Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

હાસ્યનો અવતાર


વિનોદ ની કલમે*
✒લેખક: *વિનોદ ભટ્ટ*
*સૌજન્ય:*
http://www.readgujarati.com/

*હાસ્યનો અવતાર*

અમે નાના હતા ત્યારે અકબર બાદશાહ અને બીરબલની વાર્તાઓ બહુ જ રસપૂર્વક વાંચતા, સાંભળતા ને કોઈ હૈયાફૂટો અડફેટે ચડી જાય તો તેને સંભળાવતા પણ ખરા. અમારે મન બીરબલ હાસ્યસમ્રાટ હતો. સાચો રાજા અમને બીરબલ લાગતો; અકબર નહિ. બીરબલે અમારા પર જબરી ભૂરકી નાખેલી. આ બીરબલ રસ્તામાં મળ્યો હોય તો કેવો લાગે એવું હું મારા નાનકડા મનને પૂછયા કરતો.

– ને કો એક સભામાં શ્રોતાઓના સવાલોના તત્ક્ષણ જવાબ આપી તેમને ખડખડાટ હસાવતા જ્યોતિન્દ્રભાઈને સાંભળ્યા એ જ ક્ષણે કલ્પનાનો પેલો બીરબલ જ્યોતિન્દ્રનો દેહ ધરવા માંડ્યો !

જ્યોતીન્દ્રને હું હાસ્યનો અવતાર જ ગણું છું. જ્યોતીન્દ્રનો પરિચય આપતાં એક સભામાં ઉમાશંકરે કહેલું : ‘જ્યોતીન્દ્રભાઈ હવે તો હાસ્યના પર્યાય તરીકે ઓળખાય છે. મને હસવું આવે છે એમ કહેવાને બદલે મને જ્યોતીન્દ્ર આવે છે એમ કહેવું જોઈએ….’
આનો વિરોધ કરતાં જ્યોતીન્દ્રે ઉમાશંકરના કાનમાં એ જ વખતે કહેલું : ‘આ બાબતમાં મારી પત્નીને પૂછવું પડે…’ જ્યોતીન્દ્રને વાંચવાનો જેટલો આનંદ છે એટલો જ, બલકે એથી યે અદકો, આનંદ તો એમને સાંભળવાનો છે. હાસ્યકાર બધું જ હસી કાઢતો હોય છે, એવું આપણને આ હાસ્યકારને વાંચતાં કદાચ લાગે; પણ જ્યોતીન્દ્રને મળવાથી જુદો જ અનુભવ થાય. એમની પાસે બેઠા હોઈએ ત્યારે જાણે કોઈ જ્ઞાનની પરબે બેઠા હોઈએ એવું જ લાગ્યા કરે. આમ તો એ પંડિત-પેઢીના લેખક છે. છતાં પોતાના જ્ઞાનથી કોઈનેય આંજી દેવાનો પ્રયાસ એ ક્યારેય નથી કરતા. પંડિતાઈનો એમના માથે ખોટો ભાર નથી. હા, પંડિતાઈને વચ્ચે લાવ્યા વગર પોતાના લખાણમાં પંડિતાઈનો ઉપયોગ સરસ રીતે કરી શકે છે. સંગીતથી માંડીને બંદૂક સુધી ને વૈદકથી માંડીને સ્ટ્રિપ ટીઝ સુધીના બધા વિષયો પર તમને છક કરી દે એટલું જ્ઞાન તે ધરાવે છે.

તત્ક્ષણ જવાબ આપવામાં તો જ્યોતિન્દ્રનો જોટો જડવો મુશ્કેલ છે. કેવળ ગમ્મત ખાતર મેં કેટલાક હાસ્યલેખકોના ઈન્ટરવ્યૂ લીધેલા. એમાં હું જ્યોતીન્દ્ર પાસે ગયો ત્યારે એ બીમાર હતા. પથારીમાં સુતા’તા. શરીરે વધારે કૃશ દેખાતા. મને જોઈને ‘આવો’ કહી એ ઊભા થઈ ગયા અને શર્ટ પર તેમણે કોટ પહેરી લીધો. મને આશ્ચર્ય થયું. કદાચ બહાર તો નહિ જવાના હોય ! હું વગર ઍપોઈન્ટમેન્ટે ગયેલો. મેં સંકોચથી પૂછયું : ‘આપ ક્યાંય બહાર જાઓ છો ?’
‘ના… આ તો મને બરાબર જોઈ શકો એ માટે કોટ પહેરી લીધો !’
‘તમારો ઈન્ટરવ્યૂ લેવા આવ્યો છું.’
‘ભલે, લઈ લો.’ ખૂબ સ્વાભાવિકતાથી તે બોલ્યા. મેં તેમને માટે તૈયાર કરેલો પ્રશ્નપત્ર તેમની આગળ ધર્યો. ને મેં પ્રશ્નો પૂછવા માંડ્યા. મારો પ્રશ્ન પૂરો થાય ત્યાં તો એ ફટાફટ ઉત્તર આપી દેતા. એમાંની કેટલીક પ્રશ્નોત્તરી આ પ્રમાણેની હતી.
‘તમે શા માટે લખો છો ?’
‘લખવા માટે… અક્ષરો સુધરે એ માટે !’
‘તમે હાસ્યલેખક જ કેમ થયા ?’
‘સાહિત્યના બીજા પ્રકારોમાં શ્રેષ્ઠ જગ્યા ખાલી નહોતી. આમાં ખાલી જગ્યા જોઈને ઘૂસી જવાનો પ્રયાસ કર્યો. ભીડ ઓછી, જગ્યા મોટી; મારું શરીર નાનું ને ચાલ ઝડપી; એટલે થોડા સમયમાં ને ઝડપથી પહોંચી જવાશે એમ વિચારી પ્રયત્ન કર્યો. હજી પહોંચી શક્યો નથી.’
‘તમે હાસ્યલેખક છો એવી ખબર પહેલીવહેલી તમને ક્યારે પડી ?’
‘મારા વિવેચનનો ગંભીર લેખ વાંચીને ત્રણચાર મિત્રોએ ‘અમને તમારો લેખ વાંચીંને બહુ હસવું આવ્યું’ એમ કહ્યું ત્યારે.’
‘હાસ્યલેખકે લગ્ન કરવું જોઈએ એમ તમે માનો છો ?’ મેં પૂછયું.
‘હા….. કારણકે હાસ્ય અને કરુણ રસ પાસે પાસે છે, એ સમજાય એ માટે હાસ્યલેખકે લગ્ન તો કરવાં જ રહ્યાં.’
‘તમારા કોઈ ઓળખીતા સ્વજન ગુજરી ગયા હોય તો એના બેસણામાં જઈને એને આશ્વાસન કેવી રીતે આપશો ?’
‘એ તો ગયા, પણ તમે તો રહ્યા ને ? – એમ કહીને (પણ કહેતો નથી).’

હસવા-હસાવવાની વાત થોડીવાર માટે બાજુએ મૂકીને વ્યવહારુ દ્રષ્ટિએ જોઈએ તો જ્યોતીન્દ્ર જેવો બીજો અવ્યવહારુ – નિ:સ્પૃહી માણસ ભાગ્યે જ જડે. ગીતાની, ‘કર્મણ્યેવાધિકારસ્તે’ની ફિલસૂફી એમણે બરાબર પચાવી છે. તમે એમની પાસે લેખ મંગાવો, પ્રસ્તાવના મંગાવો, એ તમને લખી મોકલી આપે – વિદ્યાર્થી લેસન કરે છે એ રીતે… બસ, પતી ગયું. એમનું કામ પૂરું થયું. પછી એ લેખ તમે છાપ્યો કે નહિ, એમની પ્રસ્તાવના લખાયેલ પુસ્તકની નકલ તમે મોકલી કે નહિ કે પુરસ્કાર કેટલો આપવના છો એ વિશે એમના તરફથી કોઈ જ પત્ર તમને નહિ મળે. ભાષણ કરવા લઈ જનાર ટ્રેનના ફર્સ્ટ કલાસમાં બેસાડે છે કે સેકન્ડ કલાસમાં એય તેમણે જોયું નથી. કશાની જાણે પડી જ નથી, સ્પૃહા જ નથી !

