Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

🌹🌹🌹🌹🌹💦💦

💎 एक बार किसी देश का राजा अपनी प्रजा का हाल-चाल पूछने के लिए गाँवों में घूम रहा था। घूमते-घूमते उसके कुर्ते का बटन टूट गया, उसने अपने मंत्री को कहा कि इस गांव में कौन सा दर्जी है, जो मेरे बटन को सिल सके।

🍥 उस गांव में सिर्फ एक ही दर्जी था, जो कपडे सिलने का काम करता था। उसको राजा के सामने ले जाया गया । राजा ने कहा कि तुम मेरे कुर्ते का बटन सी सकते हो ?

🍥 दर्जी ने कहा यह कोई मुश्किल काम थोड़े ही है ! उसने मन्त्री से बटन ले लिया, धागे से उसने राजा के कुर्ते का बटन फौरन टांक दिया। क्योंकि बटन भी राजा का था, सिर्फ उसने अपना धागा प्रयोग किया था, राजा ने दर्जी से पूछा कि कितने पैसे दूं ?

🍥 उसने कहा :- “महाराज रहने दो, छोटा सा काम था।” उसने मन में सोचा कि बटन राजा के पास था, उसने तो सिर्फ धागा ही लगाया है।

🍥 राजा ने फिर से दर्जी को कहा कि नहीं-नहीं,
बोलो कितने दूं ?

🍥 दर्जी ने सोचा की दो रूपये मांग लेता हूँ। फिर मन में यही सोच आ गयी कि कहीं राजा यह न सोचे की बटन टांकने के मेरे से दो रुपये ले रहा है, तो गाँव बालों से कितना लेता होगा, क्योंकि उस जमाने में दो रुपये की कीमत बहुत होती थी।

🍥 दर्जी ने राजा से कहा कि :- “महाराज जो भी आपकी इच्छा हो, दे दो।”

🍥 अब राजा तो राजा था। उसको अपने हिसाब से देना था। कहीं देने में उसकी इज्जत ख़राब न हो जाये। उसने अपने मंत्री को कहा कि इस दर्जी को दो गांव दे दो, यह हमारा हुक्म है।

🍥 यहाँ दर्जी सिर्फ दो रुपये की मांग कर रहा था पर राजा ने उसको दो गांव दे दिए ।

🍥 इसी तरह जब हम प्रभु पर सब कुछ छोड़ते हैं, तो वह अपने हिसाब से देता है और मांगते हैं, तो सिर्फ हम मांगने में कमी कर जाते हैं । देने वाला तो पता नहीं क्या देना चाहता है, अपनी हैसियत से और हम बड़ी तुच्छ वस्तु मांग लेते हैं ।

🔮 इसलिए संत-महात्मा कहते है, ईश्वर को सब अपना सर्मपण कर दो, उनसे कभी कुछ न मांगों, जो वो अपने आप दें, बस उसी से संतुष्ट रहो। फिर देखो इसकी लीला। वारे के न्यारे हो जाएंगे। जीवन मे धन के साथ सन्तुष्टि का होना जरूरी है।
🙏🏼🌹🌹🙏

