Posted in संस्कृत साहित्य

माँ गङ्गा की महिमा


[ माँ गङ्गा की महिमा ]
Yesterday
बन्धुओं! जैसा कि आप सभी को ज्ञात है किंतु फिर भी स्मृति के लिए बता रहा हूँ कि गङ्गा नदी उत्तर भारत की केवल जीवनरेखा ही नहीं, अपितु हिंदू धर्म का सर्वोत्तम तीर्थ है। ‘आर्य सनातन वैदिक संस्कृति’ गङ्गा के तट पर विकसित हुई, इसलिए गङ्गा हिंदुस्थान की राष्ट्ररूपी अस्मिता है एवं भारतीय संस्कृति का मूलाधार है। इस कलियुग में श्रद्धालुओं के पाप-ताप नष्ट हों, इसलिए ईश्वर ने उन्हें इस धरा पर भेजा है। वे प्रकृति का बहता जल ही नहीं; अपितु सुरसरिता (देवनदी) हैं। उनके प्रति हिंदुओं की आस्था गौरीशङ्कर की भांति सर्वोच्च है। गङ्गाजी मोक्षदायिनी हैं; इसीलिए उन्हें गौरवान्वित करते हुए पद्मपुराण में (खण्ड ५, अध्याय ६०, श्लोक ३९) कहा गया है – ‘सहज उपलब्ध एवं मोक्षदायिनी गङ्गाजी के रहते विपुल धनराशि व्यय (खर्च) करने वाले यज्ञ एवं कठिन तपस्या का क्या लाभ’❓नारदपुराण में तो कहा गया है – ‘अष्टांग योग, तप एवं यज्ञ, इन सबकी अपेक्षा गङ्गाजी का निवास उत्तम है। गङ्गाजी भारत की पवित्रता की सर्वश्रेष्ठ केंद्रबिंदु हैं, उनकी महिमा अवर्णनीय है।’

माँ गङ्गा की ब्रह्मांड में उत्पत्ति —

‘वामनावतार में श्रीविष्णु ने दानवीर बली राजा से भिक्षा के रूप में तीन पग भूमि का दान मांगा। राजा इस बात से अनभिज्ञ थे कि श्रीविष्णु ही वामन के रूप में आए हैं। उन्होंने उसी क्षण भगवान वामन को तीन पग भूमि दान की। वामन भगवान ने विराट रूप धारण कर पहले पग में संपूर्ण पृथ्वी तथा दूसरे पग में अंतरिक्ष व्याप लिया। दूसरा पग उठाते समय भगवान वामन के ( श्रीविष्णुके) बाएं पैर के अंगूठे के धक्के से ब्रह्मांड का सूक्ष्म-जलीय कवच टूट गया। उस छिद्रसे गर्भोदक की भांति ‘ब्रह्मांड के बाहर के सूक्ष्म-जल ने ब्रह्मांड में प्रवेश किया। यह सूक्ष्म-जल ही गङ्गा है ! गङ्गा जी का यह प्रवाह सर्वप्रथम सत्यलोक में गया। ब्रह्मदेव ने उसे अपने कमण्डलु में धारण किया। तदुपरांत सत्यलोक में ब्रह्माजी ने अपने कमण्डलु के जल से श्रीविष्णु के चरणकमल धोए। उस जल से गङ्गा जी की उत्पत्ति हुई। तत्पश्चात गङ्गा जी की यात्रा सत्यलोक से क्रमशः तपोलोक, जनलोक, महर्लोक, इस मार्ग से स्वर्गलोक तक हुई।

गङ्गा जी की पृथ्वी पर उत्पत्ति —

सूर्यवंश के राजा सगर ने अश्वमेध यज्ञ आरंभ किया। उन्होंने दिग्विजय के लिए यज्ञीय अश्व भेजा एवं अपने ६० सहस्त्र पुत्रों को भी उस अश्व की रक्षा हेतु भेजा। इस यज्ञ से भयभीत इंद्रदेव ने यज्ञीय अश्व को कपिल मुनि के आश्रम के निकट बांध दिया। जब सगरपुत्रों को वह अश्व कपिल मुनि के आश्रम के निकट प्राप्त हुआ, तब उन्हें लगा, ‘कपिल मुनि ने ही अश्व चुराया है।’ इसलिए सगरपुत्रों ने ध्यानस्थ कपिल मुनि पर आक्रमण करने की सोची। कपिल मुनि को अंतर्ज्ञान से यह बात ज्ञात हो गई तथा अपने नेत्र खोले। उसी क्षण उनके नेत्रों से प्रक्षेपित तेज से सभी सगरपुत्र भस्म हो गए। कुछ समय पश्चात सगर के प्रपौत्र राजा अंशुमन ने सगरपुत्रों की मृत्यु का कारण खोजा एवं उनके उद्धार का मार्ग पूँछा। कपिल मुनि ने अंशुमनसे कहा, “”गङ्गा जी को स्वर्ग से भूतल पर लाना होगा। सगरपुत्रों की अस्थियों पर जब गङ्गाजल प्रवाहित होगा, तभी उनका उद्धार होगा !’’ मुनिवर के बताए अनुसार गङ्गा को पृथ्वी पर लाने हेतु अंशुमन ने तप आरंभ किया ।’ ‘अंशुमन की मृत्युके पश्चात उसके सुपुत्र राजा दिलीप ने भी गङ्गा अवतरण के लिए तपस्या की।अंशुमन एवं दिलीप के सहस्त्र वर्ष तप करने पर भी गङ्गा अवतरण नहीं हुआ; परंतु तपस्या के कारण उन दोनों को स्वर्गलोक प्राप्त हुआ ।’
— (वाल्मीकिरामायण, काण्ड १, अध्याय ४१, २०-२१)

