Posted in लक्ष्मी प्राप्ति - Laxmi prapti

આ મંત્રથી થવા લાગશે ધનની વર્ષા-


મંત્રઃ
वं श्रीं वं ऐं लीं श्रीं क्लींकनकधारयै स्वाहा।
આ મંત્ર તથા કનકધારા સ્તોત્ર સહિત કનકધારા યંત્રની પૂજા-અર્ચનાથી દરિદ્રતા દૂર થાય છે, ઋણથી મુક્તિ મળે છે. નોકરી અને વેપારમાં લાભ પ્રાપ્ત થાય છે, આકસ્મિક ધન પ્રાપ્ત થાય છે. પ્રસિદ્ધ ગ્રંથ શંકર દિગ્વિજયના ચોથા સર્ગમાં ઉલ્લેખિત ઘટના મુજબ જગતગુરૂ શંકરાચાર્યે એક દરિદ્ર બ્રાહ્મણના ઘરે આ સ્તોત્રના પાઠથી સોનાની વર્ષા કરાવી હતી.
કેટલીકવાર ઈશ્વર ધન આપવા માટે મજબૂરથઈ જાય છે–  
જો તમે ધનવાન બનવાનો સ્વપ્ન જોઈ રહ્યા હોવ તો તેને હકીકતમાં પણ બદલવાની કોશિશ કરો. આવું કરવું એટલું અઘરું પણ નથી. તમારી મહેનતની સાથે ઈશ્વરની કૃપા પણ પ્રાપ્ત થઈ જાય તો તમને ધનવાન બનવાથી કોઈ રોકી શકશે નહીં. શાસ્ત્રોમાં કેટલાક એવા ચમત્કારી મંત્ર બતાવવામાં આવ્યા છે જેનાથી આકર્ષિત થઈને ઈશ્વર ધન આપવા પર મજબૂર થઈ જાય છે.
મંત્રથી થવા લાગશે ધનની વર્ષા–  
આદિ શંકરાચાર્ય દ્વારા રચિત કનકધારા સ્તોત્ર મંત્ર એવું સિદ્ધ મંત્ર માનવામાં આવે છે જેના નિયમિત પાઠથી દેવી લક્ષ્મી હમેશાં ઘરમાં અને વ્યક્તિની પાસે નિવાસ કરે છે. આ મંત્રથી શંકરાચાર્યએ સોનાની વર્ષા કરાવી દીધી હતી. આ જ કારણે આ મંત્રને કમકધારા સ્તોત્ર પણ કહેવાય છે. તમે પણ ધનમાં વૃદ્ધિ અને ધન સંબંધી પરેશાનીઓને દૂર કરવા માટે આ સ્તોત્રનું જાપ કરો.
૧. ભમરી, કળીઓમાંથી શોભતા તમાલવૃક્ષનો આશ્રય કરે છે. તેની જેમ શ્રી હરિના પુલકિત શરીરનો આશ્રય કરનાર મંગલ કરનાર, મંગલદેવતા શ્રી લક્ષ્મીજીના સૌંદર્યનો વૈભવ મારું મંગળ કરો.
૨. જેમ ભમરી, કમળ પર વારંવાર દ્રષ્ટિ કરે છે તે જ રીતે પ્રેમમાં મુગ્ધ લક્ષ્મીજીની શ્રી વિષ્ણુના વદન કમલ પર પ્રેમ અને લજ્જાયુક્ત દ્રષ્ટિ જતી આવતી રહે છે. તે શ્રી લક્ષ્મીજીના નેત્રની દ્રષ્ટિરૂપ માળા અમને ધન સંપત્તિ પ્રદાન કરો.
૩. સમગ્ર વિશ્વને ઇન્દ્ર જેવા વૈભવનું દાન આપનાર, મુરારિ માટે આનંદરૂપ લક્ષ્મીજીની અર્ધમીલિત દ્રષ્ટિ મારી પર ક્ષણવાર માટે પણ પડો.
૪. આનંદ રૂપ, અનિમેષ અને પ્રેમના ભંડાર શ્રી મુકુંદને આંખો મીંચીને સૂતેલા જોઈને, આનંદથી અર્ધમીલિત નેત્રો દ્વારા જોનાર, શેષશાયી વિષ્ણુના પત્ની શ્રી લક્ષ્મીજીની તે અર્ધમીલિત દ્રષ્ટિ અમને સમૃદ્ધિનું દાન કરો.
૫. મઘુરાક્ષસને જીતનાર, કૌસ્તૂભ મણિને છાતી પર ધારણ કરનાર શ્રી વિષ્ણુના ઉર પર દ્રષ્ટિની લીલી અને શ્યામરંગની દ્રષ્ટિ રૂપી માળા શોભે છે. ભગવાનમાં પણ પ્રેમ જગાડનાર, શ્રી લક્ષ્મીજીની નેત્રોની કટાક્ષમાલા મારૂં કલ્યાણ કરો.
૬. જેમ કાળા વાદળોમાં વિજળી ચમકે છે, તે રીતે મેઘ શ્યામ શ્રી વિષ્ણુની છાતી પર શ્રી લક્ષ્મીજી પૂજનીય મૂર્તિ ચળકે છે. તે સમસ્ત જગતને પૂજ્ય અને ભાર્ગવપુત્રીની મૂર્તિ અમને કલ્યાણનું પ્રદાન કરો.
૭. જેના પ્રભાવથી કામદેવે મંગલકારી, મઘુ દૈત્યનો નાશ કરનાર વિષ્ણુના હૃદયમાં સ્થાન જમાવ્યું છે. તે સમુદ્રપુત્રીની મદભરેલી અને અર્ધમીલિત દર્ષ્ટિ ધીરે ધીરે મારી પર પડો. (તેમની કૃપાદ્રષ્ટિ થાઓ.
