Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

मध्यकालीन भारत और आधुनिक भारत के टॉप मोस्ट 5 गद्दार..


मध्यकालीन भारत और आधुनिक भारत के टॉप मोस्ट 5 गद्दार…..*

 

यू तो हमारे बच्चों के इतिहास की किताबों में यह चैप्टर होना चाहिए था…

ताकि आने वाली पीढ़ी इन गद्दारो को जान पाती समझ पाती…

खैर …छोड़िये

आप इस आर्टिकल को पढ़िए और अपने बच्चों को बताइये।

 

 

❌भारतीय इतिहास के ये #5 गद्दार कभी भुलाए नहीं जा सकते

 

 

 

#712 AD में इस्लामिक आक्रमणकारी भारत में आने शुरू हुए और #1600 में अंग्रेज व्यापार के नाम पर भारत आये.

जिस कारण भारत लगातार विदेशियों के निशाने पर था.

 

बेशक भारत पूर्ण गुलाम कभी न हुआ और कभी कोई क्षेत्र गुलाम होता था तो कभी कोई आजाद भी करवा लिया जाता था.

 

मगर इस दौरान विदेशियों को समर्थन मिला भारत के अंदर छिपे बैठे कुछ गद्दारों का,

जिन्होंने अपना जमीर गिरवी रख कर अपने ही देश के साथ गद्दारी की.

 

कहा जा सकता है कि अगर ये गद्दार न होते तो आज भारत का इतिहास गुलामी की जंजीरों की बजाय समृद्धि की कथा कहता. इन्हीं में से 5 गद्दारों के बारे में आज हम जानेंगे ….!!

 

 

❌1) *#जयचंद*

जब-जब इतिहास के पन्नों में राजा पृथ्वीराज चौहान का नाम लिया जाता है,

तब-तब उनके नाम के साथ एक नाम और जुड़ता है, वो नाम है जयचंद. किसी भी धोखेबाज, गद्दार या देश द्रोही के लिए जयचंद का नाम तो मानो मुहावरे की तरह प्रयोग किया जाता है.

 

साथ ही जयचंद को लेकर तो एक मुहावरा खूब चर्चित है कि… “जयचंद तुने देश को बर्बाद कर दिया गैरों को लाकर हिंद में आबाद कर दिया…”

 

बता दें कि जयचंद कन्नौज का साम्राज्य का राजा था.

बेशक पृथ्वीराज चौहान और राजा जयचंद की दुश्मनी बहुत पुरानी थी और उन दोनों के बीच कई बार भयंकर युद्ध भी हो चुके थे.

बावजूद इसके पृथ्वीराज ने जयचंद की पुत्री संयोगिता से विवाह रचाया था.

मगर जयचंद अब भी अंदर ही अंदर पृथ्वीराज को दुश्मन मानता था और मौके की तलाश में रहता था.

एक बार जयचंद को पता चला कि मोहम्मद गौरी भी पृथ्वीराज से अपनी हार का बदला लेना चाहता है.

 

जयचंद ने दिल्ली की सत्ता के लालच में मोहम्मद गौरी का साथ दिया और युद्ध में गौरी को अपनी सेना देकर पृथ्वीराज को हरा दिया.

मगर युद्ध जीतने के बाद गौरी ने राजा जयचंद को भी मार दिया✔

और उसके बाद गौरी ने कन्नौज और दिल्ली समेत कई अन्य राज्यों पर कब्जा कर लिया. जयचंद ने सिर्फ पृथ्वी राज को ही धोखा नहीं दिया

बल्कि समस्त भारत को धोखा दिया क्यूंकि गौरी के के बाद देश में इस्लामिक आक्रमणकारी हावी होते चले गये थे.

 

 

 

❌2) *#मानसिंह*

पृथ्वी राज चौहान और महाराणा प्रताप में कौन अधिक महान इस पर चर्चाएँ कितनी भी हो सकती है,

वहीं उनके समकालीन राजद्रोही मानसिंह और जयचंद के बीच भी गद्दारी की क्षमता में मुकाबला कड़ा मिलेगा.

 

एक तरफ जहाँ महाराणा प्रताप संपूर्ण भारत वर्ष को आज़ाद कराने के लिए दर-दर भटक रहे थे और जंगलो में रहकर घास की रोटियां खाकर देश को मुगलों से बचाने की कोशिश कर रहे थे तो

वहीं मानसिंह मुगलों का साथ दे रहे थे.

 

राजा मानसिंह मुगलों के सेना प्रमुख थे और वह आमेर के राजा थे.

यही नहीं महाराणा प्रताप और मुगलों की सेना के बीच लड़े गए हल्दी घाटी के युद्ध में वो मुगल सेना के सेनापति भी बने थे,

मगर महाराणा ने मान सिंह को मार कर उसकी गद्दारी की सजा उसे दी थी.

 

मानसिंह की गद्दारी के कारण एक बार महाराणा इतने घायल हो गये थे कि उन्हें बचकर जंगलों में काफी समय गुजारना पड़ा था. मगर इस दौरान एक वीर योद्धा की तरह उन्होंने अपने अंदर ज्वाला जलाए रखी थी.

 

उन्होंने घास की रोटी तक खानी पड़ी, मगर उनके अंदर अकबर के साथ मानसिंह को लेकर भी ज्वाला भभक रही थी. बस जब वो योजनाबद्ध तरीके के साथ जंगल से बाहर आये और अपनी सेना को इक्कठा कर फिर से युद्ध किया तो उन्होंने हल्दी घाटी में अकबर को पटखनी दे दी,

जिसके बाद अकबर कई साल तक छिप कर रहा था.

 

 

 

❌3) *#मीर जाफ़र, #मीर कासिम, #टीपू सुल्तान और #मीर सादिक*

वैसे तो किसी को गद्दार कहने के लिए इस्लामिक कट्टरपंथी काफी है,

मगर मीर जाफ़र कहना भी कम नहीं होता है.

क्यूंकि उसी के राज को भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवाद की शुरुआत माना जाता है.

 

मीर जाफर ने अंग्रेजों की मदद से बैटल ऑफ़ प्लासी में रोबर्ट क्लाइव के साथ मिल कर जाफ़र ने अपने ही राजा सिराजुद्दौला को धोखा दिया था

और भारत में अंग्रेजों की पूर्ण नींव रखी थी.

 

मीर जाफ़र वर्ष #1757 से #1760 तक बंगाल के नवाब रहा था.

माना जाता है कि इसी घटना के बाद भारत में ब्रिटिश राज की स्थापना की शुरुआत माना जाता है.

 

मगर मीर जाफर को हटाने के लिए अंग्रेजों ने एक और गद्दार का सहारा लिया,

वो था मीर कासिम.

 

मगर मीर कासिम जब तक समझ पता कि उसने अंग्रेजों का साथ देकर गलती की,

तब तक उसे भी मार दिया गया.

 

मीर कासिम को #1764 में बक्सर के युद्ध में अंग्रेजों ने मार गिराया.

 

टीपू सुल्तान दक्षिण भारत का औरंगजेब था.

वो हिन्दुओं पर बहुत अत्याचार करता था. ✔

 

मगर हर बार की तरह एक इस्लामिक शासन में एक मुस्लिम द्वारा ही खंजर घोंपने की प्रथा जारी थी

और मीर सादिक नामक उसके एक मंत्री ने अंग्रेजों का साथ देकर उसके साथ गद्दारी की.

और दक्षिण भारत में अंग्रेजों का आगमन हुआ क्यूंकि मीर सादिक को अंग्रेजों ने आसानी से अपने रास्ते से हटा दिया.

 

 

 

❌4) *#फणीन्द्र नाथ घोष*

वैसे इस कड़ी में फणीन्द्र नाथ घोष नामक उस गद्दार का नाम सबसे ऊपर माना जायेगा जिसने सैण्डर्स-वध कांड और असेम्बली बम कांड में

भगत सिंह के खिलाफ गवाही दी थी

और *इसी गवाही के आधार पर*

*भगत सिंह,*

*राजगुरू एवं*

*सुखदेव को*

*आरोपी बनाकर उन्हें फांसी की सज़ा सुनाई गई.*

 

फणीन्द्र नाथ घोष ने ही *सरकारी गवाह के तौर पर पंडित आज़ाद के शव की शिनाख्त* की थी.

लेकिन घोष की गद्दारी से गुस्साए भगत सिंह के साथी जो जेल में डाल दिए गये,

योगेन्द्र शुक्ल व

गुलाब चन्द्र गुलाली #1932 में दीवाली की रात खुफिया तरीक़े से भाग निकले.

 

जेल से निकलते ही उन्होंने गद्दार फणीन्द्र नाथ घोष को सज़ा देने की क़सम खा ली.

 

इस क़सम को पूरा किया योगेन्द्र शुक्ल के भतीजे बैकुंठ शुक्ल ने, जिसने खुखरी से घोष को मार डाला.

वार इतने जानलेवा थे कि घोष चीखें मारता ज़मीन पर लोट गया.

बेतिया अस्पताल में क़रीब सप्ताह भर ज़िन्दगी व मौत के बीच जूझते हुए फणीन्द्र नाथ घोष की कहानी ख़त्म हो गयी.

 

बेशक बैकुंठ शुक्ल #6 जुलाई, #1933 को हाजीपुर पुल के सोनपुर वाले छोर से गिरफ़्तार कर लिए गए और

फांसी पर लटका दिए गये.

मगर वे अपना काम बखूबी कर चुके थे.

 

 

 

❌5) *#कांग्रेस👹*

गद्दारी की बात हो और भारत की सबसे पुरानी पार्टी को भूल जाएँ, ऐसा असंभव है.

कोई एक नेता की बात हो तो नाम लिया जाए,

मगर जिस पार्टी के नेताओं ने समय समय पर देश और हिन्दुओं की पीठ में खंजर घोंपा,

 

उसमें किसी एक व्यक्ति का नाम लेना बाकियों के साथ अन्याय होगा.

 

*इसलिए #1885 में स्थापना से लेकर आज तक कांग्रेस के नेताओं का इतिहास दागदार रहा है,*

जिसमें नेहरु से लेकर गांधी तक सब नेताओं के दामन हिन्दुओं और देशवासियों के खून से सटे हुए हैं…

 

कांग्रेस की देश को जो देन है वह मुख्यतः

यह है –

  1. 1947 में देश विभाजन,
  2. कश्मीर समस्या और
  3. 1962 में चीन से लड़ाई में भारत की पराजय…

 

*देश के बँटवारे वाले प्रमाणपत्र पर हस्ताक्षर नेहरू के थे,*

सुभाष चंद्र बोस की गुमनामी पर चुप्पी साधने वाले नेहरू थे

और इतिहास में कहा तो ये भी जाता है कि

*चंद्रशेखर आजाद को यदि किसी नें छल से मरवाया तो वे नेहरू ही थे,*

क्यूंकि माना जाता है कि अंत समय में आजाद नेहरु से ही मिले थे जिसके बाद अंग्रेजो ने उन्हें घेर लिया और जिसके बाद उन्हें खुद को गोली मारनी पड़ी.. !!

 

*जागो भारत जागो !! 🚩🚩*

Advertisements

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s