Posted in Uncategorized

करवा चौथ का जश्न महत्व और किंवदंतियॉ

महिलाओं द्वारा हर साल करवा चौथ का जश्न मनाने के पीछे कई किंवदंतियॉ, पारंपरिक कथाऍ और कहानियाँ जुड़ी है। । उनमें से कुछ के नीचे उल्लेख कर रहे हैं:

एक बार, वीरवती नामक एक सुंदर राजकुमारी थी। वह अपने सात भाइयों की इकलोती प्यार बहन थी। । उसकी शादी हो गयी और अपने पहले करवा चौथ व्रत के दौरान अपने माता पिता के घर पर ही थी। उसने सुबह सूर्योदय से ही उपवास शुरू कर दिया था। उसने बहुत सफलतापूर्वक उसका पूरा दिन बिताया हालांकि शाम को उसने बेसब्री से चंद्रोदय के लिए इंतज़ार करना शुरू कर दिया क्योंकि वह गंभीर रूप से भूख और प्यास पीड़ित थी। क्योंकि यह उसका पहला करवा चौथ व्रत था,उसकी यह दयनीय दशा उसके भाईयों के लिये असहनीय थी क्योंकि वे सब उससे बहुत प्यार करते थे। उन्होंने उसे समझाने का बहुत कोशिश की कि वह बिना चॉद देखे खाना खा ले हालांकि उसने मना कर दिया। तब उन्होंने पीपल के पेड़ के शीर्ष पर एक दर्पण से चाँद की झूठी समानता बनायी और अपनी बहन से कहा कि चंद्रमा निकल आया। वह बहुत मासूम थी और उसने अपने भाइयों का अनुकरण किया। गलती से उसने झूठे चाँद को देखा, अर्घ्य देकर उसने अपना व्रत तोङ लिया। उसे अपने पति की मौत का संदेश मिला। उसने जोर जोर से रोना शुरु कर दिया उसकी भाभी ने उसे बताया कि उसने झूठे चांद को देखकर व्रत तोड़ दिया जो उसके भाईयों ने उसे दिखाया था, क्योकि उसके भाई उसे भूख और प्यास की हालत को देखकर बहुत संकट में थे। उसका दिल टूट गया और वह बहुत ज्यादा रोई। जल्द ही देवी शक्ति उसके सामने प्रकट हुई और उससे पूछा कि आप क्यों रो रहे हो? । उसने पूरी प्रक्रिया के बारे में बताया और फिर देवी द्वारा निर्देश दिया गया कि उसे पूरी भक्ति के उसकी करवा चौथ का व्रत दोहराना चाहिए। जल्द ही व्रत पूरा होने के बाद, यमराज को उसके पति के जीवन वापस करने के लिए मजबूर किया गया।
.
कहीं कहीं यह माना जाता है, पीपल के पेड़ के शीर्ष पर एक दर्पण रखकर एक झूठे चाँद बनाने के बजाय रानी वीरवती के भाईयों ने(अपनी बहन को झूठा चन्द्रमा दिखाने के लिये) पर्वत के पीछे बहुत बडी आग लगायी। उस झूठी चाँद चमक के बारे में (पहाड़ के पीछे एक बड़ी आग) उन्होंने अपनी बहन को बहन राजी कर लिया। उसके बाद उसने बड़ी आग के झूठे चंद्रमा को देखकर अपना उपवास तोड़ दिया और उसे संदेश मिला कि उसने अपने पति को खो दिया। वह अपने पति के घर की ओर भागी हालांकि मध्य रास्ते में, शिव-पार्वती उसे दिखाई दिये और उसे उसके भाइयों के सभी प्रवंचनाके बारे में बताया। उसे तब देवी द्वारा बहुत ही ध्यान से उसे फिर से उपवास पूरा करने के लिए निर्देश दिये गये। उसने वैसा ही किया और उसे उसका पति वापस मिल गया।
.
इस त्योहार का जश्न मनाने के पीछे एक और कहानी सत्यवान और सावित्री का इतिहास है। एक बार, यम सत्यवान के पास उसकी जिंदगी हमेशा के लिए लाने के लिये पहुंच गये। सावित्री उस के बारे में पता चला, तो उसने अपने पति का जीवन देने के लिए यम से विनती की लेकिन यम से इनकार कर दिया। तो उसने अपने पति का जीवन पाने के लिये बिना कुछ खाये पीये यम का पीछा करना शुरु कर दिया। यम ने उसे अपने पति के जीवन के बदले कुछ और वरदान माँगने को कहा। वह बहुत चालाक थी उसने यमराज से कहा कि वह एक पतिव्रता स्त्री है और अपने पति के बच्चों की माँ बनना चाहती है। यम को उसके बयान ने सहमत होने के लिए मजबूर कर दिया और उसे उसके पति के साथ लंबी उम्र का आशीर्वाद दिया।
.
एक बार करवा नामक एक औरत थी, जो अपने पति के लिए पूर्ण रुप से समर्पित थी जिसके कारण उसे महान आध्यात्मिक शक्ति प्रदान की गयी। एक बार, करवा का पति नदी में स्नान कर रहा था और तभी अचानक एक मगरमच्छ ने उसे पकड़ लिया। उसने मगरमच्छ बॉधने के लिए एक सूती धागे का इस्तेमाल किया और यम को मगरमच्छ को नरक में फेंकने के लिए कहा। यम ने ऐसा करने से इनकार कर दिया,हांलाकि उन्हें ऐसा करना पडा क्योंकि उन्हें पतिव्रता स्त्री करवा के शाप लगने का भय था। उसे उसके पति के साथ लम्बी आयु का वरदान दिया। उस दिन से, करवा चौथ का त्यौहार भगवान से अपने पति की लंबी उम्र पाने के लिए आस्था और विश्वास के साथ महिलाओं द्वारा मनाना शुरू किया गया।
.
महाभारत की कथा इस करवा चौथ उत्सव को मनाने के पीछे एक और कहानी है। बहुत पहले, महाभारत के समय में, अर्जुन की अनुपस्थिति में जब वो (कौन वो) नीलगिरी पर तपस्या के लिए दूर गया हुआ था तब पांड़वो को द्रौपदी सहित कई समस्याओं का सामना करना पड़ा था। द्रौपदी ने भगवान कृष्ण से मदद के लिये प्रार्थना कि तब उसे भगवान द्वारा देवी पार्वती और भगवान शिव की एक पूर्व कथा का स्मरण कराया गया। उसे भी उसी तरह करवा चौथ का व्रत पूर्ण करने की सलाह दी गयी। उसने सभी रस्मों और र्निदेशों का पालन करते हुये व्रत को पूर्ण किया। जैसे ही उसका व्रत पूरा हुआ, पांड़वों सभी समस्याओं से आजाद हो गये।
पहला करवा चौथ

करवा चौथ का त्यौहार नव विवाहित हिन्दू महिलाओं के लिये बहुत महत्व रखता है।यह उसकी शादी के बाद पति के घर पर बहुत बङा अवसर होता है। करवा चौथ के अवसर के कुछ दिन पहले से ही वह और उसके ससुराल वाले बहुत सारी तैयारियॉ करते है। वह सभी नयी वस्तुओं से इस प्रकार तैयार होती है जैसे उसकी उसी पति से दुबारा शादी हो रही हो। सभी ( मित्र, परिवार के सदस्य, रिश्तेदार और पङोसी) एक साथ इकट्ठे होकर इसे त्यौहार की तरह मनाते है। उसे उसके विवाहित जीवन में समृद्धि के लिये अपने पति, मित्रों, परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों और पङोसियों से बहुत सारे आशीर्वाद और उपहार मिलते है।

उसे अपनी पहली करवा चौथ पर अपनी सास से पहली सरगी मिलती है। पहली सरगी में साज सज्जा का सामान, करवा चौथ से एक दिन पहले का खाना और अन्य बहुत सारी वस्तुऍ ढेर सारे प्यार और खुशहाल जीवन के लिये आशीर्वाद शामिल होता है।वह आशीर्वाद पाने के लिये घऱ के बङों और रिश्तेदारों के पैर छूती है।

पहला बाया देने की भी प्रथा है। यह सूखे मेवे, उपहार, मीठी और नमकीन मठरी, मिठाई, कपङे, बर्तन आदि का समूह होता है, लङकी की माँ द्वारा लङकी की सास और परिवार के अन्य सदस्यों के लिये भेजा जाता है। यह एक बेटी के लिये बहुत महत्वपूर्ण होता है जो पहली करवा चौथ पर इसका बेसब्री से इंतजार करती है। करवा चौथ की पूजा के बाद पहला बाया सभी परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों और पङोसियों के बीच बॉटा जाता है।

अंत में, नविवाहित दुल्हन को अपने पति से रात्री भोजन के समय चन्द्रोदय के समारोह के बाद बहुत ही खास उपहार मिलता है। इस दिन उनके बीच प्यार का बंधन मजबूती के साथ बढता है, पति अपनी प्रिय पत्नी के लिये बहुत गर्व महसूस करते है क्योंकि वे उनके लिये बहुत कठिन व्रत रखती है। वे अपनी पत्नी को बहुत सारा प्यार और सम्मान देते है और बहुत सारी देखभाल औऱ करवा चौथ के उपहार द्वारा उन्हें खुश रखते है। इस दिन वे अपनी पत्नी को पूर्ण आनन्द करने और स्वादिष्ट भोजन करने कराने के लिये किसी अच्छी दिलचस्प जगह लेकर जाते है जिस से कि कम से कम साल में उन्हें एक दिन के लिये घर की जिम्मेदारियों से आराम मिलें।

करवा चौथ व्रत विधि

करवा चौथ व्रत को करक चतुर्थी व्रत के नाम से भी जाना जाता है जोकि विवाहित महिलाओं के लिये बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार है विशेष रुप से पंजाब, मध्य प्रदेश, राजस्थान और यू0 पी0 में। यह कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष के चौथे दिन पपडता है। इस व्रत के दौरान, महिलाऍ देवी पार्वती, भगवान गणेश और चन्द्रमा की पूजा करती है। यह व्रत बिना पानी के अर्थात् “ र्निजला व्रत” है हालाकिं, कुछ औरतें (गर्भवती और अस्वस्थ महिलाऍ) इसे दूध, फल, मेवा, खोया आदि लेकर भी व्रत रखती है। इस व्रत में पूरी पूजा प्रक्रिया के दौरान भगवान के लिये दिल से समर्पण, आस्था और विश्वास की आवश्यकता है। देवी देवताओं को समर्पित करने के लिये खीर, पूआ, दहीवडा, दने की दाल की पूङी, गुङ का हलवा आदि बनाया जाता है। पूजा पूर्व की ओर चेहरा करके की जानी चाहिये, और देवा देवताओं की मूर्ति का चेहरा पश्चिम की ओऱ होना चाहिये। ऐसा माना जाता है कि इस दिन दान दक्षिणा देने से बहुत सारी शान्ति, सुरक्षा, पति के लिये लंबे जीवन, धन और घर के लिये बेटा के साथ साथ पूजा करने वाले की अन्य इच्छाओं की पूर्ति होती है। यह माना जाता है कि पूजा का उद्देश्य करक का दान और चन्द्रमा को अर्घ्य देकर ही पूरा होता है।

करवा चौथ व्रत कथा

करवा चौथ का व्रत रखने वाली महिलाओँ के लिये करवा चौथ व्रत कथा सुनने का बहुत महत्व है।बिना कथा सुने, व्रत पूरा नहीं माना जाता है। करवा चौथ व्रत की बहुत सारी कथाऍ है, जिसमें से विवाहित महिलाओं को व्रत के पूजा समारोह के दौरान एक कथा सुनना आवश्यक है । कुछ व्रत कथा और कहानियों का शीर्षक “करवा चौथ उत्सव का महत्व और किंवदंतियॉ” के तहत उल्लेख किया गया हैं।

करवा चौथ पूजा की प्रक्रिया

करवा चौथ से एक दिन पहले विवाहित महिलाऍ बहुत सारी तैयारियॉ करती है क्योंकि अगले दिन उसे बिना भोजन और पानी के पूरे दिन व्रत रखना होता है। वह बहुत सुबह सूरज निकलने से पहले ही कुछ खा लेती है और पानी पी लेती है क्योंकि उन्हें अपना पूरा दिन बिना कुछ खाये बिताना होता है। सुबह से दोपहर तक वह त्यौहार की बहुत सी गतिविधियों में व्यस्त रहती है जैसे हाथों और पैरों पर मेंहदी लगाना, खुद सजना, पूजा की थाली तैयार करना( सिन्दूर, फूल, कुमकुम, चावल के दानें, घी का दिया, धूपबत्ती और अन्य पूजा सामग्री के साथ) और अपने सगे सम्बधिंयों से मिलना आदि।

पूजा शुरु होने से पहले, निम्नलिखित पूजा की सामग्री एकत्र करने जरुरत होती है,गणेश जी, अम्बिका गौरी माँ, श्री नन्दीश्वर, माँ पार्वती, भगवान शिव जी और श्री कार्तिकेय की मूर्ति। पूजा का सामान (जैसे करवा या धातु के बर्तन, धूप, दीप, कपूर, सिंदूर, घी दीया, रोली, चंदन, काजल, फल, मेवा, मिठाई, फूल और माचिस) को इकट्ठा करने का जरुरत होती है।

