Posted in Kashmir

देवी सिंग तोमर

19 जनवरी 1990 को काश्मीर में जो कुछ भी हुआ उसकी नींव करीब सौ साल पहले रखी गयी थी ।

सन 1889 में डोगरा शाषक प्रताप सिंह की राजकीय ताकतें छीन कर ब्रिटिश सरकार द्वारा बनाई गई स्टेट काउंसिल को दे दी गयी ।
स्टेट काउंसिल ने प्रशासनिक भर्तियों की प्रकिया को इंडियन सिविल सर्विसेज के द्वारा लागू कर दिया गया और राज्य भाषा फ़ारसी से बदलकर उर्दू कर दी गयी ।
अभी तक राज्य के प्रशाषन में कश्मीरी पंडितों का बोलबाला था जो अंग्रेजी माध्यम की परीक्षा व्यवस्था के बाद बदल गया । कश्मीर के प्रशासनिक पदों में बाहरी राज्य के लोगों का दबदबा बढ़ने लगा खासकर हिन्दू पंजाबियों का ।
लगातार अपना दबदबा खो रहे पंडितों ने स्टेट कॉउन्सिल से लेकर डोगरा राजा और ब्रिटिश सरकार तक बार बार अपनी बात पहुंचाई ।
1905 में प्रताप सिंह को वापस राजा बना दिया गया और कश्मीरी पंडितों के दबाव में 1912 में सीमित बनाई गई जिसने ये माना कि हर वो व्यक्ति जिसके पास राज्य में स्थाई सम्पत्ति है या जो 20 वर्ष से राज्य में रह रहा हो उसे स्थाई निवासी माना जायेगा और प्रशासनिक पदों में उनको वरियता दी जायेगी ।
1912 के बने इस फार्मूले ने भी पंडितों में ज्यादा उत्साह नही भरा क्योंकि अधिकतर पंजाबी राज्य में बीस से अधिक वर्ष से रह रहे थे और मुस्लिम समाज ने अपने समाज की पिछड़ी स्थिति को देखकर इस दौड़ से खुद को दूर ही रखा क्योंकि वो जानते थे मेरिट के आधार पर चयन से उनका कोई फायदा नही होना है हालांकि उन्होंने मुस्लिमों की संख्या बढ़ाने के लिये दूसरे राज्य से मुस्लिमों को चुने जाने की मांग रखी जिसे डोगरा राजा द्वारा खारिज कर दिया गया ।
कश्मीरी पंडितों ने इसके बाद स्थाई निवासी की परिभाषा बदलने के लिये दबाव बनाना शुरू किया ।
संकर लाल कौल ने पहली बार कश्मीरियत को परिभाषित करने का प्रयास किया और सिर्फ उन्हें ही कश्मीरी मुल्की माना जो पाँच जनरेशन से राज्य में रह रहा हो ।
कश्मीरियत के इस फार्मूले से काश्मीरी पंडितों ने काश्मीरी मुसलमानों को भी अपनी मुहिम में जोड़ने की कोसिस शुरू की जो अभी तक मेरिट के सवाल पर चयन के विरुद्ध थे ।
प्रताप सिंह की मृत्यु के बाद राजा हरि सिंह ने शाषन सम्भाला और 31 जनवरी 1927 को नये स्टेट ऑर्डर द्वारा कश्मीरी मुल्की होने को फिर से डिफाइन किया गया और प्रथम दर्जे का नागरिक उन्हें माना गया जो प्रथम डोगरा राजा के समय से राज्य में बसे हुये थे और इन्हें प्रशसनिक पदों में उच्च वरीयता दी गयी ।
जन्हा एक ओर इस कानून के बाद पंडितो का बोलबाला प्रशासन में फिर से बढ़ने लगा मुसलमानों की स्थिति में शिक्षा की कमी की वजह से ज्यादा सुधार ना हुआ और उन्होंने जनसँख्या के आधार पर रिजर्वेशन की मांग की जिसे सिरे से नकार दिया गया ।
मुसलमानों ने इसके बाद राजा हरि सिंह और कश्मीरी पंडितों के खिलाफ मुहिम शुरू कर दी जिसका परिणीति हुई 13 जुलाई 1931 को भयानक दंगो के रूप ने जिसमे मुसलमानों ने कश्मीरी पंडितों पर हमले कर घरो को जलाना शुरू कर दिया जिसका अंतिम विस्तार 19 जनवरी 1990 को कश्मीरी पंडितों के निर्वासन के रूप में हुआ ।
आज सीएए और एनसीआर का विरोध करने वाले हिंदुओं खासकर असमिया हिंदुओं के तर्क आज वही नजर आते हैं जो 1912 में कश्मीरी पंडितों के थे ।

