Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

रानी वेलु नचियार और आत्मघाती हमले
By :- Anand Kumar

वेलु नचियार रामनद राज्य की राजधानी रामनाथपुरम से शासन करने वाले राजा चेल्लामुथु सेथुपरी और रानी सकंधीमुथल की इकलौती बेटी थी। वलारी और सिलंबम जैसी युद्ध कलाओं के अलावा वो अंग्रेजी फ्रेंच, उर्दू जैसी कई भाषाएँ भी जानती थी। उनकी शादी शिवगंगे के राजा से हुई जिस से उन्हें एक बेटी थी। आजादी के लिए इसाई हमलावरों के खिलाफ लड़ने वाली पहली रानी, दक्षिण भारत की वेलु नचियार थी। वो 1750-1800 के दौर की थीं, यानि भारत के पहले बड़े स्वतंत्रता संग्राम से करीब सौ साल पहले लड़ रही थीं।

अर्कोट के नवाब के साथ मिलकर इसाई हमलावरों ने उनके पति को मार डाला तो उन्हें युद्ध में शामिल होना पड़ा। अपनी बेटी के साठ वो कोपल्ला नायक्कर के संरक्षण में डिंडीगुल भाग गई और आठ साल वहीँ से संघर्ष किया। इसी दौरान उन्होंने गोपाल नायक्कर और हैदर अली से भी संधि की और 1780 में उनके आक्रमण कामयाब होने लगे। ये हमले महत्वपूर्ण क्यों हैं ? इसलिए क्योंकि इन आक्रमणों में पहले आधुनिक काल के युद्धों में पहले हिन्दू आत्मघाती हमले का जिक्र यहीं मिलता है। फिरंगियों से अपना राज्य वापस लेने के लिए रानी वेलु नचियार ने सबसे पहले आत्मघाती हमले और महिलाओं की सैन्य टुकड़ियों का इस्तेमाल किया था।

अपनी गोद ली हुई बेटी उदैयाल के नाम पर ही उनकी स्त्री सैन्य टुकड़ी का नाम उदैयाल था। उन्होंने ढूंढ निकाला कि फिरंगियों ने अपना गोला बारूद किले में कहाँ इकठ्ठा कर रखा है। रानी की बेटी, उदैयाल ने शरीर पर तेल डाला और गोला बारूद के गोदाम में खुद को आग लगा कर घुस गई। बारूद का भयावह विस्फोट और तोपों के नाकाम होते ही रानी की जीत पक्की हो गई थी। रानी वेलु नचियार इसलिए भी महत्वपूर्ण होती हैं क्योंकि तमिल लोककथाओं और लोकगीतों की ये नायिका भारत की वो इकलौती रानी थी जिसने फिरंगी भेड़ियों के जबड़े से अपना राज्य वापस छीन लिया था। उनके अलावा किसी ने अपना राज्य फिरंगियों से वापस जीतने में कामयाबी नहीं पाई थी।
1780 में ही मरुदु बंधुओं को उनके इलाके के काम-काज सम्बन्धी अधिकार उन्होंने दिए थे। बाद में उनकी बेटी वेल्लाची ने 1790 में उनके उत्तराधिकारी के रूप में शासन संभाला। रानी वेलु नचियार की मृत्यु 25 दिसम्बर, 1796 को हुई थी।

रानी वेलु नचियार और उनकी बेटी उदैयाल की कहानी इसलिए याद आई क्योंकि भारतीय हिन्दू बार बार आत्मघाती फिदायीनों का हमला झेलते तो हैं, लेकिन खुद उसका इस्तेमाल करना, या उसे पहचानना भूल जाते हैं। वो भूल जाते हैं कि जो खुद के पेट पर बम बांध कर लोगों को मारने पर तुला हो, उसके मानवाधिकारों की बात करना मतलब उसके दर्जनों शिकारों के मानवाधिकारों से इनकार करना है। मानवाधिकार हैं भी तो पहले किसके हैं ? शोषित-पीड़ित आम नागरिक के जो कानूनों का पालन करता देश का संविधान मान रहा है या उसके जो कानूनों को ताक पर रखकर कत्ले-आम पर अमादा है ? अपराधों पर जेल जाता तो भी वोट देने जैस नागरिक अधिकार नहीं रहते, ऐसे व्यक्ति के मानवाधिकारों की जिम्मेदारी राज्य पर कैसे है ?