૮. શ્રી નારાયણની પ્રિયતમાના નેત્રોમાંથી નિકળતો કરૂણાજળનો પ્રવાહ, આ દરિદ્ર, દરિદ્રતાથી ખિન્ન, નિઃસહાય પક્ષી જેવા બાળક પર, દયારૂપી પવનથી વરસી રહો અને દુષ્કર્મરૂપ તાપને કાયમ માટે દૂર કરી દો.
૯. વિશિષ્ટ બુદ્ધિ ધરાવતા, લક્ષ્મીજીને પ્રિય એવા લોકો જેમની દયાર્ક દ્રષ્ટિને લઇને સ્વર્ગપદને સરળતાથી પ્રાપ્ત કરે છે. એવી ખીલેલા કમળની શોભા ધરાવતી શ્રી લક્ષ્મીજીની ઇષ્ટ દ્રષ્ટિ, મને પુષ્ટ કરો.
૧૦. સૃષ્ટિના સર્જન, પાલન અને સંહારની રમતમાં જે સરસ્વતી, ગરૂડઘ્વજ વિષ્ણુની પત્ની, શાકંભરી કે ભગવાન શંકરની વલ્લભા એવા સ્વરૂપને સ્થિત છે. તે ત્રણ લોકના ગુરૂ (શ્રી વિષ્ણુજીની ભાર્યા, લક્ષ્મીજીને નમસ્કાર.
૧૧. શુભકર્મોનું ફલ આપનાર શ્રુતિને નમસ્કાર. સૌંદર્યના ગુણોની ભંડાર રતિને નમસ્કાર. કમળમાં વાસ કરનાર શક્તિને નમસ્કાર. પુરૂષોત્તમને પ્રિય એવી પુષ્ટિને નમસ્કાર.
૧૨. કમળની નાળ જેવા સુંદર મુખને ધારણ કરનારને વંદન. ક્ષીર સાગરમાંથી પ્રગટ થયેલ (લક્ષ્મી)ને વંદન. ચંદ્ર અને અમૃતની ભગિનીને વંદન. નારાયણ વલ્લભાને વંદન.
૧૩. હે કમળ જેવું મુખ ધારણ કરનાર લક્ષ્મીજી, આપને વંદન કરવાથી સુખ-સમૃઘ્ધિ મળે છે. સામ્રાજ્ય જેવા વૈભવ મળે છે. સમસ્ત પાપકર્મો નાશ પામે છે. હે માન્યે, મારા પર નિસદિન કૃપા બની રહે.
૧૪. જેમના કટાક્ષ (દ્રષ્ટિ)ની ઉપાસના કરનાર સેવકને બધી જ સુખ સમૃદ્ધિ લક્ષ્મીજી આપે છે તે સુરારિની હૃદયેશ્વરીને મન, વચન, કાયાથી હું ભજુ છું.
૧૫. કમળમાં રહેનાર, જેના હાથમાં કમળ છે તેવો દેવી, સફેદ વરપ્ર, સુગંધ અને માળાથી ઓપતા, ભગવતિ, હરિને પ્રિય અને મનને જાણનાર લક્ષ્મીજી, મારા પર પ્રસન્ન થાઓ.
૧૬. દિગ્ગજો દ્વારા સુવર્ણના કુંભમાંથી છોડાયેલ, સ્વર્ગંગાના સ્વચ્છ અને પવિત્રજળથી સ્નાન કરનાર, જગતની માતા અને સંપૂર્ણ ત્રિલોકના નાથની ગૃહિણી, અમૃત સાગરની પુત્રી શ્રી લક્ષ્મીને હું રોજ સવારે નમસ્કાર કરૂં છું.
૧૭. હે કમલા, હે કમલાક્ષ વિષ્ણુને પ્રિય, તમારી કરૂણાથી ભરપુર દ્રષ્ટિથી, દરિદ્રોના અગ્રણી, આપની દયાને પાત્ર એવા મારા પર જોવાની કૃપા કરો.
૧૮. જે લોકો દરરોજ આ સ્તુતિથી, વેદસ્વરૂપ, ત્રણેય લોકોની માતા રમાની સ્તુતિ કરે છે તે લોકો જગતમાં અધિક ભાગ્યશાળી, અધિક ગુણવાન અને બુદ્ધિમાન પુરૂષોના આદરપાત્ર બને છે.
નાનકડા મંત્રથી કુબેર વર્ષાવશે ધન–  
કુબેર મહારાજ ભગવાનના કોશાધ્યક્ષ છે. તેમની પાસે જ ભગવાનના ખજાનાની ચાવી છે. કહેવાય છે કે લક્ષ્મી ધનનું આશીર્વાદ આપે છે પરંતુ કુબેર ધનની વર્ષા કરે છે. જો કુબેરને આકર્ષી ધન પ્રાપ્ત કરવું હોય તો દ્વિપુષ્કર, ત્રિપુષ્કર યોગ અથવા દીવાળીની રાતે સંકલ્પ લઈને નિયમિત આ નીચે આપેલાં મંત્રનું ત્રણવાર અથવા ઓછામાં ઓછી એક માળા જાપ કરવી. જાપ સમયે મોઢું ઉત્તર દિશા તરફ રાખવું.
મંત્રઃ
यक्षाय कुबेराय वैश्रवणायधनधान्यधिपतये। धनधान्यसमृद्घिं मेंदेहि दापाय स्वाहा।।
Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

