Posted in संस्कृत साहित्य

अंत्येष्टि संस्कार


अंत्येष्टि संस्कार

पाणिग्रहण संस्कार के समान ही मृतक संस्कारों का इतिहास भी अति प्राचीन एवं विश्वव्यापी रहा है। इसके आनुष्ठानिक रुप भी इतने विविधात्मक हैं कि उन सब का आंकलन एक प्रभाग में किया जा सकना कठिन है। उसके कतिपय विशिष्ट पक्ष, जिनका समीक्षण यहाँ पर किया गया है, वे इस प्रकार है :-

मृतक संस्कार की पुरातनता एवं सार्वभौमिकता :-

विश्व की अधिकतर आदिम तथा विकसित जातियों तथा सामाजिक वर्गों में संपन्न किये जाने वाले तीन प्रमुख संस्कारों, जातकर्म, विवाह और अंत्येष्टि में से अंत्येष्टि ही एक ऐसा संस्कार है, जो कि निरपवाद रुप में सभी मानव संप्रदायों में आदिम काल से सम्पन्न किया जाता रहा है। इसकी पुरातनता तथा विश्वव्यापकता के निर्विवाद प्रत्यक्ष प्रमाण हैं, पुरातात्विक खुदाइयों से प्राप्त मृतकावशेष। प्रागैतिहासिक मानव किसी अन्य संस्कार को सम्पन्न करता था या नहीं, इस संदर्भ में यद्यपि निर्विवाद रुप में कुछ कह पाना कठिन है, किंतु मृतक सम्बन्धी इन अवशेषों के आधार पर निश्चित रुप से कहा जा सकता है कि वह इसे अवश्य सम्पन्न करता था।

दार्शनिक पृष्ठभूमि :-

इस संस्कार के तथा इससे सम्बन्ध विविध अनुष्ठानों के मूल में सम्भवतः न्यूनाधिक बौद्धिक सम्पदा के धनी मानव के लिए मृत्यु के रहस्य को तथा मरणोपरांत जीव की नियति के रहस्य को न समझ पाना ही रहा होगा। इसे समझने के बौद्धिक प्रयासों ने उसकी जिन संकल्पनाओं व धारणाओं को जन्म दिया, उन्होंने ही समुदाय विशेष के द्वारा सम्पादित किये जाने वाले मृतक संस्कार संबंधी अनुष्ठानों की रुप- रेखाओं का निर्धारण किया होगा, ऐसा मानना असंगत न होगा।

इस संस्कार की सार्वभौमिक तथा निरवच्छिन्नता का अन्य कारण यह भी रहा है कि मृत्यु जीवन का एक ऐसा शाश्वत् सत्य है, जिसे कोई भी नकार नहीं सकता है। जन्म, विवाह आदि न शाश्वत हैं और न अपरिहार्य ही। इनका होना या न होना परिस्थितियों पर निर्भर होता है। किंतु किसी भी जीवन धारण करने वाले प्राणी के लिए मृत्यु एक ऐसी अपरिहार्य घटना है, जिसका उसे निरंतर साक्षात्कार होता रहता है, पर सब कुछ उसकी आँखों के सामने घटित होते रहने पर भी वह इसके रहस्य को न समझ संकल्पनाएँ करता रहा है तथा मृतक के साथ अपने अति निकट सम्बन्धों के कारण मरणोपरांत भी उसके मंगल की कामना से अनेक ऐसे अनुष्ठानों का आयोजन करता रहा है, जिन्हें कि वह उसे मृतात्मा के लिए सुख एवं शांति के दायक तथा लोकांतर में उसके मार्ग में आने वाली बाधाओं का अपहारक समझता है।

