Posted in महाभारत - Mahabharat

एक श्लोकी रामायण : Ek shloki RAMAYAN


एक श्लोकी रामायण : Ek shloki RAMAYAN

श्री राम चरित मानस के अयोध्या काण्ड में श्लोक संख्या ३ एक श्लोकी रामायण कहलाती है | इसमें श्री राम के जीवन की चारो अवस्थाओं  का वर्णन है |

ramayan-slok123

 

नीलाम्बुजश्यामलकोमलाङ्गं = नीले कमल के समान जिनके कोमल अंग है अर्थात बाल्यावस्था
सीतासमारोपितवामभागम् =सीता जी वाम भाग में है अर्थात विवाह समारोह
पाणौ महासायकचारुचापं =जिनके हाथ में अमोघ बाड़ और धनुष है अर्थात रावन से युद्ध

नमामि रामं रघुवंशनाथम्  =रघुवंश के स्वामी को प्रणाम  अर्थात रामराज्य स्थापित

ADUV speaks

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s