Posted in खान्ग्रेस

#कांग्रेसऐसाकुकर्मपहलीबारनहींकर_रही।

12 जून 1975 को इलाहाबाद हाईकोर्ट के तत्कालीन न्यायाधीश जस्टिस जगमोहन लाल सिन्हा ने एक फैसला सुनाया था। अपने उस फैसले में उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी को भ्रष्ट तरीकों से चुनाव लड़ने का दोषी ठहराया था और उनको किसी भी संवैधानिक पद तथा चुनाव लड़ने के अयोग्य घोषित कर दिया था।
फैसला आते ही उसके विरोध में उत्तरप्रदेश कांग्रेस के एक तत्कालीन चर्चित नेता ने साथी कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ इलाहाबाद हाईकोर्ट के गेट पर जस्टिस जगमोहन लाल सिन्हा का पुतला फूंका था और जस्टिस जगमोहन लाल सिन्हा को जमकर गालियां बकते हुए नारे लगाए थे कि…
“इन्दिरा तेरी सुबह की जय,
इन्दिरा तेरी शाम की जय।
इन्दिरा तेरे काम की जय,
इन्दिरा तेरे नाम की जय।।”
1980 में कांग्रेस की यूपी की सत्ता में वापसी होते ही इन्दिरा गांधी, संजय गांधी की जोड़ी ने लगभग दर्जन भर वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं की अनदेखी और उपेक्षा कर के उस चर्चित कांग्रेसी नेता विश्वनाथ प्रताप सिंह (वीपी सिंह) को पुरस्कार स्वरूप यूपी का मुख्यमंत्री नियुक्त कर सबको चौंका दिया था।

#सिर्फयहीनहीं उस फैसले के विषय में परम सेक्युलर और प्रचण्ड भाजपा विरोधी की अपनी पहचान वाले प्रसिद्ध पत्रकार कुलदीप नैयर ने अपनी आत्मकथा में लिखा है कि…
“इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस फैसले के कई महीने बाद मैं जस्टिस जगमोहन लाल सिन्हा से इलाहाबाद में उनके घर में मिला था। उन्होंने मुझे बताया था कि एक कांग्रेस सांसद ने इन्दिरा गांधी के पक्ष में फैसला सुनाने के लिए उन्हें रिश्वत देने की कोशिश की थी। इसी तरह न्यायालय में उनके एक सहकर्मी साथी जज ने भी उन्हें सुप्रीमकोर्ट का जज बनाए जाने का प्रलोभन दिया था। सिन्हा की मुश्किल यह थी कि वे अपने फैसले को दूसरों की नज़रों में आने से कैसे रोकें। उन्होंने अपने स्टेनोग्राफर को छुट्टी पर भेज दिया और और फैसले का अहम हिस्सा स्वयं अपने हाथ से लिखा। फिर भी, सरकार की गुप्तचर एजेंसियां फैसले की गंध पाने की कोशिशों में जुटी रहीं। जस्टिस सिन्हा की धार्मिक प्रवृत्ति को देखते हुए साधू सन्यासियों तक का इस्तेमाल किया गया।”

कुलदीप नैयर अपनी किताब में लिखते हैं कि सरकार के लिए फ़ैसला इतना महत्वपूर्ण था कि उसने सीआईडी के एक दल को इस बात की ज़िम्मेदारी दी थी कि किसी भी तरह ये पता लगाया जाए कि जस्टिस सिन्हा क्या फ़ैसला देने वाले हैं?”
उन्होंने लिखा है, ”वो लोग 11 जून की देर रात सिन्हा के निजी सचिव मन्ना लाल के घर भी गए. लेकिन मन्ना लाल ने उन्हें एक भी बात नहीं बताई. सच्चाई ये थी कि जस्टिस सिन्हा ने अंतिम क्षणों में अपने फ़ैसले के महत्वपूर्ण अंशों को जोड़ा था.
कुलदीप नैयर ने आगे लिखा है कि… “बहलाने फुसलाने के बाद भी जब मन्ना लाल कुछ बताने के लिए तैयार नहीं हुए तो सीआईडी वालों ने उन्हें धमकाया, ‘हम लोग आधे घंटे में फिर वापस आएंगे. हमें फ़ैसला बता दो, नहीं तो तुम्हें पता है कि तुम्हारे लिए अच्छा क्या है.’

मन्ना लाल ने तुरंत अपने बीबी बच्चों को अपने रिश्तेदारों के यहाँ भेजा और जस्टिस सिन्हा के घर में जा कर शरण ले ली. उस रात तो मन्ना लाल बच गए, लेकिन जब अगली सुबह वो तैयार होने के लिए अपने घर पहुंचे, तो सीआईडी की कारों का एक काफ़िला उनके घर के सामने आकर रुक गया था।

43 साल पहले की यह👆घटना तथा इस घटना के 40 साल बाद भी 2015 में उस सुप्रीमकोर्ट से जहां केस की सुनवाई की तारीख मिलने में ही महीनों लग जाते हैं, उस सुप्रीमकोर्ट से तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी पर रोक का आदेश अपनी एक मोबाइल कॉल से करा लेनेवाले कपिल सिब्बल की महारत के उदाहरण तक का लम्बा सफर बहुत कलुषित और कलंकित है।
अभिषेक मनु सिंघवी की वो बहुचर्चित ” #जजबनाऊसीडी” सरीखे कई अश्लील और शर्मनाक अध्याय उस सफर के गवाह हैं जहां देश की न्यायपालिका को अपनी उंगलियों पर नचाने की कांग्रेसी कोशिशें लगातार होती रहीं हैं।
अतः सम्भवतः आज ऐसा नहीं कर पाने की कांग्रेसी तिलमिलाहट ही है जो देश के मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ अनर्गल आरोपों की बौछार कर उनके खिलाफ महाभियोग लाने का प्रयास कर उन्हें डराने, धमकाने, अपमानित करने की हर निकृष्ट कोशिश कर रही है।
(Copy paste article)

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s