मृत्यु तथा मरणोपरांत जीव की गति के सम्बन्ध में संकल्पित धारणाओं तथा विश्वासों का मानव मन पर ऐसा गहरा अमिट प्रभाव रहा है कि उच्च बौद्धिक चिंतन के स्तर पर इसके रहस्य को समझ लेने पर भी भावनात्मक स्तर पर वह अपने पुरातन संस्कारों से मुक्त नहीं हो सका है। हिंदू समाज को ही लीजिए जिसमें कि आर्यों के महान चिंतकों व साधकों, ॠषियों, मुनियों, योगियों व दार्शनिकों ने अपने- अपने ढ़ंग से मृत्यु तथा मरणोपरांत जीव की गति के रहस्य को समझ लेने के उपरांत समय- समय पर आध्यात्मिक तत्वों के निर्देशक अनेक ग्रंथों में इसका विस्तृत विवेचन प्रस्तुत किया है तथा सूत्र रुप में अपने निष्कर्षों को भी प्रस्तुत किया है यथा, गीता में मृत्यु की अपिहार्यता के सम्बन्ध में व्यक्त विचार “”जातस्य हि ध्रुवों मृत्यु” के तथ्य परक दृष्टि कोण से बहुत पहले ही बौधायन भी इसे इसी रुप में अभिव्यक्त कर चुके थे।

इसी प्रकार जीवात्मा के स्वरुप तथा उसके अमरत्व के सम्बन्ध में भी अनेक दार्शनिकों के द्वारा स्पष्ट रुप से तत्वबोधात्मक वचनों से घोषित किया जाता रहा — “”ब्रह्मसत्यं जगन्मि जीवो ब्रह्मेव नापरः”, “”सोडहम्, अहं ब्रर्ह्मस्मि”, न जायते म्रियते वा कदाचित्, नायं भूत्वा भविता वा न भूयः।” अजो नित्य शश्वतोड यं पुराणो न हन्यते हन्यमाने शरीरे इत्यादि।किंतु यह हिंदू समाज इसके पौराणिकों द्वारा प्रचारित विचारों, यथा – यमदूतों के द्वारा मृतक के प्राणों का हरण कर उसे यमराज के दरबार में प्रस्तुत किये जाने, मार्ग में पड़ने वाले दुस्तर दूषित सरिता वैतरणी को पार करने, यम के दरबार में जीव के विभिन्न कृत्यों के लिए उसे विभिन्न प्रकार के नरको की यातनायें भुगतने तथा चौरासी लाख योनियों में भटकने जैसी संकल्पनाओं से मुक्त नहीं हो सकता है। फलतः इस समाज के परमज्ञानी, तपस्वी, लोकोपकारी एवं पवित्रात्मा व्यक्ति के लिए भी उसकी संतति के द्वारा वही सारे और्ध्वदेहिक कृत्य किये जाते हैं, जो कि एक परम लम्पट, दुराचारी व्यक्ति के लिए किये जाते हैं।

इसमें से देह के विसर्जन से पूर्व किये जाने वाले कतिपय महत्वपूर्ण अनुष्ठान इस प्रकार पाये जाते हैं ………………………….

दशदान :-

“शुद्धिप्रकाश’ ( पृ. 151-52 ) में कहा गया है कि जब किसी व्यक्ति की मृत्यु निश्चित मानकर उसे भूमि पर लिटा दिया गया हो, तो उसके पुत्र अथवा किसी निकट संबंधी के द्वारा उससे निम्नलिखित वस्तुओं का परिगणन कराया गया है, वे हैं – गो, भूमि, तिल, सुवर्ण, घृत, वस्र, धान्य, गुड़ रजत तथा लवण।

वैतरणी :-

जैसा कि ऊपर कहा गया है कि वैतरणी की संकल्पना “अनुस्तरणी’ की स्थनापन्नता के रुप में की गयी थी। इसके अनुष्ठान के सम्बन्ध में कहा गया है कि व्यक्ति को मरणासन्न जानकर उसके समक्ष एक बछड़े सहित गाय को लाकर उसे व्यक्ति के हाथ में उसकी पूँछ को पकड़ा कर संकल्प पूर्वक उसका दान करना चाहिए। उसे यह नाम दिये जाने का आधार यही है कि इसकी पूँछ को पकड़कर मृतात्मा यमलोक के मार्ग में पड़ने वाली वैतरणी नामक भयावह नदी को सरलता पूर्वक पार कर सकता है।

