Posted in गौ माता - Gau maata

देसी गायीचे महत्त्व


देसी गायीचे महत्त्व
1) अणु खाद – गाय के सिगों में गोबर भरकर बनाई जाती है I
2) गो सेवा ही नारायण सेवा है I
3) यज्ञ में गोघृत की आहुती डालकर ओझोन लेयर की क्षतीपूर्ती की जा सकती है I
4) गोबर और गोमूत्र श्रेष्ठ उर्वरक है I
5) नेडेप विधी से खाद बनानेपर गोबर की उपयोगीता 120 गुना बढ़ जाती है I
पंचगव्य का उपयोग
1) सात दिन देशी गाय का गोमूत्र से कुल्ला करने से दात का दर्द ठिक हो जाता है I
2) देशी गाय की छांछ सेवन करने से पेट दर्द में आराम मिलता है I
3) पतले दस्त की अवस्था में गोमय स्वरस पीने से आराम मिलता है I
4) इटली के वैज्ञानीक जे.ई. ब्रीगेड ने सिध्द किया है कि, देशी गाय के गोबर से मलेरीया के किटाणू मरते है I
5) देशी गाय का गोमूत्र हररोज सेवन करने से उच्च रक्तदाब में आराम मिलता है I
आयुर्वेदिक घरगुती उपाय
1) कमर दर्द होनेपर बबूल की गोंद को पीस कर चुर्ण बनाए और आधा चम्मच सादे पाणी के साथ सेवन करें I
2) गेहूं का चोकर सेवन करने से मूत्राशय के कॅन्सर का सस्ता उपचार होता है I
3) अलोवेरा का रस थोडा गरम करके कान में डालने से कान दर्द में आराम मिलता है I
4) खरबुज खाने से कावीळ में आराम मिलता है I
5) रोज के खाने में लहसुन का समावेश करने से बाल झडना बंद होता है I
भाई राजीव दिक्षीत
1) दोपहर को खाना खाने के तुरंत बाद आराम करे, 45 से 50 मिनट तक आराम करे या सो जाइएं I
2) रात को भोजन के बाद कम से कम 500 कदम चलें I
3) दही को कभी भी नमक के साथ न खायें I
4) दही के साथ मिठी चीजें जैसे गुड, शक्कर खा सकते है I
5) दूध की चिज के साथ नमक की चिज न खायें I

Krishnapriya Goshala's photo.
Krishnapriya Goshala's photo.
Krishnapriya Goshala's photo.
Krishnapriya Goshala's photo.
Like · ·

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s