Posted in खान्ग्रेस

सच्ची_घटना
गद्दारकांग्रेसकीकङवीसच्चाई
“अरे बुढिया तू यहाँ न आया कर , तेरा बेटा तो चोर-डाकू था, इसलिए #गोरों ने उसे मार दिया“
जंगल में लकड़ी बिन रही एक मैली सी धोती में लिपटी बुजुर्ग महिला से वहां खड़ें भीर ने हंसते हुए कहा .
“ नही #चंदू ने आजादी के लिए कुर्बानी दी हैं “ बुजुर्ग औरत ने गर्व से कहा।
उस बुजुर्ग औरत का नाम #जगरानीदेवी था और इन्होने पांच बेटों को जन्म दिया था, जिसमे आखरी बेटा कुछ दिन पहले ही शहीद हुआ था। उस बेटे को ये माँ प्यार से चंदू कहती थी और दुनियां उसे “ #आजाद “ जी हाँ ! #चंद्रशेखरआजाद के नाम से जानती हैं।
हिंदुस्तान आजाद हो चुका था , आजाद के मित्र #सदाशिव_राव एक दिन आजाद के माँ-पिता जी की खोज करतें हुए उनके गाँव पहुंचे।
आजादी तो मिल गयी थी लेकिन बहुत कुछ खत्म हो चुका था।
चंद्रशेखर आज़ाद की शहादत के कुछ वर्षों बाद उनके पिता जी की भी मृत्यु हो गयी थी।
आज़ाद के भाई की मृत्यु भी इससे पहले ही हो चुकी थी।
अत्यंत निर्धनावस्था में हुई उनके पिता की मृत्यु के पश्चात आज़ाद की निर्धन निराश्रित वृद्ध माताश्री उस वृद्धावस्था में भी किसी के आगे हाथ फ़ैलाने के बजाय जंगलों में जाकर लकड़ी और गोबर बीनकर लाती थी तथा कंडे और लकड़ी बेचकर अपना पेट पालती रहीं।
लेकिन वृद्ध होने के कारण इतना काम नहीं कर पाती थीं कि भरपेट भोजन का प्रबंध कर सकें।
कभी ज्वार कभी बाज़रा खरीद कर उसका घोल बनाकर पीती थीं क्योंकि दाल चावल गेंहू और उसे पकाने का ईंधन खरीदने लायक धन कमाने की शारीरिक सामर्थ्य उनमे शेष ही नहीं थी।
शर्मनाक बात तो यह कि उनकी यह स्थिति देश को आज़ादी मिलने के 2 वर्ष बाद (1949 ) तक जारी रही।
चंद्रशेखरआज़ाद जी को दिए गए अपने एक वचन का वास्ता देकर #सदाशिव जी उन्हें अपने साथ अपने घर झाँसी लेकर आये थे, क्योंकि उनकी स्वयं की स्थिति अत्यंत जर्जर होने के कारण उनका घर बहुत छोटा था अतः उन्होंने आज़ाद के ही एक अन्य मित्र #भगवानदास_माहौर के घर पर आज़ाद की माताश्री के रहने का प्रबंध किया था और उनके अंतिम क्षणों तक उनकी सेवा की।
मार्च 1951 में जब आजाद की माँ जगरानी देवी का #झांसी में निधन हुआ तब सदाशिव जी ने उनका सम्मान अपनी माँ के समान करते हुए उनका अंतिम संस्कार स्वयं अपने हाथों से ही किया था।
आज़ाद की माताश्री के देहांत के पश्चात झाँसी की जनता ने उनकी स्मृति में उनके नाम से एक सार्वजनिक स्थान पर पीठ का निर्माण किया।
प्रदेश की तत्कालीन सरकार (प्रदेश में #कांग्रेस की सरकार थी और मुख्यमंत्री थे #गोविन्दबल्लभपन्त) ने इस निर्माण को गयासुदीन गाजी खान उर्फ नेहरू के कहने पर झाँसी की जनता द्वारा किया हुआ अवैध और गैरकानूनी कार्य घोषित कर दिया।
किन्तु झाँसी के नागरिकों ने तत्कालीन सरकार के उस शासनादेश को महत्व न देते हुए चंद्रशेखर आज़ाद की माताश्री की मूर्ति स्थापित करने का फैसला कर लिया।
मूर्ति बनाने का कार्य चंद्रशेखर आजाद के ख़ास सहयोगी कुशल शिल्पकार #रूद्रनारायणसिंह जी को सौपा गया। उन्होंने फोटो को देखकर आज़ाद की माताश्री के चेहरे की प्रतिमा तैयार कर दी।
जब सरकार को यह पता चला कि आजाद की माँ की मूर्ती तैयार की जा चुकी है और सदाशिव राव, रूपनारायण, भगवान् दास माहौर समेत कई क्रांतिकारी झांसी की जनता के सहयोग से मूर्ती को स्थापित करने जा रहे है तो उसने अमर बलिदानी चंद्रशेखर आज़ाद की माताश्री की मूर्ति स्थापना को देश, समाज और झाँसी की कानून व्यवस्था के लिए खतरा घोषित कर उनकी मूर्ति स्थापना के कार्यक्रम को प्रतिबंधित कर पूरे झाँसी शहर में कर्फ्यू लगा दिया।
चप्पे चप्पे पर पुलिस तैनात कर दी गई ताकि अमर बलिदानी चंद्रशेखर आज़ाद की माताश्री की मूर्ति की स्थापना ना की जा सके।
जनता और क्रन्तिकारी आजाद की माता की प्रतिमा लगाने के लिए निकल पड़ें।
अपने आदेश की झाँसी की सडकों पर बुरी तरह उड़ती धज्जियों से तिलमिलाई तत्कालीन सरकार ने अपनी #पुलिस को सदाशिव को #गोली मार देने का आदेश दे डाला
किन्तु आज़ाद की माताश्री की #प्रतिमा को अपने सिर पर रखकर पीठ की तरफ बढ़ रहे सदाशिव को जनता ने चारों तरफ से अपने घेरे में ले लिया।
जुलूस पर पुलिस ने #लाठी_चार्ज कर दिया।
सैकड़ों लोग घायल हुए, दर्जनों लोग जीवन भर के लिए अपंग हुए और कुछ लोग की मौत भी हुईं।
(हालांकि मौत की पुष्टि नही हुईं )
चंद्रशेखर आज़ाद की माताश्री की मूर्ति स्थापित नहीं हो सकी।
आजाद हम आपको कौन से मुंह से आपको श्रद्धांजलि दें ?
जब हम आपकी माताश्री की 2-3 फुट की मूर्ति के लिए उस देश में 5 फुट जमीन भी हम न दे सकें।
जिस देश के लिए आप ने अपने प्राणों का बलिदान दे दिया उसी देश की #कांग्रेसी सरकार ने आप सभी क्रांतिकारियों का अपमान किया ।
🙏🙇सभार 🙏🙇
द्वारा 👉भूतपूर्व आर्मी कमांडो श्री लिलाधर लमोरिया जब तक यह गद्दार कांग्रेस मिट नही जायेगी तब तक देश को इसकी कङवी सच्चाई बताता रहुगा 👈
जय हिंद वंदेमातरम्
जय श्री राम
देशभक्त पोस्ट को शेयर जरूर करेंगे
👉👉Please Follow me on my FB profile to send you directly my all facts and assets of our motherland… 🙏💕🙏💕👈👈
Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