इतिहास पढ़ने का कोई फायदा नही अगर उससे कुछ सीखा ना जाय

Posted in જાણવા જેવું

ધીરાભગતની કળીયુગ વાણી

pareejat

આ સંત હતા વડોદરા શહેરના ગોઠડા ગામમાં રહેનાર ધીરા ભગત. ધીરાએ પોતાના જીવનકાળમાં અનેક ભજન લખ્યા. તેમની અનેક રચનાઓમાં એક રહસ્યમય રચના કલિયુગ એંધાણી પણ છે. ધીરાએ પોતાના ભજન કાવ્યમાં ભવિષ્ય વિશે જે-જે લખ્યું તે હવે સાચુ પડી રહ્યું છે. ધીધા ભગતની બધી રચનાઓ ગુજરાતી ભાષામાં જ છે. ધીરા ભગતના નામનો ઉલ્લેખ મધ્યકાલીન સંવત 1808 અર્થાત્ ઈ.સ. 1753ના કાળમાં ગુજરાતી સાહિત્યનો ઈતિહાસમાં મળે છે. તેમનું પૂરું નામ હતું ધીરા પ્રતાપ બારોટ. તેમને અનેક વેદ-વેદાંતોનું અધ્યયન કર્યું અને પદ રચ્યા. તેમાં રણયજ્ઞ, દ્રોપદી વસ્ત્રાહરણ, માયાનો મહિમા, અવલવાણી વગેરે છે. આવો જાણીએ શું-શું લખ્યું છે ધીરા ભગતે પોતાના ભજનોમાં….

એવી કલયુગની છે આ એંધાણી રે

કલયુગની એંધાણી રે…

ન જોઈ હોય તો,  જોઈ લ્યો ભાઈઓ…

વરસો વરસ દુકાળ પડે..

અને વળી સાધુ કરશે સૂરાપાન

આ બ્રાહ્મણ માટી ભરખશે

અને ગાયત્રી ધરે નહીં કાન

હે જી બાવા થાશે વ્યાભિચારી…

આનો અર્થ એ છે કે પંડિત કહે છે કે કળયુગ કેવી રીતે આવશે. તેની નિશાની નહીં હોય, વર્ષો સુધી પડશે દુષ્કાળ. અત્યારે પણ તમે જોઈ શકો છો દુનિયા પાણીના સંકટ સામે ઝઝૂમી રહી છે. દુનિયામા અનેક જગ્યાઓ તો એવી છે, જ્યાં પાણીનું નામો-નિશાન નથી. ધીરે-ધીરે વરસાદ ઓછો થઈ રહ્યો છે. ધીરા આગળ લખે છે કે…સાધુ કરશે સૂરાપાન.. આજે આપણે જોઈ રહ્યા છીએ કે આજકાલ સાધુ-મહાત્મા માત્ર દારુનું  સેવન નથી કરી રહ્યા પણ દરેક એવા અનૈતિક કામ કરી રહ્યા છે અને સાધુના વેશમાં શૈતાનના કામ કરી રહ્યા છે. આજે ગાયત્રી દેવી કે અન્ય કોઈ આધ્યાત્મિક શક્તિ ફળદાયી નથી રહી.

શેઢે શેઢો ઘસાસે…

વળી ખેતરમાં નહીં રહે ખૂંટ

આદિ વહાણ છોડી કરે

અને બ્રાહ્મણ ચઢશે ઊંટ

એવી ગાયો ભેંસો જોશે રે

એ દુજાણામાં અજિયા રહેશે.

