Posted in कविता - Kavita - કવિતા

ધર્મ ની વ્યથા / કથા


ધર્મ ની વ્યથા / કથા ===== રક્ષકો,ભક્ષકો ને,કમાન્ડો માં ગૂંગળાય કથા ધાર્મિકતા, ભેટ,સોગાદે,પ્રસાદે વંચાય કથા સાધુ, બ્લેક કમાન્ડે ,બંદુક થી રખવાળે કથા આશન,શાશન,ભાષણ  કરે ભક્તો ભેગા કથા દેશી વિદેશી ગાડ…

Source: ધર્મ ની વ્યથા / કથા

Posted in हास्यमेव जयते

ગાંઠીયા – એક નિબંધ


ગાંઠીયા – એક નિબંધ 😝
~~~~~~~~

ll ગાંઠિયા સૌરાષ્ટ્રની મહાન પારિવારીક વાનગી છે … લોક ફૂડ એટલે કે લોકખાણું છે.।।

વિદ્યાર્થીના લંચ બોક્સથી માંડીને વૃદ્ધાશ્રમમાં થતા દાન ધર્માદામાં ગાંઠિયા હાજર હોય છે.

લગ્ન હોય અને જાન આવે એટલે વેવાઈને ગાંઠિયા-જલેબીનો નાસ્તો 1957માં અપાતો અને આજે 2017માં પણ અપાય છે.

કોઈના મૃત્યુ પછીના જમણમાં પણ ગાંઠિયા અને
અન્નકૂટના પ્રસાદમાં પણ ગાંઠિયા હોય છે.

આ ધરા ઉપર કેટલુંક ઈશ્વરદત્ત છે, જેમ કે નદી, પર્વતો, વૃક્ષ, પક્ષીઓ, પતંગિયા, પવન વગેરે. જ્યારે …. કેટલુંક મનુષ્યે જાણે ઈશ્વરની સીધી સુચના નીચે વિકસાવ્યું હોય એવું જણાય છે. જેમ કે સ્પેસ શટલ, કોમ્પ્યુટર, સ્માર્ટ ફોન, ગાંઠીયા વગેરે…..

લીસ્ટમાં ગાંઠિયા જોઈ ચમકી ગયાને?
પણ સાચે જ સ્પેસ શટલ કે સ્માર્ટ ફોન વગર ચાલી શકે છે પણ ગાંઠિયા વગર ઘણાનો દિવસ ઉગતો નથી.

ઇતિહાસમાં ગાંઠિયાને લઈને એક પણ યુદ્ધ તો ઠીક પણ નાનું સરખું ધીંગાણું થયું હોય એવું પણ સૌરાષ્ટ્રની રસધારમાં કયાંય વાંચવામાં આવ્યું નથી.☺

આ બતાવે છે કે, ગાંઠિયા મોડર્ન આઈટમ છે. ગાંઠિયા ચોક્કસ કલિયુગની જ દેન હશે. કારણ કે જો પુરાણકાળમાં ગાંઠીયાનું ચલણ હોત તો, દેવાધિદેવ ઇન્દ્ર ઋષિમુનીઓનું તપોભંગ કરવા માટે અપ્સરાઓને બદલે સેવકો સાથે સંભારા-મરચા સાથે ભાવનગરી ગાંઠિયાની ડીશો મોકલતા હોત…!😝

સૌરાષ્ટ્ર બાજુ સવારના પહોરમાં ગાંઠિયા ખાવાનો રીવાજ છે. ત્યાં ગાંઠિયાના બંધાણીઓ પણ મળી આવતા હોય છે. અહીં દરેક શહેરમાં, પ્રાંતમાં, પેટા પ્રાંતમાં ગાંઠિયાનો અલગ તૌર છે !

પોરબંદરમાવણલખ્યો રિવાજ છે કે ફાફડા સવારે ખવાય અને રાત્રે વણેલા ગાંઠિયા જ મળે. રાત્રે સાડા બાર કે દોઢ વાગ્યે લારી પર ઊભા રહી કહો કે, 200 ફાફડા…. એટલે કપાળેથી પરસેવો લૂછતાં અને બીજા હાથે તળેલાં મરચાં પર મીઠું છાંટતાં છાંટતાં ભાઈ કહે : ‘પંદર મિનિટ થાહે બોસ, વણેલા જોઈએ તો તૈયાર છે !’ રાત્રે સાડા બારે ?

