Posted in Kavita - કવિતા

घोडा प्रथम वही आता है

*घोडा प्रथम वही आता है*

*जिसका सवार अच्छा हो*..!

*परिवार वह ही आगे बढ़ता है*..

*जहाँ मुखिया समझदार हो* ..!

बिना सवार का घोडा

बेलगाम हो जाता है

और बिना मुखिया के

परिवार बट जाता है

*किसी भी मोड़ पर अगर*

*मै बुरा  लगूं….*

 

*तो ज़माने को बताने से पहले*

*एक बार मुझे जरूर बता देना ,*

 

*क्योंकि बदलना मुझे है ,*

*ज़माने को नहीं .* 🌹

” चेहरे की हंसी से गम को भुला दो*

*कम बोलो पर सब कुछ बता दो*

*ख़ुद ना रूठो और  सबको हंसा दो*

*यही राज है जिन्दगी का*

*जियो और जीना सिखा दो

Advertisements

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s