Posted in कविता - Kavita - કવિતા

थोड़ा धीरज रख,
थोड़ा और जोर लगाता रह
किस्मत के जंग लगे दरवाजे को,
खुलने में वक्त लगता है

कुछ देर रुकने के बाद,
फिर से चल पड़ना दोस्त
हर ठोकर के बाद,
संभलने में वक्त लगता है

बिखरेगी फिर वही चमक,
तेरे वजूद से तू महसूस करना
टूटे हुए मन को,
संवरने में थोड़ा वक्त लगता है

जो तूने कहा,
कर दिखायेगा रख यकीन
गरजे जब बादल,
तो बरसने में वक्त लगता है

चलता रहूँगा पथ पर,
चलने में माहिर बन जाऊंगा
या तो मंजिल मिल जाएगी,
या अच्छा मुसाफ़िर बन जाऊंगा,

लक्ष्य भी है, मंज़र भी है,
चुभता मुश्किलों का खंज़र भी है
प्यास भी है, आस भी है,
ख्वाबो का उलझा एहसास भी है

रहता भी है, सहता भी है,
बनकर दरिया सा बहता भी है
पाता भी है, खोता भी है,
लिपट लिपट कर रोता भी है

थकता भी है, चलता भी है,
कागज़ सा दुखो में गलत भी है
गिरता भी है, संभलता भी है,

सपने फिर नए बुनता भी है

Posted in हिन्दू पतन

ઈસ્લામિક આતંક: વો કત્લ ભી કરતે હૈ તો ચર્ચા નહીં હોતી, હમ આહ ભી ભરતે હૈ તો હો જાતે હે બદનામ!

12 જૂન, શુક્રવાર.
સ્થળ: શ્રીનગર.
નમાજ બાદનો સમય.

નોહટ્ટા વિસ્તારની જામિયા મસ્જિદમાંથી માસ્ક પહેરેલા યુવાનોનું ટોળું બહાર આવે છે. કેટલાકના હાથમાં પાકિસ્તાનના તો કેટલાકના હાથમાં વિશ્વના કુખ્યાત આતંકવાદી સંગઠન ISISના ઝંડા છે. તેઓ રેલી કાઢીને ભારતવિરોધી અને પાકિસ્તાન તરફી નારા પણ લગાવે છે.

ટોળું ભલે મસ્જિદમાંથી નીકળ્યું હોય, યુવાનો ભલે મુસ્લિમ હોય, ભારતની ભૂમિ પર તેઓ વિશ્વના ક્રૂરત્તમ આતંકવાદી સંગઠન ઈસ્લામિક સ્ટેટના ઝંડા પણ ફરકાવે છતાં, સેંકડો વર્ષ સુધી ઈસ્લામિક આક્રમણો અને ગુલામી સહન કરી ચૂકેલા હે અહિંસક ભારતીયો, યાદ રાખો કે, આતંકનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો!

વિશ્વનો નવ્વાણુ ટકા આતંકનો કારોબાર ભલે બોકોહરામ, અલ શબાબ, તાલિબાન, અલ કાયદા, લશ્કર-એ-તોઈબા, હરકત ઉલ મુજાહિદ્દીન, તહરિક-એ-તાલિબાન, જૈશ-એ-મુહંમદ, ISIS (ઈસ્લામિક સ્ટેટ ઓફ ઈરાક એન્ડ સિરિયા), ઈન્ડિયન મુજાહિદ્દીન, જમાત-ઉદ-દાવા સહિતના મુસ્લિમ આતંકવાદી સંગઠનો જ ચલાવતા હોય ને વિશ્વમાં ઈસ્લામિક કાનૂન શરિયત લાગુ કરવાથી માંડી હિન્દુસ્તાનને તબાહ કરવા સુધીના મનસુબા ધરાવતા હોય આમ છતાં હે પ્રજ્ઞ ભારતીયો, યાદ રાખજો કે, આતંકવાદનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો!

કહેવાનો મતલબ એવો હરગિઝ નથી કે વૈશ્વિક આતંકવાદ માટે આખી મુસ્લિમ કૌમ જવાબદાર છે કે તેનું સમર્થન કરે છે. વિરોધ માત્ર એક જ પોઈન્ટ પર છે કે આ દેશમાં એકલ દોકલ અપવાદરૂપ કેસના કારણે જો ‘ભગવો આતંકવાદ’ શબ્દપ્રયોગ(એ પણ ગૃહમંત્રી કક્ષાના વ્યક્તિ દ્વારા) થઈ શકતો હોય તો અહીં ઈસ્લામિક આતંકવાદ સામે ખુલીને સ્ટેન્ડ લેતા કેમ બધાની ફેં ફાટે છે? માલેગાંવ બ્લાસ્ટ બાદ દેશની બહુમતી નિર્દોષ હિન્દુ પ્રજાની લાગણીની જરા પણ પરવાહ કર્યા વિના મહિનાઓ સુધી ‘હિન્દુ આતંક’ કે ‘ભગવો આતંક’ શબ્દપ્રયોગ કરનારા રાજકારણીઓ કે ચેનલીયાઓએ મુંબઈ હૂમલા બાદ એકેય વાર ‘ઈસ્લામિક ટેરર’ કે ‘મુસ્લિમ ટેરરિસ્ટ’ જેવા શબ્દો વાપર્યા? ઈવન ખુલ્લેઆમ આઈએસઆઈએસ અને પાકિસ્તાનના ઝંડા ફરકાવી ભારતને ભાંડનારાઓ માટે પણ કોઈ ધર્મસૂચક શબ્દો પ્રયોજે છે? નહીં ને? હિન્દુઓમાં જ પોચુ ભાળી ગયા છે. ઈસ્લામિક આતંકવાદનો સ્વીકાર પણ કરવાનો આવે તો એમના ધોતીયા ઢીલા અને પોતીયા પીળા થઈ જાય છે.

ઈસ્લામિક ટેરરિઝમનો મામલો હોય ત્યારે ખબર નહીં કેમ અને ક્યાંથી ‘આતંકનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો’ની ફિલસુફીઓ ફૂટીને ફાટી નીકળે છે! જેને મુસ્લિમ આતંકવાદી ગઝની અનેકાનેક વાર લૂંટી ગયો એવા હિન્દુઓના શ્રધ્ધેય સોમનાથમાં બિનહિન્દુઓના પ્રવેશ માટે મંજૂરી ફરજિયાત બનાવાય કે દલાલ સાથેના ઝઘડાના કારણે મુંબઈમાં ફ્લેટમાંથી હાંકી કઢાયેલી કોઈ મુસ્લિમ યુવતી પોતે મુસ્લિમ હોવાથી પોતાની સાથે ભેદભાવ થયો હોવાની બુમરાણ મચાવે ત્યારે એક શીખને વડાપ્રધાન અને એકથી વધુ મુસલમાનોને રાષ્ટ્રપતિ બનાવનારી આ દેશની બહુમતી સહિષ્ણુ પ્રજાની બિનસાંપ્રદાયીકતા સામે આંગળી ઉઠાવી ભાંડનારા કહેવાતા બુધ્ધીજીવીઓની લલૂડીને ઈસ્લામિક આતંક નામની વરવી વાસ્તવિકતાનો સ્વીકાર પણ કરવાનો થાય ત્યારે કેમ લકવો મારી જાય છે? એજન્ડા ગદ્દરના સન્ની દેઓલ જેટલો ક્લિયર છે. ‘અગર તુમ્હારા પાકિસ્તાન ઝીંદાબાદ હે તો હમારા હિન્દુસ્તાન ભી ઝીંદાબાદ થા, હે ઓર રહેગા’ – એ ડાયલોગની જેમ જો મુસ્લિમ કટ્ટરવાદી વિચારધારા આતંક ફેલાવે ત્યારે ‘આંતકનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો’ કહેવાય તો સાધ્વી પ્રજ્ઞા-કર્નલ પુરોહિત જેવા કેસમાં પણ એ જ માપદંડ લાગુ થવો જોઈએ. અને જો અપવાદ કેસમાં ‘ભગવો આતંકવાદ’ જેવા શબ્દપ્રયોગો થતા હોય તો ‘ઈસ્લામિક આતંક’ના અસ્તિત્વનો પણ છેડેચોક સ્વીકાર થવો જોઈએ.

