Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Evidence of Hinduism in China has been found in and around Quanzhou in Fujian province,


Evidence of Hinduism in China has been found in and around Quanzhou in Fujian province, suggesting the presence of a Hindu community in medieval China.The evidence consists of a Tamil-Chinese bilingual inscription dated April 1281 AD devoted to Lord Śiva, as well as over 300 artifacts, idols and Chola-style temple structures discovered in Fujian province since 1933. Archeological studies suggest at least Vaishnavism and Shaivism schools of Hinduism had arrived in China in its history.
For more info one may consult the following book by Huang Xinchuan (1986), titled “Hinduism and China, in Freedom, Progress, and Society” (Editors: Balasubramanian et al.), ISBN 81-208-0262-4
Picture: Hindu Carving at a Hindu Temple at Quanzhou
Photo: Evidence of Hinduism in China has been found in and around Quanzhou in Fujian province, suggesting the presence of a Hindu community in medieval China.The evidence consists of a Tamil-Chinese bilingual inscription dated April 1281 AD devoted to Lord Śiva, as well as over 300 artifacts, idols and Chola-style temple structures discovered in Fujian province since 1933. Archeological studies suggest at least Vaishnavism and Shaivism schools of Hinduism had arrived in China in its history.
For more info one may consult the following book by Huang Xinchuan (1986), titled "Hinduism and China, in Freedom, Progress, and Society" (Editors: Balasubramanian et al.), ISBN 81-208-0262-4
Picture: Hindu Carving at a Hindu Temple at Quanzhou
Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

The 800 years old forgotten Hindu temples of China


The 800 years old forgotten Hindu temples of China:
There are more than a dozen Hindu temples and shrines in Quanzhou (China). Some of them are at least over 800 years old. While it is a forgotten history for us Indians, the local Chinese are certainly taking good care of them.
——
See vedio on the Hindu temples of Quanzhou (China) –
http://www.youtube.com/watch?v=Gcb643uVtSc&feature=youtu.be

Report in “The Hindu” national news paper:
http://www.thehindu.com/news/national/behind-chinas-hindu-temples-a-forgotten-history/article4932458.ece?textsize=large&test=1

In and around Quanzhou, a bustling industrial city, there are shrines that historians believe may have been part of a network of more than a dozen Hindu temples and shrines

For the residents of Chedian, a few thousand-year-old village of muddy by-lanes and old stone courtyard houses, she is just another form of Guanyin, the female Bodhisattva who is venerated in many parts of China.

But the goddess that the residents of this village pray to every morning, as they light incense sticks and chant prayers, is quite unlike any deity one might find elsewhere in China. Sitting cross-legged, the four-armed goddess smiles benignly, flanked by two attendants, with an apparently vanquished demon lying at her feet.

Local scholars are still unsure about her identity, but what they do know is that this shrine’s unique roots lie not in China, but in far away south India. The deity, they say, was either brought to Quanzhou — a thriving port city that was at the centre of the region’s maritime commerce a few centuries ago — by Tamil traders who worked here some 800 years ago, or perhaps more likely, crafted by local sculptors at their behest.

“This is possibly the only temple in China where we are still praying to a Hindu God,” says Li San Long, a Chedian resident, with a smile.

“Even though most of the villagers still think she is Guanyin!” Mr. Li said the village temple collapsed some 500 years ago, but villagers dug through the rubble, saved the deity and rebuilt the temple, believing that the goddess brought them good fortune — a belief that some, at least, still adhere to.

The Chedian shrine is just one of what historians believe may have been a network of more than a dozen Hindu temples or shrines, including two grand big temples, built in Quanzhou and surrounding villages by a community of Tamil traders who lived here during the Song (960-1279) and Yuan (1279-1368) dynasties.

At the time, this port city was among the busiest in the world and was a thriving centre of regional maritime commerce.

The history of Quanzhou’s temples and Tamil links was largely forgotten until the 1930s, when dozens of stones showing perfectly rendered images of the god Narasimha — the man-lion avatar of Vishnu — were unearthed by a Quanzhou archaeologist called Wu Wenliang. Elephant statues and images narrating mythological stories related to Vishnu and Shiva were also found, bearing a style and pattern that was almost identical to what was evident in the temples of Tamil Nadu and Andhra Pradesh from a similar period.

Wu’s discoveries received little attention at the time as his country was slowly emerging from the turmoil of the Japanese occupation, the Second World War and the civil war. It took more than a decade after the Communists came to power in 1949 for the stones and statues to even be placed in a museum, known today as the Quanzhou Maritime Museum.

“It is difficult to say how many temples there were, and how many were destroyed or fell to ruin,” the museum’s vice curator Wang Liming told The Hindu. “But we have found them spread across so many different sites that we are very possibly talking about many temples that were built across Quanzhou.”

Today, most of the sculptures and statues are on display in the museum, which also showcases a map that leaves little doubt about the remarkable spread of the discoveries. The sites stretch across more than a dozen locations located all over the city and in the surrounding county. The most recent discoveries were made in the 1980s, and it is possible, says Ms. Wang, that there are old sites yet to be discovered.

The Maritime Museum has now opened a special exhibit showcasing Quanzhou’s south Indian links. Ms. Wang says there is a renewed interest — and financial backing — from the local government to do more to showcase what she describes as the city’s “1000-year-old history with south India,” which has been largely forgotten, not only in China but also in India.

“There is still a lot we don’t know about this period,” she says, “so if we can get any help from Indian scholars, we would really welcome it as this is something we need to study together. Most of the stones come from the 13th century Yuan Dynasty, which developed close trade links with the kingdoms of southern India. We believe that the designs were brought by the traders, but the work was probably done by Chinese workers.”

Ms. Wang says the earliest record of an Indian residing in Quanzhou dates back to the 6th century. An inscription found on the Yanfu temple from the Song Dynasty describes how the monk Gunaratna, known in China as Liang Putong, translated sutras from Sanskrit. Trade particularly flourished in the 13th century Yuan Dynasty. In 1271, a visiting Italian merchant recorded that the Indian traders “were recognised easily.”

“These rich Indian men and women mainly live on vegetables, milk and rice,” he wrote, unlike the Chinese “who eat meat and fish.” The most striking legacy of this period of history is still on public display in a hidden corner of the 7th century Kaiyuan Buddhist Temple, which is today Quanzhou’s biggest temple and is located in the centre of the old town. A popular attraction for Chinese Buddhists, the temple receives a few thousand visitors every day. In a corner behind the temple, there are at least half a dozen pillars displaying an extraordinary variety of inscriptions from Hindu mythology. A panel of inscriptions depicting the god Narasimha also adorns the steps leading up to the main shrine, which houses a Buddha statue. Huang Yishan, a temple caretaker whose family has, for generations, owned the land on which the temple was built, says the inscriptions are perhaps the most unique part of the temple, although he laments that most of his compatriots are unaware of this chapter of history. On a recent afternoon, as a stream of visitors walked up the steps to offer incense sticks as they prayed to Buddha, none spared a glance at the panel of inscriptions. Other indicators from Quanzhou’s rich but forgotten past lie scattered through what is now a modern and bustling industrial city, albeit a town that today lies in the shadow of the provincial capital Xiamen and the more prosperous port city of Guangzhou to the far south.

A few kilometres from the Kaiyuan temple stands a striking several metre-high Shiva lingam in the centre of the popular Bamboo Stone Park. To the city’s residents, however, the lingam is merely known as a rather unusually shaped “bamboo stone,” another symbol of history that still stays hidden in plain sight.

From: http://www.thehindu.com/news/national/behind-chinas-hindu-temples-a-forgotten-history/article4932458.ece?textsize=large&test=1

Photo: The 800 years old forgotten Hindu temples of China: 
There are more than a dozen Hindu temples and shrines in Quanzhou (China). Some of them are at least over 800 years old. While it is a forgotten history for us Indians, the local Chinese are certainly taking good care of them. 
------ 
See vedio on the Hindu temples of Quanzhou (China) -
http://www.youtube.com/watch?v=Gcb643uVtSc&feature=youtu.be

Report in "The Hindu" national news paper:
http://www.thehindu.com/news/national/behind-chinas-hindu-temples-a-forgotten-history/article4932458.ece?textsize=large&test=1

In and around Quanzhou, a bustling industrial city, there are shrines that historians believe may have been part of a network of more than a dozen Hindu temples and shrines

For the residents of Chedian, a few thousand-year-old village of muddy by-lanes and old stone courtyard houses, she is just another form of Guanyin, the female Bodhisattva who is venerated in many parts of China.

But the goddess that the residents of this village pray to every morning, as they light incense sticks and chant prayers, is quite unlike any deity one might find elsewhere in China. Sitting cross-legged, the four-armed goddess smiles benignly, flanked by two attendants, with an apparently vanquished demon lying at her feet.

Local scholars are still unsure about her identity, but what they do know is that this shrine’s unique roots lie not in China, but in far away south India. The deity, they say, was either brought to Quanzhou — a thriving port city that was at the centre of the region’s maritime commerce a few centuries ago — by Tamil traders who worked here some 800 years ago, or perhaps more likely, crafted by local sculptors at their behest.

“This is possibly the only temple in China where we are still praying to a Hindu God,” says Li San Long, a Chedian resident, with a smile.

“Even though most of the villagers still think she is Guanyin!” Mr. Li said the village temple collapsed some 500 years ago, but villagers dug through the rubble, saved the deity and rebuilt the temple, believing that the goddess brought them good fortune — a belief that some, at least, still adhere to.

The Chedian shrine is just one of what historians believe may have been a network of more than a dozen Hindu temples or shrines, including two grand big temples, built in Quanzhou and surrounding villages by a community of Tamil traders who lived here during the Song (960-1279) and Yuan (1279-1368) dynasties.

At the time, this port city was among the busiest in the world and was a thriving centre of regional maritime commerce.

The history of Quanzhou’s temples and Tamil links was largely forgotten until the 1930s, when dozens of stones showing perfectly rendered images of the god Narasimha — the man-lion avatar of Vishnu — were unearthed by a Quanzhou archaeologist called Wu Wenliang. Elephant statues and images narrating mythological stories related to Vishnu and Shiva were also found, bearing a style and pattern that was almost identical to what was evident in the temples of Tamil Nadu and Andhra Pradesh from a similar period.