—– टूटी चप्पल —–

“पता नहीं ये सामने वाला सेठ हफ्ते में 3-4 बार अपनी चप्पल कैसे तोड़ आता है?” मोची बुदबुदाया, नजर सामने की बड़ी किराना दूकान पर बैठे मोटे सेठ पर थी।
हर बार जब उस मोची के पास कोई काम ना होता तो उस सेठ का नौकर सेठ की टूटी चप्पल बनाने को दे जाता। मोची अपनी पूरी लगन से वो चप्पल सी देता की अब तो 2-3 महीने नहीं टूटने वाली। सेठ का नौकर आता और बिना मोलभाव किये पैसे देकर उस मोची से चप्पल ले जाता। पर 2-3 दिन बाद फिर वही चप्पल टूटी हुई उस मोची के पास पहुंच जाती।
आज फिर सुबह हुई, फिर सूरज निकला। सेठ का नौकर दूकान की झाड़ू लगा रहा था।
और सेठ……..
अपनी चप्पल तोड़ने में लगा था ,पूरी मश्शकत के बाद जब चप्पल न टूटी तो उसने नौकर को आवाज लगाई।
“अरे रामधन इसका कुछ कर, ये मंगू भी पता नहीं कौनसे धागे से चप्पल सिता है, टूटती ही नहीं।”
रामधन आज सारी गांठे खोल लेना चाहता था “सेठ जी मुझे तो आपका ये हर बार का नाटक समझ में नहीं आता। खुद ही चप्पल तोड़ते हो फिर खुद ही जुडवाने के लिए उस मंगू के पास भेज देते हो।”
सेठ को चप्पल तोड़ने में सफलता मिल चुकी थी। उसने टूटी चप्पल रामधन को थमाई और रहस्य की परते खोली… “देख रामधन जिस दिन मंगू के पास कोई ग्राहक नहीं आता उसदिन ही मैं अपनी चप्पल तोड़ता हूं… क्यों की मुझे पता है… मंगू गरीब है… पर स्वाभिमानी है, मेरे इस नाटक से अगर उसका स्वाभिमान और मेरी मदद दोनों शर्मिंदा होने से बच जाते है तो क्या बुरा है।”
आसमान साफ था पर रामधन की आँखों के बादल बरसने को बेक़रार थे।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

મધ્યમ વર્ગનું બજેટ

ડાયરી માં બે કલાક થી આવક જાવક ને મેળવવા હું નિર્થક પ્રયત્ન કરતો હતો…

અગરબત્તી.અને શ્રીફળ ના Rs.150
દૂધ. દર મહિને Rs.3000
ઘર નો હપ્તો. Rs.7000
વીજળી બિલ Rs.1500
LPG ગેસ. Rs 700
ઘર ચલાવવા મહિને કરિયાણું Rs5000
(તેલ,ઘઉં,ચોખા,દાળ સાબુ, કઠોળ ઘી ગોળ વગેરે)
બે બાળકો ની ફી અને સ્કૂલ રીક્ષા મહિને. Rs 3000
તેનો ભણતર ખર્ચ મહિને Rs.1000
( ટ્યૂશન..ચોપડી પેન્સીન વગેરે)
ફ્લેટ નું મેન્ટનેશન. મહિને Rs.700
TV કેબલ કનેક્શન. ..Rs400
વેજીટેબલ….Rs 1200
છાપું…..Rs.150
ઘર કામ. (ફક્ત વાસણ)Rs 700
પેટ્રોલ ઘરે થો.ઓફીસે
ઑફિસે થી ઘરે મહિને Rs.3000

ટોટલ Rs.27500
પગાર Rs.30000
Balance 2500

ક્યાર ના શુ લખો છો…ડાયરી ની અંદર…?
અચાનક મારી પત્ની બાજુ માં આવી બેસી ગઈ….

મેં ડાયરી ઊંઘી કરી ચશ્મા અને કેલ્ક્યુલેટર બાજુ ઉપર મુક્યા…

અરે ગાંડી..કહી નહીં….મેં વાત બદલવા પ્રયત્ન કર્યો

તમે ખોટું બોલો છો….લાવો ડાયરી…કહી પત્ની એ..
મારી ડાયરી ઉઠાવી લીધી….અમારા બન્ને ના ચશ્મા નંબર સરખા હોવાથી…તેને મારા ચશ્મા પહેરી…લીધા..
જાણે દેશ ના નાણા. …મંત્રી નિરીક્ષણ કરતા હોય તેમ..એ મારી ડાયરી નું નિરીક્ષણ કરવા લાગી….
જેમ..જેમ ડાયરી માં લખેલ હિસાબ તે વાંચતી તી હતી તેમ પત્ની ના ચેહરા ઉપર ધીરે ધીરે ગંભીરતા અને ચિતા આવતી જતી હતી….એ ધીરે થી બોલી… આમા હજુ….મેડિકલેમ નો હપ્તો ???

વાર્ષિક 15000
કોર્પોરેશન નું વાર્ષિક ટેક્ષ બિલ 3000
આકસ્મિક નાની મોટી બીમારી કે વ્યવહાર તો દેખતા નથી…

પત્ની ને ખબર હતી….. હું ચિંતા માં હતો.. તેને વાત ને હળવી બનાવવા માટે કીધુ…..

તમારા મસાલા નો.ખર્ચ તો લખવા નો રહી ગયો ?

મેં કીધું.. ડાર્લીંગ મસાલા છોડે એક મહિનો થઈ ગયો

મતલબ તમારૂ બજેટ ખાધ વાળું છે..આવક કરતા જાવક વધી રહી છે….પત્ની બોલી

ડાર્લીંગ એજ ચિંતા માં હું છું….

નથી આપણે ગરીબ કે નથી આપણે મધ્યમ વર્ગ
આપણે બોટોમ મિડલકલાસ છીયે….

હું…તને બચત કરવાનું પણ શું કહું..બધી જીવન માટે જરૂરી વસ્તુ અને સર્વિસ છે..ક્યાં કાપ મુકવો…તું જ બતાવ .?

પત્ની બોલી.. ચિંતા ન કરો…

વાસણ હું જાતે સાફ કરીશ. .Rs700x12 Rs8400
TV ચેનલ કઢાવી નાખો આમે છોકરા ભણતા નથી 400 x 12 Rs4800 ટોટલ Rs13200 બચી જશે …
તે આપણા મેડિકલેમ માટે કામ આવશે

મેં પત્ની ના માથે હાથ ફેરવી કીધુ..ડાર્લીંગ..જેની પત્ની સમજદાર…અને પ્રેમાળ હોય તે જીંદગી ની અડધી લડાઈ તો હસ્તા હસ્તા જીતી લે…છે….I love you

ફકત ફેસબુક કે વોટ્સ એપ ઉપર વાણીવિલાસ થી જીંદગી ની સફર ચાલતી નથી….લગ્ન ના ચારફેરા વખતે એકબીજા નો પકડેલ મજબૂત હાથ કોઈ પણ વિકટ પરિસ્થતિ માં ન છૂટે… તેને તો સફળ દામ્પત્ય જીવન કહેવાય..

