Posted in Sai conspiracy

क्या है धूर्त साई बाबा का सच??

शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997

क्या है धूर्त साई बाबा का सच??

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने साई बाबा को मुसलमान फकीर कहा है। विवादित पोस्टर से कई लोगों की भावनाएं आहत हुई तो कई सवाल भी खड़ी हुए हैं। साई बाबा के बारे में बहुत भ्रम फैला है। वे हिन्दू थे या मुसलमान? क्या वे कबीर, नामदेव, पांडुरंग आदि के अवतार थे??

आचार्य चतुरसेन का उपन्यास ‘सोमनाथ’ में उन्होंने लिखा है कि मुगल और अंग्रेजों के शासनकाल में ऐसा अकसर होता था कि जासूसी या हिन्दू क्षेत्र की रेकी करने के लिए सूफी संतों के वेश में फकीरों की टोली को भेजा जाता था।जो गांव या शहर के बाहर डेरा डाल देती थी। इनका काम था सीमा पर डेरा डाल कर वहां के लोगों और राजाओं की ताकत का अंदाजा लगाना और प्रजा में विद्रोह भड़काना।

किसने कहा सबसे पहले साई
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
‘साई शब्द फारसी का है जिसका अर्थ होता है “भिखारी”(संत)। उस काल में आमतौर पर भारत के पाकिस्तानी हिस्से में मुस्लिम संन्यासियों के लिए इस शब्द का प्रयोग होता था। शिर्डी में साई सबसे पहले जिस मंदिर के बाहर आकर रुके थे उसके पुजारी ने उन्हें साई कहकर ही संबोधित किया था। मंदिर के पुजारी को वे मुस्लिम फकीर ही नजर आए।तभी तो उन्होंने उन्हें साई कहकर पुकारा।
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
साई ने यह कभी नहीं कहा कि ‘सबका मालिक एक’। साई सच्चरित्र के अध्याय 4, 5, 7 में इस बात का उल्लेख है कि वे जीवन भर सिर्फ अल्लाह मालिक है’यही बोलता रहा । कुछ लोगों ने उनको हिन्दू संत बनाने के लिए यह झूठ प्रचारित किया कि वे ‘सबका मालिक एक है’ भी बोलता था।यदि वे एकता की बात करते थे, तो कभी यह क्यों नहीं कहा कि ‘राम मालिक है’ या ‘भगवान मालिक है।’

कोई हिन्दू संत सिर पर कफन जैसा नहीं बांधता।ऐसा सिर्फ मुस्लिम फकीर व भिखारी ही बांधता है। जो पहनावा साई का था, वह एक मुस्लिम फकीर (भिखारी) का ही हो सकता है। हिन्दू धर्म में सिर पर सफेद कफन जैसा बांधना वर्जित है या तो जटा रखी जाती है या किसी भी प्रकार से सिर पर बाल नहीं होते।

साई बाबा मस्जिद में क्यों रहे
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
साई बाबा ने रहने के लिए मस्जिद का ही चयन क्यों किया? वहां और भी स्थान थे, लेकिन वे जिंदगीभर मस्जिद में ही रहे। मस्जिद के अलावा भी तो शिर्डी में कई और स्थान थे, जहां वे रह सकते थे। मस्जिद ही क्यों? भले ही मंदिर में न रहते, तो नीम के वृक्ष के नीचे एक कुटिया ही बना लेते। उनके भक्त तो इसमें उनकी मदद कर ही देते।

साईं सच्चरित्र के अनुसार, साईं बाबा पूजा-पाठ, ध्यान, प्राणायाम और योग के बारे में लोगों से कहते थे कि इसे करने की कोई जरूरत नहीं है। उनके इस प्रवचन से पता चलता है कि वह हिन्दू धर्म विरोधी था।धूर्त साई का मिशन था- लोगों में एकेश्वरवाद के प्रति विश्वास पैदा करना। उन्हें कर्मकांड, ज्योतिष आदि से दूर रखना।

मस्जिद से बर्तन मंगवाकर वे मौलवी से फातिहा पढ़ने के लिए कहते थे। इसके बाद ही भोजन की शुरुआत होती थी। उन्होंने कभी भी मस्जिद में गीता पाठ नहीं करवाया या भोजन कराने के पूर्व ‘श्रीगणेश करो’ ऐसा भी नहीं कहा। यदि वह हिन्दू-मुस्लिम एकता की बात करते था तो फिर दोनों ही धर्मों का सम्मान करना चाहिए था।