એકવાર જ્યોતીન્દ્ર કોઈ કૉલેજમાં ભાષણ કરવા ગયા. કૉલેજના પ્રિન્સિપાલે તેમનો પરિચય આપતાં કહ્યું : ‘જ્યોતીન્દ્રભાઈ ભાષણ કરતા હોય ત્યારે કોઈની મગદૂર છે કે હસ્યા વગર રહી શકે ?’
કૉલેજનો એક વિદ્યાર્થી જરા વધુ સ્માર્ટ હતો. તે વચ્ચે જ બોલ્યો : ‘બોલો, એ મને હસાવી ના શકે.’ પ્રિન્સિપાલ જેવા પ્રિન્સિપાલ પણ એક વિદ્યાર્થીની જાહેરાતથી ચોંકી ગયા. પછી એ વિદ્યાર્થીને સ્ટેજ પર જ્યોતીન્દ્રની બાજુમાં ઊભો રાખવામાં આવ્યો. જ્યોતીન્દ્રે બોલવાનું શરૂ કર્યું. બધા જ વિદ્યાર્થીઓ હસતા’તા; નહોતો હસતો પેલો છોકરો. દાંત ભીંસીને તે ઊભો રહ્યો હતો. તે નહિ હસવાની જીદ્દ પર આવી ગયો હતો. અરધોપોણો કલાક જ્યોતીન્દ્રે બૉલિંગ કરી, બૉલ સ્પિન કર્યાં, પણ કેમેય કર્યો પેલો બૅટ ઊંચકે જ નહિ – હસે જ નહિ. ભાષણ પૂરું કરવાનો સમય પણ થઈ ગયો. છેલ્લી ઓવરના છેલ્લા બૉલની જેમ જ્યોતીન્દ્રે છેલ્લું વાક્ય કહ્યું : ‘આ ભાઈ આજે તો શું ક્યારેય નહિ હસે….. એ કેમ નહિ હસે એનું સાચું કારણ હું જ જાણું છું : એમને બીક છે કે એમના પીળા દાંત કદાચ તમે બધા જોઈ જશો.’ – ને પેલો ફૂઉઉઉઉઉ…. કરતો હસી પડ્યો !

ઘણાબધા હાસ્યલેખકો વાંચ્યા છે, માણ્યા છે, હાલમાં હાસ્યનું લખતા ઘણાખરા તો મારા મિત્રો પણ છે; પણ જ્યોતીન્દ્ર જેટલી ‘હાઈટ’ મને ક્યાંય દેખાઈ નથી

——————————–

ટીમ
✍🏼
*Limited 10પોસ્ટ* વતી
કવિતા મહેતા

Posted in हास्यमेव जयते

હાસ્યકાર વિનોદ ભટ્ટની હાસ્ય કૃતિઓ


તેમનો જન્મ ૧૪ જાન્યુઆરી, ૧૯૩૮ ગુજરાતનાં નાંદોલ ખાતે થયો હતો. તેમણે ૧૯૫૫માં એસ.એસ.સી. ઉત્તિર્ણ કર્યું અને ૧૯૬૧માં અમદાવાદની એચ.એલ. કોમર્સ કોલેજમાંથી સ્નાતક થયા હતા. પછીથી તેઓ એલ.એલ.બી.ની પદવી મેળવી હતી. તેઓ વ્યવસાયે વેરા સલાહકાર છે. ૧૯૯૬ થી ૧૯૯૭ દરમિયાન તેઓ ગુજરાતી સાહિત્ય પરિષદના પ્રમુખ રહ્યા હતા. તેમની કટાર મગનું નામ મરી ગુજરાત સમાચારમાં પ્રસિદ્ધ થતી હતી જે પાછળથી દિવ્ય ભાસ્કરમાં ઇદમ તૃતિયમ તરીકે પ્રસિદ્ધ થઇ હતી.[૧][૨]

૨૩ મે, ૨૦૧૮ના રોજ અમદાવાદ ખાતે લાંબી બીમારી પછી તેમનું અવસાન થયું હતું.[૩][૪]

હાસ્યકાર વિનોદ ભટ્ટની હાસ્ય કૃતિઓ.

૧ “પહેલું સુખ તે મૂંગી નાર (૧૯૮૨)

૨ “આજની લાત’ (૧૯૭૭)

૩ “અરહસ્ય કથાઓ (૧૯4૮)

૪ ‘વિનોદ ભટ્ટ (વિ)કૃત શાકુન્તલ’ (૧૯૭૦)

૫ ‘વિનોદ ભટ્ટના પ્રેમપત્રો’ (૧૯૭૨)

૬ “ઈદમ્‌ તૃતીયમ્‌’ (૧૯૭૩)

૭ ‘“ઈદમૂચતુર્થમ્‌’ (૧૯૭૫)

૮ “સુનો ભાઈ સાધો’ (૧૯૭૭)

૯ ડ’વિનોદની નજરે’ (૧૯૭૯)

૧૦ “અને હવે ઇતિ-હાસ’ (૧૯૮૧)

૧૧ “આંખ આડા કાન’ (૧૯૮૨)

૧૨ “ગ્રંથ ગરબડ’ (૧૯૮૩)

૧૩ “નરો વા કુંજરો વા’ (૧૯૮૪)

૧૪ “અમદાવાદ એટલે અમદાવાદ’ (૧૯૮૫)

૧૫ ‘વિનોદ વિમર્શ’ (૧૯૮૭)

૧%૬ “ભૂલ ચૂક લેવી દેવી’ (૧૯૯૦)

૧૭ “વગેરે વગેરે વગેરે’ (૧૯૯૨)

૧૮ “અથથી ઇતિ’ (૧૯૯૨)

૧૯ શપ્રસંગોપાત’ (૧૯૯૩)

૨૦ ‘“કારણકે’ (૧૯૯૪)

૨૧ ‘દિલ્હીથી દોલતાબાદ’ (૧૯૯૭)

૨ર૨ “પ્રભુને ગમ્યું તે ખરું’ (૧૯૯૭)

૨૩ “એવારે અમે એવા’ (૧૯૯૯)

૨૪ ‘“હાસ્યોપચાર’ (૨૦૦૦)

૨૫ “મગનું નામ મરી’ (૨૦૦૧)

૨%£ ‘વિનોદલક્ષી વ્યકિતચિત્રો’ (૨૦૦૨)

૨૭ “નમુ તે હાસ્યબ્રહ્મને’ (૨૦૦૩)

૨૮ “મંગળ-અમંગળ’ (૨૦૦૩)

૨૯ “વિનોદી જીવનચિત્રો’ (૨૦૦૩)

૩૦ ‘વિનોદ મેળો (૨૦૦૩)

૩૧ “પહેલું સુખ માંદા પડયા (૨૦૦૪)

Posted in हास्यमेव जयते

हास्य-व्यंग के गुजराती,हिंदी और अग्रेजी १०० से ज्यादा किताबे.


જીવનમાં હાસ્યનું મહત્વ – હસે એનું ઘર વસે.

નીચે આપેલા મારી લાયબ્રેરી ના પુસ્તકો વાંચવા યોગ્ય છે.