આજે આપણે જોઈ રહ્યા છીએ કે જમીન-જાયદાદ માટે ભાઈ-ભાઈનો જ નહીં, પુત્ર પિતાનું પણ ખૂન વહાવવાનું નથી ચૂકતો. વળી ખેતરમાં નહીં રહે ખૂંટ…હવે લગભગ દરેક જગ્યાએ ખેતરમાં ગાય-ભેંસ નહીં જોવા મળે. પણ તેની જગ્યાએ ટ્રેક્ટર જેવા અન્ય વાહનોએ તેની જગ્યા લઈ લીધી છે. બ્રાહ્મણોએ પણ જૂની વસ્તુઓ ત્યાંગીને નવીં વસ્તુઓ અપનાવી લીધી છે. એવીગાયો ભેંસો જોઈશે રે….મહત્વની વાત એ છે કે આજે ગાય-ભેંસોની સંખ્યા દિવસે-દિવસે ઓછી થઈ રહી છે. દૂધની એટલી ખોટ પડી રહી છે કે બકરીનું દૂધ પીવા સુધીની નોબત આવી ગઈ છે. હવે ગાયો ભેંસો ખેતરની જગ્યાએ કતલખાને પહોંચી રહી છે અને ઝડપથી દરેક જગ્યાએ કતલખાના ખૂલતા જઈ રહ્યા છે.

કારડીયા તો કરમી કહેવાશે

અને વળી જાડેજા ખોજશે જાળા

નીચને ઘેર ઘોડા બંધાશે.

અને શ્રીમંત ચાલશે પાળા

મહાજન ચોરી કરશે રે

અને વાળંદ થાશે વેપારી….

જે અનૈતિક કામ કરે છે, ભષ્ય આચરણથી પોતાનું પેટ ભરે છે, તેમના ઘરે ઘોડો બાંધેલ નજર પડશે. એવી જ રીતે તેની વિપરિત સજ્જન પુરુષો પગે ચાલતા જોવા મળશે. વર્તમાનમાં પણ એવું જ થઈ રહ્યું છે. આજે  અનૈતિક કામ કરનારા ફળી-ફૂલી રહ્યા છે, જ્યારે ઈમાનદાર અને સજ્જન પુરુષોનું જીવન દયનીય થઈ રહ્યું છે. તેમાં કોઈપણ ભૂલ નથી, આ તો સમયનો જ દોષ છે.

પુરુષો ગુલામ થશે.

રાજ તો રાણીઓના થશે

અને વળી પુરુષ થશે ગુલામ

આ ગરીબની અરજી કોઈ સાંભળશે નહીં.

અને સાહેબને કરશે સલામ….

પુરુષ હવે સ્ત્રીઓના ગુલામ થશે.  ગરીબની અરજી કોઈ નહીં સાંભળે અને સાહેબને કરશે સલામ..અર્થાત્ ગરીબની કોઈ નહીં સાંભળે. આજે અધિકારીઓની કચેરીઓમાં ગરીબો માથુ પટકી પટકીને મરી જાય છે, પરંતુ તેમની કોઈ જ વાત સાંભળવામાં નથી આવતી. ગરીબ વ્યક્તિ ગમે એટલો સજ્જન હોય, તેને કોઈ સલામ નથી કરતું, જ્યારે અમીર વ્યક્તિને બધા સલામ ઠોકે છે.

ઓલા વાણિયા વાટુ આ લૂંટશે રે

રહેશે નહીં કોઈ પતિવ્રતા નારી

છાશમાં માખણ નહીં તરે

અને વળી દરિયે નહીં હાલે વહાણ

આ ચાંદ સૂરત તો ઝાખા થશે

એવો દાસ ધીરો એમ આ કહે છે રે

કીધુમાં આ વિચાર કરી

એવી કળયુગની એંધાણી રે..

એ ન જોઈ હોઈ તો,

જોઈ લ્યો ભાઈઓ…

 ધીરા ભગત કહે છે કે વેપારી લોકો કોઈને કોઈ કારણે લૂંટવામાં આવશે. નારી કોઈ પતિવ્રતા નહીં રહે. આ સ્થિતિ તો વર્તમાનમાં પણ કહી શકાય છે. છાસમાં માખણ નહીં તરે. અર્થાત્ છાસમાં માખણ નહીં રહે, પણ પાણ રહેશે. પછી તે કળયુગના અંતિમ સંકેત આપીને કહે છે કે નદી તાલ સૂકાતા જશે અને ચાંદ-સૂજનનું તેજ પણ ઓછું થઈ જશે. આજે વિજ્ઞાન પણ કહે છે કે સૂર્યમાં પણ કાળા ધબ્બા જોવા મળી રહ્યા છે અને તેની સંખ્ય લગાતાર વધી રહી છે.

