Posted in Uncategorized

         ॥ #राजाभोजऔर_सत्य
एक दिन राजा भोज गहरी निद्रा में सोये हुए थे। उन्हें उनके स्वप्न में एक अत्यंत तेजस्वी वृद्ध पुरुष के दर्शन हुए।

राजन ने उनसे पुछा- “महात्मन! आप कौन हैं?”

वृद्ध ने कहा- “राजन मैं सत्य हूँ और तुझे तेरे कार्यों का वास्तविक रूप दिखाने आया हूँ। मेरे पीछे-पीछे चल आ और अपने कार्यों की वास्तविकता को देख!”

राजा भोज उस वृद्ध के पीछे-पीछे चल दिए। राजा भोज बहुत दान, पुण्य, यज्ञ, व्रत, तीर्थ, कथा-कीर्तन करते थे, उन्होंने अनेक तालाब, मंदिर, कुँए, बगीचे आदि भी बनवाए थे। राजा के मन में इन कार्यों के कारण अभिमान आ गया था। वृद्ध पुरुष के रूप में आये सत्य ने राजा भोज को अपने साथ उनकी कृतियों के पास ले गए। वहाँ जैसे ही सत्य ने पेड़ों को छुआ, सब एक-एक करके सूख गए, बागीचे बंज़र भूमि में बदल गए । राजा इतना देखते ही आश्चर्यचकित रह गया।। फिर सत्य राजा को मंदिर ले गया। सत्य ने जैसे ही मंदिर को छुआ, वह खँडहर में बदल गया। वृद्ध पुरुष ने राजा के यज्ञ, तीर्थ, कथा, पूजन, दान आदि के लिए बने स्थानों, व्यक्तियों, आदि चीजों को ज्यों ही छुआ, वे सब राख हो गए।।राजा यह सब देखकर विक्षिप्त-सा हो गया।

सत्य ने कहा-“ राजन! यश की इच्छा के लिए जो कार्य किये जाते हैं, उनसे केवल अहंकार की पुष्टि होती है, धर्म का निर्वहन नहीं।। सच्ची सदभावना से निस्वार्थ होकर कर्तव्यभाव से जो कार्य किये जाते हैं, उन्हीं का फल पुण्य के रूप मिलता है और यह पुण्य फल का रहस्य है।”

इतना कहकर सत्य अंतर्धान हो गए। राजा ने निद्रा टूटने पर गहरा विचार किया और सच्ची भावना से कर्म करना प्रारंभ किया ,जिसके बल पर उन्हें ना सिर्फ यश-कीर्ति की प्राप्ति हुए बल्कि उन्होंने बहुत पुण्य भी कमाया।

~ राजा भोज और सत्य – प्रेरणादायक कहानियां

Satish Shashank

Advertisements
Posted in Uncategorized

(((( भक्त की सरलता ))))
.
बहुत साल पहले की बात है। एक आलसी लेकिन भोलाभाला युवक था आनंद।
.
दिन भर कोई काम नहीं करता बस खाता ही रहता और सोए रहता। घर वालों ने कहा चलो जाओ निकलो घर से, कोई काम धाम करते नहीं हो बस पड़े रहते हो।
.
वह घर से निकल कर यूं ही भटकते हुए एक आश्रम पहुंचा। वहां उसने देखा कि एक गुरुजी हैं उनके शिष्य कोई काम नहीं करते बस मंदिर की पूजा करते हैं।
.
उसने मन में सोचा यह बढ़िया है कोई काम धाम नहीं बस पूजा ही तो करना है। गुरुजी के पास जाकर पूछा, क्या मैं यहां रह सकता हूं, गुरुजी बोले हां, हां क्यों नहीं ?
.
लेकिन मैं कोई काम नहीं कर सकता हूं
.
गुरुजी : कोई काम नहीं करना है बस पूजा करना होगी
.
आनंद : ठीक है वह तो मैं कर लूंगा …
.
अब आनंद महाराज आश्रम में रहने लगे। ना कोई काम ना कोई धाम बस सारा दिन खाते रहो और प्रभु मक्ति में भजन गाते रहो।
.
महीना भर हो गया फिर एक दिन आई एकादशी। उसने रसोई में जाकर देखा खाने की कोई तैयारी नहीं। उसने गुरुजी से पूछा आज खाना नहीं बनेगा क्या
.
गुरुजी ने कहा नहीं आज तो एकादशी है तुम्हारा भी उपवास है ।
.
उसने कहा नहीं अगर हमने उपवास कर लिया तो कल का दिन ही नहीं देख पाएंगे हम तो …. हम नहीं कर सकते उपवास… हमें तो भूख लगती है आपने पहले क्यों नहीं बताया ?
.
गुरुजी ने कहा ठीक है तुम ना करो उपवास, पर खाना भी तुम्हारे लिए कोई और नहीं बनाएगा तुम खुद बना लो।
.
मरता क्या न करता… गया रसोई में, गुरुजी फिर आए ”देखो अगर तुम खाना बना लो तो राम जी को भोग जरूर लगा लेना और नदी के उस पार जाकर बना लो रसोई।
.
ठीक है, लकड़ी, आटा, तेल, घी, सब्जी लेकर आंनद महाराज चले गए, जैसा तैसा खाना भी बनाया, खाने लगा तो याद आया गुरुजी ने कहा था कि राम जी को भोग लगाना है।
.
लगा भजन गाने
आओ मेरे राम जी , भोग लगाओ जी
प्रभु राम आइए, श्रीराम आइए मेरे भोजन का भोग लगाइए…..
.
कोई ना आया, तो बैचैन हो गया कि यहां तो भूख लग रही है और राम जी आ ही नहीं रहे।
.
भोला मानस जानता नहीं था कि प्रभु साक्षात तो आएंगे नहीं । पर गुरुजी की बात मानना जरूरी है।
.
फिर उसने कहा , देखो प्रभु राम जी, मैं समझ गया कि आप क्यों नहीं आ रहे हैं। मैंने रूखा सूखा बनाया है और आपको तर माल खाने की आदत है इसलिए नहीं आ रहे हैं….
.
तो सुनो प्रभु … आज वहां भी कुछ नहीं बना है, सबको एकादशी है, खाना हो तो यह भोग ही खालो…
.