क्रमांकगुजराती, हिंदी और अग्रेजी हास्य माला ना पुस्तकों
  
151 High-Tech Practical Jokes For The Evil Genius
2101 Pet Jokes
3777 Great Clean Jokes – Jennifer Hahn
41000 Jokes
54000 Decent Very Funny Jokes
6An Encyclopedia of Humor
7Blonde Jokes
8Funny In Farsi
9God Loves Golfers Best The Best Jokes
10Hammer and Tickle
11I Funny
12Jokes and Targets
13Jokes Have a Laugh and Improve Your English
14Make me laugh – Classy jokes that make the crade
15Make me laugh – Don’t kid yourself relatively great (family) jokes
16Make me laugh – Ivan to Make You Laugh. Jokes and Novel, Nifty, and Notorious Names
17Make me laugh – Magical Mischief Jokes That Shock And Amaze
18Plato and a Platypus Walk into a Bar
19Practical Jokes Heartless Hoaxes and Cunning Tricks
20Reader s Digest International April 2015 
21Reader’S Digest 2007-09 – Sep 2007 – Laugh Riot
22Reader’s Digest USA – December 2013
23Really Bad Dad Jokes More Than 400 Unbearable Groan-Inducing Wise_s Sure to Make You the Funniest Father With a Quip.epub
24Really Bad Dad Jokes More Than 400 Unbearable Groan-Inducing Wise_s Sure to Make You the Funniest Father With a Quip
25The Best Jokes 500 – Funniest Dirty Jokes For Adults 2017 Funny Short Stories and One-Line Jokes. Ultimate Edition
26The Best Jokes of All Time
27The Bumper B3ta Book of Sick Jokes – Rob Manuel
28The Little Book of Chav Jokes – Lee Bok
29The New Oxford Book of Literary Anecdotes
30The Ultimate Book of Dad Jokes 1,001+ Punny Jokes Your Pops Will Love Telling Over and Over and Over.epub
31The Worlds Funniest Proverbs
32Toaster’s handbook
33Truth Be Told Off the Record about Favorite Guests, Memorable Moments, Funniest Jokes
34…ત્યારે લખી શું શું
35अकबर बीरबल विनोद
54अजी सुनो
36अस्सी तोला सोना
37आओ, हंसें एक साथ
38आधुनिक हिंदी हास्य-व्यंग
39आधुनिक हिन्दी हास्य – व्यंग्य 1
40उर्दू का बेहतरीन हास्य व्यंग
41एक गधे की जनम कुंडली
42और अंत में
43कान पकड़े
44चटपटे चुटकुले – ०१
45चटपटे चुटकुले – ०२
46चमचागीरी
47चुल्लू भर पानी
48जादू की सरकार
49जी० पी० श्रीवास्तव की कृतियों में हास्य विनोद
50नाक में दम
51न्याय व्यवस्था पर व्यंग
52पंजाबी के चुने हुए हास्य -व्यंग्य
53पुरस्कृत बाल-हास्य एकांकी
54प्रतिनिधि हास्य कहानियाँ
55फुलझड़ियाँ
56बाज़ार का ये हाल है
57भारतेन्दुकालीन व्यंग-परम्परा
58मेरी श्रेष्ठ व्यंग्य रचनाएँ
59यत्रम-तत्रम
60रंग तरंग
61लगंडी भिन्न
62लबड़घोंघों
63व्यंग्य विधा के पारिप्रेक्ष्य में हरिशंकर परसाई साहित्य का मूल्यांकन
64सदाचार का तावीज़
65हमारे साहित्य में हास्य रस
66हरिसंकर परसाईं की व्यंग रचनाए
67हास परिहास
68हास्य का इन्द्रधनुष
69हास्य की रूपरेखा
70हास्य के सिद्धान्त
71हास्य-मंजरी
72हास्य-मन्दाकिनी
73हास्य-रस की कहानियाँ
74हास्य-रस
75हास्य-विनोद का महत्व विल रॉजर्स की कहानी
76हास्य-विनोद-कथा-संग्रह
77हास्यास्पद अंगरेजी भाषा
78हिंदी नाटको में हास्य व्यंग
79हिंदी साहित्य में हास्य रस 1
80हिंदी साहित्य में हास्य रस
81हिंदी हास्य व्यंग संकलन
82हिंदी हास्य-व्यंग संकलन
83हिन्दी नाटकों में हास्य तत्त्व
84અર્વાચીન હાસ્યલેખકો – પ્રકરણ-૪ 
85અલ્પાત્માનું આત્મપુરાણ 
86આનંદ કિલ્લોલ
87ગાંધીજીનો વિનોદ
88ગુજરાતી જોક્સ – ભાગ 1
89ગુજરાતી જોક્સ – ભાગ 2
90જન રમુજ વાર્તા સંગ્રહ 
91જોલી જોક્સ
92થોડી હસી થોડી મજાક
93ફીલિંગ્સ 
94બાળકોના જોક્સ
95રંગ તરંગ – ભાગ – ૧ 
96રંગ તરંગ – ભાગ – ૨
97રંગ તરંગ – ભાગ – ૩ 
98રંગ તરંગ – ભાગ – ૪ 
99રમુજમાળા – ભાગ ૧ લો 
100રમુજમાળા – ભાગ ૨ જો 
101રમુજી અને વિચિત્ર સંસ્મરણો
102વાઙમયવિહાર. pdf
103વિનોદ વિહાર 
104વ્યંગ વિનોદ 
105હસતા હસતા સુખીયાં થયા
106હસે તેનું ના ખસે
107હાસ્ય કથા મંજરી – ભાગ ૧ 
108હાસ્ય કથા મંજરી – ભાગ ૨ 
109હાસ્ય દર્પણ
110હાસ્ય ધારા 
111હાસ્ય ફૂલડાં
112હાસ્ય મસ્તી
113હાસ્ય માળા નાં મોતી
114હાસ્ય વિલાપ 
115હાસ્ય વિહાર 
116હાસ્ય હીંડોળ
117હાસ્યલોક
Posted in ज्योतिष - Astrology

10 अशुभ लक्षण, आपको डाल देंगे संकट में…


शीतला दुबे

⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕
10 अशुभ लक्षण, आपको डाल देंगे संकट में…
यह अंधविश्वास हमारे मन में गहराई से बैठे हुए हैं।
हम इन पर विश्वास करते हैं !
⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕⭕
भारत में परंपरा और हजारों सालों के ज्ञान और अनुभव के आधार पर कुछ ऐसी बातें समाज में प्रचलित हैं जो कि आपको हैरत में जरूर डाल देगी, लेकिन आप इन्हें नकार भी नहीं सकते हैं। हो सकता है कि यह अंधविश्वास हो या इनमें कोई रहस्य छुपा हो, लेकिन जान लेने में क्या हर्ज है।
आप इन्हें माना या न माने लेकिन अधिकतर लोग तो इस पर विश्वास करते हैं। यह हम नहीं जानते कि यह सही है या नहीं, लेकिन प्राचीनकाल से ही लोक परंपरा और स्थानीय लोगों की मान्यताओं पर आधारित इन बातों को आज भी लोग सही मानते हैं। उन हजारों बातों में से कुछ बातें ऐसी है जो आपकी जिंदगी और मौत से जुड़ी हुई है। उन्हीं बातों से से 10 खास बातें जानिए…
⭕⭕⭕
नाक का न दिखाई देना : ऐसा माना जाता है कि यदि आपकी नाक आपको दिखाई देना बंद हो जाए तो समझिए कि मौत निकट ही है या आप किसी गंभीर बीमारी के शिकार हो गए हैं। यह मान्यता भी है कि सीधे खड़े होकर यदि आपको आपके घुटने दिखाई नहीं देते हैं तो आपका शरीर खतरनाक स्थिति में है।
⭕⭕⭕
दरअसल, आप अनियमित जीवन शैली जी रहे हैं, लगातर तनाव में रहते हैं तो आपकी श्वास प्रक्रिया बदल जाती है। श्वास प्रक्रिया के बदलने से आपक कई तरह की गंभीर रोगों का शिकार हो सकते हैं। नाक का दिखाई देना बंद होने का मतलब है कि आपकी शक्ति का तेजी से क्षरण हो रहा है। आपकी तोंद निकल गई है जो आपको आपके घुटने दिखना बंद हो जाएंगे। तो निश्चित ही ऐसे में कृपया आप तुरंत ही खानपान पर रोक लगाकर योग करना शुरू कर दें।
⭕⭕⭕
सीटी बजाने का मतलब संकट को बुलाना : ऐसा कहते हैं कि घर में या रात में सीटी नहीं बजाना चाहिए। इससे एक ओर जहां धन की हानि होती हैं वहीं आप किसी अंजान संकट को भी बुलावा देने हैं।
⭕⭕⭕
यह भी माना जाता है कि रात में सीटी बजाने से बुरी आत्माएं सक्रिय हो जाती हैं। हालांकि यह धारणा जापान से भारत में प्रचलित हो गई है। भारत में रात में सीटी बजाना अशुभ एवं सांप को बुलाने वाला माना जाता है। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि सीटी बजाने से भैरव और शनिदेव रुष्ठ हो जाते हैं। अब इसमें कितनी सत्यता है यह तो हम नहीं जानते।