ડાર્લીંગ આપણે.. વર્ષ માં એક વખત તારા જન્મ દિવસે ફક્ત પિક્ચર જોવા જઈએ છીયે…એ પણ બે વર્ષ થી ગયા..નથી છતાં પણ તે કદી મને ફરિયાદ કે અસંતોષ જાહેર નથી કર્યો….ડાર્લીંગ…..આવી સ્થતિ.માં ઘરમા TV એક તો સસ્તું મનોરંજન નું સાધન છે..તે તું બંધ કરવાની વાત કરે છે…..સમય તારો કેમ જાય…

TV જોવા પાછળ સમય બગડવા કરતા…હું પણ બે ત્રણ આર્થિક પ્રવૃત્તિ..જેવી કે સીવણ કામ અને ટ્યૂશન કરી તમને મદદ રૂપ.કેમ.ન થાવ… પત્ની…..ઢીલી હતી પણ પરિસ્થિતિ સામે લડવા તે મક્કમ હતી….

મેં કીધું..ડાર્લીંગ… ચિંતા ન કર….હજુ તકલીફ ગળા સુધી આવી નથી .. એ .નાક સુધી આવે તે પેહલા હું..એક.મોટો નિર્ણય લઈશ..

કયો….પત્ની એ ડાયરી બાજુ ઉપર મૂકી ચશ્મા કાઢ્યા…

મેં કીધું.. આપણા લગ્ન વખતે..મારી ઈચ્છા ધામધૂમ થી લગ્ન કરવા ની હતી..દુનિયા ને બતાવી દઈએ કે
“હમ કિસીસે કમ નહીં” એવી મારી વાતો અને વહેમ હતો
પપ્પા એ મને વાસ્તવિકતા સમજાવી રૂપિયા નું મહત્વ સમજાવ્યું….અને એ વખતે પપ્પા એ મારી બચત અને તેમની બચત ભેગી કરી…એક મોટો પ્લોટ ખરીદી લીધો હતો…અને કીધુ હતું..જયારે જીંદગી માં તકલીફ આવે ત્યારે આ પ્લોટ વેચી નાખજે…12 વર્ષ માં આ.પ્લોટ શહેર ની મધ્ય માં આવી ગયો છે…લગભગ આ પ્લોટ ના 75 લાખ રૂપિયા આવે તેમ છે….

પત્ની એ મારા પપ્પા ના દીવાલ ઉપર લટકતા ફોટા સામે જોઈ….
બોલી..વાહ….પપ્પા…વડીલો ની સલાહ જો યોગ્ય સમયે માનીએ તો… આપણે કોઈ પાસે હાથ લાંબા કરવા નો વખત ન આવે
સ્વમાન ની જીંદગી જીવવા…માટે સંતોષ ,ધૈર્ય જરૂરી છે..
ઘણી વખત તકલીફ આવતી નથી..આપણે તેને આમંત્રિત કરતા હોય છે….અને એ માટે ફક્ત આપણે જ જવાબદાર હોઈએ છીયે…

મિત્રો..
આજે દેખાદેખી મા…. આપણે આપણી જીવનશૈલી બદલી નાખી .. આનંદ તો બેન્ક ના હપ્તા ભરવા મા ખોવાઈ ગયો…બિનજરૂરી લોન લીધા પછી….તેના હપ્તા..કાંટા ની જેમ.ખૂંચવા લાગ્યા…એક વખત ખોટી લાઈફ સ્ટાઇલ સ્વીકર્યા પછી વાસ્તવિકતા આપણે સ્વીકારી શકતા નથી….પરિણામ સ્વરૂપ… અસંતોષ… અપેક્ષા અને અશાંતિ ને આપણે આમંત્રિત કરીયે છીયે

માટે આજે જ નિર્ણય લ્યો….
જેવો છું..તેવો તમારી સામે હું ઉભો છું ….. મને સ્વીકરવો કે ન સ્વીકરવો એ તમારી.માનશીકતા ઉપર આધાર છે. મારો.કોઈ આગ્રહ નથી
હું મારી વ્યક્તિગત જીંદગી. માં ખુશ છું…તમારે ખુશ રેહવું હોય તો મારા દિલ અને ઘર ના દરવાજા 24 કલાક ખુલ્લા છે…..તમને મારી સાથે સબંધ રાખવા માં શરમ સંકોચ નો અનુભવ થતો હોય… તો…. જય શ્રી કૃષ્ણ કહી સબંધ તોડતા વાર ન લગાડો.. આવી વ્યક્તિઓ ને કારણે ઘણી વખત આપણી વ્યક્તિગત જીંદગી માં તોફાન આવી જાય છે

– પ્રેમાળ પતિ

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

क्या आप जानते हैं:

लातिनी अमेरिकी देश वेनेजुएला में भी एक केजरीवाल था। जिसने वेनेजुएला की जनता को मुफ्तखोर बनाकर वेनेजुएला को बर्बाद और दिवालिया कर दिया। फा

अभी 5-6 वर्ष पहले तक दुनिया में सबसे सस्ता पैट्रोल वेनेज़ुएला में मिलता था। 64 पैसे प्रति लीटर (2014)