‘राजा दिलीप की मृत्यु के पश्चात उनके पुत्र राजा भगीरथ ने कठोर तपस्या की। उनकी इस तपस्या से प्रसन्न होकर गङ्गा माता ने भगीरथ से कहा, ‘‘मेरे इस प्रचंड प्रवाह को सहना पृथ्वी के लिए कठिन होगा। अतः तुम भगवान शङ्कर को प्रसन्न करो ।’’ आगे भगीरथ की घोर तपस्या से भगवान शङ्कर प्रसन्न हुए तथा भगवान शङ्कर ने गङ्गा जी के प्रवाह को जटा में धारण कर उसे पृथ्वी पर छोड़ा। इस प्रकार हिमालय में अवतीर्ण गङ्गा जी भगीरथ के पीछे-पीछे गौमुख से गङ्गोत्री – हरिद्वार, प्रयाग, काशी आदि स्थानों को पवित्र करते हुए बंगाल के उपसागर में (खाड़ी में) लुप्त हुईं।’ जो गङ्गासागर के नाम से प्रसिद्ध है।

ज्येष्ठ मास, शुक्ल पक्ष, दशमी तिथि, भौमवार (मङ्गलवार) एवं हस्त नक्षत्र के शुभ योग पर गङ्गा जी स्वर्ग से धरती पर अवतरित हुईं। जिस दिन गङ्गा पृथ्वी पर अवतरित हुईं वह दिन ‘गङ्गा दशहरा’ के नाम से जाना जाता है।

जगद्गुरु आद्य शंकराचार्यजी, जिन्होंने कहा है : एको ब्रह्म द्वितियोनास्ति । द्वितियाद्वैत भयं भवति ।। उन्होंने भी ‘गङ्गाष्टक’ लिखा है, गङ्गा की महिमा गायी है। रामानुजाचार्यजी, रामानंद स्वामीजी, चैतन्य महाप्रभु जी और स्वामी रामतीर्थ जी ने भी गङ्गा जी की बड़ी महिमा गायी है। कई साधु-संतों, अवधूत-मंडलेश्वरों और जती-जोगियों ने गङ्गा माता की कृपा का अनुभव किया है, कर रहे हैं तथा आगे भी करते रहेंगे।

अब तो विश्व के वैज्ञानिक भी गङ्गाजल का परीक्षण कर दाँतों तले उँगली दबा रहे हैं ! उन्होंने दुनिया की तमाम नदियों के जल का परीक्षण किया परंतु गङ्गाजल में रोगाणुओं को नष्ट करने तथा आनंद और सात्त्विकता देने का जो अद्भुत गुण है, उसे देखकर वे भी आश्चर्यचकित हो उठे हैं।

हृषिकेश में स्वास्थ्य-अधिकारियों ने पुँछवाया कि यहाँ से हैजे की कोई खबर नहीं आती, क्या कारण है❓ उनको बताया गया कि यहाँ यदि किसी को हैजा हो जाता है तो उसको गङ्गाजल पिलाते हैं। इससे उसे दस्त होने लगते हैं तथा हैजे के कीटाणु नष्ट हो जाते हैं और वह स्वस्थ हो जाता है। वैसे तो हैजे के समय घोषणा कर दी जाती है कि पानी उबालकर ही पियें। किंतु गङ्गाजल के पान से तो यह रोग मिट जाता है और केवल हैजे का रोग ही मिटता है ऐसी बात नहीं है, अन्य कई रोग भी मिट जाते हैं। तीव्र व दृढ़ श्रद्धा-भक्ति हो तो गङ्गास्नान व गङ्गाजल के पान से जन्म-मरण का रोग भी मिट सकता है।

सन् १९४७ में जलतत्त्व विशेषज्ञ कोहीमान भारत आया था। उसने वाराणसी से गङ्गाजल लिया। उस पर अनेक परीक्षण करके उसने विस्तृत लेख लिखा, जिसका सार है – ‘इस जल में कीटाणु-रोगाणुनाशक विलक्षण शक्ति है।’

दुनिया की तमाम नदियों के जल का विश्लेषण करने वाले बर्लिन के डॉ. जे. ओ. लीवर ने सन् १९२४ में ही गङ्गाजल को विश्व का सर्वाधिक स्वच्छ और कीटाणु-रोगाणुनाशक जल घोषित कर दिया था।

कलकत्ता के हुगली जिले में पहुँचते-पहुँचते तो बहुत सारी नदियाँ, झरने और नाले गङ्गाजी में मिल चुके होते हैं। अंग्रेज यह देखकर हैरान रह गये कि हुगली जिले से भरा हुआ गङ्गाजल दरियाई मार्ग से यूरोप ले जाया जाता है तो भी कई-कई दिनों तक वह बिगड़ता नहीं है। जबकि यूरोप की कई बर्फीली नदियों का पानी हिन्दुस्तान लेकर आने तक खराब हो जाता है।

अभी रुड़की विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक कहते हैं कि ‘गङ्गाजल में जीवाणुनाशक और हैजे के कीटाणुनाशक तत्त्व विद्यमान हैं।’

फ्रांसीसी चिकित्सक हेरल ने देखा कि गङ्गाजल से कई रोगाणु नष्ट हो जाते हैं। फिर उसने गङ्गाजल को कीटाणुनाशक औषधि मानकर उसके इंजेक्शन बनाये और जिस रोग में उसे समझ न आता था कि इस रोग का कारण कौन-से कीटाणु हैं, उसमें गङ्गाजल के वे इंजेक्शन रोगियों को दिये तो उन्हें लाभ होने लगा।

