Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

“गंवार”++++±

एक लड़की की शादी उसकी मर्जी के खिलाफ एक सीधे साधे लड़के से की जाती है जिसके घर मे एक मां के आलावा और कोई नहीं है।
दहेज मे लड़के को बहुत सारे उपहार और पैसे मिलते हैं । लड़की किसी और लड़के से बेहद प्यार करती थी ।
लड़की शादी के बाद आ गयी अपने ससुराल…
सुहागरात के वक्त लड़का दूध लेके आता है तो दुल्हन सवाल पूछती है अपने पति से…एक पत्नी की मर्जी के बिना पति उसको हाथ लगाये तो उसे बलात्कार कहते है या हक?
पति – आपको इतनी लम्बी और गहरी जाने की कोई जरूरत नहीं है..
बस दूध लाया हूँ पी लिजीयेगा.. . हम सिर्फ आपको शुभ रात्रि कहने आये थे कहकर लड़का कमरे से निकल जाता है। लड़की मन मारकर रह जाती है क्योंकि लड़की चाहती थी की झगड़ा हो ताकि मैं इस गंवार से पिछा छुड़ा सकूँ ।
दुल्हन घर का कोई भी काम नहीं करती। बस दिनभर मोबाइल पर आनलाइन रहती और न जाने किस किस से बातें करती मगर उधर लड़के की माँ बिना शिकायत के दिन भर चुल्हा चौका से लेकर घर का सारा काम करती , हर पल अपने होंठों पर मुस्कुराहट लेके फिरती ।
लड़का एक कम्पनी मे छोटा सा मुलाजीम है और बेहद ही मेहनती और ईमानदार। करीब महीने भर बीत गये मगर पति पत्नी अब तक साथ नहीं सोये… वैसे लड़का बहुत शांत स्वाभाव वाला था इसलिए वह ज्यादा बातें नहीं करता था, बस खाने के वक्त अपनी पत्नी से पूछ लेता था कि… .कहा खाओगी..अपने कमरे मे या हमारे साथ, और सोने से पहले डायरी लिखने की आदत थी जो वह हर रात को लिखता था।
लड़की के पास एक स्कूटी था वह हर रोज बाहर जाती थी पति के आफिस जाने के बाद और पति के वापस लौटते ही आ जाती थी। छुट्टी का दिन था लड़का भी घर पे ही था तो लड़की ने अच्छे भले खाने को भी गंदा कहके मां को अपशब्द बोलके खाना फेंक देती है तो वह शांत रहने वाला उसका पति अपनी पत्नी पर हाथ उठा देता है, मगर माँ अपने बेटे को बहुत डांटती है। इधर लड़की को बहाना चाहिए था झगड़े का जो उसे मिल गया था, वह पैर पटकती हुई स्कूटी लेके निकल पड़ती है।
लड़की जो रोज घर से बाहर जाती थी वह अपने प्यार से मिलने जाती थी, लड़की भले टूटकर चाहती थी लड़के को मगर उसे पता था की हर लड़की की एक हद होती है जिसे इज्जत कहते है वह उसको बचाये रखी थी।
इधर लड़की अपने प्यार के पास पहुँचकर कहती है।
अब तो एक पल भी उस घर मे नहीं रहना है मुझे । आज गंवार ने मुझपर हाथ उठाके अच्छा नही किया ।
लड़का – अरे तुमसे तो मैं कब से कहता हूँ कि भाग चलो मेरे साथ कहीं दूर, मगर तुम हो की आज कल आज कल पे लगी रहती हो।
लड़की – शादी के दिन मैं आई थी तो तुम्हारे पास। तुम ही ने तो लौटाया था मुझे ।
लड़का – खाली हाथ कहा तक भागते, तुम ही बोलो..मैंने तो कहा था कि कुछ पैसे और गहने साथ ले लो तुम तो खाली हाथ आई थी।
आखिर दूर एक नयी जगह मे जिंदगी नये सिरे से शुरू करने के लिए पैसे तो चाहिए न?
लड़की – तुम्हारे और मेरे प्यार के बारे मे जानकर मेरे घरवालो ने बैंक के पास बुक एटीएम और मेरे गहने तक रख लिये थे, तो मैं क्या लाती अपने साथ । हम दोनों मेहनत करके कमा भी तो सकते थे।
लड़का – भागने को इंसान पहले सोचता है और फिर काम करता है, खाली हाथ भागते तो ये इश्क का भूत दो दिन मे उतर जाता समझी?
और जब भी तुम्हें छुना चाहता हूँ बहुत नखरे है तुम्हारे । बस कहती हो शादी के बाद ।
लड़की – हाँ शादी के बाद ही अच्छा होता है, ये सब और सब तुम्हारा तो है। मैं आज भी एक कुवारी लड़की हूँ । शादी करके भी आज तक उस गंवार के साथ सो न सकी क्योंकि तुम्हें ही अपना पति मान चुकी हूँ बस तुम्हारे नाम की सिंदूर लगानी बाकी है। बस वह लगा दो सबकुछ तुम अपनी मर्जी से करना।
लड़का – ठीक है मैं तैयार हूँ , मगर इस बार कुछ पैसे जरूर साथ लेके आना, मत सोचना हम दौलत से प्यार करते हैं । हम सिर्फ तुमसे प्यार करते है बस कुछ छोटे मोटे बिजनेस के लिए पैसे चाहिए ।
लड़की – उस गंवार के पास कहां होगा पैसा, मेरे बाप से 3 लाख रूपया उपर से मारूती कार लिया है।
हां बस कुछ गहने है वह लेके आउगी आज।
लड़का लड़की को होटल का पता देकर चला जाता है । लड़की घर आके फिर से लड़ाई करती है।
मगर अफसोस वह अकेली चिल्लाती रहती है उससे लड़ने वाला कोई नहीं था।
रात 8 बजे लड़के का मैसेज आता है वाट्स अप पे की कब आ रही हो?
लड़की जवाब देती है सब्र करो कोई सोया नहीं है। मैं 12 बजे से पहले पहुँच जाउगी क्योंकि यहां तुम्हारे बिना मेरी सांसे घुटती है।
लड़का ओ के जल्दी आना, मैं होटल के बाहर खड़ा रहूंगा।

