Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

1857 की क्रांति से जुड़े दिल देहला देने वाले महत्तवपूर्ण तथ्य……जिसे सेक्युलर वामपंथी इतिहासकारो ने जानबूझकर छिपाया……


1857 की क्रांति से जुड़े दिल देहला देने वाले महत्तवपूर्ण तथ्य……जिसे सेक्युलर वामपंथी इतिहासकारो ने जानबूझकर छिपाया……

Aditi Gupta's photo.
Aditi Gupta's photo.
Aditi Gupta's photo.
Aditi Gupta's photo.

1857 की क्रांति से जुड़े दिल देहला देने वाले महत्तवपूर्ण तथ्य……

यह भारत में महाभारत के बाद लड़ा गया सबसे बडा युद्ध था। इस संग्राम की मूल प्रेरणा स्वधर्म की रक्षा के लिये स्वराज की स्थापना करना था। यह स्वाधीनता हमें बिना संघर्ष, बिना खड़ग-ढ़ाल के नहीं मिली, लाखों व्यक्तियों द्वारा इस महायज्ञ में स्वयं की आहुति देने से मिली है।

लार्ड डलहौजी ने 10 साल के अन्दर भारत की 21 हजार जमीदारियाँ जब्त कर ली और हजारों पुराने घरानों को बर्बाद कर दिया ब्रितानियों ने अपने अनुकूल नवशिक्षित वर्ग तैयार किया तथा भारतीय शिक्षा पर द्विसूत्रीय शिक्षा प्रणाली लागू की ताकि ये लोग ब्रितानी सरकार को चलाने मे मदद कर सके। ब्रिटिश सरकार ने 1834 में सभी स्कूलों में बाइबिल का अध्ययन अनिवार्य बना दिया क्योंकि ईस्ट इंडिया कंपनी के सभी अधिकारी सामान्यत: अपने व्यापारिक काम के साथ-साथ ईसाई मत का प्रचार करते हुए लोगों को धर्मांतरित करना अपना धर्मिक कर्त्तव्य मानते थे।

विश्व में चित्तौड ही एक मात्र वह स्थान है, जहाँ 900 साल तक आजादी की लड़ाई लड़ी गई।भारत में ब्रिटिश सरकार के शासन काल के समय जहां-जहां ब्रितानियों का राज था वहाँ आम लोग उनके सामने घुड़सवारी नहीं कर पाते थे।क्रांति के समय प्रत्येक गाँव में रोटी भेजी जाती थी जिसे सब मिलकर खाते व क्रांति का संकल्प करते थे। कई रोटियाँ बनकर आस पास के गाँवो में जाती। सिपाहियों के पास कमल के फ़ूल जाते व हर सैनिक इसे हाथ में लेकर क्रांति की शपथ लेता था।दिल्ली पर चारों तरफ़ से ब्रितानियों ने हमला किया जिसमें पहले ही दिन उनके तीन मोर्चो के प्रमुख कमांडर भयंकर रू प से घायल हुए, 66 अधिकारी व 404 जवान मृत हुए।

बनारस के आसपास जनरल नील ने बदले की भावना से भंयकर अत्याचार किए। हजारों लोगों को फ़ांसी देना, गाँव जलाकर लोगों को जिन्दा जलाना जैसे कई प्रकार के अत्याचार किए। वे बड़े वृक्ष की हर डाली पर लोगों को फ़ांसी पर लटकाते चले गये। 24 जुलाई को क्रांतिकारी पीर अली को ब्रितानियों ने पटना में फ़ांसी देते ही दानापुर की पलटन ने संग्राम प्रारम्भ कर दिया। उन्होंने जगदीशपुर के 80 साल के वयोवृद्ध राजपूत कुंवरसिह को अपना नेता बनाया। कुंवरसिह ने इस उम्र में जिस तरह से कई लड़ाइयां लड़ी वह वास्तव में प्रेरणादायी है। उनकी प्रेरणा से पटना आरा, गया, छपरा, मोतीहरी, मुज्जफ़रनगर आदि स्थानों पर भी क्रांति हो पाई थी।
भारत के वीर सेनानी तांत्या टोपे को ब्रितानियों ने 7 अप्रेल 1859 की सुबह गिरफ़्तार किया और 15 अप्रैल को ग्वालियर के निकट शिवपुरी में सैनिक न्यायालय में मुकदमे का नाटक किया गया और उनको फ़ांसी देने की घोषणा की गई। 18 अप्रैल 1859 को शाम 7 बजे उन्होंने वीर योद्धा की तरह खुद ही अपनी गर्दन फ़ांसी के फ़ंदे में डाली व अनंत यात्रा पर निकल पडे।