संत तुलसीदास जी कहते हैं —

गंग सकल मुद मंगल मूला ।
सब सुख करनि हरनि सब सूला ।।
— (श्रीरामचरित. अयो. कां. : ८६.२)

आद्य शङ्कराचार्य जी ने भी अद्भुत मनोरम श्रीगङ्गा स्तोत्र लिखा है –

देवि सुरेश्वरी भगवति गङ्गे त्रिभुवनतारिणी तरलतरङ्गे।
शङ्करमौलिविहारिणी विमले मम मतिरास्तां तव पद कमले।।
………. शेष संपूर्ण स्तोत्र आगे फिर कभी

“”””हर हर गङ्गे””””
साभार संकलित
— ज्योतिर्विद पं॰ मनीष तिवारी

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ईर्ष्या-द्वेष आपके मन पर बोझ है इन्हें निकाल फेंकें


बोध कथा:
“ईर्ष्या-द्वेष आपके मन पर बोझ है इन्हें निकाल फेंकें”

एक बार एक महात्मा ने अपने शिष्यों से अनुरोध किया कि वे कल से प्रवचन में आते समय अपने साथ एक थैली में बडे़ आलू साथ लेकर आयें, उन आलुओं पर उस व्यक्ति का नाम लिखा होना चाहिये जिनसे वे ईर्ष्या करते हैं । जो व्यक्ति जितने व्यक्तियों से घृणा करता हो, वह उतने आलू लेकर आये । अगले दिन सभी लोग आलू लेकर आये, किसी पास चार आलू थे,

किसी के पास छः या आठ और प्रत्येक आलू पर उस व्यक्ति का नाम लिखा था जिससे वे नफ़रत करते थे । अब महात्मा जी ने कहा कि, अगले सात दिनों तक ये आलू आप सदैव अपने साथ रखें, जहाँ भी जायें, खाते-पीते, सोते-जागते, ये आलू आप सदैव अपने साथ रखें ।

शिष्यों को कुछ समझ में नहीं आया कि महात्मा जी क्या चाहते हैं, लेकिन महात्मा के आदेश का पालन उन्होंने अक्षरशः किया । दो-तीन दिनों के बाद ही शिष्यों ने आपस में एक दूसरे से शिकायत करना शुरू किया, जिनके आलू ज्यादा थे, वे बडे कष्ट में थे ।

जैसे-तैसे उन्होंने सात दिन बिताये, और शिष्यों ने महात्मा की शरण ली । महात्मा ने कहा, अब अपने-अपने आलू की थैलियाँ निकालकर रख दें, शिष्यों ने चैन की साँस ली । महात्माजी ने पूछा – विगत सात दिनों का अनुभव कैसा रहा ?

शिष्यों ने महात्मा से अपनी आपबीती सुनाई, अपने कष्टों का विवरण दिया, आलुओं की बदबू से होने वाली परेशानी के बारे में बताया, सभी ने कहा कि बडा हल्का महसूस हो रहा है… महात्मा ने कहा – यह अनुभव मैने आपको एक शिक्षा देने के लिये किया था…

जब मात्र सात दिनों में ही आपको ये आलू बोझ लगने लगे, तब सोचिये कि आप जिन व्यक्तियों से ईर्ष्या या नफ़रत करते हैं, उनका कितना बोझ आपके मन पर होता होगा, और वह बोझ आप लोग तमाम जिन्दगी ढोते रहते हैं, सोचिये कि आपके मन और दिमाग की इस ईर्ष्या के बोझ से क्या हालत होती होगी ?

यह ईर्ष्या तुम्हारे मन पर अनावश्यक बोझ डालती है, उनके कारण तुम्हारे मन में भी बदबू भर जाती है, ठीक उन आलुओं की तरह…. इसलिये अपने मन से इन भावनाओं को निकाल दो,

यदि आप किसी से प्यार नहीं कर सकते तो कम से कम नफ़रत और ईर्ष्या मत कीजिये, तभी आपका मन स्वच्छ, निर्मल और हल्का बना रहेगा, वरना जीवन भर इनको ढोते-ढोते आपका मन और आपकी मानसिकता दोनों बीमार हो जाएँगी।

Posted in रामायण - Ramayan

जनक ने सीता स्वयंवर में अयोध्या नरेश दशरथ को आमंत्रण क्यों नहीं भेजा


हिंदुत्व

जनक ने सीता स्वयंवर में अयोध्या नरेश दशरथ को आमंत्रण क्यों नहीं भेजा ?
🍁⛪👏👏👏👏👏⛪🍁

राजा जनक के शासनकाल में एक व्यक्ति का विवाह हुआ। जब वह पहली बार सज-सँवरकर ससुराल के लिए चला, तो रास्ते में चलते-चलते एक जगह उसको दलदल मिला, जिसमें एक गाय फँसी हुई थी, जो लगभग मरने के कगार पर थी।

उसने विचार किया कि गाय तो कुछ देर में मरने वाली ही है तथा कीचड़ में जाने पर मेरे कपड़े तथा जूते खराब हो जाएँगे, अतः उसने गाय के ऊपर पैर रखकर आगे बढ़ गया। जैसे ही वह आगे बढ़ा गाय ने तुरन्त दम तोड़ दिया तथा शाप दिया कि जिसके लिए तू जा रहा है, उसे देख नहीं पाएगा, यदि देखेगा तो वह मृत्यु को प्राप्त हो जाएगी।