आज कोर्ट में एक अजीब मुकद्दमा चल रहा था


आज कोर्ट में एक अजीब मुकद्दमा चल रहा था, *एक ग्रामीण ने तोप के लाइसेंस के लिये आवेदन दिया था*, और इसे देखने हज़ारों की भीड़ और मीडिया कोर्ट में हाज़िर थे।
जज ग्रामीण से ये पूछे : तुमने तोप के लाइसेंस के लिए आवेदन पूरे होशोहवाश में दिया है?😳😳
ग्रामीण- जी हां जज साहब
जज- क्या तुम अदालत को बताओगे कि ये तोप तुम कहाँ और किस पर चलाने वाले हो।
ग्रामीण- जज साहब
पिछले साल मैंने अपने ग्रामीण बैंक में 1 लाख रुपये के बेरोजगार लोन के लिये आवेदन किया, बैंक वालो ने पूरी जाँच पड़ताल कर मुझे 10 हज़ार रुपये का लोन प्रदान किया।
उसके बाद मेरी बहन की शादी में मैंने राशन से 100 किलो शक्कर के लिए आवेदन किया और मुझे राशन से सिर्फ 10 किलो शक्कर मिली।
अभी कुछ दिन पहले जब मेरी फ़सल 🌾🌾बाढ़ में डूब गयी तो पटवारी ने मेरे लिए 50 हज़ार रुपये का मुवायजा स्वीकृत करने की बात करके गया और मेरे खाते में मात्र 5 हज़ार रुपये ही आये।
इसलिए अब मैं सरकारी कार्यप्रणाली को बहुत अच्छे से समझ गया हूँ, मुझे तो बंदर भगाने के लिये पिस्तौल 🔫🔫का लाइसेन्स चाहिए था पर मैंने सोचा की यदि मैं पिस्तौल के लाइसेन्स का आवेदन करूँगा तो मुझे कही आप गुलेल का लाइसेन्स न देदे, इसलिए मैंने तोप के लाइसेन्स का आवेदन किया।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बादशाह अपने कुत्ते के साथ नाव में यात्रा कर रहा था ।


