Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

अजित दवे

एक पंडित एक होटल में गया और मैनेजर के पास जाकर बोला :- क्या रूम नंबर 39 खाली है?

मैनेजर:- हां, खाली है, आप वो रूम ले सकते हैं.. ,,

पंडित:- ठीक है, मुझे एक चाकू, एक 3 इंच का काला धागा और एक 79 ग्राम का संतरा कमरे में भिजवा दो।

मैनेजर:- जी, ठीक है, और हां, मेरा कमरा आपके कमरे के ठीक सामने है,अगर आपको कोई दिक्कत होती है तो तुम मुझे आवाज दे देना,,,

पंडित:- ठीक है,,,

रात को……………….

पंडित के कमरे से तेजी से चीखने चिल्लाने की और प्लेटो के टूटने की आवाज आने लगती है

इन आवाजों के कारण मैनेजर सो भी नही पाता और वो रात भर इस ख्याल से बैचेन होने लगता है कि आखिर उस कमरे में हो क्या रहा है?

अगली सुबह………….
जैसे ही मैनेजर पंडित के कमरे में गया वहाँ पर उसे पता चला कि पंडित होटल से चला गया है और कमरे में सब कुछ वैसे का वैसा ही है और टेबल पर चाकू रखा हुआ है,,
मैनेजर ने सोचा कि जो उसने रात में सुना कहीं उसका मात्र वहम तो नही था,,
और ऐसे ही एक साल बीत गया….
एक साल बाद……..

वही पंडित फिर से उसी होटल में आया और रूम नंबर 39 के बारे में पूछा?

मैनेजर:- हां, रूम 39 खाली है आप उसे ले सकते हो,,,

पंडित:- ठीक है, मुझे एक चाकू, एक 3 इंच का धागा और एक 79 ग्राम का संतरा भी चाहिए होगा,,,

मैनेजर:- जी, ठीक है,,,

उस रात में मैनेजर सोया नही, वो जानना चाहता था कि आखिर रात में उस कमरे में होता क्या है?

तभी वही आवाजें फिर से आनी चालू हो गई और मैनेजर तेजी से पंडित के कमरे के पास गया, चूंकि उसका और पंडित का कमरा आमने-सामने था, इस लिए वहाँ पहुचने में उसे ज्यादा समय नही लगा

लेकिन दरवाजा लॉक था, यहाँ तक कि मैनेजर की वो मास्टर चाभी जिससे हर रूम खुल जाता था, वो भी उस रूम 39 में काम नही करी

आवाजो से उसका सिर फटा जा रहा था, आखिर दरवाजा खुलने के इंतजार में वो दरवाजे के पास ही सो गया…..

अगली सुबहा………..

जब मैनेजर उठा तो उसने देखा कि कमरा खुला पड़ा है लेकिन पंडित उसमें नही है।

वो जल्दी से मेन गेट की तरफ भागा, लेकिन दरबान ने बताया कि उसके आने से चंद मिनट पहले ही पंडित जा चुका था,,,

उसने वेटर से पूछा तो वेटर ने बताया कि कुछ समय पहले ही पंडित यहाँ से चला गया और जाते वक्त उनसे होटल के सभी वेटरों को अच्छी खासी टिप भी दी…..

मैनेजर बिलबिला के रह गया, उसने निश्चय कर लिया कि मार्च में वो पता करके रहेगा…. कि आखिर ये पंडित और रूम 39 का राज क्या है…

मार्च वही महीना था, जिस महीने में हर साल पंडित एक दिन के लिए उस होटल आता था,,

अगले साल……..

अगले साल फिर वही पंडित आया और रूमनंबर 39 मांगा?
मैनेजर:- हां, आपको वो रूम मिल जाएगा

पंडित:- मुझे एक 3 इंच का धा गाएक 79 ग्राम का संतरा और एक धार दार चाकू भी चाहिए,,,

मैनेजर:- जी ठीक है,,,

रात को…..

इस बार मैनेजर रात में बिल्कुल नही सोया और वो लगातार उस कमरे से आती हुई आवाजो को सुनता रहा

जैसी ही सुबह हुई और पंडित ने कमरा खोला, मैनेजर कमरे में घुस गया और पंडित से बोला:-

आखिर तुम रात को इन सब चीजों के साथ इस कमरे में क्या करते हो..? ये आवाजें कहां से आती हैंं…

जल्दी बताओ..?