वह व्यक्ति अपार दुविधा में फँस गया और गौ-शाप से मुक्त होने का विचार करने लगा।

ससुराल पहुँचकर वह दरवाजे के बाहर घर की ओर पीठ करके बैठ गया और यह विचार कर कि यदि पत्नी पर नजर पड़ी, तो अनिष्ट नहीं हो जाए। परिवार के अन्य सदस्यों ने घर के अन्दर चलने का काफी अनुरोध किया, किन्तु वह नहीं गया और न ही रास्ते में घटित घटना के बारे में किसी को बताया।

उसकी पत्नी को जब पता चला, तो उसने कहा कि चलो, मैं ही चलकर उन्हें घर के अन्दर लाती हूँ। पत्नी ने जब उससे कहा कि आप मेरी ओर क्यों नहीं देखते हो, तो भी चुप रहा। काफी अनुरोध करने के उपरान्त उसने रास्ते का सारा वृतान्त कह सुनाया। पत्नी ने कहा कि मैं भी पतिव्रता स्त्री हूँ। ऐसा कैसे हो सकता है? आप मेरी ओर अवश्य देखो।

पत्नी की ओर देखते ही उसकी आँखों की रोशनी चली गई और वह गाय के शापवश पत्नी को नहीं देख सका।

पत्नी पति को साथ लेकर राजा जनक के दरबार में गई और सारा कह सुनाया। राजा जनक ने राज्य के सभी विद्वानों को सभा में बुलाकर समस्या बताई और गौ-शाप से निवृत्ति का सटीक उपाय पूछा।

सभी विद्वानों ने आपस में मन्त्रणा करके एक उपाय सुझाया कि, यदि कोई पतिव्रता स्त्री छलनी मे गंगाजल लाकर उस जल के छींटे इस व्यक्ति की दोनों आँखों पर लगाए, तो गौ-शाप से मुक्ति मिल जाएगी और इसकी आँखों की रोशनी पुनः लौट सकती है।

राजा ने पहले अपने महल के अन्दर की रानियों सहित सभी स्त्रियों से पूछा, तो राजा को सभी के पतिव्रता होने में संदेह की सूचना मिली। अब तो राजा जनक चिन्तित हो गए। तब उन्होंने आस-पास के सभी राजाओं को सूचना भेजी कि उनके राज्य में यदि कोई पतिव्रता स्त्री है, तो उसे सम्मान सहित राजा जनक के दरबार में भेजा जाए।

जब यह सूचना राजा दशरथ (अयोध्या नरेश) को मिली, तो उसने पहले अपनी सभी रानियों से पूछा। प्रत्येक रानी का यही उत्तर था कि राजमहल तो क्या आप राज्य की किसी भी महिला यहाँ तक कि झाडू लगाने वाली, जो कि उस समय अपने कार्यों के कारण सबसे निम्न श्रेणि की मानी जाती थी, से भी पूछेंगे, तो उसे भी पतिव्रता पाएँगे।

राजा दशरथ को इस समय अपने राज्य की महिलाओं पर आश्चर्य हुआ और उसने राज्य की सबसे निम्न मानी जाने वाली सफाई वाली को बुला भेजा और उसके पतिव्रता होने के बारे में पूछा। उस महिला ने स्वीकृति में गर्दन हिला दी।

तब राजा ने यह दिखाने कर लिए कि अयोध्या का राज्य सबसे उत्तम है, उस महिला को ही राज-सम्मान के साथ जनकपुर को भेज दिया। राजा जनक ने उस महिला का पूर्ण राजसी ठाठ-बाट से सम्मान किया और उसे समस्या बताई। महिला ने कार्य करने की स्वीकृति दे दी।

महिला छलनी लेकर गंगा किनारे गई और प्रार्थना की कि, ‘हे गंगा माता! यदि मैं पूर्ण पतिव्रता हूँ, तो गंगाजल की एक बूँद भी नीचे नहीं गिरनी चाहिए।’ प्रार्थना करके उसने गंगाजल को छलनी में पूरा भर लिया और पाया कि जल की एक बूँद भी नीचे नहीं गिरी।

तब उसने यह सोचकर कि यह पवित्र गंगाजल कहीं रास्ते में छलककर नीचे नहीं गिर जाए, उसने थोड़ा-सा गंगाजल नदी में ही गिरा दिया और पानी से भरी छलनी को लेकर राजदरबार में चली आयी।

राजा और दरबार में उपस्थित सभी नर-नारी यह दृश्य देक आश्चर्यचकित रह गए तथा उस महिला को ही उस व्यक्ति की आँखों पर छींटे मारने का अनुरोध किया और पूर्ण राजसम्मान देकर काफी पारितोषिक दिया।

जब उस महिला ने अपने राज्य को वापस जाने की अनुमति माँगी, तो राजा जनक ने अनुमति देते हुए जिज्ञाशावश उस महिला से उसकी जाति के बारे में पूछा। महिला द्वारा बताए जाने पर, राजा आश्चर्यचकित रह गए।

सीता स्वयंवर के समय यह विचार कर कि जिस राज्य की सफाई करने वाली इतनी पतिव्रता हो सकती है, तो उसका पति कितना शक्तिशाली होगा?

यदि राजा दशरथ ने उसी प्रकार के किसी व्यक्ति को स्वयंवर में भेज दिया, तो वह तो धनुष को आसानी से संधान कर सकेगा और कहीं राजकुमारी किसी निम्न श्रेणी के व्यक्ति को न वर ले, अयोध्या नरेश को राजा जनक ने निमन्त्रण नहीं भेजा, किन्तु विधाता की लेखनी को कौन मिटा सकता है?