पावनात्मक द्रव्य योग :-

यद्यपि मृतक के वायुस्थानों में सुवर्ण कणों के डाले जाने का विधान श्रौतसूत्रों में पाया जाता है किंतु प्राणान्त के समय उसके मुँह में गंगाजल तथा तुलसीदल डालने का विधान पौराणिक काल की देन है। वैदिककाल तथा सूत्रकाल में इनका कहीं कोई उल्लेख नहीं मिलता है। इस काल में पुराणकारों के द्वारा गंगा तथा तुलसी की पावनात्मक महिमा को स्थापित कर दिये जाने से मृतक की सद्गति एवं मोक्ष की कामना से मरते समय उसके मुँह में तुलसीदल तथा गंगाजल डालने की परम्परा भी अस्तित्व में आ गयी तथा उत्तरकालीन संस्कार पद्धतियों में इसका विधान किया जाने लगा। इसमें वर्णित तुलसीदल तथा गंगाजल के विशेष महत्व के प्रभावांतर्गत ही उत्तरवर्ती ग्रंथों में मृतक संस्कारों के संदर्भ में इनका विधान किया जाने लगा था।

केशवपन :-

अंत्येष्टि क्रिया करने वाले पुत्र या अन्य कर्मकर्ता को सबसे पहले वमन करा कर स्नान करना चाहिए। यदि ऐसा स्थान न हो तो शव को स्नान कराने वाले जल में गंगाजल मिलाना अथवा गंगा, गया तथा अन्य तीर्थों का आवाहन करना चाहिए। इसके उपरांत शव पर भी घी या तिल के तेल का लेप करके पुनः उसे नहलाना चाहिए। तदंतर नूतन वस्र पहना कर यज्ञोपवीत, गोपी चंदन तथा तुलसी की माला से अलंकृत करना चाहिए तथा सम्पूर्ण शरीर में चंदन, कपूर, कुंमकुम कस्तुरी आदि संगंधित पदार्थों का लेप करना चाहिए। यदि अंत्येष्टि क्रिया रात्रि के समय की जा रही हो, तो कर्मकर्ता की वमन क्रिया अगले दिन की जानी चाहिए।

अन्य स्मृतियों में इसे दूसरे, तीसरे, पाँचवें, सातवें या ग्यारहवें दिन के श्राद्धकर्म के पूर्व किसी भी दिन किये जाने की व्यवस्था भी जाती है। उत्तरवर्ती संस्कार पद्धतियों में इस संदर्भ में यह विधान भी पाया जाता है कि वपन ( मुंडन ) केवल वही सपिण्डी कराये, जो कि प्रथम बार अपने माता- पिता की मृत्यु पर वपन करा चुके हों। “मदनपारिजात’ का कहना है कि अंत्येष्टि कर्ता को वमनकर्ता को वमनकर्म प्रथम दिन तथा अशौच की समाप्ति पर करना चाहिए, किंतु शुद्धिकरण ( पृ. 162 ) में मिताक्षरा ( याज्ञ. 3,17 पर) के मत का समर्थन करते हुए इस कर्म के लिए दिन तथा स्थान का निर्णय करने के संबंध में प्रचलित परंपरा पर अधिक बल दिया गया है।

दाहाग्नि :-

गृह्यसूत्रीय साहित्य में इसके विषय में, स्पष्ट विधान पाया जाता है। तदनुसार आहिताग्नि व्यक्ति के शव का दाह “”आहिताग्नि” की तीनों अग्नियों से, अनाहिताग्नि का केवल एक अग्नि से तथा अन्य लोगों का लौकिक अग्नि से किया जाना चाहिए।

