय इतिहासकारों के लिए तब धरोहर बन गई जब पता चला कि ये अकेला गोरा व्यक्ति है जो रानी झांसी से रूबरू मिला था और रानी के व्यक्तित्व के बारे में उसने बिना पूर्वाग्रह के कुछ लिखा है। हालांकि उस वक्त के कई लोगों ने रानी के बारे में लिखा था, लेकिन माना यही गया है कि आधुनिक इतिहास लेखन के हिसाब से वो निष्पक्ष या ऐतिहासिक दृष्टिकोण से नहीं लिखा गया था। यही वो मुलाकात थी, जिसमें रानी लक्ष्मीबाई ने अपनी वो मशहूर अमर लाइनें बोलीं थीं, ‘मैं मेरी झांसी नहीं दूंगी’। इतना ही नहीं हम अब तक रानी की वही तस्वीर देखते आए हैं, जिसमें वो लाल अंगारे आंखों में लिए हुए एक घोड़े पर बैठे तलवार चला रही हैं, कमर में उनका बेटा दामोदर राव बना हुआ है। ऐसे में जॉन लैंग ने उनकी एक दूसरी तस्वीर दुनिया के सामने पेश की, कि वो कैसी दिखती हैं, कैसे बोलती हैं, उनकी आवाज में कितनी शालीनता या गंभीरता है और वो किस तरह के कपड़े पहनती हैं। दिलचस्प बात ये है कि ये भी कभी सामने नहीं आता, अगर युद्ध के दौरान उनकी कमर में बंधे रहने वाले उनके गोद लिए हुए बेटे दामोदर ने अचानक रानी और लैंग के बीच का पर्दा ना हटा दिया होता।

28 अप्रैल 1854 को मेजर एलिस ने रानी को किला छोड़ने का फरमान सुनाया और पेंशन लेकर उन्हें रानी महल में ठहरने के आदेश दे दिए। इस वजह से रानी लक्ष्‍मीबाई को पांच हजार रुपये की पेंशन पर किला छोड़कर रानी महल में रहना पड़ा। तब झांसी दरबार ने केस को लंदन की कोर्ट में ले जाने का फैसला किया, ऐसे में वहां केस लड़ने के लिए ऐसे वकील की जरूरत थी, जो ब्रिटिश शासकों से सहानुभूति ना रखता हो, उनके खिलाफ केस जीतने का तर्जुबा हो और भारत या भारतीयों को समझता हो, उनके लिए अच्छा सोचता हो। लोगों से राय ली गई तो ऐसे में नाम सामने आया जॉन लैंग का। रानी ने सोने के पत्ते पर लैंग के लिए मिलने की रिक्वेस्ट के साथ अपने दो करीबियों को भेजा, एक उनका वित्तमंत्री था और दूसरा कोई कानूनी अधिकारी था। उस वक्त लैंग आगरा में थे, आगरा अभी झांसी से कुछ ही घंटों का रास्ता है, लेकिन उन दिनों इस यात्रा में दो दिन लगते थे।

लैंग ने आगरा से ग्वालियर और ग्वालियर से रानी की भेजी शानदार घोड़ागाड़ी का, उसमें हाथ से चलाने वाले पंखे का, उसके फ्रांसीसी घोड़ों का विस्तार से उल्लेख अपनी किताब में किया है। जब वो झांसी पहुंचा, कैसे लोगों ने उसका स्वागत किया, कैसे रानी के महल में जाने से पहले उसके जूते उतरवाए गए, कैसे दामोदर से उसकी पहली मुलाकात हुई, ये भी आप उसकी इस किताब में पढ़ सकते हैं।

बातचीत के वक्त बीच में था पर्दा, शाम का वक्त था। महल के बाहर भीड़ जमा थी। झांसी रि‍यासत के राजस्व मंत्री ने भीड़ को नियंत्रित करते हुए जॉन लैंग के लिए सुविधाजनक स्थान बनाया। इसके बाद संकरी सीढ़ियों से जॉन लैंग को महल के ऊपरी कक्ष में ले जाया गया। उन्‍हें बैठने के लिए कुर्सी दी गई। उन्होंने देखा कि सामने पर्दा पड़ा हुआ था। उसके पीछे रानी लक्ष्‍मीबाई, दत्‍तक पुत्र दामोदर राव और सेविकाएं थीं। अचानक से बच्चे दामोदर ने वो पर्दा हटा दिया, रानी हैरान रह गईं, कुछ ही सैकंड्स में वो पर्दा ठीक किया गया लेकिन तब तक जॉन लैंग रानी को देख चुका था।