હા, સૌરાષ્ટ્રમાં રાત્રે 12.30, 2.30 કે સવારે 4.00 વાગે પણ ગાંઠિયા મળી શકે !

ગાંઠિયા માત્ર મોર્નિંગ બ્રેકફાસ્ટ નથી, આઠે પ્રહરની ઊજાણી છે. પિત્ઝા અને બર્ગર ભલે અમદાવાદના બોપલ કે સૌરાષ્ટ્ર સુધી પહોંચી ગયા પરંતુ, ગાંઠિયા પ્રત્યે પ્રીતિ યથાવત્ છે.

વેકેશન ગાળવા ગયેલા ગુજરાતી પરિવાર દિલ્હીમાં સાંજે ચાટ અને પાઉંભાજી ભલે ખાય પણ ગુજરાતી સમાજની કેન્ટિનમાં તો “બે પ્લેટ ગાંઠિયા અને બે ચ્હા” એવા જ ઑર્ડર અપાય છે.

ગાંઠિયાનું વૈવિધ્ય અપાર છે. ફાફડા એ તેનું મૂળ સ્વરૂપ છે. એ પછી વણેલા, તીખા, લસણિયા ગાંઠિયા બનાવાય છે.
ફાફડાની બેન પાપડી તરિકે ઓળખાય છે અને ખુબ ખવાય છે.

ભાવનગરના ઝીણા ગાંઠિયા વખણાય છે.

ચોકડી આકારના ગાંઠિયાનું નામ ‘ચંપાકલી’ સ્ત્રીલિંગમાં છે.

ફાફડા અને વણેલા ગાંઠિયા ગરમ ખાવાનું ચલણ છે, ને બાકીના ગાંઠિયા ઘરે ડબ્બામાં ભરી રખાય છે.

ગાંઠિયાની સંગતમાં ક્યાંક કઢી ક્યાંક કચુમ્બર તો ક્યાંક કાંદા મળશે, પણ મરચાં તો બધે જ મળે છે.

જેમ સ્ત્રી વગર પુરુષ અધુરો હોવાનું મનાય છે, એમ મરચાં વગર ગાંઠિયા અધુરા છે.

તબલામાં જેમ દાયું અને બાયું સાથે હોય તો જ સંગત જામે, એમ જ ગાંઠીયા સાથે મરચા હોય તો જ રંગત જામે છે.

જાણે … નવવધૂએ પહેલીવાર પિયર લખેલા આછાં પીળાશ પડતાં પોસ્ટકાર્ડ કલરના, ગાંઠિયા, જ્યાં તળાઈને થાળમાં ઠલવાય અને
એની પાછળ જ કોઈની યાદ જેવા તીખા તમતમતાં લીલેરા તેલવર્ણ મરચાં કડકડતા તેલમાં તળાઈને અવતરે …. એ ઘટના ઉપવાસીને પણ ઉપવાસ તોડવા મજબુર કરી મુકે તેવી હોય છે !!!!

મરચાં વગરના ગાંઠિયા કે ગાંઠિયા વગરના મરચાં એ નેતા વગરની ખુરશી કે ખુરશી વગરના નેતા જેવા જ નિસ્તેજ જણાતાં હોય છે.

કડકડતા તેલમાં ઉછળતા, ફૂલતા, તળાતા ગાંઠિયાનું દ્રશ્ય કેવું આહ્લાદક હોય છે!

ઝારામાં તારવેલા ગાંઠિયામાંથી નીકળતી હિંગ, મીઠું, મરી અને ચણાના લોટની ઉની ઉની ખુશ્બુસભર વરાળ દિલને ગાર્ડન ગાર્ડન કરી મુકે છે.