श्रीराम अपने भक्त की सरलता पर बड़े मुस्कुराए और माता सीता के साथ प्रकट हो गए।
.
भक्त असमंजस में। गुरुजी ने तो कहा था कि राम जी आएंगे पर यहां तो माता सीता भी आईं है और मैंने तो भोजन बस दो लोगों का बनाया हैं।
.
चलो कोई बात नहीं आज इन्हें ही खिला देते हैं।
.
बोला प्रभु मैं भूखा रह गया लेकिन मुझे आप दोनों को देखकर बड़ा अच्छा लग रहा है लेकिन अगली एकादशी पर ऐसा न करना पहले बता देना कि कितने जन आ रहे हो,
.
और हां थोड़ा जल्दी आ जाना। राम जी उसकी बात पर बड़े मुदित हुए। प्रसाद ग्रहण कर के चले गए।
.
अगली एकादशी तक यह भोला मानस सब भूल गया। उसे लगा प्रभु ऐसे ही आते होंगे और प्रसाद ग्रहण करते होंगे।
.
फिर एकादशी आई। गुरुजी से कहा, मैं चला अपना खाना बनाने पर गुरुजी थोड़ा ज्यादा अनाज लगेगा, वहां दो लोग आते हैं।
.
गुरुजी मुस्कुराए, भूख के मारे बावला है। ठीक है ले जा और अनाज ले जा।
.
अबकी बार उसने तीन लोगों का खाना बनाया। फिर गुहार लगाई
प्रभु राम आइए, सीताराम आइए, मेरे भोजन का भोग लगाइए…
.
प्रभु की महिमा भी निराली है। भक्त के साथ कौतुक करने में उन्हें भी बड़ा मजा आता है। इस बार वे अपने भाई लक्ष्मण, भरत शत्रुघ्न और हनुमान जी को लेकर आ गए।
.
भक्त को चक्कर आ गए। यह क्या हुआ। एक का भोजन बनाया तो दो आए आज दो का खाना ज्यादा बनाया तो पूरा खानदान आ गया।
.
लगता है आज भी भूखा ही रहना पड़ेगा। सबको भोजन लगाया और बैठे-बैठे देखता रहा। अनजाने ही उसकी भी एकादशी हो गई।
.
फिर अगली एकादशी आने से पहले गुरुजी से कहा, गुरुजी, ये आपके प्रभु राम जी, अकेले क्यों नहीं आते हर बार कितने सारे लोग ले आते हैं ? इस बार अनाज ज्यादा देना।
.
गुरुजी को लगा, कहीं यह अनाज बेचता तो नहीं है देखना पड़ेगा जाकर। भंडार में कहा इसे जितना अनाज चाहिए दे दो और छुप कर उसे देखने चल पड़े।
.
इस बार आनंद ने सोचा, खाना पहले नहीं बनाऊंगा, पता नहीं कितने लोग आ जाएं। पहले बुला लेता हूं फिर बनाता हूं।
.
फिर टेर लगाई प्रभु राम आइए , श्री राम आइए, मेरे भोजन का भोग लगाइए…
.
सारा राम दरबार मौजूद… इस बार तो हनुमान जी भी साथ आए लेकिन यह क्या प्रसाद तो तैयार ही नहीं है।
.
भक्त ठहरा भोला भाला, बोला प्रभु इस बार मैंने खाना नहीं बनाया,
.
प्रभु ने पूछा क्यों ? बोला, मुझे मिलेगा तो है नहीं फिर क्या फायदा बनाने का, आप ही बना लो और खुद ही खा लो….
.
राम जी मुस्कुराए, सीता माता भी गदगद हो गई उसके मासूम जवाब से… लक्ष्मण जी बोले क्या करें प्रभु…
.
प्रभु बोले भक्त की इच्छा है पूरी तो करनी पड़ेगी। चलो लग जाओ काम से।
.
लक्ष्मण जी ने लकड़ी उठाई, माता सीता आटा सानने लगीं। भक्त एक तरफ बैठकर देखता रहा।
.
माता सीता रसोई बना रही थी तो कई ऋषि-मुनि, यक्ष, गंधर्व प्रसाद लेने आने लगे।
.
इधर गुरुजी ने देखा खाना तो बना नहीं भक्त एक कोने में बैठा है। पूछा बेटा क्या बात है खाना क्यों नहीं बनाया ?
.
बोला, अच्छा किया गुरुजी आप आ गए देखिए कितने लोग आते हैं प्रभु के साथ…..
.
गुरुजी बोले, मुझे तो कुछ नहीं दिख रहा तुम्हारे और अनाज के सिवा
.
भक्त ने माथा पकड़ लिया, एक तो इतनी मेहनत करवाते हैं प्रभु, भूखा भी रखते हैं और ऊपर से गुरुजी को दिख भी नहीं रहे यह और बड़ी मुसीबत है।
.
प्रभु से कहा, आप गुरुजी को क्यों नहीं दिख रहे हैं ?
.
प्रभु बोले : मैं उन्हें नहीं दिख सकता।
.
बोला : क्यों , वे तो बड़े पंडित हैं, ज्ञानी हैं विद्वान हैं उन्हें तो बहुत कुछ आता है उनको क्यों नहीं दिखते आप ?
.
प्रभु बोले , माना कि उनको सब आता है पर वे सरल नहीं हैं तुम्हारी तरह। इसलिए उनको नहीं दिख सकता….
.
आनंद ने गुरुजी से कहा, गुरुजी प्रभु कह रहे हैं आप सरल नहीं है इसलिए आपको नहीं दिखेंगे,
.
गुरुजी रोने लगे वाकई मैंने सब कुछ पाया पर सरलता नहीं पा सका तुम्हारी तरह, और प्रभु तो मन की सरलता से ही मिलते हैं।
.
प्रभु प्रकट हो गए और गुरुजी को भी दर्शन दिए। इस तरह एक भक्त के कहने पर प्रभु ने रसोई भी बनाई।
((((((( जय जय श्री राधे ))))))
~~~~~~~~~~~~~~~~~

लष्मीकांत वर्षनाय

Posted in Uncategorized

पीपल के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें…
प्रत्येक नक्षत्र वाले दिन भी इसका विशिष्ट गुण
भिन्नता लिए हुए होता है.