जॉन लैंग रानी को देखकर इतना प्रभावित हुआ कि उसने रानी से कहा कि, “if the Governor-General could only be as fortunate as I have been and for even so brief a while, I feel quite sure that he would at once give Jhansi back again to be ruled by its beautiful Queen.”। हालांकि रानी ने बड़ी सधी हुई प्रतिक्रिया के साथ गरिमामयी ढंग से इस कॉम्पलीमेंट को स्वीकार किया। जॉन लैंग ने अपनी किताब में लिखा है कि ‘महारानी जो औसत कद, स्वस्थ, साधारण शरीर और कम आयु में बहुत सुंदर लगने वाली गोल चेहरे वाली महिला थीं। उनकी आंखें काफी सुंदर और नाक की बनावट बेहद नाजुक थी। रंग बहुत गोरा नहीं, लेकि‍न श्‍यामलता से काफी बढ़ि‍या था। उनके शरीर पर कानों में ईयर रिंग के सिवा कोई जेवर नहीं था। सफेद मलमल के कपड़े पहने हुए थीं रानी। उन्‍होंने लि‍खा है कि‍ वो बहुत अच्छी बुनाई की गई सफेद मलमल के कपड़े पहनी हुई थीं। इस परिधान में उनके शरीर का रेखांकन काफी स्‍पष्‍ट था। वो वाकई बहुत सुंदर थीं। जो चीज उनके व्यक्तित्व को बिगाड़ती थी, वो उनकी रूआंसी ध्वनियुक्त एक फटी आवाज थी। हालांकि‍, वो बेहद समझदार और प्रभावशाली महि‍ला थीं।

हालांकि माना ये भी जाता है कि इसके अलावा लक्ष्मीबाई को एक अंग्रेज सर रॉबर्ट हैमिल्टन ने भी देखा था, लेकिन उसने सि‍र्फ मुलाकात और उनसे बातचीत का ही जिक्र किया है। हैमिल्टन ने रानी की सुंदरता के बारे में कुछ नहीं लिखा है। ऐसे में हो सकता है कि‍ उसने सामने से नहीं देखा हो। लेकिन जॉन लैंग ने ना केवल देखा बल्कि भविष्य की पीढ़ी के लिए एक इतिहास ही लिख दिया।

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

સુરેશ બારોટ

મહારાણાપ્રતાપ અને #સંકરબારોટ

આ પ્રસંગ સાંભળ્યો સૌ એ છે પણ સમજ્યો નથી…. ચલો સમજીએ

જ્યારે મહારાણા પ્રતાપ જી હલ્દી થી પોતાના ભાઈ શ્રી શક્તિ સિહ ગોહિલ નો ઘોડો લઈ ને અરવલ્લી ની ગિરિ માળા અો માં વસેલ ત્યાર નો આ અમર પ્રસંગ છે..

જ્યારે તેઓ જંગલ માં રેહતા ત્યારે તેઓ પાસે કશું હતું નહિ .. અને એજ સમય ઉદયપુર થી બારોટ સંકર તેમને મળવા આવે છે..

સંકર બારોટ જેવા પ્રતાપ ને મળ્યા …

દોહો

વેદ વિધિ જબ લગ રહે જહ લગ રહ્ સુરરાજ
તબ લગ રાણા કુળ રો રહો અવિચળ રાજ

અને બારોટ ને આવતા જોઈ ને પ્રતાપ જી દોડી ને મળવા ગયા ..અને સામે ચાલી ને આવ્યા ત્યારે..

દોહો

તે દેશે જઈએ નહિ જ્યાં રાજપૂત ન હોય
સામા આવી સેરીએ કુસળ પુછે ના કોય

ત્યારે બારોટ જી ને પાસે બેસાડી ને હલ્દી ઘાટી વિશે વાત કરતાં હતા.. અને રાજા માન સિહ નો એટલો આઘાત લાગેલ કે પોતે પોતાના આંસુ રોકી નતા સકતા ..ત્યારે સંકર બારોટ બોલ્યા..

અરે રાણા.. મન્ના નું કુળ ઉજળું છે અને તેના થી એ કુળ વધારે ઉજવળ કરી ગયા છે.. એ ક્ષત્રિય કુળ ને ઉજ્જળું કરી ને ગયા છે એના માટે આસુ નહિ પણ ..