Posted in मातृदेवो भव:

पिता के मरने के बाद बेटा


पिता के मरने के बाद बेटा
अपनी माँ को ओल्ड
ऐज होम छोड़ के आया ।
कुछ सालो बाद ओल्ड ऐज
होम से फ़ोन आया कि तुम्हारी
माँ मरणासन्न है जल्दी आ
जाओ ।
बेटा माँ से मिला तो बोला –
“माँ बता मै क्या करू तेरे लिए”
माँ ने कहा बेटा “इस कमरे में
एक पंखा लगवा दे” ।
बेटे ने कहा “इतने साल तो
तुम बिना पंखे के रही ।
अब जब मरने वाली हो तो
पंखा लगाने के लिए क्यों
कह रही हो” ।
माँ ने कहा “बेटा मैंने तो
किसी तरह गुजारा कर
लिया लेकिन ??????…
जब ?????..तेरा बेटा तुझे इस कमरे में भेजेगा तो ?????…
तू बिना पंखे के रह नही पायेगा” !!!!!!.

Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

हैप्पी लोहड़ी


हैप्पी लोहड़ी

Neelam Saini

किसी समय में सुंदरी एवं मुंदरी नाम की दो अनाथ लड़कियां थीं जिनको उनका चाचा विधिवत शादी न करके एक राजा को भेंट कर देना चाहता था। उसी समय में दुल्ला भट्टी नाम का एक नामी डाकू हुआ है। उसने दोनों लड़कियों, ‘सुंदरी एवं मुंदरी’ को जालिमों से छुड़ा कर उन की शादियां कीं। इस मुसीबत की घडी में दुल्ला भट्टी ने लड़कियों की मदद की और लडके वालों को मना कर एक जंगल में आग जला कर सुंदरी और मुंदरी का विवाह करवाया। दुल्ले ने खुद ही उन दोनों का कन्यादान किया। कहते हैं दुल्ले ने शगुन के रूप में उनको शक्कर दी थी।

जल्दी-जल्दी में शादी की धूमधाम का इंतजाम भी न हो सका सो दुल्ले ने उन लड़कियों की झोली में एक सेर शक्कर डालकर ही उनको विदा कर दिया। भावार्थ यह है कि डाकू हो कर भी दुल्ला भट्टी ने निर्धन लड़कियों के लिए पिता की भूमिका निभाई।

यह भी कहा जाता है कि संत कबीर की पत्नी लोई की याद में यह पर्व मनाया जाता है. इसीलिए इसे लोई भी कहा जाता है।

Image may contain: text
Image may contain: 1 person
Image may contain: 3 people, people smiling, text
No automatic alt text available.

Posted in ભક્તિ ગીત - Bhakti Geet

માધવ ક્યાંય નથી મધુવનમાં


માધવ ક્યાંય નથી મધુવનમાં

ફૂલ કહે ભમરાને
ભમરો વાત વહે ગુંજનમાં
માધવ ક્યાંય નથી મધુવનમાં

કાલિન્દીના  જલ  પર  ઝૂકી પૂછે કદંબડાળી
યાદ તને બેસી અહીં વેણુ વાતા'તા વનમાળી

લહર વમળને કહે
વમળ એ વાત સ્મરે સ્પંદનમાં
માધવ  ક્યાંય નથી મધુવનમાં

કોઈ ન માગે દાણ  કોઈની આણ ન વાટે ફરતી
હવે કોઈ લજ્જાથી હસતાં રાવ કદી ક્યાં કરતી

નંદ કહે જશુમતીને
માતા વ્હાલ  ઝરે  લોચનમાં
માધવ ક્યાંય નથી મધુવનમાં

શિર પર ગોરસ મટુકી
મારી વાટ ન કેમે ખૂટી
અબ લગ કંકર એક ન લાગ્યો
ગયાં ભાગ્ય મુજ ફૂટી

કાજળ કહે આંખોને
આંખો વાત  વહે અંશુવનમાં
માધવ ક્યાંય નથી મધુવનમાં
- હરીન્દ્ર દવે
Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

फ़कीर का ज्ञान


फ़कीर का ज्ञान
______________
एक औरत बहुत पहुंचे हुए बुजुर्ग के पास गई, और बोली “हुजूर” कोई ऐसा ताबीज लिख दें कि मेरे बच्चे रात को भूख से रोया ना करें…।
