Posted in नहेरु परिवार - Nehru Family

देश के खिलाफ नेहरू ने किया था शेख अब्‍दुल्‍ला की मदद, सरदार पटेल ने तब दी धमकी!


देश के खिलाफ नेहरू ने किया था शेख अब्‍दुल्‍ला की मदद, सरदार पटेल ने तब दी धमकी!

‪#‎संदीपदेव‬। आज यह सुनकर बहुत दुख हुआ कि विभिन्‍न रियासतों में बंटे भारत को एक करने वाले सरदार पटेल की जयंती के दूरदर्शन पर कवरेज पर कांग्रेसी आगबबूला हैं और इसे दूरदर्शन का भगवाकरण कह रहे हैं। उन्‍हें अभी तक 31 अक्‍टूबर को इंदिरा गांधी (इंदिराजी की पुण्‍यतिथि) के महिमामंडन की आदत थी, पहली बार सरदार पटेल के गुणगान ने उन्‍हें बेचैन कर दिया है।

बात भगवाकरण की निकली है तो इतिहास में ले जाता हूं। कश्‍मीर मसले पर पंडित नेहरू शेख अब्‍दुल्‍ला की हर नाजायज मांगों को मान रहे थे और शेख संसद के अंदर खुलेआम धमकी की भाषा बोल रहे थे। सरदार चुप थे, क्‍योंकि नेहरू ने उन्‍हें कश्‍मीर मसले पर अलग रहने को कहा था। एक दिन शेख अब्‍दुल्‍ला ने जब संसद के अंदर देश तोड़ने की धमकी देते हुए संसद की अवहेलना करनी चाही तो सरदार ने संसद के अंदर ही उन्‍हें चुनौती देकर कहा, ‘शेख संसद से बाहर तो जा सकते हैं, किंतु दिल्‍ली से बाहर आप नहीं निकल पाएंगे।’ यह सुनना था कि शेख सहम कर बैठ गए।

शेख अब्‍दुल्‍ला को पता था कि यदि कश्‍मीर के मुददे पर सरदार ने हस्‍तक्षेप किया तो उसका भी वही हाल होगा जो हैदराबाद व जूनागढ़ का हुआ था। वह भारत में मिला लिया जाएगा। इसलिए शेख ने नेहरू से कह कर धारा-370 को न केवल थोपा, बल्कि भारत की सेना के अलावा अपनी अलग सेना रखने की सहूलियत भी ली। नेहरू, शेख अब्‍दुल्‍ला और गोपालस्‍वामी अयंगर ने मिलकर धारा-370 की रूपरेखा तैयार की थी।

नेहरू यही नहीं रुके। शेख को मदद देने के लिए उन्‍होंने बड़े पैमाने पर कश्‍मीर में हथियार उतरवाए। संयोग से उसमें अधिकांश हथियार लूट लिए गए। नेहरू ने इस लूट का अारोपRashtriya Swayamsevak Sangh : RSS पर लगाते हुए सरदार पटेल को पत्र लिखा कि संघ के स्‍वयंसेवकों ने हथियार लूट लिया है। सरदार ने जांच करवाने के बाद फौरन नेहरू को पत्र लिखा कि हथियार लूटने में संघ के किसी स्‍वयंसेवक की भूमिका स्‍पष्‍ट नहीं है और न ही ऐसा कोई सबूत है।

प्रभात प्रकाशन द्वारा शीघ्र प्रकाशित मेरी पुस्‍तक- ‘गुरु गोलवलकर: संघ के वास्‍तविक सारथी’ में तिथिवार नेहरू और पटेल के बीच उस पत्राचार का जिक्र है, जिसमें नेहरू की पूरी गतिविधि भारत के खिलाफ और शेख अब्‍दुल्‍ला के पक्ष में थी, जबकि सरदार लगातार देश को एक करने की कोशिश में जुटे थे।

आज यदि कांग्रेसी सरदार पटेल की जयंती को भगवाकरण का नाम दे रहे हैं तो यह जाहिर है कि नेहरू की देश तोड़ने वाली विचारधारा उनके खून में उबाल मार रही है। डॉ राममानोहर लोहिया तक ने लिखा है, पंडित नेहरू ने एक दिन उनसे कहा कि पूर्वी बंगाल का हिस्‍सा यदि पाकिस्‍तान को दे ही देंगे तो कौन सा पहाड़ टूट जाएगा? यह दलदली व मच्‍छरों वाली जमीन लेकर हम क्‍या करेंगे? लोहिया ने कहा, यह केवल जमीन नहीं, देश का हिस्‍सा है!

आपको यह सारा इतिहास मेरी पुस्‍तक में मिलेगा। सही मायने में जिन्‍ना के अलावा नेहरू ने भी देश को तोड़ने का कुचक्र रचा, जिसका विरोध जिसने भी किया उस पर भगवा रंग का आरोप मढ़ दिया गया। भगवा अर्थात त्‍याग और नेहरू-गांधी अर्थात सत्‍ता- विरोध तो होना ही है! ‪#‎SandeepDeo‬ ‪#‎TheTrueIndianHistory‬

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s