દોહો__

મન્ના મન પ્રભુ કાજ ધરી કરી બતાયો કામ
અંબર સુર ધન ધન કહે અરી ધન કહે તમામ

છપ્પય_

રણ બાજી બિર હાક ધાક અરી ઉર ભય ભારી
સુખી ગિધ્ધ રું કાક ડાક બજવે કા મારી
હુર ભઈ મદમત નિજ પાય સુખનકર
ભૂત પ્રેત ડાકની સાકની યક્ષ યતી મદભર
ધરી ચાહ લર્યો રન ખેતમે અરીજન મન બલ કિયહરન
સુર અંબર ભૂપ સંકર કહે ધન્ય ધન્ય મન્ના મરન

આ સાંભળી રાણા જી માન સિહ જી ની વીરગતિ પર્ ગર્વ કરવા લાગ્યા વિલાપ થી બહાર નીકળ્યા

પછી સંકર બારોટ .. સિસોદિયા કુળ ને બિરદાવી ..એના
૧૫ દોહા છે.. જે અહી ૨ ચાર મૂકુ છું

દોહા_

ચેલા વન્સ છતિસ ગુરૂઘર ગહલોતા તણો
રાજા રાણા રીસ કરતા મત કોઈ કરો

ચંપો ચિતોડાહ રો પોરસ તણો પ્રતાપ સિહ
સૌરભ અકબર સાહ અડીયલ આભડ્યો નહિ

માંજી મોહ મરાટ પાતલ રાણ પ્રવાડ ભલ
કૂજડા કિય દ્રહ વાટ દળ મેંગલ દાનવ તણા

આ સાંભળી .. રાણા જી ખૂબ જ ખુશ થયા અને પોતે લીધેલી પ્રતિજ્ઞા લીધી કે હું નમીસ નહિ અને મારા રાજ્ય ને પાછું મેળવી..

ત્યારે સંકર બારોટ જી ખુબ ખુશ થઈ ને રજા માંગવા લાગ્યા ત્યારે પ્રતાપ જી પાસે કશુ હતું .. જંગલ માં તો તેમને પોતાની પાઘ અને તેનું મેકર આપેલ .. અને પ્રતાપ જી ની રજા લીધેલ..

ત્યાં થી સંકર બારોટ સીધા દિલ્હી ગયા.. અને દરબાર માં જાઈ અકબર સામે…

યા વત ગંગ ગિરિશ રહ્ રહ્ કુરાન કી રાહ
તાવત દિલ્હી તખત પર અકબર શહેનસાહ

ઘણા માન ભેર અંદર બોલાવ્યા ત્યાર અકબર ઊભા થઈ ને સલામ આપી.. પણ સંકર બારોટે પેહલા પોતાની પાઘ અને મેકર જમણા હાથ માં લઇ અને ડાબા હાથે અદબ કરી.. ત્યારે અકબર બોલ્યા કેમ આવી રીતે અપમાન મારું

ત્યારે સંકર બારોટ બોલ્યા… હુ તો જમણો હાથ પ્રતાપ ને આપી આવ્યો છું.. ડાબો ખાલી છે.. અને હું કોઈ લેવા નહિ પણ રાણા પ્રતાપ ની સુ પ્રતિજ્ઞા છે એ કેહવા આવ્યો છું સાંભળ અકબર

દોહો_
પાતલ રાહ પ્રતાપ રી આ પૂરર્ણ પ્રતિજ્ઞાહ
નમે નહીં મેકર નવીન કર ધર્યો સહેનસાહ

અદભૂત કવિત _

અટલ હંમેશ જાકી પુરણ પ્રતિજ્ઞ યહ
ધ્રુવ ચલે જીવે તદી બચન ચલે નહિ
ટલે યદી મેરુ હિમવાન હુ ટ્લે તો ટલે
તદ પી પ્રતિજ્ઞા જાકિ ને કહું ટલે નહિ

સંકર ભવંત શ્રી અકબર સહેન સાહ

જાકી કૃતિ કાહુ જન કબહું કલે નહિ
સોઈ મહારાન શ્રી પ્રતાપી પ્રતાપ જુકો
મહેકર યા નમે કાજ ને કહું હલે નહિ

