Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

प्रत्येक 60 वर्ष पर मकर संक्रांति एक दिन आगे बढ़ जाती है.


प्रत्येक 60 वर्ष पर मकर संक्रांति एक दिन आगे बढ़ जाती है.

मकर संक्रान्ति को घटित प्रमुख घटनाएँ :
सूर्य का उत्तरायण होना
सूर्य से पृथक होकर उसे प्रणाम निवेदित करते हुए पृथिवी द्वारा सूर्य की प्रदक्षिणा प्रारम्भ, पृथिवी का अक्षीय झुकाव 23.44° है I
सूर्य की प्रदक्षिणा के दौरान पृथिवी का मकर राशि में प्रवेश (मकर संक्रान्ति)
गंगा, राजा सगर के 60 हजार पुत्रों का उद्धारकर महोदधि (गंगासागर) में जा मिलीं
महर्षि याज्ञवल्क्य द्वारा श्रीरामकथा का प्रथम स्तवन
भगवान् श्रीकृष्ण (3228-3102 ईसापूर्व) द्वारा गोकुल में लोहिता नामक राक्षसी का वध, लोहिड़ी (पंजाब); पोंगल (तमिलनाडु); खिचड़ी (बिहार)
3138 ईसापूर्व : (माघ शुक्ल अष्टमी=भीष्माष्टमी) भीष्म पितामह का निर्वाण
1705 ई. (मंगलवार) : गुरु गोविन्द सिंह (1666-1708) के 40 शिष्यों का (खडराण) मुक्तसर में बलिदान
1761 ई. (बुधवार) : मराठों और अहमदशाह अब्दाली के मध्य पानीपत का तृतीय युद्ध, सदाशिवराव भाऊ का बलिदान ।
1863 ई. (सोमवार) : 12 जनवरी, स्वामी विवेकानन्द का कलकत्ता में जन्म
1937 ई. (बुधवार) : 13 जनवरी, माधवराव सदाशिवराव गोळवळकर उपाख्य गुरुजी (1906-1973), स्वामी विवेकानन्द के गुरुभाई स्वामी अखण्डानन्द (1864-1937) से दीक्षित
1938 ई. (शुक्रवार) बेलूर मठ के नवनिर्मित मन्दिर में श्रीरामकृष्णदेव की प्रतिष्ठा
1993 ई. (गुरुवार) 14 जनवरी, ग्रामीण समूह के विकास हेतु ‘विकास भारती’ की स्थापना
1995 ई. (शनिवार), 14 जनवरी, विश्व हिंदू परिषद् पर पुनः दो वर्षों के लिये प्रतिबन्ध

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s