કોઈ એક નાટક કે ફિલ્મમાં જોયેલુ કે, એક પાત્રને માથામાં દુખાવો થતો હોય છે. તેને બીજો સલાહ આપે છે કે, મારુ માથું નથી દુખતુ…મારું માથું નથી દુખતુ… એમ વિચારવાથી મટી જશે. પેલાએ પૂછ્યું કે એમ કરવા છતાં ન મટે તો? સલાહ આપનાર જવાબ આપે છે કે તો એમ વિચારવાનુ કે, જે દુખે છે તે મારું માથું નથી…જે દુખે છે તે મારું માથું નથી…મતલબ કે આડાતેડા ગતકડા કરવાના પણ દુખાવાની ગંભીરતા અને કારણ પારખીને દવા નહીં લેવાની. ઈસ્લામિક ટેરરિઝમનું પણ કંઈક આવું જ છે. ‘આતંકવાદનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો’ની ફિલોસોફીઓ ડહોળનારાઓ પહેલા આતંકવાદ ઈસ્લામિક હોવાનું નિદાન સ્વીકારે તો કંઈક ઇલાજ થાય ને?

થોડા સમય પહેલા ગુજરાતમાં બે-ત્રણ મોકડ્રિલ દરમિયાન પોલીસે આતંકવાદીઓને ટોપી પહેરેલા મુસ્લિમ શું બતાવી દીધા, હોબાળો મચી ગયો. વિરોધ ફાટી નીકળ્યો. ‘આતંકનો કોઈ ધર્મ નથી હોતો’ના કોરસગાન શરૂ થઈ ગયા. પોલીસ પર બરાબરના માછલા ધોવાયા. અંતે પોલીસે પણ માફામાફી ને ખુલાસા કરવા પડ્યા. ઠીક છે. ભારતના બંધારણ મુજબ જે થયુ તે બરાબર છે લેકિન…કિન્તુ…પરંતુ…બંધુ… આવો વિરોધ કરવાથી અને મોકડ્રિલના નકલી આતંકવાદીઓની ટોપીઓ ઉતરાવવાથી નગ્ન હકિકત થોડી બદલાઈ જવાની છે? અને મોકડ્રિલના આતંકીઓ પર ક્યાં ‘ભારતીય મુસ્લિમ’ એવો થપ્પો મારેલો હતો વળી તે આવા બખેડા કરવા પડે!

આ વિરોધ થયો એ જ સમયગાળામાં નોઈડાથી બે આતંકવાદી ઝડપાયા. તેમજ વાઈબ્રન્ટ-પ્રવાસી ભારતીય દિવસ પર હૂમલો કરી શકે તેવી શક્યતા ધરાવતા મધ્યપ્રદેશના ખંડવાની જેલમાંથી ભાગેલા આતંકીઓના પોસ્ટર્સ ગાંધીનગરમાં લાગ્યા. આ બંન્ને ઘટનાઓમાં સંડોવાયેલા શખ્સોના માથે ઈસ્લામિક ટોપી હતી. આ ચિત્ર કેવી રીતે બદલાશે વારું?

ગુજરાત પોલીસે નકલી આતંકીઓને પહેરાવેલી મુસ્લિમ ટોપી, ઈસ્લામિક ટેરરનો ખોફનાક ચહેરો દર્શાવતી કમલ હાસનની ફિલ્મ ‘વિશ્વરૂપમ’, વિદેશમાં બનેલી પયગંબર પરની ફિલ્મ કે ગાઝા પટ્ટી પર થયેલા હૂમલાનો વિરોધ કરવા ઉમટી પડેલા ટોળાં ત્યારે ક્યાં હતા જ્યારે અલ કાયદાના આકા અલ ઝવાહિરીની ટેપ આવેલી. એ ટેપમાં ઝવાહિરી કહે છે કે, ‘અમે ભારતીય ઉપ મહાદ્વિપમાં ઈસ્લામનું શાસન સ્થાપવામાં માંગીએ છીએ. તે બર્મા, કાશ્મીર, ગુજરાત, બાંગ્લાદેશ, અમદાવાદ અને આસામમાં મુસ્લિમોની સેવા કરશે.’ ઝવાહિરીના આ મતલબના નિવેદનને ભારતના મુસ્લિમ સંગઠનો, મુસ્લિમ ધર્મગુરૂઓ, મુસ્લિમ યુવાનો, મુસ્લિમ પક્ષો(અને મુસ્લિમોના નામે મુસ્લિમો માટે રાજનિતી કરતા કહેવાતા સાંપ્રદાયીક પક્ષો) સહિત ભારતમાં વસતા તમામ મુસ્લિમોએ એકી શ્વાસે વખોડી કાઢવું નહોતુ જોઈતુ?

અલ કાયદાને સણસણાવીને ચોખ્ખુ સંભળાવી દેવાની જરૂર હતી કે, ભારતના મુસ્લિમોની તમારે ચિંતા કરવાની જરૂર નથી. તમે વિશ્વભરના મુસ્લિમોનો ઠેકો નથી લઈ રાખ્યો. કાશ્મીર કે અમદાવાદના મુસ્લિમોને તમારી ‘સેવા’ની જરૂર નથી. ભારતના મુસ્લિમો પાકિસ્તાન સહિતના વિશ્વના અનેક દેશો કરતા અનેકગણા વધુ સુખી છે. ભારત વિશ્વનું એકમાત્ર રાષ્ટ્ર છે જે મુસ્લિમોને હજ કરવા માટે સબસિડી આપે છે. જેની રાજધાનીનું નામ ‘ઈસ્લામાબાદ’ છે તેવું પાકિસ્તાન પણ હજ માટે સબસિડી આપતુ નથી. ખુદ પાકિસ્તાનની સુપ્રીમ કોર્ટ હજ માટેની સબસિડીને ગૈર ઈસ્લામિક ગણાવી ચૂકી છે. પરંતુ આવું સ્ટેન્ડ લેવા ભારતમાં કોઈ ઈસ્લામિક સંગઠન આગળ ન આવ્યું. મુસ્લિમોને સંડોવતા કે ઈસ્લામને લગતા વિશ્વભરના ઈસ્યુઝ પર ભારતમાં બહાર આવી દેખાવો કરતા મુસ્લિમોએ અલ કાયદાની ટેપ મામલે પણ આગળ આવી સ્ટેન્ડ લેવાની જરૂર નહોતી? એ જ રીતે કાશ્મીરમાં આઈએસઆઈએસના ઝંડા ફરકાવનારા અને કાશ્મીરમાં આઈસીસનું સ્વાગત કરતા સુત્રો લખનારા તત્વોના વિરોધમાં દેશભરના મુસ્લિમોએ સ્ટેન્ડ ન લેવું જોઈએ?

