Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

राधे राधे….🌸💐👏🏼

एक बार वृन्दावन के मंदिर में एक संत अक्षय तृतीया के दिन श्री बांके बिहारी के चरणों का दर्शन कर रहे थे। दर्शन करने के साथ साथ एक भाव भी गुनगुना रहे थे कि

श्री बिहारी जी के चरण कमल में नयन हमारे अटके।
नयन हमारे अटके नयन हमारे अटके।

एक व्यक्ति वहीँ पर खड़ा खड़ा ये भाव सुन रहा था। उसे ये भाव पसंद आया। और इस भाव को गुनगुनाते हुए अपने घर पहुंचा। उसकी आँखे बंद है श्री बिहारी के चरण ह्रदय में है और बड़े भाव से गाये जा रहा है। लेकिन उस व्यक्ति से एक गलती हो गई। भाव था कि श्री बिहारी जी के 👣 चरण कमल में नयन हमारे अटके।

लेकिन उसने गुनगुनाया श्री बिहारी जी के नयन कमल में 👣 चरण हमारे अटके। थोड़ा उल्टा हो गया। लेकिन ये व्यक्ति बड़ा मगन होकर गाने लगा। श्री बिहारी जी के नयन कमल में 👣 चरण हमारे अटके।

अब थोड़ा सोचिये हमारे नयन श्री बिहारी जी के 👣 चरणों में अटकने चाहिए। हमारा ध्यान श्री बिहारी जी के 👣 चरणों में होना चाहिए। क्योंकि भगवान के चरण कमल बहुत ही प्यारे हैं।

लेकिन उस व्यक्ति ने इतना मगन होकर गया कि भगवान बांके बिहारी आज सब कुछ भूल गए और श्री बिहारी जी उसके सामने प्रकट हो गए।

बांके बिहारी ने उससे मंद मंद मुस्कुराते हुए कहा – अरे भईया! मेरे एक से बढ़कर एक बड़ा भक्त है लेकिन तुझ जैसा निराला भक्त मुझे मिलना बड़ा मुश्किल है।

लोगो के नयन तो हमारे चरणों के अटक जाते है पर तुमने तो हमारे ही नयन अपने 👣 चरणों में अटका दिये।

वो व्यक्ति समझ ही नहीं पाया कि क्या हो रहा है। आज भगवान ने उसे साक्षात् दर्शन दे दिए। फिर अपनी भूल का एहसास भी हुआ कि मैंने भगवान के नयनों को अपने 👣 चरणों में अटकने के लिए कहा। लेकिन फिर उसे समझ आया कि भगवान तो केवल भाव के भूखें है। अगर मुझसे कोई गलती होती तो भगवान मुझे दर्शन देने ही नहीं आते। मेरे भाव पे आज भगवान रीझ गए। ऐसा सोचकर वह भगवान के प्रेम में खूब रोया उसने साक्षात् भगवान को और भगवान की कृपा को बरसते हुए देखा। धन्य हैं ऐसे भक्त और भगवान।

भगवान के 👣 चरणों का बहुत ही महत्व है। आप भगवान के 👣 चरणों में मन को लगा दें बस। क्योंकि भगवान के 👣 चरण दुखों का हरण कर लेते हैं।

श्री हरी चरण – दुःख हरण।…🌸👏🏼

सूरदास जी, जो भगवान श्री कृष्ण के अनन्य भक्त थे उन्होंने भगवान के चरणों की खूब सुंदर वंदना गाई है।

चरन कमल बंदौ हरि राई ।
जाकी कृपा पंगु गिरि लंघै आंधर कों सब कछु दरसाई॥
बहिरो सुनै मूक पुनि बोलै रंक चले सिर छत्र धराई ।
सूरदास स्वामी करुनामय बार-बार बंदौं तेहि पाई ॥

अर्थ – 🌸
जिस पर श्री हरि ( भगवान ) की कृपा हो जाती है उसके लिये कुछ भी असंभव नहीं रहता है। असंभव भी संभव हो जाता है। भगवान की कृपा होने लंगड़ा व्यक्ति भी पर्वत को लाँघ लेता है, अन्धे को सबकुछ दिखाई देने लगता है। बहरा व्यक्ति सुनने लगता है, गूंगा बोलने लगता है, और गरीब व्यक्ति भी अमीर हो जाता है। ऐसे करूणामय,ऐसे दयालु प्रभु की चरण वन्दना कौन अभागा न करेगा।

ये एक संत के वचन हैं जो कभी भी झूठे नहीं हो सकते हैं। भगवान के चरणों की जो वंदना ना कर सके, भगवान के 👣 चरणों का जो दर्शन ना कर सके वो तो जग में अभागा ही रह जाता है।…☺👏🏼

बोलो श्री बांके बिहारी लाल की जय !!
🌸🙌🏼🌸🙌🏼🌸🙌🏼🌸🙌🏼🌸🙌🏼🌸

🌸 !! जय जय श्री राधे !! 🌸
🌸 !! जय जय श्री राधे !! 🌸
🌸 !! जय जय श्री राधे !! 🌸

संजय गुप्ता

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s