Posted in हास्यमेव जयते

एक कल्पना… सन 2050 छठी कक्षा…

एक कल्पना… सन 2050 छठी कक्षा…

Vishnu Arodaji

 

#प्रश्न !
भारत रत्न श्री पप्पू गाँधी जी के जीवन पर प्रकाश डालो।

#उत्तर…
आदरणीय पप्पू जी के जीवन की चारित्रिक विशेषताएं निम्न प्रकार हैं…

1,, #हंसमुख_और_जुझारू_नेता…
श्री पप्पू गाँधी जिन्हें लोग प्यार से युवराज भी कहते थे वो एक हँसमुख और जुझारू नेता थे। वो कठिन से कठिन कार्य सहजता से हँसते हँसते ही कर देते थे।

2,, #सादा_जीवन_उच्च_विचार…
उनका जन्म एक बहुत ही भ्रष्ट परिवार में हुआ। स्विस बैंकों में अरबो रुपयो की संपत्ति होने के बावजूद फटा हुआ कुरता पहनते थे…

3,, #मजबूत_इरादे…
युवावस्था में ही उन्होंने ठान लिया देश के विकास के लिए वो कांग्रेस मुक्त भारत का निर्माण करेंगे…। लोग भले ही मोदी जी को कांग्रेस मुक्त भारत का जनक माने, लेकिन इस शुभ काम में पप्पू जी का सहयोग नाकारा नही जा सकता… और तो और उन्होंने कभी घमंड भी नही किया।

4,, #लोकतंत्र_के_प्रति_सम्मान…
2024 में उनकी खुद की जमानत जब्त हो गयी… लेकिन उन्होंने भारतीय जनमानस के जनादेश को सहर्ष स्वीकार कर लिया… और चुपचाप परिवार सहित इटली निकल लिये।

5,, #अत्यन्त_बलशाली…
बल तो उनके अंदर कूट कूट के भरा हुआ था.. बोलते थे तो भूकंप आ जाता था.. वो अलग बात है कि उनके लाये भूकंप से किसी का बाल भी बाँका न हुआ। ये भी उनका मानवता के प्रति प्रेम ही था।

6,, #बच्चो_के_चहेते…
पप्पू जी बिना एक नया पैसा लिए पोगो चैनल के ब्रांड अम्बेसेडर भी बने रहे… और उनके जीवनकाल में चैनल की TRP अपने शिखर पर थी।

7, #अच्छे_वक्ता…
उनका भाषण देने का अंदाज ही निराला था… बीच बीच में चुटकुले छोड़ते रहते थे.. कभी कहते थे कि आलू की फैक्ट्री लगाऊंगा , तो कभी कहते कि मंदिर लोग लड़कियां छेड़ने जाते हैं…

8,, #घुमाक्कड़_प्रवृत्ति…
अपने पप्पू जी घूमने के शौक़ीन थे… अक्सर साल भर में दो दो महीने के लिये विदेशो में ज्ञानार्जन के लिए बिना बताये निकल जाते थे.. वो अलग बात है कि मोदी जी को विदेशो की सैर करने वाला प्रधानमंत्री कहते थे।

9,, #क्रांतिकारी_विचार…
क्या आप सोच सकते हैं…
आलू की फैक्ट्री के बारे में..? नहीं ना..
पप्पू जी सोच सकते थे… वो अलग बात है कि उनको मौका नही मिला.. वरना…

10, #सबको_एक_नज़र_से_देखना…
उनकी निगाहों में सबका बराबर सम्मान था.. वे भारत को एक विकसित देश बनाना चाहते थे.. वे विकसित देशों की ही तरह भारत में समलैंगिको के अधिकारों के लिए भी संघर्षरत थे।

11, #सत्ता_के_प्रति_उदासीन…
पप्पू जी जिस दिन चाहते किसी भी राज्य के मुख्यमंत्री बन सकते थे … लेकिन नही..
उन्होंने कभी भी किसी चमचे का हक़ नही मारा…

12, #गरीबो_के_मसीहा…
नोटबंदी के दौरान खुद लाइन में खड़े होकर 4000/- रूपये निकाले.. और उन रुपयो से विदेश टूर भी कर डाला…और उनमें से भी बचा लाये…
अब देश का गरीब ही उनसे ये कला न सीख पाया तो उनकी क्या गलती है..?

13, #मेहनत_के_कायल…
वे जीवनपर्यन्त लोगों को गंभीर समाचार सुनाकर हँसाते रहें। इसलिए अपने पुरखों के विपरीत उन्होंने भारत रत्न परिश्रम से कमाया।

#अब_क्या_बच्चे_की_जान_लोगे_क्या….?

Advertisements

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s