Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मूर्ख कौन? – बोध कथा


https://wp.me/p9hsLf-D8

Posted in रामायण - Ramayan

14 वर्ष के वनवास में राम कहां-कहां रहे


https://wp.me/p9hsLf-Db

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

સર્વશ્રેષ્ઠ વડો કોણ ?

રાજા અકબરનો દરબાર ભરાયો હતો. સોનાના સિંહાસન પર રાજા અકબર બિરાજમાન છે. બાજુમાં પડદા પાછળ રાજાની રાણીઓ બેઠેલી છે. રાજાના દરબારના નવરત્નો પોતપોતાના આસન પર ગોઠવાયેલા છે.

રાજાનું સમગ્ર પ્રધાનમંડળ, અધિકારીઓ બધા આજની સભામાં હાજર છે. બધા નગરજનો શાંતિ જળવાય તેમ બેસી ગયા છે. આજની સભા અતિ મહત્ત્વની છે. કારણ કે આ વાર્ષિક સભા છે. રાજા પોતાના મંત્રીઓ પાસેથી તેમણે કરેલાં કાર્યોની માહિતી મેળવવા માંગતા હતા. આજે અહીં નગરજનોની ફરિયાદો પર ચર્ચા વિચારણા થવાની છે.

રાજા અકબરે બધાનું અભિવાદન ઝીલી કાર્યવાહી આગળ વધારવા સૂચન કર્યું. વારાફરતી દરેક પ્રધાન ઊભાં થઈને તેમણે કરેલા કાર્યોની વિગત રજુ કરવા લાગ્યા. ભવિષ્યમાં કયા નવા કાર્યો કરવા, નવી યોજનાને કેવું સ્વરૃપ આપવું તેની ચર્ચા થઈ. રાજાની ચતુર અને દીર્ઘદ્રષ્ટિવાળી રાણી જોધાબાઈ અને હોંશિયાર બીરબલ જરૃર મુજબ સૂચન કરતા ગયા. પછી પ્રજાજનોની ફરિયાદો અંગે ચર્ચા વિચારણા ચાલી. રાજા અકબરે પોતાના પ્રધાનોને સલાહ સૂચન પણ આપી દીધા.

રાજા અકબરના રાજ્યમાં જુદી જુદી જાતિ, ભાષા અને ધર્મના લોકો રહેતા હતા. દરેક ધર્મના લોકોમાં તેમનો એક વડો પણ હતો. દરેક ધર્મના વડાઓમાં એક વિખવાદ જાગ્યો હતો અને તે એ કે બધા ધર્મના વડાઓમાં સર્વશ્રેષ્ઠ વડો કોને ગણવો ? બધા ધર્મના વડાઓ અનેકવાર ભેગા થતા હતા, ચર્ચાવિચારણાની સાથે સાથે બોલાબોલી પણ થતી હતી અને કોઈપણ નક્કર પરિણામ વગર તેમની સભા વિખરાઈ જતી હતી.

વડાઓના આ પ્રશ્નથી અકબર ખુદ મૂંઝવણમાં પડી ગયા હતા. અકબરે પોતાના મુખ્ય અને ચતુર પ્રધાન બીરબલને આનો રસ્તો કાઢવા સૂચન કર્યું. બીરબલે આ પ્રશ્નનાં નિરાકરણ માટે મુદત માંગી રાજા અકબર બીરબલની સાથે સહમત થયા એટલે બધા દરબારીઓ અને પ્રજાજનો વિખરાયા.

બીરબલ તો રાત દિવસ એ જ વિચારવા લાગ્યો કે આ પ્રશ્નનું નિરાકરણ કેવી રીતે લાવવું ? આખરે બીરબલે એક ઉપાય વિચારી લીધો. બીરબલની યોજના મુજબ જુદા જુદા ધર્મના વડાઓને રાજમહેલની પાછળ આવેલા બાગમાં ભોજન ગ્રહણ કરવા માટે આમંત્રિત કરવામાં આવ્યા. બધા વડાની આગતા સ્વાગતા ખૂબ જ ધૂમધામથી કરવામાં આવી.

