Posted in Uncategorized

#सफलता-का-रहस्य
एक आठ साल का लड़का गर्मी की छुट्टियों में अपने दादा जी के पास गाँव घूमने आया।
एक दिन वो बड़ा खुश था, उछलते-कूदते वो दादाजी के पास पहुंचा और बड़े गर्व से बोला,
जब मैं बड़ा होऊंगा तब मैं बहुत सफल आदमी बनूँगा।
क्या आप मुझे सफल होने के कुछ टिप्स दे सकते हैं?”

दादा जी ने ‘हाँ’ में सिर हिला दिया, और बिना कुछ कहे लड़के का हाथ पकड़ा और उसे करीब की पौधशाला में ले गए।

वहां जाकर दादा जी ने दो छोटे-छोटे पौधे खरीदे और घर वापस आ गए।

वापस लौट कर उन्होंने एक पौधा घर के बाहर लगा दिया और एक पौधा गमले में लगा कर घर के अन्दर रखदिया।

“क्या लगता है तुम्हे, इन दोनों पौधों में से भविष्य में कौन सा पौधा अधिक सफल होगा?”

दादा जी ने लड़के से पूछा। लड़का कुछ क्षणों तक सोचता रहा और फिर बोला,

” घर के अन्दर वाला पौधा ज्यादा सफल होगा क्योंकि वो हर एक खतरे से सुरक्षित है जबकि बाहर वाले पौधे को तेज धूप, आंधी-पानी, और जानवरों से भी खतरा है…

”दादाजी बोले, ” चलो देखते हैं आगे क्या होता है !”,

और वह अखबार उठा कर पढने लगे।

कुछ दिन बाद छुट्टियाँ ख़तम हो गयीं और वो लड़का वापस शहर चला गया।

इस बीच दादाजी दोनों पौधों पर बराबर ध्यान देते रहे और समय बीतता गया।

३-४ साल बाद एक बार फिर वो अपने पेरेंट्स के साथ गाँव घूमने आया और अपने दादा जी को देखते ही बोला,

दादा जी, पिछली बार मैं आपसे successful होने के कुछ टिप्स मांगे थे
पर आपने तो कुछ बताया ही नहीं…

पर इस बार आपको ज़रूर कुछ बताना होगा।

दादा जी मुस्कुराये और लडके को उस जगह ले गए जहाँ उन्होंने गमले में पौधा लगाया था।

अब वह पौधा एक खूबसूरत पेड़ में बदल चुका था।
लड़का बोला,
देखा दादाजी मैंने कहा था न कि ये वाला पौधा ज्यादा सफल होगा…

”“अरे, पहले बाहर वाले पौधे का हाल भी तो देख लो…”,

और ये कहते हुए दादाजी लड़के को बाहर ले गए, बाहर एक विशाल वृक्ष गर्व से खड़ा था!

उसकी शाखाएं दूर तक फैलीं थीं और उसकी छाँव में खड़े राहगीर आराम से बातें कर रहे थे।

“अब बताओ कौन सा पौधा ज्यादा सफल हुआ?”

, दादा जी ने पूछा।“…
ब..ब…बाहर वाला!….

लेकिन ये कैसे संभव है, बाहर तो उसे न जाने कितने खतरों का सामना करना पड़ा होगा….

फिर भी…”,

लड़का आश्चर्य से बोला।

“दादा जी मुस्कुराए और बोले, “हाँ, लेकिन
challenges face करने के अपने rewards भी तो हैं,

बाहर वाले पेड़ के पास आज़ादी थी कि वो अपनी जड़े जितनी चाहे उतनी फैला ले, आपनी शाखाओं से आसमान को छू ले..

बेटे, इस बात को याद रखो और तुम जो भी करोगे उसमे सफल होगे-

अगर तुम जीवन भर
safe option choose
करते हो तो तुम

कभी भी उतना नहीं
grow कर पाओगे
जितनी तुम्हारी क्षमता है,
लेकिन अगर तुम तमाम खतरों के बावजूद इस दुनिया का सामना करने के लिए तैयार रहते हो

तो तुम्हारे लिए कोई भी लक्ष्य हासिल करना असम्भव नहीं है!

लड़के ने लम्बी सांस ली और उस विशाल वृक्ष की तरफ देखने लगा…

वो दादा जी की बात समझ चुका था, आज उसे
सफलता का एक बहुत बड़ा सबक मिल चुका था!

दोस्तों, भगवान् ने हमें एक
meaningful life जीने के लिए बनाया है।

But unfortunately, अधिकतर लोग डर-डर के जीते हैं और कभी भी अपने
full potential को realize नही कर पाते।

इस बेकार के डर को पीछे छोडिये…

ज़िन्दगीजीने का असली मज़ा तभी है जब आप वो सब कुछ कर पाएंजो सब कुछ आप कर सकते हैं…

वरना दो वक़्त की रोटी का जुगाड़ तो कोई भी कर लेता,

इसलिए हर समय play it safe के चक्कर में मत पड़े रहिये…

जोखिम उठाइए…

risk लीजिये और उस विशाल वृक्ष की तरह अपनी

life को large बनाइये!

जिन्दगी में रिस्क लेना भी जरुरी है.
आल्टोज में मेहनत करो. कामयाबी जरुर मिलेगी.
🌹🌹🌹🌹🌹🙏🙏🙏🙏🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
साधना शर्मा

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s