Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

महाशिवरात्रि


[06/03 11:23 pm] Sachin Maniyar: सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्रिशैले मल्लिकार्जुनम् ।
उज्जयिन्यां महाकालमोमकारममलेश्वरम् ॥

परल्यां वैद्यनाथं च डाकिन्यां भीमशंकरम् ।
सेतुबन्धे तु रामेशं नागेशं दारूकावने ॥

वाराणस्यां तु विश्वेशं त्र्यंबकं गौतमी तटे ।
हिमालये तु केदारं घुश्मेशं च शिवालये ॥

एतानि ज्योतिर्लिंगानि सायं प्रात: पठेन्नर: ।
सप्तजन्मकृतं पापं स्मरणेन विनश्यति ॥
🙏
ज्ञान, शांति, संतोष, त्याग, वैराग्य, आध्यात्मिकता, सहजता, तप

ऐसे शिवजी के सभी गुण हमारे जीवन में संक्रांत हो एसी अभ्यथॅना सह

आप को महा शिवरात्रि के पावन दिन पर ढेर सारी शुभकामनाएँ
[07/03 1:07 am] Mukesh Superviser: .   🍃 ॐ नम: सिवाय🍃
🌷**•🍃•*´`*•¸🍃¸•*´`*•.🌷
            ,-“””-,
           !  ==  !
           !   @  !🍃🍃
  🍃 (”'””””””””””)===
🍃🍃 ‘>——<''''''''"🍃🍃
🌷**•🍃•*´`*•¸🍃¸•*´`*•.🌷
   🙏 हर हर महादेव हर 🙏
🌷**•🍃•*´`*•¸🍃¸•*´`*•.🌷  
  ॐॐॐजयशिवशंकरॐॐॐ
🌷**•🍃•*´`*•¸🍃¸•*´`*•.🌷
  ॐॐनमःपावॅतीपतेयनमःॐॐ
🌷**•🍃•*´`*•¸🍃¸•*´`*•.🌷
     🍃 ॐ नम: सिवाय🍃
ॐॐॐॐ ॐॐॐॐ ॐॐॐy
     🍃 ॐ नम: सिवाय🍃
🍃🍂🍁🍃🍁🍃🍁🍂🍃
🙏જય જય શીવ શંભુ દાતાર🙏
🙏 Har Har mahadev. 🙏G M
भगवान शिव के 108 नाम —-
१- ॐ भोलेनाथ नमः
२-ॐ कैलाश पति नमः
३-ॐ भूतनाथ नमः
४-ॐ नंदराज नमः
५-ॐ नन्दी की सवारी नमः
६-ॐ ज्योतिलिंग नमः
७-ॐ महाकाल नमः
८-ॐ रुद्रनाथ नमः
९-ॐ भीमशंकर नमः
१०-ॐ नटराज नमः
११-ॐ प्रलेयन्कार नमः
१२-ॐ चंद्रमोली नमः
१३-ॐ डमरूधारी नमः
१४-ॐ चंद्रधारी नमः
१५-ॐ मलिकार्जुन नमः
१६-ॐ भीमेश्वर नमः
१७-ॐ विषधारी नमः
१८-ॐ बम भोले नमः
१९-ॐ ओंकार स्वामी नमः
२०-ॐ ओंकारेश्वर नमः
२१-ॐ शंकर त्रिशूलधारी नमः
२२-ॐ विश्वनाथ नमः
२३-ॐ अनादिदेव नमः
२४-ॐ उमापति नमः
२५-ॐ गोरापति नमः
२६-ॐ गणपिता नमः
२७-ॐ भोले बाबा नमः
२८-ॐ शिवजी नमः
२९-ॐ शम्भु नमः
३०-ॐ नीलकंठ नमः
३१-ॐ महाकालेश्वर नमः
३२-ॐ त्रिपुरारी नमः
३३-ॐ त्रिलोकनाथ नमः
३४-ॐ त्रिनेत्रधारी नमः
३५-ॐ बर्फानी बाबा नमः
३६-ॐ जगतपिता नमः
३७-ॐ मृत्युन्जन नमः
३८-ॐ नागधारी नमः
३९- ॐ रामेश्वर नमः
४०-ॐ लंकेश्वर नमः
४१-ॐ अमरनाथ नमः
४२-ॐ केदारनाथ नमः
४३-ॐ मंगलेश्वर नमः
४४-ॐ अर्धनारीश्वर नमः
४५-ॐ नागार्जुन नमः
४६-ॐ जटाधारी नमः
४७-ॐ नीलेश्वर नमः
४८-ॐ गलसर्पमाला नमः
४९- ॐ दीनानाथ नमः
५०-ॐ सोमनाथ नमः
५१-ॐ जोगी नमः
५२-ॐ भंडारी बाबा नमः
५३-ॐ बमलेहरी नमः
५४-ॐ गोरीशंकर नमः
५५-ॐ शिवाकांत नमः
५६-ॐ महेश्वराए नमः
५७-ॐ महेश नमः
५८-ॐ ओलोकानाथ नमः
५४-ॐ आदिनाथ नमः
६०-ॐ देवदेवेश्वर नमः
६१-ॐ प्राणनाथ नमः
६२-ॐ शिवम् नमः
६३-ॐ महादानी नमः
६४-ॐ शिवदानी नमः
६५-ॐ संकटहारी नमः
६६-ॐ महेश्वर नमः
६७-ॐ रुंडमालाधारी नमः
६८-ॐ जगपालनकर्ता नमः
६९-ॐ पशुपति नमः
७०-ॐ संगमेश्वर नमः
७१-ॐ दक्षेश्वर नमः
७२-ॐ घ्रेनश्वर नमः
७३-ॐ मणिमहेश नमः
७४-ॐ अनादी नमः
७५-ॐ अमर नमः
७६-ॐ आशुतोष महाराज नमः
७७-ॐ विलवकेश्वर नमः
७८-ॐ अचलेश्वर नमः
७९-ॐ अभयंकर नमः
८०-ॐ पातालेश्वर नमः
८१-ॐ धूधेश्वर नमः
८२-ॐ सर्पधारी नमः
८३-ॐ त्रिलोकिनरेश नमः
८४-ॐ हठ योगी नमः
८५-ॐ विश्लेश्वर नमः
८६- ॐ नागाधिराज नमः
८७- ॐ सर्वेश्वर नमः
८८-ॐ उमाकांत नमः
८९-ॐ बाबा चंद्रेश्वर नमः
९०-ॐ त्रिकालदर्शी नमः
९१-ॐ त्रिलोकी स्वामी नमः
९२-ॐ महादेव नमः
९३-ॐ गढ़शंकर नमः
९४-ॐ मुक्तेश्वर नमः
९५-ॐ नटेषर नमः
९६-ॐ गिरजापति नमः
९७- ॐ भद्रेश्वर नमः
९८-ॐ त्रिपुनाशक नमः
९९-ॐ निर्जेश्वर नमः
१०० -ॐ किरातेश्वर नमः
१०१-ॐ जागेश्वर नमः
१०२-ॐ अबधूतपति नमः
१०३ -ॐ भीलपति नमः
१०४-ॐ जितनाथ नमः
१०५-ॐ वृषेश्वर नमः
१०६-ॐ भूतेश्वर नमः
१०७-ॐ बैजूनाथ नमः
१०८-ॐ नागेश्वर नमः
[07/03 1:07 am] Mukesh Superviser: 🌷 महाशिवरात्रि 🌷