Wu’s discoveries received little attention at the time as his country was slowly emerging from the turmoil of the Japanese occupation, the Second World War and the civil war. It took more than a decade after the Communists came to power in 1949 for the stones and statues to even be placed in a museum, known today as the Quanzhou Maritime Museum.

“It is difficult to say how many temples there were, and how many were destroyed or fell to ruin,” the museum’s vice curator Wang Liming told The Hindu. “But we have found them spread across so many different sites that we are very possibly talking about many temples that were built across Quanzhou.”

Today, most of the sculptures and statues are on display in the museum, which also showcases a map that leaves little doubt about the remarkable spread of the discoveries. The sites stretch across more than a dozen locations located all over the city and in the surrounding county. The most recent discoveries were made in the 1980s, and it is possible, says Ms. Wang, that there are old sites yet to be discovered.

The Maritime Museum has now opened a special exhibit showcasing Quanzhou’s south Indian links. Ms. Wang says there is a renewed interest — and financial backing — from the local government to do more to showcase what she describes as the city’s “1000-year-old history with south India,” which has been largely forgotten, not only in China but also in India.

“There is still a lot we don't know about this period,” she says, “so if we can get any help from Indian scholars, we would really welcome it as this is something we need to study together. Most of the stones come from the 13th century Yuan Dynasty, which developed close trade links with the kingdoms of southern India. We believe that the designs were brought by the traders, but the work was probably done by Chinese workers.”

Ms. Wang says the earliest record of an Indian residing in Quanzhou dates back to the 6th century. An inscription found on the Yanfu temple from the Song Dynasty describes how the monk Gunaratna, known in China as Liang Putong, translated sutras from Sanskrit. Trade particularly flourished in the 13th century Yuan Dynasty. In 1271, a visiting Italian merchant recorded that the Indian traders “were recognised easily.”

“These rich Indian men and women mainly live on vegetables, milk and rice,” he wrote, unlike the Chinese “who eat meat and fish.” The most striking legacy of this period of history is still on public display in a hidden corner of the 7th century Kaiyuan Buddhist Temple, which is today Quanzhou’s biggest temple and is located in the centre of the old town. A popular attraction for Chinese Buddhists, the temple receives a few thousand visitors every day. In a corner behind the temple, there are at least half a dozen pillars displaying an extraordinary variety of inscriptions from Hindu mythology. A panel of inscriptions depicting the god Narasimha also adorns the steps leading up to the main shrine, which houses a Buddha statue. Huang Yishan, a temple caretaker whose family has, for generations, owned the land on which the temple was built, says the inscriptions are perhaps the most unique part of the temple, although he laments that most of his compatriots are unaware of this chapter of history. On a recent afternoon, as a stream of visitors walked up the steps to offer incense sticks as they prayed to Buddha, none spared a glance at the panel of inscriptions. Other indicators from Quanzhou’s rich but forgotten past lie scattered through what is now a modern and bustling industrial city, albeit a town that today lies in the shadow of the provincial capital Xiamen and the more prosperous port city of Guangzhou to the far south.

A few kilometres from the Kaiyuan temple stands a striking several metre-high Shiva lingam in the centre of the popular Bamboo Stone Park. To the city’s residents, however, the lingam is merely known as a rather unusually shaped “bamboo stone,” another symbol of history that still stays hidden in plain sight. 

From: http://www.thehindu.com/news/national/behind-chinas-hindu-temples-a-forgotten-history/article4932458.ece?textsize=large&test=1
Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

This ancient Hindu relief, housed at Quanzhou Museum in China, features the image of Lord Narasimha, one of Lord Vishnu’s ten incarnations, destroying the evil Hiranyakashipu.


This ancient Hindu relief, housed at Quanzhou Museum in China, features the image of Lord Narasimha, one of Lord Vishnu’s ten incarnations, destroying the evil Hiranyakashipu.
Photo: This ancient Hindu relief, housed at Quanzhou Museum in China, features the image of Lord Narasimha, one of Lord Vishnu's ten incarnations, destroying the evil Hiranyakashipu.
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

विक्रमादित्य शक एवं कुषाण के भारत पर हमले :


Kuldip Singh Gahalod https://www.facebook.com/photo.php?fbid=10202622346148866&set=pb.1503768091.-2207520000.1416643408.&type=3&theater

विक्रम संवत २०७१ चल रहा है। २०१४ में जी रहे हम लोगो में से बहुतो को इसका पता भी नहीं होगा,
आज हिन्दुओ की उस विजय पर हजारो सालो का पर्दा पड़ गया है जिस विजय की स्मृति में एक महान राजा ने इस संवत की शुरुवात की जिसे हम विक्रम संवत कहते है और उस राजा को  - 

विक्रमादित्य

शक एवं कुषाण के भारत पर हमले :  

ईसा के १०० साल पहले भारत पर शको के आक्रमण को शुरुवात हुयी , टिड्डी दलों के भाति शको के जत्थे के जत्थे भारत की सीमाओ पर धड़क देने लगे और देखते देखते सारा सिंध ,पंजाब हरयाणा से लेकर उज्जैन तक जा भूभाग उनके  पास चला गया. भारत पर  इस से पहले भी कई विदेशी आक्रमण हुए थे परन्तु कोई भी आक्रमण कारी अब तक दक्षिण भारत में घुस नहीं पाया था ,शक ये पहले आक्रमणकारी सिद्ध हुए जिन्होंने दक्षिण में पहुचने का सफल प्रयास किया।

आखिर कौन थे ये शक....???

भारत के वायव्य में बैक्टीरिया नामक ग्रीको का प्रदेश था ,जिसके ठीक उत्तर में शक रहा करते थे जिन्हे साइथियन्स नाम से जाना जाता था , उनके नजदीक कुषाण (कुए-शंग)  नामक कबीले की संस्कृति वाले लोगो का प्रान्त था. कुषाणों  के पडोसी हुनो ने कुषाणों पर आक्रमण कर उनका प्रदेश छीन लिया जिस वजह से कुषाणों को अपने पडोसी शकों पर हमला कर उनका प्रदेश छीन ना पड़ा.
कुषाणों द्वारा शकों को भगाए जाने पर शकों ने नए स्थान के शोध में बैक्टीरिया के ग्रीको पर हमला बोल दिया।  जंगली, क्रूर, संख्या में अत्याधिक, विध्वंसक शकों के आगे ग्रीको की कुछ ना चली और ग्रीक समाज पूरी तरह से तहस नहस हो गया।  यहिसे ग्रीक वंश समाप्त होता है, केवल वो ग्रीक बचे जिन्होंने भारत में शरण ली। 

भलेही शकों ने बॅक्टेरिया को जीता हो पर कुषाण से पीछा अभी छुड़ा नहीं था , कुषाण जाती ने पुन्हा शकों के बैक्टीरिया प्रांत पर हमला किया और उन्हें फिर वहासे भी खदेड़ दिया (कुषाणों पर हुनो के बार बार आक्रमणों का दबाव बना रहता था ). अब शकों के पास हिन्दुस्तान पर हमला बोलने के अलावा और कोई चारा नहीं था, सो शकों ने पुरे शक्ति के साथ भारत पर धड़क दी। 

विध्वंसक शकों के आगे महाजन पदो में विभाजित भारत के छोटे छोटे गणों की एक ना चली और धड़ा धड़ ताश के पत्तो की भाति राजसत्ताए बिखरने लगी। राजस्थान ,गुजरात,सिंध पंजाब वगैरे पर शकों की शासनव्यवस्था शुरू हो गयी ,तुरंत बाद शकों ने दक्षिण भारत पर हमले के लिए कूच की पर....
इतिहास के पटल पर एक शक्तिशाली राजा का प्रादुर्भाव हुआ ,

 मालवपति गंधर्वसेन पुत्र विक्रमादित्य !!!

भारत के उस समय के शक्तिशाली गण मालवगण के अधिपति विक्रमादित्य ने यौद्धेय गण और बाकी गणों को संघटित कर एक बड़ी सेना खड़ी  की। अत्यंत निपुण सेनानी विक्रमादित्य के नेतृत्व में इस संघटित भारतीय सेना की शकों से भीषण लड़ाई हुयी। अनियंत्रित शकों की सेनाओ का  बड़े अच्छे ढंग से सुसंघटित विक्रम की सेना ने धुँआ उड़ा डाला। शैको की हार इतनी भयंकर हुयी की उनका राजा नह्वान  स्वयं इस युद्ध में मार गया। 
इसके बाद शक भलेही वापस नहीं लौटे पर भारत के वायव्य प्रान्त के अलावा उन्होंने आगे जाने की कभी हिम्मत नहीं की। 
इतिहास की इस दिग्विजय ने उसे " शकारी विक्रमादित्य " नामक उपाधि दी.
ईसा पूर्व ५७ साल पहले हिन्दुओ की  हुयी इस विजय को अविस्मरणीय बनाने विक्रमादित्य ने विक्रम संवत की शुरुवात की , जिसे हम आज भी मानते है , जिसके तहत अभी २०७१ वा साल चल रहा है। 

विक्रमादित्य के बाद लगभग १३५ साल बाद राजा शालिवाहन (गौतमीपुत्र सातकर्णि ) ने भी शकों को रौंद डाला और अपनी एक नयी कालगणना शुरू की जिसे " शालिवाहन शक " कहा जाता है ,जिसके तहत अभी १९३६ वा साल चल रहा है। 

शक अभी कमजोर भी नहीं पड़े थे की कुषाणों ने भारत पर हमला बोल दिया।बार बार हुनो से प्रताड़ित होने के कारण उन्हें भारत पर आना पड़ा। 

कुषाणों के राजा ने कुषाणों को संघटित कर ये हमला बोला था. कुषाणों के आते ही भारत के  शकों ने अपने आप उनकी शरण ली। 

कुषाणों में कनिष्क नामक राजा बहुत प्रसिद्द हुआ ,उसने बौद्ध धर्म का स्वीकार किया था पर उसने उस धर्म को बदल कर एक नया कनिष्कीय संस्करण निकाला जिसमे हिंसा के लिए जगह थि.
हिमालय के पार अपना राज फैलाने के बाद उसे सम्राट कनिष्क कहा जाने लगा.कनिष्क के मरते ही उसके वंशजो ने हिंदुत्व का स्वीकार किया। 

कुषाणों के कमजोर होने से भारत के शकों ने अधिपत्य को अस्वीकार किया और वे स्वतंत्र होकर रहने लगे। गुजरात ,सौराष्ट्र और मालवा के कुछ भाग  पर शकों का अधिकार था तो गांधार ,सिंध इत्यादि पर कुषाणों का !