एक बादशाह अपने कुत्ते के साथ नाव में यात्रा कर रहा था । उस नाव में अन्य यात्रियों के साथ एक दार्शनिक भी था ।
.
कुत्ते ने कभी नौका में सफर नहीं किया था, इसलिए वह अपने को सहज महसूस नहीं कर पा रहा था । वह उछल-कूद कर रहा था और किसी को चैन से नहीं बैठने दे रहा था ।
.
मल्लाह उसकी उछल-कूद से परेशान था कि ऐसी स्थिति में यात्रियों की हड़बड़ाहट से नाव डूब जाएगी । वह भी डूबेगा और दूसरों को भी ले डूबेगा । परन्तु कुत्ता अपने स्वभाव के कारण उछल-कूद में लगा था । ऐसी स्थिति देखकर बादशाह भी गुस्से में था । पर, कुत्ते को सुधारने का कोई उपाय उन्हें समझ में नहीं आ रहा था ।
.
नाव में बैठे दार्शनिक से रहा नहीं गया । वह बादशाह के पास गया और बोला – “सरकार ! अगर आप इजाजत दें तो मैं इस कुत्ते को भीगी बिल्ली बना सकता हूँ ।” बादशाह ने तत्काल अनुमति दे दी । दार्शनिक ने दो यात्रियों का सहारा लिया और उस कुत्ते को नाव से उठाकर नदी में फेंक दिया । कुत्ता तैरता हुआ नाव के खूंटे को पकड़ने लगा । उसको अब अपनी जान के लाले पड़ रहे थे । कुछ देर बाद दार्शनिक ने उसे खींचकर नाव में चढ़ा लिया ।
.

वह कुत्ता चुपके से जाकर एक कोने में बैठ गया । नाव के यात्रियों के साथ बादशाह को भी उस कुत्ते के बदले व्यवहार पर बड़ा आश्चर्य हुआ । बादशाह ने दार्शनिक से पूछा – “यह पहले तो उछल-कूद और हरकतें कर रहा था, अब देखो कैसे यह पालतू बकरी की तरह बैठा है ?”
.
दार्शनिक बोला –
“खुद तकलीफ का स्वाद चखे बिना किसी को दूसरे की विपत्ति का अहसास नहीं होता है । इस कुत्ते को जब मैंने पानी में फेंक दिया तो इसे पानी की ताकत और नाव की उपयोगिता समझ में आ गयी ।”
*भारत में रहकर
भारत को गाली देने वालों के लिए*….

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

जब ओवैसी के दादा को पटेल ने जेल में ठूंस दिया था


जब ओवैसी के दादा को पटेल ने जेल में ठूंस दिया था

13 सितम्बर 1948 को भारत में पहली बार इमरजेंसी जैसी स्थिति बनी. ये 1975 की इंदिरा इमरजेंसी से अलग थी. इस दिन भारत के 36 हज़ार सैनिकों ने हैदराबाद में डेरा डाला. 13 से लेकर 17 सितम्बर तक भयानक क़त्ल-ए-आम हुआ. कहा गया कि हजारों लोगों को लाइन में खड़ा कर गोली मार दी गई. आर्मी ने इसे ‘ऑपरेशन पोलो’ कहा था. कुछ हिस्से में ये ‘ऑपरेशन कैटरपिलर’ भी कहा गया. सरदार पटेल ने दुनिया को बताया कि ये ‘पुलिस एक्शन’ था.

