Posted in संस्कृत साहित्य

वैसे तो हिन्दु नववर्ष चैत्र महीने के प्रथम दिन से शुरु होता है


वैसे तो हिन्दु नववर्ष चैत्र महीने के प्रथम दिन से शुरु होता है,पर चूँकि हम पाश्चात्य नववर्ष से सीधे सीधे जुडे हुए हैं।और एक दिन बाद से हम 2014 के स्थान पर 2015 लिखने लगेंगे।इसलिए 2015 के अंक हमे प्रभावित करेंगे।

2015 = 2+0+1+5 = 8.

आठ (8)- विघटन का अंक है। यह चक्रीय विकास के सिद्धांतों व प्राकृतिक वस्तुओं के आध्यात्मीकरण की ओर झुकाव का प्रतीक है। प्रतिक्रिया, क्रांति, जोड़-तोड़, विघटन, अलगाव, बिखराव, अराजकता के गुण भी इसी अंक से जुड़े है। यह चोट, क्षति, विभाजन, संबंध विच्छेद का भी परिचायक है। यह श्वसन की अंतप्रेरणा, अतिबुद्धिता, आविष्कारों व अनुसंधानों का प्रतीक है। यूरेनस या वरुण इसका प्रतिनिधि ग्रह है।

कृष्ण और 8 का अंक : भगवान कृष्ण का जन्म आठवें अवतार के रूप में अट्ठाईसवें द्वापर में, देवकी की आठवीं सन्तान के रूप में, कृष्ण पक्ष की रात्रि के सात मुहूर्त निकलने के बाद आठवें मुहूर्त में और अष्टमी के दिन 3112 ईसा पूर्व हुआ था। कृष्ण जन्म के दौरान आठ का जो संयोग बना उसमें क्या कोई रहस्य छिपा है। गौरतलब है कि कृष्ण की आठ ही पत्नियां थी। आठ अंक का उनके जीवन में बहुत महत्व रहा है।

वैसे तो हिन्दु नववर्ष चैत्र महीने के प्रथम दिन से शुरु होता है,पर चूँकि हम पाश्चात्य नववर्ष से सीधे सीधे जुडे हुए हैं।और एक दिन बाद से हम 2014 के स्थान पर 2015 लिखने लगेंगे।इसलिए 2015 के अंक हमे प्रभावित करेंगे।

2015 = 2+0+1+5 = 8.

आठ (8)- विघटन का अंक है। यह चक्रीय विकास के सिद्धांतों व प्राकृतिक वस्तुओं के आध्यात्मीकरण की ओर झुकाव का प्रतीक है। प्रतिक्रिया, क्रांति, जोड़-तोड़, विघटन, अलगाव, बिखराव, अराजकता के गुण भी इसी अंक से जुड़े है। यह चोट, क्षति, विभाजन, संबंध विच्छेद का भी परिचायक है। यह श्वसन की अंतप्रेरणा, अतिबुद्धिता, आविष्कारों व अनुसंधानों का प्रतीक है। यूरेनस या वरुण इसका प्रतिनिधि ग्रह है।

कृष्ण और 8 का अंक : भगवान कृष्ण का जन्म आठवें अवतार के रूप में अट्ठाईसवें द्वापर में, देवकी की आठवीं सन्तान के रूप में, कृष्ण पक्ष की रात्रि के सात मुहूर्त निकलने के बाद आठवें मुहूर्त में और अष्टमी के दिन 3112 ईसा पूर्व हुआ था। कृष्ण जन्म के दौरान आठ का जो संयोग बना उसमें क्या कोई रहस्य छिपा है। गौरतलब है कि कृष्ण की आठ ही पत्नियां थी। आठ अंक का उनके जीवन में बहुत महत्व रहा है।

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s