फिदायीन हमलावर को पहचानना इसलिए भी ज्यादा जरूरी है क्योंकि वो आतंक फैलाने के लिए आम लोगों की निहत्थी भीड़ पर ही हमला करेगा। वो अपने आकाओं को बचाने के लिए ऐसे हमले कर रहा है। उसे अपनी जिहादी सोच फैलाकर ज्यादा से ज्यादा लोगों को डराना है। वो विरोध के हर स्वर को कुचल कर खामोश कर देना चाहता है। वो मीडिया मुगलों जैसा है जो आज अंकित सक्सेना की हत्या पर दोमुंहा रवैया दिखा कर आपका निशाना बदलना चाहते हैं। मुद्दा था कि ऑटो रिक्शा वाले रविन्द्र, डॉ. नारंग, चन्दन गुप्ता सबकी हत्या में जो सच दिख रहा है, उसे देखने से इनकार क्यों किया जा रहा है ? आई.एस.आई.एस. जैसा सर कलम करने की घटनाओं में इस्लामिक जिहाद के सच की तरफ आँखे खुलती क्यों नहीं हैं ?

आप सोचते हैं कि तैरना नहीं आता तो क्या ? आपको कौन सा समंदर में जाकर गोता लगाना है ! लेकिन यहाँ समंदर तो घर में घुस आया है मियां ! सवाल ये भी है कि मियां अब तैरना सीखेंगे या सेकुलरिज्म की पट्टी आँख पर बांधे रखनी है !

दिल्ली के अंकित सक्सेना की मौत और पेड मीडिया के बर्ताव पर अजित भारती का लेख

“पति को मारकर ले जाना मंजरी को ! ऐसे तो नहीं ले जाने दूँगी”, मंजरी की माँ ने कहा। ये भोजपुरी लोककथा की नायिका, मंजरी, मेहरा नाम के एक यादव सरदार की बेटी थी। ये लोककथा कहीं ना कहीं ये भी दर्शा देती है कि “उठा ले जाने” से बचाने के लिए विवाह कर देने की परंपरा कैसे शुरू हुई होगी। इस लोककथा के शुरू होने का समय करीब वही रहा होगा जो आज के महाराष्ट्र-गुजरात के कुछ इलाकों में यादव राजवंश के शासन का काल था। करीब इसी से थोड़ा पहले राजा सुहेलदेव राजभर ने गज़नवी के भांजे-भतीजे, “गाज़ी सलार मसूद” और उसकी फौज़ को खदेड़ कर गाजर-मूलियों की तरह काटा था।

कहानी कुछ यूँ है कि अगोरी नाम के राज्य में मोलागत नाम के राजा का शासन था। मेहरा नाम का सरदार शायद सत्ता को चुनौती देने लायक शक्तिशाली हो चला होगा, तो ऐसी ही किसी वजह से राजा मोलागत, मेहरा से जलते थे। उसे नीचा दिखाने के लिए उन्होंने मेहरा तो जूआ खेलने का न्योता भेजा। उम्मीद के मुताबिक राजा मोलागत जीत नहीं पाए, उल्टा अपना राज-पाट भी हार गए। निराश हारे हुए राजा जब अपने भूतपूर्व हो चुके राज्य से जा रहे थे, तो भेष बदले ब्रह्मा, उनपर तरस खा के, उनके पास आये। उन्होंने राजा को कुछ सिक्के दिए और कहा इनको दांव पर लगाओ तो जीतोगे।

राजा मोलागत वापस आये और मेहरा से फिर से एक बाजी खेली। इस बार मेहरा हारने लगे, हारते हारते वो अपनी गर्भवती पत्नी के पेट में पल रहे बच्चे को भी हार गए। राजा मोलागत को अपना राज्य वापस मिल गया था तो ज्यादा लालच करने की जरुरत नहीं रह गई थी। उन्होंने कहा कि अगर होने वाली संतान लड़का हुआ तो वो अस्तबल में काम करेगा, अगर लड़की हुई तो उसे रानी की सेवा में रखा जाएगा। हारा मेहरा लौट गया। समय बीतने पर जब संतान का जन्म हुआ तो वो एक अद्भुत सी लड़की थी। राजा के आदमी जब उसे लेने आये तो इस लड़की की माँ ने कहा, इसे ऐसे नहीं ले जा सकते ! इसके पति को युद्ध में जीतकर मार देना तो इसे ले जा कर नौकर रखना।

समाजशास्त्रियों की कथाओं को मानें तो उस काल में ऐसा होना नहीं चाहिए था। स्त्रियों को बोलने, अपनी राय रखने, या संपत्ति पर अधिकार जैसा कुछ नहीं जताना चाहिए। आश्चर्यजनक ये भी है कि इस लोककथा के काफी बाद के यानि मराठा काल तक भी जब मंदिरों का निर्माण देखें तो भूमि और बनाने-जीर्णोद्धार की आज्ञा रानी अहिल्याबाई होल्कर और कई अन्य रानियों की निकल आती है। पता नहीं क्यों पैत्रिक संपत्ति में स्त्रियों के हिस्से के लिए दायभाग और सम्बन्धियों में “दायाद” या “दियाद” जैसे शब्द भी मिल जाते हैं। हो सकता है समाजशास्त्री कल्पनाओं में पूरा सच ना बताया गया हो।