सम्राट समुद्र गुप्त और चन्द्र गुप्त विक्रमादित्य (सन ३३० से ४१५) - 

पाटलिपुत्र के छोटे से राज्य के शासक समुद्र गुप्त ने उत्तर भारत की सभी छोटे बड़े राज्यों को जीतकर सम्राट्पद की उपाधि ली , इस से पहले की वह कुषाणों पर हमले करता ,कुषाणों ने खुद होकर उसका विवाह अपनी कन्या से करवाते हुए उसकी शरणागति ली और इस प्रकार कुषाण हमेशा के लिए हिंदुत्व में विलीन हो गए। 

सन ३७५ में समुद्रगुप्त के पुत्र चन्द्रगुप्त द्वितीय ने राज्य का भार संभाला।  अपने बड़े भाई रामगुप्त के हाथो उसने सत्ता छीनी थी क्योंकि रामगुप्त अपनी सुन्दर पत्नी गृहदेवी को एक शक राजा के डर से उसके पास भेजनेवाला था , चन्द्रगुप्त गृहदेवी के स्थान पर खुद छुप कर उस राजा के पास गया और उसने उस शक राजा को मार डाला। बादमे गृहदेवी से चन्द्रगुप्त ने विवाह किया और नपुंसकत्व का प्रदर्शन करने वाल रामगुप्त निष्कासित हुआ। 

खैर…कुषाणों के बाद अब शैको की बारी थी। चन्द्रगुप्त ने अश्वमेध यज्ञ किया और शकों पर भीषण आक्रमण किया। सत्य सेन के पुत्र शक क्षत्रप रुद्रसिंह की मृत्यु के बाद सौराष्ट्र ,गुजरात सिंध में फैली शक राजसत्ताए धड़ा धड़ बिखरी ,नष्ट हुयी और आगे चल के पूर्ण रूपेण हिंदुत्व में समा गयी। 

और इस प्रकार शक और कुषाण समाप्त हुए ,
बादमे हिंदुत्व में इस कदर मिल गए की उन्हें उनका पूर्व रूप ही याद नहीं रहा। 

उसी चन्द्रगुप्त द्वितीय को भी लोगो ने " विक्रमादित्य" ये नाम दिया !
यही है विक्रम संवत और शालिवाहन शक की कुलकथा जिसमे भारत के धर्म और राष्ट्र से एक निष्ठ हिन्दू राजाओ का विजयी इतिहास छिपा है। 

नर व्याघ्रो आर्यो सार्वभौम !
जय हो मैय्या की !
 - कुलदीप सिंह

विक्रम संवत २०७१ चल रहा है। २०१४ में जी रहे हम लोगो में से बहुतो को इसका पता भी नहीं होगा,
आज हिन्दुओ की उस विजय पर हजारो सालो का पर्दा पड़ गया है जिस विजय की स्मृति में एक महान राजा ने इस संवत की शुरुवात की जिसे हम विक्रम संवत कहते है और उस राजा को –

विक्रमादित्य

शक एवं कुषाण के भारत पर हमले :

ईसा के १०० साल पहले भारत पर शको के आक्रमण को शुरुवात हुयी , टिड्डी दलों के भाति शको के जत्थे के जत्थे भारत की सीमाओ पर धड़क देने लगे और देखते देखते सारा सिंध ,पंजाब हरयाणा से लेकर उज्जैन तक जा भूभाग उनके पास चला गया. भारत पर इस से पहले भी कई विदेशी आक्रमण हुए थे परन्तु कोई भी आक्रमण कारी अब तक दक्षिण भारत में घुस नहीं पाया था ,शक ये पहले आक्रमणकारी सिद्ध हुए जिन्होंने दक्षिण में पहुचने का सफल प्रयास किया।

आखिर कौन थे ये शक….???

भारत के वायव्य में बैक्टीरिया नामक ग्रीको का प्रदेश था ,जिसके ठीक उत्तर में शक रहा करते थे जिन्हे साइथियन्स नाम से जाना जाता था , उनके नजदीक कुषाण (कुए-शंग) नामक कबीले की संस्कृति वाले लोगो का प्रान्त था. कुषाणों के पडोसी हुनो ने कुषाणों पर आक्रमण कर उनका प्रदेश छीन लिया जिस वजह से कुषाणों को अपने पडोसी शकों पर हमला कर उनका प्रदेश छीन ना पड़ा.
कुषाणों द्वारा शकों को भगाए जाने पर शकों ने नए स्थान के शोध में बैक्टीरिया के ग्रीको पर हमला बोल दिया। जंगली, क्रूर, संख्या में अत्याधिक, विध्वंसक शकों के आगे ग्रीको की कुछ ना चली और ग्रीक समाज पूरी तरह से तहस नहस हो गया। यहिसे ग्रीक वंश समाप्त होता है, केवल वो ग्रीक बचे जिन्होंने भारत में शरण ली।

भलेही शकों ने बॅक्टेरिया को जीता हो पर कुषाण से पीछा अभी छुड़ा नहीं था , कुषाण जाती ने पुन्हा शकों के बैक्टीरिया प्रांत पर हमला किया और उन्हें फिर वहासे भी खदेड़ दिया (कुषाणों पर हुनो के बार बार आक्रमणों का दबाव बना रहता था ). अब शकों के पास हिन्दुस्तान पर हमला बोलने के अलावा और कोई चारा नहीं था, सो शकों ने पुरे शक्ति के साथ भारत पर धड़क दी।

विध्वंसक शकों के आगे महाजन पदो में विभाजित भारत के छोटे छोटे गणों की एक ना चली और धड़ा धड़ ताश के पत्तो की भाति राजसत्ताए बिखरने लगी। राजस्थान ,गुजरात,सिंध पंजाब वगैरे पर शकों की शासनव्यवस्था शुरू हो गयी ,तुरंत बाद शकों ने दक्षिण भारत पर हमले के लिए कूच की पर….
इतिहास के पटल पर एक शक्तिशाली राजा का प्रादुर्भाव हुआ ,

मालवपति गंधर्वसेन पुत्र विक्रमादित्य !!!

भारत के उस समय के शक्तिशाली गण मालवगण के अधिपति विक्रमादित्य ने यौद्धेय गण और बाकी गणों को संघटित कर एक बड़ी सेना खड़ी की। अत्यंत निपुण सेनानी विक्रमादित्य के नेतृत्व में इस संघटित भारतीय सेना की शकों से भीषण लड़ाई हुयी। अनियंत्रित शकों की सेनाओ का बड़े अच्छे ढंग से सुसंघटित विक्रम की सेना ने धुँआ उड़ा डाला। शैको की हार इतनी भयंकर हुयी की उनका राजा नह्वान स्वयं इस युद्ध में मार गया।
इसके बाद शक भलेही वापस नहीं लौटे पर भारत के वायव्य प्रान्त के अलावा उन्होंने आगे जाने की कभी हिम्मत नहीं की।
इतिहास की इस दिग्विजय ने उसे ” शकारी विक्रमादित्य ” नामक उपाधि दी.
ईसा पूर्व ५७ साल पहले हिन्दुओ की हुयी इस विजय को अविस्मरणीय बनाने विक्रमादित्य ने विक्रम संवत की शुरुवात की , जिसे हम आज भी मानते है , जिसके तहत अभी २०७१ वा साल चल रहा है।

विक्रमादित्य के बाद लगभग १३५ साल बाद राजा शालिवाहन (गौतमीपुत्र सातकर्णि ) ने भी शकों को रौंद डाला और अपनी एक नयी कालगणना शुरू की जिसे ” शालिवाहन शक ” कहा जाता है ,जिसके तहत अभी १९३६ वा साल चल रहा है।

शक अभी कमजोर भी नहीं पड़े थे की कुषाणों ने भारत पर हमला बोल दिया।बार बार हुनो से प्रताड़ित होने के कारण उन्हें भारत पर आना पड़ा।

कुषाणों के राजा ने कुषाणों को संघटित कर ये हमला बोला था. कुषाणों के आते ही भारत के शकों ने अपने आप उनकी शरण ली।

कुषाणों में कनिष्क नामक राजा बहुत प्रसिद्द हुआ ,उसने बौद्ध धर्म का स्वीकार किया था पर उसने उस धर्म को बदल कर एक नया कनिष्कीय संस्करण निकाला जिसमे हिंसा के लिए जगह थि.
हिमालय के पार अपना राज फैलाने के बाद उसे सम्राट कनिष्क कहा जाने लगा.कनिष्क के मरते ही उसके वंशजो ने हिंदुत्व का स्वीकार किया।

कुषाणों के कमजोर होने से भारत के शकों ने अधिपत्य को अस्वीकार किया और वे स्वतंत्र होकर रहने लगे। गुजरात ,सौराष्ट्र और मालवा के कुछ भाग पर शकों का अधिकार था तो गांधार ,सिंध इत्यादि पर कुषाणों का !