लड़की अपने पति को बोल देती है की मुझे खाना नहीं चाहिए मैंने बाहर खा लिया है इसलिए मुझे कोई परेशान न करे इतना कहके दरवाजा बंद करके अंदर आती है कि…पति बोलता है कि…वह आलमारी से मेरी डायरी दे दो फिर बंद करना दरवाजा। हम परेशान नहीं करेंगे ।
लड़की दरवाजा खोले बिना कहती है की चाभीयां दे दो अलमारी की,
लड़का – तुम्हारे बिस्तर के पैरों तले है चाबी ।
मगर लड़की दरवाजा नहीं खोलती बल्की जोर -जोर से गाना सुनने लगती है। बाहर पति कुछ देर दरवाजा पिटता है , फिर हारकर लौट जाता है। लड़की ने बड़े जोर से गाना बजा रखा था, फिर वह आलमारी खोल के देखती है जो उसने पहली बार खोला था, क्योंकि वह अपना समान अलग आलमारी मे रखती थी।
आलमारी खोलते ही हैरान रह जाती है। आलमारी मे उसके अपने पास बुक एटीएम कार्ड थे जो उसके घरवालो ने छीन के रखे थे।
खोेल कर चेक किया तो उसमें वह पैसे भी ऐड थे जो दहेज मे लड़के को मिले थे, और बहुत सारे गहने भी जो एक पेपर के साथ थे और उसकी मिल्कीयत लड़की के नाम थी, लड़की बेहद हैरान और परेशान थी। फिर उसकी नजर डायरी मे पड़ती है और वह जल्दी से
वह डायरी निकाल के पढ़ने लगती है।

लिखा था, तुम्हारे पापा ने एक दिन मेरी मां की जान बचाई थी अपना खून देकर । मैं अपनी माँ से बेहद प्यार करता हूँ इसलिए मैंने झूककर आपके पापा को प्रणाम करके कहा की…आपका ये अनमोल एहसान कभी नही भूलूंगा, कुछ दिन बाद आपके पापा हमारे घर आये हमारे तुम्हारे रिश्ते की बात लेकर और उन्होंने आपकी हर बात बताई हमें की आप एक लड़के से बेहद प्यार करती हो। आपके पापा आपकी खुशी चाहते थे इसलिए वह पहले लड़के को जानना चाहते थे। आखिर आप अपने पापा की princess जो थी और हर बाप अपने Princess के लिए एक अच्छा ईमानदार Prince चाहता है। आपके पापा ने खोजकर के पता लगाया की वह लड़का बहुत सी लड़कीयों को धोखा दे चुका है, और उसकी पहले शादी भी हो चुकी है पर आपको बता न सके , क्योंकि उन्हें पता था की ये जो इश्क का नशा है वह हमेशा अपनों को गैर और गैर को अपना समझता है। मैं एक बाप के मुँह से एक बेटी की कहानी सुनकर मै अचम्भीत हो गया। हर बाप यंहा तक शायद ही सोचे। मुझे यकीन हो गया था की एक अच्छा पति होने का सम्मान मिले न मिले मगर एक “दामाद” होने की इज्जत मैं हमेशा पा सकता हूँ।