सुनसान स्थान पर पेशाब करना : ऐसा माना जाता है कि किसी सुनसान या जंगल की किसी विशेष भूमि कर पेशाब कर देने से भूत पीछे लग जाता है।
⭕⭕⭕
ऐसे में कुछ लोग पहले थूकते हैं फिर पेशाब करते हैं और कुछ लोग कोई मंत्र वगैरह पढ़कर ऐसा करते हैं। साथ ही लोग नदी, पुल या जंगल की पगडंडी पर पेशाब नहीं करते। भोजन के बाद पेशाब करना और उसके बाद बाईं करवट सोना बड़ा हितकारक है।
⭕⭕⭕
अन्य मान्यता :
नदी, पूल या जंगल की पगडंडी पर पेशाब नहीं करते।
मान्यता अनुसार एकांत में पवित्रता का ध्यान रखते हैं और पेशाब करने के बाद धेला अवश्य लेते हैं। उचित जगह देखकर ही पेशाब करते हैं।
भोजन के बाद पेशाब करना और उसके बाद बाईं करवट सोना बड़ा हितकारक है।
⭕⭕⭕
जूते-चप्पल का उल्टा होना : जूते-चप्पल उल्टे हो जाए तो आप मानते हैं कि किसी से लड़ाई-झगड़ा हो सकता है?ऐसा माना जाता है कि घर के बारह रखे जूते या चप्पल यदि उल्टे हो जाएं तो उन्हें तुरंत सीधा कर देना चाहिए अन्यथा आपकी किसी से लड़ाई होने की संभावना बढ़ जाती है।
⭕⭕⭕⭕
ऐसा होने से बचने के लिए चप्पल उल्टी हुई है तो एक चप्पल से दूसरी चप्पल को मारकर सीधा रखने का अंधविश्वास है। इसी तरह जूते के साथ भी किया जाता है।
⭕⭕
जूते से जुड़े अन्य अंधविश्वास :
जूते या चप्पल को कई लोग नजर और अनहोनी से बचने का टोटका भी मानते हैं इसीलिए वे अपनी गाड़ी के पीछे निचले हिस्से में जूता लटका देते हैं।
कुछ लोग मानते हैं कि शनिवार को किसी मंदिर में चप्पल या जूते छोड़कर आ जाने से शनि का बुरा असर समाप्त हो जाता है।
जूता सुंघाने से मिरगी का दौरा शांत हो जाता है।
⭕⭕
हड्डी बजाना : इसे हड्डी तोड़ना, चटकाना या कटकाना भी कहते हैं। अक्सर लोग अपनी अंगुलियों की हड्डियों को चटकाते हैं जिसे खोड़ले लक्षण कहते हैं। माना जाता है कि ऐसा करने वाले के हाथों से लक्ष्मी चली जाती है।
⭕⭕
अब लक्ष्मी जाती है या नहीं यह तो नहीं मालूम लेकिन कई लोगों को अपने शरीर के हर जगह की हड्डी चटकाने की आदत होती है जिसके चलते एक दिन सभी ज्वाइंट ढीले पड़ जाते हैं और बुढ़ापे में उसकी शक्ति कम हो जाती है। फिर हाथों की अंगुलियों से चाय का कप पकड़ने पर वह हिलेगा।
⭕⭕
इस तरह से हड्डियों को या अंगुलियों को चटकाना काफी नुकसानदेह होता है। जो कि गठिया को जन्म देती है। एक अध्यन के अनुसार हमारी हड्डियां लिगामेंट से एक दूसरे से जुड़ी होती हैं जिसे जोड़ कहते हैं। इन जोड़ों के बीच एक द्रव होता है जो उंगुलियों के चटकने के दौरान कम हो जाता है। ये द्रव जोड़ों में ग्रीस के समान होता है। जो हड्डियों को आपस मे रगड़ खाने से रोकता है। ऐसे में बार-बार अंगुलियों के चटकने से जोड़ों की पकड़ कमजोर हो जाती है। साथ ही हड्डियों के जोड़ पर मौजूद ऊतक भी नष्ट हो जाते हैं जिससे गठिया जैसे रोग हो जाते हैं।
⭕⭕
कुत्तों का लड़ना : आपस में लड़ते हुए कुत्ते दिख जाएं तो व्यक्ति का किसी से झगड़ा हो सकता है। शाम के समय एक से अधिक कुत्ते पूर्व की ओर अभिमुख होकर क्रंदन करें तो उस नगर या गांव में भयंकर संकट उपस्थित होता है।
⭕⭕
यदि आप घर से बाहर कहीं जा रहे हैं और आपके पीछे पीछे कुत्ता भी चल दे तो यह किसी अनहोनी का संकेत हैं। अच्छा है कि आप उधर की यात्रा टाल दें। यह भी माना जाता है कि यदि कुत्ता ऐसा करता है तो आप पर मौत का साया मंडरा रहा है। आप किसी गंभीर बिमारी की चपेट में आने वाले हैं या आपके साथ कोई दुर्घटना होने वाली है। हालांकि यह अंधविश्वास ही माना जाता है।

कुत्ते के रोने को अशुभ क्यों माना जाता है?

-कुत्ते का रोना अशुभ माना जाता है। मान्यता है कि घर के सामने घर की ओर मुंह करके कोई कुत्ता रोए तो उस घर पर किसी प्रकार की विपत्ति आने वाली है या घर के किसी सदस्य की मौत होगी।

कुत्ते से जुड़े अन्य अंधविश्वास :
मान्यता है कि घर के सामने सुबह के समय यदि कुत्ता रोए तो उस दिन कोई भी महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए। यदि किसी मकान की दीवार पर कुत्ता रोते हुए पंजा मारता दिखे तो समझा जाता है कि उक्त घर में चोरी हो सकती है या किसी अन्य तरह का संकट आ सकता है।
यदि कोई व्यक्ति किसी के अंतिम संस्कार से लौट रहा है और साथ में उसके कुत्ता भी आया है तो उस व्यक्ति की मृत्यु की आशंका रहती है अथवा उसे कोई बड़ी विपत्ति का सामना करना पड़ सकता है।
माना जाता है कि पालतू कुत्ते के आंसू आए और वह भोजन करना त्याग दे तो उस घर पर संकट आने की सूचना है।
आप किसी कार्य से बाहर जा रहे हैं और कुत्ता आपकी ओर देखकर भौंके तो आप किसी विपत्ति में फंसने वाले हैं। ऐसे में उक्त जगह नहीं जाना ही उचित माना जाता है।
घर से निकलते समय यदि कुत्ता अपने शरीर को कीचड़ में सना हुआ दिखे और कान फड़फड़ाए तो यह बहुत ही अपशकुन है। ऐसे समय में कार्य और यात्रा रोक देनी चाहिए।
कुत्ता यदि सामने से हड्डी अथवा मांस का टुकड़ा लाता हुआ नजर आए तो अशुभ।
संभोगरत कुत्ते को देखना भी अशुभ माना गया है, क्योंकि इससे आपके कार्य में बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं और परिवार में झगड़ा हो सकता है।
यदि किसी के दरवाजे पर लगातार कुत्ता भौंकता है तो परिवार में धनहानि या बीमारी आ सकती है।
मान्यता है कि कुत्‍ता अगर आपके घुटने सूंघे तो आपको कोई लाभ होने वाला है।
यदि आप भोजन कर रहे हैं और उसी समय कुत्ते का रोना सुनाई दे, तो यह बेहद अशुभ होता है।
⭕⭕⭕
बिल्लियों का लड़ना : बिल्लियों के बारे में बहुत से अशुभ लक्षण बताए गए हैं। काली बिल्ली रास्ता काट ले तो उसे रास्ते पर कई लोग अपना जाना स्थगित कर देते हैं।

इसी तरह कहते हैं कि जिस भवन में या उसके एकदम पास बिल्लियां प्राय: लड़ती रहती हैं वहां शीघ्र ही विघटन की संभावना रहती है विवाद वृद्धि होती है। मतभेद होता है।
⭕⭕
बिल्ली का रास्ता काटना, रोना और आपस में दो बिल्लियों का झगड़ना अशुभ है?

