Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

किसी गाँव मे एक साधु रहा करता था


किसी गाँव मे एक साधु रहा करता था ,वो जब भी नाचता तो बारिस होती थी . अतः गाव के लोगों को जब भी बारिस की जरूरत होती थी ,तो वे लोग साधु के पास जाते और उनसे अनुरोध करते की वे नाचे , और जब वो नाचने लगता तो बारिस ज़रूर होती.

कुछ दिनों बाद चार लड़के शहर से गाँव में घूमने आये, जब उन्हें यह बात मालूम हुई की किसी साधू के नाचने से बारिस होती है तो उन्हें यकीन नहीं हुआ .

शहरी पढाई लिखाई के घमंड में उन्होंने गाँव वालों को चुनौती दे दी कि हम भी नाचेंगे तो बारिस होगी और अगर हमारे नाचने से नहीं हुई तो उस साधु के नाचने से भी नहीं होगी.फिर क्या था अगले दिन सुबह-सुबह ही गाँव वाले उन लड़कों को लेकर साधु की कुटिया पर पहुंचे.

साधु को सारी बात बताई गयी , फिर लड़कों ने नाचना शुरू किया , आधे घंटे बीते और पहला लड़का थक कर बैठ गया पर बादल नहीं दिखे , कुछ देर में दूसरे ने भी यही किया और एक घंटा बीतते-बीतते बाकी दोनों लड़के भी थक कर बैठ गए, पर बारिश नहीं हुई.

अब साधु की बारी थी , उसने नाचना शुरू किया, एक घंटा बीता, बारिश नहीं हुई, साधु नाचता रहा …दो घंटा बीता बारिश नहीं हुई….पर साधु तो रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था ,धीरे-धीरे शाम ढलने लगी कि तभी बादलों की गड़गडाहत सुनाई दी और ज़ोरों की बारिश होने लगी . लड़के दंग रह गए
और तुरंत साधु से क्षमा मांगी और पूछा-

” बाबा भला ऐसा क्यों हुआ कि हमारे नाचने से बारिस नहीं हुई और आपके नाचने से हो गयी ?”

साधु ने उत्तर दिया – ” जब मैं नाचता हूँ तो दो बातों का ध्यान रखता हूँ , पहली बात मैं ये सोचता हूँ कि अगर मैं नाचूँगा तो बारिस को होना ही पड़ेगा और दूसरी ये कि मैं तब तक नाचूँगा जब तक कि बारिस न हो जाये .”

कथा का सार :- यदि लगन व विश्वास हो तो सफलता मिलना निश्चित है ।

किसी गाँव मे एक साधु रहा करता था ,वो जब भी नाचता तो बारिस होती थी . अतः गाव के लोगों को जब भी बारिस की जरूरत होती थी ,तो वे लोग साधु के पास जाते और उनसे अनुरोध करते की वे नाचे , और जब वो नाचने लगता तो बारिस ज़रूर होती.

कुछ दिनों बाद चार लड़के शहर से गाँव में घूमने आये, जब उन्हें यह बात मालूम हुई की किसी साधू के नाचने से बारिस होती है तो उन्हें यकीन नहीं हुआ .

शहरी पढाई लिखाई के घमंड में उन्होंने गाँव वालों को चुनौती दे दी कि हम भी नाचेंगे तो बारिस होगी और अगर हमारे नाचने से नहीं हुई तो उस साधु के नाचने से भी नहीं होगी.फिर क्या था अगले दिन सुबह-सुबह ही गाँव वाले उन लड़कों को लेकर साधु की कुटिया पर पहुंचे.

साधु को सारी बात बताई गयी , फिर लड़कों ने नाचना शुरू किया , आधे घंटे बीते और पहला लड़का थक कर बैठ गया पर बादल नहीं दिखे , कुछ देर में दूसरे ने भी यही किया और एक घंटा बीतते-बीतते बाकी दोनों लड़के भी थक कर बैठ गए, पर बारिश नहीं हुई.