બોની રોતી જાશે રે

અને સગપણમાં સાલી રહેશે

એ ધરમ કોઈનો રહેશે નહી.

અને એક પ્યાલે વરણ અઢાર

આ શણગારમાં જો બીજું કોઈ નહીં રહે

અને સોભામા રહેશે વાલ

 ભાઈની બહેનડી  જો  ઘરમાં આવશે તો તેની આવભગત થશે નહીં  કારણ કે હવે તે પતિની માત્ર બહેન નથી રહેતી, પણ પત્નીની રકમ બની જાય છે. એવી જ રીતે જો ઘરમાં સાળી આવે તો જીજા તેના ખ્યાલ રાખવામાં કોઈ કસર  છોડશે નહીં. આમ બહેન નામે ઓળખાતી સ્ત્રીનાં સંબોધનના સૂત્ર બદલાઈ જશે.

સંત ધીરાએ આગળ કહ્યું છે કે કળયુગમાં ધર્મનું કોઈ મહત્વ નહીં રહે. અને એક પ્યાલે વરણ અઢાર..અર્થાત્ એક જ પ્યાલા અનેક લોકો માટે ઉપયોગમાં લેવામાં આવશે. જો તમે આ પ્યાલો દારુનો કહો, હોટલમાં ભોજનના વાસણનો કહો. તમે પોતાના ધાર્મિક કહેનાર વ્યક્તિ માટે પણ આ વસ્તુઓ અનટચેબલ રહે છે.આ શણગારમાં તો બીજું કંઈ નહી રહે અને શોભામા રહેશે વાલ…આ વાત સ્ત્રીઓના સંબંધમાં કહેવામાં આવી છે કે આ સમય સુધી ભારતીય નારીના સૌંદર્ય પરંપરામાં કોઈપણ વસ્તુ નહીં રહે. હા, તેમની માટે જો શોભાની કોઈ વસ્તુ બચી રહેશે તો માત્ર વાળ. વર્તમાનમાં સ્ત્રીઓના પોષક અને રહન-સહનથી આ વાતનો અંદાજો લગાવી શકાય છે.

દિવ્યભાસ્કરનાં સૌજન્યથી.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

भोग का फल…..

एक सेठजी बड़े कंजूस थे।
.
एक दिन दुकान पर बेटे को बैठा दिया और बोले कि बिना पैसा लिए किसी को कुछ मत देना, मैं अभी आया।
.
अकस्मात एक संत आये जो अलग अलग जगह से एक समय की भोजन सामग्री लेते थे,
.
लड़के से कहा, बेटा जरा नमक दे दो।
.
लड़के ने सन्त को डिब्बा खोल कर एक चम्मच नमक दिया।
.
सेठजी आये तो देखा कि एक डिब्बा खुला पड़ा था। सेठजी ने कहा, क्या बेचा बेटा ?
.
बेटा बोला, एक सन्त, जो तालाब के किनारे रहते हैं, उनको एक चम्मच नमक दिया था।
.
सेठ का माथा ठनका और बोला, अरे मूर्ख ! इसमें तो जहरीला पदार्थ है।
.
अब सेठजी भाग कर संतजी के पास गए, सन्तजी भगवान् के भोग लगाकर थाली लिए भोजन करने बैठे ही थे कि..
.
सेठजी दूर से ही बोले, महाराज जी रुकिए, आप जो नमक लाये थे वो जहरीला पदार्थ था, आप भोजन नहीं करें।
.
संतजी बोले, भाई हम तो प्रसाद लेंगे ही, क्योंकि भोग लगा दिया है और भोग लगा भोजन छोड़ नहीं सकते।
.
हाँ, अगर भोग नहीं लगता तो भोजन नही करते और कहते-कहते भोजन शुरू कर दिया।
.
सेठजी के होश उड़ गए, वो तो बैठ गए वहीं पर।
.
रात हो गई, सेठजी वहीं सो गए कि कहीं संतजी की तबियत बिगड़ गई तो कम से कम बैद्यजी को दिखा देंगे तो बदनामी से बचेंगे।
.
सोचते सोचते उन्हें नींद आ गई। सुबह जल्दी ही सन्त उठ गए और नदी में स्नान करके स्वस्थ दशा में आ रहे हैं।
.
सेठजी ने कहा, महाराज तबियत तो ठीक है।
.
सन्त बोले, भगवान की कृपा है..!!
.
इतना कह कर मन्दिर खोला तो देखते हैं कि भगवान् के श्री विग्रह के दो भाग हो गए हैं और शरीर काला पड़ गया है।
.
अब तो सेठजी सारा मामला समझ गए कि अटल विश्वास से भगवान ने भोजन का ज़हर भोग के रूप में स्वयं ने ग्रहण कर लिया और भक्त को प्रसाद का ग्रहण कराया।
.
सेठजी ने घर आकर बेटे को घर दुकान सम्भला दी और स्वयं भक्ति करने सन्त शरण चले गए।
**
भगवान् को निवेदन करके भोग लगा करके ही भोजन करें, भोजन अमृत बन जाता है।
.
जय जय श्रीराधे जी