આવા ઈસ્યુઝ પર કોઈ સમાજ દ્વારા લેવાતા સિલેક્ટીવ સ્ટેન્ડના કેવા ગંભીર પરિણામો આવી શકે તેનો ચિતાર ગોધરાકાંડ બાદના તોફાનોના કારણોના મૂળમાં મળે છે. સિનિયર પત્રકાર પ્રશાંત દયાળે ગોધરાકાંડ અને તોફાનો પર ‘9166 UP – 2002 રમખાણોનું અધૂરું સત્ય’ નામની બુક લખી છે. આ કિતાબ કોઈ ક્રાઈમ જર્નાલિસ્ટની નજરે ને કલમે લખાયેલી કોઈ સાધારણ ક્રાઈમ ડાયરી નહીં પણ 2002ના અરસાના આખા ગુજરાતની માનસિકતાનો ડીએનએ ટેસ્ટ કરવાનો પ્રયાસ કરતો એક ઐતિહાસિક દસ્તાવેજ છે. ગોધરાકાંડ બાદ મોટાપાયે થયેલી મુસ્લિમોની(ખુવારી બંન્ને પક્ષે હતી પણ મુસ્લિમોએ વધુ ભોગવવું પડેલુ) કત્લેઆમના કારણોના મૂળમાં જવાનો પ્રયાસ કરતા પત્રકાર અનેક લોકોને સવાલો પૂછીને રમખાણોના સામાજિક-મનોવૈજ્ઞાનિક કારણો તારવવાનો પ્રયાસ કરે છે. લેખક પ્રશાંત દયાળે ભાજપના સિનિયર નેતા સુરેન્દ્ર પટેલ(સુરેન્દ્ર કાકા)ને પૂછ્યું, ‘આવું કેમ બન્યુ?’ જવાબનો એક અંશ જાણવા જેવો છે – ‘હિન્દુઓએ જે કર્યુ તેની પાછળ એક જ કારણ હતું કે 58 વ્યક્તિને જીવતી સળગાવી દેવામાં આવી ત્યારે એક પણ મુસ્લિમ કે તેમની તરફેણ કરનાર કોંગ્રેસ અને અન્ય પાર્ટીઓએ ઘટનાને વખોડી નહોતી, નહિતર આટલી મોટી સંખ્યામાં તોફાનો થતાં નહીં. કોઈ હિન્દુ ગુંડો લોકો પર અત્યાચાર કરે તો ખુદ હિન્દુઓ જ તેનો વિરોધ કરે છે પણ મુસ્લિમોમાં તેવું બનતું નથી, કારણ કે મુસ્લિમોનું નેતૃત્વ મોટાભાગે અસામાજિક તત્વોના હાથમાં જ હોય છે.(લેટેસ્ટ ઉદાહરણ ઓવૈસી બ્રધર્સ) જેના કારણે બહુમતી મુસ્લિમો સારા હોવા છતાં થોડાક મુસ્લિમ ગુંડાઓને કારણે આખી કૌમને સહન કરવું પડે છે.’

રમખાણોના સત્યની શોધમાં નીકળેલા પત્રકારે ડબ્બો સળગ્યાના પડઘા શક્ય એટલા ઓછા પડે તે માટે પ્રયાસો પણ કરેલા. પ્રશાંત દયાળ લખે છે, ‘ગોધરાની ઘટના પછી જ્યારે હું ગોધરામાં જ હતો ત્યારે મેં મારા એક મુસ્લિમ પ્રોફેસર મિત્રને ફોન કરી જણાવ્યું હતું કે તે પરિચિત મૌલવીઓને મળી એક પ્રેસનોટ દ્વારા આ ઘટનાને વખોડતી જાહેરાત કરાવે, જેથી હિન્દુઓ ગોધરાકાંડ માટે તમામ મુસ્લિમોને જવાબદાર ગણે નહીં, પરંતુ તેમાં મને અને મારા મિત્રને નિરાશા મળી હતી. કારણ કે અનેક મૌલવીઓ એ વાતનો સ્વીકાર કરતા હતા કે ગોધરાની ઘટના શૈતાની કૃત્ય છે પણ તેને પ્રેસનોટ દ્વારા વખોડવા તૈયાર નહોતા. જો મુસ્લિમોએ ડહાપણનું પગલું ભર્યુ હોત તો નિર્દોષ મુસ્લિમોએ તેની કિંમત ચૂકવવી પડી ન હોત.’ કાશ…પેશાવરના હૂમલા બાદ જુહાપુરામાં જે રીતે ‘પેશાવર કે દર્દ મેં રો રહા હૈ જુહાપુરા’ના બેનર્સ સાથે રેલી નીકળી એવી એકાદી રેલી ગોધરામા સળગી ગયેલા ડબ્બા માટે પણ નીકળી હોત તો ગુજરાતનો ઈતિહાસ કદાચ ઓછો લોહિયાળ હોત. (લખ્યા તા.14 જૂન 2015, રવિવાર)

ફ્રિ હિટ:

કાશ્મીરમાં આઈએસઆઈએસના ઝંડા ફરકાવનારા અને ત્યાં આઈએસઆઈએસને આવકારતા સુત્રો લખનારા મુસ્લિમ કટ્ટરપંથી તત્વોએ યાદ રાખવું જોઈએ કે, જેલમની સપાટી વધી રહી છે અને કાશ્મીરમાં પુર જેવી હોનારત વખતે ભારતીય સેના જ કામમાં આવે છે, ઈસ્લામિક સ્ટેટના આતંકવાદીઓ નહીં.

