Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

💥🌳सुप्रभात🌳💥

💐खुद को बदल दो समाज खुदबखुद बदल जायेगा💐

*एक सन्यासी ने देखा एक छोटा बच्चा घुटने टेक कर चलता था, धूप निकली थी, बच्चे की छाया आगे पड़ रही थी, बच्चा छाया में अपने सिर को पकड़ने के लिए हाथ ले जाता लेकिन जब हाथ पहुँचता तो छाया आगे बढ़ जाती।

बच्चा रोने लगा, माँ उसे समझाने लगी पर बच्चे कब समझ सकते हैं।

सन्यासी ने कहा, बेटे रो मत, छाया पकड़नी है?

सन्यासी ने बच्चे का हाथ पकड़ा और उसके सिर पर रख दिया, हाथ सिर पर गया, उधर छाया के ऊपर भी सिर पर हाथ गया।

सन्यासी ने कहा, देख, पकड़ ली तूने छाया। छाया कोई सीधा पकड़ेगा तो नहीं पकड़ सकेगा लेकिन अपने को पकड़ लेगा तो छाया पकड़ में आ जाती है।*

ऐसे ही जो काम, क्रोध, मोह, लोभ, अहंकार को पकड़ने को लिए दौड़ता है वह इनको कभी नहीं पकड़ पाता, यह मात्र छाया हैं लेकिन जो आत्मा को पकड़ लेता है, विकार उसकी पकड़ में आ जाते हैं।

खुद को बदल दो समाज खुदबखुद बदल जायेगा