Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

कविता मिश्रा

एक बार अकबर ने बीरबल से पूछा की बीरबल यह अविद्या क्या है? बीरबल ने बोला कि आप मुझे 4 दिन की छुट्टी दे दो फिर मै आपको बताऊंगा ! अकबर राजी हो गया और उसने चार दिनों की छुट्टी दे दी!
बीरबल मोची के पास गया और बोला कि भाई जूती बना दो,
मोची ने नाप पूछी तो बीरबल ने बोला भैया ये नाप वाप कुछ नहीं डेढ़ फुट लंबी और एक बित्ता चौड़ी बना दो, और इसमें हीरे जवाहरात जड देना सोने और चांदी के तारों से सिलाई कर देना और हाँ पैसे वैसे चिंता मत करना जितना मांगोगे उतना मिलेगा तो मोची ने भी कहा ठीक है भैया तीसरे दिन ले लेना !

तीसरे दिन जूती मिली,
अब बीरबल ने एक जूती अपने पास रख ली और दूसरी मस्जिद में फेंक दी जब सुबह मुल्ले नमाज पढ़ने (बाँग देने ) के लिए मस्जिद गए तो मौलवी को वो जूती वहां पर मिली मौलवी ने सोचा यह जूती किसी इंसान की तो हो नहीं सकती जरूर अल्लाह नमाज पढ़ने आया होगा और उसकी छूट गई होगी तो उसने वह जूती अपने सर पर रखी, मत्थे में लगाई और खूब जूती को चाटा क्यों क्योंकि वह जूती अल्लाह की थी ना
वहां मौजूद सभी लोगों को दिखाया सब लोग बोलने लगे कि हां भाई यह जूती तो अल्लाह की रह गई उन्होंने भी उसको सर पर रखा और खूब चाटा यह बात अकबर तक गई अकबर ने बोला, मुझे भी दिखाओ अकबर ने देखा और बोला यह तो अल्लाह की ही जूती है उसने भी उसे खूब चाटा सर पर रखा और बोला इसे मस्जिद में ही अच्छी तरह अच्छे स्थान पर रख दो !

बीरबल की छुट्टी समाप्त हुई, वह आया बादशाह को सलाम ठोका और उतरा हुआ मुंह लेकर खड़ा हो गया अब अकबर ने बीरबल से पूछा कि क्या हो गया मुंह क्यों 10 कोने का बना रखा है तो बीरबल ने कहा अरे राजा साहब हमारे यहां चोरी हो गई अकबर ने बोला कि क्या चोरी हो गया बीरबल ने उत्तर दिया कि अरे हमारे पर दादा की जूती थी चोर एक जूती उठा ले गया एक बची है, तो अकबर ने पूछा कि क्या एक जूती तुम्हारे पास ही है बीरबल ने कहा जी मेरे पास ही है उसने वह जूती अकबर को दिखाई अकबर का माथा ठनका और उसने मस्जिद से दूसरी जूती मंगाई और बोला या अल्लाह मैंने तो सोचा कि यह जूती अल्लाह की है मैंने तो इसे चाट चाट के चिकनी बना डाली,

बीरबल ने कहा राजा साहब यही है अविद्या ।

Posted in सुभाषित - Subhasit

🤩मजेदार मस्ती भरे दोहे….

बुरे समय को देखकर, गंजे तू क्यों रोए ।
किसी भी हालत में तेरा बाल न बांका होय।।
🤗🤗🤗🤗🤗🤗
कर्ज़ा देता मित्र को, वह मूर्ख कहलाए।
महामूर्ख वह यार है, जो पैसे लौटाए।।
😇😇😇😇😇😇😇😇
दोस्तो खैनी खाइए, इससे खांसी होय।
फिर उस घर में रात को, चोर घुसे न कोय।।
😆😆😆😆😆😆😆😆😆
दोस्त काले रंग पर, रंग चढ़े न कोय।
लक्स लगाकर कांबली, तेंदुलकर न होय।।
😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊
बूढ़ा बोला, वीर रस मुझसे पढ़ा न जाए।
कहीं दांत का सैट ही, नीचे न गिर जाए।।
🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣
बिना जुर्म के पिटेगा, समझाया था तोय।
पंगा लेकर पुलिस से, साबुत बचा न कोय।।
😜😜😜😜😜😜😜😜😜😜😜😜
दोहों को स्वीकारिये, या दीजे ठुकराय।
जैसे मुझसे बन पड़ा, मैंने आगे दिए सरकाय।।