पंडित ने कहा:- मैं तुम्हे ये राज तो बता दूंगा लेकिन एक शर्त है कि तुम ये राज किसी को नही बताओगे,,,

चूंकि मैनेजर ईमानदार आदमी था इसलिए उसने वो राज आज तक किसी को नही बताया

और अगर ये राज वो किसी को बताएगा औऱ मुझे पता चलेगा तो मैं आपको मेसेज कर दुँगा…ध्यान से पढ़ने के लिए धन्यवाद 🙏🏻😆😆
खाली समय में क्या करू
दिमाग तो मेरा भी खराब हुआ था ये मैसेज पढ़ कर लेकिन आगे भेज कर कलेजे को ठंडक पढ गयी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

https://edugujarati13646832.wordpress.com/2020/03/22/%e0%aa%95%e0%ab%81%e0%aa%82%e0%aa%a4%e0%aa%be%e0%aa%b8%e0%aa%b0%e0%aa%a8%e0%aa%be-%e0%aa%a0%e0%ab%87%e0%aa%95%e0%aa%be%e0%aa%a3%e0%ab%87-%e0%aa%a6%e0%ab%87%e0%aa%b5%e0%aa%b3-%e0%aa%ac%e0%aa%82/

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

તહેવાર / દક્ષિણ ભારતમાં રામનવમીના દિવસે ભગવાન શ્રીરામ અને સીતાજીના લગ્ન થાય છે

દક્ષિણ ભારતમાં કલ્યાણમ મહોત્સવ તરીકે રામનવમીનો પર્વ ઉજવવામાં આવે છે
દિવ્ય ભાસ્કર
Apr 02, 2020, 09:01 AM IST
ધર્મ દર્શન ડેસ્કઃ. ચૈત્ર મહિનાના સુદ પક્ષની નોમ તિથિએ રામનવમી એટલે શ્રીરામ જન્મોત્સવ ઉજવવામાં આવે છે. દેશભરમાં આ પર્વ ઉજવાય છે. ઉત્તર ભારતમાં આ દિવસને ભગવાન રામના જન્મોત્સવ તરીકે ઉજવવામાં આવે છે, ત્યાં જ, દક્ષિણ ભારતમાં આ દિવસે શ્રીરામ અને સીતાજીના લગ્ન કરાવવામાં આવે છે. અહીં એવી માન્યતા છે કે, ચૈત્ર મહિનાના સુદ પક્ષની નોમ તિથિએ ભગવાન રામ અને માતા સીતાના લગ્ન થયા હતાં.

કલ્યાણમ મહોત્સવઃ-
દક્ષિણ ભારતના મંદિરોમાં આ દિવસે રામ અને સીતાના લગ્નનું આયોજન કરવામાં આવે છે, તેને સીતારામ કલ્યાણમ કહેવામાં આવે છે. દક્ષિણ ભારતમાં આ દિવસે આંધ્રપ્રદેશના ભદ્રાચલમ સ્થિત શ્રીરામ મંદિરમાં કલ્યાણમ મહોત્સવ ઉજવાય છે. જેમાં ભગવાન રામ અને સીતાજીના લગ્ન કરાવવામાં આવે છે.

કલ્યાણમ મહોત્સવ પર વિશેષ પ્રસાદ બને છેઃ-
દક્ષિમ ભારતમાં આ દિવસે ભગવાન રામને પ્રસાદ ચઢાવવામાં આવે છે. આ પારંપરિક પ્રસાદને આ વિશેષ દિવસે વિનમ્રતા સાથે તૈયાર કરવામાં આવે છે. આ પ્રસાદને નેવેદ્યયમ કહેવામાં આવે છે, જે એક પ્રકારનો લાડુ હોય છે.

આ સિવાય પણ દક્ષિણ ભારતમાં અનેક અન્ય પ્રકારના પ્રસાદ જેમ કે, પાનકમ્ (એલચી અને આદુંથી બનેલું પીણું), નીર મોર (એક પ્રકારનું પાતળું તલ) અને વદઈ પરરૂપુ (મગની ભીની દાળમાં નારિયેળ અને મસાલા મિક્સ કરીને બનાવેલું સલાડ)નો ભોગ પણ ભગવાન રામને ધરાવવામાં આવે છે.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

