Posted in हिन्दू पतन

काश


काश पृथ्वीराज चौहान को जयचंद ने धोखा नहीं दिया होता तो मोहम्मद गौरी इस देश को बर्बाद नहीं करता
काश पानीपत कि दूसरी लड़ाई में हेमू ने थोडा ध्यान दिया होता तो वो नहीं हारता
काश हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप के भाई ने धोखा नहीं दिया होता होता तो अकबर हार जाता
काश पानीपत कि तीसरी लड़ाई में सारे हिन्दू एक होते तो अब्दाली समेत सारे मुस्लिम शासक हार जाते
काश गांधी कि जगह हमने सावरकर को चुना होता आज हम सुपर पॉवर होते
काश नेताजी सुभाष चन्द्र बोश को आज़ादी से पहले कोंग्रेस का अध्यक्ष बनाया जाता
काश सरदार पटेल देश के प्रधान मंत्री होते तो देश कि ये दुर्गति नहीं होती
काश लाल बहादुर शास्त्री जिन्दा होते तो हमारा देश कहाँ से कहाँ होता
काश मेरे देश के लोग नरेंद्र मोदी जी को समझ पाते तो यूँ दिल्ली अराजक लोगो के हाथ में जाने से बच जाती
निष्कर्ष
हिन्दुओं की पराजय – हिन्दुओं के ही हाथों
अफसोस – दुःख हार का नही है, दुःख तो इस चीज़ का है की ऐसे ही चला तो मेरे देश का क्या होगा। जयचंद एक बार फिर कामयाब हुए…पृथ्वीराज का किला दरका..अब मुगलिया फ़ौज फिर से दिल्ली की गद्दी की तरफ मार्च करेगी….!!!

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

मंदिर विरुपाक्ष


यह मंदिर रतलाम (म.प्र.) के पास बिलपांक मे स्थित है। भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर विरुपाक्ष के नाम से प्रसिद्ध है यह हजारों वर्ष प्राचीन है,इसका इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता हे कि इसका जिर्णोदार गुजरात के प्रसिद्ध राजा सिद्ध देव बर्मन जिनको कुमार पाल भी कहा जाता है उन्होंने किया था।

यह मंदिर रतलाम (म.प्र.) के पास बिलपांक मे स्थित  है। भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर विरुपाक्ष के नाम से प्रसिद्ध है यह हजारों वर्ष प्राचीन है,इसका इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता हे कि इसका जिर्णोदार गुजरात के प्रसिद्ध  राजा सिद्ध देव बर्मन जिनको कुमार पाल भी कहा जाता है उन्होंने किया था।