Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

जिंदगी के सफ़र में चलते चलते हर मुकाम पर यही सवाल परेशान करता रहा….


😑 जिंदगी के सफ़र में चलते चलते हर मुकाम पर यही सवाल परेशान करता रहा….

*कुछ रह तो नहीं गया?*

😑 3 महीने के बच्चे को दाई के पास रखकर जॉब पर जानेवाली माँ को दाई ने पूछा… कुछ रह तो नहीं गया?
पर्स, चाबी सब ले लिया ना?
अब वो कैसे हाँ कहे?
पैसे के पीछे भागते भागते… सब कुछ पाने की ख्वाईश में वो जिसके लिये सब कुछ कर रही है ,
*वह ही रह गया है…..*

😑 शादी में दुल्हन को बिदा करते ही
शादी का हॉल खाली करते हुए दुल्हन की बुआ ने पूछा…”भैया, कुछ रह तो नहीं गया ना?
चेक करो ठीकसे ।
.. बाप चेक करने गया तो दुल्हन के रूम में कुछ फूल सूखे पड़े थे ।
सब कुछ तो पीछे रह गया…
25 साल जो नाम लेकर जिसको आवाज देता था लाड से…
वो नाम पीछे रह गया और उस नाम के आगे गर्व से जो नाम लगाता था
वो नाम भी पीछे रह गया अब …

“भैया, देखा?
कुछ पीछे तो नहीं रह गया?”
बुआ के इस सवाल पर आँखों में आये आंसू छुपाते बाप जुबाँ से तो नहीं बोला….
पर दिल में एक ही आवाज थी…

*सब कुछ तो यही रह गया…*

😑 बडी तमन्नाओ के साथ बेटे को पढ़ाई के लिए विदेश भेजा था और वह पढ़कर वही सैटल हो गया ,
पौत्र जन्म पर बमुश्किल 3 माह का वीजा मिला था और चलते वक्त बेटे ने प्रश्न किया सब कुछ चैक कर लिया कुछ रह तो नही गया ?
क्या जबाब देते कि
*अब छूटने को बचा ही क्या है ….**

😑 60 वर्ष पूर्ण कर सेवानिवृत्ति की शाम पी ए ने याद दिलाया चेक कर ले सर कुछ रह तो नही गया ;
थोडा रूका और सोचा पूरी जिन्दगी तो यही आने- जाने मे बीत गई ; *अब और क्या रह गया होगा ।*

😑 “कुछ रह तो नहीं गया?
” शमशान से लौटते वक्त किसी ने पूछा । नहीं कहते हुए वो आगे बढ़ा…
पर नजर फेर ली,
एक बार पीछे देखने के लिए….पिता की चिता की सुलगती आग देखकर मन भर आया ।
भागते हुए गया ,पिता के चेहरे की झलक तलाशने की असफल कोशिश की और वापिस लौट आया ।।

दोस्त ने पूछा… कुछ रह गया था क्या?

भरी आँखों से बोला…
*नहीं कुछ भी नहीं रहा अब…और जो कुछ भी रह गया है वह सदा मेरे साथ रहेगा* ।।

😑 एक बार समय निकालकर सोचे , शायद पुराना समय याद आ जाए, आंखें भर आएं और आज को जी भर जीने का मकसद मिल जाए।
……..में अपने सभी दोस्तों से ये ही बोलना चाहता हूँ…….
यारों क्या पता
कब इस जीवन की शाम हो जाये…….
इससे पहले ऐसा हो सब को गले लगा लो दो प्यार भरी बातें करलो…..

