Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

दृष्टिकोण


………………………………………….दृष्टिकोण…………………………………

एक बार दो भाई, रोहित और मोहित थे। वे 9 वीं कक्षा के छात्र थे और एक ही स्कूल में पढ़ते थे। उनकी ही कक्षा में अमित नाम का भी एक छात्र था जो बहुत अमीर परीवार से था।

कलाई घड़ी कलाई घड़ी (Wrist watch) एक दिन अमित अपने जन्मदिन पर बहुत महंगी घड़ी पहन कर स्कूल आया, सभी उसे देख कर बहुत चकित थे। हर कोई उस घड़ी के बारे में बातें कर रहा था ,कि तभी किसी ने अमित से पुछा ,

“यार , ये घड़ी कहाँ से ली ? “

” मेरे भैया ने मुझे जन्मदिन पर ये घड़ी गिफ्ट की है । ” , अमित बोला।

यह सुनकर सभी उसके भैया की तारीफ़ करने लगे , हर कोइ यही सोच रहा था कि काश उनका भी ऐसा कोई भाई होता।

मोहित भी कुछ ऐसा ही सोच रहा था , उसने रोहित से कहा , ” काश हमारा भी कोई ऐसा भाई होता !”

पर रोहित की सोच अलग थी , उसने कहा , ” काश मैं भी ऐसा बड़ा भाई बन पाता !”

वर्ष गुजरने लगे। धीरे – धीरे, मोहित अपनी जरूरतों के लिए दूसरों पर निर्भर रहने लगा क्योंकि उसने खुद को इस प्रकार विकसित किया और रोहित ने मेहनत की और एक सफल आदमी बन गया , क्योंकि वह दूसरों से कभी कोई उम्मीद नहीं रखता था , बल्की ओरों की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहता था।

तो दोस्तों, अंतर कहाँ था? वे एक ही परिवार से थे। वे एक ही वातावरण में पले-बढे और एक ही प्रकार की शिक्षा प्राप्त की। अंतर उनके दृष्टिकोण में था। हमारी सफलता और विफलता हमारे दृष्टिकोण पर काफी हद तक निर्भर करती है। और इसका प्रमाण आस-पास देखने पर आपको दिख जाएगा। चूँकि ज्यादातर लोग मोहित की तरह ही सोचते हैं इसलिए दुनिया में ऐसे लोगों की ही अधिकता है जो एक एवरेज लाइफ जी रहे हैं। वहीँ , रोहित की तरह सोच रखने वाले लोग कम ही होते हैं इसलिए सामाज मे भी सफल जीवन जीने वाले लोग सीमित हैं। अतः हमें हमेशा सकारात्मक दृष्टिकोण विकसित करने के लिए पूरी कोशिश करनी चाहिए और नकारात्मकता से बचना चाहिए। क्योंकि वो हमारा दृष्टिकोण ही है जो हमारे जीवन को परिभाषित करता है और हमारे भविष्य को निर्धारित करता है।

Credit: Gopal Mishra

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

बूढ़े दादा जी को उदास


बूढ़े दादा जी को उदास बैठे देख बच्चों ने पूछा, “क्या हुआ दादा जी, आज आप इतने उदास बैठे क्या सोच रहे हैं?”

दादा जी बोले- “कुछ नहीं, बस यूँ ही अपनी ज़िन्दगी के बारे में सोच रहा था !”

“जरा हमें भी अपनी लाइफ के बारे में बताइये न…”, बच्चों ने ज़िद्द्द की।

दादा जी कुछ देर सोचते रहे और फिर बोले, “ जब मैं छोटा था, मेरे ऊपर कोई जिम्मेदारी नहीं थी, मेरी कल्पनाओं की भी कोई सीमा नहीं थी…. मैं दुनिया बदलने के बारे में सोचा करता था… जब मैं थोड़ा बड़ा हुआ… बुद्धि कुछ बढ़ी…. तो सोचने लगा ये दुनिया बदलना तो बहुत मुश्किल काम है… इसलिए मैंने अपना लक्ष्य थोड़ा छोटा कर लिया… सोचा दुनिया न सही मैं अपना देश तो बदल ही सकता हूँ।
पर जब कुछ और समय बीता, मैं अधेड़ होने को आया… तो लगा ये देश बदलना भी कोई मामूली बात नहीं है… हर कोई ऐसा नहीं कर सकता है… चलो मैं बस अपने परिवार और करीबी लोगों को बदलता हूँ… पर अफ़सोस मैं वो भी नहीं कर पाया।
और अब जब मैं इस दुनिया में कुछ दिनों का ही मेहमान हूँ तो मुझे एहसास होता है कि बस अगर मैंने खुद को बदलने का सोचा होता तो मैं ऐसा ज़रूर कर पाता… और हो सकता है मुझे देखकर मेरा परिवार भी बदल जाता… और क्या पता उनसे प्रेरणा लेकर ये देश भी कुछ बदल जाता… और तब शायद मैं इस दुनिया को भी बदल पाता!