दुनिया के सबसे धनी लोगों में से एक निज़ाम चाहते थे अलग देश

निज़ाम

भारत की आज़ादी के बाद कई रियासतें अपना अलग देश चाहती थीं. पर भारत सरकार इस बात के लिए तैयार नहीं थी. क्योंकि ये संभव नहीं था. कोई भी तर्क उनकी बात के पक्ष में नहीं जाता था. नतीजन प्यार से या फटकार से, सबको भारत के साथ मिलना पड़ा. पर कुछ रियासतों ने भारत को चुनौती देने का मन बना लिया था. इनमें से एक रियासत थी हैदराबाद रियासत. यहां पर समरकंद से आये आसफजाह की वंशावली चलती थी. ये लोग मुगलों की तरफ से इस रियासत के गवर्नर थे. औरंगजेब के बाद इनका राज हो गया था यहां. इनको निज़ाम कहते थे. तो 1948 में निज़ाम उस्मान अली खान आसफजाह सातवें उस प्रजा पर राज करते थे, जिसमें ज्यादातर हिंदू थे. निज़ाम उस वक़्त दुनिया के सबसे धनी लोगों में से एक थे.

निज़ाम का सपना था कि अपना एक अलग देश हो. इसके लिए अपनी आर्मी के अलावा उन्होंने एक अलग आर्मी बना रखी थी. जिसमें मुस्लिम समुदाय के लोग थे. इनको रजाकार कहते थे. इसके पहले निज़ाम ब्रिटिश सरकार के पास भी जा चुके थे. कि कॉमनवेल्थ के अधीन इनका अपना देश हो. पर माउंटबेटन ने मना कर दिया था. A. G. Noorani ने लिखा है कि नेहरू बातचीत से मामला सुलझाना चाहते थे. पर सरदार पटेल के पास बात करने के लिए धैर्य नहीं था.

एग्रीमेंट टूटते गए, देश से लेकर अमेरिका तक बात पहुंची

अभी तक हैदराबाद से एग्रीमेंट हुआ था कि आप अपना राज्य चलाइए अभी. बस भारत सरकार आपके फॉरेन रिलेशन देखेगी. साथ ही पाकिस्तान से आपको कोई सम्बन्ध नहीं रखना है. पर हैदराबाद रियासत ने पाक को करोड़ों रुपये भी दिए थे. इस नाते दोनों पक्ष एक-दूसरे पर एग्रीमेंट तोड़ने का इल्जाम लगाते रहते. रियासत ने आरोप लगाया कि भारत सरकार उनको चारों तरफ से घेर रही है. सरकार ने कहा कि आप हमारी करेंसी तक तो यूज नहीं कर रहे. पाकिस्तान से हथियार मंगवा रहे हैं. रजाकार की सेना बना रहे हैं. क्या चाहते हैं?

रजाकार

माउंटबेटन ने जून 1948 में फिर एक एग्रीमेंट रखा. इसके मुताबिक सब चलता रहेगा वैसे ही. निज़ाम हेड ऑफ़ स्टेट रहेंगे. पर धीरे-धीरे जनता का फैसला लाया जायेगा. भारत सरकार तैयार हो गई. पर निज़ाम तैयार नहीं हुए. उनको पूर्ण स्वराज चाहिए था. इसके लिए उन्होंने यूएन और अमेरिका के राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन की भी मदद मांगी. पर मिली नहीं. उन लोगों ने कुछ नहीं बोला.

ओवैसी के दादाजी बने रजाकारों के मुखिया, बनाना चाहते थे इस्लामिक देश

हैदराबाद में पहले से ही कम्युनल टेंशन था. इसी के साथ तेलंगाना को लेकर विरोध था. उसी वक़्त मुसलमानों का एक ग्रुप बना था MIM जिसके मुखिया थे नवाब बहादुर यार जंग. इनके मरने के बाद मुखिया बने कासिम रिजवी, जो कि अभी के हैदराबाद के ओवैसी भाइयों के दादा जी हैं. कासिम रजाकारों के नेता थे. इन लोगों का उद्देश्य था इस्लामिक राज्य बनाना. ये डेमोक्रेसी को नहीं मानते थे. इन लोगों ने आतंक फैला दिया. जो भी इनके खिलाफ था, इनका दुश्मन था. कम्युनिस्ट और मुसलमान जो इनसे अलग थे, वो भी इनके टारगेट थे. मेन टारगेट थे हिन्दू. नतीजन हजारों लोगों को मारा जाने लगा. औरतों का रेप हुआ. इनको लगा कि ऐसा करने से इनका महान राज्य बन जायेगा.

भारत सरकार का धैर्य टूट गया. सरदार पटेल ने सेना की टुकड़ी हैदराबाद में भेज दी. सेना के पहुंचने के बाद 5 दिन तक जबरदस्त लड़ाई हुई. पुलिस एक्शन बताने के चलते दुनिया के किसी और देश ने हाथ नहीं डाला. मिलिट्री एक्शन कहते ही दुनिया के बाकी देश भारत पर इल्जाम लगा देते कि भारत ने किसी दूसरे देश पर हमला कर दिया है. रजाकारों को पूरी तरह बर्बाद कर दिया गया. कासिम को जेल में डाल दिया गया. इनके ऑफिस दारुस्सलाम को फायर स्टेशन बना दिया गया. MIM के नेताओं को पाकिस्तान भेज दिया गया या पब्लिक में निकलने से रोक दिया गया. बाद में कासिम को जेल से निकलने पर दो दिन का टाइम दिया गया पाकिस्तान जाने के लिए. MIM को एकदम बंद कर दिया गया. ये वही पार्टी है, जिसे अब ओवैसी भाई AIMIM के नाम से चलाते हैं.

ऑपरेशन पोलो के बाद नेहरू, निज़ाम और जे एन चौधरी

 आरोप लगे थे इंडियन आर्मी पर, 65 साल बाद आई रिपोर्ट

हैदराबाद के मेजर जनरल सैयद अहमद भारत के मेजर जनरल जे एन चौधरी को सरेंडर करते हुए

इस लड़ाई पर कई आरोप लगे. इल्जाम था कि सेना और सिविल के लोगों ने हैदराबाद में लूटपाट और रेप की इन्तहा कर दी थी. पर इन सारी बातों को बाहर नहीं आने दिया गया. इसके लिए सुन्दर लाल कमिटी भी बनाई गई. पर इसकी रिपोर्ट बाहर आने में 65 साल लग गए! 2013 में ये रिपोर्ट बाहर आई. कई लोगों के मुताबिक इस लड़ाई में 10-40 हज़ार लोग मारे गए थे. कुछ कहते हैं कि दो लाख के करीब लोग मरे थे!

Almost everywhere in the effected (sic) areas communal frenzy did not exhaust itself in murder, alone in which at some places even women and children were not spared. Rape, abduction of women (sometimes out of the state to Indian towns such as Sholapur and Nagpur) loot, arson, desecretion (sic) of mosques, forcible conversions, seizure of houses and lands, followed or accompanied the killing.
— The Sundar Lal Committee Report

Duty also compels us to add that we had absolutely unimpeachable evidence to the effect that there were instances in which men belonging to the Indian Army and also to the local police took part in looting and even other crimes. During our tour we gathered, at not a few places, that soldiers encouraged, persuaded and in a few cases even compelled the Hindu mob to loot Muslim shops and houses. At one district town the present Hindu head of the administration told us that there was a general loot of Muslim shops by the military. In another district a Munsif house, among others was looted by soldiers and a Tahsildar’s wife molested.
— The Sundar Lal Committee Report

रिपोर्ट ने साफ़-साफ़ हैदराबाद स्टेट में हुए लूट-पाट और रेप का ब्योरा दिया है. हैदराबाद का भारत में विलय हो तो गया पर इसके लिए बड़ी कीमत चुकानी पड़ी. ये सोचना बड़ा मुश्किल हो जाता है कि क्या होता, तो क्या होता. पर जो लोग एकता और अखंडता की बात करते हैं, उनको तो कम-से-कम ये नहीं ही करना चाहिए था. लड़ाई में मरना-मारना तो अलग बात होती है. पर लड़ाई के अलावा अपनी कुंठा निकालना किसी भी देश के इतिहास को दागी बना देता है.


Reference:

1.Writings of A. G. Noorani

2.October Coup- Mohammad Hyder

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

फूल का पौधा


फूल का पौधा

बहुत ही पुराने समय की बात है । मिस्र देश का एक राजा था जिस पर देवता प्रसन्न हो गये और उसके पास आये और उसे उपहार स्वरुप एक चमत्कारी तलवार दी और उसे बोले कि जाओ और दुनिया फतह करो । इस पर राजा ने भगवान से सवाल किया कि ” भगवन आप भी कमाल करते है भला मुझे किस चीज़ की कमी है जो मैं पूरी दुनिया को फतह करूँ ।”

इस पर देवता ने फिर से कुछ सोचकर “पारसमणि देते हुए राजा से कहा ये लो पारसमणि और जितना चाहे उतना धन की प्राप्ति करो ।” इस पर राजा ने फिर से सवाल किया ” भगवान मैं इतना धन प्राप्त करकर क्या करूँगा बताओ ।” राजा ने वो लेने से भी मना कर दिया ।

इस पर देवता ने उसे एक अप्सरा देते हुए कहा ” ये लो मैं तुम्हे तुम्हारे साथ रहने को ये खूबसूरत अप्सरा देता हूँ ।” इस पर राजा ने कहा भगवान मुझे ये भी नहीं चाहिए आपके पास इन सब से कुछ बेहतर हो तो बताओ ।

देवता अब सोचा में पड़ गया और कहने लगा सभी मनुष्य तो यही सब पाने के लिए संघर्ष करते है और मैं तुम्हे सहर्ष इतना सब दे रहा हूँ फिर भी तुम मना कर रहे हो तो तुम ही बताओ मैं तुम्हारे लिए किस चीज़ की व्यवस्था करूँ जो तुम्हे पसंद हो ।

राजा ने देवता से कहा ” भगवान जरा सोचिये मैं अगर तलवार को धारण करता हूँ तो भी उसकी धार भी एक न एक दिन चली जाएगी और नहीं तो मैं कोइंसा युगों युगों तक यंहा रहने वाला हूँ और अगर अप्सरा के लिए हाँ करता हूँ तो उसका सौंदर्य भी तो कोई अतुलनीय नहीं है । जबकि अगर पारसमणि को धारण करता हूँ तो धन भी कोई मुक्ति का मार्ग नहीं है तो मैं क्योंकर इन सब की इच्छा रखूं ?

इस पर राजा ने जारी रखते हुए कहा प्राकृतिक सौन्दर्य से तो देवता भी धरती पर विचरण के लिए आते है इसलिए आप मुझे यह फूलों का पौधा ही दे दीजिये मैं इसे बड़ा होते और इसमें फूलो को खिलते हुए देखूंगा इस से रमणीय मेरे लिए कुछ अधिक नहीं हो सकता ।