अब साधु की बारी थी , उसने नाचना शुरू किया, एक घंटा बीता, बारिश नहीं हुई, साधु नाचता रहा …दो घंटा बीता बारिश नहीं हुई….पर साधु तो रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था ,धीरे-धीरे शाम ढलने लगी कि तभी बादलों की गड़गडाहत सुनाई दी और ज़ोरों की बारिश होने लगी . लड़के दंग रह गए
और तुरंत साधु से क्षमा मांगी और पूछा-

” बाबा भला ऐसा क्यों हुआ कि हमारे नाचने से बारिस नहीं हुई और आपके नाचने से हो गयी ?”

साधु ने उत्तर दिया – ” जब मैं नाचता हूँ तो दो बातों का ध्यान रखता हूँ , पहली बात मैं ये सोचता हूँ कि अगर मैं नाचूँगा तो बारिस को होना ही पड़ेगा और दूसरी ये कि मैं तब तक नाचूँगा जब तक कि बारिस न हो जाये .”

कथा का सार :- यदि लगन व विश्वास हो तो सफलता मिलना निश्चित है ।
Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Art historian cracks the code of an ancient temple Read more at: http://archaeologynewsnetwork.blogspot.com/2014/11/art-historian-cracks-code-of-ancient.html?utm_source=feedburner&utm_medium=email&utm_campaign=Feed%3A+TheArchaeologyNewsNetwork+%28The+Archaeology+News+Network%29#.VHnn79KUfkh Follow us: @ArchaeoNewsNet on Twitter | groups/thearchaeologynewsnetwork/ on Facebook


Art historian cracks the code of an ancient temple Posted by TANNArchaeology, Breakingnews, Heritage, India, More Stuff, Recommended Reading 2:30 PM For 13 centuries, the Virupaksha Temple in Pattadakal has been one of the most recognizable landmarks in Indian art — a towering layer cake of elaborate, hand-carved friezes populated by a bevy of Hindu deities and symbols. Now Cathleen Cummings, Ph.D., an associate professor in the UAB Department of Art and Art History who specializes in Asian art history, has shown that these figures are more than just architectural decoration. “For a long time, there was an assumption that the sculptures on the outside of Hindu temples didn’t necessarily mean anything as a group,” she says. But “it seemed to me right away that there were certain, very conscious choices being made as to where deities and specific forms of deities were placed.” More than a decade of work and 11 trips to India led to her recent book, Decoding a Hindu Temple: Royalty and Religion in the Iconographic Program of the Virupaksha Temple, Pattadakal (South Asian Studies Association: 2014). Her discoveries identify images that glorify the king by referencing his family, conquests, and accomplishments, as well as other sculptural elements that offer religious guidance. Cummings describes one series of sequential inscriptions that depicts taking refuge in a deity, showing faith and then salvation. “It seemed like a clear sequence for devotees to follow,” she says. “It didn’t seem to be random images. There was a particular message that they could take away from it.” Similar types of religious and royal imagery adorn centuries-old churches across the world, Cummings notes. “The idea of iconographic programs has been accepted in the context of Christian art for quite a long time.” Cummings’s research on the temple also sheds new light on the important role that women played in ancient Indian politics and culture. Queen Lokamahadevi, the chief wife of the king, Vikramaditya II, led the construction of the temple to the Hindu god Shiva during the early Chalukya dynasty, around the year 733. The queen wanted a temple “dedicated to the king’s reign and victory in wars with three other dynasties,” Cummings explains. Though women were part of the king’s inner circle, Cummings found the queen’s prominent placement in the temple’s iconography intriguing. “Women have a very prominent role as temple patrons and probably also controlled resources much more than we tend to believe or know,” Cummings says. “The dynasty that built Virupaksha was among the earliest to participate in the tradition of building large temples in stone,” she says. “This particular temple is the best preserved and probably the most elaborate one that they built.” The builders didn’t leave many clues for Cummings to follow, however. “Apart from a few, very terse inscriptions on this and other Early Chalukya monuments, historians have not recovered much primary source documentation for this dynasty,” she says. Consequently, Cummings followed a scientific path, developing a hypothesis and following her instincts to find evidence to make her case. She pored over the placement of statues, studied Sanskrit inscriptions and ancient court documents from contemporary South Indian dynasties, investigated the temple’s rituals, and traveled to other Indian holy sites to build upon her findings. Teasing out the meanings behind the iconography was like an unfolding detective story, says Cummings, who is pleased that her work “fleshes out the Chalukya dynasty a lot more.” Cummings, whose interest in Indian and Asian art began during her own undergraduate years, is eager to continue her research and share her knowledge with UAB art history students, especially the detailed work that led to her findings. UAB’s $1-billion Campaign for UAB could potentially fund comprehensive research trips for her students, she says. “One of the things that nobody really teaches is how to do field work,” she notes. “I was able to reach my conclusions without having to physically chip away the temple.” Author: Williesha Morris | Source: University of Alabama at Birmingham [November 12, 2014]

