Posted in हास्यमेव जयते

🤣चुटकुला🤣
एक बुढा और एक बुढ़िया थे।बुढा बुढ़िया को बहुत प्यार करता था। बुढ़िया जहाँ जाती बुढा उसके पीछे-पीछे जाता ।जैसे की बुढ़िया बरतन धोती बुढा उसके पीछे खड़ा हो जाता।बुढ़िया घर का कोई भी काम करती बुढा उसके पीछे रहता ।वह बुढ़िया को एक सेकंड के लिए भी अकेला नहीं छोड़ता। इससे बुढ़िया बहुत परेशान हो गयी । बुढ़िया के घर से उसकी माँ के फ़ोन आ रहे थे की बेटी एक बार मिलने आजा पर बुढ़िया कैसे जाए बुढा तो उसे अकेला छोड़ता ही नहीं। तब बुढ़िया ने कुछ सोचा उसने बुढे से कहाँ चलो जी आज हम छुप्पन-छुप्पआई खेलते है । तुम छुपो मैं तुम्हे ढूढूगी ।बुढा जाकर छुप गया । बुढ़िया जल्दी से दुसरे कमरे में गयी वहां से उसने अपना बक्सा उठाया । और जल्दी से अपनी माँ के घर पहुच गयी। अपनी माँ के घर पहुचकर बक्सा रखकर बोली चलो बुढे से छुटकारा तो मिला ।और जैसे ही उसने बक्सा खोला बुढा बोला धप्पा।।।🤣💐🤣🤣😝😝😝😝😝🤭

Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

असेल माझा हरी ,तर देईल खाटल्यावरी’….!

खानसाहेब रोज रुबाबात कोर्टात यायचे . हसून सगळ्यांशी मनमोकळं बोलायचे . दिवसभर लोकांना गोळा करून गप्पांचा फड रंगवायचे .
सतत लोकांना जमेल तेवढी मदत करणारा राजा माणूस!
सगळे हुशार ,महत्वाकांक्षी ,मेहनती लोकं आश्चर्याने त्यांच्याकडे पाहत राहायचे .
आम्ही मरमर करून जे मिळायची वर्षानुवर्ष वाट पाहतो ,ते ह्याला बसल्याजागी क्षणात मिळावं?
‘नशीब नशीब ‘ते हेच का ?
मागच्या जन्मीचं पुण्य खातोय बहुदा !
देव आहे ,हा विश्वास बसतो त्यांना पाहून!
बुद्धी ,वाममार्ग ,ओळख ह्या तीन यशाच्या पायऱ्या न चढलेल्या त्याला पाहून कित्येकांनी थोड्या पुण्याच्या गोष्टी करून बघायला सुरुवात केली होती !
चांगल्या माणसांची काळजी देवाला असते, हेच खरं!
©️ऋचा मायी.

Rucha Mayee