वेनेज़ुएला में 5-6 वर्ष पहले तक किसी तरह का कोई टैक्स नहीं था।

वहां शुरु से अन्त तक पूरी पढ़ाई मुफ्त, हर तरह की मैडिकल मदद पूरी तरह से मुफ्त, बिजली मुफ्त, पानी मुफ्त, लोकल ट्रांसपोर्ट मुफ्त थी।

वहां हर व्यक्ति को नौकरी, और नौकरी न होने की स्थिति में पर्याप्त बेरोजगारी भत्ता और प्रत्येक नागरिक को एक निर्धारित मासिक भत्ते का सरकारी “लालीपॉप” थमा दिया।

जनता इस लालीपॉप को चूसती रही और उसका योगदान देश की अर्थव्यवस्था में न के बराबर रहा। सरकार केवल तेल बेचकर इन सब खर्चों की पूर्ति करती रही। ल

सिर्फ 5-6 वर्ष पहले तक वेनेज़ुएला में जीवन गुज़ारना वहां के नागरिकों के लिए एक जीवन भर की मौज मस्ती थी।

और आज, वर्तमान समय के हालात इतने बुरे हैं कि दुनिया को सबसे अधिक विश्व सुन्दरी देने वाले देश की बेटियां जो कल तक अपने देश में पुलिस ऑफिसर, प्रोफेसर, अध्यापिका, नर्स, अखबार की रिपोर्टर आदि बतौर सम्मानजनक नौकरियां कर रही थीं, आज पड़ोसी देश कोलम्बिया जाकर 10-10 अमेरिकन डॉलर के लिए अपना शरीर बेचने को मजबूर हो गयी है, ताकि अपने देश में छूट गये मां बाप, या भाई बहन, या पति व बच्चों के लिये महीने में 500-600 अमेरिकन डॉलर भेज सकें। तू

आखिर ऐसा क्या हुआ कि 5-6 वर्ष पहले का स्वर्ग इतनी जल्दी वहां के लोगों के लिए नरक बन गया?

जवाब बहुत साफ है। वेनेज़ुएला में पिछले लम्बे समय से वामपंथी सरकारों का ज़ोर चल रहा था, भ्रष्टाचार चरम पर था, खर्चे व सब्सिडी भयंकर थीं, तेल उत्पादन के अलावा किसी भी दूसरे उत्पादन पर किसी तरह की कोशिश की ही नहीं जा रही थी, भ्रष्टाचार और सब्सिडी की वजह से वेनेजुएला का खज़ाना लगभग खाली था। ब

और इसीलिए 2014 में अचानक ही वेनेज़ुएला में हर चीज दिन दुगनी, रात चौगुनी मंहगी होती गई। आज इतनी मंहगाई है कि एक महीने की सैलरी से सिर्फ एक पैकेट पास्ता खरीदने के अलावा कुछ नहीं कर सकते, UN के अनुसार 2019 में मंहगाई 1 लाख प्रतिशत तक बढ़ गई। 1 लाख प्रतिशत, मतलब जो चीज आज 1 रुपये की है वही साल भर बाद 1 लाख रुपये की।

वेनेजुएला की मुद्रा बोलिवर है और इसका सबसे बड़ा नोट एक लाख बोलिवर का है। मगर बाजार में इसकी कीमत कुछ भी नहीं। वेनेजुएला में अब एक लाख बोलिवर में कुछ नहीं खरीदा जा सकता। वित्तीय संकट की वजह से सरकार लगातार नोट छाप रही है जिससे यहां की मुद्रा बोलीवरकी कीमत लगातार घट रही है। हालत यह है कि एक डॉलर 35 लाख बोलिवर के बराबर हो गया है।

जब तक वेनेजुएला में तेल बेच-बेचकर पैसा आ रहा था और शावेज (वेनेजुएला का केजरीवाल) जनता पर पैसा बरसा रहे थे, तब तक सब ठीक था। हालांकि, अर्थशास्त्री तब भी’ शावेज की सोशलिस्ट (मुफ्तखोरी) पॉलिसी को खतरा बता रहे थे, लेकिन तब सबके कानों में मुफ्तखोरी का तेल पड़ा हुआ था। आज वेनेजुएला की करंसी बोलिवर का आलम यह है कि लोग एक किलो मीट के लिए 1.5 करोड़ बोलिवर तक दे रहे हैं। एक कप कॉफी के लिए 25 लाख बोलिवर तक दे रहे हैं। औरतें अपने बाल बेचकर पैसे इकट्ठा कर रही हैं। हर 35 दिनों में चीज़ों के दाम दोगुने हो रहे हैं। आज यहां 5 में से 4 लोग गरीब हैं। होटल-रेस्ट्रॉन्ट में लोग अपना बैंक बैलेंस दिखा रहे है कि उनके पास पेमेंट करने के लिए पैसे हैं। जिनके पास खाने का पैसा नहीं, वो लूट-मार कर रहे हैं। क

2014 से अब तक पेट्रोल कीमतें 8000% से ज़्यादा बढ़ चुकी हैं। राशन लेने के लिए लोग 65-65 घंटे कतार में खड़े होते हैं। गोदामों के बाहर सैनिक तैनात रहते हैं।

बाल काटने के एवज में नाई ले रहा अंडे और केले लोग फिलहाल खाने और दवाइयों के लिए भी मोहताज हैं।
बिजली, पानी और यातायात से जूझ रहे हैं वेनेजुएला के लोग। (ये सब पहले इन्हें मुफ्त में मिल रहा था)

