Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

कलकत्ता स्थित यह दक्षिणेश्वरी काली मंदिर का दृश्य है।


सुमंगल स्वागत स्वजनों,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

कलकत्ता स्थित यह दक्षिणेश्वरी काली मंदिर का दृश्य है।

इसे अंग्रेजो के समय में वहाँ की तात्कालीन रानी रासमणि ने अंग्रेजो
के खिलाफ हिंदुओं को संगठित करने के लिए यह मंदिर बनवाया था।

दिवाली के दिन बंगाली लोग काली पूजा करते हैं।
उसदिन इस मंदिर का महत्व बढ़ जाता है।

यहाँ मेला तो सालों भर लगा रहता है।
जो भी कलकत्ता आता है इसे अवश्य देखने आता है।
काली माता के दर्शन को आता है।

माँ के मंदिर के सामने ही १२ ज्योतिर्लिंग का भी मंदिर है।

माँ काली के आराधना के पश्चात शिव जी की अभिषेक की परंपरा है।
यह भागीरथी(गंगा) के किनारे ही स्थित है।
गंगाजल से शिव जी का अभिषेक किया जाता है।

जय माँ काली कलकत्ते वाली,,,
जय हो माता समस्त स्नेही स्वजनों का कल्याण करो,,,

ॐ खड्गं चक्रगदेषुचापपरिघात्र्छूलं भुशुण्डीं शिर:
शङ्खं संदधतीं करैस्त्रिनयनां सर्वांगभूषावृताम्।
नीलाश्म धुतिमास्यपाददशकां सेवे महाकालिकां
यामस्तौव्स्वपिते ह्वरौ कमलजो हन्तुं मधुंकैटभम्।।

जयति पुण्य सनातन संस्कृति,,,
जयति पुण्य भूमि भारत,,,
सदा सुमंगल,,,
जय भवानी,,,
हर हर महादेव,,,
जय श्री राम

दक्षिणेश्वरी काली मंदिर,कलकत्ता,
दक्षिणेश्वरी काली मंदिर के सामने स्थित १२ ज्योतिर्लिंग.
दक्षिणेश्वरी काली मंदिर की महिमा अपार है.दिवाली में बंगाली लोग माँ काली की पूजा करते हैं.उस दिन यहाँ बहुत भीड़ होती है.

दक्षिणेश्वर काली मंदिर कलकत्ता

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s