क्या अफगानिस्तान के था साई

साई को सभी यवन मानते थे। वह हिन्दुस्तान का नहीं, अफगानिस्तान का था ।इसीलिए लोग उन्हें यवन का मुसलमान कहते थे। उनकी कद-काठी और डील-डौल यवनी ही था। साई सच्चरित्र के अनुसार, एक बार साई ने इसका जिक्र भी किया था। जो भी लोग उनसे मिलने जाते थे उन्हें मुस्लिम फकीर ही मानते थे। लेकिन उनके सिर पर लगे चंदन को देखकर लोग भ्रमित हो जाते थे।
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
बाबा कोई धूनी नहीं रमाते थे जैसा कि नाथ पंथ के लोग करते हैं। ठंड से बचने के लिए बाबा एक स्थान पर लड़की इकट्ठी करके आग जलाते थे। उनके इस आग जलाने को लोगों ने धूनी रमाना समझा। चूंकि बाबा के पास जाने वाले लोग चाहते थे कि बाबा हमें कुछ न कुछ दे तो वे धूनी की राख को ही लोगों को प्रसाद के रूप में दे देते थे। यदि प्रसाद देना ही होता था तो वे अपने भक्तों को मांस मिला हुआ नमकीन चावल देते थे।

🖊 आजकल साई बाबा को पुस्तकों और लेखों के माध्यम से ब्राह्मण कुल में जन्म लेने की कहानी को प्रचारित किया जा रहा है। क्या कोई ब्राह्मण मस्जिद में रहना पसंद करेगा ???

क्यों डराया था गांव वालों को
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
साई के समय दो बार अकाल पड़ा। लेकिन साई उस वक्त अपने भक्तों के लिए कुछ नहीं कर पाया। एक बार प्लेग फैला तो उन्होंने गांव के सभी लोगों को गांव से बाहर जाने के लिए मना किया।क्योंकि कोई जाकर वापस आएगा तो वह भी इस गांव में प्लेग फैला देता।तब उसने लोगों में डर भर दिया कि जो भी मेरे द्वारा खींची गई लकीर के बाहर जाएगा, वह मर जाएगा। इस डर के कारण भोली-भाली जनता गांव से बाहर नहीं गई और लोगों ने इसे चमत्कार के रूप में प्रचारित किया कि साई ने गांव की प्लेग से रक्षा की। प्लेग उनके गांव में नहीं आ सका। साई के पास कई ऐसे लोग आते जाते थे, जो उन्हें बाहर की दुनिया का हालचाल बता देते थे।

साई का जन्म 1830 में हुआ।परन्तु इसने आजादी की लड़ाई में भारतीयों की मदद करना जरूरी नहीं समझा।क्योंकि वह भारतीय नहीं था।वह अंग्रेजों के जासूस था । *अफगानिस्तानी पंडारियों के समाज से थाऔर उन्हीं के साथ उनके पिता भारत आए थे। उनके पिता का नाम बहरुद्दीन था और उनका नाम चांद मियां।

साई के विरोधी साई चरित में उल्लेखित घटना का उदाहरण देते हुए कहते हैं कि 1936 में हरि विनायक साठे (एक साई भक्त) ने अपने साक्षात्कार में नरसिम्हा स्वामी को बोला था कि बाबा किसी भी हिन्दू देवी-देवता या स्वयं की पूजा मस्जिद में नहीं करने देते थे, न ही मस्जिद में किसी देवता के चित्र वगैरह लगाने देते।

क्यों बोलता था अल्लाह मालिक
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
साई सच्चरित्र साईं भक्तों और शिर्डी साई संस्थान द्वारा बताई गई साई के बारे में सबसे उचित पुस्तक है। पुस्तक के पेज नंबर 17, 28, 29, 40, 58, 78, 120, 150, 174 और 183 पर साईं ने ‘अल्लाह मालिक’ बोला’ऐसा लिखा है। पूरी पुस्तक में साई ने एक बार भी किसी हिन्दू देवी-देवता का नाम नहीं बोला और न ही कहीं ‘सबका मालिक एक’ बोला। साई भक्त बताएं कि जो बात साई ने अपने मुंह से कभी कही ही नहीं, उसे साई के नाम पर क्यों प्रचारित किया जा रहा है?