अयोध्या के राजकुमार वन में विचरण करते हुए अपने गुरु के साथ जनकपुर पहुँच ही गए और धनुष तोड़कर राजकुमार राम ने सीता को वर ले गए।
🚩✊जय हिंदुत्व✊🚩
जय श्री हरि शरणम्…
🍃🎋🍃🎋🕉️🎋🍃🎋🍃

Posted in हिन्दू पतन

बेनी हिन्


देवी सिंह तोमर

हमने लिखने में 35 मिनट खर्च किया है उम्मीद है आप पढ़ने में 3 मिनट जरूर दे सकते हैं।

आप में से शायद कई लोगों ने #बेनी_हिन् का नाम पहले कभी नहीं सुना होगा, क्यूँकि हम अधिकतर वही सुनना और देखना पसंद करते हैं जो हमें दिखाया जाता है..
उसके आगे न हम देखना चाहते हैं और
न हमें उससे कुछ मतलब है…अपनी जिन्दगी चलती रहे, भाड़ में जाए दुनियादारी…
हमें PK दिखाई गई, हमें ‘ओह माय गॉड’ दिखाई गईं, हम खुश रहें और हमने इन पिक्चरों को सुपरहिट बना दिया…

1995-1996 के समय भारत में #Faith_Healing के नाम पर दो बड़े शहर दिल्ली और बेंगलोर में एक अनूठे शो का आयोजन किया गया ;
आयोजन भी कोई छोटा-मोटा नहीं, बेंगलोर सहित कर्नाटक में तत्कालीन मुख्यमंत्री #देवेगोड़ा की सरकार ने तथा दिल्ली में तत्कालीन प्रधानमंत्री #नरसिम्हा राव की सरकार ने इसका जबरदस्त प्रचार-प्रसार किया…

शो में Faith-Healer के रूप में जीसस के दूत-
बेनी हिन् आया और मंच पर कई-कई गंभीर बीमारियों वाले मरीजों को बेनी हिन् ने हाथ रखते से ही एकदम ठीक कर दिया…

● बंगलोर के शो में तो कर्नाटक का मुख्यमंत्री देवगोडा बेनी हिन् के पैरों में गिर गया था ।

कई मरीज स्टेज पर आये, किसी को ब्लड कैंसर था, किसी को आर्थराइटिस था, कोई जन्म से ही विकलांग था तो कोई ब्रेन-ट्यूमर के कारण परेशान था…यह सारे मरीज बेनी हिन् द्वारा अमेरिका से इम्पोर्ट किये गये थें…
और जैसे ही बेनी हिन् का हाथ लगता है, चमत्कार होता है और विकलांग चलने लगता है, जिसे आर्थराइटिस थी उसके पैरों का दर्द गायब हो जाता है, ट्यूमर वाले को अपना सिर कुछ हल्का सा लगने लगता है…
सारा जनसमूह बेनी हिन् के चमत्कारों ( दिखावे ) से अचम्भित हो जाता है और लगातार तालियों से उसका उत्साहवर्धन करता है… बेनी-हिन् अंतिम समय में लोगों से कहता है कि आपको कोई डाउट या समस्या हो तो आप पूछ सकते हैं…तभी…
भीड़ में से एक व्यक्ति खड़ा होता है और सवाल पूछने की अनुमति चाहता है…

बेनी हिन् – आपका नाम क्या है #Jesus_boy…?
व्यक्ति – मेरा नाम “#राजीव_दीक्षित” है और मैं कोई Jesus-boy नहीं, मैं एक सनातनी #हिन्दू हूँ…
बेनी हिन् – अपना सवाल पूछिए, क्या आपको भी कोई बीमारी अथवा समस्या है…?
व्यक्ति – जी नहीं, मुझे कोई बीमारी नहीं है…
पर आपके #ईसाई धर्म ( तथाकथित ) का जो दुनिया का सबसे बड़ा अधिकारी है पॉप, उसे दुनिया की सबसे खतरनाक बीमारी है #पार्किन्सन, तो मेरी आपसे प्रार्थना है कि उसकी बीमारी दुनिया के बड़े से बड़े डॉक्टर ठीक नहीं कर पा रहे हैं तो आप अगली फ्लाइट पकड़ कर सीधा #वैटिकन सिटी जाइए और सबसे पहले अपने पॉप पर हाथ रखकर उसे ठीक कीजिये…
बेनी हिन् – This is an Absurd question, यह एक बेहूदा सवाल है…
व्यक्ति – हाँ, यह बेहूदा सवाल है, पर मेरे लिए नहीं आपके लिए…
यदि आप किसी को भी केवल हाथ लगाकर ठीक कर सकते हो तो सबसे पहले पॉप को ठीक करो जिससे आपको अपने ईसाई धर्म ( तथाकथित ) को फ़ैलाने और आगे बढाने में मदद मिलेगी…।।