Posted in जीवन चरित्र

28 जून/जन्म-दिवस

अनुपम दानी : भामाशाह

दान की चर्चा होते ही भामाशाह का नाम स्वयं ही मुँह पर आ जाता है। देश रक्षा के लिए महाराणा प्रताप के चरणों में अपनी सब जमा पूँजी अर्पित करने वाले दानवीर भामाशाह का जन्म अलवर (राजस्थान) में 28 जून, 1547 को हुआ था। उनके पिता श्री भारमल्ल तथा माता श्रीमती कर्पूरदेवी थीं। श्री भारमल्ल राणा साँगा के समय रणथम्भौर के किलेदार थे। अपने पिता की तरह भामाशाह भी राणा परिवार के लिए समर्पित थे।

एक समय ऐसा आया जब अकबर से लड़ते हुए राणा प्रताप को अपनी प्राणप्रिय मातृभूमि का त्याग करना पड़ा। वे अपने परिवार सहित जंगलों में रह रहे थे। महलों में रहने और सोने चाँदी के बरतनों में स्वादिष्ट भोजन करने वाले महाराणा के परिवार को अपार कष्ट उठाने पड़ रहे थे। राणा को बस एक ही चिन्ता थी कि किस प्रकार फिर से सेना जुटाएँ,जिससे अपने देश को मुगल आक्रमणकारियों से चंगुल से मुक्त करा सकें।

इस समय राणा के सम्मुख सबसे बड़ी समस्या धन की थी। उनके साथ जो विश्वस्त सैनिक थे, उन्हें भी काफी समय से वेतन नहीं मिला था। कुछ लोगों ने राणा को आत्मसमर्पण करने की सलाह दी; पर राणा जैसे देशभक्त एवं स्वाभिमानी को यह स्वीकार नहीं था। भामाशाह को जब राणा प्रताप के इन कष्टों का पता लगा, तो उनका मन भर आया। उनके पास स्वयं का तथा पुरखों का कमाया हुआ अपार धन था। उन्होंने यह सब राणा के चरणों में अर्पित कर दिया। इतिहासकारों के अनुसार उन्होंने 25 लाख रु. तथा 20,000 अशर्फी राणा को दीं। राणा ने आँखों में आँसू भरकर भामाशाह को गले से लगा लिया।

राणा की पत्नी महारानी अजवान्दे ने भामाशाह को पत्र लिखकर इस सहयोग के लिए कृतज्ञता व्यक्त की। इस पर भामाशाह रानी जी के सम्मुख उपस्थित हो गये और नम्रता से कहा कि मैंने तो अपना कर्त्तव्य निभाया है। यह सब धन मैंने देश से ही कमाया है। यदि यह देश की रक्षा में लग जाये, तो यह मेरा और मेरे परिवार का अहोभाग्य ही होगा। महारानी यह सुनकर क्या कहतीं, उन्होंने भामाशाह के त्याग के सम्मुख सिर झुका दिया।

उधर जब अकबर को यह घटना पता लगी, तो वह भड़क गया। वह सोच रहा था कि सेना के अभाव में राणा प्रताप उसके सामने झुक जायेंगे; पर इस धन से राणा को नयी शक्ति मिल गयी। अकबर ने क्रोधित होकर भामाशाह को पकड़ लाने को कहा। अकबर को उसके कई साथियों ने समझाया कि एक व्यापारी पर हमला करना उसे शोभा नहीं देता। इस पर उसने भामाशाह को कहलवाया कि वह उसके दरबार में मनचाहा पद ले ले और राणा प्रताप को छोड़ दे; पर दानवीर भामाशाह ने यह प्रस्ताव ठुकरा दिया। इतना ही नहीं उन्होंने अकबर से युद्ध की तैयारी भी कर ली। यह समाचार मिलने पर अकबर ने अपना विचार बदल दिया।

भामाशाह से प्राप्त धन के सहयोग से राणा प्रताप ने नयी सेना बनाकर अपने क्षेत्र को मुक्त करा लिया। भामाशाह जीवन भर राणा की सेवा में लगे रहे। महाराणा के देहान्त के बाद उन्होंने उनके पुत्र अमरसिंह के राजतिलक में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभायी। इतना ही नहीं, जब उनका अन्त समय निकट आया, तो उन्होंने अपने पुत्र को आदेश दिया कि वह अमरसिंह के साथ सदा वैसा ही व्यवहार करे, जैसा उन्होंने राणा प्रताप के साथ किया है।

Posted in संस्कृत साहित्य

धर्म एव हतो हन्ति
धर्मो रक्षति रक्षितः।
तस्माद्धर्मो न हन्तव्यो
मा नो धर्मो हतोऽवधीत्।

धर्म उसका नाश करता है जो
धर्म का नाश करता है।
धर्म उसका रक्षण करता है जो
उसके रक्षणार्थ प्रयास करता है।
अतः धर्म का नाश नहीं करना
चाहिए। ध्यान रहे धर्म का नाश करने वाले का नाश,अवश्यंभावी है। मरा हुआ धर्म मारने वाले का नाश, और रक्षित किया हुआ धर्म रक्षक की रक्षा करता है इसलिए धर्म का हनन कभी न करना,इस डर से कि मारा हुआ धर्म कभी हमको न मार डाले। जो पुरूष धर्म का नाश करता है, उसी का नाश धर्म कर देता है, और जो धर्म की रक्षा करता है,उसकी धर्म भी रक्षा करता है। इसलिए मारा हुआ धर्म कभी हमको न मार डाले,इस भय से धर्म का हनन अर्थात् त्याग कभी नही करना चाहिए।
……………………………….
स्वयम्भू मनु ने धर्म के दस
लक्षण बताये हैं:

धृतिः क्षमा दमोऽस्तेयं
शौचमिन्द्रियनिग्रहः।
धीर्विद्या सत्यमक्रोधो
दशकं धर्म लक्षणम्॥

धृति (धैर्य),क्षमा(दूसरों के द्वारा
किये गये अपराध को क्षमा कर
देना,क्षमाशील होना),दम(अपनी
वासनाओं पर नियन्त्रण करना),
अस्तेय (चोरी न करना),शौच
(अन्तरङ्ग और बाह्य शुचिता),
इन्द्रिय निग्रहः(इन्द्रियों को वश
मे रखना),धी(बुद्धिमत्ता का
प्रयोग),विद्या(अधिक से अधिक
ज्ञान की पिपासा),सत्य (मन
वचन कर्म से सत्य का पालन)
और अक्रोध (क्रोध न करना);
ये दस धर्म के लक्षण हैं। जो अपने अनुकूल न हो वैसा व्यवहार दूसरे के साथ न करना चाहिये – यह धर्म की कसौटी है।
……………………………….
श्रूयतां धर्म सर्वस्वं
श्रुत्वा चैव अनुवर्त्यताम्।
आत्मनः प्रतिकूलानि,
परेषां न समाचरेत्॥

धर्म का सर्वस्व क्या है,सुनो
और सुनकर उस पर चलो !
अपने को जो अच्छा न लगे,
वैसा आचरण दूसरे के साथ
नही करना चाहिये।
…………………………………
धर्म एव हतो हन्ति
धर्मो रक्षति रक्षितः।
तस्माद्धर्मो न हन्तव्यः
मानो धर्मो हतोवाधीत् ॥

धर्म उसका नाश करता है जो
उसका(धर्म का)नाश करता है।
धर्म उसका रक्षण करता है जो
उसके रक्षणार्थ प्रयास करता है।
अतः धर्मका नाश नहीं करना
चाहिए। ध्यान रहे धर्मका नाश करने वाले का नाश,अवश्यंभावी है।
……………………………….
यत्र धर्मो ह्यधर्मेण
सत्यं यत्रानृतेन च।
हन्यते प्रेक्षमाणानां
हतास्तत्र सभासदः।