Posted in संस्कृत साहित्य

पितृ पक्ष


दोस्तों..
आज से पितृ पक्ष शुरू हो गए हैं.हिन्दू धर्म में मृत्यु के बाद श्राद्ध करना बेहद जरूरी माना जाता है। मान्यतानुसार अगर किसी मनुष्य का विधिपूर्वक श्राद्ध और तर्पण ना किया जाए तो उसे इस लोक से मुक्ति नहीं मिलती और वह भूत के रूप में इस संसार में ही रह जाता है।
पितृ पक्ष का महत्त्व
————————
ब्रह्म वैवर्त पुराण के अनुसार देवताओं को प्रसन्न करने से पहले मनुष्य को अपने पितरों यानि पूर्वजों को प्रसन्न करना चाहिए। हिन्दू ज्योतिष के अनुसार भी पितृ दोष को सबसे जटिल कुंडली दोषों में से एक माना जाता है। पितरों की शांति के लिए हर वर्ष भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक के काल को पितृ पक्ष श्राद्ध होते हैं। मान्यता है कि इस दौरान कुछ समय के लिए यमराज पितरों को आजाद कर देते हैं ताकि वह अपने परिजनों से श्राद्ध ग्रहण कर सकें।
इस वर्ष में पितृ पक्ष श्राद्ध की तिथियां निम्न हैं:
तारीख दिन श्राद्ध तिथियाँ
16 सितंबर शुक्रवार पूर्णिमा श्राद्ध
17 सितंबर शनिवार प्रतिपदा
18 सितंबर रविवार द्वितीया तिथि
19 सितंबर सोमवार तृतीया – चतुर्थी (एक साथ)
20 सितंबर मंगलवार पंचमी तिथि
21 सितंबर बुधवार षष्ठी तिथि
22 सितंबर गुरुवार सप्तमी तिथि
23 सितंबर शुक्रवार अष्टमी तिथि
24 सितंबर शनिवार नवमी तिथि
25 सितंबर रविवार दशमी तिथि
26 सितंबर सोमवार एकादशी तिथि
27 सितंबर मंगलवार द्वादशी तिथि
28 सितंबर बुधवार त्रयोदशी तिथि
29 सितंबर गुरुवार अमावस्या व सर्वपितृ श्राद्ध
श्राद्ध क्या है..??
*******
ब्रह्म पुराण के अनुसार जो भी वस्तु उचित काल या स्थान पर पितरों के नाम उचित विधि द्वारा ब्राह्मणों को श्रद्धापूर्वक दिया जाए वह श्राद्ध कहलाता है। श्राद्ध के माध्यम से पितरों को तृप्ति के लिए भोजन पहुंचाया जाता है। पिण्ड रूप में पितरों को दिया गया भोजन श्राद्ध का अहम हिस्सा होता है।
क्यों जरूरी है श्राद्ध देना…?
******************
मान्यता है कि अगर पितर रुष्ट हो जाए तो मनुष्य को जीवन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। पितरों की अशांति के कारण धन हानि और संतान पक्ष से समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। संतान-हीनता के मामलों में ज्योतिषी पितृ दोष को अवश्य देखते हैं। ऐसे लोगों को पितृ पक्ष के दौरान श्राद्ध अवश्य करना चाहिए।
क्या दिया जाता है श्राद्ध में..?
******************
श्राद्ध में तिल, चावल, जौ आदि को अधिक महत्त्व दिया जाता है। साथ ही पुराणों में इस बात का भी जिक्र है कि श्राद्ध का अधिकार केवल योग्य ब्राह्मणों को है। श्राद्ध में तिल और कुशा का सर्वाधिक महत्त्व होता है। श्राद्ध में पितरों को अर्पित किए जाने वाले भोज्य पदार्थ को पिंडी रूप में अर्पित करना चाहिए। श्राद्ध का अधिकार पुत्र, भाई, पौत्र, प्रपौत्र समेत महिलाओं को भी होता है।
श्राद्ध में कौओं का महत्त्व
***************
कौए को पितरों का रूप माना जाता है। मान्यता है कि श्राद्ध ग्रहण करने के लिए हमारे पितर कौए का रूप धारण कर नियत तिथि पर दोपहर के समय हमारे घर आते हैं। अगर उन्हें श्राद्ध नहीं मिलता तो वह रुष्ट हो जाते हैं। इस कारण श्राद्ध का प्रथम अंश कौओं को दिया जाता है।
किस तारीख में करना चाहिए श्राद्ध?
सरल शब्दों में समझा जाए तो श्राद्ध दिवंगत परिजनों को उनकी मृत्यु की तिथि पर श्रद्धापूर्वक याद किया जाना है। अगर किसी परिजन की मृत्यु प्रतिपदा को हुई हो तो उनका श्राद्ध प्रतिपदा के दिन ही किया जाता है। इसी प्रकार अन्य दिनों में भी ऐसा ही किया जाता है। इस विषय में कुछ विशेष मान्यता भी है जो निम्न हैं:
* पिता का श्राद्ध अष्टमी के दिन और माता का नवमी के दिन किया जाता है।
* जिन परिजनों की अकाल मृत्यु हुई जो यानि किसी दुर्घटना या आत्महत्या के कारण हुई हो उनका श्राद्ध चतुर्दशी के दिन किया जाता है।
* साधु और संन्यासियों का श्राद्ध द्वाद्वशी के दिन किया जाता है।
* जिन पितरों के मरने की तिथि याद नहीं है, उनका श्राद्ध अमावस्या के दिन किया जाता है। इस दिन को सर्व पितृ श्राद्ध कहा जाता है।
Photo
11 plus ones

11