કવિત_ ૨

પરમ પ્રતાપી બાદ સાહ અકબર યહ
ભારત મે દાખત ન એક તેરે જોટે કો
ભલે ભલે રાજ રાવ સર્વે રાજપૂતિ છોડ
બને રબ જૂત કરી કર્મ અતિ ખોટે કો
પરમ પ્રતાપ તેરો પેખી મજલિયત માન
ઉલું કે સમાન અરી ખોજે ગિરિ કોટે કો

સંકર ભવંત બીના ઉદેપુર પતા રાન

કોન શકે પૂરી પરે છતીસ કે ટેટે કો

આટલું કહી ને તે ત્યાંથી કશું લિધા વગર બે ફિકર થઈ ને નીકળી ગયા.. અને એમની પછી ત્યાં પ્રતાપ જી ના રાજ કવિ વિજય બારોટ ગયા હતા.. જેનો ઉલ્લેખ )આર્ય વન્સ ઈતિહાસ) માં જોવા મળે છે જેઓ પોતાના કવિતાઓ માં કવિરાજ લખાવતા હતા.. જેની વાત પછી કરી સું

જય માતાજી .
જય મહારાણા પ્રતાપ

લેખક સુરેશ ભાઈ બારોટ નવાવાસ …….

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

एकम्बरेश्वर मंदिर


कोई क्रेन नहीं, कोई आधुनिक उपकरण नहीं, कोई इंजीनियरिंग तकनीक नहीं, लेकिन हमारे पूर्वजों ने आधुनिक उपकरणों के बिना 100% सटीकता के साथ इसे बनाया ।

600 ईसवी में पल्लवों द्वारा निर्मित 1000 खंभों वाले इस मंदिर को देखिए । क्या सच में टेक्नोलॉजी नहीं थी ? या फिर वामपंथी इतिहासकारों ने हमसे झूठ बोला ताकि हम फिर से कभी गर्वित सनातनी ना बन सकें ।

(एकम्बरेश्वर मंदिर, तमिलनाडु)

क्या यह छेनी-हथौड़ी से संभव है ?

सोचिये ! छोटी से छोटी डिटेल को दर्शाने के लिए पत्थरों के बीच से पत्थरों को काटकर निकालने में छेनी पर हथौड़ी का एक गलत प्रहार महीनों की मेहनत बर्बाद कर सकता था ।

वामपंथी इतिहासकारों द्वारा लिखे हमारे इतिहास के पाठ्यक्रमों को पुनः लिखने की आवश्यकता है ।

(चेन्नकेशवा मंदिर, कर्नाटक)

आप जैसे ही हमारे पूर्वजों के रहस्यों को डिकोड करने का दावा करेंगे वो अपनी कलाओं से आपको फिर से चौंका देंगे ।

हर छोटी से छोटी डिटेल वाली कंगन पहले इस प्रतिमा को देखिए इसी मंदिर में एक ऐसी प्रतिमा भी है जिसके कंगन को आप आसानी से आगे-पीछे कर सकते हैं ।

(चेन्नकेशवा मंदिर, कर्नाटक)

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

धनुषकोड़ी


अखण्ड सनातन समिति🚩🇮🇳

रामेश्वरम धाम का कायापलट

रामसेतु राष्ट्रीय धरोहर है, उसका पूर्ण संरक्षण मोदी सरकार द्वारा किया जा रहा है। रामसेतु पर केंद्र सरकार द्वारा एकदम चकाचक रोड बनाया गया है। पहले रामसेतु के भारतीय अंतिम छोर तक जाने के लिए जहाज से ही जाना पड़ता था। सरकार द्वारा उस पूरे रामसेतु पर 20 किलोमीटर लम्बा हाइवे बनाया गया है जिसपर सब वाहन चल रहे हैं और अंतिम छोर तक बोट से जाने की बाध्यता खत्म हो गई है। रामसेतु पर बने इस 20 किलोमीटर रोड के दोनों तरफ उत्ताल समुद्र उछाल मारता है।