-बिल्ली का रास्ता काटना : माना जाता है कि बिल्ली की छठी इंद्री मनुष्यों की छठी इंद्री से कहीं ज्यादा सक्रिय है जिसके कारण उसे होनी-अनहोनी का पूर्वाभास होने लगता है।
⭕⭕
मान्यता अनुसार काली बिल्ली का रास्ता काटना तभी अशुभ माना जाता है जबकि बिल्ली बाईं ओर रास्ता काटते हुए दाईं ओर जाए। अन्य स्थ‌ित‌ियों में बिल्ली का रास्ता काटना अशुभ नहीं माना जाता है।
⭕⭕
जब बिल्ली रास्ता काटकर दूसरी ओर चली जाती है तो अपने पीछे वह उसकी नेगेटिव ऊर्जा छोड़ जाती है, जो काफी देर तक उस मार्ग पर बनी रहती है। खासकर काली बिल्ली के बारे में यह माना जाता है। हो सकता है कि प्राचीनकाल के जानकारों ने इसलिए यह अंधविश्वास फैलाया हो कि बिल्ली के रास्ता काटने पर अशुभ होता है।

बिल्ली का रोना : बिल्ली के रोने की आवाज बहुत ही डरावनी होती है। निश्‍चित ही इसको सुनने से हमारे मन में भय और आशंका का जन्म होता है। माना जाता है कि बिल्ली अगर घर में आकर रोने लगे तो घर के किसी सदस्य की मौत होने की सूचना है या कोई अनहोनी घटना हो सकती है।
⭕⭕
बिल्ली का आपस में झगड़ना : बिल्लियों का आपस में लड़ना धनहानि और गृहकलह का संकेत है। यदि किसी के घर में बिल्लियां आपस में लड़ रही हैं तो माना जाता है कि शीघ्र ही घर में कलह उत्पन्न होने वाली है। गृहकलह से ही धनहानि होती है।
⭕⭕
बिल्ली से जुड़े अन्य अंधविश्वास :
लोक मान्यता है कि दीपावली की रात घर में ब‌िल्ली का आना शुभ शगुन होता है।
बिल्ली घर में बच्चे को जन्‍म देती है तो इसे भी अच्छा माना जाता है।
किसी शुभ कार्य से कहीं जा रहे हों और बिल्ली मुंह में मांस का टुकड़ा लिए हुए दिखाई दे तो काम सफल होता है।
लाल किताब के अनुसार बिल्ली को राहु की सवारी कहा गया है। जिस जातक की कुण्डली में राहु शुभ नहीं है उसे राहु के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए ब‌िल्ली पालना चाहिए।
लाल क‌िताब के टोटके के अनुसार बिल्ली की जेर को लाल कपड़े में लपेटकर बाजू पर बांधने से कालसर्प दोष से बचाव होता। ऊपरी चक्कर, नजर दोष, प्रेत बाधा इन सभी में ब‌िल्ली की जेर बांधने से लाभ मिलता है।
यदि सोए हुए व्यक्ति के ‌स‌िर को बिल्ली चाटने लगे तो ऐसा व्यक्ति सरकारी मामले में फंस सकता है।
बिल्ली का पैर चाटना निकट भविष्य में बीमार होने का संकेत होता है।
ब‌िल्ली ऊपर से कूदकर चली जाए तो तकलीफ सहनी पड़ती है।
यदि आप कहीं जा रहे हैं और बिल्ली आपके सामने कोई खाने वाली वस्तु लेकर आए और म्याऊं बोले तो- अशुभ होता है। यही क्रिया आपके घर आते समय हो तो- शुभ होता है।
⭕⭕
चूहों का घर में होना अशुभ है : जिस घर में काले चूहों की संख्या अधिक हो जाती है वहां किसी व्याधि के अचानक होने का अंदेशा रहता है।

यह भी माना जाता है कि चूहे हमारे घर की शांति, समृद्धि को धीरे धीरे कुतर कर खा जाते हैं। अत: चूहों का घर में रहना अशुभ माना गया है।
⭕⭕
यह भी माना जाता है कि यदि घर में काले रंग के चूहे बहुत अधिक तादाद में दिन और रात भर घूमते रहते हो तो, समझ लीजिए कि किसी रोग या शत्रु का आक्रमण होने वाला है।

लाल चींटी : कहते हैं कि धरती पर जितना भार सारी चींटियों का है उतना ही सारे मनुष्यों का है और जितने मनुष्य हैं उतने ही मुर्गे भी हैं। चींटियां मूलत: दो रंगों की होती है लाल और काली। काली चींटी को शुभ माना जाता है, लेकिन लाल को नहीं।
⭕⭕
लाल चिंटियों के बारे में कहा जाता है कि घर में उसकी संख्‍या बढ़ने से कर्ज भी बढ़ता जाता है और यह किसी संकट की सूचना भी होती है।
⭕⭕
चींटियों को भोजन : दोनों ही तरह की चींटियों को आटा डालने से कर्ज से मु‍क्ति मिलती है। चींटियों को शकर मिला आटा
डालते रहने से व्यक्ति हर तरह के बंधन से मुक्त हो जाता है। हजारों चींटियों को प्रतिदिन भोजन देने से वे चींटियां उक्त व्यक्ति को पहचानकर उसके प्रति अच्छे भाव रखने लगती हैं और उसको वे दुआ देने लगती हैं। चींटियों की दुआ का असर आपको हर संकट से बचा सकता है।
लाल चींटियों की कतार मुंह में अंडे दबाए निकलते देखना शुभ है। सारा दिन शुभ और सुखद बना रहता है।
जो चींटी को आटा देते हैं और छोटी-छोटी चिड़ियों को चावल देते हैं, वे वैकुंठ जाते हैं।
कर्ज से परेशान लोग चींटियों को शकर और आटा डालें। ऐसा करने पर कर्ज की समाप्ति जल्दी हो जाती है।
⭕⭕
घर की छत : जिस भवन की छत पर कौए, टिटहरी अथवा उल्लू घोर शब्द करें तब वहां किसी समस्या का उदय अचानक होता है। यदि घर में कौवा, गिद्ध, चील या कबूतर नित्य बैठते है और छह मास तक लगातार निवास बनाए हुए है तो गृहस्वामी पर नाना प्रकार की विपत्ति आने का सूचक होता है।
⭕⭕
यदि सुबह के समय या शाम के समय कौवा मांस या हड्डी लाकर गिराता है तो, समझ लीजिए कि अमंगल होने वाला है और बिमारी, चोट आदि पर धन खर्च होगा। यदि कोई भी पक्षी घर में किसी भी समय कोई लोहे का टुकड़ा गिराता है तो, यह अशुभ संकेत होता है जिसके कारण अचानक छापा या कारावास होने की पूरी पूरी संभावना बनने लगती है। जिस घर की छत या मुंडेर पर कोयल या सोन चिरैया चहचहाए, वहां निश्चित ही श्री वृद्धि होती है।

जाते समय अगर कोई पीछे से टोक दे या छींक दे तो आप क्यों चिढ़ जाते हैं?

  • यदि आप किसी प्रयोजन से जा रहे हैं और कोई टोक दे अर्थात पूछे कि कहां जा रहो? या कहे कि चाय पीकर जाओ या कुछ और कह दे, तो जिस कार्य के लिए आप कहीं जा रहे हैं उस कार्य में असफलता ही मिलेगी।

    हालांकि किसी विशेष कार्य के लिए जाते समय गाय, बछड़ा, बैल, सुहागिन, मेहतर और चूड़ी पहनाने वाला दिखाई दे अथवा रास्ता काट जाए तो यह शुभ शकुन कार्य सिद्ध करने वाला होता है।
    👿👿👿
    क्या सपनों से शुभ और अशुभ संकेत मिलते हैं?