https://crthakrar.com/2020/03/22/chakudi/

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

👍🏼👍🏼👍🏼👍🏼👍🏼👍🏼
मोटिवेशनल गुरु ग्रुप की ज्ञानदायक प्रस्तुति
👈🏼👈🏼👈🏼👈🏼👈🏼

हंस जैन रामनगर खण्डवा मध्यप्रदेश
98272 14427

🔥गुरु कौन🔥 बहुत समय पहले की बात है, किसी नगर में एक बेहद प्रभावशाली महंत रहते थे। उन के पास शिक्षा लेने हेतु दूर दूर से शिष्य आते थे। एक दिन एक शिष्य ने महंत से सवाल किया, स्वामीजी आपके गुरु कौन है? आपने किस गुरु से शिक्षा प्राप्त की है? महंत शिष्य का सवाल सुन मुस्कुराए और बोले, मेरे हजारो गुरु हैं! यदि मै उनके नाम गिनाने बैठ जाऊ तो शायद महीनो लग जाए। लेकिन फिर भी मै अपने तीन गुरुओ के बारे मे तुम्हे जरुर बताऊंगा।
मेरा पहला गुरु था एक चोर।
एक बार में रास्ता भटक गया था और जब दूर किसी गाव में पंहुचा तो बहुत देर हो गयी थी। सब दुकाने और घर बंद हो चुके थे। लेकिन आख़िरकार मुझे एक आदमी मिला जो एक दीवार में सेंध लगाने की कोशिश कर रहा था। मैने उससे पूछा कि मै कहा ठहर सकता हूं, तो वह बोला की आधी रात गए इस समय आपको कहीं कोई भी आसरा मिलना बहुत मुश्किल होंगा, लेकिन आप चाहे तो मेरे साथ आज कि रात ठहर सकते हो। मै एक चोर हु और अगर एक चोर के साथ रहने में आपको कोई परेशानी नहीं होंगी तो आप मेरे साथ रह सकते है।
वह इतना प्यारा आदमी था कि मै उसके साथ एक रात कि जगह एक महीने तक रह गया ! वह हर रात मुझे कहता कि मै अपने काम पर जाता हूं, आप आराम करो, प्रार्थना करो। जब वह काम से आता तो मै उससे पूछता की कुछ मिला तुम्हे? तो वह कहता की आज तो कुछ नहीं मिला पर अगर भगवान ने चाहा तो जल्द ही जरुर कुछ मिलेगा। वह कभी निराश और उदास नहीं होता था, और हमेशा मस्त रहता था। कुछ दिन बाद मैं उसको धन्यवाद करके वापस आपने घर आ गया|
जब मुझे ध्यान करते हुए सालों-साल बीत गए थे और कुछ भी नहीं हो रहा था तो कई बार ऐसे क्षण आते थे कि मैं बिलकुल हताश और निराश होकर साधना छोड़ लेने की ठान लेता था। और तब अचानक मुझे उस चोर की याद आती जो रोज कहता था कि भगवान ने चाहा तो जल्द ही कुछ जरुर मिलेगा और इस तरह मैं हमेशा अपना ध्यान लगता और साधना में लीन रहता|
मेरा दूसरा गुरु एक कुत्ता था।
एक बहुत गर्मी वाले दिन मै कही जा रहा था और मैं बहुत प्यासा था और पानी के तलाश में घूम रहा था कि सामने से एक कुत्ता दौड़ता हुआ आया। वह भी बहुत प्यासा था। पास ही एक नदी थी। उस कुत्ते ने आगे जाकर नदी में झांका तो उसे एक और कुत्ता पानी में नजर आया जो की उसकी अपनी ही परछाई थी। कुत्ता उसे देख बहुत डर गया। वह परछाई को देखकर भौकता और पीछे हट जाता, लेकिन बहुत प्यास लगने के कारण वह वापस पानी के पास लौट आता। अंततः, अपने डर के बावजूद वह नदी में कूद पड़ा और उसके कूदते ही वह परछाई भी गायब हो गई। उस कुत्ते के इस साहस को देख मुझे एक बहुत बड़ी सिख मिल गई। अपने डर के बावजूद व्यक्ति को छलांग लगा लेनी होती है। सफलता उसे ही मिलती है जो व्यक्ति डर का साहस से मुकाबला करता है।
मेरा तीसरा गुरु एक छोटा बच्चा है।
मै एक गांव से गुजर रहा था कि मैंने देखा एक छोटा बच्चा एक जलती हुई मोमबत्ती ले जा रहा था। वह पास के किसी मंदिर में मोमबत्ती रखने जा रहा था। मजाक में ही मैंने उससे पूछा की क्या यह मोमबत्ती तुमने जलाई है? वह बोला, जी मैंने ही जलाई है। तो मैंने उससे कहा की एक क्षण था जब यह मोमबत्ती बुझी हुई थी और फिर एक क्षण आया जब यह मोमबत्ती जल गई। क्या तुम मुझे वह स्त्रोत दिखा सकते हो जहा से वह ज्योति आई?
वह बच्चा हँसा और मोमबत्ती को फूंख मारकर बुझाते हुए बोला, अब आपने ज्योति को जाते हुए देखा है। कहा गई वह? आप ही मुझे बताइए।
मेरा अहंकार चकनाचूर हो गया, मेरा ज्ञान जाता रहा। और उस क्षण मुझे अपनी ही मूढ़ता का एहसास हुआ। तब से मैंने कोरे ज्ञान से हाथ धो लिए।
शिष्य होने का अर्थ क्या है? शिष्य होने का अर्थ है पुरे अस्तित्व के प्रति खुले होना। हर समय हर ओर से सीखने को तैयार रहना।कभी किसी कि बात का बूरा नहि मानना चाहिए, किसी भी इंसान कि कही हुइ बात को ठंडे दिमाग से एकांत में बैठकर सोचना चाहिए के उसने क्या-क्या कहा और क्यों कहा तब उसकी कही बातों से अपनी कि हुई गलतियों को समझे और अपनी कमियों को दूर् करे|
जीवन का हर क्षण, हमें कुछ न कुछ सीखने का मौका देता है। हमें जीवन में हमेशा एक शिष्य बनकर अच्छी बातो को सीखते रहना चाहिए। यह जीवन हमें आये दिन किसी न किसी रूप में किसी गुरु से मिलाता रहता है, यह हम पर निर्भर करता है कि क्या हम उस महंत की तरह एक शिष्य बनकर उस गुरु से मिलने वाली शिक्षा को ग्रहण कर पा रहे हैं की नहीं।

हंस जैन खण्डवा मध्यप्रदेश
🤩🤩🤩🤩🤩🤩

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक