Posted in Kavita - કવિતા

*सोलह श्रृंगार*

सीता जी ने पूछा मैया से

बताओ —- माँ एक सार !

विवाहोपरांत — हर नारी

क्यों करती सोलह श्रृंगार!!
मैया ने —–मीठी वाणी में 

समझाई ——- हर बात !

सोलह श्रृंगार से पूर्ण होती

धरा पर ——- नारी जात !!
मेंहदी —को हर समय

अपने हाथों में रचाना !

कर्मो  की  लालिमा से

सारा जग — महकाना !!
आँखों में प्रेम बसा कर

काजल  उनमें लगाना !

भलै सम्पति खो जाये

पर , शील जल बचाना!!
सूर्य की भाँति प्रकाशवान हो

छोड़ देना — शरारत — जिद्दी !

इसिलिए तो —- नारी लगाये 

अपने माँथे पर ——- बिन्दी !!
मन को  काबू में  करके 

लगा देना उस पर लगाम !

नारी की नाक की नथनी

देती है – यह सुंदर पैगाम !!
बूरे कर्म से परहेज करना

यश कमाना —- भरपूर !

पतिव्रत धर्म का  पालन 

यह सिखलाता है -सिंदूर !!
खुद की प्रशंसा सुनने की

मत करना तुम —- भूल !

हर  हाल  में खुश  रहना 

शिक्षा यह देता कर्णफूल !!
सबके मन को मोहने वाले

कर्म करना तू —— बाला !

सुख – दुख में –सम रहना 

यह सीख देती मोहन माला !!
सीघा-सादा जीवन रखना

मत करना तुम —– फंद !

इसिलिए तो — नारी बाँधे

अपने हाथ में — बाजूबंद !!
कभी किसी में छल न करना

रुपया हो या ——– गल्ला !

कमर में — लटकाये रखना

अपना ——— सुंदर छल्ला !!
बड़े – बूढ़ो की सेवा करके

कर देना उनको — कायल !

घर-आँगन छनकाती रहना 

अपने पैरों की —– पायल !!
छोटो को  आशीष  देना

खबरदार-जो उनसे रुठी !

हाथों की –अँगुलियों में 

पहने रखना —- अँगूठी !!
परिवार को बिछड़ने न देना

रखना सबको ——- साथ !

पैरों की बिछिया — प्यारी

बतलाती ——- यह बात !!
कठोर वाणी का त्याग कर

करना सबका —- मंगल !

जीवन को – रंगो से भरना 

पहने रखना —— कंगन !!
कमरबंद की  भाँति तुम

सेवा में ——- बँध जाना !

पति के संग – –संग तुम

पूरे परिवार को अपनाना !!
R K Neekhara.

Advertisements

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s