जिस सभा में बैठे हुए
सभासदों के सामने अधर्म
से धर्म और झूठ से सत्य का
हनन होता है उस सभा में सब
सभासद् मरे से ही हैं।
‘‘जिस सभा में अधर्म से धर्म,
असत्य से सत्य,सब सभासदों
के देखते हुए मारा जाता है,उस
सभा में सब मृतक के समान
हैं,जानों उनमें कोई भी नहीं
जीता।’’
…………………………………..
धर्मो विद्धस्त्वधर्मेण
सभां यत्रोपतिष्ठते।
शल्यं चास्य न कृन्तन्ति
विद्धास्तत्र सभासदः।।

जिस सभा में अधर्म से घायल
होकर धर्म उपस्थित होता है जो
उसका शल्य अर्थात् तीरवत् धर्म
के कलंक को निकालना और
अधर्म का छेदन नहीं करते
अर्थात् धर्मों का मान,अधर्मी
को दण्ड नहीं मिलता उस सभा
में जितने सभासद् हैं वे सब
घायल के समान समझे जाते हैं।
‘‘अधर्म से धर्म घायल होकर
जिस सभा में प्राप्त होवे उसके
घाव को यदि सभासद् न पूर देवें
तो निश्चय जानो कि उस सभा में
सब सभासद् ही घायल पड़े हैं।’’
………………………………
ऋग्वेदविद्यजुर्विच्च
सामवेदविदेव च।
त्र्यवरा परिषज्ज्ञेया
धर्मसंशयनिर्णये।।

ऋग्वेदवित्,यजुर्वेदवित् और
सामवेदवित् इन तीनों विद्वानों
की भी सभा धर्मसंशय अर्थात्
सब व्यवहारों के निर्णय के लिए
होनी चाहिए। ’और जिस सभा में ऋग्वेद,यजुर्वेद और सामवेद के
जानने वाले तीन सभासद
होके व्यवस्था करें,उस सभा
की,की हुई व्यवस्था का भी
कोई उल्लंघन न करे ।’
…………………………………

Posted in मंत्र और स्तोत्र

मंत्र संसार
jai ho….
Radhe radhe…..
आर्थिक परेशानी और कर्ज से मुक्ति दिलाता है शिवजी का दारिद्रय दहन स्तोत्र. कारगर मंत्र है आजमाकर देखे

जो व्यक्ति घोर आर्थिक संकट से जूझ रहे हों, कर्ज में डूबे हों, व्यापार व्यवसाय की पूंजी बार-बार फंस जाती हो उन्हें दारिद्रय दहन स्तोत्र से शिवजी की आराधना करनी चाहिए.

महर्षि वशिष्ठ द्वारा रचित यह स्तोत्र बहुत असरदायक है. यदि संकट बहुत ज्यादा है तो शिवमंदिर में या शिव की प्रतिमा के सामने प्रतिदिन तीन बार इसका पाठ करें तो विशेष लाभ होगा.

जो व्यक्ति कष्ट में हैं अगर वह स्वयं पाठ करें तो सर्वोत्तम फलदायी होता है लेकिन परिजन जैसे पत्नी या माता-पिता भी उसके बदले पाठ करें तो लाभ होता है.

शिवजी का ध्यान कर मन में संकल्प करें. जो मनोकामना हो उसका ध्यान करें फिर पाठ आरंभ करें.

श्लोकों को गाकर पढ़े तो बहुत अच्छा, अन्यथा मन में भी पाठ कर सकते हैं. आर्थिक संकटों के साथ-साथ परिवार में सुख शांति के लिए भी इस मंत्र का जप बताया गया है.

।।दारिद्रय दहन स्तोत्रम्।।
〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️
विश्वेशराय नरकार्ण अवतारणाय
कर्णामृताय शशिशेखर धारणाय।

कर्पूर कान्ति धवलाय, जटाधराय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।१

गौरी प्रियाय रजनीश कलाधराय,
कलांतकाय भुजगाधिप कंकणाय।

गंगाधराय गजराज विमर्दनाय
द्रारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।२

भक्तिप्रियाय भवरोग भयापहाय
उग्राय दुर्ग भवसागर तारणाय।

ज्योतिर्मयाय गुणनाम सुनृत्यकाय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।३

चर्माम्बराय शवभस्म विलेपनाय,
भालेक्षणाय मणिकुंडल-मण्डिताय।

मँजीर पादयुगलाय जटाधराय
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।४

पंचाननाय फणिराज विभूषणाय
हेमांशुकाय भुवनत्रय मंडिताय।

आनंद भूमि वरदाय तमोमयाय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।५

भानुप्रियाय भवसागर तारणाय,
कालान्तकाय कमलासन पूजिताय।

नेत्रत्रयाय शुभलक्षण लक्षिताय
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।६

रामप्रियाय रधुनाथ वरप्रदाय
नाग प्रियाय नरकार्ण अवताराणाय।

पुण्येषु पुण्य भरिताय सुरार्चिताय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।७

मुक्तेश्वराय फलदाय गणेश्वराय
गीतप्रियाय वृषभेश्वर वाहनाय।

मातंग चर्म वसनाय महेश्वराय,
दारिद्रय दुख दहनाय नमः शिवाय।।८

वसिष्ठेन कृतं स्तोत्रं सर्व रोग निवारणम्
सर्व संपत् करं शीघ्रं पुत्र पौत्रादि वर्धनम्।।

शुभदं कामदं ह्दयं धनधान्य प्रवर्धनम्
त्रिसंध्यं यः पठेन् नित्यम् स हि स्वर्गम् वाप्युन्यात्।।९

।।इति श्रीवशिष्ठरचितं दारिद्रयुदुखदहन शिवस्तोत्रम संपूर्णम।।….Radhe radhe…..

Posted in सुभाषित - Subhasit

  • “चरन् वै मधु बिन्दति चरन् स्वादुमुदुम्बरम् । सूर्यस्य पश्य श्रेमाणं यो न तन्द्रयते चरन् ।। चरैवेति।”
  • “An opportunity to work is good luck for me. I put my soul into it. Each such opportunity opens the gates for the next one.”
  • “जो सतत चलते रहते हैं वे ही मधुर फल पाते हैं…सूर्य को देखिए – निरंतर पुरुषार्थ, निरंतर कर्मयोगऔर निरंतर गतिशील……अत: चलते रहे.
Posted in मंत्र और स्तोत्र

बिल्व पत्र की विशेषता


बिल्व पत्र की विशेषता
jai ho….
Radhe radhe…..
भगवान शिव की पूजा में बिल्व पत्र यानी बेल पत्र का विशेष महत्व है। महादेव एक बेलपत्र अर्पण करने से भी प्रसन्न हो जाते है, इसलिए तो उन्हें आशुतोष भी कहा जाता है।

बिल्व तथा श्रीफल नाम से प्रसिद्ध यह फल बहुत ही काम का है। यह जिस पेड़ पर लगता है वह शिवद्रुम भी कहलाता है। बिल्व का पेड़ संपन्नता का प्रतीक, बहुत पवित्र तथा समृद्धि देने वाला है।

बेल के पत्ते शंकर जी का आहार माने गए हैं, इसलिए भक्त लोग बड़ी श्रद्धा से इन्हें महादेव के ऊपर चढ़ाते हैं। शिव की पूजा के लिए बिल्व-पत्र बहुत ज़रूरी माना जाता है। शिव-भक्तों का विश्वास है कि पत्तों के त्रिनेत्रस्वरूप् तीनों पर्णक शिव के तीनों नेत्रों को विशेष प्रिय हैं।