    -ज्योतिष लोग सपनों के शुभ और अशुभ फल बताते हैं। इसमें कितनी सच्चाई है यह शोध का विषय हो सकता है, लेकिन यह अंधविश्वास लोगों के बीच बहुत प्रचलित है और लोग इसे मानते भी हैं।
    👿👿👿
    व्यक्ति को अच्छे और बुरे दोनों प्रकार के सपने आते हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार ये हमारे शरीर और मन की अवस्था के अनुसार आते हैं। यदि भारी और ठोस आहार खाया है तो बुरे सपने आने के चांस बढ़ जाते हैं। पेट खराब रहने की स्थिति में भी ऐसा होता है। यदि आपकी मानसिक स्थिति खराब है और नकारात्मक विचारों की अधिकता है तब भी बुरे सपने आते हैं।
    👿👿👿
    अन्य अशुभ लक्षण :

यदि घर के मुख्य द्वार से सांप का प्रवेश होता है तो इसके मतलब है कि गृहस्वामी या गृहस्वामिनी का स्वास्थ्य ठीक नहीं है।
यदि घर में कोई चोट खाया या घायल पक्षी या उसका कोई काटा हुआ अंग आंगन में गिरता है तो महासंकट आने वाला है।
👿👿👿
घर में यदि कुतिया प्रसव करती है तो यह घर के मुखिया के लिए यह अच्छा संकेत नहीं है। इसके कारण शत्रु की वृद्धि होती है तथा अपने ही परिवार में मतभेद होने लगते हैं।
यदि घर की छत, दीवार या घर के किसी भी कोने में लाल रंग की चींटिया घुमती या रेंगती हुई दिखाई दे तो समझ लीजिए कि संपत्ति का क्षय होने वाला है या यदि पंख वाली चींटियां हो तो घर में बिना किसी कारण के क्लेश की स्थिति उत्पन्न होने लगती है।
यदि घर में रसोईघर का प्लेटफार्म का चटक या टूट जाए या फिर चाकला टूट या तड़क जाए तो यह दरिद्रता की निशानी है।
यदि घर में दूध बार बार जमीन पर गिरता हो, किसी भी कारण से तो घर में क्लेश और विवाद की स्थिति बनती है।
यदि जिस दिन नए घर में प्रवेश करना हो तो, उसी दिन सूर्योदय के समय कोई भी पशु रोता है तो उस दिन गृह प्रवेश टाल दें यह संकेत शुभ नहीं होता है घर में प्रवेश करते ही दुःख आरम्भ हो जाएंगे।
शुभ कार्य के लिए विचार चल रहा हो तब यदि छिपकली की आवाज सुनाई दे तो कार्य की असफलता होती है।
यदि आकाश में तारे टूटते दिखाई दें तो यह स्वास्थ्‍य खराब होने की सूचना होती है। इसी के साथ नौकरी में खतरा एवं आर्थिक तंगी आने लगती है।
जिस घर में बिच्छू कतार बनाकर बाहर जाते हुए दिखाई दें तो समझ लेना चाहिए कि वहां से लक्ष्मी जाने की तैयारी कर रही हैं।
पीला बिच्छू माया का प्रतीक है। ऐसा बिच्छू घर में निकले तो घर में लक्ष्मी का आगमन होता है।
जिस घर में प्राय: बिल्लियां विष्ठा कर जाती हैं, वहां कुछ शुभत्व के लक्षण प्रकट होते हैं।
घर में चमगादड़ों का वास अशुभ है।
जिस भवन में छछूंदरें घूमती हैं वहां लक्ष्मी की वृद्धि होती है।
जिस घर के द्वार पर हाथी अपनी सूंड ऊंची करे वहां उन्नति, वृद्धि तथा मंगल होने की सूचना मिलती है।
🏵🏵🏵

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

संभाजी


इतिहास का ठुकराया हीरा- वीर छत्रपति शम्भा जी

(14 मई को जन्मदिवस पर विशेष रूप से प्रचारित)

डॉ विवेक आर्य

वीर शिवाजी के पुत्र वीर शम्भा जी को अयोग्य आदि की संज्ञा देकर बदनाम करते हैं= जबकि सत्य ये है कि अगर वीर शम्भा जी कायर होते तो वे औरंगजेब की दासता स्वीकार कर इस्लाम ग्रहण कर लेते। वह न केवल अपने प्राणों की रक्षा कर लेते अपितु अपने राज्य को भी बचा लेते। वीर शम्भा जी का जन्म 14 मई 1657 को हुआ था। आप वीर शिवाजी के साथ अल्पायु में औरंगजेब की कैद में आगरे के किले में बंद भी रहे थे। आपने 11 मार्च 1689 को वीरगति प्राप्त की थी। इस लेख के माध्यम से हम शम्भा जी के जीवन बलिदान की घटना से धर्म रक्षा की प्रेरणा ले सकते हैं. इतिहास में ऐसे उदहारण विरले ही मिलते है।

औरंगजेब के जासूसों ने सुचना दी की शम्भा जी इस समय आपने पांच-दस सैनिकों के साथ वारद्वारी से रायगढ़ की ओर जा रहे है। बीजापुर और गोलकुंडा की विजय में औरंगजेब को शेख निजाम के नाम से एक सरदार भी मिला जिसे उसने मुकर्रब की उपाधि से नवाजा था। मुकर्रब अत्यंत क्रूर और मतान्ध था। शम्भा जी के विषय में सुचना मिलते ही उसकी बांछे खिल उठी। वह दौड़ पड़ा रायगढ़ की और. शम्भा जी आपने मित्र कवि कलश के साथ इस समय संगमेश्वर पहुँच चुके थे। वह एक बाड़ी में बैठे थे की उन्होंने देखा कवि कलश भागे चले आ रहे है और उनके हाथ से रक्त बह रहा है। कलश ने शम्भा जी से कुछ भी नहीं कहाँ बल्कि उनका हाथ पकड़कर उन्हें खींचते हुए बाड़ी के तलघर में ले गए परन्तु उन्हें तलघर में घुसते हुए मुकर्रब खान के पुत्र ने देख लिया था। शीघ्र ही मराठा रणबांकुरों को बंदी बना लिया गया। शम्भा जी व कवि कलश को लोहे की जंजीरों में जकड़ कर मुकर्रब खान के सामने लाया गया। वह उन्हें देखकर खुशी से नाच उठा। दोनों वीरों को बोरों के समान हाथी पर लादकर मुस्लिम सेना बादशाह औरंगजेब की छावनी की और चल पड़ी।

औरंगजेब को जब यह समाचार मिला तो वह ख़ुशी से झूम उठा। उसने चार मील की दूरी पर उन शाही कैदियों को रुकवाया। वहां शम्भा जी और कवि कलश को रंग बिरंगे कपडे और विदूषकों जैसी घुंघरूदार लम्बी टोपी पहनाई गयी। फिर उन्हें ऊंट पर बैठा कर गाजे बाजे के साथ औरंगजेब की छावनी पर लाया गया। औरंगजेब ने बड़े ही अपशब्द शब्दों में उनका स्वागत किया। शम्भा जी के नेत्रों से अग्नि निकल रही थी परन्तु वह शांत रहे। उन्हें बंदी ग्रह भेज दिया गया। औरंगजेब ने शम्भा जी का वध करने से पहले उन्हें इस्लाम काबुल करने का न्योता देने के लिए रूह्ल्ला खान को भेजा।

नर केसरी लोहे के सींखचों में बंद था। कल तक जो मराठों का सम्राट था। आज उसकी दशा देखकर करुणा को भी दया आ जाये। फटे हुए चिथड़ों में लिप्त हुआ उनका शरीर मिटटी में पड़े हुए स्वर्ण के समान हो गया था। उन्हें स्वर्ग में खड़े हुए छत्रपति शिवाजी टकटकी बंधे हुए देख रहे थे। पिता जी पिता जी वे चिल्ला उठे- मैं आपका पुत्र हूँ। निश्चित रहिये। मैं मर जाऊँगा लेकिन…..