सारे शो में उथल-पुथल मच गई, लोग बेनी हिन् को फर्जी-फर्जी चिल्लाकर इधर उधर भागने लगें और उस दिन उस राजीव दीक्षित नाम के व्यक्ति ने कई हज़ार हिन्दुओं को एक झटके में ईसाई बनने से बचा लिया…
उस शो के बाद भी बेनी हिन् के कई शो हुए, पर हर जगह राजीव दीक्षित जैसे व्यक्ति का होना मुश्किल होता है, उस शो के बाद बेनी हिन् के बहकावे में आकर कई लोग अपना धर्म छोड़ Faith-Healing के नाम पर ईसाई बन गएं…हमारे भारत में कई अंधश्रद्धा-निर्मूलन संस्थाएं चलती हैं जिनका एक ही उद्देश्य रहता है कि हिन्दू धर्म के संत, हिन्दू धर्म के शंकराचार्य, हिन्दू धर्म के पंडित जो कुछ करें उसे अंधश्रद्धा घोषित कर उसका विरोध करो… और दूसरे धर्म के प्रचारक कितनी भी अंधश्रद्धा फैलाएं, कितने भी Faith-Healing जैसे शो करें पर उनका कोई भी विरोध, उनके Rules के खिलाफ रहता है…
हिन्दू धर्म के कर्मकांडों का मजाक उड़ाने भारत में PK जैसी फिल्में बनाई जाती हैं और दुर्भाग्यवश हम सब के कारण वो भारत की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बन जाती है…
हम मूर्खता में आकर इतने अंधे हो जाते हैं कि हमें गौमाता को घास खिलाना तक ‘Wrong Number’ दिखाई देने लगता है…
बेनी हिन् आज हार्ट की बीमारी के चलते कई अस्पतालों से इलाज करवा रहा है और 1995 के उस शो से लेकर आज तक जितने
लोग भारत में उसके Faith-Healing नामक झांसे का शिकार बन उसके द्वारा ईसाई बने, वो आज अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहे हैं।
इसीलिए मैं आप सभी बन्धुओं से ये निवेदन करता हूँ कि अपना धर्म कभी न त्यागें।
और सदैव अपने साधु-संतों की इज़्ज़त करें।।

1 शेयर कर दें तो लिखना सार्थक हो जाये🙏

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

आज ही क्यों नहीं ?


आज ही क्यों नहीं ?
एक बार की बात है कि एक शिष्य अपने गुरु का बहुत आदर-सम्मान किया करता था |गुरु भी अपने इस शिष्य से बहुत स्नेह करते थे लेकिन वह शिष्य अपने अध्ययन के प्रति आलसी और स्वभाव से दीर्घसूत्री था | सदा स्वाध्याय से दूर भागने की कोशिश करता तथा आज के काम को कल के लिए छोड़ दिया करता था | अब गुरूजी कुछ चिंतित रहने लगे कि कहीं उनका यह शिष्य जीवन-संग्राम में पराजित न हो जाये| आलस्य में व्यक्ति को अकर्मण्य बनाने की पूरी सामर्थ्य होती है | ऐसा व्यक्ति बिना परिश्रम के ही फलोपभोग की कामना करता है| वह शीघ्र निर्णय नहीं ले सकता और यदि ले भी लेता है, तो उसे कार्यान्वित नहीं कर पाता| यहाँ तक कि अपने पर्यावरण के प्रति भी सजग नहीं रहता है और न भाग्य द्वारा प्रदत्त सुअवसरों का लाभ उठाने की कला में ही प्रवीण हो पता है | उन्होंने मन ही मन अपने शिष्य के कल्याण के लिए एक योजना बना ली |

एक दिन एक काले पत्थर का एक टुकड़ा उसके हाथ में देते हुए गुरु जी ने कहा –‘मैं तुम्हें यह जादुई पत्थर का टुकड़ा, दो दिन के लिए दे कर, कहीं दूसरे गाँव जा रहा हूँ| जिस भी लोहे की वस्तु को तुम इससे स्पर्श करोगे| वह स्वर्ण में परिवर्तित हो जायेगी| पर याद रहे कि दूसरे दिन सूर्यास्त के पश्चात मैं इसे तुमसे वापस ले लूँगा|’

शिष्य इस सुअवसर को पाकर बड़ा प्रसन्न हुआ लेकिन आलसी होने के कारण उसने अपना पहला दिन यह कल्पना करते-करते बिता दिया कि जब उसके पास बहुत सारा स्वर्ण होगा तब वह कितना प्रसन्न, सुखी,समृद्ध और संतुष्ट रहेगा| इतने नौकर-चाकर होंगे कि उसे पानी पीने के लिए भी नहीं उठाना पड़ेगा | फिर दूसरे दिन जब वह प्रातःकाल जागा, उसे अच्छी तरह से स्मरण था कि आज स्वर्ण पाने का दूसरा और अंतिम दिन है | उसने मन में पक्का विचार किया कि आज वह गुरूजी द्वारा दिए गये काले पत्थर का लाभ ज़रूर उठाएगा | उसने निश्चय किया कि वो बाज़ार से लोहे के बड़े-बड़े सामान खरीद कर लायेगा और उन्हें स्वर्ण में परिवर्तित कर देगा| दिन बीतता गया, पर वह इसी सोच में बैठा रहा की अभी तो बहुत समय है, कभी भी बाज़ार जाकर सामान लेता आएगा|

उसने सोचा कि अब तो दोपहर का भोजन करने के पश्चात ही सामान लेने निकलूंगा. पर भोजन करने के बाद उसे विश्राम करने की आदत थी , और उसने बजाये उठ के मेहनत करने के थोड़ी देर आराम करना उचित समझा, पर आलस्य से परिपूर्ण उसका शरीर नीद की गहराइयों में खो गया, और जब वो उठा तो सूर्यास्त होने को था| अब वह जल्दी-जल्दी बाज़ार की तरफ भागने लगा, पर रास्ते में ही उसे गुरूजी मिल गए उनको देखते ही वह उनके चरणों पर गिरकर, उस जादुई पत्थर को एक दिन और अपने पास रखने के लिए याचना करने लगा लेकिन गुरूजी नहीं माने और उस शिष्य का धनी होने का सपना चूर-चूर हो गया | पर इस घटना की वजह से शिष्य को एक बहुत बड़ी सीख मिल गयी| उसे अपने आलस्य पर पछतावा होने लगा, वह समझ गया कि आलस्य उसके जीवन के लिए एक अभिशाप है और उसने प्रण किया कि अब वो कभी भी काम से जी नहीं चुराएगा और एक कर्मठ, सजग और सक्रिय व्यक्ति बन कर दिखायेगा|