પછી બધા વડાઓને બેસવા માટે ચાંદીના બાજોઠ ઢાળવામાં આવ્યા. ભોજન માટે ચાંદીના વાસણોની વ્યવસ્થા હતી. જાતજાતની વાનગીઓ પીરસવામાં આવ્યા. બધાની બાજોઠની પાસે ફળફળાદિની ટોપલીઓ અને સૂકામેવાના ડબ્બા ગોઠવવામાં આવી. બીરબલે બધાના ભોજન લેવાનો આગ્રહ કર્યો. એવામાં એક ભિખારી વૃદ્ધ યુગલ આવીને બાગના ખૂણામાં સંકોચાતું સંકોચાતું બેસી ગયું અને ઈશારાથી ભોજન માંગવા લાગ્યું.

આ ભિખારી યુગલને જોઈને ધર્મના વડાઓનાં તેવર ચઢી ગયા. એક વડા બરાડી ઊઠયા, ‘અમારા જેવી પવિત્ર અને મહાન વ્યક્તિઓના ભોજન સમયે આ ભિખારીઓ…’ બીજા વડાએ સૂર પુરાવ્યો, ‘પેલા ભિખારીઓને કાઢો અહીંથી, નહીં તો અમે ભોજનનો ત્યાગ કરીશું.’

એક વડાએ ભોજનની થાળીમાં હાથ જ ધોઈ નાંખ્યા અને બોલ્યા, ‘આ તો અમારું અપમાન છે, હું તો અહીંથી જાઉં છું.’

આમ દરેક વડા કંઈ ને કંઈ અપશબ્દો બોલીને ભિખારી યુગલનું અપમાન કરતા રહ્યા. છેલ્લે બેઠેલા એક વડા ચૂપચાપ બેઠા હતા. જેમણે ક્યારેય વડા હોવાનો દાવો કર્યો જ નહોતો.

બીરબલ તેમની નજીક ગયો અને કહ્યું, ‘આ વિશે તમારે કશું નથી કહેવું ?’

‘અરે, તેને ધર્મ વિશે બહુ જ્ઞાન જ ક્યાં છે તે દલીલ કરશે ?’ બીજા વડાઓ બોલી ઊઠયા.

‘બીરબલજી, મારે કશું કહેવું નથી, પરંતુ આપ જો મંજૂરી આપો તો કંઈક કરવું જરૃર છે.’ બીરબલે માથું હલાવી મંજુરી આપી એટલે તે વડા ઊભા થયા, પોતાના ભોજનની થાળી લઈને વૃદ્ધ યુગલને ધરી દીધી. આ જોઈને બીજા બધા વડાઓ ક્રોધે ભરાયા અને બડબડાટ કરવા લાગ્યા.

વૃદ્ધ યુગલ તો ભૂખ્યું હોય તેમ ભોજન પર તૂટી પડયું અને સઘળું ભોજન સ્વાહા કરીને સંતોષનો ઓડકાર ખાધો. આ જોઈને એક વડા બોલ્યા, ‘એય, ભિખારા હવે તો તમારું પેટ ભરાયું ને ? જાવ અહીંથી…’ બીરબલે તેમને શાંત પાડતા કહ્યું, ‘એ કોઈ ભિખારી નથી. એ તો આપણાં….’ આટલું બોલતાં ભિખારી યુગલને તેમનો વેશ હટાવવા જણાવવામાં આવ્યું. વેશ હટાવાયો ત્યારે ખબર પડી કે એ તો રાજા અકબર અને રાણી જોધા હતા.

રાજા અકબર બોલ્યા, ‘ધર્મને નામે આખો દિવસ તમે બધા લડો છો, ધર્મપરિષદમાં પણ તમારા બધાના અહમને કારણે નિષ્ફળતા મળે છે. મને સમજાવો કે સાચો ધર્મ કયો ? જૂની પ્રણાલિકા પકડી રાખીને પોતાના અહમને પોષવો એ શું સાચો ધર્મ છે ? કયું ધર્મપુસ્તક ધર્મને નામે લડતાં શિખવાડે છે ? કયો ધર્મ માણસ ઊંચો છે કે નીચો તે નક્કી કરે છે ?

કોઈ ધર્મ ઊંચો કે નીચો નથી, ભૂખ્યાને ભોજન, તરસ્યાને પાણી, અસહાયને સહાય અને સત્યની રાહે ચાલવું એ જ સાચો ધર્મ છે. સાચો ધર્મ સેવા અને માનવતાનો છે. ધર્મનો વડો તે જ છે જે કોઈને ભૂખ્યા કે દુ:ખી નથી જોઈ શકતો. માનવતાનો સાચો પૂજારી એ ખરા અર્થમાં ધર્મનો વડો છે.’

રાજા અકબરની વાત સાંભળી બધા ધર્મના વડા શરમના માર્યા ઝૂકી ગયા. અકબર રાજાએ ભિખારીને ભોજન આપનાર વડાની ‘સર્વશ્રેષ્ઠ વડા’ તરીકે નિમણૂક કરી.

हरेश मंगुकिया

Posted in सुभाषित - Subhasit

ઉપસ્થાસ્તે અનમીવા અયક્ષ્મા, અસ્મભ્યં સન્તુ પૃથિવી પ્રસૂતાઃ ।
દીર્ઘ ન આયુઃ પ્રતિબુધ્યમાના, વયં તુભ્યં બલિહૃતઃ સ્યામ ।।

ભાવાર્થ ઃ હે માતૃભૂમિ! અમે તારા ખોળામાં જ મોટા થઈએ છીએ અને આરોગ્યવર્ધક પદાર્થો પ્રાપ્ત કરીએ છીએ. એટલા માટે સમયે આવે ત્યારે તારા માટે બલિદાન આપવામાં પાછીપાની નહિં કરીએ.

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

ધૂળ ઢેફા ને પાણાં હોય
ભીંતે-ભીંતે છાણાં હોય
ટાણાં એવા ગાણાં હોય
મળવા જેવા માણાં હોય

ઉકરડાં ને ઓટા હોય
બળદીયાના જોટા હોય
પડકારા હાકોટા હોય
માણસ મનનાં મોટા હોય

માથે દેશી નળીયા હોય
વિઘા એકનાં ફળીયા હોય
બધા હૈયાબળીયા હોય
કાયમ મોજે દરીયા હોય

સામૈયા ફુલેકા હોય
તાલ એવા ઠેકા હોય
મોભને ભલે ટેકા હોય
દિલના ડેકા-ડેકા હોય

ગાય,ગોબર ને ગારો હોય
આંગણ તુલસીક્યારો હોય
ધરમનાં કાટે ધારો હોય
સૌનો વહેવાર સારો હોય

ભાંભરડા ભણકારા હોય
ડણકું ને ડચકારા હોય
ખોંખારા ખમકારા હોય
ગામડાં શહેર કરતા સારા હોય:

हरेश मंगुकिया

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

फूटा घड़ा

फूटा घड़ा

बहुत समय पहले की बात है , किसी गाँव में एक किसान रहता था .
वह रोज़ भोर में उठकर दूर झरनों से स्वच्छ पानी लेने जाया करता था .

इस काम के लिए वह अपने साथ दो बड़े घड़े ले जाता था , जिन्हें वो डंडे में बाँध कर अपने कंधे पर दोनों ओर लटका लेता था .
उनमे से एक घड़ा कहीं से फूटा हुआ था ,
और दूसरा एक दम सही था . इस वजह से रोज़ घर पहुँचते -पहुचते किसान के पास डेढ़ घड़ा पानी ही बच पाता था .
ऐसा दो सालों से चल रहा था .

सही घड़े को इस बात का घमंड था कि वो पूरा का पूरा पानी घर पहुंचता है और उसके अन्दर कोई कमी नहीं है ,

वहीँ दूसरी तरफ फूटा घड़ा इस बात से शर्मिंदा रहता था कि वो आधा पानी ही घर तक पंहुचा पाता है और किसान की मेहनत बेकार चली जाती है .

फूटा घड़ा ये सब सोच कर बहुत परेशान रहने लगा और एक दिन उससे रहा नहीं गया ,
उसने किसान से कहा ,
“ मैं खुद पर शर्मिंदा हूँ और आपसे क्षमा मांगना चाहता हूँ ?”
“क्यों ? “ ,
किसान ने पूछा , “ तुम किस बात से शर्मिंदा हो ?”
“शायद आप नहीं जानते पर मैं एक जगह से फूटा हुआ हूँ ,
और पिछले दो सालों से मुझे जितना पानी घर पहुँचाना चाहिए था बस उसका आधा ही पहुंचा पाया हूँ ,
मेरे अन्दर ये बहुत बड़ी कमी है , और इस वजह से आपकी मेहनत बर्वाद होती रही है .”
फूटे घड़े ने दुखी होते हुए कहा.

किसान को घड़े की बात सुनकर थोडा दुःख हुआ और वह बोला , “ कोई बात नहीं ,
मैं चाहता हूँ कि आज लौटते वक़्त तुम रास्ते में पड़ने वाले सुन्दर फूलों को देखो .”
घड़े ने वैसा ही किया ,

वह रास्ते भर सुन्दर फूलों को देखता आया ,
ऐसा करने से उसकी उदासी कुछ दूर हुई पर घर पहुँचते – पहुँचते फिर उसके अन्दर से आधा पानी गिर चुका था,
वो मायूस हो गया और किसान से क्षमा मांगने लगा .
किसान बोला ,” शायद तुमने ध्यान नहीं दिया पूरे रास्ते में जितने भी फूल थे वो बस तुम्हारी तरफ ही थे ,
सही घड़े की तरफ एक भी फूल नहीं था .
ऐसा इसलिए क्योंकि मैं हमेशा से तुम्हारे अन्दर की कमी को जानता था ,
और मैंने उसका लाभ उठाया . मैंने तुम्हारे तरफ वाले रास्ते पर रंग -बिरंगे फूलों के बीज बो दिए थे ,
तुम रोज़ थोडा-थोडा कर के उन्हें सींचते रहे और पूरे रास्ते को इतना खूबसूरत बना दिया . आज तुम्हारी वजह से ही मैं इन फूलों को भगवान को अर्पित कर पाता हूँ
और अपना घर सुन्दर बना पाता हूँ .
तुम्ही सोचो अगर तुम जैसे हो वैसे नहीं होते तो भला क्या मैं ये सब कुछ कर पाता ?”

दोस्तों हम सभी के अन्दर कोई ना कोई कमी होती है ,
पर यही कमियां हमें अनोखा बनाती हैं .
उस किसान की तरह हमें भी हर किसी को वो जैसा है वैसे ही स्वीकारना चाहिए और उसकी अच्छाई की तरफ ध्यान देना चाहिए,
और जब हम ऐसा करेंगे तब “फूटा घड़ा” भी “अच्छे घड़े” से मूल्यवान हो जायेगा……!!
Haresh Mangukiya

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

आज की ब्रज रस धारा
〰〰〰〰〰〰〰〰

दिनांक 18/05/2018

श्री राधा रानी की अमृतहस्ता वरदान प्राप्ति लीला

एक बार ऋषि दुर्वासा बरसाने आए। श्री राधारानी अपनी सखियों संग बाल क्रीड़ा में मग्न थी। छोटे छोटे बर्तनों में झूठ मूठ भोजन बनाकर इष्ट भगवान श्री कृष्ण को भोग लगा रही थी।

ऋषि को देखकर राधारानी और सखियाँ संस्कार वश बड़े प्रेम से उनका स्वागत किया.उन्होंने ऋषि को प्रणाम किया और बैठने को कहा. ऋषि दुर्वासा भोली भाली छोटी छोटी कन्यायों के प्रेम से बड़े प्रसन्न हुए और उन्होंने जो आसान बिछाया था उसमें बैठ गए।

जिन ऋषि की सेवा में त्रुटि के भय से त्रिलोकी काँपती है, वही ऋषि दुर्वासा की सेवा राधारानी एवम सखियाँ भोलेपन से सहजता से कर रही हैं। ऋषि केवल उन्हें देखकर मुस्कुरा रहे।

सखियाँ कहतीं है –“महाराज!आपको पता है हमारी प्यारी राधा न बहुत अच्छे लड्डू बनाती है।हमने भोग अर्पण किया है। अभी आपको प्रसादी देती हैं।”यह कहकर सखियाँ लड्डू प्रसाद ले आती हैं।

लड्डू प्रसाद तो है, पर है ब्रजरज का बना, खेल खेल में बनाया गया।ऋषि दुर्वासा उनके भोलेपन से अभिभूत हो जाते हैं।

हँसकर कहते हैं- “लाली.! प्रसाद पा लूँ? क्या ये तुमने बनाया है.?”

सारी सखियाँ कहती हैं- “हाँ हाँ ऋषिवर !ये राधा ने बनाया है। आज तक ऐसा लड्डू आपने नही खाया होगा।” मुंह में डालते ही परम चकित, शब्द रहित हो जाते हैं।

एक तो ब्रजरज का स्वाद, दूजा श्री राधा जी के हाथ का स्पर्श लड्डू। “अमृत को फीका करे, ऐसा स्वाद लड्डू का”

ऋषि की आंखों में आंसू आ जाते हैं।अत्यंत प्रसन्न हो वो राधारानी को पास बुलाते हैं। और बड़े प्रेम से उनके सिर पर हाथ रखकर उन्हें आशीर्वाद देते हैं- “बेटी आज से तुम ‘अमृतहस्ता’ हुई।

“जगत की स्वामिनी है श्री जी, उनको किसी के आशिर्बाद की ज़रूरत नहीं फिर भी देव मर्यादा से आशीर्वाद स्वीकार किया

दुर्वासा ऋषि बोले – राधा रानी आप जो बनायोगी वो अमृत के भी अधिक स्वादिस्ट हो जायेगा ।

जो भी उस दिव्य प्रसाद को पायेगा उसके यश, आयु में वृद्धि होगी उस पर कोई विपत्ति नहीं आएगी ,उसकी कीर्ति त्रिलोकी में होगी ।।

ये बात व्रज में फ़ैल गयी आग की तरह की ऋषि दुर्वासा ने राधा जी को आशीर्वाद दिया ।

जब मैया यशोदा को जब ये पता चला तो वो तुरंत मैया कीर्तिदा के पास गयी और विनती की आप राधा रानी को रोज हमारे घर नन्द भवन में भोजन बनाने के लिए भेज दिया करे .

वे दुर्वासा ऋषि के आशिर्बाद से अमृत हस्ता हो गयी है और कंस मेरे पुत्र कृष्ण के अनिष्ठ के लिए हर रोज अनेक असुर भेजता है.

हमारा मन बहुत चिंतित होता है आपकी बेटी के हाथो से बना हुआ प्रसाद पायेगा तो उनका अनिष्ठ नहीं हो उसकी बल, बुद्धि, आयु में वृद्धि होगी.

फिर कीर्तिजा मैय्या ने श्री राधा रानी जी से कहा – आप यसोदा मैया की इच्छा पूर्ति के लिए प्रति दिन नन्द गाँव जाकर भोजन बनाया करो.

उनकी आज्ञा पाकर श्री राधा रानी रोज कृष्ण के भोजन प्रसादी बनाने के लिए नन्द गाँव जाने लगी.

*जय जय श्री राधे
🌺🌺🥀🌳🌳🥀🌺🌺

संजय गुप्ता

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

संस्कार
.
बेटा तुम्हारा इन्टरव्यू लैटर आया है। मां ने लिफाफा हाथ में देते हुए कहा।

यह मेरा सातवां इन्टरव्यू था। मैं जल्दी से तैयार होकर दिए गए नियत समय 9:00 बजे पहुंच गया। एक घर में ही बनाए गए ऑफिस का गेट खुला ही पड़ा था मैंने बन्द किया भीतर गया।

सामने बने कमरे में जाने से पहले ही मुझे माँ की कही बात याद आ गई बेटा भीतर आने से पहले पांव झाड़ लिया करो।फुट मैट थोड़ा आगे खिसका हुआ था मैंने सही जगह पर रखा पांव पोंछे और भीतर गया।

एक रिसेप्शनिस्ट बैठी हुई थी अपना इंटरव्यू लेटर उसे दिखाया तो उसने सामने सोफे पर बैठकर इंतजार करने के लिए कहा। मैं सोफे पर बैठ गया, उसके तीनों कुशन अस्त व्यस्त पड़े थे आदत के अनुसार उन्हें ठीक किया, कमरे को सुंदर दिखाने के लिए खिड़की में कुछ गमलों में छोटे छोटे पौधे लगे हुए थे उन्हें देखने लगा एक गमला कुछ टेढ़ा रखा था, जो गिर भी सकता था माँ की व्यवस्थित रहने की आदत मुझे यहां भी आ याद आ गई, धीरे से उठा उस गमले को ठीक किया।

तभी रिसेप्शनिस्ट ने सीढ़ियों से ऊपर जाने का इशारा किया और कहा तीन नंबर कमरे में आपका इंटरव्यू है।

मैं सीढ़ियां चढ़ने लगा देखा दिन में भी दोनों लाइट जल रही है ऊपर चढ़कर मैंने दोनों लाइट को बंद कर दिया तीन नंबर कमरे में गया ।

वहां दो लोग बैठे थे उन्होंने मुझे सामने कुर्सी पर बैठने का इशारा किया और पूछा तो आप कब ज्वाइन करेंगे मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ जी मैं कुछ समझा नहीं इंटरव्यू तो आप ने लिया ही नहीं।

इसमें समझने की क्या बात है हम पूछ रहे हैं कि आप कब ज्वाइन करेंगे ? वह तो आप जब कहेंगे मैं ज्वाइन कर लूंगा लेकिन आपने मेरा इंटरव्यू कब लिया वे दोनों सज्जन हंसने लगे।

उन्होंने बताया जब से तुम इस भवन में आए हो तब से तुम्हारा इंटरव्यू चल रहा है, यदि तुम दरवाजा बंद नहीं करते तो तुम्हारे 20 नंबर कम हो जाते हैं यदि तुम फुटमेट ठीक नहीं रखते और बिना पांव पौंछे आ जाते तो फिर 20 नंबर कम हो जाते, इसी तरह जब तुमने सोफे पर बैठकर उस पर रखे कुशन को व्यवस्थित किया उसके भी 20 नम्बर थे और गमले को जो तुमने ठीक किया वह भी तुम्हारे इंटरव्यू का हिस्सा था अंतिम प्रश्न के रूप में सीढ़ियों की दोनों लाइट जलाकर छोड़ी गई थी और तुमने बंद कर दी तब निश्चय हो गया कि तुम हर काम को व्यवस्थित तरीके से करते हो और इस जॉब के लिए सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवार हो, बाहर रिसेप्शनिस्ट से अपना नियुक्ति पत्र ले लो और कल से काम पर लग जाओ।

मुझे रह रह कर माँऔर बाबूजी की यह छोटी-छोटी सीखें जो उस समय बहुत बुरी लगती थी याद आ रही थी।

मैं जल्दी से घर गया मां के और बाऊजी के पांव छुए और अपने इस अनूठे इंटरव्यू का पूरा विवरण सुनाया.