लेकिन क्या शम्भा जी …रूह्ल्ला खान ने एक और से प्रकट होते हुए कहां।

तुम मरने से बच सकते हो शम्भा जी परन्तु एक शर्त पर।

शम्भा जी ने उत्तर दिया में उन शर्तों को सुनना ही नहीं चाहता। शिवाजी का पुत्र मरने से कब डरता है।

लेकिन जिस प्रकार तुम्हारी मौत यहाँ होगी उसे देखकर तो खुद मौत भी थर्रा उठेगी शम्भा जी- रुहल्ला खान ने कहा।

कोई चिंता नहीं , उस जैसी मौत भी हम हिन्दुओं को नहीं डरा सकती। संभव है कि तुम जैसे कायर ही उससे डर जाते हो। शम्भा जी ने उत्तर दिया।

लेकिन… रुहल्ला खान बोला वह शर्त है बड़ी मामूली। तुझे बस इस्लाम कबूल करना है। तेरी जान बक्श दी जाएगी। शम्भा जी बोले बस रुहल्ला खान आगे एक भी शब्द मत निकालना मलेच्छ। रुहल्ला खान अट्टहास लगाते हुए वहाँ से चला गया।

उस रात लोहे की तपती हुई सलाखों से शम्भा जी की दोनों आँखे फोड़ दी गयी उन्हें खाना और पानी भी देना बंद कर दिया गया।

आखिर 11 मार्च को वीर शम्भा जी के बलिदान का दिन आ गय। सबसे पहले शम्भा जी का एक हाथ काटा गया, फिर दूसरा, फिर एक पैर को काटा गया और फिर दूसरा पैर। शम्भा जी कर पाद विहीन धड़ दिन भर खून की तल्य्या में तैरता रहा। फिर सायकाल में उनका सर काट दिया गया और उनका शरीर कुत्तों के आगे डाल दिया गया। फिर भाले पर उनके सर को टांगकर सेना के सामने उसे घुमाया गया और बाद में कूड़े में फेंक दिया गया।

मरहठों ने अपनी छातियों पर पत्थर रखकर आपने सम्राट के सर का इंद्रायणी और भीमा के संगम पर तुलापुर में दांह संस्कार कर दिया गया। आज भी उस स्थान पर शम्भा जी की समाधी है जो पुकार पुकार कर वीर शम्भा जी की याद दिलाती है कि हम सर कटा सकते है पर अपना प्यारे वैदिक धर्म कभी नहीं छोड़ सकते।

मित्रों शिवाजी के तेजस्वी पुत्र शंभाजी के अमर बलिदान यह गाथा हिन्दू माताएं अपनी लोरियों में बच्चो को सुनाये तो हर घर से महाराणा प्रताप और शिवाजी जैसे महान वीर जन्मेंगे। इतिहास के इन महान वीरों के बलिदान के कारण ही आज हम गर्व से अपने आपको श्री राम और श्री कृष्ण की संतान कहने का गर्व करते है। आईये आज हम प्रण ले हम उसी वीरों के पथ के अनुगामी बनेगे।

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

सम्राट चंद्रगुप्त अपने मंत्रियों के साथ एक विशेष मंत्रणा में व्यस्त थे


सुनील अवस्थी

सम्राट चंद्रगुप्त अपने मंत्रियों के साथ एक विशेष मंत्रणा में व्यस्त थे कि प्रहरी ने सूचित किया कि आचार्य चाणक्य राजभवन में पधार रहे हैं । सम्राट चकित रह गए । इस असमय में गुरू का आगमन ! वह घबरा भी गए । अभी वह कुछ सोचते ही कि लंबे-लंबे डग भरते चाणक्य ने सभा में प्रवेश किया । सम्राट चंद्रगुप्त सहित सभी सभासद सम्मान में उठ गए । सम्राट ने गुरूदेव को सिंहासन पर आसीन होने को कहा ।

आचार्य चाणक्य बोले – ”भावुक न बनो सम्राट, अभी तुम्हारे समक्ष तुम्हारा गुरू नहीं, तुम्हारे राज्य का एक याचक खड़ा है, मुझे कुछ याचना करनी है ।”चंद्रगुप्त की आँखें डबडबा आईं। बोले – ” आप आज्ञा दें, समस्त राजपाट आपके चरणों में डाल दूं ।” चाणक्य ने कहा – ”मैंने आपसे कहा भावना में न बहें, मेरी याचना सुनें । ” गुरूदेव की मुखमुद्रा देख सम्राट चंद्रगुप्त गंभीर हो गए । बोले -” आज्ञा दें ।
चाणक्य ने कहा – ” आज्ञा नहीं , याचना है कि मैं किसी निकटस्थ सघन वन में साधना करना चाहता हूं । दो माह के लिए राजकार्य से मुक्त कर दें और यह स्मरण रहे वन में अनावश्यक मुझसे कोई मिलने न आए । आप भी नहीं । मेरा उचित प्रबंध करा दें ।
चंद्रगुप्त ने कहा – ” सब कुछ स्वीकार है । ” दूसरे दिन प्रबंध कर दिया गया । चाणक्य वन चले गए । अभी उन्हें वन गए एक सप्ताह भी न बीता था कि यूनान से सेल्युकस (सिकन्दर का सेनापति) अपने जामाता चंद्रगुप्त से मिलने भारत पधारे । उनकी पुत्री हेलेन का विवाह चंद्रगुप्त से हुआ था । दो – चार दिन के बाद उन्होंने चाणक्य से मिलने की इच्छा प्रकट कर दी । सेल्युकस ने कहा – ”सम्राट, आप वन में अपने गुप्तचर भेज दें । उन्हें मेरे बारे में कहें । वह मेरा बड़ा आदर करते है । वह कभी इन्कार नहीं करेंगे ।“ अपने श्वसुर की बात मान चंद्रगुप्त ने ऐसा ही किया। गुप्तचर भेज दिए गए । चाणक्य ने उत्तर दिया – ”ससम्मान सेल्युकस वन लाए जाएं, मुझे उनसे मिल कर प्रसन्नता होगी ।”

सेना के संरक्षण में सेल्युकस वन पहुंचे । औपचारिक अभिवादन के बाद चाणक्यने पूछा – ”मार्ग में कोई कष्ट तो नहीं हुआ । ”इस पर सेल्युकस ने कहा – ”भला आपके रहते मुझे कष्ट होगा ? आपने मेरा बहुत ख्याल रखा ।“
न जाने इस उत्तर का चाणक्य पर क्या प्रभाव पड़ा कि वह बोल उठे – “हां, सचमुच आपका मैंने बहुत ख्याल रखा ।”इतना कहने के बाद चाणक्य ने सेल्युकस के भारत की भूमि पर कदम रखने के बाद से वन आने तक की सारी घटनाएं सुना दीं । उसे इतना तक बताया कि सेल्युकस ने सम्राट से क्या बात की, एकांत में अपनी पुत्री से क्या बातें हुईं । मार्ग में किस सैनिक से क्या पूछा ।

सेल्युकस व्यथित हो गए । बोले – ”इतना अविश्वास ? मेरी गुप्तचरी की गई । मेरा इतना अपमान ।“
चाणक्य ने कहा – ”न तो अपमान, न अविश्वास और न ही गुप्तचरी । अपमान की तो बात मैं सोच भी नहीं सकता । सम्राट भी इन दो महीनों में शायद न मिल पाते । आप हमारे अतिथि हैं । रह गई बात सूचनाओं की तो वह मेरा ”राष्ट्रधर्म” है । आप कुछ भी हों, पर विदेशी हैं । अपनी मातृभूमि से आपकी जितनी प्रतिबद्धता है, वह इस राष्ट्र से नहीं हो सकती । यह स्वाभाविक भी है । मैं तो सम्राज्ञी की भी प्रत्येक गतिविधि पर दृष्टि रखता हूं । मेरे इस ‘धर्म‘ को अन्यथा न लें । मेरी भावना समझें ।“

सेल्युकस हैरान हो गया । वह चाणक्य के पैरों में गिर पड़ा ।
उसने कहा – ” जिस राष्ट्र में आप जैसे राष्ट्रभक्त हों, उस देश की ओर कोई आँख उठाकर भी नहीं देख सकता ।” सेल्युकस वापस लौट गया ।

मित्रों… क्या हम भारतीय राष्ट्रधर्म का पालन कर रहे है???

