Posted in Srimad Bhagvat Geeta

श्रीमद्भगवद्गीता के ३८ अनमोल वचन


*श्रीमद्भगवद्गीता के ३८ अनमोल वचन !* 🙏🏼

https://www.facebook.com/Indori-Bhiya-198863710293892/
🌸📖🌸

*भगवान श्रीकृष्ण के अनमोल विचार….☝🏼🌸*

*श्रीमद्भगवद्गीता* एक ऐसा ग्रन्थ है जिसमे जीवन का पूरा सार दिया हुआ है. मनुष्य के जन्म लेने से मृत्यु के बाद के चक्र को *श्रीमद्भगवद्गीता* में विस्तार से बताया गया है. मनुष्य के सांसारिक माया – मोह से निकलकर मोक्ष की प्राप्ति का सूत्र गीता में मौजूद है.

महाभारत के युद्ध में *श्री कृष्ण* ने अर्जुन के द्वारा पूरे संसार को ऐसा ज्ञान दिया जिसे अपनाकर कोई व्यक्ति इस संसार में परम सुख और शांति से अपना जीवन व्यतीत कर सकता है.

*०१*: हमेशा आसक्ति से ही कामना का जन्म होता है.

*०२*: जो व्यक्ति संदेह करता है उसे कही भी ख़ुशी नहीं मिलती.

*०३*: जो मन को रोक नहीं पाते उनके लिए उनका मन दुश्मन के समान है.

*०४*: वासना, गुस्सा और लालच नरक जाने के तीन द्वार है.

*०५*: इस जीवन में कुछ भी व्यर्थ नहीं होता है.

*०६*: मन बहुत ही चंचल होता है और इसे नियंत्रित करना कठिन है. परन्तु अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है.

*०७*: सम्मानित व्यक्ति के लिए अपमान मृत्यु से भी बदतर होती है.

*०८*: व्यक्ति जो चाहे वह बन सकता है अगर वह उस इच्छा पर पूरे विश्वास के साथ कर्म करे.

*०९*: जो वास्तविक नहीं है उससे कभी भी मत डरो.

*१०*: हर व्यक्ति का विश्वास उसके स्वभाव के अनुसार होता है.

*११*: जो जन्म लेता है उसकी मृत्यु भी निश्चित है. इसलिए जो होना ही है उस पर शोक मत करो.

*१२*: जो कर्म प्राकृतिक नहीं है वह हमेशा आपको तनाव देता है.

*१३*: तुम मुझमे समर्पित हो जाओ मैं तुम्हे सभी पापो से मुक्त कर दूंगा.

*१४*: किसी भी काम को नहीं करने से अच्छा है कि कोई काम कर लिया जाए.

*१५*: जो मुझसे प्रेम करते है और मुझसे जुड़े हुए है. मैं उन्हें हमेशा ज्ञान देता हूँ.

*१६*: बुद्धिमान व्यक्ति ईश्वर के सिवा और किसी पर निर्भर नहीं रहता.

*१७*: सभी कर्तव्यो को पूरा करके मेरी शरण में आ जाओ.

*१८*: ईश्वर सभी वस्तुओ में है और उन सभी के ऊपर भी.

*१९*: एक ज्ञानवान व्यक्ति कभी भी कामुक सुख में आनंद नहीं लेता.

*२०*: जो कोई भी किसी काम में निष्क्रियता और निष्क्रियता में काम देखता है वही एक बुद्धिमान व्यक्ति है.

*२१*: मैं इस धरती की सुगंध हूँ. मैं आग का ताप हूँ और मैं ही सभी प्राणियों का संयम हूँ.

*२२*: तुम उस चीज के लिए शोक करते हो जो शोक करने के लायक नहीं है. एक बुद्धिमान व्यक्ति न ही जीवित और न ही मृत व्यक्ति के लिए शोक करता है.

*२३*: मुझे कोई भी कर्म जकड़ता नहीं है क्योंकि मुझे कर्म के फल की कोई चिंता नहीं है.

*२४*: मैंने और तुमने कई जन्म लिए है लेकिन तुम्हे याद नहीं है.

*२५*: वह जो मेरी सृष्टि की गतिविधियों को जानता है वह अपना शरीर त्यागने के बाद कभी भी जन्म नहीं लेता है क्योंकि वह मुझमे समा जाता है.

*२६*: कर्म योग एक बहुत ही बड़ा रहस्य है.

*२७*: जिसने काम का त्याग कर दिया हो उसे कर्म कभी नहीं बांधता.

*२८*: बुद्धिमान व्यक्ति को समाज की भलाई के लिए बिना किसी स्वार्थ के कार्य करना चाहिए.

*२९*: जब व्यक्ति अपने कार्य में आनंद प्राप्त कर लेता है तब वह पूर्ण हो जाता है.

*३०*: मेरे लिए कोई भी अपना – पराया नहीं है. जो मेरी पूजा करता है मैं उसके साथ रहता हूँ.

*३१*: जो अपने कार्य में सफलता पाना चाहते है वे भगवान की पूजा करे.

*३२*: बुरे कर्म करने वाले नीच व्यक्ति मुझे पाने की कोशिश नहीं करते.

*३३*: जो व्यक्ति जिस भी देवता की पूजा करता है मैं उसी में उसका विश्वास बढ़ाने लगता हूँ.

*३४*: मैं भूत, वर्तमान और भविष्य के सभी प्राणियों को जानता हूँ लेकिन कोई भी मुझे नहीं जान पाता.

*३५*: वह सिर्फ मन है जो किसी का मित्र तो किसी का शत्रु होता है.

*३६*: मैं सभी जीव – जंतुओ के ह्रदय में निवास करता हूँ.

*३७*: चेतन व अचेतन ऐसा कुछ भी नहीं है जो मेरे बगैर इस अस्तित्व में रह सकता हो.

*३८*: इसमें कोई शक नहीं है कि जो भी व्यक्ति मुझे याद करते हुए मृत्यु को प्राप्त होता है वह मेरे धाम को प्राप्त होता है.

🌸 *ऊं नमो: भगवते वासुदेवाय* 🌸

Advertisements

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s