बुजुर्ग ने कुछ लिख दिया…। अगले ही रोज़ किसी ने पैसों से भरा थैला घर के आगंन में फेंका, थैले से एक पर्चा निकला, जिस पर लिखा था, कोई कारोबार कर लें…।
इस बात पर अमल करते हुए उस औरत के शौहर ने एक दुकान किराए पर ले ली, कारोबार में बरकत हुई, और दुकानें बढ़ती गईं…। पैसों की बारिश सी हो गई…।
पुराने संदूक़ में एक दिन औरत की नज़र बुजुर्ग के लिखे कागज़ पर पड़ी…। “न जाने बुजुर्ग ने ऐसा क्या लिखा था?” असमंजस में उसने कागज़ खोल डाला…।
लिखा था कि : “जब पैसों की तंगी ख़त्म हो जाये, तो सारा पैसा तिजोरी में छिपाने की बजाय कुछ पैसे ऐसे घर में डाल देना जहाँ से रात को बच्चों के रोने की आवाज़ें आती हों…।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मैं एक गृह प्रवेश की पूजा में गया, पंडित जी पूजा करा रहे थे


मैं एक गृह प्रवेश की पूजा में गया, पंडित जी पूजा करा रहे थे।*
*पंडित जी ने सबको हवन में शामिल होने के लिए बुलाया। सबके सामने हवन सामग्री रख दी गई। पंडित जी मंत्र पढ़ते और कहते, “स्वाहा।”*
*लोग चुटकियों से हवन सामग्री लेकर अग्नि में डाल देते, गृह मालिक को स्वाहा कहते ही अग्नि में घी डालने की ज़िम्मेदीरी सौंपी गई।*
*हर व्यक्ति थोड़ी सामग्री डालता, इस आशंका में कि कहीं हवन खत्म होने से पहले ही सामग्री खत्म न हो जाए, गृह मालिक भी बूंद-बूंद घी डाल रहे थे। उनके मन में भी डर था कि घी खत्म न हो जाए।*
*मंत्रोच्चार चलता रहा, स्वाहा होता रहा और पूजा पूरी हो गई, सबके पास बहुत सी हवन सामग्री बची रह गई। घी तो आधा से भी कम इस्तेमाल हुआ था।*
*हवन पूरा होने के बाद पंडित जी ने कहा कि आप लोगों के पास जितनी सामग्री बची है, उसे अग्नि में डाल दें। गृह स्वामी से भी उन्होंने कहा कि आप इस घी को भी कुंड में डाल दें।*
*एक साथ बहुत सी हवन सामग्री अग्नि में डाल दी गई। सारा घी भी अग्नि के हवाले कर दिया गया। पूरा घर धुंए से भर गया। वहां बैठना मुश्किल हो गया, एक-एक कर सभी कमरे से बाहर निकल गए।*
*अब जब तक सब कुछ जल नहीं जाता, कमरे में जाना संभव नहीं था।काफी देर तक इंतज़ार करना पडा, सब कुछ स्वाहा होने के इंतज़ार में।*
*मेरी कहानी यहीं रुक जाती है।*
*उस पूजा में मौजूद हर व्यक्ति जानता था कि जितनी हवन सामग्री उसके पास है, उसे हवन कुंड में ही डालना है। पर सबने उसे बचाए रखा। सबने बचाए रखा कि आख़िर में सामग्री काम आएगी।*
*ऐसा ही हम करते हैं। यही हमारी फितरत है। हम अंत के लिए बहुत कुछ बचाए रखते हैं।*
*ज़िंदगी की पूजा खत्म हो जाती है और हवन सामग्री बची रह जाती है। हम बचाने में इतने खो जाते हैं कि जब सब कुछ होना हवन कुंड के हवाले है, उसे बचा कर क्या करना। बाद में तो वो सिर्फ धुंआ ही देगा।*
*संसार हवन कुंड है और जीवन पूजा। एक दिन सब कुछ हवन कुंड में समाहित होना है। अच्छी पूजा वही है, जिसमें हवन सामग्री का सही अनुपात में इस्तेमाल हो।*
🔥🌍🔥🌍🔥🌍🔥🌍🔥
*_तन जितना घूमता रहे,_*
*_उतना ही स्वस्थ रहता है,_*
*_मन जितना स्थिर रहे,_*
*_उतना ही शांत रहता है_*।।

Posted in बॉलीवुड - Bollywood

एक गुंडा रईस कैसे हो सकता है ?