यह बात सरासर झूठ है कि 1857 की क्रांति केवल सिपाही विद्रोह था क्योंकि शहीद हुए 3 लाख लोगों में आधे से ज्यादा आम लोग थे। जब इतनी बड़ी संख्या में लोग शामिल होते हैं तो वह विद्रोह नहीं बल्कि क्रांति या संग्राम कहलाता है।केवल दिल्ली में 27,000 लोगों को फ़ांसी दी ग़यी। भगवा, विरसामंुडा जैसे कई जनजाति नेता, क्रांतिकारी वसुदेव, बलदेव फ़डके से लेकर सावरकर, चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह जैसे कई दीवाने एवं सुभाष की आजाद हिन्द फ़ौज तथा गाँधीजी का अहिंसक आंदोलन आदि सभी ने इसी 1857 की क्रांति से प्रेरणा पाई थी। इस क्रांति के समय मुम्बई में 1213, बंगाल में 1994, मद्रास में 1044 सैनिकों के कोर्ट मार्शल किये गये थे।इस आंदोलन में तीन लाख से भी अधिक लोग शहीद हुए, अकेले अवध में 1 लाख 20 हजार लोगेंे ने अपनी आहुति दी थी। लखनऊ में 20 हजार, इलाहबाद में 6000 लोगों को ब्रितानियों ने सरेआम कत्ल किया था।

1857 के स्वाधीनता संग्राम के बाद 1857 में ईस्ट इंडिया कम्पनी के 100 पाँड की कीमत का शेयर 10000 पाँड में खरीदकर ब्रिटिश सरकार ने भारत पर अपना अधिकार कर लिया था।

Posted in नहेरु परिवार - Nehru Family

“देखिये इन दो “युग द्रष्टाओं” का कमाल”