Read more at: http://archaeologynewsnetwork.blogspot.com/2014/11/art-historian-cracks-code-of-ancient.html?utm_source=feedburner&utm_medium=email&utm_campaign=Feed%3A+TheArchaeologyNewsNetwork+%28The+Archaeology+News+Network%29#.VHnn79KUfkh
Follow us: @ArchaeoNewsNet on Twitter | groups/thearchaeologynewsnetwork/ on Facebook

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

malaysian temples


http://www.malaysiantemples.com/2012/11/petaling-estatesree-maha-mariamman.html

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Sree Maha Mariamman Temple


Photos by Suriya Varman for malaysiantemples.com

This Sree Maha Mariamman Temple was previously part of  the Petaling Estate plantation before it gave way to development and today, it is the only one of its kind which has a shrine for Lord Brahma and Mount Mahameru installed on top of a turtle (an avatar of Vishnu) in front of the main alter. Even the Navagraha shrine is unique as the idol of Suriya Bagawan is installed together with His two consorts and horses.

Mount Maha Meru installed on top of a turtle
(special prayers are conducted during Pournami and Ammavasai)

 

Gold plated walls

 

Gold plated stairs to the Garbhagraham

 

 

 

 

Suriya Bagawan with his two Consorts

 

Lord Brahma

 

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Sri Maha Mariamman Temple, Kuala Lumpur


Sri Maha Mariamman Temple, Kuala Lumpur

http://www.malaysiantemples.com/2012/04/maha-mariamman-temple-kuala-lumpur.html

The Founder of the temple.

The Sri Mahamariamman Temple was founded by K. Thamboosamy Pillai in 1873.He was a prominent Malaysian of Tamil origin during the pre-independence years and was considered the leader of the Tamil community.Thamboosamy was also one of the founders and one of the original Trustees of Victoria Institution, Kuala Lumpur and the Batu Caves Murugan Temple. A Sivan Temple in Klang is also said to have been built on land which was owned by his family later donated to the temple committee.

He was said to have discovered Batu Caves, with its vel-shaped entrance, and was inspired to start a Hindu temple in devotion to Lord Muruga in 1888. The first Thaipoosam festival in Malaysia was also started by Thamboosamy Pillay in 1891.

So great was Thamboosamy’s philanthropic spirit, that he donated money to whoever needed it, regardless of race or religion. He contributed a sizeable amount of money to the building fund of St. Mary’s Cathedral, Kuala Lumpur in 1893, despite being a Hindu.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Posted by Puravin at Tuesday, April 10, 2012

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Sri Maha Mariamman Temple


Sri Maha Mariamman Temple

Bangkok’s best Hindu temple

Photo of Sri Maha Mariamman Temple, , Bangkok

 

The outside towers and walls show an elaborate intertwining of Hindu deities that seem to reach for the sky, and the footpaths surrounding the temple are filled with vendors selling flower garlands and fruit to be given as offerings.

The temple was built in the 1860s by immigrants from Tamil Nadu who made their new home in this part of town, which still has a strong southern Indian influence. The temple is dedicated to Maha Mariamman (aka Maha Devi), the goddess of death, who is also believed to have the power to protect against disease and misfortune. The temple’s main shrine features an image of the goddess, Shakti, herself an embodiment of Maha Devi associated with creativity, fertility and femininity. The image is considered extremely sacred and white-robed Brahmans accept continual offerings from the faithful — many of them Thai Buddhists — in front of Shakti when the temple is open. A red splotch, or bindi, is placed by the Brahmans on the forehead of all who give offerings.