मुखाग्निदान :-

बौधा.गृ.सू. में प्राप्त उपर्युक्त विवरण से स्पष्ट है कि यह कार्य मृतक के ज्येष्ठ पुत्र अथवा तत्स्थानीय किसी सपिण्डी कर्मकर्ता के द्वारा किया जाता होगा। गौतम पितृ. सू.( 2.23 ) में भी अंत्येष्टि कर्म को करने वाले के द्वारा ही मुखाग्नि दिये जाने की व्यवस्था दी गयी है। पार.गृ. सू. के भाष्यकार हरिहर के अनुसार पुत्र के अभाव में पत्नी के द्वारा इसे किये जाने की तथा गरुड़ पुराण में पत्नी के न होने पर सहोदर भाई द्वारा अथवा पुत्र के न रहने पर पुत्रवधू के द्वारा भी मुखाग्नि दिये जाने का विधान किया गया है। उत्तरवर्ती कालों में भ्रातृपुत्र (भतीजे) को भी पुत्र की समकक्षता प्रदान किये जाने से पुत्र के अभाव में इसे ही मुखाग्नि देने का अधिकारी समझा जाता है।

कपाल क्रिया :-

अंत्येष्टि संस्कार करने वाला व्यक्ति चिताग्नि देने के उपरांत शव के अर्धदग्ध हो जाने पर चिता पर घी तथा हवन सामग्री की आहुतियाँ देकर सभी शवयात्रियों के हाथों में चंदन की लकड़ी का टुकड़ा या हवन सामग्री देता है। तदुपरांत अंत्येष्टिकर्ता पूर्णाहुति के निमित्त शववाहन ( अर्थी ) से बचाकर रखे हुए बांस के डंडे की नोंक पर एक छिद्रयुक्त नारियल के गोले को अटकाकर “”ऊँ पूर्णमद: पूर्णमिदम्.” के वैदिक मंत्र के साथ उसे भेदित तालु के स्थान पर रख देता है तथा शवयात्री अपने हाथों में ली हुई हवन सामग्री या चंदन की लकड़ी के टुकड़ों को मृतात्मा की शांति की प्रार्थना के साथ चिता में डाल देते हैं।

कपोतावशेष :-

मध्यकालीन संस्कार पद्धतियों में ,जिनका अनुपालन आधुनिक पद्धति में भी किया जाता है, इसका सविवरण उल्लेख पाया जाता है। तद्नुसार शव के सम्पूर्ण रुप से भस्मसात् हो जाने के उपरांत अंत में जब एक छोटा- सा मांसपिण्ड दुग्ध होने से रह जाता है, जो कि सम्भवतः उसके हृदय का भाग होता है तथा जो एक कबूतर के मांस पिण्ड के बराबर होने के कारण “कपोतावशेष’ कहलाता है। उसे चिताग्नि से बाहर निकाल कर दुग्ध मिश्रित जल अथवा शुद्ध जल से प्रक्षालित करके पहले से ही बचाकर रखे हुए शव वस्र के एक खण्ड में रखकर या तो, यदि चिता नदी तट पर हो, गहरे जल में विसर्जित कर दिया जाता है, ताकि जल- जंतु उसका भक्षण कर लें या पानी के नीचे किसी भारी पाषाण खण्ड से दबाकर रख दिया जाता है।

चिंताग्निशमन :-

“कपोतावशेष’ का विसर्जन कर दिये जाने के उपरांत अंत्येष्टि कर्ता के द्वारा चिता पर “वसोधारा’ ( घी की धारा ) अर्पित की जाती है तथा अंत में मृतक के पुत्र अंजलि बाँध कर चिता की परिक्रमा करके अपनी अंजलियों से उस पर जल डाल कर चिताग्नि को शांत करते हैं।

इसको तिलांजलि भी कहते हैं जिसमें जल के साथ तिल मिलाकर चिता पर डाला जाता है

Advertisements

Author:

Hello, Harshad Ashodiya I have 12,000 Hindi, Gujarati ebooks

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s