“देखिये इन दो “युग द्रष्टाओं” का कमाल”
इन्ही दोनों की बदोलत :–
आज “देश और हिन्दू” कहाँ और “किस मोड़” पर पहुँच गये है।
आज हमे देश को “तोड़” कर “तहस नहस” करने की “धमकियां” सुनने को मिल रही है।
देश के विभाजन के समय बहुत से गणमान्य लोगो के मना करने के बावजूद भी, “सिर्फ धर्म” के नाम पर देश के “टुकड़े” कर के भी अपने इन “बापों” को यहाँ क्यों रख लिया।
वीडियो देखिये और खुद सुनिये..
मै इस टिप्पणी को जहाँ जहाँ जरूरत महसूस होती है,
वहाँ पर जरुर करता हूँ।
अगर मोदी सरकार नही आती तो :—
आपको “इसी साल लास्ट तक” बहुत कुछ देखने को मिलता।
खैर- मामला 20 या 30 साल का कतई नही है।
देश एक बार फिर टूटने के कंगार पर खड़ा है।
ये सब “बहुत जल्द” होने वाला है,
“बहुत ही जल्द”- जिसकी कोई भी “कल्पना” भी नही कर सकता,
मामला बहुत “गम्भीर मोड़” तक पहुंच चुका है।
देश का कोई भी कोना बाकी नही है,
जहाँ ये “मुसल्ले उपद्रव” नही कर रहे हो,
“केरल,कश्मीर और आसाम” तो इन के “पुरे कब्जे” में है।
आधा-तमिलनाडू,,आधा आंध्रप्रदेश,,
आधा उतरप्रदेश,,आधा-बिहार,आधा बंगाल,
इन सभी इलाकों में इन्ही की “तूती” बोलती है।
अब बाकी बचे देश के दुसरे हिस्सों में भी ये चुप नही बैठे है।
चाहे “हरियाणा हो चाहे राजस्थान हो”
“चाहे महाराष्ट हो,और चाहे कर्नाटक हो”,
इन लोगो की “भयंकर तैयारियां” “रात और दिन” चल रही है।
क्यों की :– इन को–“अरब देशों”- से “असीमित-दौलत” मिल रही है।.
इस मामले को “हल्के” में लेने वाला “व्यक्ति”,,
वो ही होगा जो “हकीकत” से “कोसों दूर” है।
अगर मोदी जी :—
इन “मुसल्लों” के खिलाफ कोई “अत्यधिक कठोर” फैसला ले ले,
तो — देश जरुर “दुबारा टूटने” से बच सकता है,
अब तो मेरी बात मानोगे :—
सुनो ये वीडियो :—-
क्योकि बात यहाँ तक पहुंच चुकी है…
भारत में मुसलमानों के दिमाग में कितना जहर भरा है,
ये इस वीडियो से स्पष्ट हो जाता है !!
आप इन जेहादी दरिंदो की हिम्मत देखिये की सरे आम भारत की सुरक्षा एजेंसियों को चुनौती देते हुए ये मुल्ला कहता है की हम जब चाहे जो मर्जी हथियार ला सकते हैं ,,
वो धमकी देता है की भारत की संसद में घुस कर उस पर मुसलमान कब्जा कर लेंगे ,
वो कहता है की भारत को हजारो टुकड़ों में तोड़ देंगे !!
कहाँ हैं बात बात पर हिन्दुओं का अपमान करने वाले बिकाऊ मीडिया वाले और धर्मनिरपेक्ष ढोंगी ??
सच्चाई यही है की चाहे हिन्दुद्रोही :—-
कुकर्मी कांग्रेसी हों या समाजवादी हों–या कोई दूसरी पार्टिया..।…
ये सब वोट बैंक के लालच में ऐसे गद्दारों के खिलाफ कार्यवाही करने से बचते रहते हैं।
किसी जेहादी मुल्ले का इस प्रकार खुलेआम भारतीय सरकारों ,,
सुरक्षा एजेंसियों को चुनौती देना और धमकी देना :–
मोदी सरकार के मूंह पर कालिख पुतने जैसा है**
हर राष्ट्र्भक्त ऐसे गद्दारों की भावनाओं को समझ कर पूरे समाज को जागृत करने का प्रयास करें ,,और इन दरिंदों का मुकाबला करने के लिए समाज को तैयार करे…
{नौजवानों और कुछ नही कर सकते तो इन दोनों की मूर्तियाँ को तो उखाड़ फेंखिये}
–वन्दे मातरम्- वन्दे मातरम् – वन्दे मातरम्–
ये वीडियो देखिये और खुद सुन लीजिये।
https://www.youtube.com/watch