सम्राट समुद्र गुप्त और चन्द्र गुप्त विक्रमादित्य (सन ३३० से ४१५) –

पाटलिपुत्र के छोटे से राज्य के शासक समुद्र गुप्त ने उत्तर भारत की सभी छोटे बड़े राज्यों को जीतकर सम्राट्पद की उपाधि ली , इस से पहले की वह कुषाणों पर हमले करता ,कुषाणों ने खुद होकर उसका विवाह अपनी कन्या से करवाते हुए उसकी शरणागति ली और इस प्रकार कुषाण हमेशा के लिए हिंदुत्व में विलीन हो गए।

सन ३७५ में समुद्रगुप्त के पुत्र चन्द्रगुप्त द्वितीय ने राज्य का भार संभाला। अपने बड़े भाई रामगुप्त के हाथो उसने सत्ता छीनी थी क्योंकि रामगुप्त अपनी सुन्दर पत्नी गृहदेवी को एक शक राजा के डर से उसके पास भेजनेवाला था , चन्द्रगुप्त गृहदेवी के स्थान पर खुद छुप कर उस राजा के पास गया और उसने उस शक राजा को मार डाला। बादमे गृहदेवी से चन्द्रगुप्त ने विवाह किया और नपुंसकत्व का प्रदर्शन करने वाल रामगुप्त निष्कासित हुआ।

खैर…कुषाणों के बाद अब शैको की बारी थी। चन्द्रगुप्त ने अश्वमेध यज्ञ किया और शकों पर भीषण आक्रमण किया। सत्य सेन के पुत्र शक क्षत्रप रुद्रसिंह की मृत्यु के बाद सौराष्ट्र ,गुजरात सिंध में फैली शक राजसत्ताए धड़ा धड़ बिखरी ,नष्ट हुयी और आगे चल के पूर्ण रूपेण हिंदुत्व में समा गयी।

और इस प्रकार शक और कुषाण समाप्त हुए ,
बादमे हिंदुत्व में इस कदर मिल गए की उन्हें उनका पूर्व रूप ही याद नहीं रहा।

उसी चन्द्रगुप्त द्वितीय को भी लोगो ने ” विक्रमादित्य” ये नाम दिया !
यही है विक्रम संवत और शालिवाहन शक की कुलकथा जिसमे भारत के धर्म और राष्ट्र से एक निष्ठ हिन्दू राजाओ का विजयी इतिहास छिपा है।

नर व्याघ्रो आर्यो सार्वभौम !
जय हो मैय्या की !
– कुलदीप सिंह

Posted in गौ माता - Gau maata

आपको क्या लगता है की भारत में गोहत्या बंद हो पाएगी?


फेसबुक पर मेरे मित्र श्री राघवेन्द्र देव जी ने मुझसे एक प्रश्न का उत्तर माँगा, उनका प्रश्न और अपना उत्तर समस्त पाठकों के लिए प्रेसित कर रहा हूँ.

राघवेन्द्र देव  :
आपको क्या लगता है की भारत में गोहत्या बंद हो पाएगी? कृपया स्पष्ट बताइएगा? अगर हाँ तो कब तक? अगर नहीं तो क्यों नहीं?

गुंजन अग्रवाल :
नमस्कार राघवेन्द्र देव भाई साहब !
आपके प्रश्न का उत्तर एक पंक्ति में नहीं दिया जा सकता। यह एक निर्विवाद तथ्य है कि भारत में गोहत्या मुसलमानों के आने के बाद प्रारम्भ हुई. एक-दो मुस्लिम शासकों ने हिन्दुओं के दबाव में अथवा स्वयं को हिन्दुओं का हितैषी बताने के लिए कुछ काल के लिए गोहत्या बंद करवाई. किन्तु इससे वह हिन्दुओं का दिल नहीं जीत सके और गोहत्या भी चलती रही. अंग्रेजों ने 1857-59 के युद्ध में गाय की चर्बी लगी कारतूस को हिन्दुओं को मुंह से काटने के लिए दिया. देश का शासन अंग्रेजों के बाद उनलोगों (नेहरू-खान्ग्रेस वंश) के हाथ में आया जो अंग्रेजपरस्त थे और जिनके लिए गोमाता का कोई आध्यात्मिक मूल्य नहीं था. देश के तथाकथित बुद्धिजीवियों ने इतिहास की अनेक पुस्तकों में लिख मारा कि प्राचीन काल में हिन्दू लोग गाय का मांस खाते-खिलाते थे और यज्ञ में गोरक्त की आहुति दी जाती थी. पाठ्यपुस्तकों में गोमाता को भारतमाता के प्रतीक के रूप में ना पढ़कर एक चौपाये जानवर के रूप में पढ़ाया गया. इन सबसे युवा वर्ग की गोमाता के प्रति आस्था समाप्त हुई. 
हिन्दू समाज प्रारम्भ से ही गोहत्या का प्रतिकार करता आ रहा है, किन्तु अपने अहिंसक स्वभाव के कारण वह गोहत्या का हिंसक प्रतिकार करके गोरक्षा नहीं कर पा रहा है. आज इस देश में लगभग 15 प्रतिशत मुसलमान हैं और इनमे अधिकांश गोमांस खाते हैं और इसके लिए उन्हें संविधान से पूरी छूट मिली हुई है. ये मुसलमान यह भी कहते हैं कि “देखो हिन्दुओ ! हम तुम्हारी माँ को मारकर खा रहे हैं, हिम्मत है तो बचा लो”. इस देश में हिरन मारने पर सजा है, किन्तु गोमाता की हत्या करने पर कोई सजा नहीं है. गोमाता का दूध मुसलमान भी पीते हैं, किन्तु केवल हिन्दुओं को चिढ़ाने के लिए गोहत्या करते हैं. वस्तुत: मुसलमानों के लिए गोमाता या भारतमाता का कोई सांस्कृतिक मूल्य नहीं है.
गोरक्षा के लिए समय-समय पर अनेक आंदोलन हुए, जिन्हे सरकार द्वारा (केवल मुसलमानों का वोट लेने के लिए) क्रूरतापूर्वक दबा दिया गया. मैं समझता हूँ कि इस देश में गोमाता के प्रति जनजागृति लाकर ही गोरक्षा की जा सकती है. इसके लिए इस कार्य में युवावर्ग को जोड़ना होगा और गोहत्या का हिंसक प्रतिकार करना होगा. यह महान कार्य सरकार से होनेवाला नहीं है. इसके लिए जनता को स्वयं आगे आना होगा. गोरक्षा के लिए सम्पूर्ण हिन्दू समाज को सन्नद्ध हो जाना होगा. गोहत्यारों को पकड़कर उनका अंग-भंग करने जैसे सजाएं देनी होंगी. यह कार्य केवल एक-दो व्यक्ति का नहीं है.

फेसबुक पर मेरे मित्र श्री राघवेन्द्र देव जी ने मुझसे एक प्रश्न का उत्तर माँगा, उनका प्रश्न और अपना उत्तर समस्त पाठकों के लिए प्रेसित कर रहा हूँ.

राघवेन्द्र देव :
आपको क्या लगता है की भारत में गोहत्या बंद हो पाएगी? कृपया स्पष्ट बताइएगा? अगर हाँ तो कब तक? अगर नहीं तो क्यों नहीं?

गुंजन अग्रवाल :
नमस्कार राघवेन्द्र देव भाई साहब !
आपके प्रश्न का उत्तर एक पंक्ति में नहीं दिया जा सकता। यह एक निर्विवाद तथ्य है कि भारत में गोहत्या मुसलमानों के आने के बाद प्रारम्भ हुई. एक-दो मुस्लिम शासकों ने हिन्दुओं के दबाव में अथवा स्वयं को हिन्दुओं का हितैषी बताने के लिए कुछ काल के लिए गोहत्या बंद करवाई. किन्तु इससे वह हिन्दुओं का दिल नहीं जीत सके और गोहत्या भी चलती रही. अंग्रेजों ने 1857-59 के युद्ध में गाय की चर्बी लगी कारतूस को हिन्दुओं को मुंह से काटने के लिए दिया. देश का शासन अंग्रेजों के बाद उनलोगों (नेहरू-खान्ग्रेस वंश) के हाथ में आया जो अंग्रेजपरस्त थे और जिनके लिए गोमाता का कोई आध्यात्मिक मूल्य नहीं था. देश के तथाकथित बुद्धिजीवियों ने इतिहास की अनेक पुस्तकों में लिख मारा कि प्राचीन काल में हिन्दू लोग गाय का मांस खाते-खिलाते थे और यज्ञ में गोरक्त की आहुति दी जाती थी. पाठ्यपुस्तकों में गोमाता को भारतमाता के प्रतीक के रूप में ना पढ़कर एक चौपाये जानवर के रूप में पढ़ाया गया. इन सबसे युवा वर्ग की गोमाता के प्रति आस्था समाप्त हुई.
हिन्दू समाज प्रारम्भ से ही गोहत्या का प्रतिकार करता आ रहा है, किन्तु अपने अहिंसक स्वभाव के कारण वह गोहत्या का हिंसक प्रतिकार करके गोरक्षा नहीं कर पा रहा है. आज इस देश में लगभग 15 प्रतिशत मुसलमान हैं और इनमे अधिकांश गोमांस खाते हैं और इसके लिए उन्हें संविधान से पूरी छूट मिली हुई है. ये मुसलमान यह भी कहते हैं कि “देखो हिन्दुओ ! हम तुम्हारी माँ को मारकर खा रहे हैं, हिम्मत है तो बचा लो”. इस देश में हिरन मारने पर सजा है, किन्तु गोमाता की हत्या करने पर कोई सजा नहीं है. गोमाता का दूध मुसलमान भी पीते हैं, किन्तु केवल हिन्दुओं को चिढ़ाने के लिए गोहत्या करते हैं. वस्तुत: मुसलमानों के लिए गोमाता या भारतमाता का कोई सांस्कृतिक मूल्य नहीं है.
गोरक्षा के लिए समय-समय पर अनेक आंदोलन हुए, जिन्हे सरकार द्वारा (केवल मुसलमानों का वोट लेने के लिए) क्रूरतापूर्वक दबा दिया गया. मैं समझता हूँ कि इस देश में गोमाता के प्रति जनजागृति लाकर ही गोरक्षा की जा सकती है. इसके लिए इस कार्य में युवावर्ग को जोड़ना होगा और गोहत्या का हिंसक प्रतिकार करना होगा. यह महान कार्य सरकार से होनेवाला नहीं है. इसके लिए जनता को स्वयं आगे आना होगा. गोरक्षा के लिए सम्पूर्ण हिन्दू समाज को सन्नद्ध हो जाना होगा. गोहत्यारों को पकड़कर उनका अंग-भंग करने जैसे सजाएं देनी होंगी. यह कार्य केवल एक-दो व्यक्ति का नहीं है.

Posted in काश्मीर - Kashmir

EMPEROR AKBAR AND KASHMIRI PANDITS.


