Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

संतोष चतुर्ववेदी

“लालच बुरी बला है”

एक गांव में एक कुत्ता रहता था। वो हमेशा कुछ न कुछ खाने की फिराक में ही रहता था, क्योंकि वह बहुत लालची था। वह भोजन की तलाश में हमेशा यहां-वहां भटकता रहता था, उसका पेट कभी नहीं भरता था। एक दिन की बात है, वो हमेशा की तरह खाने की तलाश में इधर-उधर घूम रहा था, लेकिन उसे कहीं भी भोजन नहीं मिला। अंत में उसे एक होटल के बाहर एक मांस का एक टुकड़ा दिखाई दिया, उसने झट से उस टुकड़े को मुंह में पकड़ लिया और सोचा कि कहीं एकांत में जाकर मज़े से इसे खाया जाए। वह उसे अकेले में बैठकर खाना चाहता था, इसलिए मांस का टुकड़ा लेकर वहां से जल्दी से जल्दी भाग गया। एकांत जगह की खोज करते-करते वह एक नदी के पास पहुंचा। नदी के किनारे जाकर उसने नदी में झांका, तो अचानक उसने अपनी परछाई नदी में देखी। वो समझ नहीं पाया कि यह उसी की परछाई है, उसे लगा कि पानी में कोई दूसरा कुत्ता है, जिसके मुंह में भी मांस का टुकड़ा है। उस लालची कुत्ते ने सोचा क्यों न इसका टुकड़ा भी छीन लिया जाए। अगर इसका मांस का टुकड़ा भी मिल जाए, तो खाने का मजा दुगुना हो जाएगा। वह उस परछाई पर ज़ोर से भौंका. भौंकने से उसके मुंह में दबा मांस का टुकड़ा नदी में गिर पड़ा। अब वह अपना टुकड़ा भी खो बैठा। उसे तब जाकर समझ में आया कि जिसे वो दूसरा कुत्ता समझ रहा था, वो तो उसकी ख़ुद की परछाई है। उसने ज़्यादा के लालच में, जो था वो भी खो दिया। अब वह बहुत पछताया और मुंह लटकाकर वापस गांव में आ गया।

सीख- लालच बुरी बला है। लालच नहीं करना चाहिए। दूसरों की चीज़ें छीनने का फल बुरा ही होता है। लालच हमारी ख़ुशियां छीन लेता है, इसलिए अपनी मेहनत पर भरोसा करना चाहिए और मेहनत से जो भी हासिल हुआ हो, उसमें संतोष करना चाहिए। अगर लालच करेंगे तो हमारे पास अभी जितना है, उससे भी हाथ धोना पड़ सकता है।

Author:

Buy, sell, exchange old books