  • बेरोजगारी बढ़ने से अपराध में तेजी से इजाफा हो रहा है

जूता मरम्मत के 20 अरब बोलिवर

आज वेनेजुएला में न्यूनतम मजदूरी 1 अमेरिकी डॉलर प्रति माह के करीब है.
इसके असर का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वेनेजुएला में एक यूनिवर्सिटी प्रोफेसर को अपना पुराना जूता मरम्मत करवाने के लिए चार महीने की सैलरी के बराबर 20 अरब बोलिवर (करीब 4 लाख रुपये) देने पड़े। कैब सर्विस लेने के लिए सिगरेट का डब्बा देना पड़ रहा है. रेस्त्रां खाना खिलाने के बदले पेपर नैपकिन ले रहा है। अनाज, दूध, दवाइयों और बिजली का घोर अभाव है। बेरोजगारी बढ़ने के अपराध में तेजी से इजाफा हो रहा है। एक बर्गर को खरीदने के लिए 50 लाख बोलिवर खर्च करने पड़ेंगे। एक कप काॅफी की कीमत 25 लाख बोलिवर, एक टमाटर 5 लाख बोलिवर।
वा
दिल्ली वासियों, आप भी अपनी दिल्ली को दूसरा वेनेज़ुएला नहीं बनने देना। क्योंकि ये केजरीवाल कुछ हजार करदाताओं से इकट्ठा रुपये मुफ्त खोरी में बांट देगा। जब दिल्ली का खजाना खाली हो जायेगा तो इन सुविधाओं को जारी नहीं रख सकता, फिर केन्द्र सरकार की तरफ ऊँगली उठा कर बोलेगा कि ये मुझको कुछ नहीं करने दे रहे हैं। बाद में आपकी स्थिति भी वेनेजुएला की जनता जैसी हो जाए इससे बचें। आपको ये मुफ्त की और सब्सिडी वाली घोषणाएं आज तो अच्छी लग रही हैं लेकिन बाद में ये आपके लिए दुखदायी साबित हो सकती है।

इसलिए,

लालच में न आये
अपनी अक्ल लगाये

मुफ्तखोर नहीं
समझदार बनिए

विकास खुराना

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

इतिहासकारों ने लिखा लालकिला मुगल शाहजहां ने 1638 में बनवाया।
👆👆
लेकिन oxford संग्रहालय लंदन में 1628 की पेटिंग है। जिसमें 1628 में शाहजहां दीवाने आम लालकिले में विदेशी राजदूत से मुलाकात कर रहा है।
“1638” में बनाना शुरु किया तो “1628” में शाहजहा अंदर !!
😟😬❓❓‼
लालकिला बारहवीं शताब्दी मे पृथ्वीराज का महल था, लालकोट।

जिसनेयेइतिहासलिख़ाउसेगालीदेनेका #मनकरेतोशेयरकरेंसच्चाई

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

हरे कृष्णा जी ँँँँँआपको एकादशी की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ ़़़़़हरे कृष्णा जी युधिष्ठिर ने भगवान श्रीकृष्ण से पूछा : भगवन् ! कृपा करके यह बताइये कि माघ मास के शुक्लपक्ष में कौन सी एकादशी होती है, उसकी विधि क्या है तथा उसमें किस देवता का पूजन किया जाता है ?

भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजेन्द्र ! माघ मास के शुक्लपक्ष में जो एकादशी होती है, उसका नाम ‘जया’ है । वह सब पापों को हरनेवाली उत्तम तिथि है । पवित्र होने के साथ ही पापों का नाश करनेवाली तथा मनुष्यों को भाग और मोक्ष प्रदान करनेवाली है । इतना ही नहीं , वह ब्रह्महत्या जैसे पाप तथा पिशाचत्व का भी विनाश करनेवाली है । इसका व्रत करने पर मनुष्यों को कभी प्रेतयोनि में नहीं जाना पड़ता । इसलिए राजन् ! प्रयत्नपूर्वक ‘जया’ नाम की एकादशी का व्रत करना चाहिए ।

एक समय की बात है । स्वर्गलोक में देवराज इन्द्र राज्य करते थे । देवगण पारिजात वृक्षों से युक्त नंदनवन में अप्सराओं के साथ विहार कर रहे थे । पचास करोड़ गन्धर्वों के नायक देवराज इन्द्र ने स्वेच्छानुसार वन में विहार करते हुए बड़े हर्ष के साथ नृत्य का आयोजन किया । गन्धर्व उसमें गान कर रहे थे, जिनमें पुष्पदन्त, चित्रसेन तथा उसका पुत्र – ये तीन प्रधान थे । चित्रसेन की स्त्री का नाम मालिनी था । मालिनी से एक कन्या उत्पन्न हुई थी, जो पुष्पवन्ती के नाम से विख्यात थी । पुष्पदन्त गन्धर्व का एक पुत्र था, जिसको लोग माल्यवान कहते थे । माल्यवान पुष्पवन्ती के रुप पर अत्यन्त मोहित था । ये दोनों भी इन्द्र के संतोषार्थ नृत्य करने के लिए आये थे । इन दोनों का गान हो रहा था । इनके साथ अप्सराएँ भी थीं । परस्पर अनुराग के कारण ये दोनों मोह के वशीभूत हो गये । चित्त में भ्रान्ति आ गयी इसलिए वे शुद्ध गान न गा सके । कभी ताल भंग हो जाता था तो कभी गीत बंद हो जाता था । इन्द्र ने इस प्रमाद पर विचार किया और इसे अपना अपमान समझकर वे कुपित हो गये ।

अत: इन दोनों को शाप देते हुए बोले : ‘ओ मूर्खो ! तुम दोनों को धिक्कार है ! तुम लोग पतित और मेरी आज्ञाभंग करनेवाले हो, अत: पति पत्नी के रुप में रहते हुए पिशाच हो जाओ ।’

