Posted in Laxmi prapti

मंगल स्तोत्रम्


●●●●ॐ अथ् मंगल स्तोत्रम् एवं यंत्रम ●●●●

● (यह स्तोत्र एवं यन्त्र महृषि भार्गव जी द्वारा कृत है और यह ऋणहर्ता, रोगनाशक, दारिद्र्यनाशक , पापनाशक, अकाल-मृत्यु नाशक , शत्रु नाशक, भय-शोकादि निवारक, गृह-सुख कारक, भूमि -सुख कारक एवं मानसिक रोग / चिंता नाशक है । कृपया एक समय पर इस यंत्र से अत्यावश्यक एक ही काम सिद्ध करें और इसका दुरुपयोग भूल से भी न करें जी ।)

● मंगल स्तोत्र :–
1 (१) ॐ मंगलाय नमः ।।
2. (२) ॐ भूमिपुत्राय नमः ।।
3. (३) ॐ ऋणहर्त्रे नमः ।।
4. (४) ॐ धनप्रदाय नमः ।।
5. (५) ॐ स्थिरासनाय नमः ।।
6. (६) ॐ महाकाय नमः ।।
7. (७) ॐ सर्वकर्मावरोधकाय नमः ।।
8. (८) ॐ लोहिताय नमः ।।
9. (९) ॐ लोहिताक्षाय नमः ।।
10.(१०) ॐ सामगानां कृपाकराय नमः ।।
11.(११) ॐ धरात्मजाय नमः ।।
12.(१२) ॐ कुजाय नमः ।।
13.(१३) ॐ भौमाय नमः ।।
14.(१४) ॐ भूमिसुताय नमः ।।
15.(१५) ॐ भूमिनन्दनाय नमः ।।
16.(१६) ॐ अंगारकाय नमः ।।
17.(१७) ॐ यमाय नमः ।।
18.(१८) ॐ सर्वरोगापहारकाय नमः ।।
19.(१९) ॐ वृष्टिकर्त्रे नमः ।।
20.(२०) ॐ अपहर्त्रे नमः।।
21.(२१) ॐ सर्वकर्मफलप्रदाय नमः ।।

●● ॐ ऋण–रोगादि– दारिद्रयम्–पापम् –क्षुदपमृत्यव:–शत्रुणाम् — भय–शोक–मनस्तापा विनाशाय च महाबुद्धे संकटान् मे निवारय निवारय स्वाहा ॐ… ●●

●यन्त्र लिखने की विधि :–
कृपया सबसे पहले भुर्जपत्र या सादे कागज पर अभीष्ट रेखाओं द्वारा यंत्र का खाका लाल पेन या खदिर/ रक्त चंदन/ अनार की कलम एवं अष्टगंध मसि से तैयार कर लेवें जी । फिर ” मंगल अमृतसिद्धि योग ” के समय लाल पेन से या खदिर / लाल चंदन / अनार की कलम द्वारा अष्टगंध मसि से उपरोक्त क्रमांक एक पर लिखा मन्त्र पढ़ते हुए यन्त्र के निर्धारित खाने में अंक १ लिखें । इस विधि को क्रमांक इक्कीस तक जारी रखें और फिर सबसे अन्त में दिए हुए मन्त्र को 108 बार पढ़ने पर यन्त्र सिद्ध हो जाता है । अब इसे ताम्बे या चांदी या स्वर्ण के ताबीज में जड़वाकर लाल डोरी या स्वर्ण की चैन में किसी शुभ मंगलवार को धारण करें जी । आपकी प्रार्थना 41 दिनों में या एक वर्ष के अंदर- अंदर अवश्य पूर्ण रूप से फलीभूत होगी ~आवश्यकता है पूर्ण श्रद्धा एवं विश्वास की ।

शेष शुभेच्छा ।
ॐ स्मरण…

●विशेष :–
मंगल का यंत्र नीचे छायाचित्र में दिया हुआ है जिसका आपने स्वयमेव् शुद्ध मुहूर्त में विधिपूर्वक निर्माण करना है । ॐ…

No automatic alt text available.
Advertisements

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s