भारतीय ज्योतिष शास्त्र में कुल मिला कर 28
नक्षत्रों कि गणना है, तथा प्रचलित केवल 27 नक्षत्र है
उसी के आधार पर प्रत्येक मनुष्य के जन्म के समय नामकरण
होता है. अर्थात मनुष्य का नाम का प्रथम अक्षर
किसी ना किसी नक्षत्र के अनुसार ही होता है.
तथा इन नक्षत्रों के स्वामी भी अलग अलग ग्रह होते है.
विभिन्न नक्षत्र एवं उनके स्वामी निम्नानुसार है
यहां नक्षत्रों के स्वामियों के नाम कोष्ठक के अंदर
लिख रहा हूँ जिससे आपको आसानी रहे.
(१)अश्विनी(केतु), (२)भरणी(शुक्र), (३)कृतिका(सूर्य),
(४)रोहिणी(चन्द्र), (५)मृगशिर(मंगल), (६)आर्द्रा(राहू),
(७)पुनर्वसु(वृहस्पति), (८)पुष्य(शनि), (९)आश्लेषा(बुध),
(१०)मघा(केतु), (११)पूर्व फाल्गुनी(शुक्र),
(१२)उत्तराफाल्गुनी(सूर्य), (१३)हस्त(चन्द्र),
(१४)चित्रा(मंगल), (१५)स्वाति(राहू),
(१६)विशाखा(वृहस्पति), (१७)अनुराधा(शनि),
(१८)ज्येष्ठा(बुध), (१९)मूल(केतु), (२०)पूर्वाषाढा(शुक्र),
(२१)उत्तराषाढा(सूर्य), (२२)श्रवण(चन्द्र),
(२३)धनिष्ठा(मंगल), (२४)शतभिषा(राहू),
(२५)पूर्वाभाद्रपद(वृहस्पति), (२६)उत्तराभाद्रपद(शनि)
एवं (२७)रेवती(बुध)..
ज्योतिष शास्त्र अनुसार प्रत्येक ग्रह 3, 3 नक्षत्रों के
स्वामी होते है
.
कोई भी व्यक्ति जिस भी नक्षत्र में जन्मा हो वह
उसके स्वामी ग्रह से सम्बंधित दिव्य प्रयोगों को करके
लाभ प्राप्त कर सकता है.
अपने जन्म नक्षत्र के बारे में अपनी जन्मकुंडली को देखें
या अपनी जन्मतिथि और समय व् जन्म स्थान लिखकर
भेजे.या अपने विद्वान ज्योतिषी से संपर्क कर जन्म
का नक्षत्र ज्ञात कर के यह सर्व सिद्ध प्रयोग करके
लाभ उठा सकते है.
विभिन्न ग्रहों से सम्बंधित पीपल वृक्ष के प्रयोग निम्न
है.
@@सूर्य@@
जिन नक्षत्रों के स्वामी भगवान सूर्य देव है, उन
व्यक्तियों के लिए निम्न प्रयोग है.
(अ) रविवार के दिन प्रातःकाल पीपल वृक्ष की 5
परिक्रमा करें.
(आ) व्यक्ति का जन्म जिस नक्षत्र में हुआ हो उस दिन
(जो कि प्रत्येक माह में अवश्य आता है) भी पीपल
वृक्ष की 5 परिक्रमा अनिवार्य करें.
(इ) पानी में कच्चा दूध मिला कर पीपल पर अर्पण करें.
(ई) रविवार और अपने नक्षत्र वाले दिन 5 पुष्प अवश्य
चढ़ाए. साथ
ही अपनी कामना की प्रार्थना भी अवश्य करे
तो जीवन की समस्त बाधाए दूर होने लगेंगी.
@@चन्द्र:@@
जिन नक्षत्रों के स्वामी भगवान चन्द्र देव है, उन
व्यक्तियों के लिए निम्न प्रयोग है.
(अ) प्रति सोमवार तथा जिस दिन जन्म नक्षत्र
हो उस दिन पीपल वृक्ष को सफेद पुष्प अर्पण करें लेकिन
पहले 4 परिक्रमा पीपल की अवश्य करें.
(आ) पीपल वृक्ष की कुछ सुखी टहनियों को स्नान के
जल में कुछ समय तक रख कर फिर उस जल से स्नान
करना चाहिए.
(इ) पीपल का एक पत्ता सोमवार को और एक
पत्ता जन्म नक्षत्र वाले दिन तोड़ कर उसे अपने कार्य
स्थल पर रखने से सफलता प्राप्त होती है और धन लाभ
के मार्ग प्रशस्त होने लगते है.
(ई) पीपल वृक्ष के नीचे प्रति सोमवार कपूर मिलकर
घी का दीपक लगाना चाहिए.
@@मंगल:@@
जिन नक्षत्रो के स्वामी मंगल है. उन नक्षत्रों के
व्यक्तियों के लिए निम्न प्रयोग है….
(अ) जन्म नक्षत्र वाले दिन और प्रति मंगलवार को एक
ताम्बे के लोटे में जल लेकर पीपल वृक्ष को अर्पित करें.
(आ) लाल रंग के पुष्प प्रति मंगलवार प्रातःकाल पीपल
देव को अर्पण करें.
(इ) मंगलवार तथा जन्म नक्षत्र वाले दिन पीपल वृक्ष
की 8 परिक्रमा अवश्य करनी चाहिए.
(ई) पीपल की लाल कोपल को (नवीन लाल पत्ते को)
जन्म नक्षत्र के दिन स्नान के जल में डाल कर उस जल से
स्नान करें.
(उ) जन्म नक्षत्र के दिन किसी मार्ग के किनारे १
अथवा 8 पीपल के वृक्ष रोपण करें.
(ऊ) पीपल के वृक्ष के नीचे मंगलवार प्रातः कुछ शक्कर
डाले.
(ए) प्रति मंगलवार और अपने जन्म नक्षत्र वाले दिन
अलसी के तेल का दीपक पीपल के वृक्ष के नीचे
लगाना चाहिए.