मुझे दहेज मे मिले सारे पैसे मैंने तुम्हारे एकाउण्ट में डाल दिए और तुम्हारे घर से मिली गाड़ी आज भी तुम्हारे घर पे है जो मैंने इसलिए भेजी ताकि जब तुम्हें मुझसे प्यार हो जाये तो साथ चलेंगे कही दूर घूमने।
दहेज…इस नाम से नफरत है मुझे क्योंकि मैंने इस दहेज मे अपनी बहन और बाप को खोया है। मेरे बाप के अंतिम शब्द भी यही थे कि.. किसी बेटी के बाप से कभी एक रूपया न लेना। “मर्द ” हो तो कमाके खिलाना, तुम आजाद हो कहीं भी जा सकती हो। डायरी के बीच पन्नों पर तलाक की पेपर है जंहा मैंने पहले ही साईन कर दिया है । जब तुम्हें लगे की अब इस गंवार के साथ नही रहना है तो साईन करके कहीं भी अपनी सारी चीजे लेके जा सकती हो।
लड़की …हैरान थी परेशान थी…न चाहते हुए भी गंवार के शब्दों ने दिल को छुआ था। न चाहते हुए भी गंवार के अनदेखे प्यार को महसूस करके पलकें नम हुई थी।
आगे लिखा था, मैंने आज तुम्हें इसलिए मारा क्योंकि आपने मां को गाली दी, और जो बेटा खुद के आगे मां की बेइज्जती होते सहन कर जाये…फिर वह बेटा कैसा ।
कल आपके भी बच्चे होंगे । चाहे किसी के साथ भी हो, तब महसूस होगी माँ की महानता और प्यार।
आपको दुल्हन बनाके हमसफर बनाने लाया हूँ जबरदस्ती करने नहीं। जब प्यार हो जाये तो भरपूर वसूल कर लूँगा आपसे… आपके हर गुस्ताखी का बदला हम शिद्दत से लेंगे हम आपसे.. .गर आप मेरी हुई तो बेपनाह मोहब्बत करके
किसी और की हुई तो आपके हक मे दुआये माँग के😢😢😢
लड़की का फोन बज रहा था जो वायब्रेशन मोड पे था, लड़की अब दुल्हन बन चुकी थी। पलकों से आंसू गिर रहे थे । सिसकते हुए मोबाइल से पहले सिम निकाल के तोड़ा फिर सारा सामान जैसा था वैसे रख के न जाने कब सो गई पता नहीं चला। सुबह देर से जागी तब तक गंवार आफिस जा चुका था, लड़की पहले नहा धोकर साड़ी पहनी , फिर लम्बी सी सिंदूर डाली अपनी माँग मे, फिर मंगलसूत्र पहना ।।।।
जबकि पहले एक टीकी जैसी साईड पे सिंदूर लगाती थी ताकि कोई लड़का ध्यान न दे।

मगर आज कोन्हों दूर से भी दिखाई दे ऐसी लम्बी और गाढ़ी सिंदूर लगाई थी दुल्हन ने, फिर किचन मे जाके सासु मां को जबर्दस्ती कमरे मे लेके तैयार होने को कहती है, और अपने गंवार पति के लिए थोड़े नमकीन थोड़े हलुवे और चाय बनाके अपनी स्कूटी मे सासु मां को जबर्दस्ती बिठाकर (जबकी मां को कुछ पता ही नहीं है कि उनको बहू आज मुझे कहा ले जा रही है बस बैठ जाती है)
फिर रास्ते मे सासु मां को पति के आफिस का पता पूछकर आफिस पहुँच जाती है। पति हैरान रह जाता है पत्नी को इस हालत मे देखकर।

पति – सब ठीक तो है न मां?
मगर माँ बोलती इससे पहले पत्नी उसे गले लगाकर कहती है की..अब सब ठीक है…कहती हैं ” I love you forever.”..

आफिस के लोग सब खड़े हो जाते है तो दुल्हन कहती है की..मै इनकी धर्मपत्नी हूँ , वनवास गई थी सुबह लौटी हूँ।

अबसे एक महीने तक मेरे पतिदेव
आफिस मे दिखाई नहीं देंगे
आफिस के लोग सन्न ??????
दुल्हन – क्योंकि हम लम्बी छुट्टी पे जा रहे साथ साथ।
पति- पागल…
दुल्हन – आपके सादगी और भोलेपन ने बनाया है।
सभी लोग तालीयां बजाते हैं और दुल्हन फिर से लिपट जाती है अपने “गंवार “से …
जंहा से वह दोबारा कभी भी छूटना नहीं चाहती।

  • बड़े कड़े फैसले होते है कभी कभी हमारे अपनों के मगर हम समझ नहीं पाते कि….हमारे अपने हमारी फिकर खुद से ज्यादा क्यों करते हैं*
  • माता-पिता के फैसलों का सम्मान करे*
    क्योंकि ये दो ऐसे शख्स है जो आपको हमेशा दुनियादारी से ज्यादा प्यार करते हैं ।+++

संजय गुप्ता

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s