Kashmiri Pandits's photo.
BRIDGE MADE DURING AKBAR'S REGIME
Kashmiri Pandits added 2 new photos.

EMPEROR AKBAR AND KASHMIRI PANDITS. #1

when Akbar reached Kashmir, the first thing that struck his discerning eye was the moral supremacy of the Pandit. In “Aini Akbari” we come across with a significant passage which runs as follows:

” The most respectable class in this country (Kashmir) is that of the Pandits, who notwithstanding their need for freedom from the bonds of tradition and custom are the true worshipers of God. They do not loosen their tongue of calumny against those not of their faith nor beg nor importune. They employ themselves in planting fruit trees and are generally a source of benefit to the people.”

A certificate like the above coming from such an eminent person as Abul Fazl must speak a volume by itself.
Akbar came to Kashmir in 1588 and stayed here for a sufficiently long period to make an estimate of the general conditions of the country and its people and visited the places of natural sceneries on one side and on the other settled the affairs of the country which had seen no peace for more than a century. The warlike and turbulent Kashmiri nobles were ousted from all places of power and their power of mischief was sufficently curbed. Roads were repaired and travel was made safe. The Pandit too did not escape his notice. He wanted to place him on par with all other citizens without any inferiority attaching to him on the score of religion. The Jazia (poll tax) which was once removed by Zainulabdin was again imposed on them by Musa Raina. Akbar ordered its repeal. This at once removed a crushing burden of inferiority which was placed upon the Pandits. The reaction of the Pandits may be gathered from the following passage which appears in Shuka’s narrative. “Formerly the kings of the House of Chaks used to exact an annual fine from the Brahmans owing to their animosity towards the people of that caste. In every house a Brahmana of good family and character who maintained his own caste used to pay an annual tribute to the king. For the preservation of his sacred thread a Brahmana annually paid a tribute of forty Panas to the king. The good Brahmans had left the country.. and the low Brahmans had given up their caste…. Now when Jyallaladena (Jalalud-Din) learnt of the condition of the Brahmans, he repeated the practice of l evying fines on them…He announced that he would without delay reward those who would respect the Brahmans of Kashmir…… The Brahmans versed in Vedas blessed the king.”
But the munificence of the Emperor did not stop here. The Pandits plight which can be gathered from the words that follow was indeed pitiable. ” Ono thousand cows were used to be killed every day without any opposition under the orders of the Chak rulers. Brahmans were over-powered as sun by darkness..The means of their livelihood was consumed. They did not remain in the country, as deer do not stay in the forest which is burnt. As they left the country, they sometimes felt alarm in the way, and sometimes they were the objects of laughter and reproach.” This is the narrative of an eye witness which is fully supported by the Muslim historians. If after all this, the Pandits had maintained their virtues to the extent of their being called as the “most respectable class”, surely there must have been something unique about their social structure which kept them alive under most adverse circumstances.
Akbar evinced great interest in the rehabilitation of the Pandits. They were received in audience where they related their grievances to him. The Emperor listened to their grievances with great sympathy and commands were issued for their immediate redressal. Rent free villages were reserved for them. Aditya Pandita, a Kashmiri was appointed to effect a distribution of these lands amongst the Pandits. Ramdas who accompanied Akbar to Kashmir has been praised beyond all measure by the Kashmiri historians for his interesting himself on behalf of the Pandits. During his stay in Kashmir Akbar participated in the national festivals of the Pandits. On the 13th of Bhadoon which is celebrated by the Pandits as the birthday of Vitasta (river Jhelum) he ordered illuminations all over the city and himself participated in the festivities. All this was a great and a descisive step taken towards recognizing their distinct social existence. As a group they again came into prominence.
Mogul rule in Kashmir opened a new chapter in the annals of Kashmir. After Kanishka it was perhaps for the first time that Kashmir was linked with a vast empire. Roads were constructed tbat made travel both easy and safe. Trade and commerce developed and with this the indigenous arts, crafts and industries received a great deal of encouragement. This gave rise to a rich commercial class amongst the Kashmiris though in matters of administration the Kashmiri Muslims do not figure very high. This was but natural. Even after Kashmir had passed into Mogul hands, there were rebellions mainly backed by the Kashmiri notables for whom the establishment of a vigorous and a strong rule was a challenge to their very existence. And Akbar was not unmindful of this. One of the conditions in the pact which preceded Akbar’s military action in Kashmir was that the Kashmiri notables should be deprived of any share in the governance of the country. No place of administrative trust was reserved for them. Subedars (Viceroys) were deputed from Delhi who brought their own assistants to work under them and whenever the necessity of utilizing the local talent came, they much preferred the Pandit who was politically harmless. The most important work which confronted the administration was the preparation of a land assessment report. Qazi Nurullah and Qazi Ali were deputed from Delhi for the preparation of a land settlement report. Even during the terrific vicissitudes through which the Pandits had to pass, the preparation of the land records remained in their sole charge. They were treated as experts in this branch of administration. It was because of his special knowledge of the land assessment work that Pandit Tota Ram who later acted as the Peshkar to the first Mogul Viceroy Mirza Yusuf Khan was appointed to assist Qazis Nurullah and Ali. Together they produced a report which became the basis of land settlement. But in spite of itself the Mogul rule produced a silent and steady revolution in the body politic of the country. True, that they did not favour keeping of political power in the native Muslim hands. But they could not present the growth amongst them of a rich trading class either. These people went every year to India with their merchandize and came back laden with riches and fresh ideas. They amassed huge influence and even criticized the Government. Even though they had no hand in the Government, yet they did not strive for it. In the first instance the Mogul rule brought peace and even some prosperity for the people at large. A general rising of the people who were now passing through times which stood in a marked contrast to the days of Chak sway was out of question. And the upper classes had enough opportunity to earn money and they had no reason to disturb the status quo. Besides a military rising was a sheer madness. A puny country like Kashmir could hardly stand the organized might of the Empire. Along with the growth of a Muslim commercial class, Hindu traders from abroad came in numbers to Kashmir and settled in the country. Gradually they appropriated a large amount of export trade in their own hands. But it took a hundred years more before a struggle against them could develop. For the time being there was an alround prospect of peace and prosperity in an abundant measure.
For the Pandits the establishment of Mogul rule opened a new vista. They were now linked with India. That provided for them a rich and a fresh field. There they went every year – some as pilgrims to the holy places and some in search of a living. Gradually there sprang up Pandit colonies in Agra and Delhi. There also they maintained their separate identity and came to be known as Kashmiri Pandits, a term said to have been invented by Emperor Mohammad Shah on a representation by Pandit Jai Ram Bhan to distinguish them from the Brahmans of other parts of India. There the Pandits who had already acquired a mastery over the Persian language were well-received in the literary circles. They wrote exquisite poetry in this language. To mention one amongst scores of them referance may be made to Pandit Chandra Bhan who was a great scholar and was ranked with first class poets of the day. Chandra Bhan was a great favourite of both Shah Jehan and Dara Shiko. The knowledge of Persian stood the Pandits in very good stead even in the early days of the British rule. The British had to deal with records maintained in Persian language. The result of all this was that Pandits came to be employed in Government services in large numbers and at the Bar where a knowledge of Persian was necessary for the interpretation of documents written mainly in Persian they rose very high.
After a stay of a few months Akbar left Kashmir. A number of Pandits who were encouraged by the treatment they received at his hands left Kashmir along with him. Chief amongst this group was Pandit Sada Kaul who settled at Agra. Sada Kaul lived a long life and was very well treated both by Jehangir and Shah Jehan, the latter went to the extent of granting him a Mansab and besides granted him a Jagir, houses and the following titles: Itmadulsaltanat, Mashirul-Mulk, Mirza Raja and Gamkhuar. The family is now known as Gamkhuar family. During the Mogul history the scions of this family played a very prominent part which will be referred to at the proper place. This Pandit group established its first colony at Agra wherefrom they spread to other towns of India where they where driven by the exisgencies of service or other causes. Having migrated in a group these Pandits successfully maintained their group identity. They followed the same customs and religious observances as where in vogue in their mother country and did not marry outside their community. This necessitated them to keep their connections with Kashmir in tact which on account of safety of travel was not a difficult job. In course of time their Bachbhats, Priests and Purohits also followed them and migrated from Kashmir and settled in Agra and Delhi. Thus a class of Pandits wlth definite group charactetistics came into existence in India which was able to hold its own even in a strange land. Being well-versed in Persian they were freely admitted in literary circles which were till then the close preserve of the Muslim upper classes. This brought about a sort of cultural exchange between them and the Muslims and though in his orthodoxy the Pandit was at its highest, yet that did not stand in his way of establishing cultural links with the Muslims. This has remained a characteristic feature of the Pandits all along.

BIRBAL, ONE OF THE NAV RATNAS AND BEST FRIEND OF AKBAR WAS A KASHMIRI PANDIT.- MAHESH DAS BHAT.

Akbar launched a comprehensive scheme for the rehabilita­tion of Kashmiri Pandits honourably in their native place. He also became aware of the importance of the role they could play in managing and running the administration of Kash­mir. They in fact rose to high places of status and prestige. After about a span of thirty years the KPs again started feel­ing comfortable and assured of their safety and security. They found the atmosphere favourable enough to practise their faith without any coersion and persecution.

Akbar was admittedly highly tolerant and refrained from fall­ing into the net of fanatic religious zeal. He never resorted to following the policy of persecution and discrimination against the Hindus who had earlier encountered periods of misfortune at the hands of Muslim rulers who made them targets of their religious bigotry and persecution.

On his visit to Kashmir in 1589 Akbar gleaned accounts of stirring and blood boiling plight of the KPs where groaning, being crushed to pulp under the heavy weight of the vexa­tious extortion’s like the much deplored Jazia (Poll tax), Akbar repealed the black tax along with other taxes and fines imposed by the vicious Chak rulers. Akbar’s decree abolishing them brought a relief and much sought after respite to the KPs. Many KPs who fled to other safer places their lives and honour found conditions in their home Iand quite conductive to their honourable return though shocked to find their homes and hearths looted and plundered by the Muslim zealots during the period of their absence.