""देखिये इन दो "युग द्रष्टाओं" का कमाल"
इन्ही दोनों की बदोलत :--
आज "देश और हिन्दू" कहाँ और "किस मोड़" पर पहुँच गये है।
आज हमे देश को "तोड़" कर "तहस नहस" करने की "धमकियां" सुनने को मिल रही है।
देश के विभाजन के समय बहुत से गणमान्य लोगो के मना करने के बावजूद भी, "सिर्फ धर्म" के नाम पर देश के "टुकड़े" कर के भी अपने इन "बापों" को यहाँ क्यों रख लिया। 
वीडियो देखिये और खुद सुनिये..
मै इस टिप्पणी को जहाँ जहाँ जरूरत महसूस होती है,
वहाँ पर जरुर करता हूँ।
अगर मोदी सरकार नही आती तो :---
आपको “इसी साल लास्ट तक” बहुत कुछ देखने को मिलता।
खैर- मामला 20 या 30 साल का कतई नही है।
देश एक बार फिर टूटने के कंगार पर खड़ा है।
ये सब “बहुत जल्द” होने वाला है,
“बहुत ही जल्द”- जिसकी कोई भी “कल्पना” भी नही कर सकता,
मामला बहुत “गम्भीर मोड़” तक पहुंच चुका है।
देश का कोई भी कोना बाकी नही है,
जहाँ ये “मुसल्ले उपद्रव” नही कर रहे हो,
“केरल,कश्मीर और आसाम” तो इन के “पुरे कब्जे” में है।
आधा-तमिलनाडू,,आधा आंध्रप्रदेश,,
आधा उतरप्रदेश,,आधा-बिहार,आधा बंगाल,
इन सभी इलाकों में इन्ही की “तूती” बोलती है।
अब बाकी बचे देश के दुसरे हिस्सों में भी ये चुप नही बैठे है।
चाहे “हरियाणा हो चाहे राजस्थान हो” 
“चाहे महाराष्ट हो,और चाहे कर्नाटक हो”,
इन लोगो की “भयंकर तैयारियां” “रात और दिन” चल रही है।
क्यों की :-- इन को–“अरब देशों”- से “असीमित-दौलत” मिल रही है।.
इस मामले को “हल्के” में लेने वाला “व्यक्ति”,,
वो ही होगा जो “हकीकत” से “कोसों दूर” है।
अगर मोदी जी :--- 
इन “मुसल्लों” के खिलाफ कोई “अत्यधिक कठोर” फैसला ले ले, 
तो -- देश जरुर “दुबारा टूटने” से बच सकता है, 
अब तो मेरी बात मानोगे :---
सुनो ये वीडियो :---- 
क्योकि बात यहाँ तक पहुंच चुकी है...
भारत में मुसलमानों के दिमाग में कितना जहर भरा है,
ये इस वीडियो से स्पष्ट हो जाता है !!
आप इन जेहादी दरिंदो की हिम्मत देखिये की सरे आम भारत की सुरक्षा एजेंसियों को चुनौती देते हुए ये मुल्ला कहता है की हम जब चाहे जो मर्जी हथियार ला सकते हैं ,,
वो धमकी देता है की भारत की संसद में घुस कर उस पर मुसलमान कब्जा कर लेंगे ,
वो कहता है की भारत को हजारो टुकड़ों में तोड़ देंगे !!
कहाँ हैं बात बात पर हिन्दुओं का अपमान करने वाले बिकाऊ मीडिया वाले और धर्मनिरपेक्ष ढोंगी ??
सच्चाई यही है की चाहे हिन्दुद्रोही :----
कुकर्मी कांग्रेसी हों या समाजवादी हों--या कोई दूसरी पार्टिया..।...
ये सब वोट बैंक के लालच में ऐसे गद्दारों के खिलाफ कार्यवाही करने से बचते रहते हैं।
किसी जेहादी मुल्ले का इस प्रकार खुलेआम भारतीय सरकारों ,,
सुरक्षा एजेंसियों को चुनौती देना और धमकी देना :--
मोदी सरकार के मूंह पर कालिख पुतने जैसा है**
हर राष्ट्र्भक्त ऐसे गद्दारों की भावनाओं को समझ कर पूरे समाज को जागृत करने का प्रयास करें ,,और इन दरिंदों का मुकाबला करने के लिए समाज को तैयार करे...
{नौजवानों और कुछ नही कर सकते तो इन दोनों की मूर्तियाँ को तो उखाड़ फेंखिये}
--वन्दे मातरम्- वन्दे मातरम् - वन्दे मातरम्--
ये वीडियो देखिये और खुद सुन लीजिये।
https://www.youtube.com/watch…"
Posted in यत्र ना्यरस्तुपूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:

करीना कपूर (खान) एक अपने से डेड उम्र के 2 बच्चों का बाप तलाक सुदा मुल्ले से शादी करती हे