@@बुध:@@
जिन नक्षत्रों के स्वामी बुध ग्रह है, उन नक्षत्रों से
सम्बंधित व्यक्तियों को निम्न प्रयोग करने चाहिए.
(अ) किसी खेत में जंहा पीपल का वृक्ष
हो वहां नक्षत्र वाले दिन जा कर, पीपल के नीचे
स्नान करना चाहिए.
(आ) पीपल के तीन हरे पत्तों को जन्म नक्षत्र वाले
दिन और बुधवार को स्नान के जल में डाल कर उस जल से
स्नान करना चाहिए.
(इ) पीपल वृक्ष की प्रति बुधवार और नक्षत्र वाले दिन
6 परिक्रमा अवश्य करनी चाहिए.
(ई) पीपल वृक्ष के नीचे बुधवार और जन्म, नक्षत्र वाले
दिन चमेली के तेल का दीपक लगाना चाहिए.
(उ) बुधवार को चमेली का थोड़ा सा इत्र पीपल पर
अवश्य लगाना चाहिए अत्यंत लाभ होता है.
@@वृहस्पति:@@
जिन नक्षत्रो के स्वामी वृहस्पति है. उन नक्षत्रों से
सम्बंधित व्यक्तियों को निम्न प्रयोग करने चाहियें.
(अ) पीपल वृक्ष को वृहस्पतिवार के दिन और अपने जन्म
नक्षत्र वाले दिन पीले पुष्प अर्पण करने चाहिए.
(आ) पिसी हल्दी जल में मिलाकर वृहस्पतिवार और
अपने जन्म नक्षत्र वाले दिन पीपल वृक्ष पर अर्पण करें
(इ) पीपल के वृक्ष के नीचे इसी दिन
थोड़ा सा मावा शक्कर मिलाकर डालना या कोई
भी मिठाई पीपल पर अर्पित करें.
(ई) पीपल के पत्ते को स्नान के जल में डालकर उस जल से
स्नान करें
(उ) पीपल के नीचे उपरोक्त दिनों में सरसों के तेल
का दीपक जलाएं.
@@शुक्र:@@
जिन नक्षत्रो के स्वामी शुक्र है. उन नक्षत्रों से
सम्बंधित व्यक्तियों को निम्न प्रयोग करने चाहियें.
(अ) जन्म नक्षत्र वाले दिन पीपल वृक्ष के नीचे बैठ कर
स्नान करना.
(आ) जन्म नक्षत्र वाले दिन और शुक्रवार को पीपल पर
दूध चढाना.
(इ) प्रत्येक शुक्रवार प्रातः पीपल की 7
परिक्रमा करना.
(ई) पीपल के नीचे जन्म नक्षत्र वाले दिन
थोड़ासा कपूर जलाना.
(उ) पीपल पर जन्म नक्षत्र वाले दिन 7 सफेद पुष्प
अर्पित करना.
(ऊ) प्रति शुक्रवार पीपल के नीचे आटे
की पंजीरी सालना.
@@शनि:@@
जिन नक्षत्रों के स्वामी शनि है. उस नक्षत्रों से
सम्बंधित व्यक्तियों को निम्न प्रयोग करने चाहिए.
(अ) शनिवार के दिन पीपल पर
थोड़ा सा सरसों का तेल चडाना.
(आ) शनिवार के दिन पीपल के नीचे तिल के तेल
का दीपक जलाना.
(इ) शनिवार के दिन और जन्म नक्षत्र के दिन पीपल
को स्पर्श करते हुए उसकी एक परिक्रमा करना.
(ई) जन्म नक्षत्र के दिन पीपल की एक कोपल चबाना.
(उ) पीपल वृक्ष के नीचे कोई भी पुष्प अर्पण करना.
(ऊ) पीपल के वृक्ष पर मिश्री चडाना.
@@राहू:@@
जिन नक्षत्रों के स्वामी राहू है, उन नक्षत्रों से
सम्बंधित व्यक्तियों को निम्न प्रयोग करने चाहिए.
(अ) जन्म नक्षत्र वाले दिन पीपल वृक्ष की 21
परिक्रमा करना.
(आ) शनिवार वाले दिन पीपल पर शहद चडाना.
(इ) पीपल पर लाल पुष्प जन्म नक्षत्र वाले दिन
चडाना.
(ई) जन्म नक्षत्र वाले दिन पीपल के नीचे गौमूत्र मिले
हुए जल से स्नान करना.
(उ) पीपल के नीचे किसी गरीब को मीठा भोजन दान
करना.
@@केतु:@@
जिन नक्षत्रों के स्वामी केतु है, उन नक्षत्रों से
सम्बंधित व्यक्तियों को निम्न उपाय कर अपने जीवन
को सुखमय बनाना चाहिए.
(अ) पीपल वृक्ष पर प्रत्येक शनिवार मोतीचूर का एक
लड्डू या इमरती चडाना.
(आ) पीपल पर प्रति शनिवार गंगाजल मिश्रित जल
अर्पित करना.
(इ) पीपल पर तिल मिश्रित जल जन्म नक्षत्र वाले दिन
अर्पित करना.
(ई) पीपल पर प्रत्येक शनिवार सरसों का तेल चडाना.
(उ) जन्म नक्षत्र वाले दिन पीपल की एक
परिक्रमा करना.
(ऊ) जन्म नक्षत्र वाले दिन पीपल
की थोडीसी जटा लाकर उसे धूप दीप दिखा कर अपने
पास सुरक्षित रखना.
इस प्रकार से प्रत्येक व्यक्ति उपरोक्त उपाय अपने अपने
नक्षत्र के अनुसार करके अपने जीवन को सुगम बना सकते
है, इन उपायों को करने से तुरंत लाभ प्राप्य होता है और
जीवन में किसी भी प्रकार की बाधा उत्पन्न
नहीं होती है और जो बाधा हो वह तत्काल दूर होने
लगती है. शास्त्र, आदि सभी महान ग्रन्थ अनुसार
पीपल वृक्ष में सभी देवी देवताओं का वास होता है.
उन्हीं को हम अपने जन्म नक्षत्र अनुसार प्रसन्न करते है.
और आशीर्वाद प्राप्त करते है.
शुभमस्तु !!!