साई को राम से जोड़ने की साजिश 12 अगस्त 1997 को गुलशन कुमार की हत्या के ठीक 6 महीने बाद 1998 में साईं नाम के एक नए भगवान का अवतरण हुआ। इसके कुछ समय बाद 28 मई 1999 में ‘बीवी नंबर 1’ फिल्म आई जिसमें साईं के साथ पहली बार राम को जोड़कर ‘ॐ साईं राम’ गाना बनाया था।

बाबा बाजार से खाद्य सामग्री में आटा, दाल, चावल, मिर्च, मसाला, मटन आदि सब मंगाते थे और इसके लिए वे किसी पर निर्भर नहीं रहे थे। भिक्षा मांगना तो उनका ढोंग था। बाबा के पास घोड़ा भी था। शिर्डी के अमीर हिन्दुओं ने उनके लिए सभी तरह की सुविधाएं जुटा दी थीं। उनके कहने पर ही कृष्णा माई गरीबों को भोजन करवाती थीं। मस्जिद में साफ-सफाई करती थीं और सभी तरह की देख-रेख का कार्य करती थीं।

मेघा से क्या कहा साईं ने

साई मेघा की ओर देखकर कहने लगे, ‘तुम तो एक उच्च कुलीन ब्राह्मण हो और मैं बस निम्न जाति का यवन (मुसलमान)।इसलिए तुम्हारी जाति भ्रष्ट हो जाएगी। इसलिए तुम यहां से बाहर निकलो। -साई सच्चरित्र।-(अध्याय 28)
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
एक एकादशी को उन्होंने पैसे देकर केलकर को मांस खरीदने लाने को कहा। -साईं सच्चरित्र (अध्याय 38)

बाबा ने एक ब्राह्मण को बलपूर्वक बिरयानी चखने को कहा। -साईं सच्चरित्र (अध्याय 38)

साई सच्चरित्र अनुसार साई बाबा गुस्से में आता था और गालियां भी बकता था।ज्यादा क्रोधित होने पर वह अपने भक्तों को पीट भी देता था । बाबा कभी पत्‍थर मारता और कभी गालियां देता। -पढ़ें 6, 10, 23 और 41 साईं सच्चरित्र अध्याय।

बाबा ने स्वयं कभी उपवास नहीं किया और न ही उन्होंने किसी को करने दिया। साई सच्चरित्र (अध्याय 32)

‘मुझे इस झंझट से दूर ही रहने दो। मैं तो एक फकीर हूं, मुझे गंगाजल से क्या प्रयोजन?- साई सच्चरित्र (अध्याय 28)
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
और क्या कह रहे हैं साई विरोधी

साई विरोधी कहते हैं कि साई अफगानिस्तान का एक पिंडारी लुटेरा था। इसके लिए वे एक कहानी बताते हैं कि औरंगजेब की मौत के बाद मुगल साम्राज्य खत्म-सा हो गया था। केवल दिल्ली उनके अधीन थी। मराठों के वीर सपूतों ने एक तरह से हिन्दू साम्राज्य की नींव रख ही दी थी।ऐसे समय में मराठाओं को बदनाम करके उनके इलाकों में लूटपाट करने का काम यह पिंडारी करते थे। जब अंग्रेज आए तो उन्होंने पिंडारियों को मार-मारकर खत्म करना शुरू किया। इस खात्मे के अभियान के चलते कई पिंडारी अंग्रेजों के जासूस बन गए थे।

क्या है झांसी की रानी का संबंध
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
साई के विरोधी कहते हैं कि झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की सेना में 500 पिंडारी अफगान पठान सैनिक थे। उनमें से कुछ सैनिकों को अंग्रेजों ने रिश्वत देकर मिला लिया था। उन्होंने ही झांसी की रानी के किले के राज अंग्रेजों को बताए थे। युद्ध के मैदान से रानी जिस रास्ते पर घोड़े के साथ निकल पड़ीं, उसका रास्ता इन्हीं पिंडारी पठानों ने अंग्रेजों को बताया। अंत में पीछा करने वाले अंग्रेजों के साथ 5 पिंडारी पठान भी थे। उसमें से एक शिर्डी के कथित धूर्त साई बाबा का पिता था ।जिसे बाद में झांसी छोड़कर महाराष्ट्र में छिपना पड़ा था। उसका नाम था *बहरुद्दीन। उसी पिंडारी पठान भगोड़े सैनिक का बेटा यह शिर्डी का साई है, जो वेश्या से पैदा हुआ और और जिसका नाम चांद मियां था।

क्या हुआ था 1857 में
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
1857 के दौरान हिन्दुस्तान में हिन्दू और मुसलमानों के बीच अंग्रेजों ने फूट डालने की नीति के तहत कार्य करना शुरू कर दिया था। इस क्रांति के असफल होने का कारण यही था कि कुछ हिन्दू और मुसलमान अंग्रेजों की चाल में आकर उनके लिए काम करते थे। बंगाल में भी हिन्दू-मुस्लिम संतों के बीच फूट डालने के कार्य को अंजाम दिया गया। इस दौर में कट्टर मुसलमान और पाकिस्तान का सपना देखने वाले मुसलमान अंग्रेजों के साथ थे।