The temple holds special ceremonies in accordance with the moon, and each year in late October the Shakti image is paraded through the area’s streets to much fanfare during a festival bearing the goddess’ name. Note that the temple is considered to be very sacred — no photography is prohibited inside the walls and proper attire is required.

More details
Intersection of Silom and Pan Roads
http://srimahamariammantemplebangkok.com
Opening Hours: Mon-Thurs 6:00-20:00, Fri 6:00-21:00, Sat-Sun 6:00-20:30
How to get there: On the corner of Silom and Pan Road, about a five-minute walk from either Surasak or Chong Nonsi BTS stations.
Posted in Uncategorized

सूफियों द्वारा भारत का इस्लामीकरण


सूफियों द्वारा भारत का इस्लामीकरण——!

भारतीय इतिहास यह बताता है की इन सूफियों ने सीधे-सादे हिन्दुओं को संत के नाम पर ठगने का काम किया ये इस्लामिक आक्रमणकारियों के लिए ख़ुफ़िया तंत्र का केवल काम ही नहीं तो कहीं- कहीं तो प्रत्यक्ष युद्ध में तलवार उठाने में नहीं चूकते थे इनका उद्देश्य भारत वर्ष का इस्लामीकरण ही था सर्वाधिक इस्लामीकरण इन सूफियों द्वारा हुआ यह इसका प्रमाण है.

यह सुल्तान महमूद गजनवी के बहन का पुत्र था इसका नाम सलार मसूद था चार ही वर्ष से इसको इस्लामिक शिक्षा दी गयी थी यह उन सूफियों में था जिन्हीने तलवार लेकर भारत में इस्लामीकरण हेतु घुसे उसमे सिपहसालार मसूद गाजी भी था जिसे साधारणतया ”गाजी मियां” के नाम से जाना जाता है यह स्थान उत्तरप्रदेश के बहराईच जिला में स्थित है इसी ने सोमनाथ मंदिर को तोडवाने हेतु महमूद गजनवी को प्रेरित किया था, प्रारंभ से हिन्दुओं के सामने एक ही प्रस्ताव ”इस्लाम अथवा मृत्यु” यह पंजाब के रास्ते बहराइच पंहुचा और हजारों हिन्दुओ का कत्ल किया जो यद्ध में मुसलमान मारे गए रास्ते में जगह-जगह उनकी मजारें बनी हुई हैं इसने ”गाजी” की उपाधि ग्रहण की यानी काफिरों का बध करने वाला, उसने १७ वर्ष की आयु में पचास हज़ार घुड़सवार लेकर सिन्धु नदी पार की, इस्लामिक सेना ने जन-जीवन को तबाह कर दिया मुल्तान के राजा ने पूछा हमारी भूमि पर आक्रमण का क्या औचित्य है–? उसने बताया कि ”भूमि अल्लाह की है वह अपने बन्दों को देता है यह काफिरों के लिए नहीं है” काफिरों को मुसलमान बनाना हमारा कर्तब्य है यदि वे इस्लाम स्वीकार नहीं करते तो उनका बध आवश्यक है वर्षात का समय था मुल्तान में ”इस्लाम अथवा मृत्यु” का अभियान जारी रखा अब उसने अवध की ओर प्रस्थान किया .

मसूद ने गंगा पार कर मिश्रिख -नैमिषारण्य (सीतापुर) हिन्दुओं का पवित्र तीर्थ में उसने डेरा डाला, इस्लामीकरण हेतु अपने सैनिको को भेजते समय मसूद ने कहा ”तुम्हे अल्लाह को सौपते हैं जहाँ जावो वहां हिन्दुओ को समझा-बुझाकर मुसलमान बनाओ अन्यथा क़त्ल कर देना” वे सभी गले मिलकर अपनी-अपनी दिशा की ओर चल दिए, एक मुस्लिम इतिहासकार लिखता है, ”कैसा अद्भुत दृश्य है, कैसी अद्भुत मित्रता ? कैसा अद्भुत विस्वास है ! केवल इस्लाम के प्रचार के लिए बिना किसी भय के इस प्रकार कुफ्र के समुद्र में कूद पड़ना”, यहाँ के राजाओं ने मसूद को दूत द्वारा सन्देश भेजा- यहाँ से अपने देश वापस चले जावो नहीं तो युद्ध के लिए तैयार हो जावो, मसूद ने उत्तर दिया मै मौज मस्ती के लिए नहीं आया हूँ हम यहीं रहेगे और इस भूमि से कुफ्र और काफिरों को समूल नष्ट कर देगें.

सलार मसूद के सिपहसालार सैफुद्दीन ने बहराइच में तुरंत सहायता मागी मसूद ने उसकी सहायता के लिए प्रस्थान किया, बहराइच में हिन्दुओं का प्रसिद्द तीर्थ स्थान सूरज कुण्ड हुआ करता था वहां सूर्य देवता की एक भब्य प्रतिमा थी देश भर से हजारों हिन्दू सूर्य ग्रहण के दिन पूजा अर्चना अथवा स्नान हेतु आते थे मसूद को यह देखकर अपार कष्ट होता था, इस क्षेत्र को हिन्दू राजाओं ने महाराज सुहेलदेव के नेतृत्व में अपनी- अपनी सेना लेकर घेर लिया कई बार युद्ध हुआ, भीषण युद्ध में १५जुन १०३३ को सायंकाल राजा सुहेलदेव ने उसे मार गिराया पूरी मुस्लिम सेना समाप्त हो गयी मसूद की मृत्यु के पश्चात् उसे वहीँ कुण्ड के पास दफना दिया गया वाद में इस्लामिक शासन हो जाने के कारण यह सूरज कुण्ड का मेला तीर्थ, गाजी मियां के मेला रूप में परिवर्तित कर दिया गया आज भी वहां जाते समय सभी हिन्दू अपनी रीती से जहाँ भी पानी मिलता है स्नान करता है और उसी भाव से जाता है, कैसा दुर्भाग्य है हिन्दुओं का जो गाजी हजारों हिन्दुओ को मुसलमान बनाया हजारों मंदिरों को नष्ट किया उसी की पूजा करने जाता है, जिसने उस अपराधी का बध किया हिन्दू धर्म रक्षक राजा सुहेलदेव को कितने लोग जानते हैं—-?

हिन्दुओ—! तुम धन्य हो तुम उनकी पूजा करते हो जिनका ध्येय तुम्हे मिटाना ही था, और धन्य है हिन्दू समाज के वे लाखों धर्मगुरु साधू, सन्यासी जो इन अनिभिज्ञ लोगों को इस प्रकार की पूजा से बिरत करने का कोई प्रयास नहीं करते ! ऐसे समाज को नष्ट हो जाने में क्या कोई संदेह हो सकता है—?