धनुषकोड़ी अर्थात “रामसेतु” का भारतीय अंतिम छोर जो जमीन तल पर है, उसके आगे का रामसेतु सागर की लहरों के नीचे है, पर धनुष्कोडी के थोड़ा आगे आगे तीन द्वीप जैसे दिखते हैं जो रामसेतु का ही अंग हैं।
पहले असली धनुष्कोडी तक जाना इतना कठिन था कि गाइड लोग तीर्थयात्रियों को विभीषण मन्दिर तक ही लेकर जाते थे, जो कि धनुष्कोडी से 11 किलोमीटर पहले ही पड़ जाता है। वो लोग उसी को रामसेतु का अंतिम छोर बता देते थे, उसी को धनुष्कोडी कह दिया करते थे, जबकि यह गलत था। ज्यादातर लोग धनुष्कोडी जा ही नहीं पाते थे। मोदी सरकार द्वारा यह अति अद्भुत और महत्वपूर्ण कार्य हुआ है।
अब आसानी से धनुष्कोडी तक रामसेतु के ऊपर बनी रोड से जा सकते हैं जिस रोड के दोनों तरफ समुद्र है। पूर्व राष्ट्रपति श्री एपीजे अब्दुल कलाम का स्मारक भी एक राष्ट्रीय धरोहर के रूप में विकसित किया गया है।

इस फोटो में आप देख सकते हैं, रेत वाला हिस्सा धनुष्कोडी है जो रामसेतु की अंतिम छोर है। इससे 11 किमी पहले विभीषण मन्दिर पड़ता है। धनुष्कोडी के आगे समुद्र के पानी में उथला हुआ रामसेतु है।

और कुछ लोग कहते हैं कि मोदी जी कुछ कर नहीं रहे।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मुट्ठी भर लोग!


मुट्ठी भर लोग! :
साहस पर कहानी

हर साल गर्मी की छुट्टियों में नितिन अपने दोस्तों के साथ किसी पहाड़ी इलाके में माउंटेनियरिंग के लिए जाता था. इस साल भी वे इसी मकसद से ऋषिकेश पहुंचे.

गाइड उन्हें एक फेमस माउंटेनियरिंग स्पॉट पर ले गया. नितिन और उसके दोस्तों ने सोचा नहीं था कि यहाँ इतनी भीड़ होगी. हर तरफ लोग ही लोग नज़र आ रहे थे.

एक दोस्त बोला, ” यार यहाँ तो शहर जैसी भीड़ है…यहाँ चढ़ाई करने में क्या मजा??”

“क्या कर सकते हैं… अब आ ही गए हैं तो अफ़सोस करने से क्या फायदा…चलो इसी का मजा उठाते हैं…”, नितिन ने जवाब दिया.

सभी दोस्त पर्वतारोहण करने लगे और कुछ ही समय में पहाड़ी की चोटी पर पहुँच गए.

वहां पर पहले से ही लोगों का तांता लगा हुआ था. दोस्तों ने सोचा चलो अब इसी भीड़ में दो-चार घंटे कैम्पिंग करते हैं और फिर वापस चलते हैं. तभी नितिन ने सामने की एक चोटी की तरफ इशारा करते हुए कहा, “रुको-रुको… ज़रा उस चोटी की तरफ भी तो देखो… वहां तो बस मुट्ठी भर लोग ही दिख रहे हैं… कितना मजा आ रहा होगा… क्यों न हम वहां चलें.”

“वहां!”, एक दोस्त बोला, “अरे वहां जाना सबके बस की बात नहीं है… उस पहाड़ी के बारे में मैंने सुना है, वहां का रास्ता बड़ा मुश्किल है और कुछ लकी लोग ही वहां तक पहुँच पाते हैं.”

बगल में खड़े कुछ लोगों ने भी नितिन का मजाक उड़ाते हुए कहा,” भाई अगर वहां जाना इतना ही आसान होता तो हम सब यहाँ झक नहीं मार रहे होते!”

लेकिन नितिन ने किसी की बात नहीं सुनी और अकेला ही चोटी की तरफ बढ़ चला. और तीन घंटे बाद वह उस पहाड़ी के शिखर पर था.

वहां पहुँचने पर पहले से मौजूद लोगों ने उसका स्वागत किया और उसे एंकरेज किया.

नितिन भी वहां पहुँच कर बहुत खुश था अब वह शांति से प्रकृति की ख़ूबसूरती का आनंद ले सकता था.

जाते-जाते नितिन ने बाकी लोगों से पूछा,”एक बात बताइये… यहाँ पहुंचना इतना मुश्किल तो नहीं था, मेरे ख़याल से तो जो उस भीड़-भाड़ वाली चोटी तक पहुँच सकता है वह अगर थोड़ी सी और मेहनत करे तो इस चोटी को भी छू सकता है…फिर ऐसा क्यों है कि वहां सैकड़ों लोगों की भीड़ है और यहाँ बस मुट्ठी भर लोग?”