Image may contain: text
निलेष जयपाल with नरेन्द्र मोदी ग्रूप पूना

गैंगस्टर रहे अब्दुल लतीफ अमदावाद के [ पुराने अमदावाद ] कोट विस्तार में दरियापुर + कालुपुर विस्तार में रहता था। देशी शराब बेचने की शुरुआत कर अपराध की दुनिया में कदम रखा था. धीरे-धीरे उसने अंग्रेजी शराब बेचनी भी शुरू कर दी. इससे अच्छी कमाई कर लेने के बाद अब्दुल लतीफ ने शहर के कोट इलाके में रहने वाले बदमाशों को अपनी गैंग में शामिल किया और फिर हथियार सप्लाई करने वाले शरीफ खान से हाथ मिला लिया. इस तरह लतीफ शराब के साथ-साथ हथियारों की तस्करी + हप्ता वसूली करने लगा.
गैंगस्टर अब्दुल लतीफ का नेटवर्क पूरे गुजरात में फैल गया. लतीफ ने गुजरात में अवैध शराब बेचने का नेटवर्क इस कदर खड़ा कर लिया था कि कोई भी बुटलेगर (अवैध शराब बेचने वाला) बिना उसकी मर्जी से शराब नहीं बेच सकता था. हथियारों की तश्करी करता था।
अमदावाद शहर के मुस्लिम इलाकों में लतीफ गरीबों के लिए मसीहा माना जाने लगा था, क्योंकि वह बेरोजगार युवकों को अपनी गैंग में शामिल कर लेता था. इसकी वजह से उसे राजनीतिक समर्थन भी मिलने लगा था. १९८७ में अमदावाद कॉरपरेशन चुनाव में ५ विस्तार से चुनाव लड़ा और पांचो स्थानों पर उसकी भव्य विजय हुई !
बताया जाता है कि इसी बीच अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम भी वडोदरा में ड्रग्स का नेटवर्क खड़ा कर चुका था. एक बार दाऊद और लतीफ के बीच गैंगवार छिड़ गया. लतीफ के गुर्गों ने दाऊद को घेर लिया और दाऊद को वडोदरा से भागना पड़ा.

१९८३ से १९९६ तक के दंगे में लतीफ़ के लोको ने कई हिंसा की। १९८५ में अमदावाद में फेब्रुअरी से लेके जुलाई तक ६ महीने तक दंगे चले। २७० से अधिक लोक की मौत हुई ! यह दंगे के पीछे हिन्दू विस्तार के घर को हड़प करने का षड्यंत्र था। कोंग्रेस इस गुंडे लतीफ़ के साथ थी । सब लोक कहते २००२ में निर्दोष लोकों को ज़िंदा जलाया गया , लेकिन गुजरात में सबसे पहेल ज़िंदा लोकों को जलाने काम मुसलमानो ने इस दंगे में दरियापुर विस्तार के दबगरवाड़ स्थान में एक हिन्दू परिवार को घर सहित ८ लोकों को ज़िंदा जलादिया था। कारण अमदावाद के पुराने अमदावाद से हिन्दुओं को भगाना । और सफल भी हुए। आज ८५ % हिन्दु अमदावाद [ पुराना कोट विस्तार ] छोड़ चुके है। इन सारी घटना के पीछे लतीफ़ की गिरोह काम कर रही थी । इस दंगे के दौरान पुलिस सब इंस्पेक्टर एम. टी. राणा को समाचार मिला की मुस्लिम लोक एक हिन्दु पोल [ सोसायटी ] को जलाने पहोंचे है तब वो वहां पहोंच गए और उन लतीफ़ की गिरोह के दंगईयों से मुकाबला किया तब इसी लतीफ़ के गुंडों ने उस यौद्धा पुलिस सब इंस्पेक्टर एम. टी. राणा को गोली मार कर ह्त्या कर दी थी ।

अब्दुल लतीफ गुजरात के ६४ से भी अधि‍क हत्या के मामलों में आरोपी था. जबकि अपहरण के भी लगभग इतने ही मामलों [ २४३ ] में उसका नाम शामिल है. लतीफ को 1995 में दिल्ली से गिरफ्तार किया गया. इसके बाद उसे साबरमती जेल अहमदाबाद में रखा गया. नवंबर 1997 में अब्दुल लतीफ ने एक बार भागने की कोशि‍श की, जिस दौरान गुजरात पुलिस से एनकाउंटर में वह मारा गया.

