Posted in छोटी कहानिया - १००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

संजय गुप्ता

नाम-जपकी विधि………

‘कल्याण’ में एक लेख आया था‒एक गाँवमें रहनेवाले स्त्री-पुरुष थे । गँवार थे बिलकुल । पढ़े-लिखे नहीं थे ।

वे मालासे जप करते तो एक पावभर उड़दके दाने अपने पास रख लेते । एक माला पूरी होनेपर एक दाना अलग रख देते । ऐसे दाने पूरे होनेपर कहते कि मैंने पावभर भजन किया है

स्त्री कहती कि मैंने आधा सेर भजन किया, आधा सेर माला भजन किया । उनके यही संख्या थी । तो किसी तरह भगवान्का नाम जपे ।

अधिक-से-अधिक सेर, दो सेर भजन करो । यह भी भजन करनेका तरीका है । जब आप लग जाओगे तो तरीका समझमें आ जायगा ।

जैसे सरकार इतना कानून बनाती है फिर भी सोच करके कुछ-न-कुछ रास्ता निकाल ही लेते हो । भजनकी लगन होगी तो क्या रास्ता नहीं निकलेगा ।

लगन होगी तो निकाल लोगे । सरकार तो कानूनोंमें जकड़नेकी कमी नहीं रखती; फिर भी आप उससे निकलनेकी कमी नहीं रखते ।
कैसे-न-कैसे निकल ही जाते हैं ।
तो संसारसे निकलो भाई । यह तो फँसनेकी रीति है ।
भगवान के ध्यानमें घबराहट नहीं होती, ध्यानमें तो आनन्द आता है, प्रसन्नता होती है; पर जबरदस्ती मन लगानेसे थोड़ी घबराहट होती है
तो कोई हर्ज नहीं । भगवान से कहो‒ मन नहीं लगता ।’ कहते ही रहो,कहते ही रहो ।

एक सज्जनने कहा था‒कहते ही रहो ‘व्यापारीको ग्राहकके अगाड़ी और भक्तको भगवान्के अगाड़ी रोते ही रहना चाहिये कि क्या करें बिक्री नहीं होती, क्या करें पैदा नहीं होती ।’

ऐसे भक्तको भगवान के अगाड़ी ‘क्या करें, महाराज ! भजन नहीं होता है, हे नाथ ! मन नहीं लगता है ।’ ऐसे रोते ही रहना चाहिये ।

ग्राहकके अगाड़ी रोनेसे बिक्री होगी या नहीं होगी, इसका पता नहीं, पर भगवान्के अगाड़ी रोनेसे काम जरूर होगा । यह रोना एकदम सार्थक है ।

सच्ची लगन आपको बतायेगी कि हमारे भगवान् हैं और हम भगवान के हैं । यह सच्चा सम्बन्ध जोड लें । उसीकी प्राप्ति करना हमारा खास ध्येय है, खास लक्ष्य है ।

यह एक बन जायगा तो दूजी बातें आ जायँगी । बिना सीखे ही याद आ जायँगी, भगवान की कृपासे याद आ जायेंगी ।

जय जय श्रीराधे

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks