Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

હાથીમાં ભગવાન:


હાથીમાં ભગવાન:

ઈશ્વર ક્યાં છે ? શિષ્યએ પોતાના ગુરૂને પૂછ્યું. ગુરૂએ જવાબ આપતા કહ્યું કે ઈશ્વર તો દરેક જગ્યાએ છે. ગુરૂએ કહ્યું કે ઈશ્વર તારામાં છે અને મારામાં પણ છે. દરેક જીવમાં હાજર છે. તે કણ-કણમાં હાજર છે. શિષ્યએ ગુરૂની આ શિખામણની ગાંઠ બાંધી લીધી. ગુરૂની આજ્ઞા લઈને શિષ્ય પોતાના ઘર તરફ ચાલવા માંડ્યો. રસ્તામાં તેને એક હાથી દેખાયો. હાથીની ઉપર મહાવત જોરથી બૂકો પાડી રહ્યો હતો કે રસ્તામાંથી સરકી જાવ. હાથી કાબૂમાં નથી. તે તમને મારી પણ શકે છે. શિષ્યએ વિચાર્યુ કે ગુરૂજીએ કહ્યુ હતુ કે દરેકમાં ભગવાન છે. તો મારામાં પણ ભગવાન છે અને આ હાથીમાં પણ ભગવાન છે.

તો ભગવાન ભલા ભગવાનને કેમ મારશે. આ વિચારીને તે હાથીની સામે જઈને ઉભો થઈ ગયો. હાથી ગુસ્સામાં તો હતો જ, તેણે શિષ્યને સૂઁઢ વડે ઉઠાવ્યો નએ જમીન પર પટકી દીધો. શિષ્ય ભીની માટીવાળી જગ્યાએ પડ્યો હતો તેથી તેને વધુ વાગ્યું નહી. છતાં તેને કમર અને પગમાં વધુ વાગ્યુ હતુ. શિષ્ય ગુસ્સાથી લાલ થઈ ગયો અને સીધો ગુરૂ પાસે ગયો. ગુરૂ પાસે જઈને બોલ્યો કે તમે તો કહ્યુ હતુ ને કે દરેકમાં ભગવાન છે તો હાથીમાં પણ ભગવાન હોવો જોઈતો હતો. તો પછી તેમણે મારા પર આક્રમણ કેમ કર્યુ ? શુ ભગવાન મને મારવા માંગે છે ? ગુરૂ બોલ્યા – બેટા, માન્યું કે ભગવાન હાથીમાં છે પણ ભગવાન તે મહાવતમાં પણ છે જે તને રસ્તા પરથી હટવા માટે કહી રહ્યો હતો. તે એની વાત કેમ નહી માની. તો મિત્રો પોતાના કામ માટે કદી બીજાને દોષ નહી આપવો જોઈએ કે તેણે આવું નહી કર્યુ. આપણે વિચારવું જોઈએ કે શુ સારુ હોઈ શકે. હંમેશા નસીબને દોષ નહી આપવો જોઈએ. એ વિચારવું જોઈએ કે નસીબના કારણે આપણને કેટલી સારી વસ્તુઓ મળી છે. 🔚

🙋 ગુજરાતી બાળ વાર્તા
👨 લક્ષ્મણ આંબલીયા
📳9429012345

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

ઉંદર અને સિંહ: એક જંગલમાં સિંહ રહેતો હતો.


ઉંદર અને સિંહ: એક જંગલમાં સિંહ રહેતો હતો.

ઉનાળાના દિવસો હતા. આકરો તાપ હતો. સિંહ ગરમીથી અકળાઈ ગયો હતો. તે ઝાડના છાંયે બેસી ઊંઘતો હતો. એવામાં એક ઉંદર ત્યાં આવી ચડ્યો. સિંહને ઊંઘતો જોઈ તે તેના શરીર પર દોડાદોડી કરવા લાગ્યો. તેના શરીર પર તે રમવા લાગ્યો.

ઉંદર સિંહની કેશવાળી પકડી ઝૂલા ખાતો હતો. ત્યાં તેની પૂંછડી સિંહના નાકમાં ભરાઈ. તેથી સિંહની ઊંઘ ઊડી ગઈ. તેણે ‘હાક.. છી !’ કરી છીંક ખાતાં ખાતાં એક ઉંદરને ભાગતો જોયો. તેણે નાસતા ઉંદરની પૂંછડી પોતાના પંજાથી દબાવી દીધી.

ઉંદર ખૂબ ડરી ગયો. તે કરગરીને બોલ્યો – સિંહદાદા આપ જંગલના રાજા છો. મારો એક ગુનો માફ કરી મને છોડી દો. જરૂર પડશે ત્યારે હું એનો બદલો વાળી આપીશ !

સિંહ એ સાંભળી હસી પડ્યો અને બોલ્યો – ઉંદરડા ! નાનકડા જીવડા જેવો તું વળી મને શી મદદ કરવાનો ?

ઉંદરે હાથ જોડી ફરી વિનંતી કરી – સિંહદાદા, એક વખત મને જીવતદાન આપો. તમારો ઉપકાર જિંદગીભર યાદ રાખીશ. આટલું બોલતાં ઉંદરની આંખમાં આંસુ આવી ગયાં. નાનકડા ઉંદરને રડતો જોઈ સિંહને તેની દયા આવી. તેણે ઉંદરને જવા દીધો.

થોડાક દિવસો પછી સિંહને પકડવા શિકારીઓ જંગલમાં ઘૂસી ગયા. તેણે સિંહને પકડવા જાળ પાથરી. પછી જાળને સૂકા પાંદડાંથી ઢાંકી દીધી. સિંહ ત્યાંથી ચાલવા ગયો. પણ તે શિકારીઓએ પાથરેલી જાળમાં ફસાઈ ગયો. શિકારીઓએ તેને જાળમાં બરાબરનો બાંધીને ઝાડની ડાળીએ લટકાવી દીધો. પછી તેઓ તે સિંહને લઈ જવા માટે એક મોટું પાંજરું લેવા ગયા. સિંહે જાળમાંથી છૂટવાં ઘણાં ફાંફાં માર્યાં પણ કંઈ વળ્યું નહિ ! થાકીને સિંહે ગર્જના કરવા માંડી.

નાનકડા ઉંદરે સિંહની આ ગર્જનાઓ સાંભળી. તે સિંહનો અવાજ ઓળખી ગયો. તરત જ તે સિંહ પાસે દોડી આવ્યો. આવીને જૂએ તો સિંહદાદા ઝાડ ઉપર જાળમાં બંધાયેલા હતા.

ઉંદર બોલ્યો – સિંહદાદા, ધીરજ રાખજો. શિકારીઓ તમને લેવા આવે તે પહેલાં જ હું જાળ કાપી નાખીશ ને તમને બંધનમાંથી છોડાવી દઈશ ! એમ કહી ઉંદર ઝાડ પર સડસડાટ ચડી ગયો. પોતાના તીણા દાંતથી જાળ કાપવા માંડી. કટ … કટ … કટ…જોતજોતામાં તીણા દાંત વડે આખી જાળ કોતરી કાઢી.

જાળ કપાતાં સિંહ ભફાંગ અવાજ સાથે જમીન પર પડ્યો. છુટકારાનો દમ લેતાં તે બોલ્યો – મિત્ર, તારો ખૂબ આભાર. મોટાઈમાં ફુલાઈને તને નાનો જાણી તારી ખોટી અવગણના કરી પણ હવે મને તેનો પસ્તાવો થાય છે.

સિંહની વાત સાંભળી ઉંદરને સંતોષ થયો કે ભલે પોતે નાનો રહ્યો પણ પોતાના પર થયેલા ઉપકારનો બદલો તે બરાબર વાળી શક્યો હતો.🔚

🙋 ગુજરાતી બાળ વાર્તા
👨 લક્ષ્મણ આંબલીયા
📳9429012345

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

માતાની મહેનતે બનાવ્યો વૈજ્ઞાનિક:


માતાની મહેનતે બનાવ્યો વૈજ્ઞાનિક:
શાળાએથી પરત આવતા જ બાળકે માતાને કહ્યુ – ‘માઁ, હવે આપણે શાળાની ફી અને યૂનિફોર્મને ટાળી શકતા નથી, આજે મને શાળામાંથી કાઢી મૂકવામાં આવ્યો છે.
‘બેટા, તેમને કહેવુ હતુ ને થોડા દિવસનો સમય આપે-માઁ એ ચિંતા વ્યક્ત કરતા જણાવ્યુ.
બાળક નિરાશ થઈને બોલ્યો – ‘એ તો હું કહ્યુ હતુ માઁ, પરંતુ, સ્કુલવાળા માનવા તૈયાર નથી.
માઁ નુ મન ઉદાસ થઈ ગયુ પછી કશુ વિચારીને તેણે મનમાં જ જાણે કોઈ દ્રઢ નિશ્ચય કરી લીધો. તે બોલી – ‘ઠીક છે બેટા, હવે તુ શાળામાં ન જઈશ, હુ તને ઘરે જ ભણાવીશ. અને માઁ એ તેને ઘરે જ ભણાવવાનું શરૂ કરી દીધુ.
બાળક માટે તો હવે ઘર જ શાળા હતી, અને માઁ જ ગુરૂ. માઁ તેને સ્વાધ્યાયી તરીકે પરીક્ષાઓમાં બેસાડતી ગઈ અને બાળક પરીક્ષાઓ પાસ કરતો ગયો.
માઁ-પુત્રનો આત્મવિશ્વાસ, મહેનત અને લક્ષ્યને કારણે એ બાળક જુદા જુદા ધોરણમાં સર્વોચ્ય શ્રેણીઓ મેળવતા આગળ જઈને એક મહાન વૈજ્ઞાનિક બન્યો.
તમે જાણો છો બાળકો, આ વૈજ્ઞાનિક કોણ હતો ? થોમસ અલ્વા એડીસન, જેણે દુનિયાને અજવાળું આપવા માટે બલ્બની શોધ કરી.
એક શાળા માત્ર પૈસાને કારણે તેને જ્ઞાનની રોશની ન આપી શક્યુ, તેણે દુનિયામાં અજવાળું પાથરી દીધુ

ગુજરાતી બાળ વાર્તા

 

 

Posted in Uncategorized

अति रोचक एवम ज्ञानवर्धक प्रसंग, श्रीमद्भागवत के बारे में,,,,

  • पुरुष नपुंसक नारि वा जीव चराचर कोइ।
    सर्ब भाव भज कपट तजि मोहि परम प्रिय सोइ॥

प्रभुश्रीराम कागभुशुण्डि से कहते हैं,वह पुरुष हो, नपुंसक हो, स्त्री हो अथवा चर-अचर कोई भी जीव हो, कपट छोड़कर जो भी सर्वभाव से मुझे भजता है, वही मुझे परम प्रिय है॥

भागवत् श्रवण की प्यास कभी नहीं बुझती, बल्कि श्रवण की भूख और भी बढ़ जाती है, भाई-बहनों भागवत् रूपी खजाने से एक प्रसंग का चिन्तन करेंगे, सरस्वती के किनारे एक ज्ञानी भक्त और दूसरा नीतीज्ञ भक्त, दोनों भक्तों का मिलन हुआ, यहीं से भागवत में आरम्भ होता हैं, विदुरजी और उद्धवी का संवाद।

उद्धवजी ने भगवान् श्री कृष्णजी की बाल लीलायें, भगवान् श्री कृष्णजी का दिव्य किशोर चरित्र श्री विदुरजी को सुनायी, सुनकर विदुरजी उत्कंठित हो गये और कुछ जानने के लिये आग्रह किया, तब महात्मा उद्धवजी ने कहा, हरिद्वार में एक संत रहते हैं नाम हैं मैत्रेय मुनि, मैत्रेय मुनि ब्राह्मण हैं, विदुरजी दासी पुत्र हैं, लेकिन परमात्मा से सम्बन्ध जिसका जुड़ गया, फिर वहाँ जातिपाँति क्या होती है? जो हरि का भजन करे वो हरि का हो गया, मैत्रेय मुनि ने दौड़कर विदुरजी को अंक में भर लिया।

जाति पाति पूछहिं नहीं कोई।
हरि को भजे सो हरि का होई।।

शुकदेवजी कहते है राजन्! मैत्रेय मुनि बोले, आज इस गरीब ब्राह्मण की कुटिया पर आप जैसे परम संत का आगमन कैसे हो गया?

विदुरजी ने कहा भगवन् मैं शास्त्रों में शंका नहीं करता, सज्जनों! शास्त्रों में कभी कुतर्क मत करो, कुतर्क करना अपराध है, किन्तु जानकारी के लिये जिज्ञासा करना अपराध नहीं है।

विदुरजी संत श्री मैत्री मुनी से कहते हैं- मैं यह जानना चाहता हूँ कि सारी सृष्टि को परमात्मा क्यों बनाता है? सृष्टि में कोई दुःखी क्यों? और कोई सुखी क्यों होता है? परमात्मा अनेक प्रकार के अवतार लेकर क्यों आते है? उन अवतारों में कभी नृसिंह अवतार, कभी वामन अवतार, मैंने सुना है, भगवान् ने शूकर का रूप ले लिया, वाराह बन गये, ये कैसे?

मैत्रेय मुनि ने सृष्टि के प्रसंग को विस्तार से कहा और अन्त में विदुरजी से बोले, संसार में जो कुछ भी परिलक्षित होता है, जो कुछ भी संसार में दिखायी देता है वो परमात्मा की क्रीड़ा है, वो उसकी सुन्दर लीला है और ये संसार उसकी क्रीड़ा भूमि हैं, यहाँ वो कई-कई प्रकार की लीला से प्रमुदित होता हैं।

दूसरी बात, कोई दुःखी क्यों कोई सुखी क्यों? परमात्मा किसी को दुःख नहीं देता, तो परमात्मा किसी को सुख भी नहीं देता, ये सुख और दुःख तो अपने कर्म के अनुसार जीव भोगता है, इस संसार में जो कुछ भी हम लोग भोगते है, अपने कर्म और प्रारब्ध के अनुसार भोगते है, पहले हम क्या कर चुके इसकी चिन्ता मत करो, आगे हमें क्या करना है, उसके बारे में विचार मत करो।

काउ न कहु सुख दुःख करि दाता।
निज कृत कर्म भोग सबु भ्राता।।

सज्जनों! प्रयास करो कि वर्तमान में मेरा समय व्यर्थ में चला नहीं जावे, वर्तमान का जिसने सदुपयोग किया है, उसका भूतकाल भी श्रेष्ठ हो जाता है, और भविष्य भी उज्ज्वल हो होता है, इसलिये वर्तमान तो हम आजकल टी वी देखने में व्यतीत कर देते है, अब तो बिगड़ने के लिये टि वी में सैकड़ो चैनल हो गये हैं।

आज के समय में टीवी पर विज्ञापन के ऐसे-ऐसे खराब दृश्य आते हैं कि माँ-बाप, बेटा व बेटी एक जगह बैठ कर टि वी भी नहीं देख सकते, ऐसे-ऐसे खराब दृश्य आते है, अब उनका छोटे बच्चों पर क्या प्रभाव पड़ेगा? इसलिये भाई-बहनों!  वर्तमान को पंडितजी की पोस्ट पढ़ने लगाओं टी वी में नहीं, वर्तमान तो हम इसमें निकाल देते हैं, फिर रोते हैं, पहले हमने ऐसा क्यों नहीं किया? अब क्या होगा? तो अब रोने के सिवाय मिलेगा क्या?

तीसरी बात विदुरजी ने मैत्री मुनी से पूछी की परमात्मा अवतार क्यों लेते है?

वेद के अनुसार जो व्यक्ति कर्म कर रहा है, वेद के आधार पर जो सत्कर्म कर रहा है, आचरण कर रहा है, उस सत्कर्म करने वाले व्यक्ति को कोई कष्ट पहुँचाता है, तो उस व्यक्ति की सुरक्षा करने के लिये परमात्मा अवतार लेकर आते है, अर्थात अपने भक्तों को सुख, आनन्द प्रदान करने के लिये प्रभु अवतार लेते हैं।

अवतारों में भगवान् ने वाराह का रूप धारण किया, भगवान् ने शूकर का रूप धारण किया, इसका भी एक विचित्र कारण है, कश्यपजी महाराज की तेरह पत्नियाँ थीं, उनमें दिति सबसे बड़ी थी, एक दिन दिति ने कश्यपजी से कहा, मेरी जितनी भी अन्य बहनें है सब ही पुत्रवती है, मुझे भी पुत्र होना चाहिये, सहवास की कामना की।

तब कश्यपजी ने दिति से कहा, देवी यह सायंकाल का समय है, यह समय पुत्र सुख के लिए उपयुक्त नहीं, इस समय साक्षात् भगवान् शिव शंकर अपने गणों के साथ आकाश में विचरण करते हैं, इस समय किया हुआ जो गर्भाधान उस गर्भस्थ शिशु पर अशुभ प्रभाव डाल सकता है, लेकिन कश्यपजी की धार्मिक बातों का दिति ने अनादर कर दिया।

कश्यपजी भी दिति के दुराग्रह के आगे झुक गये और दिति के साथ रहे और वह समय बितने पर कहा देवी तुम्हें दो पुत्र होंगे, परन्तु दोनों ही दुष्ट होंगे, दुराचारी होंगे, माता दिति तो एकदम भयभीत हो गयीं, बोली मुझे दुराचारी पुत्र नहीं चाहिये, मुझे तो सुशील पुत्र चाहिये, नारायण का भक्त पुत्र चाहिये।

कश्यप ऋषि बोले- अब समय का असर मैं कहां लेकर जाऊँ? इतना हो सकता है कि तुम्हारे पुत्र तो दोनों ही दुष्ट राक्षस होंगे लेकिन तुम्हारे पुत्रों का संहार करने के लिये भगवान् नारायण को आना पड़ेगा, कश्यपजी ने दिति से कहा कि तुम्हारा जो पौत्र होगा वह बड़ा गुणवान होगा, उसका नाम प्रह्लाद होगा, वो शीलवान होगा, अलम्पट होगा, तेजस्वी, यशस्वी, मनस्वी, और भगवान् का परम भक्त होगा।

इसे सुनकर माता दिति के मन में बड़ी प्रसन्नता हुई, देवताओं ने ब्रह्माजी से कहा, दिति के गर्भस्थ जो शिशु हैं, उनका प्रकाश अभी से बढ़ रहा है, दैत्यों की माता का पता नहीं क्या होगा?

ब्रह्माजी ने कहा, दिति के गर्भ में जो बालक है, वो साधारण मानव नहीं है, ये दोनों भगवान के दिव्य पार्षद है, जय और विजय, विदुरजी ने मैत्री भुनी से जिज्ञासा प्रकट की, जय और विजय दोनों राक्षस क्यों बने?

एतौ तौ पार्षदौ महहां जयो विजय एव च।
कदथींकृत्य मां यद्वो ब्रहकाता मतिक्रमम्।।

मैत्री मुनि विदुरजी से कहते हैं  ब्रह्माजी के चार मानस पुत्र हैं, सनक, सुनन्दन, सनातन और सनत्कुमार, ये चारों ही मानस पुत्र एक बार भगवान् श्री हरि के दर्शनों के लिए गये, बैकुणठ में प्रवेश करने लगे तो जय-विजय ने रोक दिया और कहा- क्षमा करे, अभी हमारे प्रभु के विश्राम का समय है, आप अन्दर नहीं जा सकते।

सनत्कुमार बोले- हमारे माता-पिता से मिलने से तुम कैसे रोक सकते हो? धक्के देकर जाने लगे, जय-विजय का कोई दोष तो नहीं था, क्योंकि वो तो अपने कार्य का निर्वाह कर रहे थे, लेकिन सनत्कुमार जबर्दस्ती अन्दर जाने लगे तो जय-विजय ने रोक दिया, सनत्कुमारों ने क्रोधित होकर श्राप दे दिया, और कहा, तुम भगवान् के पार्षद होकर हमें भगवान् से मिलने से वंचित करते हो, जाओ तुम दोनों सात जन्म तक राक्षस हो जाओ।

जय-विजय चरणों में गिरकर क्षमा याचना करने लगे कि हम आपको पहचान नहीं पाये, राक्षस बन जायेंगे तो बड़ी तकलीफें भोगनी होंगी, यह वार्तालाप हो रहा था तब तक भगवान् श्री हरि आ गये और पार्षदों की तरफ से माफी मांगी, तब तक सनत्कुमार भगवान् के दोनों पार्षदों को श्राप दे चुके थे, सनत्कुमारों ने कहा, दैत्य तो तुम दोनों बनोगे, यदि तुम प्रभु को प्रित से भजोगे तो सात जन्म लेने पडे़ंगे, यदि बेर से भजोगे तो तीन जन्म में ही तुम्हारी मुक्ति हो जायेगी।

तीन जन्म तक इतने बड़े राक्षस बनोगे कि तुम्हें मारने के लिये भी भगवान् को ही आना पड़ेगा, दोनों ने कहा हम बेर से ही भजेंगे, सनत्कुमारों के मन में बड़ी ग्लानि हुई, हमने क्रोध क्यों किया? इसलिये बार-बार देत्यों से देवताओं और मानव रक्षा के लिये भगवान् श्री विष्णुजी अवतार लेते हैं।

Sanjay Gupta

Posted in Uncategorized

#લખ્યાબારુંનીવાર્તા:

એક હતો વાણિયો પણ તેનામાં સમજણ ઓછી.

વાણિયાની નાની સરખી હાટડી હતી. હાટડીમાં ખારા દાણા, દાળિયા, મમરા, રેવડી ને એવી નાની નાની ચીજો રાખે અને વેંચે. બિચારો સાંજ પડ્યે માંડ માંડ પેટજોગું રળી ખાય. પણ કોક કોક વખત એવાં એવાં કામ કરે કે એને ભલો-ભોળો કહેવો, મૂરખ કહેવો કે ગાંડો કહેવો તેની કોઈને સમજ ન પડે

એક વાર વાણિયાને હિસાબ કરતાં કરતાં બહુ મોડું થઈ ગયું. તે મોડી રાતે હાટડી બંધ કરી ઘેર જતો હતો ત્યારે તેને રસ્તામાં ચોર મળ્યા.

વાણિયો ચોરને કહે : ‘અલ્યા, મોડી રીતે ઈ કોણ છે ?’

ચોરો કહે : ‘કેમ ભાઈ ? અમે તો વેપારી છીએ. આમ ટપારે છે શાનો ?’

વાણિયો કહે : ’અલ્યા પણ અત્યારે મોડી રાતે ક્યાં ચાલ્યા ?’

ચોરો કહે : ‘જઈએ છીએ માલ ખરીદવા.’

વાણિયો કહે : ‘રોકડે કે ઉધાર ?’

ચોરો કહે : ‘રોકડે ય નહિ ને ઉધારે ય નહિ. અમે તો પૈસા દીધા વિના માલ લઈએ છીએ.’

વાણિયો કહે : ‘ત્યારે તો તમારો વેપાર બહુ સારો ! મને પણ તમારી સાથે લેશો ?’

ચોરો કહે : ‘ચાલને ભાઈ ! તને ય તે શીખવા મળશે અને ફાયદો થશે.’

વાણિયો કહે : ‘એ ઠીક. પણ વેપાર કેમ કરવો એ તો સમજાવો.’

ચોરો કહે : ‘લે લખ કાગળમાં કે કોઈના ઘરની પછીતે.’

વાણિયાએ તો ગજવામાંથી કાગળ કાઢી લખવાનું શરૂ કર્યું. કહે : ‘લખ્યું, કોઈના ઘરની પછીતે.’

ચોરો કહે : ‘લખ, હળવે હળવે કાણું પાડવું.’

વાણિયો કહે : ‘લખ્યું, હળવે હળવે કાણું પાડવું.’

ચોરો કહે : ‘ધીમે ધીમે ઘરમાં જવું.’

વાણિયો કહે : ‘લખ્યું, ધીમે ધીમે ઘરમાં જવું.’

ચોરો કહે : ‘લખ, જે જોઈએ તે ભેગું કરવું.’

વાણિયો કહે : ‘લખ્યું, જે જોઈએ તે ભેગું કરવું.’

ચોરો કહે : ‘ન ધણીને પૂછવું, ન ધણીને પૈસા આપવા.’

વાણિયો કહે : ‘લખ્યું, ન ધણીને પૂછવું, ન ધણીને પૈસા આપવા.’

ચોરો કહે : ‘લખ, જે મળે તે લઈને ઘરભેગા થઈ જવું.’

વાણિયો કહે : ‘લખ્યું, જે મળે તે લઈને ઘરભેગા થઈ જવું.’

વાણિયાએ તો ચોરોએ જેમ લખાવ્યું તેમ બરાબર લખ્યું ને લખીને કાગળ ખિસ્સામાં નાખ્યો.

પછી બધા સાથે મળીને ચોરી કરવા ચાલ્યા.

ચોરો એક ઘરમાં ચોરી કરવા ગયા તો વાણિયો તેની બાજુવાળાના ઘરમાં ચોરી કરવા ગયો.

ચોરો તો ફટાફટ પોતાનું કામ પતાવી રવાના થઈ ગયા પણ વાણિયાને જરાય ઉતાવળ નહિ. તેણે તો શાંતિથી પોતાના ખિસ્સામાંથી કાગળ કાઢી દીવાસળીનું અજવાળું કરી બરાબર ધ્યાનથી વાંચ્યો. તેમાં લખ્યું હતું :-

કોઈના ઘરની પછીતે

હળવે હળવે કાણું પાડવું

ધીમે ધીમે ઘરમાં જવું

જે જોઈએ તે ભેગું કરવું

ન ધણીને પૂછવું ન ધણીને પૈસા આપવા

જે મળે તે લઈને ઘરભેગા થઈ જવું

વાણિયા તો બરાબર કાગળમાં લખ્યા પ્રમાણે કર્યું. પહેલા પછીતે કાણું પાડ્યું, પછી હળવે હળવે ઘરમાં ગયો. પછી એક કોથળો શોધી તેમાં પિત્તળના નાના મોટા વાસણો શાંતિથી ભરવા લાગ્યો. પણ થયું એવું કે પિત્તળનું એક મોટું તપેલું કોથળામાં નાખતી વખતે તેના હાથમાંથી પડી ગયું તેના ધબાકાનો મોટો અવાજ થયો.

વજનદાર વાસણ પડવાનો અવાજ સાંભળી ઘરના બધા માણસો જાગી ગયા. રસોડામાં જઈને જૂએ તો વાણિયો ચોરી કરતો હતો. બધાંએ ‘ચોર, ચોર’ની બૂમરાણ મચાવી તેને પકડી લીધો ને પછી મારવા લાગ્યા.

વાણિયો તો વિચારમાં પડી ગયો. પણ માર ખાતાં ખાતાં પોતાના ખિસ્સાનું કાગળિયું કાઢી જેમ તેમ કરી એક વાર વાંચી લીધું.

પછી તો તે જોશમાં આવી ગયો. બધા તેને મારે તેમ કૂદતો જાય ને જોર જોરથી બોલતો જાય :

એ ભાઈ, આ તો લખ્યા બારું

એ ભાઈ, આ તો લખ્યા બારું

ઘરના માણસો વિચારમાં પડી ગયા ને મારતા અટકી જઈ કહે : ‘એલા આ શું બોલે છે ?’

વાણિયો કહે : ‘ત્યારે હું કંઈ ખોટું કહું છું ? લ્યો આ કાગળ અને વાંચો. એમાં ક્યાંય માર ખાવાનું લખ્યું છે ? આ તો તમે લખ્યા બારું કરો છો.’

પછી તો ઘરના માણસોએ કાગળ વાંચ્યો ને સમજી ગયા કે આ ભાઈમાં તો મીઠું ઓછું છે અને કોકનો ચડાવ્યો ચડી ગયો છે. એટલે વાણિયાનો હાથ પકડી ઘરની બહાર કાઢી મૂક્યો.

From
#laxmanambalia

https://www.facebook.com/laxman.ahir

Posted in रामायण - Ramayan

जब हनुमान पहुंचे रावण के कक्ष में तो अद्भुत
था वहां का दृश्य

सीता की खोज करते हुए
हनुमानजी रावण के अंत:पुर
यानी शयनकक्ष में पहुंच गए तो वहां उन्होंने रावण
की हजारों पत्नियां देखीं।
हनुमानजी ने पहले
कभी भी सीता को देखा नहीं था,
उन्हें यह मालूम
नहीं था कि सीता दिखती कैसी हैं,
इस कारण सीता को खोजने
का आसान काम नहीं था। रावण की कई
पत्नियां बहुत सुंदर
थीं और हनुमानजी जिस सुंदर
स्त्री को देखते तो यही सोचते
कि कहीं यही सीता तो नहीं हैं।
यहां जानिए हनुमान किस प्रकार
समुद्र लांघकर लंका पहुंचे और हनुमान जब रावण के
शयनकक्ष में पहुंचे तो वहां का दृश्य कैसा था…

सीता की खोज के बाद श्रीराम के
अतिप्रिय हो गए हनुमान
सीता की खोज, हनुमानजी के
इस एक काम के कारण श्रीराम
भी उनके वश में हो गए। हनुमानजी ने
लंका जाकर जिस प्रकार
अपनी बुद्धिमानी से
सीता की खोज
की थी, उससे श्रीराम
भी अतिप्रभावित हो गए थे। श्रीराम ने
हनुमानजी से
कहा भी था कि मैं तुम्हारे ऋण से
कभी भी उऋण नहीं हो पाउंगा।
मैं सदा तुम्हारा ऋणी रहुंगा।
आगे जानिए हनुमानजी के इस महत्वपूर्ण कार्य से
जुड़े कुछ
रोचक प्रसंग…

– जांबवान् ने हनुमान से कहा था रावण को मारना नहीं,
लंका को जलाना नहीं
– लंका में प्रवेश से पहले हनुमान ने हराया किन तीन
राक्षसियों कोजांबवान् ने हनुमान से कहा था रावण
को मारना नहीं,
लंका को जलाना नहीं
समुद्र लांघने से पहले हनुमान
को अपनी शक्तियों का ध्यान
नहीं था। उस समय जांबवान ने हनुमान को उनके
सामर्थ्य और
शक्तियों का स्मरण करवाया। अपनी शक्तियां याद आते
ही हनुमानजी अत्यधिक उत्तेजित हो गए
और कहने लगे
कि अब तो मैं ऐसे सैकड़ों समुद्र लांघ सकता हूं, रावण और
उसकी पूरी लंका को उखाड़कर समुद्र में
डुबो सकता हूं, रावण
को किसी मच्छर के समान मार सकता हूं।

जब हनुमान इस प्रकार की बातें करने लगे तब जांबवान
ने
सोचा कि केसरीनंदन आवश्यकता से अधिक उत्तेजित
हो गए
हैं। जांबवान ने हनुमानजी को समझाया कि हम
श्रीराम के दूत हैं
और दूत को अपनी मर्यादा में
ही रहना चाहिए। दूत को लड़ाई-
झगड़ा करने का अधिकार नहीं है। अत: तुम सिर्फ
सीता की खोज करके आना। रावण
को मारना नहीं है और
ना ही लंका को जलाना है, साथ
ही किसी को नुकसान
भी नहीं पहुंचाना है। जब तुम्हें
सीता का पता मिल
जाएगा तो स्वयं श्रीराम सेना सहित रावण
की लंका पर
आक्रमण करेंगे और उसका नाश करेंगे।
वही कीर्ति और
प्रतिष्ठा के अनुरूप होगा। अत: हनुमान तुम इस बात का ध्यान
रखना।

आगे पढ़िए इसके बाद क्या हुआ…अपनी रक्षा के लिए
कर
सकते
हैं युद्ध
जब इस प्रकार जांबवान ने समझाया तो हनुमानजी ने
प्रश्न
किया कि यदि कोई खुद आगे होकर मुझ पर प्रहार करे तब
भी युद्ध ना करूं?
इस प्रश्न के जवाब में जांबवान ने हंसकर
कहा कि अपनी आत्म रक्षा के लिए युद्ध
किया जा सकता है।
इस प्रकार बातचीत होने के बाद
हनुमानजी ने सभी से
आज्ञा ली और वे समुद्र को लांघकर
लंका की ओर उड़ चले।
हनुमानजी को लंका के रास्ते में सबसे पहले मैनाक
पर्वत मिला।
मैनाक पर्वत ने हनुमान को विश्राम करने के लिए कहा। इस
बात पर हनुमान ने कहा कि जब तक श्रीराम का काम
पूरा नहीं हो जाता, मैं विश्राम नहीं कर
सकता।

इसके बाद हनुमानजी को सुरसा नाम
की राक्षसी मिली,
जो कि सर्पों की माता थी। देवताओं ने हनुमान
की बुद्धि और
बल की परीक्षा लेने का दायित्व
सुरसा को सौंपा था। देवताओं
के मन में संशय था कि हनुमान श्रीराम के काम
को पूरा कर
पाएंगे या नहीं। इस संशय को दूर करने के लिए उन्होंने
सुरसा की मदद ली थी।इस
प्रकार समझाया सुरसा को
सुरसा ने हवा में उड़ते हुए हनुमान को रोका और कहा कि तुम
मेरा आहार हो और तुम्हें मैं खाउंगी। तब हनुमान ने
कहा कि जब
मैं लौटकर आऊं, तब खा लेना, अभी मुझे जाने दो। इस
प्रकार
कहने के बाद भी जब
सुरसा नहीं मानी तो हनुमान ने
कहा कि ठीक है अपना मुंह खोलों, मैं तुम्हारे मुंह में
प्रवेश
करता हूं।

सुरसा ने जितना बड़ा मुंह खोला, हनुमान ने उससे कई
गुना बड़ा स्वयं का आकार कर लिया। फिर सुरसा ने बड़ा मुंह
किया तो हनुमान ने भी शरीर का आकार
बड़ा कर लिया। इस
प्रकार जब सुरसा का मुंह करीब सौ योजन के बराबर
हो गया तो हनुमान ने स्वयं का रूप छोटा सा किया और वे उस
राक्षसी के मुंह में प्रवेश करके, स्पर्श करके पुन:
बाहर आ
गए। इस प्रकार हनुमानजी को खाने
की सुरसा की बात
भी पूरी हो गई और वह शांत हुई।
हनुमान की बुद्धि देखकर
सुरसा प्रसन्न हो गई और मार्ग छोड़ दिया।
इसके बाद क्या हुआ, आगे पढ़िए…छाया से
प्राणी को पकड़
लेती थी ये राक्षसी
सुरसा को हराने के बाद हनुमान के मार्ग में सिंहिका नाम
की राक्षसी आई। यह
राक्षसी मायावी थी और छाया से
किसी भी प्राणी को पकड़
लेती थी। इस प्रकार
प्राणी को पकडऩे के बाद उसे
खा जाती थी। हनुमान उसके
क्षेत्र में पहुंचते ही सारी स्थिति समझ
गए थे और
सिंहिका कुछ करती, इसके पहले ही मुक्के
के एक ही प्रहार से
सिंहिका की जीवन लीला समाप्त
कर दी।
इसके बाद मिली लंकिनी
सिंहिका को हराने के बाद हनुमान का सामना हुआ
लंकिनी से।
लंकिनी लंका की रक्षा किया करती थी।
वह बहुत
शक्तिशाली और सर्तक रहने
वाली राक्षसी थी। लंका में
प्रवेश करने के लिए हनुमान ने बहुत ही छोटा सा रूप
बनाया था,
फिर भी लंकिनी ने हनुमान को रोक लिया था।
हनुमान ने
लंकिनी को मुक्के से प्रहार किया और वह अचेत
हो गई। इसके
बाद लंकिनी ने हनुमान से कहा कि बहुत पहले
ब्रह्माजी ने मुझे
बताया था कि जब किसी वानर के प्रहार से तू अचेत
हो जाएगी,
तब समझ लेना कि लंका का अंत करीब आ गया है।
ऐसा था रावण
के शयन कक्ष का दृश्य
लंकिनी को हराने के बाद हनुमान ने लंका में प्रवेश किया।
लंका बहुत बड़ी थी। इधर-उधर देख-
देखकर हनुमान
सीता की खोज करने लगे।
काफी जगह तलाश करने के बाद
हनुमान रावण के शयनकक्ष में पहुंच गए। रावण के अंत:पुर
का दृश्य अद्भुत था। रावण स्वर्ण मंडित यानी सोने से
बने हुए
पलंग पर सो रहा था। नीचे जमीन पर शानदार
गलीचा बिछा हुआ था। इस गलीचे पर रावण
की सहस्त्रों (हजारों) पत्नियां बेसुध होकर
सो रही थीं।
किसी स्त्री का मुख खुला हुआ
था तो किसी के मुंह से लार गिर
रही थी। कोई जोर-जोर से खर्राटे ले
रही थी तो कोई
बड़बड़ा रही थी। कोई स्त्री पान
खाते-खाते सो गई
थी तो उसके मुंह से पान पीक टपक
रही थी।
रावण की सभी पत्नियां एक से बढ़कर एक
सुंदर थीं और बेसुध
होकर सो रही थीं। हनुमान उनमें एक-एक
सुंदर
स्त्री को देखकर यही सोच रहे थे
कि कहीं यही सीता तो नहीं है।
हनुमान ने सीता को देखा नहीं था, इस कारण
वे
हजारों स्त्रियों में सीता को खोज नहीं पा रहे
थे। जब हनुमान
को यह लगा कि इन स्त्रियों में
सीता नहीं है तो वे वहां से अन्य
स्थानों पर सीता को खोजने लगे।
इसके कुछ समय बाद हनुमान की भेंट
विभीषण से हुई। विभीषण
ने हनुमान को बताया कि सीता को रावण
की अशोक वाटिका में
बंदी बनाकर रखा गया है। इसके बाद हनुमान ने
सीता से भेंट की,
लंका को जलाया। श्रीराम के पास लौटकर
सीता को किस
प्रकार खोजा, पूरी कथा सुनाई। —

विक्रम प्रकाश राइसोनय

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक सज्जन बनारस पहुँचे। स्टेशन पर उतरे


एक सज्जन बनारस पहुँचे। स्टेशन पर उतरे ही थे कि एक लड़का दौड़ता आया
‘‘मामाजी ! मामाजी !’’—लड़के ने लपक कर चरण छूए।
वे पहचाने नहीं। बोले—‘‘तुम कौन ?’’
‘‘मैं मुन्ना। आप पहचाने नहीं मुझे?’’ ‘
‘मुन्ना ?’’ वे सोचने लगे।
‘‘हाँ, मुन्ना। भूल गये आप मामाजी !
खैर, कोई बात नहीं, इतने साल भी तो हो गये।’’ ‘मैं आजकल यहीं हूँ।’’
‘‘अच्छा।’’
‘‘हां।’’

मामाजी अपने भानजे के साथ बनारस घूमने लगे। चलो, कोई साथ तो मिला। कभी इस मंदिर, कभी उस मंदिर। फिर पहुँचे गंगाघाट। बोले कि सोचा रहा हूँ , नहा लूँ ‘‘जरूर नहाइए मामाजी ! बनारस आये हैं और नहाएंगे नहीं, यह कैसे हो सकता है?’’

मामाजी ने गंगा में डुबकी लगाई। हर-हर गंगे। बाहर निकले तो सामान गायब, कपड़े गायब !
लड़का…मुन्ना भी गायब !
‘‘मुन्ना…ए मुन्ना !’’
मगर मुन्ना वहां हो तो मिले। वे तौलिया लपेट कर खड़े हैं।
‘‘क्यों भाई साहब, आपने मुन्ना को देखा है ?’’ ‘‘कौन मुन्ना ?’’
‘‘वही जिसके हम मामा हैं।’’
लोग बोले ‘‘मैं समझा नहीं।’’
‘‘अरे, हम जिसके मामा हैं वो मुन्ना।’’

वे तौलिया लपेटे यहां से वहां दौड़ते रहे। मुन्ना नहीं मिला।

** ठीक उसी प्रकार ……..
भारतीय नागरिक और भारतीय वोटर के नाते हमारी यही स्थिति है मित्रो !
चुनाव के मौसम में कोई आता है और हमारे चरणों में गिर जाता है। मुझे नहीं पहचाना मैं चुनाव का उम्मीदवार। होने वाला एम.पी.।
मुझे नहीं पहचाना ……..?

आप प्रजातंत्र की गंगा में डुबकी लगाते हैं।
बाहर निकलने पर आप देखते हैं कि वह शख्स जो कल आपके चरण छूता था, आपका वोट लेकर गायब हो गया।
वोटों की पूरी पेटी लेकर भाग गया।
समस्याओं के घाट पर हम तौलिया लपेटे खड़े हैं।

सबसे पूछ रहे हैं —क्यों साहब, वह कहीं आपको नज़र आया ? अरे वही, जिसके हम वोटर हैं। वही, जिसके हम मामा हैं।
पांच साल इसी तरह तौलिया लपेटे, घाट पर खड़े बीत जाते हैं।…….

“आगामी चुनावी स्टेशन पर …………… ­ ­. भांजे आपका इंतज़ार करेंगे……
विक्रम प्रकाश राइसोनय

Posted in कविता - Kavita - કવિતા

एक अच्छी कविता प्राप्त हुई है, जो मनन योग्य है।

जाने क्यूँ,
अब शर्म से,
चेहरे गुलाब नहीं होते।
जाने क्यूँ,
अब मस्त मौला मिजाज नहीं होते।

पहले बता दिया करते थे,
दिल की बातें।
जाने क्यूँ,
अब चेहरे,
खुली किताब नहीं होते।

सुना है,
बिन कहे,
दिल की बात,
समझ लेते थे।
गले लगते ही,
दोस्त हालात,
समझ लेते थे।

तब ना फेस बुक था,
ना स्मार्ट फ़ोन,
ना ट्विटर अकाउंट,
एक चिट्टी से ही,
दिलों के जज्बात,
समझ लेते थे।

सोचता हूँ,
हम कहाँ से कहाँ आगए,
व्यावहारिकता सोचते सोचते,
भावनाओं को खा गये।

अब भाई भाई से,
समस्या का समाधान,
कहाँ पूछता है,
अब बेटा बाप से,
उलझनों का निदान,
कहाँ पूछता है,
बेटी नहीं पूछती,
माँ से गृहस्थी के सलीके,
अब कौन गुरु के,
चरणों में बैठकर,
ज्ञान की परिभाषा सीखता है।

परियों की बातें,
अब किसे भाती है,
अपनों की याद,
अब किसे रुलाती है,
अब कौन,
गरीब को सखा बताता है,
अब कहाँ,
कृष्ण सुदामा को गले लगाता है

जिन्दगी में,
हम केवल व्यावहारिक हो गये हैं,
मशीन बन गए हैं हम सब,
इंसान जाने कहाँ खो गये हैं!

इंसान जाने कहां खो गये हैं….!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

गृहस्थ धर्म की विशेषता 


गृहस्थ धर्म की विशेषता  :-

महाभारत में एक कथा आती है! एक बार अर्जुन और सुंधवा के बीच भयंकर द्वंद्व युद्ध छिड़ा। दोनों महाबली थे और युद्धविधा में पारंगत भी। घमासान लड़ाई चली। विकरालता बढ़ती जा रही थी, लेकिन निर्णायक स्थिति नहीं आ रही थी। अंतिम बाजी इस बात पर अड़ी कि फैसला आखिरी तीन बाणों में होगा।

कृष्ण को भी अर्जुन की सहायता के लिए आना पड़ा। उन्होंने हाथ में जल लेकर संकल्प किया  “गोवर्धन पर्वत उठाने और ब्रज की रक्षा करने का पुण्य मैं अर्जुन के बाण के साथ जोड़ता हूं।” इससे आग्नेयास्त्र और भी प्रचंड हो गया।

काटने का सामान्य उपाय हल्का पड़ रहा था तो सुंधवा ने भी संकल्प किया  “एक पत्नीव्रत पालने का मेरा पुण्य भी इस अस्त्र के साथ जुड़े।” दोनों अस्त्र आकाश मार्ग में चले। दोनों ने एक-दूसरे का बीच में काटने का प्रयत्न किया। अर्जुन का अस्त्र कट गया और सुंधवा का बाण आगे बढ़ा किंतु निशाना चूक गया।

दूसरा अस्त्र उठाया गया। कृष्ण ने कहा – ‘गज को ग्राह से और द्रौपदी की लाज बचाने का मेरा पुण्य अर्जुन के बाण के साथ जुड़े।”

उधर सुंधवा ने कहा – “मैंने नीतिपूर्वक ही उपार्जन किया और चरित्र की किसी पक्ष में त्रुटि नहीं आने दी हो तो इसका पुण्य इस अस्त्र के साथ जुड़े।”

इस बार भी दोनों अस्त्र आकाश में टकराए और सुंधवा के बाण से अर्जुन का तीर आकाश में ही कटकर धराशायी हो गया।

तीसरा अस्त्र शेष था। इसी पर अंतिम निर्णय निर्भर था। कृष्ण ने कहा – ‘मेरे बार-बार अवतार लेकर धरती का भार उतारनेका पुण्य अर्जुन के बाण के साथ जुड़े।” दूसरी ओर सुंधवा ने कहा – ”यदि मैंने स्वार्थ का क्षणभर चिंतन किए बिना मन को निरंतर परमार्थ में निरत रखा हो तो मेरा पुण्य बाण के साथ जुड़े।”

इस बार भी अर्जुन के तीर को काट सुंधवा का बाण विजयी हुआ। दोनों पक्षों में कौन अधिक समर्थ है, इसकी जानकारी देवलोक तक पहुंची तो देवतागण सुंधवा पर आकाश से पुष्प बरसाने लगे। युद्ध समाप्त कर दिया गया।

भगवान कृष्ण ने सुंधवा की सराहना करते हुए कहा – “नरश्रेष्ठ, तुमने सिद्ध कर दिया कि नैष्ठिक गृहस्थ साधक किसी भी तपस्वी से कम नहीं होता।” पूरी निष्ठा और सही ढंग से साधा गया गृहस्थ धर्म किस प्रकार फलता है, यह उपरोक्त प्रसंग से स्पष्ट होता है।

सुप्रभातम् सुमंगलम्। आज का दिन आपके लिए शुभ एवं मंगलमय हो ।

Posted in सुभाषित - Subhasit

शेते सुखं कस्तु समाधिनिष्ठो,
जागर्ति को वा सदसद्विवेकी ।
के शत्रव: सन्ति निजेन्द्रियाणि,
तान्येव मित्राणि जितानि यानि ॥

कौन सुख से सोता है?  – वही व्यक्ति जो परमात्मा के स्वरुप में स्थित है ।
कौन जागता है? – जिसको सत् और असत् का ज्ञान है ।शत्रु कौन है? – अपनी इन्द्रियां । परन्तु यदि वश में रक्खी जाय तो वही मित्र का काम करती है ।
॥ॐ॥