Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक अमीर आदमी था l


Mast hai dosto padho एक अमीर आदमी था l
उसके कई सारे दोस्त थे, उसमे एक
दोस्त
जो काफी गरीब था, वह अमीर
आदमी का विश्वास पाञ था l
एक दिन अमीर आदमी अपने घर
सभी दोस्तो को खाने का आमंञण
देता है,
सभी मिञ अमीर आदमी के घर आते
है l
भोजन के बाद अमीर
आदमी को ख्याल
आता है कि उसने एक उंगली मे
कीमती हीरे
जडित अंगुठी पहनी हुई
थी,थोडी ढीली होने
के कारण कही गिर गई है l
सभी मिञ घर मे अंगुठी खोजने मे
मदद करते है l
लेकिन नही मिलती l
एक मिञ कहता है “आप हम
सभी की तलाशी ले
सकते है l
एक आदमी की वजह से हम
सभी हमेशा के
लिए
आप की नजर मे शक के दायरे मे
रहेगे.”
सभी मिञ तलाशी के लिये तैय्यार
हो जाते है
l
सिवाए एक गरीब मिञ के
वो अपनी तलाशी लेने से मना कर
देता है,
सभी मिञ उसका अपमान करते है l
अमीर
आदमी किसी की तलाशी ना लेकर
सभी को विदा करता है l
दूसरे दिन सुबह जब अमीर
आदमी अपने कोट
की जेब में हाथ डालता है
तो अंगुठी मिल
जाती है l
और वो सीधा गरीब मिञ के घर
आता है.
और
अपने मिञो द्वारा किये अपमान
की माफी मागता है.
और
अपनी तलाशी ना देने की वजह
पुछता है l
गरीब मिञ पलंग पर सोये हुये अपने
बिमार पुञ
की ओर इशारा करते हुए कहता है
“मै जब आपके यहा आ रहा था , इस
ने मिठ्ठाई
खाने की जिद की थी,
आप के यहा जब
खाना खा रहा था तो मिठ्ठाई
दिखी तो मैने वो न खाकर अपने
पुञ के लिये # जेब
मे रख ली थी l
अगर
तलाशी ली जाती तो अंगुठी की ना सही मिठ्ठाई
# चोरीका इल्जाम जरूर
लगता इसी लिये
अपमान सहना बेहतर
समझा क्योकी रात
को सच बताता तो बीच मे बेटे
का नाम
भी आता.”
इस कहानी से साबित होता है-
माता-पिता अपनी औलाद
की छोटी-
छोटी खुशी के लिये क्या-
क्या नही सहन
करते…I

Author:

Buy, sell, exchange old books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s