Posted in संस्कृत साहित्य

मृत्यु भय


देवी सिंग तोमर

।।श्रीगणेशाय नमः।।

शरीर को वस्त्र मानने से मृत्यु के भय का विनाश ?

मैनें अपने क्षेत्र
में वृद्ध लोगों के मुँह से नाग और नागिन के कामदेव के वश में होने की एक किवदन्ती सुनी है।
बुजुर्गों का कहना है कि जब नाग और नागिन काम वश होकर आपस में एक दूसरे से प्रेम करते हैं उस अवस्था में उन्हें यदि कोई देख ले तो सर्प उस व्यक्ति के पीछे उसे डसने के लिए भागता है सर्प को 84 लाख योनियों में सबसे ज्यादा क्रोधी स्वभाव का माना गया है।ऐसी अवस्था में तो और भी उसका क्रोध बढ़ जाता है उस समय उससे बचने का केवल एक ही उपाय है भागता हुआ व्यक्ति अपने उत्तरीय वस्त्र अर्थात् शरीर से कोई कपड़ा उतार कर फेंक दे तो सर्प उस वस्त्र को व्यक्ति समझकर उससे लिपटकर बार-बार काटता है, तबतक मनुष्य भाग जाता है। ये बात उन लोगों ने मुझे बताई जिनके साथ ऐसा हुआ। अब ये भले ही मिथ्या क्यों न हो परन्तु इस दृष्टांत से वेदान्त-दर्शन का सिद्धान्त बहुत ज्यादा सिद्ध होता है क्योंकि काल की हमारे ग्रन्थों ने सर्प से तुलना की है।
रामचरितमानस में–

काल व्याल कर भक्षक जोई

श्रीमद्भागवत महापुराण में–

काल व्याल मुख ग्रास त्रास निर्णास हेतवे

इस प्रकार अन्य शास्त्रों में भी काल को भयंकर ब्याल बताया है। अब असली सिद्धान्त पर विचार करें। काल रूपी सर्प हर प्राणी के पीछे भाग रहा है। उससे बचने का क्या उपाय किया जाये बस यही उपाय सर्वश्रेष्ठ है जैसे भागते हुए व्यक्ति ने वस्त्र उतार के पीछे फेंक दिया उसी प्रकार आप भी अपने शरीर रूपी वस्त्र को अनित्य, असत्य, मरणधर्मा समझकर काल को समर्पित कर दो तो आपका आत्मा जो कभी मरता नहीं बेदाग बच जायेगा। जो हमें मरने का भय लगा है वह सदा के लिए समाप्त हो जाएगा।
यही वेदान्त का अटल सिद्धान्त है।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मैं थक-हार कर काम से घर वापस जा रहा था।


मैं थक-हार कर काम से घर वापस जा रहा था। कार में शीशे बंद होते हुए भी..जाने कहाँ से ठंडी-ठंडी हवा अंदर आ रही थी…मैं उस हवा आने वाले सुराख को ढूंढने की कोशिश करने लगा..पर नाकामयाब रहा।

कड़ाके की ठण्ड में घंटे भर की ड्राइव के बाद मैं घर पहुंचा…

रात के करीबन 12 बज चुके थे, मैं घर के बाहर कार से आवाज देने लगा….शायद सब सो चुके थे…

10 मिनट बाद खुद ही उतर कर गेट खोला….सर्द रात के सन्नाटे में मेरे जूतों की आवाज़ साफ़ सुनी जा सकती थी…

कार अन्दर कर जब दुबारा गेट बंद करने लगा तभी मैंने देखा एक 8-10 साल का बच्चा, अपने कुत्ते के साथ मेरे घर के सामने फुटपाथ पर सो रहा है…एक अधफटी चादर ओढ़े हुए….
उसको देख कर मैंने उसकी ठण्ड महसूस करने की कोशिश की तो एकदम सकपका गया..
मैंने Monte Carlo की महंगी जैकेट पहनी हुई थी फिर भी मैं ठण्ड को कोस रहा था…और बेचारा वो बच्चा…मैं उसके बारे में सोच ही रहा था कि इतने में वो कुत्ता बच्चे की चादर छोड़ मेरी कार के नीचे आ कर सो गया।

मेरी कार का इंजन गरम था…शायद उसकी गरमाहट कुत्ते को सुकून दे रही थी…

फिर मैंने कुत्ते की भगाने की बजाय उसे वहीं सोने दिया…और बिना अधिक आहट किये घर में अंदर गया…

जैसे ही मैंने सोने के लिए रजाई उठाई…उस लड़के का ख्याल मन में आया…सोचा मैं कितना स्वार्थी हूँ….मेरे पास विकल्प के तौर पर कम्बल ,चादर ,रजाई सब थे… पर उस बच्चे के पास एक अधफटी चादर भर ही थी… फिर भी वो बच्चा उस अधफटी चादर को भी कुत्ते के साथ बाँट कर सो रहा था और मुझे घर में फ़ालतू पड़े कम्बल और चादर भी किसी को देना का मन ही नहीं होता था…

यही सोचते-सोचते ना जाने कब मेरी आँख लग गयी….अगले दिन सुबह उठा तो देखा घर के बहार भीड़ लगी हुई थी

बाहर निकला तो किसी को बोलते सुना –

“अरे वो चाय बेचने वाला सोनू कल रात ठण्ड से मर गया..”

मेरी पलकें कांपी और एक आंसू की बूंद मेरी आँख से छलक गयी..उस बच्चे की मौत से किसी को कोई फ़र्क़ नहीं पड़ा…बस वो कुत्ता अपने नन्हे दोस्त के बगल में गुमसुम बैठा था….मानो उसे उठाने की कोशिश कर रहा हो!

  • दोस्तों, ये कहानी सिर्फ एक कहानी नहीं है ये आज के इंसान की सच्चाई है। मानव से अगर मानवता चली जाए तो वो मानव नहीं रहता…

और हम, हम अपने लिए ही पैदा होते हैं….अपने लिए जीते हैं और अपने लिए ही मर जाते हैं
तो दोस्तों

चलिए एक बार फिर से इंसान बनने का प्रयास करते हैं

चलिए अपने घरों में बेकार पड़े कपड़े ज़रूरतमंदों के देते हैं।

अभी करोना से हजारों मजदूर अपने शहर अपने गांव पलायन कर रहे हैं आइए कुछ मदद करे इनकी। ये आपके लिए नहीं बैठे की आप आए कुछ दे तो आगे बढ़ेंगे। ये तो धरती को नापने की मन से तैयारी कर चुके। हमें सिर्फ इन्हे प्रोत्साहित कर छोटी सी मदद करना है।

ईश्वर ने यदि आपको इंसान बनाया तो उठो, जागो, और एक पल को सिर्फ इतना देखो की इन मजदूर भाई बहन बच्चो कि चल चल कर क्या हालत हो गई। गरमी के मौसम में आप जहा 10 कदम नहीं चल पाते उन्होंने हजारों किलोमीटर का सफर तय कर लिया।यदि आपने किसी एक मजदूर या गरीब की मन से सेवा कर ली तो ईश्वर ने आपको धरती पर जनम देकर भूल नहीं की।

चलिए कुछ गरीबों को खाना खिलाते हैं

चलिए किसी गरीब बच्चे को पढ़ाने का संकल्प लेते हैं

  • चलिए एक बार फिर से इंसान बनते हैं! करिये कोशिश किसी लाचार गरीब की मन को बहुत अच्छा लगेगा ।

हँस जैन रामनगर खँडवा
98272 14427

🙏🏻अपनों से अपनी बाते🙏🏻