विक्रम प्रकाश राइसोनय

Posted in Uncategorized

प्राचीन न्यूक्लियर रिएक्टर की कहानी

सन 1932 में भौतिक विज्ञान के पितामह अर्नेस्ट रदरफोर्ड ने पहली बार परमाणुओं को तोड़ने में सफलता पाई थी। इससे पूर्व ‘यूरेनियम’ एक अति साधारण तत्व हुआ करता था। परमाणु विखंडन की खोज के बाद यूरेनियम पृथ्वी के गर्भ में उपस्थित हर धातु से अधिक मूल्यवान हो चुका था। यूरेनियम की खोज परमाणु विखंडन से बहुत पहले सन 1789 में कर ली गई थी। इससे पहले तक यूरेनियम का उपयोग सिरैमिक के बर्तनों की रंगाई और रेशम को रंगने के लिए किया जाता था। पिछले वर्ष दिसंबर में मुंबई के ठाणे से कुल 8.86 किलो यूरेनियम क्राइम ब्रांच ने जब्त किया था जिसका अंतरराष्ट्रीय मूल्य लगभग 26 करोड़ आँका गया था। खैर यूरेनियम पर आज का विषय अतीत के एक रहस्य से जुड़ा हुआ है। वो रहस्य जिसने वैज्ञानिकों को उलझन में डाल दिया है।

गबोन गणराज्य पश्चिम मध्य अफ़्रीका में स्थित एक देश है। सन 1972 में फ्रांस की एक कंपनी यहाँ ‘ओक्लो’ में स्थित एक खदान से यूरेनियम के अवयव खुदाई में निकलवा रही थी। जब लेबोरेटरी में इन अवयवों की जांच की गई तो सबके मुंह खुले रह गए। पता चला कि खुदाई में प्राप्त अवयवों में से कुछ प्रतिशत ‘यूरेनियम’ पहले ही निकाला जा चुका था।

बात भरोसे लायक कतई नहीं थी। लैब में हुई गणना के मुताबिक ‘यूरेनियम-235’ में 0.7 प्रतिशत यूरेनियम मिलना चाहिए था लेकिन मिला केवल 0.3 प्रतिशत।  इस अविश्वसनीय तथ्य के पता चलने के बाद वैज्ञानिक समुदाय दो धड़ों में बंट गया। एक धड़े का मानना था कि ये यूरेनियम की खदान दरअसल हज़ारों वर्ष पुराना एक ‘प्राचीन न्यूक्लियर रिएक्टर’ था और दूसरा धड़ा इसे मूर्खतापूर्ण तथ्य बता रहा था।

फ़्रांसिसी भौतिक विज्ञानी फ्रांसिस पेरिन ने अपने सहयोगियों के साथ इस खदान में लंबा अनुसंधान किया तो पता चला यहाँ  मिले तीन प्रकार के इज़ोटोप (isotope) का स्तर वही पाया गया जो आज की आधुनिक परमाणु भट्टियों के परमाणु कचरे में पाया जाता है। कई वैज्ञानिक इस बात पर सहमत हुए कि प्राकृतिक स्त्रोतों में पर्याप्त मात्रा में ‘यूरेनियम-235’ प्राप्त नहीं हुआ था। ये इतनी मात्रा में नहीं था कि स्वाभाविक ‘चेन रिएक्शन’ को अंजाम दे पाता। सवाल बहुत खरा था कि पुराने समय में यूरेनियम-235′ का किसने और कैसे उपयोग किया होगा।

वैज्ञानिक कैसे मान लेते कि हज़ारों या लाखों वर्ष पूर्व अफ्रीका के पथरीले क्षेत्र में कोई अनजान सभ्यता ‘न्यूक्लियर रिएक्टर’ बनाने में सक्षम थी। शोध के आंकड़ों को झुठलाया नहीं जा सकता था। इस असमंजस से निकलने के लिए वैज्ञानिकों ने कहा कि ये ‘महान आश्चर्य’ है जो ‘प्राकृतिक रूप’ से घटित हुआ है।

इस पर फ्रांसिस जैसे वैज्ञानिकों ने विरोध जताते हुए कहा कि उस खदान में जो ‘मानव निर्मित’ अवशेष प्राप्त हुए हैं, उसके बारे में क्या स्पष्टीकरण देंगे। मशहूर वैज्ञानिक डॉक्टर ग्लेन सिबर्ग ने भी इसे ‘प्राकृतिक रूप से घटित’ बताया है। हालांकि ‘चेन रिएक्शन’ प्राकृतिक रूप से हो पाना संभव नहीं है, इसके लिए बहुत से तामझाम करने पड़ते हैं। 

बताया जा रहा कि इस साइट पर जितना यूरेनियम पाया गया, उससे छह परमाणु बम बनाए जा सकते हैं। ये भी पाया गया कि रिएक्टर बेहद ‘सुरक्षित स्थिति’ में छोड़ा गया था और ‘परमाणु कचरे’ के निपटान की पूरी व्यवस्था यहाँ देखी गई है। इसके अलावा प्लांट में प्रयोग किया जाने वाला जल अत्यंत ‘शुद्ध अवस्था’ में मिला। कुल मिलाकर ये आज के आधुनिक ‘न्यूक्लियर रिएक्टर’ की तरह जानदार और शानदार बताया जा रहा है।

जब ये खबर फैली तो ‘गबोन’ स्थित इस खदान में शोध करने के लिए वैज्ञानिकों की भीड़ लग गई थी। यहाँ से जो मिला वह आप फोटो में देख सकेंगे। हालांकि फोटो दूर से लिया गया था लेकिन इसके आकार से आपको अंदाज़ा लग जाएगा। अब समस्या ये है कि अन्य रहस्यों की तरह इस पर भी पर्दा डाल दिया गया है। सन 2015 के बाद से  ‘गबोन’ की ख़बरें आना बंद हो गई है।

प्राचीन न्यूक्लियर रिएक्टर की अवधारणा गुदगुदाती है लेकिन भरोसा नहीं होता। वैज्ञानिकों की जांच-पड़ताल एक भयानक सत्य की ओर इशारा करती है। अतीत में न जाने कितनी बार मानव सभ्यताएं ‘परमाणु’ के लालच में आकर नष्ट हो चुकी हैं। अरबों आकाशगंगाओं में भी कितनी ही सभ्यताएं ‘अक्षय ऊर्जा’ के बजाय ‘परमाणु’ का विकल्प चुनकर अपनी तबाही को आमंत्रित कर लेती हैं। ‘गबोन’ का परमाणु रिएक्टर किसने बनाया था। क्या उस सभ्यता को मोहनजो-दारो की तरह कोई विशाल ‘परमाणु विस्फोट’ विलुप्त कर गया था। वह रिएक्टर कैसे हज़ारों वर्ष तक चैतन्य रहा।

                                                                        