Posted in मातृदेवो भव:

“माँ” से बढ़कर कोई नहीं :-

पोस्ट के साथ लगी तस्वीर क्वींसलैंड में रहने वाली एक “माँ” फियोना सिम्पसन की है। फियोना अपनी एक वर्ष की बिटिया क्लारा के साथ शहर से बाहर जा रही थी के अचानक मूसलाधार बारिश शुरू हो गयी। फियोना गाड़ी चला रही थी और बिटिया क्लारा बगल की सीट पर आराम से सो रही थी। बारिश अब भयंकर रूप ले रही थी। अचानक बिजली ज़ोर से कड़की और फियोना ने गाड़ी को वहीं थाम दिया ।

सामने देखा तो मूसलाधार बारिश के साथ तेज़ हवायें चलने लगी थी। अगले ही क्षण फियोना की गाड़ी के सामने एक जोरदार धमाका हुआ। बिजली का खम्बा हवाओं के वेग से उखड़ कर सड़क पर गिर चुका था। फियोना ने दूसरी ओर नज़र दौड़ाई तो एक पेड़ जड़ से उखड़ कर नीचे गिर रहा था …!

तूफान ने दस्तक दे दी थी । इतने में शोर के कारण बिटिया की नींद खुल गयी। फियोना घबरा चुकी थी। उनका सामना एक Tornado ( बवंडर ) से हो रहा था।

अगले ही क्षण हवाओं के दबाव से गाड़ी का एक शीशा टूटा और फियोना की बाजू में जा लगा। फियोना की बाज़ू से लहू रिस रहा था और बगल में बिटिया शोर की घबराहट से ज़ोर ज़ोर से रो रही थी …!

फियोना ने बिटिया को गोद में उठाया और गाड़ी की पिछली सीट पर कूद गई। उसने बिटिया को अपने आप में ऐसे जकड़ लिया के अगर कुछ भी पदार्थ गाड़ी के अंदर आये तो बिटिया तक ना पहुंच पाये। दुर्भाग्यवश गाड़ी का पिछला शीशा भी ध्वस्त हो गया और कांच के टुकड़े फियोना की कमर में जा लगे।

तूफान बढ़ता जा रहा था । फियोना ने बिटिया को जकड़े रखा। इतने में ओले पड़ने शुरू हो गये। तेज़ हवा में बर्फीली ओले किसी गोली की तरह फियोना के शरीर पर लगते रहे। फियोना दर्द से चीख रही थी।

इतने में उसे दिखा के बिटिया के सर से थोड़ा खून बह रहा है। गाड़ी का सामने वाला शीशा भी टूट चुका था और तेज़ तूफान में ना जाने क्या क्या गाड़ी में आकर लग रहा था। फियोना ने बिटिया को और कस के जकड़ लिया ।

इसी बीच कांच के टुकड़े फियोना के शरीर को भेदते रहे और तेज़ रफ़्तार से टकराते ओले असहनीय दर्द देते रहे। परन्तु फियोना को अपनी परवाह ही कहाँ थी …!