भगवान शंकर का प्रिय
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
भगवान शंकर को बिल्व पत्र बेहद प्रिय हैं। भांग धतूरा और बिल्व पत्र से प्रसन्न होने वाले केवल शिव ही हैं। शिवरात्रि के अवसर पर बिल्वपत्रों से विशेष रूप से शिव की पूजा की जाती है। तीन पत्तियों वाले बिल्व पत्र आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं, किंतु कुछ ऐसे बिल्व पत्र भी होते हैं जो दुर्लभ पर चमत्कारिक और अद्भुत होते हैं।

बिल्वाष्टक और शिव पुराण
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
बिल्व पत्र का भगवान शंकर के पूजन में विशेष महत्व है जिसका प्रमाण शास्त्रों में मिलता है। बिल्वाष्टक और शिव पुराण में इसका स्पेशल उल्लेख है। अन्य कई ग्रंथों में भी इसका उल्लेख मिलता है। भगवान शंकर एवं पार्वती को बिल्व पत्र चढ़ाने का विशेष महत्व है।

मां भगवती को बिल्व पत्र
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
श्रीमद् देवी भागवत में स्पष्ट वर्णन है कि जो व्यक्ति मां भगवती को बिल्व पत्र अर्पित करता है वह कभी भी किसी भी परिस्थिति में दुखी नहीं होता। उसे हर तरह की सिद्धि प्राप्त होती है और कई जन्मों के पापों से मुक्ति मिलती है और वह भगवान भोले नाथ का प्रिय भक्त हो जाता है। उसकी सभी इच्छाएं पूरी होती हैं और अंत में मोक्ष की प्राप्ति होती है।

बिल्व पत्र के प्रकार
〰️〰️〰️〰️〰️〰️
बिल्व पत्र चार प्रकार के होते हैं – अखंड बिल्व पत्र, तीन पत्तियों के बिल्व पत्र, छः से 21 पत्तियों तक के बिल्व पत्र और श्वेत बिल्व पत्र। इन सभी बिल्व पत्रों का अपना-अपना आध्यात्मिक महत्व है। आप हैरान हो जाएंगे ये जानकर की कैसे ये बेलपत्र आपको भाग्यवान बना सकते हैं और लक्ष्मी कृपा दिला सकते हैं।

अखंड बिल्व पत्र
〰️〰️〰️〰️〰️
इसका विवरण बिल्वाष्टक में इस प्रकार है – ‘‘अखंड बिल्व पत्रं नंदकेश्वरे सिद्धर्थ लक्ष्मी’’। यह अपने आप में लक्ष्मी सिद्ध है। एकमुखी रुद्राक्ष के समान ही इसका अपना विशेष महत्व है। यह वास्तुदोष का निवारण भी करता है। इसे गल्ले में रखकर नित्य पूजन करने से व्यापार में चैमुखी विकास होता है।

तीन पत्तियों वाला बिल्व पत्र
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
इस बिल्व पत्र के महत्व का वर्णन भी बिल्वाष्टक में आया है जो इस प्रकार है- ‘‘त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुतम् त्रिजन्म पाप सहारं एक बिल्वपत्रं शिवार्पणम’’ यह तीन गणों से युक्त होने के कारण भगवान शिव को प्रिय है। इसके साथ यदि एक फूल धतूरे का चढ़ा दिया जाए, तो फलों में बहुत वृद्धि होती है।

इस तरह बिल्व पत्र अर्पित करने से भक्त को धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है। रीतिकालीन कवि ने इसका वर्णन इस प्रकार किया है- ‘‘देखि त्रिपुरारी की उदारता अपार कहां पायो तो फल चार एक फूल दीनो धतूरा को’’ भगवान आशुतोष त्रिपुरारी भंडारी सबका भंडार भर देते हैं।

आप भी फूल चढ़ाकर इसका चमत्कार स्वयं देख सकते हैं और सिद्धि प्राप्त कर सकते हैं। तीन पत्तियों वाले बिल्व पत्र में अखंड बिल्व पत्र भी प्राप्त हो जाते हैं। कभी-कभी एक ही वृक्ष पर चार, पांच, छह पत्तियों वाले बिल्व पत्र भी पाए जाते हैं। परंतु ये बहुत दुर्लभ हैं।

10 छह से लेकर 21 पत्तियों वाले बिल्व पत्र
ये मुख्यतः नेपाल में पाए जाते हैं। पर भारत में भी दक्षिण में कहीं-कहीं मिलते हैं। जिस तरह रुद्राक्ष कई मुखों वाले होते हैं उसी तरह बिल्व पत्र भी कई पत्तियों वाले होते हैं।

श्वेत बिल्व पत्र
〰️〰️〰️〰️
जिस तरह सफेद सांप, सफेद टांक, सफेद आंख, सफेद दूर्वा आदि होते हैं उसी तरह सफेद बिल्वपत्र भी होता है। यह प्रकृति की अनमोल देन है। इस बिल्व पत्र के पूरे पेड़ पर श्वेत पत्ते पाए जाते हैं। इसमें हरी पत्तियां नहीं होतीं। इन्हें भगवान शंकर को अर्पित करने का विशेष महत्व है।

कैसे आया बेल वृक्ष
〰️〰️〰️〰️〰️〰️
बेल वृक्ष की उत्पत्ति के संबंध में ‘स्कंदपुराण’ में कहा गया है कि एक बार देवी पार्वती ने अपनी ललाट से पसीना पोछकर फेंका, जिसकी कुछ बूंदें मंदार पर्वत पर गिरीं, जिससे बेल वृक्ष उत्पन्न हुआ। इस वृक्ष की जड़ों में गिरिजा, तना में महेश्वरी, शाखाओं में दक्षयायनी, पत्तियों में पार्वती, फूलों में गौरी का वास माना गया है।

बिल्व-पत्र तोड़ने का मंत्र
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
बिल्व-पत्र को सोच-विचार कर ही तोड़ना चाहिए। पत्ते तोड़ने से पहले यह मंत्र बोलना चाहिए-

अमृतोद्भव श्रीवृक्ष महादेवप्रिय: सदा।
गृह्यामि तव पत्राणि शिवपूजार्थमादरात्॥

अर्थ- अमृत से उत्पन्न सौंदर्य व ऐश्वर्यपूर्ण वृक्ष महादेव को हमेशा प्रिय है। भगवान शिव की पूजा के लिए हे वृक्ष में तुम्हारे पत्र तोड़ता हूं।

पत्तियां कब न तोड़ें
〰️〰️〰️〰️〰️〰️
विशेष दिन या पर्वो के अवसर पर बिल्व के पेड़ से पत्तियां तोड़ना मना है। शास्त्रों के अनुसार इसकी पत्तियां इन दिनों में नहीं तोड़ना चाहिए-
सोमवार के दिन चतुर्थी, अष्टमी, नवमी, चतुर्दशी और अमावस्या की तिथियों को। संक्रांति के पर्व पर।