Posted in श्रीमद्‍भगवद्‍गीता

महाभारत वास्तव में भारत की उस सच्चाई का वर्णन है जो कलियुग में पूर्ण रूप से दृश्य है


महाभारत वास्तव में भारत की उस सच्चाई का वर्णन है जो कलियुग में पूर्ण रूप से दृश्य है | कहते है कि महाभारत धर्म और अधर्म के बीच युद्ध था जिसमें अधर्म की हार हुई और धर्म की जीत | लेकिन मैं मानता हूँ कि यदि धर्म जीत गया होता तो आज इतने अधर्मी नहीं होते भारत में | आज इतना अधर्म न मचा होता भारत में | आज अधर्म को इतना सम्मान न मिलता भारत में | लेकिन आज अधर्म का ही वर्चस्व स्थापित है |

जनता अधर्मियों और अपराधियों को वोट दे कर जिता रही है | पार्टियाँ अधर्मियों को ससम्मान गले लगा रही है | जेल में बैठा अपराधी चुनाव जीत जाता है | लुटेरे व्यवसायियों के दरबार में हाथ जोड़े खड़े रहते हैं धर्म के ठेकेदार और नेता | गुडों बदमाशों को सलाम करते हैं और ईमानदारों और कर्त्तव्यनिष्ठों को प्रताड़ित किया जाता है | सम्प्रदायों को धर्म माना जाता है और धर्म लाल कपड़ों में लपेट कर रखा जाता है |

महाभारत में जो महत्वपूर्ण शिक्षा थी उसे हमने समझने का प्रयास ही नहीं किया | महाभारत ही वह ग्रन्थ है जो यह बताता है कि कैसे भीष्म जैसा महान विद्वान् भी अधर्मियों के पक्ष में होने के लिए विवश हो जाता है | महाभारत बताता है कि कैसे कर्ण जैसा विद्वान् भी दुर्योधन के बहकावे में आ जाता है | महाभारत बताता है कि कैसे शकुनी कौरवों के विनाश का संकल्प लिए कौरव वंश में नफरत के बीज बोता है और पूरा कौरव वंश को समाप्त करवा देता है | महाभारत बताता है कि युद्ध से विजेताओं को भी कोई लाभ नहीं हुआ | महाभारत बताता है कि कट्टर धार्मिक लोग कैसे अपने वचनों में बांध दिए जाते है कुटिलों द्वारा | महाभारत बताता है कि कैसे अपने भी अपने नहीं रहते जब नफरत में अंधे हो जाते हैं |

यदि आज भारतीयों ने अपने आपको संकीर्ण मानसिकता से ग्रस्त तथाकथित कट्टर धार्मिकों को समर्थन दिया तो यह समर्थन हमें उतना ही महँगा पड़ेगा, जितना कि कौरवों को पड़ा था शकुनी को समर्थन देने पर | इन कट्टर धार्मिकों का कुछ नहीं बिगड़ेगा क्योंकि आपस के झगड़े में ये नहीं मरेंगे | मरेंगे वे लोग जिनको नेताओं की छत्र छाया नहीं मिली हुई है | मरेंगे वे लोग जो भूख से मरने से अच्छा दंगों में शामिल होकर मरना-मारना पसंद करते हैं | मरेंगे वे लोग जो टैक्स चुकाने, बच्चों की पढ़ाई की फीस का इंतजाम करने और नौकरी बचाने में जिंदगी के सुख चैन खो चुके हैं |

महाभारत वास्तव में भारत की उस सच्चाई का वर्णन है जो कलियुग में पूर्ण रूप से दृश्य है | कहते है कि महाभारत धर्म और अधर्म के बीच युद्ध था जिसमें अधर्म की हार हुई और धर्म की जीत | लेकिन मैं मानता हूँ कि यदि धर्म जीत गया होता तो आज इतने अधर्मी नहीं होते भारत में | आज इतना अधर्म न मचा होता भारत में | आज अधर्म को इतना सम्मान न मिलता भारत में | लेकिन आज अधर्म का ही वर्चस्व स्थापित है |

जनता अधर्मियों और अपराधियों को वोट दे कर जिता रही है | पार्टियाँ अधर्मियों को ससम्मान गले लगा रही है | जेल में बैठा अपराधी चुनाव जीत जाता है | लुटेरे व्यवसायियों के दरबार में हाथ जोड़े खड़े रहते हैं धर्म के ठेकेदार और नेता | गुडों बदमाशों को सलाम करते हैं और ईमानदारों और कर्त्तव्यनिष्ठों को प्रताड़ित किया जाता है | सम्प्रदायों को धर्म माना जाता है और धर्म लाल कपड़ों में लपेट कर रखा जाता है |

महाभारत में जो महत्वपूर्ण शिक्षा थी उसे हमने समझने का प्रयास ही नहीं किया | महाभारत ही वह ग्रन्थ है जो यह बताता है कि कैसे भीष्म जैसा महान विद्वान् भी अधर्मियों के पक्ष में होने के लिए विवश हो जाता है | महाभारत बताता है कि कैसे कर्ण जैसा विद्वान् भी दुर्योधन के बहकावे में आ जाता है | महाभारत बताता है कि कैसे शकुनी कौरवों के विनाश का संकल्प लिए कौरव वंश में नफरत के बीज बोता है और पूरा कौरव वंश को समाप्त करवा देता है | महाभारत बताता है कि युद्ध से विजेताओं को भी कोई लाभ नहीं हुआ | महाभारत बताता है कि कट्टर धार्मिक लोग कैसे अपने वचनों में बांध दिए जाते है कुटिलों द्वारा | महाभारत बताता है कि कैसे अपने भी अपने नहीं रहते जब नफरत में अंधे हो जाते हैं |

यदि आज भारतीयों ने अपने आपको संकीर्ण मानसिकता से ग्रस्त तथाकथित कट्टर धार्मिकों को समर्थन दिया तो यह समर्थन हमें उतना ही महँगा पड़ेगा, जितना कि कौरवों को पड़ा था शकुनी को समर्थन देने पर | इन कट्टर धार्मिकों का कुछ नहीं बिगड़ेगा क्योंकि आपस के झगड़े में ये नहीं मरेंगे | मरेंगे वे लोग जिनको नेताओं की छत्र छाया नहीं मिली हुई है | मरेंगे वे लोग जो भूख से मरने से अच्छा दंगों में शामिल होकर मरना-मारना पसंद करते हैं | मरेंगे वे लोग जो टैक्स चुकाने, बच्चों की पढ़ाई की फीस का इंतजाम करने और नौकरी बचाने में जिंदगी के सुख चैन खो चुके हैं |
Posted in जीवन चरित्र

श्री स्वामी हरिदास जी


श्री स्वामी हरिदास जी

श्री बांकेबिहारी महाराज को वृंदावन में प्रकट करने वाले स्वामी हरिदासजी महाराज है इनका जन्म विक्रम सम्वत् 1535 में भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की अष्टमी (श्री राधाष्टमी ) के ब्रह्म मुहूर्त में हुआ था.

परिचय – स्वामी हरिदास जी के पिता श्री आशुधीर जी अपने उपास्य श्रीराधा-माधव की प्रेरणा से पत्नी गंगादेवी के साथ अनेक तीर्थो की यात्रा करने के पश्चात अलीगढ जनपद की कोल तहसील में ब्रज आकर एक गांव में बस गए. श्री हरिदास जी का व्यक्तित्व बड़ा ही विलक्षण था. वे बचपन से ही एकान्त-प्रिय थे. उन्हें अनासक्त भाव से भगवद्-भजन में लीन रहने से बड़ा आनंद मिलता था.श्री हरिदासजी का कण्ठ बड़ा मधुर था और उनमें संगीत की अपूर्व प्रतिभा थी. धीरे-धीरे उनकी प्रसिद्धि दूर-दूर तक फैल गई. उनका गांव उनके नाम हरिदासपुर से विख्यात हो गया. हरिदास जी को उनके पिता ने यज्ञोपवीत-संस्कार के उपरान्त वैष्णवी दीक्षा प्रदान की.

युवा होने पर माता-पिता ने उनका विवाह हरिमति नामक परम सौंदर्यमयी एवं सद्गुणी कन्या से कर दिया, किंतु स्वामी हरिदास जी की आसक्ति तो अपने श्यामा-कुंजबिहारी के अतिरिक्त अन्य किसी में थी ही नहीं. उन्हें गृहस्थ जीवन से विमुख देखकर उनकी पतिव्रता पत्नी ने उनकी साधना में विघ्न उपस्थित न करने के उद्देश्य से योगाग्नि के माध्यम से अपना शरीर त्याग दिया और उनका तेज स्वामी हरिदास के चरणों में लीन हो गया.

विक्रम सम्वत् 1560 में पच्चीस वर्ष की अवस्था में श्री हरिदास वृन्दावन पहुंचे. वहां उन्होंने निधिवन को अपनी तपोस्थली बनाया. हरिदास जी निधिवन में सदा श्यामा-कुंजबिहारी के ध्यान तथा उनके भजन में तल्लीन रहते थे.स्वामीजी ने प्रिया-प्रियतम की युगल छवि श्री बांकेबिहारीजी महाराज के रूप में प्रतिष्ठित की.

स्वामी जी की संगीत साधना
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
हरिदासजी के ये ठाकुर आज असंख्य भक्तों के इष्टदेव हैं. श्यामा-कुंजबिहारी के नित्य विहार का मुख्य आधार संगीत है. उनके रास-विलास से अनेक राग-रागनियां उत्पन्न होती हैं. ललिता ‘संगीत’ की अधिष्ठात्री मानी गई हैं. ‘ललितावतार’ स्वामी हरिदास संगीत के परम आचार्य थे. श्री हरिदासजी का कण्ठ बड़ा मधुर था और उनमेंसंगीत की अपूर्व प्रतिभा थी. धीरे-धीरे उनकी प्रसिद्धि दूर-दूर तक फैल गई.उनका संगीत किसी राजा-महाराजा को नहीं उनके अपने आराध्य की उपासना को समर्पित था, बैजुवाबरा और तानसेन जैसे विश्व-विख्यात संगीतज्ञ स्वामी जी के शिष्य थे.विक्रम सम्वत 1630 में स्वामी हरिदास का निकुंजवास निधिवन में हुआ.

प्रसंग १. – अकबर के दरबार के नौ रत्नों में तानसेन एक थे. एक बार जब उन्होंने तानसेन से कहा कि हरिदास जी का संगीत सुनना चाहता हूँ तो तानसेन ने कहा कि मेरे गुरूजी केवल बांकेबिहारी जी के लिए ही गाते है. तब जब वे नहीं माने तो तानसेन उन्हें लेकर वृंदावन आ गए और अकबर को उनकी कुटिया के बाहर खड़ा करके स्वयं अंदर चले गए और जान बूझकर गलत राग में गाने लगे,तब स्वामी हरिदास जी ने उन्हें रोका और स्वयं गाने लगे.
जब बाहर खड़े अकबर ने स्वामी जी का संगीत सुना तो बड़ा भाव बिभोर हो गया और तानसेन से पूंछा – कि क्या कारण है कि तुम भी इतना अच्छा नहीं गा पाते जितना तुम्हारे स्वामी जी गाते है. तुम्हारा संगीत भी अब तो मुझे फीका लगता है इस पर तानसेन ने कहा – मै तो केवल दिल्ली के बादशाह के लिए गाता हूँ और मेरे स्वामी दुनिया के बादशाह के लिए गाते है बस यही फर्क है.

“हरि भजि हरि भजि छांड़िन मान नर तन कौ
जिन बंछैरे जिन बंछैरे तिल तिल धनकौं
अनमागैं आगैं आवैगौ ज्यौं पल लागैं पलकौं
कहि हरिदास मीच ज्यौं आवै त्यौं धन आपुन कौ”

::”””””””””””””””””””;;;;;;;;;;;;””””””””””””””
प्रसंग २ . – दयालदास नामक एक खत्री एक दिन आया, जिसे अनायास पारस का पत्थर प्राप्त हुआ, जो सम्पर्क में आई प्रत्येक वस्तु को सोने में रूपान्तरित कर देता था. उसने यह पत्थर एक महान निधि के रूप में स्वामी जी को भेंट किया.स्वामी जी ने वह यमुना में फेंक दिया.

दाता के प्रवोधन को देखकर स्वामी जी उसे यमुना किनारे ले गये और उसे मुट्ठी भर रेती जल में से निकालने का आदेश दिया. जब उसने वैसा ही किया तो प्रत्येक कण में पारस पत्थर की प्रतीत हुई, जो फेंक दिया गया था. और जब परीक्षण किया तो वह उन्हीं गुणों से सम्पन्न पाया गया. तब खत्री की समझ में आया कि सन्तों को भौतिक सम्पदा की कोई आवश्यकता नहीं है लेकिन वे स्वयमेव परिपूर्ण होते हैं. तदनन्तर वह स्वामी हरिदास के शिष्यों में सम्मिलित हो गया.

प्रसंग ३ . – जब यह बात फैली कि साधु को दार्शनिक का पत्थर भेंट किया गया है तो एक दिन जब स्वामी जी स्नान कर रहे थे, कुछ चोरों ने शालिग्राम को चुराने का अवसर पा लिया. उन्होंने सोचा कदाचित यही वह (पत्थर) हो. अपने उद्देश्य हेतु व्यर्थ जानकर चोरों ने उसे एक झाड़ी में फेंक दिया. जैसे ही सन्त उसकी खोज में उस स्थान से होकर निकले शालिग्राम की वाणी सुनाई दी कि मैं यहाँ हूँ. उसी समय से प्रत्येक प्रात:काल किसी चामत्कारिक माध्यम से स्वामी जी को नित्य एक स्वर्ण-मुद्रा प्राप्त होने लगी जिससे वे मन्दिर का भोग लगाते और जो बचता था, उससे वे अन्न क्रय करते, जिसे वे यमुना में मछलियों को और तट पर मोर और वानरों को खिलाते थे.

श्री हरिदास श्री हरिदास श्री हरिदास
pls like this page https://www.facebook.com/…/%E0%A4%B6%E0%A5%…/671310796224823

श्री स्वामी हरिदास जी

श्री बांकेबिहारी महाराज को वृंदावन में प्रकट करने वाले स्वामी हरिदासजी महाराज है इनका जन्म विक्रम सम्वत् 1535 में भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की अष्टमी (श्री राधाष्टमी ) के ब्रह्म मुहूर्त में हुआ था.

परिचय - स्वामी हरिदास जी के पिता श्री आशुधीर जी अपने उपास्य श्रीराधा-माधव की प्रेरणा से पत्नी गंगादेवी के साथ अनेक तीर्थो की यात्रा करने के पश्चात अलीगढ जनपद की कोल तहसील में ब्रज आकर एक गांव में बस गए. श्री हरिदास जी का व्यक्तित्व बड़ा ही विलक्षण था. वे बचपन से ही एकान्त-प्रिय थे. उन्हें अनासक्त भाव से भगवद्-भजन में लीन रहने से बड़ा आनंद मिलता था.श्री हरिदासजी का कण्ठ बड़ा मधुर था और उनमें संगीत की अपूर्व प्रतिभा थी. धीरे-धीरे उनकी प्रसिद्धि दूर-दूर तक फैल गई. उनका गांव उनके नाम हरिदासपुर से विख्यात हो गया. हरिदास जी को उनके पिता ने यज्ञोपवीत-संस्कार के उपरान्त वैष्णवी दीक्षा प्रदान की.

युवा होने पर माता-पिता ने उनका विवाह हरिमति नामक परम सौंदर्यमयी एवं सद्गुणी कन्या से कर दिया, किंतु स्वामी हरिदास जी की आसक्ति तो अपने श्यामा-कुंजबिहारी के अतिरिक्त अन्य किसी में थी ही नहीं. उन्हें गृहस्थ जीवन से विमुख देखकर उनकी पतिव्रता पत्नी ने उनकी साधना में विघ्न उपस्थित न करने के उद्देश्य से योगाग्नि के माध्यम से अपना शरीर त्याग दिया और उनका तेज स्वामी हरिदास के चरणों में लीन हो गया.

विक्रम सम्वत् 1560 में पच्चीस वर्ष की अवस्था में श्री हरिदास वृन्दावन पहुंचे. वहां उन्होंने निधिवन को अपनी तपोस्थली बनाया. हरिदास जी निधिवन में सदा श्यामा-कुंजबिहारी के ध्यान तथा उनके भजन में तल्लीन रहते थे.स्वामीजी ने प्रिया-प्रियतम की युगल छवि श्री बांकेबिहारीजी महाराज के रूप में प्रतिष्ठित की.

स्वामी जी की संगीत साधना
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: 
हरिदासजी के ये ठाकुर आज असंख्य भक्तों के इष्टदेव हैं. श्यामा-कुंजबिहारी के नित्य विहार का मुख्य आधार संगीत है. उनके रास-विलास से अनेक राग-रागनियां उत्पन्न होती हैं. ललिता 'संगीत' की अधिष्ठात्री मानी गई हैं. 'ललितावतार' स्वामी हरिदास संगीत के परम आचार्य थे. श्री हरिदासजी का कण्ठ बड़ा मधुर था और उनमेंसंगीत की अपूर्व प्रतिभा थी. धीरे-धीरे उनकी प्रसिद्धि दूर-दूर तक फैल गई.उनका संगीत किसी राजा-महाराजा को नहीं उनके अपने आराध्य की उपासना को समर्पित था, बैजुवाबरा और तानसेन जैसे विश्व-विख्यात संगीतज्ञ स्वामी जी के शिष्य थे.विक्रम सम्वत 1630 में स्वामी हरिदास का निकुंजवास निधिवन में हुआ.

प्रसंग १. - अकबर के दरबार के नौ रत्नों में तानसेन एक थे. एक बार जब उन्होंने तानसेन से कहा कि हरिदास जी का संगीत सुनना चाहता हूँ तो तानसेन ने कहा कि मेरे गुरूजी केवल बांकेबिहारी जी के लिए ही गाते है. तब जब वे नहीं माने तो तानसेन उन्हें लेकर वृंदावन आ गए और अकबर को उनकी कुटिया के बाहर खड़ा करके स्वयं अंदर चले गए और जान बूझकर गलत राग में गाने लगे,तब स्वामी हरिदास जी ने उन्हें रोका और स्वयं गाने लगे.
जब बाहर खड़े अकबर ने स्वामी जी का संगीत सुना तो बड़ा भाव बिभोर हो गया और तानसेन से पूंछा - कि क्या कारण है कि तुम भी इतना अच्छा नहीं गा पाते जितना तुम्हारे स्वामी जी गाते है. तुम्हारा संगीत भी अब तो मुझे फीका लगता है इस पर तानसेन ने कहा - मै तो केवल दिल्ली के बादशाह के लिए गाता हूँ और मेरे स्वामी दुनिया के बादशाह के लिए गाते है बस यही फर्क है.

"हरि भजि हरि भजि छांड़िन मान नर तन कौ
 जिन बंछैरे जिन बंछैरे तिल तिल धनकौं 
 अनमागैं आगैं आवैगौ ज्यौं पल लागैं पलकौं 
 कहि हरिदास मीच ज्यौं आवै त्यौं धन आपुन कौ" 

::""""""""""""""""""";;;;;;;;;;;;""""""""""""""
प्रसंग २ . - दयालदास नामक एक खत्री एक दिन आया, जिसे अनायास पारस का पत्थर प्राप्त हुआ, जो सम्पर्क में आई प्रत्येक वस्तु को सोने में रूपान्तरित कर देता था. उसने यह पत्थर एक महान निधि के रूप में स्वामी जी को भेंट किया.स्वामी जी ने वह यमुना में फेंक दिया.

दाता के प्रवोधन को देखकर स्वामी जी उसे यमुना किनारे ले गये और उसे मुट्ठी भर रेती जल में से निकालने का आदेश दिया. जब उसने वैसा ही किया तो प्रत्येक कण में पारस पत्थर की प्रतीत हुई, जो फेंक दिया गया था. और जब परीक्षण किया तो वह उन्हीं गुणों से सम्पन्न पाया गया. तब खत्री की समझ में आया कि सन्तों को भौतिक सम्पदा की कोई आवश्यकता नहीं है लेकिन वे स्वयमेव परिपूर्ण होते हैं. तदनन्तर वह स्वामी हरिदास के शिष्यों में सम्मिलित हो गया.