करीना कपूर (खान) एक अपने से डेड उम्र के 2
बच्चों का बाप तलाक सुदा मुल्ले से शादी
करती हे और समाज में लव जिहाद का सन्देश
फैलती हे , पूरी दुनिया के सामने करवा चौथ
जैसे पवित्र व्रत का विरोध करती हे वह
सहीहे?
दीपिका पादुकोण जैसी भांड आजादी के नाम
परजानवरो तक से सम्भोग करने की बात खुले
आम कहती हे ,वह सही हे?
यही दीपिका और सोनाक्षी सिन्हा aib जैसे
भांड अभद्र शो में जा कर तालिया ठोकती
हे,गन्दी ,नंगी बातों पर खिलखिलाती हे ,वो
सही हे?
अनुष्का शर्मा धर्म द्रोही pk जैसी फ़िल्म में
एक पाकिस्तानी मुल्ले से प्यार करती हे
..समाज में अन्य लड़कियो को ऐसा करने को
प्रेरित करती हे ,वह सही हे?
आलिया भट्ट अधनंगे कपड़ो में अपने जिस्म
कीनुमाइश करती हे ,वह सही हे ?
ऐसे और भी कई उदाहरण हे …ये सब सही हे क्यों?
क्योंकि ये अपनी आजादी चाहती हे …इन्हें
आजादी चाहिए..समाज में अपनी भद्दी
मानसिकता को फ़ैलाने की मगर आपको इन्हें कुछ
कहने का कोई अधिकार नहीं हे ..क्यों?
क्योंकि ये देश की बेटिया हे ..आपकी नजर में
इन्हें अपनी आजादी का पूरा अधिकार हे …अरे
भाड़ में गए तुम और तुम्हारी ये भ्रस्ट बेटिया
..ये तुम्हारी बेटियां होगी
इस श्री राम ,श्रीकृष्णा के देश की बेटियां
नहीं हो सकती हे …इस देश की बेटियां हे
स्वर्गीय कल्पना चावला जी,मेरीकॉम ,और
साइना नेहवाल …हमारे देश की इन बेटियों
पर नाज हे गर्व हे..और यही हमारे देश की अन्य
बेटियो की आदर्श …..नमन देश की बेटियों
नोट:-सेक्युलर कुत्ते और भांड इस पोस्ट से दूर
ही रहे तो बेहतर है।

Sachin Patil's photo.
Posted in AAP, राजनीति भारत की - Rajniti Bharat ki

केजरीवाल ने तंबाकू कंपनीयों से 2000 करोड की रिसवत ली


केजरीवाल ने तंबाकू कंपनीयों से 2000 करोड की रिसवत ली
.
केजरीवाल ने कल दिल्ली में तम्बाकू और गुटके पर प्रतिबन्द लगाया कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं।
.
लेकिन आज 24 घंटे के भीतर ही पलटीमार ने पलटी मारी और प्रतिबंद हटा लिया। बीच की एक रात में ऐसा क्या हो गया जो अब ये सेहत के लिए अच्छे हो गए हैं ???
आपको क्या लगता है, रात में कितनी मोटी रक़म पहुंची होगी, गुटका कंपनियों की तरफ से ???
.
हम तो जी, नई किस्म की राजनीती सिखाने आएं हैं जी।
***आख़िर में एक ज़रूरी सूचना : कृपया कल दिल्ली में कोई किसी को अप्रैल फूल न बनाये, ये दिल्ली वाले बेचारे फ्री के चक्कर में, पहले से ही 5 साल के लिए महामुर्ख बने हुए हैं। smile emoticon