ये कहते-कहते दादा जी की आँखें नम हो गयीं और वे धीरे से बोले, “बच्चों! तुम मेरी जैसी गलती मत करना… कुछ और बदलने से पहले खुद को बदलना… बाकि सब अपने आप बदलता चला जायेगा।”

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

એક યુવાન હજામની


વાતોડિયો હજામ – (છેક છેલ્લે સુધી વાંચજો).
****************
એક યુવાન હજામની ખુરસીમાં બેસતા બોલ્યો ” બાપુ,આ વખતે મસ્ત વાળ કાપજો !”
હજામએ પૂછ્યું ” કેમ,લગ્ન બગ્નનું ગોઠવાયું છે ? ”
યુવાન બોલ્યો ” ના ભાઈના ના,પણ મુબઈ જવાનું છે !”
હજામ બોલ્યો ” મુબઈ,એવા ભીડ વાળા શહેરમાં શું જવાનું,પ્લેનમાં જવાના ? ”
યુવાને ઉત્તર આપ્યો ” ના ભાઈ,ગુજરાત મેલમાં જવાનું છે !”
હજામ હસીને બોલ્યો ” બોગસ ટ્રેન,ખુબ મોડી પડશે,શતાબ્ધીમાં જ જવું જોઈએ !”
યુવાન બોલ્યો ” ટીકીટ મળી નહિ !”
હજામ બોલ્યો,” બાપુ,મને કહ્યું હોત તો મેળ પાડી દેત,મુબઈમાં ક્યાં રહેસો ?”
યુવાન બોલ્યો ” આર્ય ભવનમાં !”
હજામ : ” ત્યાં તો એકદમ ભંગાર વ્યવસ્થા છે,ગંદી પથારીમાં સુવું પડશે, કુમકુમ હોટેલમાં ઊતરજો,મુબઈ શું કામથી જાવ છો ? ”
યુવાન : શાહરૂખખાનને જોવા માટે !
હજામ : અલ્યા ભાઈ,શાહ્રુખીયો તેના મન્નત બંગલાની વંડી પર ઉભો રહીને સહેજ હાથ હલાવીને જતો રહે છે,આપણે ભીડમાં ઉભા હોઈએ તે ખાસ કશું જોવા મળે નહિ !”
વાતોમાં વાળ કપાઈ ગયા પૈસા ચૂકવી યુવાન જતો રહ્યો !
એક દોઢ મહિના પછી ફરી વાળ કપાવા આવ્યો ત્યારે વાળ કાપવાની શરૂઆત કરતા હજામે પૂછ્યું ” કેમની રહી મુંબઈની સફર ?”
યુવાનને જવાબ આપ્યો ” ગુજરાત મેલ સમયસર ઉપાડ્યો હતો અને ટાઇમ સર મુબઈ પહોચી ગયો હતો !”
હજામ : કોઈવાર સમય જાળવે,કુમકુમમાં રહ્યા હતા ?”
યુવાન : ” ના,આર્ય ભવનમાં,તેઓએ હમણાજ ૧૨-૧૫ કરોડ ખર્ચને બધી રૂમો મસ્ત બનાવી દીધી છે,ડનલોપીલોની પથારી,ટીવી વિગેર સરસ સગવડ કરી દીધી છે !”
હજામ : એમ સારું કહેવાય,પણ શાહરૂખ જોવા મળ્યો નહિ હોય,આ બહિષ્કારનું ચક્કર ચાલુ થયું ત્યારથી તે બિચારો ઘરની બહાર નીકળતો જ નથી !”
યુવાન બોલ્યો ” અરે ત્યાં તો ખરું થયું,હું તો ભીડમાં ઉભો હતો,ત્યાં મન્નતના ચોકીદાર મારી નજીક આવ્યા અને મને સાહેબ બુલાતે હે કહીને હાથ પકડીને બંગલામાં લઇ ગયા,એક આલીશાન સોફા પર બેસવાનું કહ્યું,નોકર આવીને મસ્ત કોલ ડ્રીન્કસનો ગ્લાસ આપી ગયો,દસ મિનીટ પછી શાહરૂખ ખાન આવ્યો,મારી સાથે હાથ મિલાવીને કેસે હો પૂછીને
બાજુના સોફામાં બેઠો !”
હજામની ઉત્સુકતા જાગૃત થઇ,” પછી,પછી શું થયું ?”
યુવાન સ્મિત કરતા બોલ્યો ” શાહરૂખે મને પૂછ્યું એસી ઘટિયા હેર સ્ટાઈલ કિસ ઉલ્લુ -બાર્બર કે પાસ બનાઈ ? ”
હજામના હાથમાં ચાલતી કાતરે બ્રેક મારી અને તેની જીભ તાળવે ચોંટી ગઈ !