वहां मौजूद एक वेटरन माउंटेनियर बोला, “क्योंकि ज्यादातर लोग बस उसी में खुश हो जाते हैं जो उन्हें आसानी से मिल जाता…वे सोचते ही नहीं कि उनके अन्दर इससे कहीं ज्यादा पाने का पोटेंशियल है… और जो थोड़ा पाकर खुश नहीं भी होते वे कुछ अधिक पाने के लिए रिस्क नहीं उठाना चाहते… वे डरते हैं कि कहीं ज्यादा के चक्कर में जो हाथ में है वो भी ना चला जाए… जबकि हकीकत ये है कि अगली चोटी या अगली मंजिल पाने के लिए बस जरा से और एफर्ट की ज़रुरत पड़ती है! पर साहस ना दिखा पाने के कारण अधिकतर लोग पूरी लाइफ बस भीड़ का हिस्सा ही बन कर रह जाते हैं… और साहस दिखाने वाली उन मुट्ठी भर लोगों को लकी बता कर खुद को तसल्ली देते रहते हैं.”

Friends, अगर आप आज तक वो अगला साहसी कदम उठाने से खुद को रोके हुए हैं तो ऐसा मत करिए क्योंकि-

अगली चोटी या अगली मंजिल पाने के लिए बस जरा से और एफर्ट की ज़रुरत पड़ती है!

खुद को उस effort को करने से रोकिये मत … थोडा सा साहस… थोड़ी सी हिम्मत आपको भीड़ से निकाल कर उन मुट्ठी भर लोगों में शामिल कर सकती है जिन्हें दुनिया lucky कहती है.

Posted in Uncategorized

अनजाने कर्म का फल


अनजाने कर्म का फल

एक राजा ब्राह्मणों को लंगर में महल के आँगन में भोजन करा रहा था ।
राजा का रसोईया खुले आँगन में भोजन पका रहा था ।
उसी समय एक चील अपने पंजे में एक जिंदा साँप को लेकर राजा के महल के उपर से गुजरी ।
तब पँजों में दबे साँप ने अपनी आत्म-रक्षा में चील से बचने के लिए अपने फन से ज़हर निकाला ।
तब रसोईया जो लंगर ब्राह्मणो के लिए पका रहा था, उस लंगर में साँप के मुख से निकली जहर की कुछ बूँदें खाने में गिर गई ।
किसी को कुछ पता नहीं चला ।
फल-स्वरूप वह ब्राह्मण जो भोजन करने आये थे उन सब की जहरीला खाना खाते ही मौत हो गयी ।
अब जब राजा को सारे ब्राह्मणों की मृत्यु का पता चला तो ब्रह्म-हत्या होने से उसे बहुत दुख हुआ ।

ऐसे में अब ऊपर बैठे यमराज के लिए भी यह फैसला लेना मुश्किल हो गया कि इस पाप-कर्म का फल किसके खाते में जायेगा …. ???
(1) राजा …. जिसको पता ही नहीं था कि खाना जहरीला हो गया है ….
या
(2 ) रसोईया …. जिसको पता ही नहीं था कि खाना बनाते समय वह जहरीला हो गया है ….
या
(3) वह चील …. जो जहरीला साँप लिए राजा के उपर से गुजरी ….
या
(4) वह साँप …. जिसने अपनी आत्म-रक्षा में ज़हर निकाला ….

बहुत दिनों तक यह मामला यमराज की फाईल में अटका (Pending) रहा ….

फिर कुछ समय बाद कुछ ब्राह्मण राजा से मिलने उस राज्य मे आए और उन्होंने किसी महिला से महल का रास्ता पूछा ।
उस महिला ने महल का रास्ता तो बता दिया पर रास्ता बताने के साथ-साथ ब्राह्मणों से ये भी कह दिया कि “देखो भाई ….जरा ध्यान रखना …. वह राजा आप जैसे ब्राह्मणों को खाने में जहर देकर मार देता है ।”

बस जैसे ही उस महिला ने ये शब्द कहे, उसी समय यमराज ने फैसला (decision) ले लिया कि उन मृत ब्राह्मणों की मृत्यु के पाप का फल इस महिला के खाते में जाएगा और इसे उस पाप का फल भुगतना होगा ।