"केजरीवाल ने तंबाकू कंपनीयों से  2000 करोड की रिसवत  ली
.
केजरीवाल ने कल दिल्ली में तम्बाकू और गुटके पर प्रतिबन्द लगाया कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। 
.
लेकिन आज 24 घंटे के भीतर ही पलटीमार ने पलटी मारी और प्रतिबंद हटा लिया। बीच की एक रात में ऐसा क्या हो गया जो अब ये सेहत के लिए अच्छे हो गए हैं ???
आपको क्या लगता है, रात में कितनी मोटी रक़म पहुंची होगी, गुटका कंपनियों की तरफ से ???
.
हम तो जी, नई किस्म की राजनीती सिखाने आएं हैं जी।
***आख़िर में एक ज़रूरी सूचना : कृपया कल दिल्ली में कोई किसी को अप्रैल फूल न बनाये, ये दिल्ली वाले बेचारे फ्री के चक्कर में, पहले से ही 5 साल के लिए महामुर्ख बने हुए हैं। :)"
Like · Co
Posted in Media

Social media पर भाजपा के करोड़ों समर्थक हैं,इस कारण भी भाजपा दुनिया की सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी बनी है,और यही समर्थक भाजपा की ताकत हैं।


Social media पर भाजपा के करोड़ों समर्थक हैं,इस कारण भी भाजपा दुनिया की सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी बनी है,और यही समर्थक भाजपा की ताकत हैं।
इसलिए भाजपा समर्थक भारत के दलाल मीडिया और भाजपा बिरोधीयो की धज्जियां उड़ाते रहें,इनके खिलाप आक्रमक होकर लिखते रहें..
ध्यान रहे कि पहले अपने ओर से अभद्र भाषा का इस्तमाल न किया जाय।
आजकल देश में किसी भी मुद्दे पर जितनी चर्चा tv मीडिया में होती है उससे कई ज्यादा चर्चा सोसल मीडिया में होती है.
सोसल मीडिया Facebook WhatsApp, Twitter पर मौजूद भाजपा समर्थकों द्वारा बिरोधियों की जमकर आलोचना हो और सोसल मीडिया से लेकर जमीनी स्तर पर मोदी सरकार की उपलब्धियों का प्रचार करें।
कई मौकों पर social media networking sites भारतीय टीवी मीडिया पर मौजूद दलाल मीडिया और पत्रकारों पर भारी पड़ रहा है,ये सिलसिला ओर बढ़ाया जाय।

Posted in श्रीमद्‍भगवद्‍गीता

Geeta


"Bhagawad Gita will give right direction to the society : Haryana CM ML Khattar

Read More @ http://www.hindujagruti.org/news/44063.html

Like (y) - @[322653277811116:274:Hindu Adhiveshan]

To establish Hindu Rashtra, join us @ Hindujagruti.org/join"

Bhagawad Gita will give right direction to the society : Haryana CM ML Khattar

Read More @ http://www.hindujagruti.org/news/44063.html

Posted in राजनीति भारत की - Rajniti Bharat ki

गिरिराज के बयान पर फदकने वाले भूल गये सोनिया ने अटलजी को गद्दार और मोदी को मौत का सौदागर कहा था .


"गिरिराज के बयान पर फदकने वाले भूल गये सोनिया ने अटलजी को गद्दार और मोदी को मौत का सौदागर कहा था .
शकील अहमद ने आडवाणी समेत तमाम सिन्धियों को पाकिस्तानी कहा था
मणिशंकर ने आडवाणी को आतंकवादी और मोदी को सांप, बिच्छू, लहू पुरूष कहा था।
दिग्गी ने मोदी को रावण और बेनी प्रसाद ने पागल कुत्ता, नरभक्षी व जानवर कहा था।
मोदी को सलमान खुरशीद ने मेंढक, गुलाम नबी ने गंगू तेली, जयराम रमेश ने भस्मासुर, 
रिजवान उस्मानी ने बदतमीज, नालायक, व हुसैन दलवई ने चूहा कहा था।
मोरवाडिया ने तो मोदी को पागल, औरंगजेब व बंदर तक कह डाला। ... ये सब कब माफी मांगेंगे?
गिरिराज पर नस्ल वादी टिप्पणी का आरोप लगाने वालों को मेनका गांधी हेतु कांग्रेस का नारा याद नहीं? ... बेटी है सरदार की, देश के गद्दार की ...
१९८४ में कांग्रेस का विज्ञापन था .... क्या आप एक सिख टेक्सी ड्राइवर पर भरोसा करेंगे?
लालू? तुम तो बोलो ही मत .... याद है तुमने सुशील मोदी के लिये क्या कहा था .... किसी बनिये को बिहार का सी.एम. नहीं बनने देंगे
अब कह रहे गिरिराज तलवे के बराबर भी नहीं .... रोज उनके तलवे चाटते हैं ना इसीलिये पता है?
शरद यादव ने भी तो इसी तरह की टिप्पणी की थी, तब तो एसा बावेला नहीं मचा था।
महिलाओं के अपमान की बात करने वाले भूल गये कि संजय निरूपम ने स्मृति ईरानी को पैसे लेकर ठुमके लगाने वाली कहा।
राज बब्बर गिरिराज के पागलपन के ईलाज का पैसा देने को तैयार .... राज? ... वैसे पप्पू के ईलाज का पैसा कौन दे रहा है?"

गिरिराज के बयान पर फदकने वाले भूल गये सोनिया ने अटलजी को गद्दार और मोदी को मौत का सौदागर कहा था .
शकील अहमद ने आडवाणी समेत तमाम सिन्धियों को पाकिस्तानी कहा था
णिशंकर ने आडवाणी को आतंकवादी और मोदी को सांप, बिच्छू, लहू पुरूष कहा था।
दिग्गी ने मोदी को रावण और बेनी प्रसाद ने पागल कुत्ता, नरभक्षी व जानवर कहा था।
मोदी को सलमान खुरशीद ने मेंढक, गुलाम नबी ने गंगू तेली, जयराम रमेश ने भस्मासुर,
रिजवान उस्मानी ने बदतमीज, नालायक, व हुसैन दलवई ने चूहा कहा था।
मोरवाडिया ने तो मोदी को पागल, औरंगजेब व बंदर तक कह डाला। … ये सब कब माफी मांगेंगे?
गिरिराज पर नस्ल वादी टिप्पणी का आरोप लगाने वालों को मेनका गांधी हेतु कांग्रेस का नारा याद नहीं? … बेटी है सरदार की, देश के गद्दार की …
१९८४ में कांग्रेस का विज्ञापन था …. क्या आप एक सिख टेक्सी ड्राइवर पर भरोसा करेंगे?
लालू? तुम तो बोलो ही मत …. याद है तुमने सुशील मोदी के लिये क्या कहा था …. किसी बनिये को बिहार का सी.एम. नहीं बनने देंगे
अब कह रहे गिरिराज तलवे के बराबर भी नहीं …. रोज उनके तलवे चाटते हैं ना इसीलिये पता है?
शरद यादव ने भी तो इसी तरह की टिप्पणी की थी, तब तो एसा बावेला नहीं मचा था।
महिलाओं के अपमान की बात करने वाले भूल गये कि संजय निरूपम ने स्मृति ईरानी को पैसे लेकर ठुमके लगाने वाली कहा।
राज बब्बर गिरिराज के पागलपन के ईलाज का पैसा देने को तैयार …. राज? … वैसे पप्पू के ईलाज का पैसा कौन दे रहा है?