गुंडा जो करता है वो उसे daring हिम्मत कहता है ? कानून तोड़ना यह क्या हिम्मत + गर्व का काम है ? यदि हां तो दाऊद + आतंकवादी हिम्मतवाले है। राष्ट्रद्रोही शाहरुख खान ऐसे गुंडे पर आधारित फिल्म रईस दिखाने वाला है ! ऐसे गुंडे की फिल्म बनाके समाज को क्या प्रेरणा देने का काम कर रहा है राष्ट्रद्रोही शाहरुख खान ?
अन्य राज्य के बारे में कहना सही नहीं होगा किन्तु मुझे विश्वास है मेरे गुजरात के गुजरातियों पर। हर सच्चा गुजराती इस फिल्म रईस जो अब्दुल लतीफ की जिंदगी पर ही आधारित है उसका समाजिक बहिष्कार करेंगे। हम पुलिस सब इंस्पेक्टर एम. टी. राणा जी को श्रधांजलि देना चाहते है तो इस गुंडे लतीफ़ पर आधारित फिल्म न देख कर सच्ची श्रद्धांजलि देने का अवसर मिला है।

में तो यह पूछता हूँ कि एक गुंडा रईस कैसे हो सकता है ?
भारत माता की जय …..
वंदे मातरम् …..

Posted in सुभाषित - Subhasit

जिस प्रकार जल की एक – एक बून्द से घड़ा भर जाता है


जलविन्दुनिपातेन क्रमशः पूर्यते घटः।
स हेतुः सर्वविद्यानां धर्मस्य च धनस्य च।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

____________ जिस प्रकार जल की एक – एक बून्द से घड़ा भर जाता है ।

उसी प्रकार अभ्यास करते रहने से सभी विद्याओं की कालान्तर में प्राप्ति हो जाती है । इसी तरह थोड़ा थोड़ा धर्म संचय करते रहने पर व्यक्ति धर्मवान होकर स्वर्ग , और मोक्ष का हेतु बन जाता है ।

धन भी थोड़ा – थोड़ा संग्रह करके व्यक्ति उच्च धनवान बन जाता है।

अतः अपना अभ्युदय चाहने वाले व्यक्तियों को अल्पमात्रा में भी विद्या , धन और धर्म का सङ्ग्रह करते रहना चाहिए।

Posted in संस्कृत साहित्य

सर पर शिखा अथवा चोटी


क्या आप जानते हैं कि हमारे हिन्दू सनातन धर्म में “”सर पर शिखा अथवा चोटी”” रखने को इतना अधिक महत्व क्यों दिया गया है ?????
हम में से लगभग हर लोग इस बात से अवगत हैं कि हमारे हिंदू सनातन धर्म में शिखा के बिना कोई भी धार्मिक कार्य पूर्ण नहीं होता !
यहाँ तक कि हमारे भारतवर्ष में सिर पर शिखा रखने की परंपरा को इतना अधिक महत्वपूर्ण माना गया है कि अपने सर पर शिखा रखने को हम आर्यों की पहचान तक माना गया है !
लेकिन, दुर्भाग्य से वामपंथी मनहूस सेक्यूलरों द्वारा प्रपंचवश इसे धर्म से जोड़ते हुए इसे दकियानूसी एवं रूढ़िवादी बता दिया गया
और आज स्थिति यह बन चुकी है कि अंग्रेजी स्कूलों में पढ़े हिन्दू भी सर पर शिखा रखने को एक दकियानूसी परम्परा समझते हैं और, सर पर शिखा नहीं रखकर खुद को आधुनिक प्रदर्शित करने का प्रयास करते हैं !