महाशिवरात्रि (सोमवार, 7 मार्च 2016) पर शिवजी को प्रसन्न करने के लिए यहां बताई जा रही आठ चीजें शिवलिंग पर चढ़ाएं। शिवपुराण के अनुसार शिव पूजा करने वाले भक्त की गरीबी और सभी परेशानियां दूर हो जाती है। जानिए शिवलिंग पर किस चीज को चढ़ाने से क्या मिलता है…

1⃣ जल
मंत्रों का उच्चारण करते हुए शिवलिंग पर जल चढ़ाने से हमारा स्वभाव शांत होता है।आचरण स्रेहमय होता है।

2⃣दूध
शिवलिंग पर दूध अर्पित करने से उत्तम स्वास्थ्य मिलता है। शक्ति मिलती है।

3⃣शहद
शहद चढ़ाने से हमारी वाणी में मिठास आती है।

4⃣दहि
दहि चढ़ाने से हमारा स्वभाव गंभीर होता है। कार्यों में सफलता और सुख मिलता है।

5⃣ धी
शिवलिंग पर  धी अर्पित करने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है। ताकत बढ़ती है।

6⃣ ईत्र
शिवलिंग को ईत्र से स्नान करवाने से हमारे बुरे विचार नष्ट होते हैं।शांति मिलती है और विचार पवित्र होते हैं।

7⃣ चंदन
शिवजी को चंदन चढ़ाने से हमारा व्यक्तित्व आकर्षक होता है। सम्मान प्राप्त होता है।

8⃣ केशर
शिवलिंग पर केशर मिला हुआ जल चढ़ाने से हमें सौम्यता प्राप्त होती है।
          🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞
🙏🏻🌷🍀🌹🌻🌺🌼🌸💐🙏🏻
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
आप को और आपके पुरे परिवार को महाशिवरात्रि के पावन पर्व की हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएँ।
🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂
भगवान भोलेनाथ की कृपा आप पर सदा बनी रहे।
🍃🍂👏।। जय श्री महाकाल।।👏🍃🍂
🚩थोड़ी मेहनत मेरे हाथ की बाकी कृपा भोलेनाथ की🚩
[07/03 1:30 am] Chetan Thakker: Very important to read.. especially for maha shivrathri…rituals follwers:

भगवान शिव की पूजा में रखे ध्यान
शिवलिंग पर ये चीजें कभी ना चढ़ाएं

दोस्तों भोलेनाथ को देवों के देव यानी महादेव कहलाते है। शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव ही आदि और अनंत हैं। सभी देवताओं में भगवान शिव ही एक मात्र ऐसे देवता हैं जिनकी लिंग रूप में भी पूजा की जाती है। भगवान भोलेनाथ सचमुच इतने भोले है कि वह जरा सी भक्ति से ही प्रसन्न हो जाते है। उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए उन्हें ऐसी बहुत सी चीजें अर्पित की जाती हैं जो अन्य किसी भी देवता को नहीं चढ़ाई जाती। जैसे आक, बेलपत्र, भांग, धतूरा आदि।

👉लेकिन बहुत सी ऐसी वस्तुएँ भी है जो और देवताओं को तो चढाई जाती है परन्तु भगवान आशुतोष की पूजा में उन्हें चढ़ाना पूर्णतया मना है शायद इसीलिए भूलवश या अज्ञानता वश शिव भक्तो को अपनी पूजा का पूर्ण फल नहीं मिल पाता है।

👉दोस्तों हिंदु धर्म में शंख को बहुत ही पवित्र माना जाता है, और लगभग सभी पूजा के कार्यों में शंख का प्रयोग होता है, लेकिन भगवान शिव के शिवलिंग पर शंख से जल चढ़ाना वर्जित है, इसलिये कभी भी शंख से जल नहीं चढ़ाना चाहिए।

👉तुलसी भी बहुत पवित्र मानी जाती है और लगभग सभी देवकार्यो में इसका प्रयोग होता है लेकिन तुलसी को भगवान भोलेनाथ पर चढ़ाना मना है। ऐसा बहुत से लोगो को पता ही नहीं है और वह नित्य भगवान शिव की पूजा में उन्हें तुलसी दल अर्पित करते है जिससे उनकी पूजा पूर्ण नहीं होती है, और दोष अलग से लग जाता हैं।

👉धार्मिक कार्यों में कई पूजन कार्य हल्दी के बिना पूर्ण नहीं माने जाते। लेकिन भगवान शिव को हल्दी अर्पित नहीं की जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हल्दी स्त्री सौंदर्य प्रसाधन में प्रयोग में लायी जाती है और शास्त्रों के अनुसार शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक है, इसी वजह से महादेव को हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है।

👉भगवान शिव सफेद रंग के फूलों से शीघ्र ही प्रसन्न होते हैं। उन्हें कमल और कनेर के अलावा कोई भी लाल रंग के फूल नहीं चढ़ाये जाते हैं। भगवान भोलेनाथ को केतकी और केवड़े के फूल चढ़ाना भी मना है।

👉शिवजी की पूजा में बहुत से भक्तजन शिवलिंग पर लोहे या स्टील के लोटे इत्यादि बर्तन से जल चढ़ाते है जो बिलकुल गलत है। भगवान भोलेनाथ पर हमेशा पीतल, कांसे या अष्टधातु के बर्तन से ही जल चढ़ाना चाहिए लोहे या स्टील के बर्तन से नहीं ।

👉भगवान शिव को सफ़ेद रंग बहुत ही प्रिय है इसीलिए उन्हें यथासंभव सफ़ेद चन्दन से ही तिलक लगाना चाहिए, लाल या पीले चन्दन से नहीं।

👉शिवलिंग पर बेलपत्र अर्पित करने से महादेव शीघ्र प्रसन्न होते हैं। मान्यता है कि भगवान शिव की आराधना बेलपत्र के बिना पूरी नहीं होती। लेकिन बेलपत्र अर्पित करते समय कुछ बातों का ध्यान अवश्य ही रखें ।
🔹एक बेलपत्र में तीन पत्तियां अवश्य ही होनी चाहिए, तभी वह बिलपत्र शिवलिंग पर चढ़ने योग्य होता है ।
🔹भगवान शिव जी को बेलपत्र अर्पित करते समय जल की धारा भी जरूर चढ़ाएं।
🔹यह ध्यान दीजिये कि बेलपत्र की पत्तियां कटी फटी या टूटी ना हों और उनमें कोई छेद भी नहीं होना चाहिए।
🔹बेलपत्र को भगवान शिव पर चिकनी तरफ से ही अर्पित करें।
🔹अगर बेलपत्र पर "ॐ नम: शिवाय" या "राम राम " लिखकर उसे भगवान भोलेनाथ पर अर्पित किया जाय तो यह बहुत ही पुण्यदायक होता है।

🎆👣सुख-समृद्धि👣🎆