Posted in रामायण - Ramayan

चलो आज आपको भगवान श्री राम जी के वंश के बारे में बताता हूँ |


चलो आज आपको भगवान श्री राम जी के
वंश के
बारे में बताता हूँ |
ब्रह्मा जी की उन्चालिसवी
पीढ़ी में भगवाम श्री राम का
जन्म हुआ था |
हिंदू धर्म में श्री राम को श्री हरि विष्णु
का सातवाँ अवतार
माना जाता है |
वैवस्वत मनु के दस पुत्र थे – इल, इक्ष्वाकु, कुशनाम, अरिष्ट,
धृष्ट, नरिष्यन्त,करुष, महाबली, शर्याति और पृषध |
श्री राम का जन्म इक्ष्वाकु के कुल में हुआ था और
जैन
धर्म के तीर्थंकर निमि भी इसी
कुल के थे |
मनु के दूसरे पुत्र इक्ष्वाकु से विकुक्षि, निमि और दण्डक
पुत्र उत्पन्न हुए |
इस तरह से यह वंश परम्परा चलते-चलते हरिश्चन्द्र,
रोहित, वृष, बाहु और सगरतक पहुँची | इक्ष्वाकु
प्राचीन
कौशल देश के राजा थे और इनकी राजधानी
अयोध्या थी |
रामायण के बालकांड में गुरु वशिष्ठ जी द्वारा राम के कुल
का वर्णन किया गया है जो इस प्रकार है :-
1 – ब्रह्मा जी से मरीचि हुए,
2 – मरीचि के पुत्र कश्यप हुए,
3 – कश्यप के पुत्र विवस्वान थे,
4 – विवस्वान के वैवस्वत मनु हुए.वैवस्वत मनु के
समय जल प्रलय हुआ था,
5 – वैवस्वतमनु के दस पुत्रों में से एक का नाम इक्ष्वाकु
था, इक्ष्वाकु ने अयोध्या को अपनी राजधानी
बनाया और
इस प्रकार इक्ष्वाकु कुलकी स्थापना की |
6 – इक्ष्वाकु के पुत्र कुक्षि हुए,
7 – कुक्षि के पुत्र का नाम विकुक्षि था,
8 – विकुक्षि के पुत्र बाण हुए,
9 – बाण के पुत्र अनरण्य हुए,
10- अनरण्य से पृथु हुए,
11- पृथु से त्रिशंकु का जन्म हुआ,
12- त्रिशंकु के पुत्र धुंधुमार हुए,
13- धुन्धुमार के पुत्र का नाम युवनाश्व था,
14- युवनाश्व के पुत्र मान्धाता हुए,
15- मान्धाता से सुसन्धि का जन्म हुआ,
16- सुसन्धि के दो पुत्र हुए- ध्रुवसन्धि एवं प्रसेनजित,
17- ध्रुवसन्धि के पुत्र भरत हुए,
18- भरत के पुत्र असित हुए,
19- असित के पुत्र सगर हुए,
20- सगर के पुत्र का नाम असमंज था,
21- असमंज के पुत्र अंशुमान हुए,
22- अंशुमान के पुत्र दिलीप हुए,
23- दिलीप के पुत्र भगीरथ हुए,
भागीरथ ने ही गंगा को
पृथ्वी पर उतारा था.भागीरथ के पुत्र
ककुत्स्थ थे |
24- ककुत्स्थ के पुत्र रघु हुए, रघु के अत्यंत
तेजस्वी और
पराक्रमी नरेश होने के कारण उनके बाद इस वंश का
नाम
रघुवंश हो गया, तब से श्री राम के कुल को रघुकुल
भी कहा
जाता है |
25- रघु के पुत्र प्रवृद्ध हुए,
26- प्रवृद्ध के पुत्र शंखण थे,
27- शंखण के पुत्र सुदर्शन हुए,
28- सुदर्शन के पुत्र का नाम अग्निवर्ण था,
29- अग्निवर्ण के पुत्र शीघ्रग हुए,
30- शीघ्रग के पुत्र मरु हुए,
31- मरु के पुत्र प्रशुश्रुक थे,
32- प्रशुश्रुक के पुत्र अम्बरीष हुए,
33- अम्बरीष के पुत्र का नाम नहुष था,
34- नहुष के पुत्र ययाति हुए,
35- ययाति के पुत्र नाभाग हुए,
36- नाभाग के पुत्र का नाम अज था,
37- अज के पुत्र दशरथ हुए,
38- दशरथ के चार पुत्र राम, भरत,
लक्ष्मण तथा शत्रुघ्न हुए |
इस प्रकार ब्रह्मा की उन्चालिसवी (39)
पीढ़ी में श्रीराम का जन्म
हुआ |
नोट : -अपने बच्चों को बार बार पढ़वाये और उन्हे
हिन्दू धर्म की महता के बारे में समझायें |