मित्रों, जीवन में हर किसी को एक से बढ़कर एक अवसर मिलते हैं , पर कई लोग इन्हें बस अपने आलस्य के कारण गवां देते हैं| इसलिए मैं यही कहना चाहता हूँ कि यदि आप सफल, सुखी, भाग्यशाली, धनी अथवा महान बनना चाहते हैं तो आलस्य और दीर्घसूत्रता को त्यागकर, अपने अंदर विवेक, कष्टसाध्य श्रम,और सतत् जागरूकता जैसे गुणों को विकसित कीजिये और जब कभी आपके मन में किसी आवश्यक काम को टालने का विचार आये तो स्वयं से एक प्रश्न कीजिये – “आज ही क्यों नहीं ?”

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🙏शुभ रात्रि नाथ🙏

एक बार कबीरदास जी हरि भजन करते एक गली से निकल रहे थे।
उनके आगे कुछ स्त्रियां जा रही थीं ।
उनमें से एक स्त्री की शादी कहीं तय हुई होगी तो उसके ससुरालवालों ने शगुन में एक नथनी भेजी थी ।
वह लड़की अपनी सहेलियों को बार-बार नथनी के बारे में बता रही थी कि नथनी ऐसी है वैसी है
ये ख़ास उन्होंने मेरे लिए भेजी है… बार बार बस नथनी की ही बात…

उनके पीछेे चल रहे कबीरजी
के कान में सारी बातें पड़ रही थी ।
तेजी से कदम बढाते कबीर उनके पास से निकले और कहा-

“नथनी दीनी यार ने,
तो चिंतन बारम्बार, और
नाक दिनी जिस करतार ने,
उनको तो दिया बिसार..”

सोचो यदि नाक ही ना होती तो
नथनी कहां पहनती !

यही जीवन में हम भी करते हैं।
भौतिक वस्तुओं का तो हमें ज्ञान रहता है परंतु जिस परमात्मा ने यह दुर्लभ मनुष्य देह दी और इस देह से संबंधित सारी वस्तुऐं, सभी रिश्ते-नाते दिए, उसी को याद करने के लिए हमारे पास समय नहीं होता ।

इसलिए सदा उस दाता, उस ईश्वर के आभारी रहिए।
एक बार प्रेम से कह दो जय श्री राम

दीपेश 🙏🌻🌹💮🌷💐🌹🌼🏵🙏

Posted in संस्कृत साहित्य

प्रसाद देवरानी

ऐरावत हाथी

🐘🐘🐘🐘🐘🐘🐘🐘🐘🐘

ऐरावत देवताओं के राजा इन्द्र के हाथी का नाम है। यह हाथी देवताओं और असुरों द्वारा किये गए समुद्र मंथन के दौरान निकली चौदह मूल्यवान वस्तुओं में से एक था। मंथन से प्राप्त रत्नों के बँटवारे के समय ऐरावत को इन्द्र को दे दिया गया था।

हिन्दू धार्मिक ग्रंथों में ऐरावत का वर्णन एक श्वेत गज के रूप में है जो देवराज इंद्र का वाहन है। इसकी भार्या गजा का नाम अभ्रमु कहा गया है।

ऐरावत के दस दन्त है जो दसों दिशाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं और पाँच सूंड हैं जो पाँच प्रमुख देवताओं (पञ्चदेवता) का प्रतिनिधित्व करते हैं। कहीं-कहीं उसके चार दन्त होने का भी उल्लेख है जो चार प्रमुख दिशाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं।

पुराणों में ऐरावत के और भी कई नाम हैं जिनमे से प्रमुख हैं – अभ्रमातंग, ऐरावण, अभ्रभूवल्लभ, श्वेतहस्ति, मल्लनाग, हस्तिमल्ल, सदादान, सुदामा, श्वेतकुंजर, गजाग्रणी तथा नागमल्ल। महर्षि कश्यप और दक्ष पुत्री क्रुदु द्वारा उत्पन्न एक नाग का नाम भी ऐरावत है किन्तु ये लेख इंद्र के वाहन ऐरावत के बारे में है।

“इरा” का एक अर्थ जल भी होता है और ऐरावत का अर्थ होता है जल से उत्पन्न। उसे ऐसा नाम इस कारण मिला क्यूँकि ऐरावत की उत्पत्ति समुद्र-मंथन के कारण समुद्र से हुई थी।

ये समुद्र-मंथन में उत्पन्न १४ रत्नों में एक रत्न माना जाता है जिसे इंद्र ने भगवान विष्णु से दैत्यराज बलि की सहमति के पश्चात अपने वाहन के रूप में माँग लिया था। रामायण के अनुसार ऐरावत की माता का नाम इरावती था।

मतंगलीला के अनुसार एक बार परमपिता ब्रम्हा ने ब्रम्ह-अण्ड (इसी से ब्रम्हांड शब्द की रचना हुई) के पास अपनी मधुर स्वर में स्त्रोत्र का गायन किया।