सूबेदार जी

मुजफ्फरपुर

Posted in ज्योतिष - Astrology

शाम को नहीं करना चाहिए ये 7 काम


शाम को नहीं करना चाहिए ये 7 काम
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
यदि अपने जीवन को हमेशा खुशहाल और समृद्धि से परिपूर्ण रखना चाहते हैं तो यहां बताए जा रहे हैं कुछ कामों को शाम के समय कभी न करें। शाम को जब मंदिर में व अन्य धार्मिक स्थल पर भगवान की आराधना की जाती है। उस समय कुछ कार्यो को करना अशुभ माना जाता है। कहा जाता है कि इन कामों को शाम के समय करने से घर में हमेशा दरिद्रता रहती है। आमदनी अधिक होने पर भी पैसा नहीं टिकता है। आइए जानते हैं कौन से है वो काम जिन्हें सूर्यास्त के समय करना निषेध माना गया है।
1. सोना नही चाहिए- सूर्यास्त के समय किसी को भी लेटना या सोना नहीं चाहिए। इस समय को भगवान की आराधना और आरती आदि के लिए श्रेष्ठ माना गया है। शास्त्र कहते हैं यदि आप बीमार नहीं है या कोई अन्य आवश्यक कारण नहीं है तो सूर्यास्त के समय नहीं सोना चाहिए। इस समय सोने से लक्ष्मी नाराज होती हैं और व्यक्ति बीमार और सुस्त हो जाता है। इसका वैज्ञानिक कारण यह है कि शाम के समय सोने वाला इंसान चुस्त नहीं रहता है, उसका शरीर बीमारियों का घर बन जाता है। इसलिए इस समय नहीं सोना चाहिए।
2. पढ़ाई न करें- सूर्यास्त के समय पढ़ने व लिखने जैसे काम भी उचित नहीं माने गए हैं। माना जाता है कि शाम के समय पढ़ने से आंखो पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इस समय विद्यार्थी को कुछ देर मौन रहकर मां सरस्वती का ध्यान करना चाहिए। इससे दिमाग हमेशा स्वस्थ और दुरुस्त रहता है।
3. घर सफाई नहीं करना चाहिए- सूर्यास्त के समय झाड़ू लगाना भी अच्छा नहीं माना गया है। कहा जाता है कि झाड़ू मां लक्ष्मी का प्रतीक है। शाम ढलने से पहले घर और घर में साफ-सफाई कर लेनी चाहिए। ऐसा करने से घर हमेशा मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। माना जाता है कि रात में झाड़ू लगाने से खर्च बढ़ जाता और आर्थिक नुकसान होता है। इसका वैज्ञानिक कारण यह है कि शाम ढलने के बाद सफाई करने से घर में जो जीवाणु प्रवेश करते हैं वे खत्म नहीं होते हैं। जबकि घर में सूर्य का प्रकाश आने पर सफाई के बाद ये जीवाणु खत्म हो जाते हैं। इसलिए हमारे धर्मग्रंथों में माना गया है कि सफाई सुबह और शाम को सूर्यास्त से पूर्व करना चाहिए।
4. नाखून न काटें- बहुत से लोगों की आदत होती है कि दिन में समय नहीं मिले तो रात में ही नाखून काटने बैठ जाते हैं, लेकिन रात को नाखून काटना अशुभ माना जाता है। इसी प्रकार नाखून काटकर तुरंत स्नान करना भी अपशकुन माना जाता है। नाखून काटकर स्नान तब किया जाता है, जब घर परिवार में किसी की मृत्यु होती है। रात में नाखून काटने से लक्ष्मी घर से चली जाती है और स्वास्थ्य की हानि होती है।
5. बाल भी न काटें – रात के समय बाल काटना भी उचित नहीं माना जाता है। कहा जाता है इससे घर में अलक्ष्मी का निवास होता है। स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह ठीक नहीं होता है।
6. इस समय भोजन न करें- कहा जाता है कि सूर्यास्त के समय भोजन नहीं करना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार इस समय भोजन करने पर भोजन का पाचन ठीक से नहीं होता है। शरीर में कब्ज, गैस व एसिडिटी जैसे विकार पैदा होने लगते हैं, जो अन्य कई बीमारियों का भी कारण बनते है। धीरे-धीरे शरीर को कई तरह के रोग घेर लेते हैं। इसलिए इस समय भोजन करना निषेध माना गया है।
7. न करें सुगंधित चीजों का इस्तेमाल- सूर्यास्त के बाद खुशबूदार तेल या या सुंगधित चीजें लगाना भी उचित नहीं माना जाता है। शाम ढलने के बाद सुगंधित पदार्थ लगाने से नकारात्मक उर्जा का प्रभाव बढ़ जाता है। इससे मन विचलित होता और कई प्रकार के मनोविकार उत्पन्न होते हैं। इसलिए यदि आपको तेल या सुगंधित वस्तुओं का प्रयोग करना हो तो शाम ढलने से पहले से इनका प्रयोग कर लें।