शाम को नहाकर, तैयार होकर, वे अपने पङोसियों और मित्रों के यहॉं करवा चौथ की कहानी सुनने के लिये जाती है।समुदाय या समाज की विवाहित महिलाऍ एक साथ होकर जैसे बगीचे, मंदिर या किसी के घर आदि एक आम जगह पर पूजा की व्यवस्था करती है। बड़ी महिलाओं में से एक करवा चौथ की कहानी सुनाना शुरू करती है। केंद्र में एक विशेष मिट्टी का गेहूं अनाज से भरा बर्तन(भगवान गणेश के प्रतीक के रूप में माना जाता है), पानी से भरा एक धातु का बर्तन , कुछ फूल, माता पार्वती की मूर्ति के साथ में रखने के लिए, अंबिका गौर माता, मिठाई, मठ्ठी, फल और खाद्य अनाज। देवी के लिये अर्पित सभी वस्तुओं का छोटा सा भाग कथावाचक के लिये रखा जाता है।

पहले मिट्टी और गाय के गोबर का प्रयोग करके गौर माता की मूर्ति बनाने की रिवाज थी, हालाकिं इन दिनों, महिलाऍ देवी पार्वती की धातु या कागज मूर्ति रखती है। सभी महिलाएं कथा या कहानी सुनने से पहले थाली में मिट्टी का दीपक जलाती है। महिलाऍ रंगीन साड़ी पहनती हैं और खुद को उनकी शादी की लाल या गुलाबी चुनरी के साथ ढकती है। वे पूजा गीत गाती हैं और आशीर्वाद के लिए भगवान और देवी से प्रार्थना करती हैं। वे सात बार एक घेरे में एक दूसरे को अपनी पूजा थाली को स्थानांतरित करती है और गीत गाती हैं। पूजा पूरी हो जाने के बाद, हर कोई अपनी पूजा थाली के साथ अपने घर के लिए चली जाती है और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए परिवार में बड़ें, पड़ोसियों और रिश्तेदारों के पैर छूती है।

चंद्रोदय समारोह

महिलाऍ चंद्रोदय समारोह की रस्म के लिए अपनी पूजा थाली को तैयार करती है। पूजा थाली में घी का दीया, चावल के दाने, पानी भरे बर्तन, माचिस, मिठाई, पानी का एक गिलास और एक छलनी शामिल है। एक बार आकाश में चंद्रमा उगने के बाद, महिलाऍ चाँद देखने के लिए अपने घरों से बाहर आती है। सब से पहले वे चन्द्रमा को अर्घ्य देती है, चाँद की ओर चावल के दाने डालती है, छलनी के अन्दर घी का दिया रखकर चॉद को देखती है। वे अपने पतियों की समृद्धि, सुरक्षा और लंबे जीवन के लिए चंद्रमा से प्रार्थना करती हैं। चाँद की रस्म पूरी करने के बाद, वे अपने पति,सासु मॉ और परिवार अन्य बडों के पैर छू कर सदा सुहागन और खुशहाल जीवन का आशीर्वाद लेती हैं। कहीं कहीं चाँद को सीधे देखने के स्थान पर उसकी परछाई को पानी में देखने का रिवाज है। पैर छूने के बाद, पति अपने हाथों से अपनी पत्नी को मिठाई खिलाकर पानी पिलाता है।

करवा चौथ के उपहार

करवा चौथ के बहुत सारे उपहार पति, माँ, सासु माँ और परिवार के अन्य सदस्यों और मित्रों द्वारा उन महिलाओं को विशेष रुप से दिये जाते है जो अपना पहला करवा चौथ का व्रत रखती है। यह माना जाता है कि करवा चौथ का व्रत बहुत कठिन है,बिना कुछ खाये पीये पूरा दिन व्यतीत करना पडता है। यह हर विवाहित महिला के लिए अपने पति के लिए उपवास रखकर उनसे कुछ खूबसूरत और महंगे तोहफे पाने जैसे आभूषण, चूड़ियाँ, साड़ी, लहंगे, फ्रॉक सूट, नए कपड़े, और मिठाई और अन्य पारंपरिक उपहार पाने का सुनहरा मौका होता है। महिलाऍ बहुत सारे प्यार और स्नेह के साथ अविस्मरणीय उपहार प्राप्त करती है जो खुशी के साथ साथ उनके पति के साथ उनके रिश्ते को मजबूती प्रदान करता है।

प्रसाद देवरानी

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s