इसी के प्रभाव से पहले उस अंडे से पहले गरुड़ और फिर ऐरावत सहित आठ गजों की उत्पत्ति हुई। यही आठ गज आठों दिग्पालों के वाहन माने गए हैं और ऐसी मान्यता है कि इन्ही गजों पर बैठ कर आठों दिग्पाल पृथ्वी को उसकी धुरी पर संभाले रखते हैं। इसी कारण उन्हें दिग्गज (गजों पर विराजित) भी कहते हैं। इनमे से ऐरावत पूर्व दिशा के स्वामी इंद्र का वाहन और अन्य सात गजों का स्वामी है।

विष्णु के अंश पृथु ने ऐरावत को गजों का सम्राट घोषित किया। ऐरावत का एक अर्थ बादलों को बांधने वाला भी होता है जो इंद्र के बादलों के देवता की पदवी को पूरा करता है।

इंद्र ने वृत्रासुर का वध भी ऐरावत की सहायता से उसपर बैठ कर ही किया था।

एक मान्यता के अनुसार जब देवराज इंद्र वर्षा का आह्वाहन करते हैं, ऐरावत अपने शक्तिशाली सूडों से पाताल लोक से जल खींच कर बादलों के द्वारा पृथ्वीलोक पर बरसाता है। एक अन्य मान्यता के अनुसार वो जल भगवान विष्णु के क्षीर-सागर का होता है। कहा जाता है कि ऐरावत अपनी शक्ति से पृथ्वी को अपनी धुरी से भटकने नहीं देता। ऐरावत को स्वर्ग लोक में स्थित इंद्रभवन के द्वार का रक्षक भी माना जाता है। श्रीकृष्ण ने गीता में कहा है कि “अश्वों में मैं उच्चैश्रवा और गजों में मैं ऐरावत हूँ।”

महाभारत के भीष्म पर्व में आर्यावर्त के उत्तरी भू-भाग को कुरु ना कहकर ऐरावत कहा गया है। भीष्म के पूर्वज महाराज हस्ती के शासनकाल में कुरुराज्य का नाम हस्तिनापुर रखा गया और ऐरावत को इस नगर का अधिष्ठाता माना गया। ऐरावत द्वारा पारिजात की माला तोड़ देने के कारण ही महर्षि दुर्वासा ने इंद्र को सिंहासन से च्युत होने का श्राप दे दिया था।

पुराणों में ऐरावत की शक्ति का भी वर्णन है जिसमे कहा गया है कि ऐरावत की शक्ति विराट है। उसकी चिंघाड़ की तुलना इंद्र के वज्र से उत्पन्न तड़ित (बिजली) से की गयी है। कहा गया है कि शेषनाग के सामान ऐरावत भी पृथ्वी का भार सँभालने में सक्षम है। जब इंद्र ऐरावत पर बैठ कर युद्ध को जाते हैं तो उसके समक्ष शत्रुओं के ह्रदय बैठ जाते हैं।

इंद्र पर किया गया हर प्रहार पहले ऐरावत झेलता है, फिर उनका वज्र और फिर वो इंद्र के शरीर तक पहुँचता है। हरिवंश पुराण में वर्णित है कि जब श्रीकृष्ण पारिजात वृक्ष लाने स्वर्ग पहुँचते हैं तो वहाँ उनका सामना ऐरावत से होता है। जब सामान्य बल से वो ऐरावत को पराजित नहीं कर पाते तब वे सुदर्शन चक्र का प्रयोग उसपर करते हैं तब जाकर वो शांत होता है।

जब गरुड़ अपनी माता विनीता को दासत्व से मुक्त करने के लिए स्वर्ग-लोक में पहुँचते हैं तो वहाँ उनका ऐरावत के साथ भीषण संग्राम होता है। ऐरावत के सूंड से निकली वायु के वेग को स्वयं पवन देव की शक्ति के समकक्ष माना गया है। वृत्रासुर के विरूद्ध युद्ध में इंद्र ऐरावत और वज्र के कारण ही उसपर विजय प्राप्त करने के सक्षम होते हैं।

ऐरावत और वज्र की शक्ति को समकक्ष माना गया है। पुराणों में ऐरावत की शक्ति अन्य दिग्पालों के ७ गजों की सम्मलित शक्ति से भी अधिक माना गया है। रामायण में जामवंत ने हनुमान की शक्ति का वर्णन करते हुए उनके पूंछ की शक्ति को ऐरावत के सूंड की शक्ति के सामान बताया है।

तमिलनाडु में तंजौर के निकट दारासुरम के एक मंदिर में ऐरावत भगवान रूद्र के एक लिंग “ऐरावतेश्वर” के रूप में पूजा जाता है जो राजराजा चोला द्वितीय द्वारा बनवाया गया था। कर्नाटक परिवहन ने भी अपने सर्वश्रेष्ठ बस-सेवा का नाम ऐरावत रखा है। जैन धर्म में भी ये मान्यता है कि जब पहले तीर्थंकर स्वामी ऋषभदेव का जन्म हुआ तो स्वयं देवराज इंद्र ऐरावत पर बैठ कर उस उत्सव में आये।

हाथियों के देश माने जाने वाले थाईलैंड में भी ऐरावत का बड़ा महत्त्व है। बैंकाक का वात-अरुण मंदिर ऐरावत को समर्पित है जहाँ उसे तीन सर वाले हाँथी के रूप में दिखाया गया है। थाईलैंड और लाओस देश के ध्वज पर भी ऐरावत का चिह्न बना हुआ है।

🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