लेकिन
आप यह जानकार हैरान रह जायेंगे कि “”सर पर शिखा”” रखने का कोई आध्यात्मिक कारण नहीं है
बल्कि विशुद्ध वैज्ञानिक कारण से ही हमारे हिन्दू सनातन धर्म में शिखा रखने पर जोर दिया जाता है !
दरअसल हमारे हिन्दू सनातन धर्म में प्रारंभ से ही शिखा को ज्ञान और बुद्धि का प्रतीक माना जाता है तथा, हम हिन्दुओं के लिए इसे एक अनिवार्य परंपरा माना जाता है क्योंकि इससे व्यक्ति की बुद्धि नियंत्रित होती है।
राज की बात यह है कि
जिस जगह शिखा (चोटी) रखी जाती है वह स्थान शरीर के अंगों, बुद्धि और मन को नियंत्रित करने का स्थान भी है जो मनुष्य के मस्तिष्क को संतुलित रखने का काम भी करती है।
वैज्ञानिक दृष्टि से सिर पर शिखा वाले भाग के नीचे सुषुम्ना नाड़ी होती है जो कपाल तन्त्र की सबसे अधिक संवेदनशील जगह होती है तथा, उस भाग के खुला होने के कारण वातावरण से उष्मा व विद्युत-चुम्बकी य तरंगों का मस्तिष्क से आदान प्रदान करता है।
ऐसे में अगर शिखा ( चोटी) न हो तो वातावरण के साथ मस्तिष्क का ताप भी बदलता रहता है !
इस स्थिति में शिखा इस ताप को आसानी से संतुलित कर जाती है और , ऊष्मा की कुचालकता की स्थिति उत्पन्न करके वायुमण्डल से ऊष्मा के स्वतः आदान – प्रदान को रोक देती है जिससे , शिखा रखने वाले मनुष्य का मस्तिष्क बाह्य प्रभाव से अपेक्षाकृत कम प्रभावित होता है और, उसका मस्तिष्क संतुलित रहता है !
धर्मग्रंथों के अनुसार शिखा का आकार गाय के पैर के खुर के बराबर होना चाहिए !
और, इसका वैज्ञानिक पहलू यह है कि हमारे शरीर में पांच चक्र होते है तथा, सिर के बीचों बीच मौजूद सहस्राह चक्र को प्रथम एवं, ‘मूलाधार चक्र’ जो रीढ़ के निचले हिस्से में होता है, उसे शरीर का आखिरी चक्र माना गया है !
साथ ही सहस्राह चक्र जो सिर पर होता है उसका आकार गाय के खुर के बराबर ही माना गया है !
इसीलिए सर पर शिखा रखने से इस सहस्राह चक्र का जागृत करने तथा, शरीर, बुद्धि व मन पर नियंत्रण करने में सहायता मिलती है !
आश्चर्यमिश्रित ख़ुशी की बात यह है कि
जो बात आज के आधुनिक वैज्ञानिक लाखों-करोड़ों डॉलर खर्च कर मालूम कर रहे हैं जीवविज्ञान की वो गूढ़ रहस्य की बातें हमारे ऋषि-मुनियों ने हजारों-लाखों वर्ष पूर्व ही जान ली थी !
लेकिन चूँकि विज्ञान की इतनी गूढ़ बातें एक -एक कर हर किसी को समझा पाना बेहद ही दुष्कर कार्य होता
इसीलिए हमारे पूर्वज ऋषि-मुनियों ने उसे एक परंपरा का रूप दे दिया ताकि, उनके आने वाले वंशज उनके इस ज्ञान से जन्म-जन्मान्तर तक लाभ उठाते रहें जैसे कि आज हमलोग उठा रहे हैं !
अतः जागो हिन्दुओं और पहचानो अपनी परम्पराओं एवं उसकी वैज्ञानिकता को

जय माँ भगवती।

शुभसंध्या।

Image may contain: one or more people, people sitting, table and indoor