                           सवाल, सवाल और बस सवाल  

✍🏻 विपुल विजय रेगे

वज्र ‘ग्लोबल’ है
दधीचि ऋषि जब तक जीवित रहे, असुर उन्हें देखकर भय खाते रहे। इसके बाद इंद्र को पुष्कर क्षेत्र में दधीचि ने अपनी अस्थियां भेंट कर दी। इंद्र ने इस हड्डी से ‘वज्र’ बनाया और असुरों को पराजित किया। वज्र को इंद्र का शस्त्र माना जाता है। वज्र केवल भारत ही नहीं संसार के विभिन्न क्षेत्रों में प्रयोग किया जाता था। वज्र को ‘पवित्र शस्त्र’ माना गया है। संस्कृत में इसका अर्थ ‘आकाशीय बिजली और कदाचित हीरे से भी लगाया जाता है। दो प्रकार के वज्र बनाए जाते थे। कुलिश और अशानि। वज्र बनाते समय ध्यान रखा जाता था कि इसका ‘हत्था’ वजनदार हो और पत्तियां हल्की। वज्र को ‘शांति और प्रशांति (tranquility)’ का प्रतीक माना जाता है। जापान और चीन में भी प्राचीन वज्र पाए गए हैं। यूनानी देवता ‘ज़ूस(Zeus) की कई प्रतिमाओं में वज्र उनके हाथों में दिखाई देता है। ऑस्ट्रेलिया, नोर्स पुराण में इसका उल्लेख किया गया है। ‘पश्चिम का वज्र’ तो इसमें से ‘बिजली की वर्षा’ भी करवाता है। सुमेरियन ब्रह्मांडिकी (cosmology) में भी वज्र का उल्लेख मिलता है। नोर्स गॉड ‘थोर’ का शस्त्र भी वज्र माना जाता है। माया सभ्यता के पुरावशेषों में भी वज्र दिखाई देता है।राष्ट्र के सबसे बड़े सम्मान ‘परमवीर चक्र’ की थीम भी ‘वज्र’ पर ही बनाई गई है। पौराणिक देवता इंद्र का वज्र परमवीर चक्र पर होने के पीछे बड़ा गहरा कारण है। दधीचि ऋषि ने अपनी अस्थियां दे दी ताकि ‘वज्र’ बनाया जा सके। जीवन का दान किया एक पवित्र उद्देश्य के लिए। परमवीर चक्र भी उसी को मिलता है जो अपनी हड्डियां तक पवित्र उद्देश्य के लिए समर्पित कर देता है।

✍🏻 विपुल रेगे

Posted in Uncategorized

मंगलवार को ये काम जरूर करें, घर आंगन में बरसेगी पवनपुत्र की कृपा!!!!!!

  • अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं
    दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्‌।
    सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं
    रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि॥

भावार्थ:-अतुल बल के धाम, सोने के पर्वत (सुमेरु) के समान कान्तियुक्त शरीर वाले, दैत्य रूपी वन (को ध्वंस करने) के लिए अग्नि रूप, ज्ञानियों में अग्रगण्य, संपूर्ण गुणों के निधान, वानरों के स्वामी, श्री रघुनाथजी के प्रिय भक्त पवनपुत्र श्री हनुमान्‌जी को मैं प्रणाम करता हूँ॥

मंगलवार यानी हनुमान जी का दिन, ऊपर से साल का दूसरा दिन आज हम आपको बता रहे हैं कि घर आंगन में पवनपुत्र की कृपा बरसाने के लिए आपको इस दिन क्या करना चाहिए।

पवनपुत्र हनुमान अनंत हैं, अकाल हैं, भावनाओं का अतिरेक हैं। कहा जाता है कि इन्हें को प्रसन्न करने वाला कभी भी जीवन में दुखी नहीं रहता। इसलिए आपको मंगलवार को कुछ ऐसे उपाय करने चाहिए, जिससे प्रभु हनुमान प्रसन्न हो जाएं। इसके लिए कुछ काम हैं, जिनके बारे में हम आपको बता रहे हैं। आइए जानते हैं कि मंगलवार को किस तरह से शुभ बनाना चाहिए।

हर दुख से बचाते हैं हनुमान,,,,,कहा जाता है कि वो भगवान हनुमान ही हैं जो ग्रहों के प्रकोप से हर किसी को बचाते हैं। शायद इसी वजह से उन्हें कलयुग के देवता कहा गया है। मंगलवार का दिन हनुमान जी को बहुत प्रिय है। कहा गया है कि इस दिन हनुमान जी की पूजा विशेष रूप से फल प्रदान करती है। कहा गया है कि मंगलवार का दिन मंगल ग्रह से भी जुड़ा है जो रक्त का प्रतिनिधि कहा जाता है।

मीठा हनुमान जी को प्रिय है,,,,,,इसके साथ ही कहा गया है कि जो लोग इस दिन मिठाई दान करते हैं, उन्हें खुद वो मिठाई नहीं खानी चाहिए। जी हां अगर आपने व्रत रखा है और आप पवनपुत्र को मीठा दान कर रहे हैं, तो उस मीठे को खुद ना खाएं बल्कि किसी को दान कर लें। मंगल वार के दिन जिस चीज का दान किया जाता है, उसे उस दिन ग्रहण नहीं करना चाहिए। इससे सौभाग्य पर गलत असर पड़ता है।

नमक से दूरी बनाए रखें,,,,इस बात का ध्यान रखिए कि अगर आप मंगलवार के दिन व्रत रखते हैं तो इस दिन आपको नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। जी हां नमक का सेवन मंगलवार को किसी भी हाल में नहीं करना चाहिए। कई लोग अनजाने में इस दिन व्रत तो रखते हैं लेकिन नमक का सेवन कर लेते हैं। ज्योतिष शा्त्र में बताया गया है कि इससे नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है।

दुकान पर हवन ना कराएं,,,,,इसके अलावा कहा गया है कि मंगलवार के दिन घर या दुकान पर हवन नहीं करवाना चाहिए। इसके अलावा कहा गया है कि इस दिन नेल कटर का उपयोग किसी भी हाल में नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही कहा गया है कि इस दिन अपने बाल भी नहीं कटवाने चाहिए। ऐसा करने से घर में नेगेटिव एनर्जी आती है और बनते हुए काम बिगड़ने लगते हैं।

मांस मदिरा का ख्याल भी ना करें,,,,इसके अलावा एक बात का ध्यान रखें कि मंगलवार के दिन मांस और मदिरा से दूर रहे हैं। चाहे आपने व्रत रखा है या नहीं रखा है, आप इस दिन खुद को मांस और मदिरा से दूर ही रखें। वैसे तो मांस और मदिरा का सेवन इंसान की सेहत के लिए हानिकारक तो होता ही है, लेकिन इसके साथ साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना जरूरी है कि मंगलवार के दिन इन चीजों से खुद को दूर रखें।

धारदार सामान से दूरी बनाएं,,,,इसके अलावा कहा गया है कि मंगलवार के दिन धारदार सामान अपने पास नहीं रखने चाहिए। हां एक और खास बात ये है कि इस दिन बाहर से तेल ना खरीदें। वैसे तेल तो आपको शनिवार के दिन भी नहीं खरीदना चाहिए। इससे लोगों के बुरे ग्रह आप पर आ जाते हैं। लोगों के बुरे ग्रह आप पर आएं तो बुरे काम होते हैं। इसलिए इस दिन बाहर से तेल किसी भी हाल में नहीं खरीदना चाहिए।

संजय गुप्ता

Posted in Uncategorized

धर्म का उदेश्य

काशी में गंगा के किनारे एक संत का आश्रम था। उसमें कई शिष्य अध्ययन करते थे। आखिर वह दिन आया जब शिक्षा पूरी होने के बाद गुरुदेव उन्हें अपना आशीर्वाद देकर विदा करने वाले थे। सुबह गंगा में स्नान करने के बाद गुरुदेव और सभी शिष्य पूजा करने बैठ गए। सभी ध्यानमग्न थे कि एक बच्चे की ‘बचाओ बचाओ’ की आवाज सुनाई पड़ी। बच्चा नदी में डूब रहा था।

आवाज सुनकर गुरुदेव की आंखें खुल गईं। उन्होंने देखा कि एक शिष्य पूजा छोड़ बच्चे को बचाने के लिए नदी में कूद गया। वह किसी तरह बच्चे को बचाकर किनारे ले आया, लेकिन दूसरे शिष्य आंखें बंद किए ध्यानमग्न थे। पूजा खत्म होने के बाद गुरुदेव ने उन शिष्यों से पूछा, ‘क्या तुम लोगों को डूबते हुए बच्चे की आवाज सुनाई पड़ी थी?’ शिष्यों ने कहा, ‘हां गुरुदेव, सुनी तो थी।’ गुरुदेव ने कहा, ‘तब तुम्हारे मन में क्या विचार उठा था?’ शिष्यों ने कहा, ‘हम लोग ध्यान में डूबे थे। दूसरी तरफ ध्यान देने की बात मन में उठी ही नहीं।’

गुरुदेव ने कहा, ‘लेकिन तुम्हारा एक मित्र बच्चे को बचाने के लिए पूजा छोड़कर नदी में कूद पड़ा।’ शिष्यों ने कहा, ‘उसने पूजा छोड़कर अधर्म किया है।’ इस पर गुरुदेव ने कहा, ‘अधर्म उसने नहीं, तुम लोगों ने किया है। तुमने डूबते हुए बच्चे की पुकार अनसुनी कर दी। पूजा-पाठ, धर्म-कर्म का एक ही उद्देश्य होता है प्राणियों की रक्षा करना। तुम आश्रम में धर्मशास्त्रों, व्याकरणों, धर्म-कर्म आदि में पारंगत तो हुए, लेकिन धर्म का सार नहीं समझ सके।

परोपकार और संकट में फंसे दूसरे की सहायता करने से बड़ा कोई धर्म नहीं। पूजा पाठ का असल संदेश है कि हम दूसरे की मदद करें।’ गुरुदेव ने उस शिष्य को अपना आशीर्वाद देकर आश्रम से विदा किया जिसने डूबते हुए बच्चे को बचाया था। शेष शिष्यों से कहा, ‘अभी तुम्हारी शिक्षा अधूरी है।’
संजय गुप्ता

Posted in Uncategorized

🚩🙌जय श्री राम 🙏🚩

संगम तट पर विराजमान लेटे हनुमान मंदिर की अद्भूत कहानी—–
कुम्भ नगरी प्रयाग अगर संगम के लिए प्रसिद्ध है, तो इसी के तट पर मारूती नन्दन वीर हनुमान का एक ऐसा मंदिर है जो दुनियाभर के लिए किसी आश्चर्य से कम नहीं. यहां पवनसुत वीर हनुमान लेटी हुई मुद्रा में विराजमान हैं. दुनियाभर में यह इकलौता मंदिर ऐसा है जहां अंजनी पुत्र शयन मुद्रा में मौजूद हैं. संगम तट पर लेटे हनुमान का यह मंदिर अति प्राचीन है. विद्वानों की माने तो पदम पुराण में इस मंदिर का विस्तृत वर्णन भी है।
मूर्ति को हटाने का किया गया था प्रयास लिहाजा, इतिहास में इस मंदिर का वर्णन तब से मिलता आया है जब अकबर ने संगम के तट पर किला बनवाया था. कहते हैं अकबर के किले का जो नक्शा बनाया गया था वह इस मंदिर के मध्य से हो कर जाता था. किले के रास्ते में मंदिर आया तो अकबर ने इसे दूसरी जगह स्थापित करने का हुक्म दे दिया. बादशाह के हुक्म का पालन करने के लिए हजारों मजदूर इस प्रतिमा को दूसरी जगह स्थापित करने के लिए लगाए गए.
लेकिन बजरंगबली की मूर्ति अपने स्थान से टस से मस नहीं हुई. इधर अकबर को यह समाचार सुनाने के लिए कोई जाने की हिम्मत नहीं जुटा सका, तो प्रयाग के कुछ पुरोहित उनके पास पहुंच गए. पुरोहितों ने अकबर को सारा किस्सा सुनाते हुए अनुरोध किया कि मंदिर वहीं रहने दें तो उचित होगा. अकबर ने भी तब इस मंदिर के महत्व को जाना और किले की दीवार को टेढ़ा करने का हुक्म देते हुए मंदिर के जीर्णोद्धार का आदेश दे दिया. प्रयाग के इस लेटे हुए हनुमान की मंदिर को लेकर दुनियाभर में कई किंवदंतियां प्रचलित हैं.
इतिहासकार प्रोफेसर योगेश्वर तिवारी ने बताया कि इनमें से एक किंवदंती के अनुसार प्राचीन युग में एक हनुमान भक्त व्यापारी उनकी मूर्ति नाव पर रख कर यमुना के रास्ते जा रहा था. अचानक प्रयाग में संगम से तट के पास नाव डूब गई. काफी खोजबीन के बाद भी न तो नाव का पता चला और ना ही मूर्ति मिली. इसके कई वर्षों बाद जब नदी की धारा बदली तो पानी खाली हुए तट पर हनुमान जी की मूर्ति लोगों को नजर आई. इसके बाद भक्तों ने मूर्ति को उठाकर किसी मंदिर में स्थापित करने की योजना बनाई. योजना के मुताबिक करीब 100 से ज्यादा लोगों ने मूर्ति को उठाने का भरसक प्रयास किया, लेकिन वह टस से मस न हुई. प्रयास कई दिनों तक किया जा जाता रहा, लेकिन मूर्ति एक इंच भी नहीं खिसकी.
नहीं हिली मूर्ति तो वहीं बनवा दिया विशाल मंदिर आखिर में भक्तों ने महात्माओं की शरण ली. महात्माओं ने भक्तों से कहा तुम चाहे जितना प्रयास कर लो मूर्ति वहां से नहीं हटा सकोगे क्योंकि भगवान वहां स्वयं शयन मुद्रा में हैं. भक्तों ने उपाय पूछा तो महात्माओं ने कहा कि मूर्ति जहां जिस मुद्रा में है वैसी ही रहने दो और वहीं मंदिर का निर्माण करा दो. भक्तों ने महात्माओं की बात मानते हुए वहीं मंदिर बनवा दिया, जो आज भी संगम के तट पर लेटे हनुमान या बड़े हनुमान के नाम से प्रसिद्ध मंदिर मौजूद है।
बड़े हनुमान यानि लेटे हुए हनुमान की मान्यताएं एक दूसरी किंवदंती के मुताबिक लंका विजय के बाद बजरंग बली भारद्वाज ऋषि का आशीर्वाद लेने प्रयाग आए थे. संगम स्नान के बाद अचानक शारीरिक थकान की अधिकता से मूर्छित होकर गिर गए. मूर्छित होकर धरती पर लेटे हनुमान को मां जानकी ने सिंदूर चढ़ाकर उनके चिरायु और सर्वशक्तिमान होने का आशीर्वाद दिया था. तब से ही आज तक लेटे हनुमान पर सिंदूर चढ़ाने की परम्परा है. यह मां जानकी का ही आशीर्वाद है कि यहां बजरंग बली मां गंगा के समकक्ष स्थापित हैं. लेटे हनुमान मंदिर के छोटे महन्त आनन्द गिरी महाराज ने कहा कि ऐसी मान्यता है कि संगम का स्नान तब तक अधूरा है जब तक बड़े हनुमान का दर्शन न किया जाए. यहां देश विदेश से करोड़ों भक्त हर साल आते हैं और शाम को होने वाली आरती में शामिल होकर स्वयं को धन्य मानते हैं. मान्यता है कि इस मंदिर में मांगी कोई भी ऐसी कामना नहीं जो पूरी न हो. लेटे हनुमान मंदिर से जुड़े कई ऐसे रहस्य हैं जिसके पीछे का कारण किसी को नहीं मालूम. यहां विराजमान लेटे हनुमान को शहर का कोतवाल माना जाता है. कहते हैं कि यदि किसी ने जीवन में कभी भी चोरी की है और इस मंदिर में आता है तो उसे बेचैनी होती है. इसके बाद जब तक वह मूर्ति के सामने जाकर अपने पापों का प्रायश्चित नहीं कर लेता, उसे शांति नहीं मिलती. एक अन्य रहस्य जो इस मंदिर से जुड़ा है वह यह कि बरसात में गंगा का जल कम से कम एक बार इस मंदिर तक जरूर पहुंचता है. गंगा की धारा मूर्ति के चरण तक पहुंचने के बाद धीरे-धीरे जलस्तर गिरने लगता है. इसके बाद गंगा अपने वास्तविक धारा के साथ बहने लगती है. जबकि गंगा की धारा और मंदिर की दूरी करीब साढ़े तीन किलोमीटर की है. गंगा जी का मंदिर के गर्भ तक पहुंचने के पीछे का एक कारण यह भी है कि अगर किसी वर्ष पानी बजरंगी बली के चरणों तक नहीं पहुंचता है तो माना जाता है कि कोई न कोई प्राकृतिक आपदा आ सकती है. लेटे हनुमान को बड़े हनुमान के नाम से भी इसलिए जाना जाता है क्योंकि यह शहर में बजरंग बली की सबसे बड़ी मूर्ती है, जो करीब 20 फिट से ज्यादा की है. हालांकि इस मूर्ति से भी बड़ी प्रतिमा बनाने का कई बार प्रयास हुआ लेकिन सफलता नहीं मिली. इसीलिए इसे बड़े हनुमान के नाम से भी जाना जाता है.

🙌जय माँ आंदि शंक्ती जयमहाकांल 🌷🌺🌻🚩🚩🚩

image

संजय गुप्ता