खैर तो लोककथा में आगे कुछ यूँ हुआ कि मेहरा की ये सातवीं संतान अनोखी थी। उसे अपने पूर्वजन्मों की याद थी और उसके आधार पर उसने अपनी माँ को बताया कि आप लोग बलिया नाम की जगह पर लोरिक को ढूंढें। मेहरा लोरिक के घर जाते हैं और शादी भी तय हो जाती है। लोककथा की अतिशयोक्ति जैसा ही लोरिक डेढ़ लाख बारातियों के साथ मंजरी से शादी के लिए आते हैं। राजा मोलागत को जब इसका पता चलता है तो उनकी सेना भी युद्ध के लिए सजती है। लड़ाई होती है मगर लोरिक जीत नहीं पा रहे थे। उनकी हार की संभावना देखकर मंजरी फिर से सलाह देती है।

वो बताती है कि अगोरी के किले के पास ही गोठानी गाँव है जहाँ भगवान शिव का मंदिर है। अगर लोरिक वहां शिव की उपासना करे तो उसे जीत का वर मिल सकता है। लोरिक ऐसा ही करता है और जीत जाता है। दोनों की शादी होती है और विदाई से पहले मंजरी कहती है कि कुछ ऐसा करो जिस से लोग लोरिक-मंजरी के प्रेम को सदियों याद रखें। कुछ कथाएँ कहती हैं कि मंजरी देखना चाहती थी कि आखिर तलवार का वो कैसा वार था जिसने राजा को हरा दिया ? उसके पूछने पर लोरिक वहीँ पास की चट्टान पर तलवार चला देता है। कहते हैं पहले वार में चट्टान का एक टुकड़ा नीचे खाई में जा गिरा और मंजरी उतने से खुश नहीं हुई। दूसरी बार फिर से वार करने पर चट्टान आधी कटी।

मंजरी-लोरिक की कहानी के ये पत्थर जमाने से यहीं खड़े हैं। कहते हैं यहाँ से प्रेमी कभी मायूस नहीं लौटते। हर साल गोवर्धन पूजा पर उत्तरप्रदेश के सोनभद्र जिले में यहाँ पर मेला लगता है। रोबर्ट्सगंज नाम क्यों और कैसे, किसने रख दिया, ये हमें मालूम नहीं। जहाँ तक कला का प्रश्न है, कुछ लोगों को पिकासो जैसों की ना समझ में आती ऐबस्ट्रैक्ट पेंटिंग पसंद आती है, कुछ को माइकल एंजेलो जैसों की स्पष्ट कहानियों पर बनी तस्वीरें अच्छी लगती है। कला का ही मामला देखें तो आप ताजमहल पर अकाल के दौर में करोड़ों के खर्च में विद्रूपता भी देख सकते हैं। प्रेम की निशानी इस साधारण से आधे कटे चट्टान में सौन्दर्य भी दिख सकता है।

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई, रानी चेनम्मा, रानी अब्बक्का जैसी अंग्रेजों की गुलामी से ठीक पहले की रानियों का जिक्र होते ही एक सवाल दिमाग में आता है | युद्ध तलवारों से, तीरों से, भाले – फरसे जैसे हथियारों से लड़ा जाता था उस ज़माने में तो ! इनमे से कोई भी 5-7 किलो से कम वजन का नहीं होता | इतने भारी हथियारों के साथ दिन भर लड़ने के लिए stamina भी चाहिए और training भी |

रानी के साथ साथ उनकी सहेलियों, बेटियों, भतीजियों, दासियों के भी युद्ध में भाग लेने का जिक्र आता है | इन सब ने ये हथियार चलाने सीखे कैसे ? घुड़सवारी भी कोई महीने भर में सीख लेने की चीज़ नहीं है | उसमे भी दो चार साल की practice चाहिए | ढेर सारी खुली जगह भी चाहिए इन सब की training के लिए | Battle formation या व्यूह भी पता होना चाहिए युद्ध लड़ने के लिए, पहाड़ी और समतल, नदी और मैदानों में लड़ने के तरीके भी अलग अलग होते हैं | उन्हें सिखाने के लिए तो कागज़ कलम से सिखाना पड़ता है या बरसों युद्ध में भाग ले कर ही सीखा जा सकता है |

अभी का इतिहास हमें बताता है की पुराने ज़माने में लड़कियों को शिक्षा तो दी ही नहीं जाती थी | उनके गुरुकुल भी नहीं होते थे ! फिर ये सारी महिलाएं युद्ध लड़ना सीख कैसे गईं ? ब्राम्हणों के मन्त्र – बल से हुआ था या कोई और तरीका था सिखाने का ?

लड़कियों की शिक्षा तो नहीं होती थी न ? लड़कियों के गुरुकुल भी नहीं ही होते थे ?
✍🏻
आनन्द कुमार

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s