Posted in संस्कृत साहित्य

भारते संस्कृता भाषा कामधेनुः प्रकीर्तिता जननी विश्वभाषाणां विज्ञानस्योपकारिणी



भारते संस्कृता भाषा कामधेनुः प्रकीर्तिता
जननी विश्वभाषाणां विज्ञानस्योपकारिणी
(भारतमें संस्कृत भाष कामधेनु समान सुप्रसिद्ध है | यह सम्पूर्ण विश्वकी भाषा है और विज्ञानका पोषण करेनवाली हैं !)
भविष्य में संस्कृत मुख्य भाषा के रूप में सामने आएगी। दूसरे देश के शिक्षाविद् व विशेषज्ञ इस भाषा में शोध करेंगे, जबकि हमें उसका अनुकरण करना होगा। आगामी १०-१५ वर्षों के बाद पूरे विश्व में संस्कृत का साम्राज्य स् See More

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s