Posted in काश्मीर - Kashmir

पत्थरबाजों का समर्थन दिखा रहा है ख़ूनी रंग. श्रीनगर मस्जिद के बाहर DSP की पीट – पीट कर हत्या…

डीएसपी मोहम्मद अयूब पंडित मस्जिद के बाहर ड्यूटी कर रहे थे, तभी उन पर भीड़ ने हमला किया…

न्यूज़ चैनल वाले DSP के परिवार वालो के मुह में माइक डालकर सवाल पूछ रहे थे …..

रोते हुए एक महिला के मुहँ से सच निकल गया ….

उस महिला ने बुर्खे के अन्दर से बोला ” भीड़ ने मेरे अयूब को “पंडित” समझकर पिट डाला वो उसको मुखबिर समझ रहे थे …..

पहले अयूब से पूछ लेते वो तो वहां नमाज पढने गया था …. 

अगर भीड़ सिर्फ नाम में “पंडित” होने पर ही आपको पीटकर मार डालती है तो इसका मतलब आप समझ सकते हो 

कश्मीर में “कश्मीरी पंडितो ” की हालात हुई होगी…..

मुसलमान को ‘हिन्दू’ समझकर मुसलमानों ने मार डाला वह भी मस्जिद के सामने … 
अब क्या होगा ..?

.

और उस पर उस मुसलमान की माँ कह रही है की पूंछ तो लेते “”हिन्दू”” है की नहीं….
अखलाक को भीड ने माराऔरDSPअयूब को भी,तब फिर अखलाक ही अकेला मासूम क्यो

एकविचार

क्या मासूमियत भी मरने व मारने वाले के धर्म से तय होगी

यदि मुस्लिम समुदाय के लिए रमजान एक पाक महिना है तो फिर इस महीने में जिस तरह DSP का खून बहाया गया उस पर अभी तक किसी मुस्लिम धर्म गुरु की कोई प्रतिक्रिया क्यों नहीं आई ? 
क्या वो इस हत्या को इस्लाम के हिसाब से जायज मान रहे हैं ?
#कश्मीर

Dr. Dhananjay Singh

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s