इन्द्र के इस प्रकार शाप देने पर इन दोनों के मन में बड़ा दु:ख हुआ । वे हिमालय पर्वत पर चले गये और पिशाचयोनि को पाकर भयंकर दु:ख भोगने लगे । शारीरिक पातक से उत्पन्न ताप से पीड़ित होकर दोनों ही पर्वत की कन्दराओं में विचरते रहते थे । एक दिन पिशाच ने अपनी पत्नी पिशाची से कहा : ‘हमने कौन सा पाप किया है, जिससे यह पिशाचयोनि प्राप्त हुई है ? नरक का कष्ट अत्यन्त भयंकर है तथा पिशाचयोनि भी बहुत दु:ख देनेवाली है । अत: पूर्ण प्रयत्न करके पाप से बचना चाहिए ।’

इस प्रकार चिन्तामग्न होकर वे दोनों दु:ख के कारण सूखते जा रहे थे । दैवयोग से उन्हें माघ मास के शुक्लपक्ष की एकादशी की तिथि प्राप्त हो गयी । ‘जया’ नाम से विख्यात वह तिथि सब तिथियों में उत्तम है । उस दिन उन दोनों ने सब प्रकार के आहार त्याग दिये, जल पान तक नहीं किया । किसी जीव की हिंसा नहीं की, यहाँ तक कि खाने के लिए फल तक नहीं काटा । निरन्तर दु:ख से युक्त होकर वे एक पीपल के समीप बैठे रहे । सूर्यास्त हो गया । उनके प्राण हर लेने वाली भयंकर रात्रि उपस्थित हुई । उन्हें नींद नहीं आयी । वे रति या और कोई सुख भी नहीं पा सके ।

सूर्यादय हुआ, द्वादशी का दिन आया । इस प्रकार उस पिशाच दंपति के द्वारा ‘जया’ के उत्तम व्रत का पालन हो गया । उन्होंने रात में जागरण भी किया था । उस व्रत के प्रभाव से तथा भगवान विष्णु की शक्ति से उन दोनों का पिशाचत्व दूर हो गया । पुष्पवन्ती और माल्यवान अपने पूर्वरुप में आ गये । उनके हृदय में वही पुराना स्नेह उमड़ रहा था । उनके शरीर पर पहले जैसे ही अलंकार शोभा पा रहे थे ।

वे दोनों मनोहर रुप धारण करके विमान पर बैठे और स्वर्गलोक में चले गये । वहाँ देवराज इन्द्र के सामने जाकर दोनों ने बड़ी प्रसन्नता के साथ उन्हें प्रणाम किया ।

उन्हें इस रुप में उपस्थित देखकर इन्द्र को बड़ा विस्मय हुआ ! उन्होंने पूछा: ‘बताओ, किस पुण्य के प्रभाव से तुम दोनों का पिशाचत्व दूर हुआ है? तुम मेरे शाप को प्राप्त हो चुके थे, फिर किस देवता ने तुम्हें उससे छुटकारा दिलाया है?’

माल्यवान बोला : स्वामिन् ! भगवान वासुदेव की कृपा तथा ‘जया’ नामक एकादशी के व्रत से हमारा पिशाचत्व दूर हुआ है ।

इन्द्र ने कहा : … तो अब तुम दोनों मेरे कहने से सुधापान करो । जो लोग एकादशी के व्रत में तत्पर और भगवान श्रीकृष्ण के शरणागत होते हैं, वे हमारे भी पूजनीय होते हैं ।

भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं : राजन् ! इस कारण एकादशी का व्रत करना चाहिए । नृपश्रेष्ठ ! ‘जया’ ब्रह्महत्या का पाप भी दूर करनेवाली है । जिसने ‘जया’ का व्रत किया है, उसने सब प्रकार के दान दे दिये और सम्पूर्ण यज्ञों का अनुष्ठान कर लिया । इस माहात्म्य के पढ़ने और सुनने से अग्निष्टोम यज्ञ का फल मिलता है ।हरे कृष्णा जी

Posted in गौ माता - Gau maata

🌹🌹जय श्री भैरवाय नम:🌹🌹
रामनगर जसवाडी रोड खंडवा

हंस जैन 98272 14427 गाय और ग्रहों की शान्ति 🐂🐂🐂🐂🐂

“महाभारत” में कहा गया है, “जो पुरूष गौ माता की सेवा करता है और सभी प्रकार से उनका अनुगमन करता है, उस पर संतुष्ट होकर गाएं उसे अत्यन्त दुर्लभ वर प्रदान करती है। जो मनुष्य जितेन्द्रिय और प्रसन्नन्चित होकर नित्य गौओं की सेवा करता है, वह समृद्धि का भागी होता है।”

पुराणों में 33 करोड़ देवी देवता और 68 करोड़ तीर्थ गौ माता में प्रतिष्ठापित बताए गए हैं। ज्योतिष में गोधूलि का समय विवाह के लिए सर्वोत्तम माना गया है। शास्त्रों के अनुसार जिस घर में गाय होती है उसमें वास्तु दोष स्वत: ही समाप्त हो जाता है।

जन्मपत्री में यदि शुक्र अपनी नीच राशि कन्या पर हो, शुक्र की दशा चल रही हो या शुक्र अशुभ भाव (6,8,12) में स्थित हो तो अपने प्रात: काल के भोजन में से एक रोटी सफेद रंग की गाय को 43 दिन तक लगातार खिलाने से शुक्र का नीचत्व एवं शुक्र सम्बंधित कुदोष स्वत: ही समाप्त हो जाते हैं। गाय को नियमित रोटी देना भी शुभ होता है।

सूर्य, चंद्र, मंगल या शुक्र की युति राहु से हो तो पितृ दोष होता है। यह भी मान्यता है कि सूर्य का संबंध पिता से और मंगल का संबंध रक्त से होने के कारण सूर्य यदि शनि, राहु या केतु के साथ स्थित हो या दृष्टि संबंध हो तथा मंगल की युति राहु या केतु से हो तो पितृ दोष होता है।