*ताकि कुछ छूट न जाये।।।।।*

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

सरदारों पे जोक सुनते हो अब ये पढ़ो…


सरदारों पे जोक सुनते हो अब ये पढ़ो…

1-एक सरदार हुआ हुआ है इस दुनिया मे उसका नाम है सरदार हरी सिंह नलवा इसकी मूर्ति बराक ओबामा अपनी सिट के पीछे लगाना चाहता है पूछो क्यूँ
क्योंकि वो कहता है यही मर्द सुरमा माँ ने पैदा किया है जिसने आज तक अफ़ग़ानिस्तान में राज किया है

2-चल एक और
दो सरदार ट्रेन के निचे आ गये इसलिये नही की शताब्दी प्लेटफार्म पे आ रही थी
बल्की इसलिये की ट्रेन रोकनी जरुरी थी
क्योंकि अंग्रेज स्वतंत्रता सैनानी को बंदी बना के ले जा रहे थे

3-चल एक और
पाकिस्तान आर्मी के भूतपूर्व जनरल का बयान 65 और 71 की जंग हम सरदारों की वजह से हारे

4-चल एक और
पाकिस्तान के जनरल का कहना है अगर पाकिस्तान और हिंदुस्तान की बोर्डर के बिच अगर पंजाब न होता….
तो हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनाने में दो घण्टे लगेंगे क्यूँकि आज भी पाकिस्तान सरदारों से डरता है

5-चल एक और
दुनिया में सरदारों की गिनती सिर्फ 2% है और सभी जगह मिलते है सरदार, भारत के 50% से ज्यादा गरीबों का पेट गुरुद्वारे के लंगर(खाना) से भरता है…
Proud to be a sikh…
शेयर करो अगर सहमत हो तो.

अब एक प्रश्न जो लोग हमेशा पूछते हैं।
सर :सारे जोक्स सरदारों पर क्यूँ बनते है..??
उत्तर ~ ये कॉंग्रेस की चाल थी सिखों और सनातनी को लड़ाने की जिससे की हिन्दू टूट जाए।
.
.
एक सिख विद्यार्थी :”जब देश कमजोर था तो उससे अपनी बहु-बेटियों को मुगलों से बचाने के लिये सिखों की जरुरत थी.
.
.
सिखों ने रक्षा की (इज़्ज़त बचाई)
.
.
फिर आजादी में सिखों की जरुरत थी,
सिखों ने अपने योग मे 86% शहादत दी और फिर आजादी मिली
.
.
फिर देश को भूख लगी, सिखों ने हरित क्रांति लायी , गेहूँ उगाया और 90%अनाज दिया (भूख मिटी)
.
.
.
अब देश हँसना चाहता है तो जोक्स भी सरदारों पर.
.
.
.
.
यानी सरदार है तो इज़्ज़त है,
.
.
सरदार है तो सुरक्षा है,
.
.
सरदार है तो खाना है,
.
और
.
.
सरदार है तो हँसी है,और
.
ये सरदार है तो तुम्हारे घरों में पूजा होती है.
.
.
ये सरदार है तभी हमारे बोर्डर पर सुरक्षा होती है
.
.
ये सरदार है तो ज़िन्दगी आसान है.
.
ये सरदार देश की शान है.
✌👌😄😄😄😄
लो आज सुनो कौन होते है सरदार?
जिसने ऊँच-नीच का फर्क मिटाया
गुरू नानक देव जी सरदार थे;

जिसने हिन्द के लिये सर कटवाया
श्री गुरु तेग बहादुर जी सरदार थे,

जिसने धर्म के लिये परिवार गवाया-
श्री गुरु गोबिंद सिंह जी सरदार थे;

गर्म तवे में बैठ के अपने प्राणों को दिया वार-
श्री गुरु अर्जन देव जी सरदार थे,

देश के लिये फाँसी को गले लगाया-
भगत सिंह सरदार थे,

जालियावाला बाग़ गोलीकांड के हत्यारे को जिसने लंदन जा कर दिया मार-
ऊधम सिंह सरदार थे,

इनके सर सेहरा शहीदी का और गले क़ुरबानी का हार;
ये होता है “सरदार”,,,,,

अब वो सीख भाई खुद को पहचाने और मुल्लों से उन अत्याचारों का बदला लें जो इन मुगलों ने सीख गुरुओं पर किया था ।