उसके माथे पर चिंता की लकीरें तो बिटिया को लेकर थी। तूफान का सामना करते करते फियोना लगभग बेसुध हो गयी पर आखिरी दम तक बिटिया को बचाये रखा। एक कवच बन कर बिटिया से लिपटी रही।

तूफान शांत हुआ तो स्थानीय लोग मदद को आये। उन्हें गाड़ी में एक बेसुध माँ दिखी जिसके शरीर का एक एक हिस्सा ज़ख्मी हो चुका था और ढाल बनी माँ के नीचे एक बिटिया जिसके सर पर एक हल्की सी खरोंच आयी थी …!

यह तस्वीर घायल फियोना की है जब उन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया। फियोना के शरीर के हर हिस्से से खून बह रहा था। कई जगह कांच के टुकड़े तक घुस गए थे । असहनीय दर्द था। डॉक्टर आये तो फियोना ने बिटीया को आगे कर दिया …! बोली “डॉक्टर …इसे देखिये इसके सर पर खरोंच है …!

यह बात वह माँ कह रही थी जिसका सारा शरीर ज़ख्मी था। इस असहनीय अवस्था में भी उसे अपनी बेटी की फिक्र लगी थी …!

परिस्थियां जो भी हों हर माँ अपने बच्चों के लिये हर समय समर्पित रहती है। उसे कभी अपने दुःखों की परवाह नहीं होती । उसे सिर्फ अपनी संतान के सुख की चाह होती है ..

दुनिया से जाने के लिए तो बहुत से रास्ते हैं…

पर दुनिया में आने के लिए सिर्फ एक रास्ता है ….”माँ” ।

सादर/साभार

सुधांशु

(जगदीश जी)

(अक्टूबर 2018 की सत्य घटना पर आधारित पोस्ट )

#मां #क्वीन्सलैंड #ममता #घटना

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

उन चारों को होटल में बैठा देख, मनीष हड़बड़ा गया.
.
लगभग 25 सालों बाद वे फिर उसके सामने थे.

शायद अब वो बहुत बड़े और संपन्न आदमी हो गये थे.

मनीष को अपने स्कूल के दोस्तों का खाने का आर्डर लेकर परोसते समय बड़ा अटपटा लग रहा था.

उनमे से दो मोबाईल फोन पर व्यस्त थे और दो लैपटाप पर.

मनीष पढ़ाई पुरी नही कर पाया था. उन्होंने उसे पहचानने का प्रयास भी नही किया.
वे खाना खा कर बिल चुका कर चले गये.

मनीष को लगा उन चारों ने शायद उसे पहचाना नहीं या उसकी गरीबी देखकर जानबूझ कर कोशिश नहीं की.

उसने एक गहरी लंबी सांस ली और टेबल साफ करने लगा.
.
टिश्यु पेपर उठाकर कचरे मे डलने ही वाला था,

शायद उन्होने उस पे कुछ जोड़-घटाया था.

अचानक उसकी नजर उस पर लिखे हुये शब्दों पर पड़ी.

लिखा था – अबे साले तू हमे खाना खिला रहा था तो तुझे क्या लगा तुझे हम पहचानें नहीं?
अबे 25 साल क्या अगले जनम बाद भी मिलता तो तुझे पहचान लेते.

तुझे टिप देने की हिम्मत हममे नही थी.
हमने पास ही फैक्ट्री के लिये जगह खरीदी है.
औरअब हमारा इधर आन-जाना तो लगा ही रहेगा.

आज तेरा इस होटल का आखरी दिन है.

हमारे फैक्ट्री की कैंटीन कौन चलाएगा बे
तू चलायेगा ना?
तुझसे अच्छा पार्टनर और कहां मिलेगा??? याद हैं न स्कुल के दिनों हम पांचो एक दुसरे का टिफिन खा जाते थे. आज के बाद रोटी भी मिल बाँट कर साथ-साथ खाएंगे.
.
मनीष की आंखें भर आई 😢😢😢😢😢😢😢😢😢😢

उसने डबडबाई आँखों से आकाश की तरफ देखा और उस पेपर को होंठो से लगाकर करीने से दिल के पास वाली जेब मे रख लिया.

सच्चे दोस्त वही तो होते है
जो दोस्त की कमजोरी नही सिर्फ दोस्त देख कर ही खुश हो जाते है..

हमेशा अपने अच्छे दोस्त की कद्र करे

*कहानी अच्छी लगी हो तो अपने अच्छे दोस्त को जरूर भेजना।