इसीलिए कहते हैं कि व्यक्ति की प्रथम पाठशाला घर और प्रथम गुरु माता पिता ही है।

संजय गुप्ता

Posted in ज्योतिष - Astrology

बहुत आसान हैं ये 9 छोटे और अचूक उपाय, जो कर सकते हैं,
आपकी हर परेशानी दूर.
तंत्र शास्त्र व ज्योतिष के अंतर्गत ऐसे कई छोटे-छोटे उपाय हैं, जिन्हें करने से थोड़े ही समय में व्यक्ति की हर परेशानी दूर हो सकती है। मगर बहुत कम लोग इन छोटे-छोटे उपायों के बारे में जानते हैं।
जो लोग जानते हैं वे ये उपाय करते नहीं और अपनी किस्मत को ही दोष देते रहते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे ही छोटे और अचूक उपाय बता रहे हैं, जिन्हें सच्चे मन से करने पर आपकी हर परेशानी दूर हो सकती है। ये उपाय इस प्रकार हैं-
1- प्रतिदिन शाम के समय तुलसी के पौधे पर गाय के घी का दीपक लगाएं और उनके जीवन में आ रही परेशानियों को दूर करने का निवेदन करें। ऐसा करने से आपकी समस्याएं तो दूर होंगी ही साथ ही परिवार में खुशहाली बनी रहेगी।
2- अपने घर के आस-पास कोई ऐसा तालाब, झील या नदी का चयन करें जहां बहुत सी मछलियां हों। यहां रोज जाकर आटे की गोलियां मछलियों को खिलाएं। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने का यह बहुत ही अचूक उपाय है। नियमित रूप से यह उपाय करने से धन संबंधी समस्या जल्दी ही दूर हो सकती है।
3- भोजन के लिए बनाई जा रही रोटी में से पहली रोटी गाय को दें। धर्म ग्रंथों के अनुसार गाय में सभी देवताओं का निवास माना गया है। अगर प्रतिदिन गाय को रोटी दी जाए तो सभी देवता प्रसन्न होते हैं और आपकी समस्याएं दूर हो सकती है।
4- घर में स्थापित देवी-देवताओं को रोज फूलों से सजाना चाहिए। इस बात का ध्यान रखें कि फूल ताजे ही हो। सच्चे मन से देवी-देवताओं को फूल आदि अर्पित करने से वे प्रसन्न होते हैं व साधक की हर परेशानी दूर सकते हैं।
5- घर को साफ-स्वच्छ रखें। प्रतिदिन सुबह झाड़ू-पोछा करें। शाम के समय घर में झाड़ू-पोछा न करें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं और साधक को आर्थिक हानि का सामना करना पड़ सकता है।
6- रोज सुबह जब आप उठें तो सबसे पहले दोनों हाथों की हथेलियों को कुछ क्षण देखकर चेहरे पर तीन चार बार फेरें। धर्म ग्रंथों के अनुसार हथेली के अग्र भाग में मां लक्ष्मी, मध्य भाग में मां सरस्वती व मूल भाग (मणि बंध) में भगवान विष्णु का स्थान होता है। इसलिए रोज सुबह उठते ही अपनी हथेली देखने से आपकी परेशानियों का अंत हो सकता है।
7- रोज जब भी घर से निकले तो उसके पहले अपने माता-पिता और घर के बड़े बुजुर्गों का चरण स्पर्श करें और आशीर्वाद लें। ऐसा करने से आपकी कुंडली में स्थित सभी विपरीत ग्रह आपके अनुकूल हो जाएंगे और शुभ फल प्रदान करेंगे।
8- प्रतिदिन सुबह पीपल के पेड़ पर एक लोटा जल चढ़ाएं। मान्यता है कि पीपल में भगवान विष्णु का वास होता है। रोज ये उपाय करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और शुभ फल प्रदान करते हैं।
9- अगर आप चाहते हैं कि आपकी हर परेशानी दूर हो जाए तो रोज चीटियों को शक्कर मिला हुआ आटा खिलाएं। ऐसा करने से आपके पाप कर्मों का क्षय होगा और पुण्य कर्म उदय होंगे। यही पुण्य कर्म आपकी परेशानियां दूर करने में सहायक होंगे।