अमारिक्तासु संक्रान्त्यामष्टम्यामिन्दुवासरे ।
बिल्वपत्रं न च छिन्द्याच्छिन्द्याच्चेन्नरकं व्रजेत ॥
(लिंगपुराण)

अर्थ
अमावस्या, संक्रान्ति के समय, चतुर्थी, अष्टमी, नवमी और चतुर्दशी तिथियों तथा सोमवार के दिन बिल्व-पत्र तोड़ना वर्जित है।

क्या चढ़ाया गया बिल्व-पत्र भी चढ़ा सकते हैं
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
शास्त्रों में विशेष दिनों पर बिल्व-पत्र चढ़ाने से मना किया गया है तो यह भी कहा गया है कि इन दिनों में चढ़ाया गया बिल्व-पत्र धोकर पुन: चढ़ा सकते हैं।

अर्पितान्यपि बिल्वानि प्रक्षाल्यापि पुन: पुन:।
शंकरायार्पणीयानि न नवानि यदि चित्॥
(स्कन्दपुराण, आचारेन्दु)

अर्थ- अगर भगवान शिव को अर्पित करने के लिए नूतन बिल्व-पत्र न हो तो चढ़ाए गए पत्तों को बार-बार धोकर चढ़ा सकते हैं।

विभिन्न रोगों की कारगर दवा
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
बिल्व-पत्र-बिल्व का वृक्ष विभिन्न रोगों की कारगर दवा है। इसके पत्ते ही नहीं बल्कि विभिन्न अंग दवा के रूप में उपयोग किए जाते हैं। पीलिया, सूजन, कब्ज, अतिसार, शारीरिक दाह, हृदय की घबराहट, निद्रा, मानसिक तनाव, श्वेतप्रदर, रक्तप्रदर, आंखों के दर्द, रक्तविकार आदि रोगों में बिल्व के विभिन्न अंग उपयोगी होते हैं। इसके पत्तो को पानी से पकाकर उस पानी से किसी भी तरह के जख्म को धोकर उस पर ताजे पत्ते पीसकर बांध देने से वह शीघ्र ठीक हो जाता है।

पूजन में महत्व
〰️〰️〰️〰️〰️
वस्तुत: बिल्व पत्र हमारे लिए उपयोगी वनस्पति है। यह हमारे कष्टों को दूर करती है। भगवान शिव को चढ़ाने का भाव यह होता है कि जीवन में हम भी लोगों के संकट में काम आएं। दूसरों के दु:ख के समय काम आने वाला व्यक्ति या वस्तु भगवान शिव को प्रिय है। सारी वनस्पतियां भगवान की कृपा से ही हमें मिली हैं अत: हमारे अंदर पेड़ों के प्रति सद्भावना होती है। यह भावना पेड़-पौधों की रक्षा व सुरक्षा के लिए स्वत: प्रेरित करती है। पूजा में चढ़ाने का मंत्र-भगवान शिव की पूजा में बिल्व पत्र यह मंत्र बोलकर चढ़ाया जाता है। यह मंत्र बहुत पौराणिक है।

त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुतम्।
त्रिजन्मपापसंहारं बिल्वपत्रं शिवार्पणम्॥

अर्थ- तीन गुण, तीन नेत्र, त्रिशूल धारण करने वाले और तीन जन्मों के पाप को संहार करने वाले हे शिवजी आपको त्रिदल बिल्व पत्र अर्पित करता हूं।

रुद्राष्टाध्यायी के इस मन्त्र को बोलकर बिल्वपत्र चढ़ाने का विशेष महत्त्व एवं फल है।
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
नमो बिल्ल्मिने च कवचिने च नमो वर्म्मिणे च वरूथिने चनमः श्रुताय च श्रुतसेनाय च नमो दुन्दुब्भ्याय चा हनन्न्याय च नमो घृश्णवे॥
दर्शनं बिल्वपत्रस्य स्पर्शनम्‌ पापनाशनम्‌। अघोर पाप संहारं बिल्व पत्रं शिवार्पणम्‌॥त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुधम्‌। त्रिजन्मपापसंहारं बिल्वपत्रं शिवार्पणम्‌॥
अखण्डै बिल्वपत्रैश्च पूजये शिव शंकरम्‌। कोटिकन्या महादानं बिल्व पत्रं शिवार्पणम्‌॥गृहाण बिल्व पत्राणि सपुश्पाणि महेश्वर। सुगन्धीनि भवानीश शिवत्वंकुसुम प्रिय….Radhe radhe……

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एकअनोखा मुकदमा


एकअनोखा मुकदमा💢

न्यायालय में एक मुकद्दमा आया ,जिसने सभी को झकझोर दिया |अदालतों में प्रॉपर्टी विवाद व अन्य पारिवारिक विवाद के केस आते ही रहते हैं| मगर ये मामला बहुत ही अलग किस्म का था|
एक 60 साल के व्यक्ति ने ,अपने 75 साल के बूढ़े भाई पर मुकद्दमा किया था|
मुकदमा कुछ यूं था कि “मेरा 75 साल का बड़ा भाई ,अब बूढ़ा हो चला है ,इसलिए वह खुद अपना ख्याल भी ठीक से नहीं रख सकता |मगर मेरे मना करने पर भी वह हमारी 95 साल की मां की देखभाल कर रहा है |
मैं अभी ठीक हूं, सक्षम हू। इसलिए अब मुझे मां की सेवा करने का मौका दिया जाय और मां को मुझे सौंप दिया जाय”।
न्यायाधीश महोदय का दिमाग घूम गया और मुक़दमा भी चर्चा में आ गया| न्यायाधीश महोदय ने दोनों भाइयों को समझाने की कोशिश की कि आप लोग 15-15 दिन रख लो|
मगर कोई टस से मस नहीं हुआ,बड़े भाई का कहना था कि मैं अपने स्वर्ग को खुद से दूर क्यों होने दूँ |अगर मां कह दे कि उसको मेरे पास कोई परेशानी है या मैं उसकी देखभाल ठीक से नहीं करता, तो अवश्य छोटे भाई को दे दो।
छोटा भाई कहता कि पिछले 35 साल से,जब से मै नौकरी मे बाहर हू अकेले ये सेवा किये जा रहा है, आखिर मैं अपना कर्तव्य कब पूरा करूँगा।जबकि आज मै स्थायी हूं,बेटा बहू सब है,तो मां भी चाहिए।
परेशान न्यायाधीश महोदय ने सभी प्रयास कर लिये ,मगर कोई हल नहीं निकला|
आखिर उन्होंने मां की राय जानने के लिए उसको बुलवाया और पूंछा कि वह किसके साथ रहना चाहती है|
मां कुल 30-35 किलो की बेहद कमजोर सी औरत थी |उसने दुखी दिल से कहा कि मेरे लिए दोनों संतान बराबर हैं| मैं किसी एक के पक्ष में फैसला सुनाकर ,दूसरे का दिल नहीं दुखा सकती|
आप न्यायाधीश हैं , निर्णय करना आपका काम है |जो आपका निर्णय होगा मैं उसको ही मान लूंगी।
आखिर न्यायाधीश महोदय ने भारी मन से निर्णय दिया कि न्यायालय छोटे भाई की भावनाओं से सहमत है कि बड़ा भाई वाकई बूढ़ा और कमजोर है| ऐसे में मां की सेवा की जिम्मेदारी छोटे भाई को दी जाती है।
फैसला सुनकर बड़े भाई ने छोटे को गले लगाकर रोने लगा |
यह सब देख अदालत में मौजूद न्यायाधीश समेत सभी के आंसू छलक पडे।
कहने का तात्पर्य यह है कि अगर भाई बहनों में वाद विवाद हो ,तो इस स्तर का हो|
ये क्या बात है कि ‘माँ तेरी है’ की लड़ाई हो,और पता चले कि माता पिता ओल्ड एज होम में रह रहे हैं |यह पाप है।
धन दौलत गाडी बंगला सब होकर भी यदि मा बाप सुखी नही तो आप से बडा कोई जीरो(0)नही।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

