Posted in सुभाषित - Subhasit

‘P’ शब्द बहुत प्रिय है :-


‘P’ शब्द बहुत प्रिय है :-

 

हम जिंदगी भर P के पीछे भागते रहते है । जो मिलता है वह भी P और जो नहीं मिलता वह भी P ।

 

P  👨  पति

P  👩  पत्नि

P  👦  पुत्र

P  👧  पुत्री

P  👪  परिवार

P  💵  पैसा

P 💺  पद

P 🏡  प्रतिष्ठा

P 😇 प्रशंसा

P ❤ प्रेम

ये सब P के पीछे पड़ते-पड़ते हम पाप करते है यह भी P है ।  फिर हमारा P से पतन होता है और अंत मे बचता है सिर्फ, P से पछतावा ।  पाप के P के पीछे पड़ने से अच्छा है परमात्मा के P के पीछे पड़े।

और P से कुछ पुण्य कमाये.

 

P से प्रणाम..

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s