क्या कह रह हैं साईं के पिता के बारे में

साईं का पिता जो एक पिंडारी ही था।उनका मुख्य काम था अफगानिस्तान से भारत के राज्यों में लूटपाट करना। एक बार लूटपाट करते-करते वे महाराष्ट्र के अहमदनगर पहुंचा।जहां वह एक वेश्या के घर में रुक गया। फिर वह उसी के पास रहने लगा । कुछ समय बाद उस वेश्या से उन्हें एक लड़का और एक लड़की पैदा हुए । लड़के का नाम उन्होंने चांद मियां रखा। लड़के को लेकर वह अफगानिस्तान चले गए। लड़की को वेश्या के पास ही छोड़ गया। अफगानिस्तान उस काल में इस्लामिक ट्रेनिंग सेंटर था। जहां लूटपाट, जिहाद और धर्मांतरण करने के तरीके सिखाए जाते थे।

कौन था चांद मियाँ

उस समय अंग्रेज पिंडारियों की जबरदस्त धरपकड़ कर रहे थे। इसलिए बहरुद्दीन भेस बदलकर लूटपाट करता और उसने अपने संदेशवाहक के लिए अपने बेटे चांद मियां ( साई ) को भी ट्रेंड कर दिया था। चांद मियाँ चादर फैलाकर भीख मांगता था। चांद मियाँ चादर पर यहां के हाल लिख देता था और उसे नीचे से सिलकर अफगानिस्तान भेज देता था। इससे जिहादियों को मराठाओं और अंग्रेजों की गतिविधि के बारे में पता चल जाता था।

किसे कहते थे यवनी

यह साई अफगानिस्तान का एक पिंडारी था।जिसे लोग यवनी कहकर पुकारते थे। यह पहले हिन्दुओं के गांव में फकीरों के भेष में रहकर चोरी-चकारी करने के लिए कुख्यात था। यह हरे रंग की चादर फैलाकर भीख मांगता था और उसे काबुल भेज देता था। किसी पीर की मजार पर चढ़ाने के लिए उसी चादर के भीतर वह मराठा फौज और हिन्दू धनवानों के बारे में सूचनाएं अन्य पिंडारियों को भेजता था।ताकि वे सेंधमारी कर सकें। इसकी चादर एक बार एक अंग्रेज ने पकड़ ली थी और उस पर लिखी गुप्त सुचनाओं को जान लिया था।

क्या चांद मियाँ उर्फ साई जेल से छूटा था

1857 की क्रांति का समय अंग्रेजों के लिए विकट समय था। ऐसे में चांद मियां अंग्रेजों के हत्थे चढ़ गया। अहमदनगर में पहली बार साई की फोटो ली गई थी। अपराधियों की पहले भी फोटो ली जाती थी। यही चांद मियां 8 साल बाद जेल से छुटकर कुछ दिन बाद एक बारात के माध्यम से शिर्डी पंहुचा और वहां के सुलेमानी लोगों से मिला। जिनका असली काम था गैर-मुसलमानों के बीच रहकर चुपचाप इस्लाम को बढ़ाना। इस मुलाकात के बाद साई पुन: बारातियों के साथ चले गए। कुछ दिन बाद चांद मियां शिर्डी पधारा और यही उसने अल-तकिया का ज्ञान लिया। मस्जिद को जान-बूझकर एक हिन्दू नाम दिया गया और उसके वहां ठहराने का पूरा प्रबंध सुलेमानी मुसलमानों ने किया।

किसने किया प्रचारित
शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997
एक षड्यंत्र के तहत चांद मियां को चमत्कारिक फकीर के रूप में प्रचारित किया गया और गांव की भोली-भाली हिन्दू जनता उसके झांसे में आने लगी। चांद मियां कई तरह के जादू-टोने और जड़ी-बूटियों का जानकार था।इसलिए धीरे-धीरे गांव में लोग उसको मानने लगे। बाद में मंडलियों द्वारा उसके चमत्कारों का मुंबई में भी प्रचार-प्रसार किया गया।जिसके चलते धनवान लोग भी उसके संपर्क में आने लगे।

क्या पाठ पढ़ाया

चांद मियाँ उर्फ साई ने हिन्दू-मुस्लिम एकता की बातें करके मराठाओं को उनके ही असली दुश्मनों से एकता निभाने का पाठ पढ़ाया। यह मराठाओं की शक्ति को कमजोर करने का षड्यंत्र था। सिर्फ साई ही नहीं, ऐसे कई ढोंगी संत उस काल में यही कार्य पूरे महाराष्ट्र में कर रहे थे। मराठाओं की शक्ति से सभी भयभीत हो गए थे।तब उन्होंने ‘छल’ का उपयोग शुरू कर दिया था।
🖊 धन्य हो धूर्त साई उर्फ चाँद मियाँ के अंधे भक्तो।

शंकर सन्देश (समाचार पत्र)
9602109997

Advertisements

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s