इस दोष से जीवन संघर्षमय बन जाता है। पितृ दोष होने के अन्य विधान भी हैं। ऎसे में गाय को प्रतिदिन या पितृ अमावस्या को रोटी, गुड़, चारा खिलाने से पितृ दोष दूर होता है।

किसी की जन्मपत्री में सूर्य नीच राधि तुला पर हो या अशुभ स्थिति मे हो या केतु के द्वारा परेशानियां आ रही हो तो गाय में सूर्य-केतु नाड़ी होने के फलस्वरूप गाय की पूजा करनी चाहिए।

गाय के घी का एक नाम “आयु” भी है, श्रुति कहती है “आयुवै धृतम” यानी गाय के दूध-घी से व्यक्ति दीर्घायु होता है। हस्त रेखा में आयु रेखा टूटी हुई हो तो गाय का घी काम में लें और गाय की पूजा करें, लाभ मिलता है।

देशी गाय की पीठ पर जो कूबड़ होता है वह “बृहस्पति” है। वेदों में कहा गया है, “श्येन: क्रोडोडन्तरिक्षं पाजंस्य वृहस्पति: ककूद बृहती: कीकसा:।। अर्थात “श्येन पक्षी (बाज) इसकी छाती, अंतरिक्ष इसका बल, बृहस्पति इसका कूबड, और बृहती नाम के छन्द इसकी हडिडयां हैं।

अत: जन्मपत्रिका में यदि बृहस्पति अपनी नीच राशि मकर में हो या अशुभ स्थिति में हो तो देशी गाय के इस बृहस्पति एवं शिवलिंग रूपी कूबड़ (ककुद ) के दर्शन करने चाहिए।
कहते हैं गौ माता के नेत्रों में प्रकाश स्वरूप भगवान सूर्य एवं ज्योत्सना के अधिष्ठाता चंद्र देव का भी निवास होता है

“भविष्य पुराण” में कहा गया है “कर्णयोरश्विनौ देवौ चक्षुषो: शशि भास्करौ” अर्थात- गाय के दोनों कानों में अश्विनी कुमार तथा नेत्रों मे चंद्रमा और सूर्य निवास करते हंै। जन्म-पत्री में सूर्य-चन्द्र कमजोर हो, तो गौ नेत्र के दर्शन करें, लाभ होगा।

शनि यदि अपनी नीच राशि मेष पर हो या साढे साती या ढैया चल रहा हो तो काली गाय को खल-कांकडे देना फायदेमंद होता है। राहु को शांत करने का भी यह उत्तम उपाय है। ये उपाय के साथ एक वचन भी लीजिये की गाय पर कभी अत्याचार न करेंगे न करने देंगे । धन्य्वाद ।

हंस जैन 98272 14427 💐💐🎄💐💐

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक संत थे वृन्दावन में रहा करते थे, श्रीमद्भागवत में बड़ी निष्ठा थी उनकी,

उनका प्रतिदिन का नियम था कि वे रोज एक अध्याय का पाठ किया करते थे, और राधा रानी जी को अर्पण करते थे ,

ऐसे करते करते उन्हे 55 वर्ष बीत गए, पर उनका एक दिन भी ऐसा नही गया जब राधारानी जी को भागवत का अध्याय न सुनाया हो।

एक रोज वे जब पाठ करने बैठे तो उन्हें अक्षर दिखायी ही नहीं दे रहे थे और थोड़ी देर बाद तो वे बिलकुल भी नहीं पढ़ सके।

अब तो वे रोने लगे और कहने लगे – हे प्रभु ! में इतने दिनों से पाठ कर रहा हूँ फिर आपने आज ऐसा क्यों किया अब मै कैसे राधारानी जी को पाठ सुनाऊंगा।

रोते-रोते उन्हें सारा दिन बीत गया। कुछ खाया पिया भी नहीं क्योकि पाठ करने का नियम था और जब तक नियम पूरा नहीं करते, खाते पीते भी नहीं थे।

आज नियम नहीं हुआ तो खाया पिया भी नहीं।

तभी एक छोटा-सा बालक आया और बोला ,
बाबा ! आप क्यों रो रहे हो ? क्या आपकी आँखे नहीं है? इसलिए रो रहे हो ?

बाबा बोले- नहीं लाला ! आँखों के लिए क्यों रोऊंगा मेरा नियम पूरा नहीं हुआ इसलिए रो रहा हूँ।

बालक बोला – बाबा ! मै आपकी आँखे ठीक कर सकता हूँ। आप ये पट्टी अपनी आँखों पर बाँध लीजिए।

बाबा ने सोचा लगता है वृंदावन के किसी वैध का लाला है, कोई इलाज जानता होगा।

बाबा ने आँखों पर पट्टी बांध ली और सो गए,जब सुबह उठे और पट्टी हटाई तो सब कुछ साफ दिखायी दे रहा था।

बाबा बड़े प्रसन्न हुए और सोचने लगे देखूं तो उस बालक ने पट्टी में क्या औषधि रखी थी और जैसे ही बाबा ने पट्टी को खोला तो पट्टी में राधा रानी जी का नाम लिखा था।

इतना देखते ही बाबा फूट फूट कर रोने लगे और कहने लगे – वाह ! किशोरी जी आपके नाम की कैसी अनंत महिमा है..!!

मुझ पर इतनी कृपा की और श्रीमद्भागवत से इतना प्रेम करती हो की रोज़ मुझ से शलोक सुनने मे राधा रानी जी आपको भी आनंद आता है।

लाड लडेती राधिके मांगू गोद पसार …

दिजिये मोहे चरणरज और वृन्दावन को वास__
🔘🔘 श्री राधे………….
■■■■■■■■■■