❤ भगवान अकेला है ❤

जो आदमी सब को छोड़ कर , अपने पैरो पर खड़ा हो जाता है, वह भगवान का प्यारा हो जाता है । क्यों की भगवान उसे चाहता है जो किसी को पकड़े हुए नही है, जो अपने बल पर खड़ा है ।

मैंने सुनी है एक कहानी। एक मुसलमान फकीर था। वह रात सोया । उसने एक स्वप्न देखा की वह स्वर्ग चला गया है। सपने में हि लोग स्वर्ग जाते है।
असलियत में तो नर्क चले जाए लेकिन स्वप्न में कोई नर्क क्यों जाए? स्वप्न में तो कम से कम स्वर्ग जाना चाहिए।

स्वप्न में वह चला गया। और देखता है की स्वर्ग के रास्ते पर बड़ी भीड़ भाड़ है,
लाखों लोगों की भीड़ है। उसने पूछा की क्या बात है आज? तो भीड़ के रास्ते चलते किसी आदमी ने कहा की भगवान का जन्म दिन है। उसका जलसा मनाया जा रहा है।

तो उसने कहा बड़े सौभाग्य मेरे, भगवान के बहोत दिनों से दर्शन करने थे। वह मौका मिल गया। आज भगवान का जन्म दिन है, अच्छे मौके पर में स्वर्ग आ गया।

वह भी रास्ते के किनारे लाखों दर्शको की भीड़ में खड़ा हो गया । फिर एक घोड़े पर सवार एक बहोत शानदार आदमी, उसके साथ लाखो लोग निकले।
वह झुककर लोगो से पूछता है क्या जो घोड़े पर सवार है वे ही भगवान है ? तो किसी ने कहा, नही वह भगवान नही है ,यह हज़रत मोहम्मद है और उनके पीछे उनको मानने वाले लोग है ।

वह जुलुस निकल गया। फिर दुसरा जुलुस है और रथ पर सवार एक बहोत महिमाशाली व्यक्ति है। वह पूछता है क्या ये ही भगवान है ? किसी ने कहा नही, ये भगवान नही, यह राम है और राम के मानने वाले लोग।

और क्राइस्ट और बुद्ध और महावीर और जरथुस्त्र और कंफ्यूशियश और न मालुम कितने महिमाशाली लोग निकलते है और उनकी मानने वाले लोग निकलते है।

आधी रात बीत जाती है, फिर धीरे धीरे रास्ते में सन्नाटा हो जाता है । फिर यह आदमी सोचता है की अभी भगवान नही निकले। वे कब निकलेंगे? और जब लोग जाने के करीब हो गए है, रास्ता उजड़ने लगा है, कोई रास्ते पर ध्यान नही दे रहा है, तब तक एक बूढ़ा-सा आदमी अकेले चला आ रहा है। उसके साथ कोई भी नही है। वह हैरान होता है कि ये महाशय कौन है ? जिनके साथ कोई भी नही । यह अपने आप ही घोड़े पर बैठकर चले आ रहे है, बिलकुल अकेले। तो ये चलता हुआ आदमी कहता है की हो न हो, यह भगवान होंगे । क्यों कि भगवान से अकेला और दुनिया में कोई भी नही है ।

वह जाकर भगवान को ही पूछता है उस घोड़े पर बैठे हुए बूढ़े आदमी से की महाशय आप भगवान है ? में बहुत हैरान हूँ, मोहम्मद के साथ बहुत लोग थे,
क्राइष्ट के साथ बहुत लोग थे, राम के साथ बहुत लोग थे, सबके साथ बहुत बहुत लोग थे, आपके साथ कोई भी नही?

भगवान की आँखों से आसूं गिरने लगे और भगवान ने कहा ,सारे लोग उन्ही के बिच बंट गए है, कोई बचा ही नही जो मेरे साथ हो सके।कोई राम के साथ,
कोई कृष्ण के साथ, मेरे साथ तो कोई भी नहीं। और मेरे साथ वही हो, में अकेला ही हूँ !

घबराहट में उस फकीर की नींद खुल गयी। नींद खुल गयी तो पाया वह
जमीन पर अपने झोंपड़े में है। वह पास पड़ोस में जाकर केहने लगा की मैंने एक बहुत दुखद स्वप्न देखा है, बिलकुल झूठा स्वप्न देखा है।

मैंने यह देखा की भगवान अकेला है । यह कैसे हो सकता है? वह फकीर मुझे भी मिला और मैंने उससे कहा की तुमने सच्चा ही स्वप्न देखा है।

भगवान से ज्यादा अकेला कोई भी नही। क्यों की जो हिन्दू हो सकता है
वह भगवान के साथ नही हो सकता। जो मुसलमान है वह भगवान के साथ नही हो सकता है। जो जैन है वह भगवान के साथ नही हो सकता है। जो कोई भी नही है, जिसका कोई विशेषण नही है, जो किसी का अनुयायी नही है, जो किसी का शिष्य नही है, जो बिलकुल अकेला है, जो बिलकुल नितान्त अकेला है वही केवल उस नितान्त अकेले से जुड़ सकता है, जो भगवान है।

अकेले में, तन्हाई मैं, लोनलिनैस में, बिलकुल अकेले में वह द्वार खुलता है जो भगवान से जोड़ता है । भीड़ भाड़ से भगवान का कोई संबंध नही।

!! ओशो !!

[ नेति नेति : 9 ]

Posted in सुभाषित - Subhasit

वक्ता

सुलभाः पुरुषा रजन्! सततं प्रियवादिनः । अप्रियस्य तु पथ्यस्य वक्ता श्रोता च दुर्लभः ॥

श्रीमद्वाल्मीकिरामयणे अरण्यकाण्डे सप्तत्रिंशस्सर्गः (२ श्लोक)

अर्थः—अप्रिय अर्थात् कठोर बोलने वाला, किन्तु पथ्य अर्थात् सही मार्ग बताने वाला, हितकारी बोलने वाला वक्ता इस संसार में दुर्लभ होते हैं और साथ ही ऐसी वाणी सुनने वाले श्रोता भी दुर्लभ होते हैं ।
ऐसे बोलने वालों में महात्मा विदुर, श्रीकृष्ण सम्मिलित थे । यथासमय यथावत् बोलना इनका धर्म था । श्रीकृष्ण तो बोलने के साथ कार्यान्वित भी करते थे ।