प्रसंग ३ . - जब यह बात फैली कि साधु को दार्शनिक का पत्थर भेंट किया गया है तो एक दिन जब स्वामी जी स्नान कर रहे थे, कुछ चोरों ने शालिग्राम को चुराने का अवसर पा लिया. उन्होंने सोचा कदाचित यही वह (पत्थर) हो. अपने उद्देश्य हेतु व्यर्थ जानकर चोरों ने उसे एक झाड़ी में फेंक दिया. जैसे ही सन्त उसकी खोज में उस स्थान से होकर निकले शालिग्राम की वाणी सुनाई दी कि मैं यहाँ हूँ. उसी समय से प्रत्येक प्रात:काल किसी चामत्कारिक माध्यम से स्वामी जी को नित्य एक स्वर्ण-मुद्रा प्राप्त होने लगी जिससे वे मन्दिर का भोग लगाते और जो बचता था, उससे वे अन्न क्रय करते, जिसे वे यमुना में मछलियों को और तट पर मोर और वानरों को खिलाते थे.

 श्री हरिदास श्री हरिदास श्री हरिदास
pls like this page https://www.facebook.com/pages/%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%AE%E0%A4%A6%E0%A5%8D-%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%97%E0%A4%B5%E0%A4%A4-%E0%A4%95%E0%A4%A5%E0%A4%BE/671310796224823
Posted in AAP, राजनीति भारत की - Rajniti Bharat ki

Ye wo hai jo 37 lakh ki donations se 5 crore ki advertisement dedete hai..Jawab do ye baki paise kaha se arahe hai? Ford Foundation se ya ?


#yoaapbestcompany

Ye wo hai jo 37 lakh ki donations se 5 crore ki advertisement dedete hai..Jawab do ye baki paise kaha se arahe hai? Ford Foundation se ya ?

below is link where you can see ad rates for various radio channels. We have taken conservative view for calculations even after that result is in front of you. All delhi residents who listen to radio can vouch for frequency. We invite AAP to disclose expenditure on advertisement if we are wrong on our calculations and we would be happy to withdraw post and display correct expenditure.

http://radio.releasemyad.com/station/radiomirchi/delhi(ncr)

‪#‎yoaapbestcompany‬

Ye wo hai jo 37 lakh ki donations se 5 crore ki advertisement dedete hai..Jawab do ye baki paise kaha se arahe hai? Ford Foundation se ya ?

below is link where you can see ad rates for various radio channels. We have taken conservative view for calculations even after that result is in front of you. All delhi residents who listen to radio can vouch for frequency. We invite AAP to disclose expenditure on advertisement if we are wrong on our calculations and we would be happy to withdraw post and display correct expenditure.

http://radio.releasemyad.com/station/radiomirchi/delhi(ncr)

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

कुलधरा


कुलधरा..जहा आज भी लोग जाने से डरते हे.राजस्थान के जैसलमेर शहर से 18 किमी दूर स्थित कुलधरा गाव आज से 500 साल पहले 600 घरो और 85 गावो का पालीवाल ब्रह्मिनो का साम्राज्य ऐसा राज्य था जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती हे… रेगिस्तान के बंजर धोरो में पानी नहीं मिलता वहा पालीवाल ब्रह्मिनो ने ऐसा चमत्कार किया जो इंसानी दिमाग से बहुत परे थी. उन्होंने जमीन पे उपलब्ध पानी का प्रयोग नहीं किया,न बारिश के पानी को संग्रहित किया बल्कि रेगिस्तान के मिटटी में मोजूद पानी के कण को खोजा और अपना गाव जिप्सम की सतह के ऊपर बनाया,उन्होंने उस समय जिप्सम की जमीन खोजी ताकि बारिश का पानी जमीन सोखे नहीं. और आवाज के लिए गाव ऐसा बंसाया की दूर से अगर दुश्मन आये तो उसकी आवाज उससे 4 गुना पहले गाव के भीतर आ जाती थी. हर घर के बीच में आवाज का ऐसा मेल था जेसे आज के समय में टेलीफोन होते हे. जैसलमेर के दीवान और राजा को ये बात हजम नहीं हुई की ब्राह्मण इतने आधुनिक तरीके से खेती करके अपना जीवन यापन कर सकते हे तो उन्होंने खेती पर कर लगा दिया पर पालीवाल ब्रह्मिनो ने कर देने से मना कर दिया. उसके बाद दीवान सलीम सिंह को गाव के मुख्या की बेटी पसंद आ गयी तो उसने कह दिया या तो बेटी दीवान को दे दो या सजा भुगतने के लिए तयार रहे. ब्रह्मिनो को अपने आत्मसम्मान से
समझोता बिलकुल बर्दास्त नहीं था इसलिए रातो रात 85 गावो की एक महापंच्यात बेठी और निर्णय हुआ की रातो रात कुलधरा खाली करके वो चले जायेंगे. रातो रात 85 गाव के ब्राह्मण कहा गए केसे गए और कब गए इस चीज का पता आजतक नहीं लगा.पर जाते
जाते पालीवाल ब्राह्मण शाप दे गए की ये कुलधरा हमेसा वीरान रहेगा इस जमीन पे कोई फिर से आके नहीं बस पायेगा. आज भी जैसलमेर में जो तापमान रहता हे गर्मी हो या सर्दी,कुलधरा गाव में आते ही तापमान में 4 डिग्री की बढ़ोतरी हो जाती हे.विज्ञानिको की टीम जब पहुची तो उनके मशीनो में आवाज और तरगो की रिकॉर्डिंग हुई जिससे ये पता चलता हे की कुलधरा में आज भी कुछ शक्तिया मोजूद हे जो इस गाव में किसी को रहने नहीं देती.मशीनो में रिकॉर्ड तरंग ये बताती हे की वहा मोजूद शक्तिया कुछ संकेत देती हे.
आज भी कुलधरा गाव की सीमा में आते हे मोबाइल नेटवर्क और रेडियो कम करना बंद कर देते हे पर जेसे ही गाव की सीमा से बाहर आते हे मोबाइल और रेडियो शुरू हो जाते हे.. आज भी कुलधरा शाम होते ही खाली हो जाता हे और कोई इन्सान वहा जाने की हिम्मत नहीं करता.जैसलमेर जब भी जाना हो तो कुलधरा जरुर जाए, आज तक चैनल वाले तो जा आये, उनका वीडियो है youtube पर. ब्राह्मण के क्रोध और आत्मसम्मान का प्रतीक हे कुलधरा.

कुलधरा..जहा आज भी लोग जाने से डरते हे.राजस्थान के जैसलमेर शहर से 18 किमी दूर स्थित कुलधरा गाव आज से 500 साल पहले 600 घरो और 85 गावो का पालीवाल ब्रह्मिनो का साम्राज्य ऐसा राज्य था जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती हे... रेगिस्तान के बंजर धोरो में पानी नहीं मिलता वहा पालीवाल ब्रह्मिनो ने ऐसा चमत्कार किया जो इंसानी दिमाग से बहुत परे थी. उन्होंने जमीन पे उपलब्ध पानी का प्रयोग नहीं किया,न बारिश के पानी को संग्रहित किया बल्कि रेगिस्तान के मिटटी में मोजूद पानी के कण को खोजा और अपना गाव जिप्सम की सतह के ऊपर बनाया,उन्होंने उस समय जिप्सम की जमीन खोजी ताकि बारिश का पानी जमीन सोखे नहीं. और आवाज के लिए गाव ऐसा बंसाया की दूर से अगर दुश्मन आये तो उसकी आवाज उससे 4 गुना पहले गाव के भीतर आ जाती थी. हर घर के बीच में आवाज का ऐसा मेल था जेसे आज के समय में टेलीफोन होते हे. जैसलमेर के दीवान और राजा को ये बात हजम नहीं हुई की ब्राह्मण इतने आधुनिक तरीके से खेती करके अपना जीवन यापन कर सकते हे तो उन्होंने खेती पर कर लगा दिया पर पालीवाल ब्रह्मिनो ने कर देने से मना कर दिया. उसके बाद दीवान सलीम सिंह को गाव के मुख्या की बेटी पसंद आ गयी तो उसने कह दिया या तो बेटी दीवान को दे दो या सजा भुगतने के लिए तयार रहे. ब्रह्मिनो को अपने आत्मसम्मान से
समझोता बिलकुल बर्दास्त नहीं था इसलिए रातो रात  85 गावो की एक महापंच्यात बेठी और निर्णय हुआ की रातो रात कुलधरा खाली करके वो चले जायेंगे. रातो रात 85 गाव के ब्राह्मण कहा गए केसे गए और कब गए इस चीज का पता आजतक नहीं लगा.पर जाते
जाते पालीवाल ब्राह्मण शाप दे गए की ये कुलधरा हमेसा वीरान रहेगा इस जमीन पे कोई फिर से आके नहीं बस पायेगा. आज भी जैसलमेर में जो तापमान रहता हे गर्मी हो या सर्दी,कुलधरा गाव में आते ही तापमान में 4 डिग्री की बढ़ोतरी हो जाती हे.विज्ञानिको की टीम जब पहुची तो उनके मशीनो में आवाज और तरगो की रिकॉर्डिंग हुई जिससे ये पता चलता हे की कुलधरा में आज भी कुछ शक्तिया मोजूद हे जो इस गाव में किसी को रहने नहीं देती.मशीनो में रिकॉर्ड तरंग ये बताती हे की वहा मोजूद शक्तिया कुछ संकेत देती हे.
आज भी कुलधरा गाव की सीमा में आते हे मोबाइल नेटवर्क और रेडियो कम करना बंद कर देते हे पर जेसे ही गाव की सीमा से बाहर आते हे मोबाइल और रेडियो शुरू हो जाते हे..  आज भी कुलधरा शाम होते ही खाली हो जाता हे और कोई इन्सान वहा जाने की हिम्मत नहीं करता.जैसलमेर जब भी जाना हो तो कुलधरा जरुर जाए, आज तक चैनल वाले तो जा आये, उनका वीडियो है youtube पर. ब्राह्मण के क्रोध और आत्मसम्मान का प्रतीक हे कुलधरा.