यमराज के दूतों ने पूछा – प्रभु ऐसा क्यों ??
जब कि उन मृत ब्राह्मणों की हत्या में उस महिला की कोई भूमिका (role) भी नहीं थी ।
तब यमराज ने कहा – कि भाई देखो, जब कोई व्यक्ति पाप करता हैं तब उसे बड़ा आनन्द मिलता हैं । पर उन मृत ब्राह्मणों की हत्या से ना तो राजा को आनंद मिला …. ना ही उस रसोइया को आनंद मिला …. ना ही उस साँप को आनंद मिला …. और ना ही उस चील को आनंद मिला ।
पर उस पाप-कर्म की घटना का बुराई करने के भाव से बखान कर उस महिला को जरूर आनन्द मिला । इसलिये राजा के उस अनजाने पाप-कर्म का फल अब इस महिला के खाते में जायेगा ।

बस इसी घटना के तहत आज तक जब भी कोई व्यक्ति जब किसी दूसरे के पाप-कर्म का बखान बुरे भाव से (बुराई) करता हैं तब उस व्यक्ति के पापों का हिस्सा उस बुराई करने वाले के खाते में भी डाल दिया जाता हैं ।

अक्सर हम जीवन में सोचते हैं कि हमने जीवन में ऐसा कोई पाप नहीं किया, फिर भी हमारे जीवन में इतना कष्ट क्यों आया …. ??

*ये कष्ट और कहीं से नहीं, बल्कि लोगों की बुराई करने के कारण उनके पाप-कर्मो से आया होता हैं जो बुराई करते ही हमारे खाते में ट्रांसफर हो जाता हैं ।

सुबोध महेरा

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक चीन का व्यापारी भारत आ


.एक चीन का व्यापारी भारत आया ! उसने दिग्विजय सिंह से कहा, श्रीमान जी ! मै होटल में नहीं ठहरता और होटल का नहीं खाता, अगर आप मुझे अपने घर में ठहराए और खाना खिलाये तो मै आपको इसका शुल्क अदा करूँगा ! दिग्विजय सिंह ने कहा शुल्क की कोई बात नहीं आप जितने दिन चाहो मेरे घर ठहर सकते हो ! चीनी व्यापारी १०-१५ दिनों में अपना काम निपटा कर जाने से पहले एक बड़ी रकम देनी चाही लेकिन दिग्विजय सिंह ने मना कर दिया और कहा जब भी भारत आओ, मेरे घर ही आजाओ ! व्यापारी चला गया और सोचा की उस भारतीय ने मेरी अच्छी सेवा की और कुछ नहीं लिया, कोई अच्छा सा तोहफा भेज देता हूँ ये सोच कर चीन की प्रसिद्द चाय का एक बड़ा सा पार्सल भेज दिया ! पार्सल खोल कर दिग्विजय सिंह बहुत खुश हुआ की ये तो बहुत चाय है ४-५ साल तक मजे से पियेंगे ! हर दिन चटकारे ले ले कर चाय पीते है सब घर वाले लेकिन चाय की पत्ती ख़तम होने का नाम ही नहीं लेती ! एक साल गुजर गया और वो चीन का व्यापारी भारत आगया ! दिग्विजय सिंह ने बहुत गरम जोशी से उसका स्वागत किया और आते ही चाय बना कर पिलाई ! उसने चाय पीते हुए पूछा की मैंने एक चाय की पार्सल भेजी थी मिली आपको ? जी हाँ मिली और वो ही चाय है ये ! चीनी का माथा ठनका ! क्या बकवास करते हो ? मैंने ये चाय भेजी थी? कहा है वो मेरी पार्सल दिखाओ ? अन्दर लेजाकर वो बॉक्स दिखाया बॉक्स कुछ ही खाली हुआ था चीनी व्यापारी ने बॉक्स में निचे तक हाथ डाला और अन्दर से एक कांच का जार निकाला जिसमे चाय की पत्ती थी और कहा की चाय ये है कांच का जार टूट न जाये इस लिए वो कचरा दाल कर पैक किया था और वो कचरा तुम एक साल से पी रहे हो. आगे उसने कहा मैंने फेस बुक पर तुमरे बारे में बहुत पढ़ा था लेकिन मैंने वो सब बाते नहीं मानी ! अब तो यकीं हो गया है की फेस बुक वाले सही लिखते है !