Posted in ज्योतिष - Astrology

मानसिक परेशानी तथा नज़र बाधा उपाए=
👉सिन्दूर लगे हनुमान जी की मूर्ति का सिन्दूर लेकर सीता जी के चरणों में लगाएँ। फिर माता सीता से एक श्वास में अपनी कामना निवेदित कर भक्ति पूर्वक प्रणाम कर वापस आ जाएँ। इस प्रकार कुछ दिन करने पर सभी प्रकार की बाधाओं का निवारण होता है।

👉हर मंगलवार को हनुमान जी के चरणों में बदाना (मीठी बूंदी) चढा कर उसी प्रशाद को मंदिर के बाहर गरीबों में बांट दें !

👉व्यापार, विवाह या किसी भी कार्य के करने में बार-बार असफलता मिल रही हो तो यह टोटका करें- सरसों के तैल में सिके गेहूँ के आटे व पुराने गुड़ से तैयार सात पूये, सात मदार (आक) के पुष्प, सिंदूर, आटे से तैयार सरसों के तैल का रूई की बत्ती से जलता दीपक, पत्तल या अरण्डी के पत्ते पर रखकर शनिवार की रात्रि में किसी चौराहे पर रखें और कहें -“हे मेरे दुर्भाग्य तुझे यहीं छोड़े जा रहा हूँ कृपा करके मेरा पीछा ना करना। सामान रखकर पीछे मुड़कर न देखें।

👉रोज़ हनुमान जी का पूजन करे व हनुमान चालीसा का पाठ करें ! प्रत्येक शनिवार को शनि को तेल चढायें ! अपनी पहनी हुई एक जोडी चप्पल किसी गरीब को एक बार दान करें !

👉यदि कोई व्यक्ति बुरी नजर से परेशान है तो कि मंगलवार के दिन हनुमान मंदिर जाकर उनके कन्धे से सिन्दुर लेकर नजर लगे व्यक्ति के माथे पर यह सोचकर तिलक कर दें कि यह नजर दोष से मुक्त हो गया है।

👉आप अपने नए मकान को बुरी नजर से बचाना चाहते हैं तो मुख्य द्वार की चौखट पर काले धागे से पीली कौड़ी बांधकर लटकाने से समस्त ऊपरी बाधाओं से मुक्ति मिलती है।

👉यदि आपने कोई नया वाहन खरीदा है और आप इस बात से परेशान हैं कि कुछ न कुछ रोज वाहन में गड़बड़ी हो जाती है। यदि गड़बड़ी नहीं होती तो दुर्घटना में चोट-चपेट लग जाती है औरबेकार के खर्च से सारी अर्थ-व्यवस्था चौपट हो जाती है। अपने वाहन पर काले धागे से पीली कौड़ी बांधने से आप इस बुरी नजर से बच सकेंगे, करके परेशानी से मुक्त हो जाएं।

👉मिर्च, राई व नमक को पीड़ित व्यक्ति के सिर से वार कर आग में जला दें। चंद्रमा जब राहु से पीड़ित होता है तब नजर लगती है। मिर्च मंगल का, राई शनि का और नमक राहु का प्रतीक है। इन तीनों को आग (मंगल का प्रतीक) में डालने से नजर दोष दूर हो जाता है। यदि इन तीनों को जलाने पर तीखी गंध न आए तो नजर दोष समझना चाहिए। यदि आए तो अन्य उपाय करने चाहिए।
टोटका तीन-यदि आपके बच्चे को नजर लग गई है और हर वक्त परेशान व बीमार रहता है तो लाल साबुत मिर्च को बच्चे के ऊपर से तीन बार वार कर जलती आग में डालने से नजर उतर जाएगी और मिर्च का धचका भी नहीं लगेगा।