शाम को नहीं करना चाहिए ये 7 काम
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
यदि अपने जीवन को हमेशा खुशहाल और समृद्धि से परिपूर्ण रखना चाहते हैं तो यहां बताए जा रहे हैं कुछ कामों को शाम के समय कभी न करें। शाम को जब मंदिर में व अन्य धार्मिक स्थल पर भगवान की आराधना की जाती है। उस समय कुछ कार्यो को करना अशुभ माना जाता है। कहा जाता है कि इन कामों को शाम के समय करने से घर में हमेशा दरिद्रता रहती है। आमदनी अधिक होने पर भी पैसा नहीं टिकता है। आइए जानते हैं कौन से है वो काम जिन्हें सूर्यास्त के समय करना निषेध माना गया है।
1. सोना नही चाहिए- सूर्यास्त के समय किसी को भी लेटना या सोना नहीं चाहिए। इस समय को भगवान की आराधना और आरती आदि के लिए श्रेष्ठ माना गया है। शास्त्र कहते हैं यदि आप बीमार नहीं है या कोई अन्य आवश्यक कारण नहीं है तो सूर्यास्त के समय नहीं सोना चाहिए। इस समय सोने से लक्ष्मी नाराज होती हैं और व्यक्ति बीमार और सुस्त हो जाता है। इसका वैज्ञानिक कारण यह है कि शाम के समय सोने वाला इंसान चुस्त नहीं रहता है, उसका शरीर बीमारियों का घर बन जाता है। इसलिए इस समय नहीं सोना चाहिए।
2. पढ़ाई न करें- सूर्यास्त के समय पढ़ने व लिखने जैसे काम भी उचित नहीं माने गए हैं। माना जाता है कि शाम के समय पढ़ने से आंखो पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इस समय विद्यार्थी को कुछ देर मौन रहकर मां सरस्वती का ध्यान करना चाहिए। इससे दिमाग हमेशा स्वस्थ और दुरुस्त रहता है।
3. घर सफाई नहीं करना चाहिए- सूर्यास्त के समय झाड़ू लगाना भी अच्छा नहीं माना गया है। कहा जाता है कि झाड़ू मां लक्ष्मी का प्रतीक है। शाम ढलने से पहले घर और घर में साफ-सफाई कर लेनी चाहिए। ऐसा करने से घर हमेशा मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। माना जाता है कि रात में झाड़ू लगाने से खर्च बढ़ जाता और आर्थिक नुकसान होता है। इसका वैज्ञानिक कारण यह है कि शाम ढलने के बाद सफाई करने से घर में जो जीवाणु प्रवेश करते हैं वे खत्म नहीं होते हैं। जबकि घर में सूर्य का प्रकाश आने पर सफाई के बाद ये जीवाणु खत्म हो जाते हैं। इसलिए हमारे धर्मग्रंथों में माना गया है कि सफाई सुबह और शाम को सूर्यास्त से पूर्व करना चाहिए।
4. नाखून न काटें- बहुत से लोगों की आदत होती है कि दिन में समय नहीं मिले तो रात में ही नाखून काटने बैठ जाते हैं, लेकिन रात को नाखून काटना अशुभ माना जाता है। इसी प्रकार नाखून काटकर तुरंत स्नान करना भी अपशकुन माना जाता है। नाखून काटकर स्नान तब किया जाता है, जब घर परिवार में किसी की मृत्यु होती है। रात में नाखून काटने से लक्ष्मी घर से चली जाती है और स्वास्थ्य की हानि होती है।
5. बाल भी न काटें - रात के समय बाल काटना भी उचित नहीं माना जाता है। कहा जाता है इससे घर में अलक्ष्मी का निवास होता है। स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह ठीक नहीं होता है।
 6. इस समय भोजन न करें- कहा जाता है कि सूर्यास्त के समय भोजन नहीं करना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार इस समय भोजन करने पर भोजन का पाचन ठीक से नहीं होता है। शरीर में कब्ज, गैस व एसिडिटी जैसे विकार पैदा होने लगते हैं, जो अन्य कई बीमारियों का भी कारण बनते है। धीरे-धीरे शरीर को कई तरह के रोग घेर लेते हैं। इसलिए इस समय भोजन करना निषेध माना गया है।
7. न करें सुगंधित चीजों का इस्तेमाल- सूर्यास्त के बाद खुशबूदार तेल या या सुंगधित चीजें लगाना भी उचित नहीं माना जाता है। शाम ढलने के बाद सुगंधित पदार्थ लगाने से नकारात्मक उर्जा का प्रभाव बढ़ जाता है। इससे मन विचलित होता और कई प्रकार के मनोविकार उत्पन्न होते हैं। इसलिए यदि आपको तेल या सुगंधित वस्तुओं का प्रयोग करना हो तो शाम ढलने से पहले से इनका प्रयोग कर लें।